Sanskrit Shlok – संस्कृत श्लोक अर्थ सहित

Sanskrit Shlok– हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आपको Sanskrit Shlok – संस्कृत श्लोक अर्थ सहित साझा कर रहे है, इसमें 100 से ज्यादा संस्कृत श्लोक में दिए गए हैं,

संस्कृत भाषा विश्व की सबसे पुरानी भाषा है और संस्कृत भाषा का भारतीय संस्कृति में बहुत महत्व है। इस पोस्ट में नीति के श्लोक, संस्कृत सुभाषित, गीता के श्लोक, विद्यार्थियों के लिए श्लोक, शिवजी, सरस्वती जी पर हिन्दी अर्थ सहित श्लोक (Sanskrit Shlok in Hindi) का विस्तार से समझाया गया है।

Sanskrit Shlok – संस्कृत श्लोक अर्थ सहित

श्वः कार्यमद्य कुर्वीत पूर्वान्हे चापरान्हिकम्।
न हि प्रतीक्षते मृत्युः कृतमस्य न वा कृतम्।।

अर्थ- कल किया जाने वाला काम आज और सायंकाल में किया जाने वाला काम प्रातःकाल में ही पूरा कर लेना चाहिए। क्योंकि मृत्यु यह नहीं देखती कि इसका काम पूरा हुआ कि नहीं।

उद्यमेन हि सिद्ध्यन्ति कार्याणि न मनोरथैः।
यथा सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति न मुखेन मृगाः।।

अर्थ- कार्य उद्यम करने से पूर्ण होते हैं, मन में इच्छा करने से नहीं। जैसे सोते हुए शेर के मुंह में मृग अपने आप प्रवेश नहीं कर जाते।

अन्यायोपार्जितं वित्तं दस वर्षाणि तिष्ठति।
प्राप्ते चैकादशेवर्षे समूलं तद् विनश्यति।

अर्थ- अन्याय या गलत तरीके से कमाया हुआ धन दस वर्षों तक रहता है। लेकिन ग्यारहवें वर्ष वह मूलधन सहित नष्ट हो जाता है।

षड् दोषाः पुरुषेणेह हातव्या भूतिमिच्छता।
निद्रा तंद्रा भयं क्रोध आलस्यं दीर्घसूत्रता।।

अर्थ– कल्याण की कामना रखने वाले पुरुष को निद्रा, तंद्रा, भय, क्रोध, आलस्य तथा दीर्घसूत्रता इन छ: दोषों का त्याग कर देना चाहिए।

न देवा दण्डमादाय रक्षन्ति पशुपालवत।
यं तु रक्षितमिच्छन्ति बुद्धया संविभजन्ति तम्।।

देवतालोग चरवाहों की तरह डंडा लेकर पहरा नहीं देते। उन्हें जिसकी रक्षा करनी होती है। उसे वे सद्बुद्धि प्रदान कर देते हैं।

सत्यं रूपं श्रुतं विद्या कौल्यं शीलं बलं धनम्।
शौर्यं च चित्रभाष्यं च दशेमे स्वर्गयोनयः।।

अर्थ- स्तय, विनय, शास्त्रज्ञान, विद्या, कुलीनता, शील, बल, धन, शूरता और वाक्पटुता ये दस लक्षण स्वर्ग के कारण हैं।

सर्वे क्षयान्ता निचयाः पतनान्ताः समुच्छ्रयाः।
संयोगा विप्रयोगान्ता मरणान्तं च जीवितम्।।

अर्थ- सभी प्रकार के संग्रह का अंत क्षय है। बहुत ऊंचे चढ़ने के अंत नीचे गिरना है। संयोग का अंत वियोग है और जीवन का अंत मरण है।

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः।
यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफलाः क्रियाः।

अर्थ- जिस घर में स्त्रियों का आदर होता है, उस घर में देवता निवास करते हैं। जहां स्त्रियों का आदर नहीं होता, वहाँ सभी कर्म निष्फल हो जाते हैं।

मातृवत परदारांश्च परद्रव्याणि लोष्टवत्।
आत्मवत् सर्वभूतानि यः पश्यति स पश्यति।।

अर्थ- पराई स्त्री को माता के समान, परद्रव्य को मिट्टी के ढेले के समान और सभी प्राणियों को अपने समान देखता है। वास्तव में उसी का देखना सफल है।

परस्वानां च हरणं परदाराभिमर्शनम्।
सचह्रदामतिशङ्का च त्रयो दोषाः क्षयावहाः।।

अर्थ- दूसरों के धन का अपहरण, पर स्त्री के साथ संसर्ग और अपने हितैषी मित्रों के प्रति घोर अविश्वास ये तीनों दोष जीवन का नाश करने वाले हैं।

Sanskrit Shlok in Hindi Meaning:

स्वर्गो धनं वा धान्यं वा विद्या पुत्राः सुखानि च।
गुरुवृत्यनुरोधेन न किञ्चिदपि दुर्लभम्।।

अर्थ- गुरुजनों की सेवा से स्वर्ग, धन-धान्य, विद्या, पुत्र और सुख कुछ भी दुर्लभ नहीं है।

व्यसने वार्थकृच्छ्रे वा भये वा जीवितान्तगते।
विमृशंश्च स्वया बुद्ध्या धृतिमान नावसीदति।।

