RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 7 Women’s Role in the National Movement

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Insight Chapter 7 Women’s Role in the National Movement सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 7 Women’s Role in the National Movement pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 7 Women’s Role in the National Movement notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 9 English Insight Chapter 7 Women’s Role in the National Movement

RBSE Class 9 English Insight Chapter 7 Women’s Role in the National Movement Textual Questions

Activity 1 : Comprehension
(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
Sisters! I thank you with all my heart for.
(a) the warm welcome you have given me this evening
(b) your enthusiastic participation in the mammoth meeting
(c) the purse you have presented me today
(d) the purse you have not presented me today
Answer:
(a) the warm welcome you have given me this evening
(b) your enthusiastic participation in the mammoth meeting
(c) the purse you have presented me today

Question 2.
Name the founder of Azad Hind Fauz
(a) Mahatma Gandhi
(b) Subha’s Chandra Bose
(c) Mangal Pandey
(d) Bal Gangadhar Tilak
Answer:
(b) Subha’s Chandra Bose

Question 3.
The Indian women never lagged behind.
(a) in going from village to village
(b) in addressing meeting after meeting
(c) in carrying the message of freedom from house to house
(d) in carrying the message of poverty
Answer:
(a) in going from village to village
(b) in addressing meeting after meeting
(c) in carrying the message of freedom from house to house

(B) Answer the following questions in not more than 30-40 words each :

Question 1.
How long have the Indian women been taking part in public life?
भारतीय महिलाएँ सार्वजनिक जीवन में कितने समय से भाग ले रही हैं?
Answer:
Indian women have been taking part in public life for the past twenty years. From the time of India’s regeneration, Indian women have performed great deeds.
भारतीय महिलाएँ पिछले बीस वर्षों से सार्वजनिक जीवन में भाग ले रही हैं। भारत के पुनरुद्धार के समय से ही भारतीय महिलाओं ने महान कार्य किए हैं।

Question 2.
Where did the women participants perform great deeds ? महिला सहभागियों ने कहाँ पर महान कार्य सम्पन्न किए?
Answer:
Women participants performed great deeds in the Congress movements, the civil disobedience struggle and the secret revolutionary movements.
महिला सहभागियों ने कांग्रेस आन्दोलनों, सविनय अवज्ञा संघर्ष व गुप्त क्रान्तिकारी आन्दोलनों में महान कार्य सम्पन्न किए।

Question 3.
How did the merciless British police torture women during national movement ?।
निर्दयी ब्रिटिश पुलिस ने राष्ट्रीय आन्दोलन के दौरान महिलाओं को किस प्रकार उत्पीड़ित किया?
Answer:
The merciless British police tortured the women by making lathi charge on their processions. They also tortured and insulted them in the prison.
निर्दय ब्रिटिश पुलिस ने महिलाओं को उनके जुलूसों में लाठी चार्ज कर उत्पीड़ित किया। उन्होंने उनको कैदखाने में भी उत्पीड़ित व अपमानित किया।

Question 4.
What did Meredith Conrad say on the British Empire referring to India ? भारत के बारे में चर्चा करते हुए मेरेडिथ कॉनरेड ने ब्रिटिश साम्राज्य के लिए क्या कहा?
Answer:
Referring to India Meredith Conrad said that once the Indians became united, the British would not be able to rule over them. He said that the British Empire which came into being in a day would die in a night.
भारत की चर्चा करते हुए मेरेडिथ कॉनरेड ने कहा कि एक बार भारतीय संगठित हो गये तो ब्रिटिश उनके ऊपर शासन नहीं कर पाएँगे। उन्होंने कहा कि ब्रिटिश साम्राज्य जिसका अस्तित्व एक दिन में हुआ, वह एक रात में ही समाप्त हो जायेगा।

Question 5.
What will happen if we get freedom without sacrifice and suffering ?
यदि हम बलिदान व कष्ट के बिना आजादी पा लेंगे तो क्या होगा?
Answer:
If we get freedom without sacrifice and suffering, it will be of no avail. We will not be able to preserve the freedom which is gained so easily. So we shall get our freedom only through our suffering.
यदि हम बलिदान व कष्ट के बिना आजादी पा लेंगे तो कोई लाभ नहीं होगा। हम आसानी से प्राप्त की गई आजादी की रक्षा करने में सफल नहीं हो पायेंगे। अतः हम अपनी आजादी अपने कष्टों से ही पायेंगे।

Question 6.
Why did Bose give a call to every
Indian to come forward to receive the guns? बोस ने प्रत्येक भारतीय से आगे आकर बन्दूके पकड़ने का आह्वान क्यों किया?
Answer:
Bose wanted to see India free so he gave a call to every Indian to come forward to receive the guns to carry on the struggle started by Indian women.
बोस भारत को स्वतंत्र देखना चाहते थे अतः उन्होंने प्रत्येक भारतीय से आगे बढ़कर बन्दूकें पकड़ने का आह्वान किया जिससे कि वे भारतीय महिलाओं द्वारा शुरू किए गए संघर्ष को जारी रख सकें।

Question 7.
What is the common task in the struggle of freedom ?
स्वतंत्रता के संघर्ष में उभयनिष्ठ (साझा) काम क्या है?
Answer:
To fight against the British in the struggle of freedom is the common task of ‘every Indian – without any distinction of man or woman, boy or girl, poor or rich, young or old.
स्वतंत्रता के संघर्ष में अंग्रेजों के विरुद्ध लड़ना स्त्री या पुरुष, लड़का या लड़की, गरीब या अमीर, युवा या वृद्ध का भेद किए बिना प्रत्येक भारतीय का साझा काम है।

(C) Answer the following questions in 60-80 words each :

Question 1.
How did women play their role during Indian national movement ?
भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के दौरान किस प्रकार महिलाओं ने अपनी भूमिका अदा की?
Answer:
During the Indian national movement women went village to village without caring for their hunger and thirst. They addressed meeting after meeting. They carried the message of freedom from house to house. They took out processions in spite of Government’s bans and in the face of lathi charge by the merciless British police. They also took an active part in the secret revolutionary activities.

महिलाएं भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के दौरान भूख तथा प्यास की चिन्ता किए बिना ‘गाँव-गाँव गईं। उन्होंने एक के बाद एक सभाओं को सम्बोधित किया। वे घर- घर स्वतंत्रता का सन्देश लेकर गईं। सरकार के प्रतिबन्धों के बावजूद एवं निर्दयी ब्रिटिश पुलिस द्वारा लाठी चार्ज की परवाह न करते हुए उन्होंने जुलूस निकाले। उन्होंने गुप्त क्रान्तिकारी गतिविधियों में भी सक्रिय योगदान दिया।

Question 2.
What are the views of Subhas Chandra Bose regarding the exit of British Imperialism from India’?
भारत से ब्रिटिश साम्राज्यवाद के निष्कासन’ के बारे में सुभाष चन्द्र बोस के क्या विचार हैं?
Answer:
Subhas Chandra Bose says that time has now come for the exit of British Imperialism from the world. He also says that we have seen with our own eyes the destruction of the British Empire in this part of the world and we are also going to witness its disappearance from India and other parts of the world. Bose thinks that British Imperialism is not immortal and its end is near.