अर्थ- शोक में, आर्थिक संकट में या प्राणों का संकट होने पर जो अपनी बुद्धि से विचार करते हुए धैर्य धारण करता है। उसे अधिक कष्ट नहीं उठाना पड़ता।

मूढ़ैः प्रकल्पितं दैवं तत परास्ते क्षयं गताः।
प्राज्ञास्तु पौरुषार्थेन पदमुत्तमतां गताः।।

अर्थ- भाग्य की कल्पना मूर्ख लोग ही करते हैं। बुद्धिमान लोग तो अपने पुरूषार्थ, कर्म और उद्द्यम के द्वारा उत्तम पद को प्राप्त कर लेते हैं।

अबन्धुर्बन्धुतामेति नैकट्याभ्यासयोगतः।
यात्यनभ्यासतो दूरात्स्नेहो बन्धुषु तानवम्।।

अर्थ- बार बार मिलने से अपरिचित भी मित्र बन जाते हैं। दूरी के कारण न मिल पाने से बन्धुओं में स्नेह कम हो जाता है।

प्रियवाक्यप्रदानेन सर्वे तुष्यन्ति जन्तवः।
तस्मात तदेव वक्तव्यं वचने का दरिद्रता।

अर्थ- प्रिय वचन बोलने से सभी जीव प्रसन्न हो जाते हैं। मधुर वचन बोलने से पराया भी अपना हो जाता है। अतः प्रिय वचन बोलने में कंजूसी नहीं करनी चाहिए।

Easy Sanskrit Shlok – सरल श्लोक संस्कृत में

स जातो येन जातेन याति वंशः समुन्नतिम्।
परिवर्तिनि संसारे मृतः को वा न जायते।।

अर्थ- संसार में जन्म मरण का चक्र चलता ही रहता है। लेकिन जन्म लेना उसका सफल है। जिसके जन्म से कुल की उन्नति हो।

यत्र स्त्री यत्र कितवो बालो यत्रानुशासिता।
मज्जन्ति तेवशा राजन् नद्यामश्मप्लवा इव।।

अर्थ- जहां का शासन स्त्री, जुआरी और बालक के हाथ में होता है। वहां के लोग नदी में पत्थर की नाव में बैठने वालों की भांति विवश होकर विपत्ति के समुद्र में डूब जाते हैं।

धृतिः शमो दमः शौचं कारुण्यं वागनिष्ठुरा।
मित्राणाम् चानभिद्रोहः सप्तैताः समिधः श्रियः।।

अर्थ- धैर्य, मन पर अंकुश, इन्द्रियसंयम, पवित्रता, दया, मधुर वाणी और मित्र से द्रोह न करना ये सात चीजें लक्ष्मी को बढ़ाने वाली हैं।

न विश्वसेदविश्वस्ते विश्वस्ते नातिविश्वसेत्।
विश्वासाद् भयमभ्येति नापरीक्ष्य च विश्वसेत्।।

अर्थ- जो विश्वसनीय नहीं है, उस पर कभी भी विश्वास न करें। परन्तु जो विश्वासपात्र है, उस पर भी आंख मूंदकर भरोसा न करें। क्योंकि अधिक विश्वास से भय उत्पन्न होता है। इसलिए बिना उचित परीक्षा लिए किसी पर भी विश्वास न करें।

आयुर्वित्तं गृहच्छिद्रं मन्त्रमैथुनभेषजम्।
दानमानापमानं च नवैतानि सुगोपयेत्।।

अर्थ- आयु, धन, घर के दोष, मन्त्र, मैथुन, दवा, दान, मान और अपमान यह किसी से नहीं कहना चाहिए।

उपदेशो हि मूर्खाणां प्रकोपाय न शान्तये।
पयःपानं भुजंगानां केवलं विषवर्द्धनम्।।

अर्थ- मूर्खों को दिया गया उपदेश उनके क्रोध को शांत न करके और बढ़ाता ही है। जैसे सर्पों को दूध पिलाने से उनका विष ही बढ़ता है।

यौवनं धनसम्पत्तिः प्रभुत्वमविवेकिता।
एकैकमप्यनर्थाय किमु यत्र चतुष्टयम्।।

अर्थ- यौवन, धन संपत्ति, प्रभुता और अविवेक इनमें से एक भी अनर्थ करने वाला है। लेकिन जिसके पास ये चारों हों, उसके विषय में कहना ही क्या !

न स्वल्पस्य कृते भूरि नाशयेन्मतिमान् नरः।
एतदेवातिपाण्डित्यं यत्स्वल्पाद् भूरिरक्षणम्।।

अर्थ- थोड़े के लिए अधिक का नाश न करे, बुद्धिमत्ता इसी में है। बल्कि थोड़े को छोड़कर अधिक की रक्षा करे।

कवचिद् रुष्टः क्वचित्तुष्टो रुष्टस्तचष्टः क्षणे क्षणे।
अव्यवस्थितचित्तस्य प्रसादो अपि भयंकरः।।

अर्थ- जो कभी नाराज होता है, कभी प्रसन्न होता है। इस प्रकार क्षण क्षण में नाराज और प्रसन्न होता रहता है। उस चंचल चित्त पुरुष की प्रसन्नता भी भयंकर है।

जिव्हा दग्धा परान्नेन करौ दग्धौ प्रतिगृहात्।
मनो दग्धं परस्त्रीभिः कार्यसिद्धिः कथं भवेत्।।