सुभाष चन्द्र बोस कहते हैं कि संसार से ब्रिटिश साम्राज्यवाद के निष्कासन का समय आ गया है। वे यह भी कहते हैं कि हमने अपनी ही आँखों से संसार के इस भाग में ब्रिटिश साम्राज्य का विनाश देखा है और हम भारत एवं विश्व के अन्य भागों से भी इसकी समाप्ति देखेंगे। बोस का विचार है कि ब्रिटिश साम्राज्यवाद अमर नहीं है और इसका अन्त निकट ही है।

Question 3.
Why does Subhas Chandra Bose say that the liberation of India is dependent on the victory of the Axis Powers?
सुभाष चन्द्र बोस यह क्यों कहते हैं कि भारत की आजादी धुरी शक्तियों (राष्ट्रों) की विजय पर निर्भर है?
Answer:
Subhas Chandra Bose says that India can gain her freedom only if the Anglo American Imperialism is vanquished. According to Bose, the liberation of India is dependent on the victory of Asix Powers because India and the Axis Powers are facing a common enemy. So we have a common goal. We have to fight against the common foe.

सुभाष चन्द्र बोस कहते हैं कि भारत अपनी आजादी तभी प्राप्त कर सकता है जब आंग्ल-अमरीकी साम्राज्यवाद पराजित हो जाये। बोस के अनुसार, भारत की आजादी धुरी शक्तियों की विजय पर निर्भर है क्योंकि भारत और धुरी शक्तियाँ एक साझा या समान शत्रु का सामना कर रही हैं। इसलिए हमारा लक्ष्य भी साझा है। हमें इस समान शत्रु से लड़ना है।

(D) Say whether the following statements are True or False.
Write ‘T for true and ‘F’ for False in the bracket :

  1. There is no task which our women cannot undertake and no sacrifice and suffering which our women cannot undergo is the firm belief of Subhas. [ ]
  2. History has taught us that every empire will fall in the same way as it has arisen. [ ]
  3. Bose says that the empire which came into being in a day will die in a night. [ ]
  4. Bose says that women have special skills in some specific fields. [ ]
  5. Bose wishes that all our activities for the liberation of our motherland end in victory.[ ]

Answer:

  1. True
  2. True
  3. True
  4. True
  5. True

Activity 2 : Vocabulary
(A) Match the following words in column ‘A’ with those in column ‘B’.
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 7 Women's Role in the National Movement 1
Answer:
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 7 Women's Role in the National Movement 2


(B) Give one word each for the group of words given below :

  1. An organized military force equipped for fighting on land
  2. The person who leads or commands a group or organization
  3. The fact or state of being independent
  4. One’s native country
  5. Used to greet someone in a polite or friendly way
  6. A native or inhabitant of India

Answer:

  1. Army
  2. Leader
  3. Independence
  4. Motherland
  5. Welcome
  6. Indian

Activity 3 : Grammar
Subject – Verb Agreement
निम्नलिखित. वाक्यों को पढ़िये और आपस में चर्चा कीजिए कि नीचे दिये गये वाक्य व्याकरण की दृष्टि से सही क्यों नहीं है

  • He and Mohan is coming tomorrow.
  • Sunayana have talked to me just now.
  • There are a blind person sitting in the corner.
  • What they say are not true.
  • A list of ancient remedies were prepared.

अब निम्नलिखित वाक्यों की तुलना ऊपर दिए गए वाक्यों से कीजिए और आपस में चर्चा कीजिए कि नीचे दिये गये वाक्य व्याकरण की दृष्टि से सही क्यों हैं

  1. He and Mohan are coming tomorrow.
  2. Sunayana has talked to me just now.
  3. There is a blind person sitting in the corner.
  4. What they say is not true.
  5. A list of ancient remedies were prepared.

इसलिए याद रखिए किएकवचन के साथ एकवचन व बहुवचन के साथ बहुवचन का प्रयोग होता है। “There’ का कोई वचन नहीं होता; इसके वचन का निर्धारण संदर्भ से होता है। ‘Subordinate clause’ (आश्रित उपवाक्य) जब कर्ता के रूप में आता है तब इसे हमेशा एकवचन माना जाता है (चाहे इसका अर्थ एकवचन या बहुवचन में हो) जब एक वाक्यांश कर्ता के रूप में आता है तथा उसमें एक से अधिक शब्द होते हैं तो मुख्य शब्द के अनुसार क्रिया का प्रयोग होता है।

अब, निम्नलिखित वाक्यों के समूहों को पढ़िये
1. A. The President and Secretary is coming tonight.
B. The President and the Secretary are coming tonight.

2. A. The family has left for the USA.
B. The family are going to their respective work places.

उक्त सभी वाक्य व्याकरण के अनुसार हैं। ये वाक्य निम्नलिखित जटिलताएँ बताते हैं

एकवचन क्रिया का प्रयोग कीजिए जब एक संयुक्त। वाक्यांश (जैसे-The President and Secretary) एक ही व्यक्ति/वस्तु को संदर्भित करते हैं। जब इसका अर्थ बहुवचन में हो तो क्रिया बहुवचन में आएगी है। (जैसे-The President and the Secretary) अविभाजित समूहवाची संज्ञा के लिए एकवचन क्रिया का प्रयोग कीजिए (जैसे-committee, family, staff, culture आदि) और जब इनका पृथक्करण या विभाजन प्रदर्शित हो तब बहुवचन क्रिया का प्रयोग कीजिए। निम्नलिखित वाक्यों को पढिए और रेखांकित प्रयोग के बारे में अपने अध्यापक जी से पूछिए

1. A. Either Mohan or some students are coming to me..
B. Either some students or Mohan is coming to me.

2. A. One of the principal reasons is the utter darkness.
B. I know one of the persons who are here.

इसलिए, याद रखिए कि –
एक संयुक्त वाक्यांश जो either…or से जुड़ा हो उसके साथ क्रिया उस कर्ता के अनुसार आती है जो क्रिया के निकटतम स्थित हो।
who, which आदि जैसे संबंधवाची सर्वनाम का कोई वचन नहीं होता; उनके एकवचन या बहुवचन होने का निर्धारण उनके समीप प्रयुक्त पूर्वगामी संज्ञा या पूरक शब्द के अनुसार होता है।

Subject verb agreement के बारे में और अधिक समझने के लिए अपने अध्यापक जी से कहिए।

Activity 4 : Speech Activity
You must have heard that Subhas left Indian Civil Services to join Indian National Movement for freedom. Subhas lived and died for the country. Organize a discussion on Subhas’s role in the Indian National Movement for freedom.
आपने सुना होगा कि सुभाष ने आजादी के लिए भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में शामिल होने के लिए भारतीय सिविल सेवा को छोड़ दिया था। सुभाष देश के लिए ही जिये और मरे। आजादी के लिए भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में सुभाष की भूमिका पर चर्चा आयोजित कीजिए।

Subhas’s Role in the Indian National Movement for Freedom

Subhas Chandra Bose was one of the foremost nationalist leaders of India. He was brave and youthful and he possessed excellent organising capacity. Born on 23rd January, 1897 at Cuttack town to a pleader father Subhas was selected into the Indian Civil Service. In the service when he was called upon to take an oath of allegiance to the crown, he refused to do so and left the job in 1921. After leaving the service, Subhas joined the non-cooperation movement, but was not satisfied with the principle of non-violence of Gandhiji. He represented the voung and extremist elements in the Congress. He was elected as the President of the Congress in 1938 and again in 1939. He could not make compromise with Gandhiji and thus resigned his presidentship and organised the famous Forward Block.

During the Second World War he was put under the house arrest in his ancestral house in Calcutta, but escaped and reached Japan. He proceeded from there to Moscow and finally reached Berlin in March 1941 where Adolf Hitler did not like to help him for the cause of Indian independence. Then he went to Japan where he reorganised the famous Indian National Army, also known as Azad Hind Fauj. Subhas gave two famous slogans Dilli ‘Chalo’ and ‘Jai Hind’. He inspired his armymen through his encouraging words, ‘Give me blood and I shall give you freedom.’ It is widely considered that Subhas died in a plane crash in 1945. The great works and contributions of Subhas Chandra Bose have been marked in the Indian history as an unforgettable event.