अर्थ- दूसरे का अन्न खाने से जिसकी जीभ जल चुकी है। दूसरे का दान लेने से जिसके हाथ जल चुके हैं। दूसरे की स्त्री का चिंतन करने से जिसका मन जक चुका है। उसे पूजा पाठ जप तप से सिद्धि कैसे मिल सकती है।

परान्नं च परद्रव्यं तथैव च प्रतिग्रहम्।
परस्त्रीं परनिन्दां च मनसा अपि विवर्जयेत।।

अर्थ- पराया अन्न, पराई संपत्ति, दान, पराई स्त्री और दूसरे की निंदा इनकी मन से भी इच्छा नहीं करनी चाहिए।

संस्कृत श्लोक 10 वीं कक्षा- Shlok in Sanskrit

निवसन्ति हि यत्रैव सन्तः सद्गुणभूषणाः।
तन्मंगल्यं मनोज्ञं च तत्तीर्थं तत्तपोवनम्।।

अर्थ- सतगुणी सज्जनपुरुष जहां निवास करते हैं। वही स्थान मनोरम एवं मंगलमय है। वही तपोवन है और वही तीर्थ है।

लोके यशः परत्रापि फलमुत्तमदानतः।
भवतीति परिज्ञाय धनं दीनाय दीयताम्।।

अर्थ- दिए गए दान का फल इस लोक में यश और मृत्यु के बाद उत्तम लोकों की प्राप्ति है। इसलिए दीनों के निमित्त दान करना चाहिए।

विभवे भोजने दाने तिष्ठन्ति प्रियवादिनः।
विपत्ते चागते अन्यत्र दृश्यन्ते खलु साधवः।।

अर्थ- मनुष्य के सुख- समृद्धि के समय, खान- पान और मान के समय चिकनी चुपड़ी बातें करने वालों की भीड़ लगी रहती है। लेकिन विपत्ति के समय केवल सज्जन पुरुष ही साथ दिखाई पड़ते हैं।

भवन्ति नम्रास्तरवः फलागमै-
र्नवाम्बुभिर्दूरविलम्बिनो घनाः।
अनुद्धताः सत्पुरुषाः समृद्धिभिः
स्वभाव एवैष परोपकारिणाम्।

अर्थ- फल लगने पर पेड़ झुक जाते हैं। जल से भरे बादल नीचे आ जाते हैं। सज्जन लोग धन पाकर विनम्र हो जाते हैं। यही परोपकारियों का स्वभाव है।

वज्रादपि कठोराणि मृदूनि कुसुमादपि।
लोकोत्तराणां चेतांसि को नु विज्ञातुमर्हति।।

अर्थ- महापुरुषों के मन की थाह कौन पा सकता है। जो अपने दुखों में वज्र से भी कठोर और दूसरों के दुखों के लिए फूल सभी अधिक कोमल हो जाता है।

दुष्कृतं हि मनुष्याणां अन्नमाश्रित्य तिष्ठति।
अश्नाति यो हि यस्यान्नं स तस्याश्नाति किल्बिषम्।।

अर्थ- मनुष्य के दुष्कृत्य या पाप उसके अन्न में रहते हैं। जो जिसका अन्न खाता है। वह उसके पाप को भी खाता है।

यान्ति न्यायप्रवृत्तस्य तिर्यंचों अपि सहायताम्।
अपन्थानं तु गच्छन्तं सोदरोपि विमुञ्चति।।

अर्थ- धर्म और न्याय के मार्ग पर चलने वाली की संसार के सभी प्राणी सहायता करते हैं। जबकि अन्याय के मार्ग पर चलने वाले को उसका सगा भाई भी छोड़ देता है।

शुभाशुभं कृतं कर्म भुंजते देवता अपि।
सविता हेमहस्तोभूद् भगो अन्धः पूषकोद्विजः।।

अर्थ- मनुष्य ही नहीं, देवताओं को भी अपने किये किये शुभ-अशुभ कर्मों का फल भोगने पड़ता है। सविता देवता का हाथ कट जाने पर उन्हें स्वर्ण का कृत्रिम हाथ लगाने पड़ा था। भगदेवता अपने कर्म से अंधे हुए और पूषा देवता दंतहीन हो गए।

प्रभोरपि धिगर्थित्वं रूपहानिं करोति यत्।
मेघातिथिं यदायाचदिन्द्रो मेषोभवत् ततः।।

अर्थ- मांगने से मनुष्य का रूप स्वरूप घटता है। याचना यदि भगवान से भी की जाय, तो उचित नहीं है। जिस प्रकार मेघातिथिं ऋषि से सोमयाचना करने के कारण इंद्र को बैल बनना पड़ा।

मूर्खो वदति विष्णाय धीरो वदति विष्णवे।
तयोः फलं तु तुल्यं हि भावग्राही जनार्दनः।।

अर्थ- मूर्ख कहता है विष्णाय नमः जोकि अशुद्ध है और ज्ञानी कहता है विष्णवे नमः जो व्याकरण की दृष्टि से शुद्ध है। लेकिन दोनों का फल एक ही है। क्योंकि भगवान शब्द नहीं भाव देखते हैं।

कनिष्ठाः पुत्रवत् पाल्या भ्रात्रा ज्येष्ठेन निर्मलाः।
प्रगाथो निर्मलो भ्रातुः प्रागात् कण्वस्य पुत्रताम्।।

अर्थ- बड़े भाई को अपने छोटे भाइयों का पुत्रवत् पालन करना चाहिए। जैसे महर्षि कण्व ने अपने छोटे भाई प्रगाथ का पुत्रवत् पालन पोषण किया था।

अतिथिर्यस्य भग्नाशो गृहात प्रतिनिवर्तते।
स दत्वा दुष्कृतं तस्मै पुण्यमादाय गच्छति।।

अर्थ- जिस व्यक्ति के दरवाजे से अतिथि बिना संतुष्ट हुए चला जाता है। वह उसके पुण्य ले जाता है और अपने पाप उसे दे जाता है।

न विज्ञातं न चागम्यं नाप्राप्यं दिवि चेह वा।
उद्यतानां मनुष्याणां यतचित्तेन्द्रियात्मनाम्।।

अर्थ- विद्वान पुरुषों के लिए कौन सा कार्य असाध्य है। जो अपने मन, बुद्धि और इंद्रियों को संयमित रखकर उद्यम में लगे रहते हैं। उनके लिए पृथ्वी, आकाश और पाताल में कोई भी ऐसी वस्तु नहीं जो अगम्य, अप्राप्य अथवा अज्ञात हो।

त्यज चिंतां महाराज स्वसत्यमनुपालय।
श्मशानवद्वर्जनीयो नरः सत्य बहिष्कृतः।
नातः परतरं धर्मं वदन्ति पुरुषस्य तु।
यादृशं पुरुषव्याघ्र स्वसत्यपरिपालनम्।।

अर्थ- हे महाराज, चिंता का त्याग करके अपने सत्य का पालन करिए। जो मनुष्य सत्य से विचलित होता है। वह श्मशान की भांति त्याग देने योग्य है। पुरुष के लिए सत्य की रक्षा से बढ़कर दूसरा धर्म नहीं है। जिसका वचन मिथ्या हो जाता है। उसके अग्निहोत्र, स्वाध्याय एवं दान आदि सभी शुभकर्म निष्फल हो जाते हैं।

सत्येनार्कः प्रतिपति सत्ये तिष्ठति मेदिनी।
सत्यं चोक्तं परोधर्मः स्वर्गः सत्ये प्रतिष्ठितः।।

अर्थ- सत्य से ही स्वर्ग तप रहा है। सत्य से ही पृथ्वी टिकी हुई है। सत्यभाषण सबसे बड़ा धर्म है। स्वर्ग भी सत्य के बल पर ही प्रतिष्ठित है।

संगः सर्वात्मना त्याज्यः स चेत् त्यक्तं न शक्यते।
स सद्भिः सह कर्तव्यः सतां संगो हि भेषजम्।
कामः सर्वात्मना हेयो हातुं चेच्छक्यते न सः।
मुमुक्षां प्रतितत्कार्यं सैव तस्यापि भेषजम्।।

अर्थ- आसक्ति का सब प्रकार से त्याग करना चाहिए। किन्तु यदि संभव न हो तो सत्पुरुषों की संगति करनी चाहिए। क्योंकि सत्पुरुषों की संगति ही उसकी औषधि है। कामना को सर्वथा त्याग देना चाहिए। परन्तु यदि वह छोड़ी न जा सके तो मुमुक्षा (मुक्ति की इच्छा) की कामना करनी चाहिए। क्योंकि मुमुक्षा ही कामना को मिटाने की दवा है।

ऐश्वर्यस्य समग्रस्य धर्मस्य यशसश्श्रियः।
ज्ञानवैराग्ययोश्चैव षण्णां भग इतीरणा।।

अर्थ- धर्म, यश, श्री, ज्ञान, वैराग्य और विभूति इन छः ऐश्वर्यों से युक्त परमशक्ति का नाम भगवान है।

अपि मानुष्यकं लब्ध्वा भवन्ति ज्ञानिनो न ये।
पशुतैव वरं तेषां प्रत्यवायाप्रवर्तनात्।।

अर्थ- मनुष्य जन्म पाकर भी जो ज्ञान प्राप्त करने का प्रयत्न नहीं करता है। उसका जन्म व्यर्थ है। ऐसे मनुष्य से तो पशु ही श्रेष्ठ हैं।

सर्वथा ध्वंसरहितं सत्यपि ध्वंसकारणे।
यद् भावबंधनं यूनोः स प्रेमा परिकीर्तितः।।

अर्थ- जो बहुत प्रयास के बाद भी नष्ट नहीं होता है। जो कभी रुकता, घटता और मिटता नहीं है। बल्कि प्रतिक्षण बढ़ता रहता है, उसे ही प्रेम कहा जाता है।

विद्यार्थी के लिए श्लोक- shlok in sanskrit on vidya

अभिवादनशीलस्य च नित्य वृद्धोपसेविनः।
चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशो बलम्।।

अर्थ- प्रणाम करने और वृद्धों की सेवा करने वाले कि चार चीजें बढ़ती हैं- आयु, विद्या, यश और बल।

काकचेष्टा वकोध्यानं श्वाननिद्रा तथैव च।
अल्पाहारी गृहत्यागी विद्यार्थी पंचलक्षणम्।।

अर्थ- कौवे जैसी फुर्ती, बगुले जैसा ध्यान, कुत्ते की तरह सोना, अल्पाहारी, गृहत्याग करने वाला ये विद्यार्थी के पांच लक्षण हैं।

विद्या ददाति विनयं विनयात याति पात्रताम्।
पात्रत्वात धनमवाप्नोति धनात धर्मः ततः सुखम्।।