आजादी के लिए भारतीय राष्ट्रीय
आन्दोलन में सुभाष की भूमिका
सुभाष चन्द्र बोस भारत के प्रमुख राष्ट्रवादी नेताओं में एक थे। 23 जनवरी, 1897 को कटक में एक वकील पिता के यहाँ जन्मे सुभाष भारतीय सिविल सेवा में चुने गये। सेवा में जब उनको ब्रिटिश शासन के प्रति निष्ठा रखने की शपथ लेने के लिए बुलाया गया तो उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया और 1921 में नौकरी छोड़ दी। नौकरी छोड़ने के बाद सुभाष असहयोग आन्दोलन में शामिल हो गये, किन्तु वे गांधीजी के अहिंसा के सिद्धांत से सहमत नहीं हुए सुभाष ने कांग्रेस में युवा और चरमपंथियों का प्रतिनिधित्व किया। वे वर्ष 1938 में वे पुनः 1939 में कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गये। वे गांधीजी से समझौता नहीं कर पाये और इस प्रकार उन्होंने कांग्रेस की अध्यक्षता से त्यागपत्र दे दिया और प्रसिद्ध फारवर्ड ब्लॉक का गठन किया।

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान उन्हें कलकत्ता में स्थित उनके पैतृक मकान में नजरबन्द कर दिया गया, किन्तु वे बच निकले और जापान पहुँच गये। वहाँ से मास्को गये और अन्त में मार्च 1941 में बर्लिन पहुँच गये जहाँ हिटलर ने भारत की स्वतंत्रता हेतु मदद करने में रुचि प्रदर्शित नहीं की। तत्पश्चात वे जापान गये जहाँ उन्होंने प्रसिद्ध इण्डियन नेशनल आर्मी का पुनर्गठन किया जिसे आजाद हिन्द फौज के नाम से भी जाना जाता है। सुभाष ने दो प्रसिद्ध नारे दिये- ‘दिल्ली चलो’ और ‘जय हिन्द’। उन्होंने अपनी सेना के लोगों को इन प्रोत्साहनपूर्ण शब्दों से प्रेरित किया, ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।’ यह सार्वभौमिक तौर पर माना जाता है कि सुभाष 1945 में एक विमान दुर्घटना में शहीद हो गये। सुभाष के महान कार्यों एवं योगदानों को भारतीय इतिहास में एक अविस्मरणीय घटना माना जाता है।

Activity 5 : Composition
Enlist at least ten heroic deeds of Subhas Chandra Bose which speak of Subhas’s great patriotism.
सुभाष चन्द्र बोस के दस साहसिक कार्य बताइये जो सुभाष की महान देशभक्ति को बताते हैं।
Answer:
Ten heroic deeds of Subhas Chandra Bose

  1. Subhas Chandra Bose was expelled for assaulting Professor for the latter’s anti-India comments.
  2. In the training of ICS when he was called upon to take an oath of allegiance to the crown, he refused to do so and left the job in 1921.
  3. His slogan “You give me blood, I’ll give you freedom” ignited the fire of patriotism in the hearts of Indians during the struggle for independence.
  4. He was twice elected as the President of the Indian National Congress.
  5. During the period of 1921-1941, he was imprisoned eleven times.
  6. His daring escape from house arrest in India and going to Germany and Japan is a popular deed by Bose.
  7. He led the Indian Nationalist Movement in East Asia.
  8. During World War-II, Bose attempted to rid India of British rule with the help of Nazi Germany and Imperial Japan.
  9. With Japanese support, Bose re-organised Indian National Army (Azad Hind Fauj).
  10. Bose formed and presided in Provisional Government of Free India in the Japanese – occupied Andaman and Nicobar Islands.

सुभाष चन्द्र बोस के दस महान कार्य

  1. सुभाष चन्द्र बोस को भारत के विरुद्ध टिप्पणी करने वाले प्रोफेसर पर हमला करने के जुर्म में कॉलेज से निष्कासित कर दिया गया।
  2. आई सी एस की ट्रेनिंग में जब उन्हें ब्रिटिश शासन के प्रति निष्ठा की शपथ लेने के लिए बुलाया गया तो उन्होंने ऐसा करने से इन्कार कर दिया और 1921 में नौकरी छोड़ दी।
  3. आजादी के संघर्ष के दौरान उनके नारे, ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा’ ने भारतीयों के हृदयों में देशभक्ति की अग्नि प्रज्वलित कर दी।
  4. वे दो बार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गये।
  5. वर्ष 1921 से 1941 के मध्य वे ग्यारह बार कैद किए गये।
  6. भारत में नजरबन्दी से साहसपूर्वक बच निकलना और जर्मनी व जापान चले जाना, बोस का लोकप्रिय कारनामा रहा।
  7. उन्होंने पूर्व एशिया में भारतीय राष्ट्रवादी आन्दोलन का नेतृत्व किया।
  8. विश्व युद्ध-II के दौरान बोस ने नाजी जर्मनी एवं साम्राज्यवादी जापान की मदद से भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराने का प्रयास किया।
  9. जापान के सहयोग से बोस ने इण्डियन नेशनल आर्मी (आजाद हिन्द फौज) का पुनर्गठन किया।
  10. बोस ने जापान अधिकृत अण्डमान व निकोबार द्वीप समूह में स्वतंत्र भारत की अन्तरिम सरकार का गठन किया और उसकी अध्यक्षता की।

RBSE Class 9 English Insight Chapter 7 Women’s Role in the National Movement Additional Questions

Short Answer Type Questions
Answer the following questions in 30 words each :

Question 1.
What moved Bose and his friends ? बोस को एवं उनके मित्रों को किस बात ने प्रभावित किया?
Answer:
In spite of rain, women stuck to their seats till the end of the mammoth meeting held opposite the Tokku Petsushi Building. This moved Bose and his friends.
टोक्कू पेट्सुशि बिल्डिंग के सामने आयोजित हुई विशाल सभा में महिलाएँ बरसात होने के बावजूद भी अन्त तक अपनी सीटों पर जमी रहीं। इस बात ने बोस और उनके मित्रों को प्रभावित किया।

Question 2.
What confidence does Bose express about Indian women ?
भारतीय महिलाओं के बारे में बोस क्या विश्वास व्यक्त करते हैं?
Answer:
Bose expresses his confidence that Indian women are today prepared to fight and suffer for the sake of their motherland.
बोस अपना विश्वास व्यक्त करते हैं कि भारतीय महिलाएँ आज अपनी मातृभूमि की खातिर लड़ने को और कष्ट सहने को तैयार हैं।

Question 3.
What, according to Bose, has history taught us ?
बोस के अनुसार इतिहास ने हमें क्या सिखाया है?
Answer:
According to Bose, history has taught us that no empire is immortal and that every empire will fall in the same way it has arisen.
बोस के अनुसार इतिहास ने हमें सिखाया है कि कोई भी साम्राज्य अमर नहीं है और प्रत्येक साम्राज्य का पतन उसी प्रकार होगा जिस प्रकार इसका उत्थान हुआ है।

Question 4.
How much time did it take to drive out the British out of the stronghold of Singapore ?
सिंगापुर के दुर्ग से अंग्रेजों को खदेड़ने में कितना समय लगा ?
Answer:
It took just seven days to drive out the British of the stronghold of Singapore.
सिंगापुर के दुर्ग से अंग्रेजों को खदेड़ने में मात्र सात दिन लगे।

Question 5.
When did Rani of Jhansi perform great deeds ?
झांसी की रानी ने महान कार्य कब किए?
Answer:
Rani of Jhansi performed great deeds during the First War of Independence in 1857.
झांसी की रानी ने 1857 ईस्वी में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महान कार्य किए।

Question 6.
Which work, according to Bose, should be started immediately? What does Bose request women in the end?
बोस के अनुसार, कौन-सा कार्य तुरंत शुरू हो जाना चाहिए? बोस अन्त में महिलाओं से क्या अनुरोध करते हैं?
Answer:
According to Bose, the preparation for the struggle by Jhansi Rani Regiment should be started immediately. Bose requests women that all those who want to join Jhansi Rani Regiment should come forward and give their names.
बोस के अनुसार झांसी रानी रेजिमेण्ट द्वारा संघर्ष की तैयारी का कार्य तुरंत शुरू हो जाना चाहिए। बोस महिलाओं से अनुरोध करते हैं कि वे सभी जो झांसी रानी रेजिमेण्ट में शामिल होना चाहती हैं, वे आगे आएँ और अपने नाम देंवे।

Long Answer Type Questions
Answer the following questions in 60 words ecah :

Question 1.
What change can be noticed clearly since 1921 ?
वर्ष 1921 से क्या परिवर्तन स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है?
Answer:
Participation of women in public life and the national movement can be seen clearly since 1921. It was the time when the Congress was regenerated under Mahatma Gandhi’s leadership. And during twenty years since then Indian women rendered service in the national movement. They performed great deeds in the Congress movements, the civil disobedience struggle and the secret revolutionary movements.
वर्ष 1921 से सार्वजनिक जीवन एवं राष्ट्रीय आन्दोलन में महिलाओं की भूमिका स्पष्ट देखी जा सकती है। यह वह समय था जब महात्मा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस का पुनरुद्धार हुआ। और तब से लेकर बीस वर्षों तक भारतीय महिलाओं ने राष्ट्रीय आन्दोलन में सेवा प्रदान की। उन्होंने कांग्रेस आन्दोलनों, सविनय अवज्ञा संघर्ष एवं गुप्त क्रान्तिकारी आन्दोलनों में महान कार्य किया।

Question 2.
Why does Bose say that Indian women are prepared to fight and suffer for the sake of our motherland ?
बोस यह क्यों कहते हैं कि भारतीय महिलाएँ हमारी मातृभूमि की खातिर लड़ने के लिए और कष्ट सहने के लिए तैयार हैं?
Answer:
Bose says that Indian women are prepared to fight and suffer for the sake of the motherland, because he knows the capabilities of Indian womenhood well. He does not mean to cajole them with empty words. He says with certainty that there is no task which Indian women cannot undertake and no sacrifice and suffering which they cannot undergo.
बोस कहते हैं कि भारतीय महिलाएँ अपनी मातृभूमि की खातिर लड़ने के लिए और कष्ट सहने के लिए तैयार हैं, क्योंकि वे भारतीय स्त्रीत्व की क्षमताओं को अच्छी तरह जानते हैं। वे उन्हें खोखले शब्दों से फुसलाना नहीं चाह रहे हैं। वे निश्चित तौर पर यह कहते हैं कि ऐसा कोई कार्य नहीं है जो भारतीय महिलाएँ नहीं कर सकर्ती और कोई बलिदान और कष्ट नहीं है जिसे वे नहीं झेल सकर्ती।

Question 3.
Why does Bose say that the time for launching the final campaign to liberate our motherland has now come ? बोस यह क्यों कहते हैं कि हमारी मातृभूमि को आजाद कराने के लिए अन्तिम अभियान प्रारम्भ करने की समय अब आ गया है?
Answer:
Bose says that only very rarely such opportunities occur in a nation’s life. Surely such an opportunity will not come again in our lifetime, nor even in the next hundred years. Only by God’s grace we have got such an opportunity. If we seize it and sacrifice our all, we can surely liberate our country. So Bose says that the time for launching the final campaign to liberate our motherland has now come.

बोस कहते हैं कि किसी राष्ट्र के जीवन में ऐसे अवसर बहुत कम आते हैं। निश्चित रूप से ऐसा अवसर न हमारे जीवनकाल में, न ही अगले सौ सालों में पुनः प्राप्त होगा। केवल ईश्वर की कृपा से ही हमें ऐसा अवसर प्राप्त हुआ है। यदि हम इस अवसर का लाभ उठायेंगे और अपना सब कुछ बलिदान कर देंगे, तो हम निश्चित रूप से अपने देश को आजाद करा सकते हैं। इसीलिए बोस कहते हैं कि हमारी मातृभूमि को आजाद कराने के लिए अन्तिम अभियान छेड़ने का समय अब आ गया है।

Passages for Comprehension

Read the following passages carefully and answer the questions given below them :

Passage 1
Sisters! I thank you with all my heart for the warm welcome you have given me this evening. I also thank you with all my heart for your enthusiastic participation in the mammoth meeting which was held opposite the Tokku Petsushi Building. In spite of the rain you stuck to your seats till the end, and this moved me and my friends who participated in the meeting. I also know that some of you took your children there. Your bravery and enthusiasm thrilled all of us. I have the least doubt in my mind that your mission which has started auspiciously will grow rapidly.

You know well the service which Indian women have been rendering in the national movement during the past twenty years. From the time of India’s regeneration, Indian women have been vigorously taking part in public life. This change can be clearly noticed. Since 1921 when the Congress was regenerated under Mahatma Gandhi’s leadership, our sisters have performed great deeds not only in the Congress movements and the civil disobedience struggle but also in the secret revolutionary movements. It will not be an exaggeration if I say that there are no public activities or departments of our national effort in which women are not participating. During the past many years of our national movement, women have been equal to men in undergoing suffering with joy and courage.

1. What moved the author and his friends ?
लेखक और उसके मित्रों को किस बात ने प्रभावित किया?

2. What thrilled all of them ?
उन सबको किस बात ने रोमांचित किया?

3. What have Indian women been doing from the time of the regeneration of Congress ?
कांग्रेस के पुनर्जन्म के समय से भारतीय महिलाओं ने क्या क्रिया है?

4. Under whose leadership was the Congress regenerated ?
किसके नेतृत्व में कांग्रेस का पुनरुद्धार कब हुआ?

5. In which movements did Indian women perform great deeds ?
किन आन्दोलनों में भारतीय महिलाओं ने महान कार्य किए?

6. Where was the mammoth meeting held ?
विशाल सभा कहाँ आयोजित की गई थी?

7. What did the women do in spite of the rain?
बरसात के बावजूद महिलाओं ने क्या किया?

8. In which thing does the author have no doubt ?
लेखक को किसी बात में कोई संदेह नहीं है?

9. Find the words from the passage opposite in meaning to those given below :
(a) small
(b) cowardice

10. Make singular forms of the following :
(a) women
(b) activities
Answers:
1. In spite of the rain the women stuck to their seats till the end of the meetings. This moved the author and his friends.
बरसात के बावजूद महिलाएँ मीटिंग की समाप्ति तक अपनी सीटों पर जमी रहीं। इस बात ने लेखक व उसके मित्रों को प्रभावित किया।

2. The women’s bravery and enthusiasm thrilled all of them.
महिलाओं की बहादुरी और उत्साह ने उन सभी को रोमांचित किया।

3. From the time of the regeneration of Congress since 1921, Indian women have been vigorously taking part in public life.
सन् 1921 से कांग्रेस के पुनर्जन्म के समय से भारतीय महिलाएँ जोश के साथ सार्वजनिक जीवन में भाग लेती रही हैं।

4. The Congress was regenerated in 1921 under the leadership of Mahatma Gandhi.
कांग्रेस का पुनरुद्धार महात्मा गांधी के नेतृत्व में 1921 में हुआ।