अर्थ- विद्या विनयं देती है। विनय से योग्यता और योग्यता से धन, धन से धर्म और धर्म से सुख प्राप्त होता है।

मातरं पितरं विप्रमाचार्यं चावमन्यते।
स पश्यति फलं तस्य प्रेतराजवशं गतः।।

अर्थ- जो व्यक्ति माता पिता ब्राम्हण और गुरु का अपमान करता है। वह यमराज के वश में होकर उस पाप का फल भोगता है।

पितरौ हि सदा वन्द्यौ न त्यजेदपराधिनौ।
पित्रा बद्धः शुनःशेपो ययाचे पित्रदर्शनम्।।

अर्थ- माता पिता सदा ही पूजनीय हैं। भले ही वे अपराधी क्यों न हों। शुनःशेप को उसके पिता ने यूप में बांध दिया था। फिर भी उसने मुक्ति के बाद पिता के ही दर्शन की इच्छा की।

गीता श्लोक इन हिंदी एंड संस्कृत- Geeta Shlok in Sanskrit

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोस्त्वकर्मणि।।

अर्थ- तुम्हारा कर्म करने में ही अधिकार है, उनके फलों में नहीं। इसलिए कर्मफल की चिंता न करके केवल कर्म करो।

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते।
तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम्।।

अर्थ- गीता में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं कि जो व्यक्ति अनन्य भाव से मेरा चिंतन करता है, भजन करता है। ऐसे नित्य निरंतर अनुरागी पुरुषों के योगक्षेम का वहन मैं करता हूँ अर्थात सभी प्रकार से उनका ध्यान रखता हूँ।

अशोच्यानन्वशोचस्त्वं प्रज्ञावादांश्च भाषते।
गतासूनगतासूंश्च नानुशोचन्ति पण्डिताः।।

अर्थ- श्रीकृष्ण कहते हैं कि हे अर्जुन ! तू न सोच करने योग्य मनुष्यों के लिए शोक कर रहा है। ज्ञानी पुरुषों की तरह तर्क कर रहा है। जबकि ज्ञानी पुरुष जीवित अथवा मृत किसी के लिए शोक नहीं करते हैं।

य एनं वेत्ति हंतारं यश्चैनं मन्यते हतम्।
उभौ तौ न विजानीतो नायं हन्ति न हन्यते।।

अर्थ- जो इस आत्मा को मारने वाला समझता है और जो इसे मर हुआ समझता है। वे दोनों सत्य नहीं जानते। क्योंकि आत्मा न तो किसी को मारती है और न किसी के द्वारा मारी जाती है।

न जायते म्रियते वा कदाचिन्नायं भूत्वा भविता वा न भूयः।
अजो नित्यः शाश्वतो अयं पुराणो न हन्यते हन्यमाने शरीरे।।

अर्थ- यह आत्मा न तो किसी काल में जन्म लेती है और न ही मरती है। न ही यह उत्पन्न होकर फिर से होने वाली है। यह तो अजन्मा, नित्य, शाश्वत और पुरातन है। यह शरीर के मारे जाने पर भी कभी नहीं मरती है।

जातस्य हि ध्रुवो मृत्युर्ध्रुवो जन्ममृतस्य च।
तस्मादपरिहार्येर्थे न त्वं शोचितुमर्हसि।।

अर्थ- जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु निश्चित है और जिसकी मृत्यु हुई है। उसका जन्म भी निश्चित है। इसलिए इस निरुपाय विषय में तेरा शोक करना व्यर्थ है।

शिव श्लोक अर्थ सहित- Shiv Shlok in Sanskrit

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारं।
सदावसंतं ह्रदयारविन्दे भवंभवानी सहितं नमामि।।

अर्थ- जो कपूर के समान गौर वर्ण वाले हैं, दया के अवतार हैं। संसार के साररूप, सर्पों की माला पहने हैं। वे भगवान शिव मां पार्वती के साथ सदैव हमारे हृदय रूपी कमल में निवास करें।

वागर्थाविव सम्पृक्तौ वागर्थप्रतिपत्तये।
जगतः पितरौ वंदे पार्वती परमेश्वरौ।।

अर्थ- जो शब्दों की भांति अलग अलग होते हुए भी शब्दों के अर्थ की भाँति एक हैं। उन संसार के माता पिता स्वरूप शंकर पार्वती को मैं प्रणाम करता हूँ।

अघोरेभ्यो अथ घोरेभ्यो घोरघोरतरेभ्यः।
सर्वेभ्यः सर्वशर्वेभ्यो नमस्तेस्तु रुद्ररूपेभ्यः।।

अर्थ- जो अघोर हैं, घोर हैं, घोर से भी घोरतर हैं। जो सर्वसंहारकारी रुद्ररूप हैं। आपके उन सभी रूपों को मेरा नमस्कार है।

प्रातः स्मरामि भवभीतिहरं सुरेशं
गंगाधरं वृषभवाहनमम्बिकेशम्।
खटवाङ्गशूलवरदाभयहस्तमीशं
संसाररोगहरमौषधमद्वितीयम्।।

अर्थ- जो संसार के भय को हरने वाले और देवताओं के स्वामी हैं। जो गंगा को धारण करते हैं और बैल जिनका वाहन है। जो अम्बा के ईश हैं एवं जिनके हाथ में खटवाङ्ग, त्रिशूल, वरद और अभयमुद्रा है। उन संसाररोग को हरने वाले अद्वितीय औषधि रूप महादेव को मैं प्रातःकाल नमस्कार करता हूँ।

नमामि शम्भुं पुरुषं पुराणं नमामि सर्वज्ञमपारभावम्।
नमामि रुद्रं प्रभुमक्षयं तं नमामि शर्वं शिरसा नमामि।।

अर्थ- मैं पुराणपुरुष शम्भु को नमस्कार करता हूँ। जिनकी असीम सत्ता का पर नहीं है, उन सर्वज्ञ शिव को मैं नमस्कार करता हूँ। अविनाशी प्रभु रुद्र और सबका संहार करने वाले शर्व को मैं मस्तक झुकाकर नमस्कार करता हूँ।

गणेश श्लोक मंत्र- Ganpati Shlok in Sanskrit

गजाननंभूतगणादिसेवितं कपित्थजम्बू फलचारुसेवितम्।
उमासुतं शोकविनाशकारकं नमामि विघ्नेश्वरपादपंकजम्।।

अर्थ- जिनका मुख हाथी के समान है। भूतगण जिनकी सेवा करते हैं। कैथ और जामुन के फल जिन्हें प्रिय हैं। शोक का नाश करने वाले पार्वती के पुत्र, विघ्नेश्वर गणेश के चरणों में मैं प्रणाम करता हूँ।

प्रातः स्मरामि गणनाथमनाथबन्धुं
सिन्दूरपूरपरिशोभितगण्डयुग्मम्।
उद्दण्डविघ्नपरिखण्डनचण्डदण्ड-
माखण्डलादिसुरनायकवृन्दवन्द्यम्।।

अर्थ- अनाथों के बंधु, सिंदूर से शोभायमान दोनों गण्डस्थल वाले, प्रबल विघ्न का नाश करने में समर्थ एवं इन्द्रादि डिवॉन से पूजित श्रीगणेश का में प्रातःकाल स्मरण करता हूँ।

विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय
लम्बोदराय सकलाय जगद्धिताय
नागाननाय श्रुतियज्ञविभूषिताय
गौरीसुताय गणनाथ नमोनमस्ते।

अर्थ- विघ्नों का नाश करने वाले, वर देने वाले, देवताओं के प्रिय, लम्बोदर, सम्पूर्ण जगत का उद्धार करने वाले, टेढ़े मुख वाले, श्रुति यज्ञ से शोभायमान गौरी के पुत्र गणेश जी को नमस्कार है।

शुक्लाम्बरधरं देवं शशिवर्णं चतुर्भुजम्।
प्रसन्नवदनं ध्यायेत सर्वविघ्नोपशान्तये।।

अर्थ- जो श्वेत वस्त्र धारण किये हुए हैं, चन्द्रमा के समान जिनका रंग है। चार भुजाओं वाले, प्रसन्न मुख, सभी विघ्नों का नाश करने वाले ऐसे गणपति का मैं ध्यान करता हूँ।

वक्रतुण्डमहाकाय कोटिसूर्यसमप्रभः।
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा।।

अर्थ- टेढ़े मुख वाले, महाकाय, करोड़ों सूर्यों के समान जिनकी चमक है। ऐसे देव गणेश मेरे सभी कामों को सदैव निर्विघ्न पूर्ण करें।

सरस्वती के श्लोक – Sanskrit Shlok of Saraswati

घंटाशूलहलानि शंङ्खमुसले चक्रं धनुः सायकं।
हस्ताब्जैर्दधतीं घनान्तविलसच्छीतांशुतुल्यप्रभाम्।
गौरीदेहसमुद्भवां त्रिजगतामाधारभूतां महा-
पूर्वामत्र सरस्वतीमनुभजे शुम्भादिदैत्यार्दिनीम्।।

अर्थ- जो अपने करकमलों में घण्टा, शूल, हल, शंख, मूसल, चक्र, धनुष और बाण धारण करती हैं। शरदऋतु के चन्द्रमा के समान जिनकी कांति है। जो तीनों लोकों की आधारभूत और शुम्भ आदि दैत्यों के नाश करने वाली हैं। जो गौरी के शरीर से उत्पन्न हुई हैं। उन महासरस्वती देवी का मैं निरंतर भजन करता हूँ।

करेण वीणा परिवादयन्तीम् तथा जपन्तीमपरेण मालाम्।
मरालपृष्ठाम् सन्सन्निविष्टाम् सरस्वतीम् ताम् सिरसा नमामि।।

अर्थ- एक हाथ में वीणा धारण किये हैं और दूसरे हाथ में माला। मोर की पीठ पर सुशोभित मां सरस्वती को मैं सिर झुकाकर प्रणाम करता हूँ।

या कुन्देन्दु तुषारहार धवला, या शुभ्रवस्त्रावृता।
या वीणावरदण्डमंडित करा, या श्वेतपद्मासनाः।।
या बम्हाच्युतशंकर प्रभृतिभिः देवैः सदा वन्दितः।
सा माम् पातु भगवती सरस्वती, निःशेषजाड्यापहा।।