5. Indian women performed great deeds not only in the Congress movements and the civil disobedience struggle but also in the secret revolutionary movements.
भारतीय महिलाओं ने न केवल कांग्रेस के आन्दोलनों व सविनय अवज्ञा संघर्षों में भाग लिया बल्कि गुप्त क्रान्तिकारी आन्दोलनों में भी भाग लिया।

6. The mammoth meeting was held opposite to Tokku Petsushi Building.
विशाल मीटिंग का आयोजन टोक्कू पेट्सुशि बिल्डिंग के सामने हुआ।

7. In spite of the rain the women stuck to their seats till the end of the meeting.
बरसात के बावजूद महिलाएँ मीटिंग की समाप्ति तक अपनी सीटों पर जमी रहीं।

8. The author has no doubt about the success and rapid growth of the women’s mission.
लेखक को महिलाओं के लक्ष्य की सफलता और तेज रफ्तार से वृद्धि के बारे में कोई सन्देह नहीं है।

9. (a) mammoth (b) bravery

10. (a) woman (b)

Passage 2
I have mentioned in my broadcast that it took just seven days to drive them out of the strong hold of Singapore which they had built in the course of twenty years. Of course, I do not expect that the British can be driven out of India within a week. But you can mathematically calculate how many weeks it will take to drive out the British once we launch our final military action. Sisters! I think everyone of you believes that the time to begin our efforts for our salvation has come now. I also sincerely believe that you all wish this war to end in the defeat of AngloAmerican Imperialism because India can gain her freedom only if it is vanquished. It is for this reason that I have often been saying that the liberation of India is dependent on the victory of the Axis Powers. Today India and the Axis Powers are facing a common enemy. We therefore have a common goal. We have to fight against our common foe; we should be prepared to make any sacrifice and win our freedom by sharing the joys and sorrows equally among ourselves. If we get freedom without sacrifice and suffering it will be of no avail, because we will not be able to preserve the freedom which is gained so easily. We shall therefore get our freedom only through our suffering. I firmly believe that we can give adequate support to our motherland by our total mobilization.

1. Which time, according to the author, has now come ?
लेखक के अनुसार अब कौन-सा समय आ गया है?

2. How much time did the British take in building the stronghold of Singapore?
सिंगापुर का दुर्ग बनाने में अंग्रेजों को कितना समय लगा।

3. On which thing is the liberation of India dependent ?
भारत की आजादी किसी बात पर निर्भर है?

4. Who alongwith India are facing a common enemy ?
भारत के साथ कौन एक उभयनिष्ठ शत्रु का सामना कर रहे हैं?

5. What should we be prepared for ?
हमें किस बात के लिए तैयार रहना चाहिए?

6. When will our freedom be of no avail ?
कब हमारी आजादी किसी काम की नहीं रहेगी?

7. Whose defeat do the author and all others wish ?
लुखक एवं अन्य सभी किसकी पराजय चाहते हैं?

8. How can we give adequate support to our motherland ?
4 374-11 HIC469 o PI PA कैसे दे सकते हैं?

9. Write the noun forms of the following :
(a) preserve
(b) mathematically

10. Find from the passage the words which mean
(a) defeated
(b) liberation
Answers:
1. According to the author, the time to begin our efforts for our salvation has come now.
लेखक के अनुसार हमारी मुक्ति के लिए प्रयास आरम्भ करने का समय अब आ गया है।

2. The British took twenty years in building the stronghold of Singapore.
अंग्रजों को सिंगापुर का दुर्ग बनाने में बीस साल लगे।

3. The liberation of India is dependent on the victory of the Axis Powers.
भारत की आजादी धुरी शक्तियों की विजय पर निर्भर है।

4. The Axis Powers alongwith India are facing a common enemy.
भारत के साथ धुरी शक्तियाँ एक उभयनिष्ठ शत्रु का सामना कर रही हैं।

5. We should be prepared to make any sacrifice for our freedom.
हमे अपनी स्वतंत्रता अर्जित करने के लिए कोई भी बलिदान करने को तैयार रहना चाहिए।

6. If we get our freedom without sacrifice and suffering, it will be of no avail.
यदि हम बिना बलिदान और कष्टों के स्वतंत्रता प्राप्त करेंगे तो यह किसी काम की नहीं होगी।

7. The author and all others wish this war to end in the defeat of Anglo-American Imperialism.
लेखक एवं अन्य सभी यह चाहते हैं कि यह युद्ध आंग्ल-अमरीकी साम्राज्यवाद की पराजय में समाप्त हो।

8. We can give our adequate support to our motherland by our total mobilization.
हम अपनी पूरी लामबन्दी के द्वारा अपनी मातृभूमि को अपना पर्याप्त | समर्थन प्रदान कर सकते हैं।

9. (a) preservation (b) mathematics

10. (a) vanquished (b) freedom

Passage 3
To those who say that it will not be proper for our women to carry guns, my only request is that they look into the pages of our history. What brave deeds the Rani of Jhansi performed during the First War of Independence in 1857! Similarly, many brave women like the Rani of Jhansi are required in our Last war of Independence also. It is not important how many guns you can carry or how many cartridges you can fire. It is the spiritual force which will be generated by your heroic example that is important. Indians-both common people and members of the British Indian army-who are on the border areas of India will, on seeing you march with guns on your shoulders. Voluntarily come forward to receive the guns from you and carry on the struggle started by you. I do not have the least doubt about this. Therfore, I can say with certainty that the time has come for every Indian-man and woman, boy and girl-to come forward and make great sacrifices for liberating India. Sisters, your energetic activities will not only inspire our country-men living in Malaya, East Asia and Syonan but also those living within our country.

1. Whom does the author request to look into the pages of our history ?
लेखक किन लोगों से हमारे इतिहास के पन्नों में देखने का निवेदन करता है?

2. Who performed great deeds during the First War of Independence in 1857 ?
वर्ष1857 में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में किसने महान कार्य किए?

3. Who are required in our Last war of Independence ?
हमारे अंतिम स्वतंत्रता संग्राम में किनकी जरूरत है?

4. What does the author say with certainty ?
लेखक निश्चितता के साथ क्या कहता है?

5. Which thing does not matter much ?
कौन-सी बात ज्यादा मायने नहीं रखती?

6. How will the spiritual force be generated ?
आत्मिक बल कैसे उत्पन्न होगा?

7. When will people come forward to receive the guns from women ?
लोग महिलाओं से बन्दूकें लेने के लिए कब आगे आयेंगे?

8. Whom will the women’s energetic activities inspire ?
महिलाओं की ऊर्जस्वी गतिविधियाँ किन्हें प्रेरित करेंगी?

9. Find the words from the passage opposite in meaning to those given below
(a) most
(b) coward

10. Find from the passage the words which mean
(a) having a lot of energy
(b) courageous
Answers: 
1. The author requests those who say that it will not be proper for our women to carry guns to look into the pages of our history.
लेखक किन लोगों से हमारे इतिहास के पन्नों में देखने का निवेदन करता है जो यह कहते हैं कि हमारी महिलाओं का बन्दूक धारण करना उचित नहीं है।

2. Rani of Jhansi performed great deeds during the First War of Independence in 1857.
झांसी की रानी ने वर्ष 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में महान कार्य किए।

3. Brave women like the Rani of Jhansi are required in our Last war of Independence.
हमारे स्वतंत्रता के अन्तिम युद्ध में झांसी की रानी जैसी बहादुर महिलाओं की आवश्यकता है।

4. The author says with certainty that the time has come for every Indian-man and woman, boy and girl – to come forward and make great sacrifices for liberating India.
लेखक निश्चितता के साथ कहता है कि भारत को आजाद कराने के लिए प्रत्येक भारतीय पुरुष व स्त्री, लड़का व लड़की के आगे बढ़ने एवं महान बलिदान करने का समय आ गया है।