अर्थ- जो देवी शारदा कुंद के फूल, बर्फ के हार और चन्द्रमा के समान श्वेत और श्वेत वस्त्रों से सुशोभित हैं। जिनके हाथों में वीणा का दंड शोभित है। जो श्वेत कमल पर आसीन हैं और जिनकी स्तुति ब्रम्हा, विष्णु, महेश आदि देवता सदा ही किया करते हैं। वे भगवती सरस्वती अज्ञान के अंधकार से मेरी रक्षा करें।

या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

अर्थ- जो देवी संसार के सभी प्राणियों में बुद्धि के रूप में स्थित हैं। उनको नमस्कार है, बारम्बार नमस्कार है।

विश्वेश्वरि त्वं परिपासि विश्वं,
विश्वात्मिका धारयसीति विश्वं।
विश्वेशवंद्या भवती भवन्ति,
विश्वाश्रया ये त्वयि भक्तिनम्राः।।

अर्थ- हे विश्वेश्वरि ! तुम विश्व का पालन करती हो। तुम विश्वरूप हो, इसलिए विश्व को धारण करती हो। तुम भगवान विश्वनाथ की भी वंदनीय हो। जो लोग भक्तिपूर्वक तुम्हें सिर झुकाते हैं। वे सम्पूर्ण विश्व को आश्रय देने वाले होते हैं। 

प्रातः स्मरामि भवभीतिमहार्तिनाशं
नारायणं गरुणवाहनमब्जनाभम्।
ग्राहाभिभूतवरवारणमुक्तिहेतुं
चक्रायुधं तरुणवारिजपत्रनेत्रम्।।

अर्थ– संसार के महान दुख को नष्ट करने वाले, मगर से गज को मुक्त करने वाले, चक्र धारण करने वाले और नए कमलदल के समान नेत्रों वाले, पद्मनाभ गरुण वाहन वाले भगवान नारायण का मैं प्रातः काल स्मरण करता हूँ।

ब्रम्हा मुरारिस्त्रिपुरान्तकारी
भानुः शशी भूमिसुतो बुधश्च।
गुरुश्च शुक्रः शनिराहुकेतवः
कुर्वन्तु सर्वे मम सुप्रभातम्।।

अर्थ– ब्रह्मा, विष्णु, शंकर, सूर्य, चन्द्र, मंगल, गुरु, बुध, शुक्र, शनि, राहु और केतु- ये सभी हमारे प्रातः काल को मंगलमय बनाएं।

भृगुर्वशिष्ठः क्रतुरंगिराश्च
मनुः पुलस्त्यः पुलहश्च गौतमः।
रैभ्यो मरीचिश्च्वनश्च दक्षः
कुर्वन्तु सर्वे मम सुप्रभातम्।।

अर्थ– भृगु, वशिष्ठ, क्रतु, अंगिरा, मनु, पुलस्त्य, पुलह, गौतम, रैभ्य, मरीचि, च्यवन और दक्ष ये समस्त ऋषिगण मेरे प्रातः काल को मंगलमय बनाएं।

पृथ्वी सगन्धा सरसास्तथापः
स्पर्शी च वायुर्ज्वलितं च तेजः।
नभः सशब्दं महता सहैव
कुर्वन्तु सर्वे मम सुप्रभातम्।।

अर्थ– गंधयुक्त पृथ्वी, रसयुक्त जल, स्पर्शयुक्त वायु, प्रज्वलित अग्नि, सशब्द आकाश और महत्तत्व ये सभी मेरे प्रातः काल को मंगलमय बनाएं।

अश्वत्थामा बलिर्व्यासो हनूमांश्च विभीषणः।
कृपः परशुरामश्च सप्तैते चिरजीविनः।।
सप्तैतान् संस्मरेन्नित्यं मार्कण्डेयमथाष्टम्।
जीवेद् वर्षशतं साग्रमपमृत्युविवर्जितः।।

अर्थ– अश्वत्थामा, बलि, व्यास, हनुमान्, विभीषण, कृपाचार्य, परशुराम ये सातों दीर्घजीवी हैं। सात ये और आठवें मार्कण्डेय जी का जो नित्य स्मरण करता है। वह अकालमृत्यु से बचकर सौ वर्षों तक जीवित रहता है।

धर्मो विवर्धति युधिष्ठिरकीर्तनेन पापं प्रणश्यति वृकोदरकीर्तनेन।
शत्रुर्विनश्यति धनंजयकीर्तनेन माद्रीसुतौ कथयतां न भवन्ति रोगाः।।

अर्थ– युधिष्ठिर का नाम लेने से धर्म बढ़ता है। भीम के नाम से पाप नष्ट होता है। अर्जुन का नाम लेने से शत्रुओं का नाश होता है और नकुल-सहदेव का नाम लेने से रोगों का नाश होता है।

सोमनाथो वैद्यनाथो धन्वन्तरिरथाश्विनौ।
पञ्चैतान् यः स्मरेन्नित्यं व्याधिस्तस्य न जायते।।

अर्थ– सोमनाथ, वैद्यनाथ, धन्वन्तरि और दोनों अश्विनीकुमारों का प्रतिदिन स्मरण करने वाले को रोग नहीं होता।

कपिला कालिकेयो अनन्तो वासुकिस्तक्षकस्तथा।
पञ्चैतान् स्मरतो नित्यं व्याधिस्तस्य न जायते।।

अर्थ– कपिला, कालिकेय, शेषनाग, वासुकी और तक्षक- इनका नित्य स्मरण करने वाले को सर्प और किसी प्रकार के विष का भय नहीं होता।