5. It does not matter much how many guns women can carry or how many cartridges they can fire.
यह बात ज्यादा महत्व नहीं रखती है कि महिलाएँ कितनी बन्दूकें ले जा सकती हैं या कितनी गोलियाँ चला सकती हैं।

6. The spiritual force will be generated by women’s heroic examples.
महिलाओं के वीरतापूर्ण उदाहरणों से आत्मिक बल उत्पन्न होगा।

7. On seeing the women march with guns on thier shoulders, people will come forward to receive the guns from them.
महिलाओं को कन्धे पर बन्दूक रखकर कूच करते हुए देखकर लोग उनसे बन्दूकें लेने के लिए आगे आयेंगे।

8. Women’s energetic activities will inspire our countrymen living in Malaya, East Asia and Syonan and those living within our country.
महिलाओं की ऊर्जस्वी गतिविधियाँ मलाया, पूर्वी एशिया एवं स्योनान में रहने वाले हमारे देश के लोगों एवं हमारे देश में ही रह रहे लोगों को प्रेरित करेंगी।

9. (a) least, (b) brave

10. (a) energetic, (b) heroic

Word-meanings and Hindi Translation

Sisters! Ithank ………………………….. movements. (Page 50)

Word-meanings : warm (वॉ:म्) = (यहाँ) हार्दिक, स्नेहिल। enthusiastic (इन्थ्यूज़िऐस्टिक्) = उत्साहपूर्ण। mammoth (मैमॅथ्) = विशाल। in spite of = के बावजूद। stuck (स्टक्) = चिपके, जमे। moved (मूव्ड्) = प्रभावित किया। thrilled (थ्रिल्ड्) = पुलकित किया, गद्गद किया। least (लीस्ट) = कुछ भी नहीं, न्यूनतम। mission (मिशन) = लक्ष्य। auspiciously (ऑस्पिॉस्लि) = शुभ या मांगलिक रूप से। rapidly (रैपिड्ल) = तेज गति से। rendering (रेण्डरिंग्) = अर्पित करना, देना। regeneration (रिजेनॅरेशन्) = पुनरुद्धार, पुनरुज्जीवन। vigorously (विगॅरॅस्लि) = उत्साहपूर्वक, कर्मठता से। public life (पब्लिक लाईफ) = सार्वजनिक जीवन। clearly (क्लि:लि) = स्पष्ट रूप से। regenerated (रिजेनॅरेटिड्) = पुनर्जीवित हुई। leadership (लीडें:शिप्) = नेतृत्व। performed (प:फॉम्ड्) = सम्पन्न किए। deeds (डीड्ज़) = कार्य। civil disobedience (सिविल डिस्ऑबिडिअॅन्स्) = सविनय-अवज्ञा। secret (सीक्रिट) = रहस्य, गोपनीय। revolutionary (रेवलूशनॅरि) = क्रान्तिकारी। हिन्दी अनुवाद-बहनों! आज शाम को आपके द्वारा मुझे दिए गए स्नेहपूर्ण स्वागत के लिए मैं आपको हार्दिक धन्यवाद देता हूँ। मैं आपको उस विशाल सभा में उत्साहपूर्ण सहभागिता के लिए भी हार्दिक धन्यवाद देता हूँ जो टोकु पैट्सुशि बिल्डिंग के सामने आयोजित हुई थी। बरसात के बावजूद आप समापन तक अपनी सीटों पर जमी रहीं और इस बात ने मुझे और सभा में भाग लेने वाले मेरे मित्रों को प्रभावित किया। मैं यह भी जानता हूँ कि आपमें से कुछ तो अपने बच्चों को वहाँ ले गई थीं। आपकी बहादुरी और उत्साह ने हम सब को पुलकित कर दिया। मेरे मन में इस बारे में तनिक भी सन्देह नहीं है कि मांगलिक रूप से आरम्भ हुआ आपका मिशन (जीवन-लक्ष्य) तेज गति से बढ़ेगा। जो सेवा भारतीय महिलाएँ स्वतंत्रता संग्राम में पिछले बीस सालों से अर्पित कर रही हैं उनके बारे में आप भली-भाँति जानती हैं। भारत के पुनरुद्धार के समय से भारतीय महिलाएँ उत्साहपूर्वक सार्वजनिक जीवन में भाग ले रही हैं। यह परिवर्तन स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। वर्ष 1921 से, जब महात्मा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पुनर्जीवित हुई, हमारी बहनों ने न केवल कांग्रेस के आन्दोलनों व सविनय अवज्ञा संघर्षों में बल्कि गोपनीय क्रान्तिकारी आन्दोलनों में भी महान कार्य सम्पन्न किए।

It will not be ………………………….. undergo. (Page 50)

Word-meanings : exaggeration (इग्ज़ैडरेशन्) = अतिशयोक्ति, अतिरंजना। undergoing (अण्ड:गोइंग्) = भुगतने में, झेलने में। suffering (सॅफेरिंग) = पीड़ा, कष्ट। lagged behind (लेग्ड बिहाइण्ड) = पीछे रह गये, पिछड़ गए। addressing (अॅड्रेसिंग्) = सम्बोधन करते हुए। conducting (कॅन्डॅक्टिंग्) = संचालन करते हुए। campaigns (कैम्पेन्ज़) = अभियान, मुहिम। processions (प्रसेशन्ज़) = जुलूस। in spite of (इन इस्पाइट ऑव) = के बावजूद। bans (बैन्ज़) = रोक, प्रतिबन्ध। merciless (मॅ:सिलस्) = निर्दय, कठोर। in putting up with (इन पुटिंग अप विद) = सह लेने में, बर्दाश्त करने में। privations (प्राईवेरॉन्ज़) = अभाव, तंगी, कष्ट। prison (प्रिज़न्) = कैदखाना, बन्दीगृह। torture (टॉर्च) = यातना, उत्पीड़न। humiliations (यूमिलिएरॉन्ज़) = अपमान। heroic (हिरोइक्) = वीर, साहसी। demonstrated (डेमॅन्स्ट्रेटिड) = प्रदर्शित किया, दिखाया। fire-arms (फाइों-आम्ज़) = आग्नेयअस्त्र। express (इक्स्प्रेस्) = व्यक्त करना। prepared (प्रिपेअॅड्) = तैयार। for the sake of (फार द सेक आव) = की खातिर। cajole (कॅजोल) = फुसलाना। capabilities (केपॅबिलिटीज़) = क्षमता, सामर्थ्य। womanhood (वुमॅन्हुड्) = स्त्रीत्व। certainty (सॅ:टॅन्टि) = निश्चय, निश्चितता। task (टास्क्) = कार्य। undertake (अण्ड :टेक्) = (का) बीड़ा उठाना, जिम्मेदारी लेना। sacrifice (सेक्रिफाइस्) = बलिदान। undergo (अण्ड:गो) = झेलना।

हिन्दी अनुवाद-यह कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी यदि मैं यह कहूँ कि हमारे राष्ट्र हित के प्रयास की कोई भी सार्वजनिक गतिविधियाँ या क्षेत्र ऐसे नहीं हैं जिनमें महिलाएँ भाग नहीं ले रही हैं। हमारे राष्ट्रीय आन्दोलन के पिछले कई वर्षों के दौरान, महिलाएँ आनन्द और साहस के साथ कष्टों को झेलने में पुरुषों के बराबर रही हैं। गाँव-गाँव जाने में, भोजन-पानी के बिना रहने में, सभा दर सभाओं को सम्बोधित करने में, घर-घर स्वतंत्रता का संदेश ले जाने में, चुनाव अभियानों का संचालन करने में, सरकार के प्रतिबंधों के बावजूद तथा निर्दय ब्रिटिश पुलिस द्वारा लाठी चार्ज के सामने भी जुलूसों को निकालने में तथा कैदखाने के जीवन के कष्ट, यातना और अपमानों को बर्दाश्त करने में भारतीय महिलाएँ कभी पीछे नहीं रहीं। इन सबके अतिरिक्त यह भी कम महत्त्वपूर्ण नहीं है कि हमारी वीर बहनों ने गुप्त क्रांतिकारी गतिविधियों में भी सक्रिय भाग लिया। उन्होंने अनेक बार यह प्रदर्शित किया है कि वे भी, यदि जरूरत पड़े तो अपने भाईयों के समान आग्नेय अस्त्रों का प्रयोग कर सकती हैं। जब मैं अपना विश्वास व्यक्त करता हूँ कि आज आप मातृभूमि की खातिर लड़ाई करने के लिए एवं कष्ट सहने के लिए तैयार हैं, तो मेरा यह तात्पर्य नहीं है कि मैं आपको केवल खोखले शब्दों से फुसला रहा हूँ। मैं अपनी स्त्री जाति की सामर्थ्य को अच्छी तरह जानता हूँ। इसलिए मैं निश्चित तौर पर कह सकता हूँ कि ऐसा कोई कार्य नहीं है जिसका बीड़ा हमारी महिलाएँ नहीं उठा सकती हैं और कोई भी ऐसा बलिदान और कष्ट नहीं है जिसे हमारी महिलाएँ नहीं झेल सकती हैं।

The time for ………………………………. in a night.(Pages 50-51)
Word-meanings : launching (लॉन्चिंग्) = आरम्भ कर देना, प्रवर्तित करना। liberate (लिबरेट्) = मुक्त करना, स्वतंत्र करना। rarely (रेलि) = विरले ही। occur (अकॅ) = happen, घटित होना, आना। seize (सीज्) = झपट लेना, से (तुरंत) लाभ उठाना। imperialism (इम्पीरिअॅलिज़्म्) = साम्राज्यवाद। immortal (इमॉटल्) = अमर, अविनाशी। has arisen = उत्थान हुआ है। similarly (सिमिलॅलि) = समान रूप से, उसी प्रकार। exit (एग्ज़िट) = प्रस्थान, निकासी। destruction (डिस्ट्रक्शन) = विनाश। referring (रिफरिंग्) = जिक्र करते हुए, चर्चा करते हुए। united (यूनाइटिड्) = संगठित। came into being (केम इनट बीइंग) = अस्तित्व में आया।

हिन्दी अनुवाद-अपनी मातृभूमि को मुक्त कराने के लिए अंतिम अभियान आरंभ करने का समय अब आ चुका है। किसी राष्ट्र के जीवन में ऐसे अवसर बहुत विरले ही आते हैं। निश्चित रूप से हमारे जीवनकाल में ऐसा अवसर पुनः नहीं आएगा, अगले सौ वर्षों में भी नहीं। केवल ईश्वर की कृपा से ही हमें ऐसा अवसर प्राप्त हुआ है। यदि हम इस अवसर का तुरंत लाभ उठाएँगे और हम अपना सब कुछ बलिदान कर देंगे तो निश्चित रूप से अपने देश को मुक्त करा सकेंगे। मैं अपने मध्य कुछ ऐसे लोगों को जानता हूँ जो यह सोचते रहे हैं कि अंग्रेजी साम्राज्यवाद अमर है और इसका अन्त नहीं है। किन्तु मैं जानता हूँ कि इतिहास कुछ और ही चाहता है। इतिहास ने हमें सिखाया है कि प्रत्येक साम्राज्य का पतन उसी प्रकार से होगा जैसे उसका उत्थान हुआ है। इसी प्रकार विश्व से अंग्रेजी साम्राज्य के प्रस्थान का समय अब आ गया है। हमने विश्व के इस भाग में अपनी आँखों से ही अंग्रेजी साम्राज्य का विनाश देखा है। हम भारत एवं विश्व के अन्य भागों से भी इसका लोप (समापन) देखेंगे। कुछ वर्ष पहले मैंने एक अंग्रेज मेरेडिथ कॉनरेड की ब्रिटिश साम्राज्य पर लिखी एक पुस्तक पढ़ी। भारत की चर्चा करते हुए वे कहते हैं कि एक बार भारतीय संगठित हो जायें तो अंग्रेज उन पर शासन नहीं कर सकेंगे। उन्होंने आगे कहा है कि जो साम्राज्य एक दिन में अस्तित्व में आया था वह एक रात में खत्म हो जायेगा।

I have ……………………………………. ourselves. (Page 51)
Word-meanings : mentioned (मेन्शन्ड्) =उल्लेख किया। broadcast (ब्रॉडकास्ट) = प्रसारण। drive out (ड्राइव आउट) = खदेड़ना। stronghold (स्ट्राँग्होल्ड्) = किला, गढ़, केन्द्र। military action (मिलिटरि एक्शन) = सैन्य कार्यवाही, सैन्य युद्ध। salvation (सैल्वेशन्) = मुक्ति। sincerely (सिन्सिअॅलि) = वास्तविक रूप से, ईमानदारी से। gain (गेन) = अर्जित करना, प्राप्त करना। freedom (फ्रीडम्) = स्वतंत्रता। vanquished (वैन्क्विश्ट) = पराजित किया। liberation (लिबरेशन्) = मुक्ति, स्वतंत्रता। victory (विक्ट्रि) = विजय। Axis Powers (ऐक्सिस पाउअर्ज़) = धुरी राष्ट्रों की शक्तियाँ (दूसरे विश्व युद्ध में जर्मनी, इटली तथा जापान को धुरी राष्ट्र कहा गया)। facing (फेसिंग) = सामना कर रहे। common (कॉमॅन) = उभयनिष्ठ, समान। goal (गोल) = लक्ष्य। foe (फो) = शत्रु। sharing (शेरिंग) = बाँटते हुए।
sorrow (सॉरो) = दु:ख।

हिन्दी अनुवाद-मैं अपने प्रसारण में यह उल्लेख कर चुका हूँ कि जो सिंगापुर का किला उन्होंने बीस वर्ष की अवधि में निर्मित किया था, वहाँ से उन्हें खदेड़ने में मात्र सात दिन लगे। बेशक, मैं यह अपेक्षा नहीं करता हूँ कि अंग्रेजों को भारत से एक सप्ताह में खदेड़ा जा सकता है। किन्तु आप गणित के अनुसार यह हिसाब लगा सकते हैं कि यदि हम एक बार अपनी अंतिम सैन्य कार्यवाही प्रारम्भ कर दें तो अंग्रेजों को खदेड़ने में कितने सप्ताह लगेंगे। बहनो! मैं सोचता हूँ कि आपमें से प्रत्येक यह विश्वास करती है कि हमारी मुक्ति के लिए प्रयास करने का समय अब आ चुका है। मैं ईमानदारी से यह भी विश्वास करता हूँ कि आप सब इस युद्ध की समाप्ति आंग्ल-अमरीकी साम्राज्यवाद की पराजय में चाहती हैं क्योंकि भारत को केवल तभी आजादी मिल सकती है जब इसे (साम्राज्यवाद को) पराजित किया जाये। यही कारण है कि मैं अक्सर कहता रहा हूँ कि भारत की आजादी धुरी राष्ट्रों की विजय पर निर्भर है। आज भारत और धुरी राष्ट्र एक समान शत्रु का सामना कर रहे हैं। इसलिए हमारा लक्ष्य भी समान है। हमें अपने समान शत्रु के विरुद्ध लड़ना है, हमें कोई भी बलिदान करने के लिए तैयार रहना चाहिए और सुखः दुःख को अपने मध्य समान रूप से बाँटते हुए अपनी आजादी प्राप्त करनी चाहिए।