रामलक्ष्मणौ सीता च सुग्रीवो हनुमान् कपिः।
पञ्चैतान स्मरतो नित्यं महाबाधा प्रमुच्यते।।

अर्थ– राम, लक्ष्मण, सीता, सुग्रीव और हनुमान इन पांचों का प्रतिदिन स्मरण करने वाले की बड़ी से बड़ी बाधा का नाश हो जाता है।

प्रातःस्नानं चरित्वाथ शुद्धे तीर्थे विशेषतः।
प्रातःस्नानाद्यतः शुद्ध्येत् कायो अयं मलिनः सदा।।
नोपसर्पन्ति वै दुष्टाः प्रातःस्नायिजनं क्वचित्।
दृष्टादृष्टफलं तस्मात् प्रातःस्नानं समाचरेत्।।

अर्थ– शुद्ध तीर्थ में सुबह ही स्नान करना चाहिए। यह मलपूर्ण शरीर शुद्ध तीर्थ में स्नान करने से शुद्ध होता है। प्रातः काल स्नान करने वाले के पास भूत प्रेत आदि दुष्ट नहीं आते। इस तरह दिखाई देने वाले फल जैसे शरीर की स्वच्छता और न् दिखाई देने वाले फल जैसे पाप नाश तथा पुण्य की प्राप्ति। ये दोनों प्रकार के फल प्रातः स्नान करने वाले को मिलते हैं।

वाणी रसवती यस्य,यस्य श्रमवती क्रिया।
लक्ष्मी : दानवती यस्य,सफलं तस्य जीवितं।।

अर्थ – जिस मनुष्य की वाणी मीठी हो, जिसका काम परिश्रम से भरा हो, जिसका धन दान करने में प्रयुक्त हो, उसका जीवन सफ़ल है।

प्रेम पर संस्कृत में श्लोक

अश्वस्य भूषणं वेगो मत्तं स्याद् गजभूषणं।
चातुर्यम् भूषणं नार्या उद्योगो नरभूषणं।।

अर्थ – घोड़े की शोभा उसके वेग से होती है और हाथी की शोभा उसकी मदमस्त चाल से होती है।नारियों की शोभा उनकी विभिन्न कार्यों में दक्षता के कारण और पुरुषों की उनकी उद्योगशीलता के कारण होती है।

यथा ह्येकेन चक्रेण न रथस्य गतिर्भवेत्।
एवं परुषकारेण विना दैवं न सिद्ध्यति।।

अर्थ – जैसे एक पहिये से रथ नहीं चल सकता। ठीक उसी प्रकार बिना पुरुषार्थ के भाग्य सिद्ध नहीं हो सकता है।

प्रियवाक्य प्रदानेन सर्वे तुष्यन्ति जन्तवः।
तस्मात तदैव वक्तव्यम वचने का दरिद्रता।।

अर्थ – प्रिय वाक्य बोलने से सभी जीव संतुष्ट हो जाते हैं, अतः प्रिय वचन ही बोलने चाहिए। ऐसे वचन बोलने में कंजूसी कैसी।

कृते प्रतिकृतं कुर्यात्ताडिते प्रतिताडितम्।
करणेन च तेनैव चुम्बिते प्रतिचुम्बितम्।।

अर्थ – हर कार्रवाही के लिए एक जवाबी कार्रवाही होनी चाहिए। हर प्रहार के लिए एक प्रति-प्रहार और उसी तर्क से हर चुम्बन के लिए एक जवाबी चुम्बन।

परो अपि हितवान् बन्धुः बन्धुः अपि अहितः परः।
अहितः देहजः व्याधिः हितम् आरण्यं औषधम्।।

अर्थ – यदि कोई अपरिचित व्यक्ति आपकी मदद करें तो उसको अपने परिवार के सदस्य की तरह ही महत्व दें और अपने परिवार का सदस्य ही आपको नुकसान देना शुरू हो जाये तो उसे महत्व देना बंद कर दें। ठीक उसी तरह जैसे शरीर के किसी अंग में कोई बीमार हो जाये तो वह हमें तकलीफ पहुंचती है। जबकि जंगल में उगी हुई औषधी हमारे लिए लाभकारी होती है।

FAQs:

  • श्लोक संस्कृत में क्या कहते हैं?

    श्लोक ‘अनुष्टुप छ्न्द’ का पुराना नाम भी है। किन्तु आजकल संस्कृत का कोई छंद या पद्य ‘श्लोक’ कहलाता है।

  • प्रेम से जुड़े संस्कृत के श्लोक क्या हैं?

    भुङ्क्ते भोजयते चैव षड्विधं प्रीतिलक्षणम्।। अर्थ – लेना, देना, खाना, खिलाना, रहस्य बताना और उन्हें सुनना ये सभी 6 प्रेम के लक्षण है

  • श्लोक और मंत्र में क्या अंतर है?

    मन से उत्पन्न है इसलिए मंत्र कहलाते हैं. श्लोक (Shloka) का अर्थ ठीक इसके विपरीत है. जो किसी के द्वारा लिखा गया हो, जिसे किसी ने रचा हो, उसे श्लोक कहते हैं

  • श्लोक का मीनिंग क्या है?

    श्लोक नाम का मतलब हे प्रभु, पद्य, हिंदू मंत्र का भजन या प्रशंसा की कविता होता है।

हम आशा करते है कि यह Sanskrit Shlok आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |
आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है |

Leave a Comment

Your email address will not be published.