If we get …………………………………………… up arms. (Page 51)

Word-meanings : avail (अॅवेल्) = लाभ, हितकर वस्तु। able (एबॅल) = योग्य, समर्थ। preserve (प्रिजेंव्) = सुरक्षित रखना, बनाए रखना। firmly (फॅ:म्लि) = दृढ़तापूर्वक। adequate (ऐडिक्वेट) = पर्याप्त, समुचित। support (सॅपॉट) = समर्थन। mobilization (मोबिलाइज़ेशन्) = लामबन्दी, सैन्य संगठन। coming (कमिंग्) = आगामी। struggle (स्ट्रॅगल) = संघर्ष। various (वेरिअॅस्) = विविध। capacities (कॅपेसिटीज़) = क्षमताएँ, योग्यताएँ। skill (स्किल्) = कौशल। specific (स्पेसिफिक्) = विशेष। example (इग्जैम्पॅल्) = उदाहरण। take care of (टेक केअर ऑव) = देखभाल करना। wounded (वुण्डिड्) = घायल। shameful (शेम्फल्) = शर्मनाक। comfort (कॅमफॅट) = सान्त्वना देना, शुश्रूषा करना। recruitment (रिक्रूटमण्ट) = भर्ती। collection (कॅलेक्शन्) = उगाही, संग्रहण। funds (फण्ड्ज़ ) = निधि, कोष। supplies (सप्लाइज़) = खाद्य सामग्री, रसद। take up (टेक अप) = उठाना। arms (आम्ज़) = हथियार।

हिन्दी अनुवाद-यदि हमें त्याग और कष्ट के बिना ही स्वतंत्रता मिल जाएगी तो कोई लाभ नहीं होगा क्योंकि हम ऐसी आजादी को बनाए रखने में समर्थ नहीं हो पाएँगे जो हमें आसानी से मिल गई हो। इसलिए हम अपनी आजादी अपने कष्टों के द्वारा ही प्राप्त करेंगे। मैं यह दृढ़तापूर्वक विश्वास करता हूँ कि हम अपनी पूर्ण लामबन्दी के द्वारा अपनी मातृभूमि को पर्याप्त समर्थन दे सकते हैं। इसीलिए, बहनों! आगामी संघर्ष में आपको भी अपना हक अदा करना है, आप विविध क्षमताओं में सेवा कर सकती हैं। महिलाएँ कुछ विशिष्ट क्षेत्रों में विशेष कौशल रखती हैं। उदाहरणार्थ, आप अस्पतालों में सेवा कर सकती हैं। जब हमारे सैन्य अभियान प्रारम्भ हो जायेंगे, तो अपने घायल सैनिकों की देखभाल कौन करेगा? क्या यह शर्मनाक बात नहीं होगी यदि हमारी बहनें घायल सैनिकों की शुश्रूषा के लिए आगे नहीं आएँगी? बहनों यह आपके कर्त्तव्य का केवल एक ही हिस्सा है। आप सैनिकों की भर्ती और कोष व रसद के संग्रह में हमारी मदद कर सकती हैं। कभी-कभी आपको हथियार भी उठाने पड़ सकते हैं।

To those …………………………………… your names. (Page 52)

Word-meanings : brave deeds (ब्रेव डीड्ज़) = बहादुरीपूर्ण कारनामे। cartridges (काट्रिजिज़्) = कारतूस, गोली। fire (फ़ाइों) = दागना। spiritual (स्पिरिचुअल) = आध्यात्मिक, आत्मिक। force (फॉ:स्) = शक्ति, बल। generate (जेनॅरेट) = उत्पन्न करना। heroic (हीरोइक्) = साहसपूर्ण। border (बॉडें) = सीमा। march (माच्) = मार्च करना, कूच करना। voluntarily (वॉलॅण्टरिलि) = स्वेच्छा से, अपने आप। energetic (एनॅजेटिक्) = ऊर्जस्वी, कर्मठ। million (मिल्यँन्) = दस लाख। preparations (प्रिपरेशन्ज़) = तैयारियाँ। greatly (ग्रेट्लि) = अत्यधिक। crown (क्राउन्) = पूर्ण करना। task (टास्क्) = कार्य। distinction (डिस्टिंक्शन्) = भेदभाव, भिन्नता। hasten (हेसॅन्) = जल्दी करना। deliverance (डिलीवरॅन्स्) = मुक्ति। enthusiastic (एन्थ्यूज़िऍस्टिक्) = उत्साहपूर्ण। participation (पाटिसिपेशन्) = सहभागिता। the other day (द अदर डे) = हाल ही में। formation (फॉ:मेरॉन्) = गठन, निर्माण। liberation (लिबरेशन्) = मुक्ति, स्वतंत्रता। earlier (ॲ:लिों ) = प्रारम्भ में। regiment (रजिमॅण्ट) = रेजिमेण्ट, सैन्य-दल। immediately (इमीड्पॅट्लि) = तत्काल, तुरन्त।

हिन्दी अनुवाद-जो लोग यह कहते हैं कि हमारी महिलाओं का बन्दूकें ले जाना उचित नहीं रहेगा, उनसे मेरा मात्र यह निवेदन है कि वे इतिहास के पन्नों में देखें। 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में झांसी की रानी ने कैसे बहादुरीपूर्ण कार्य किए थे! इसी प्रकार, हमारे इस अन्तिम स्वतंत्रता संग्राम में झांसी की रानी जैसी अनेक वीर महिलाओं की आवश्यकता है। यह महत्त्वपूर्ण बात नहीं है कि आप कितनी बन्दूकें ले जा सकती हैं या आप कितने कारतूस दाग सकती हैं। आत्मिक बल जो आपके साहसपूर्ण उदाहरणों से उत्पन्न होगा वह महत्त्वपूर्ण है। भारतीय-जन साधारण एवं ब्रिटिश भारतीय सेना के सदस्य दोनों ही – जो भारत के सीमा क्षेत्रों पर स्थित हैं, आपको अपने कन्धों पर बन्दूकें लेकर कूच करते हुए देखकर, आपसे बन्दूकें लेने के लिए और आपके द्वारा शुरू किए गए संघर्ष को जारी रखने के लिए स्वेच्छा से ही आगे आयेंगे। मुझे इस बात में तनिक भी सन्देह नहीं है। इसलिए, मैं निश्चित तौर पर यह कह सकता हूँ कि अब समय आ गया है कि प्रत्येक भारतीय स्त्री-पुरुष, लड़का-लड़की आगे बढ़े और भारत को मुक्त कराने के लिए महान् बलिदान करें। बहनो, आपकी ऊर्जस्वी गतिविधियाँ मलाया, पूर्व एशिया और स्योनान में रहने वाले देशवासियों को ही नहीं, बल्कि हमारे देश में रहने वाले लोगों को भी प्रेरित करेंगी। मैं निस्सन्देह कहता हूँ कि 38.8 करोड़ भारतीय लड़ाई के लिए आपके प्रयासों और आपकी तैयारियों के बारे में सुनकर अत्यधिक प्रेरित होंगे। मैं यह चाहता हूँ कि आपके प्रयास सफलता से पूर्ण हों। आपका काम भी हमारे काम जैसा ही है। इस साझे काम में, इस संघर्ष में, इस कष्ट और बलिदान में हम सब – स्त्री या पुरुष, लड़का या लड़की, गरीब या अमीर, युवा या वृद्ध का भेद किए बिना, कन्धे से कन्धा मिलाकर खड़े हों, अंतिम संघर्ष शुरू करें और भारत की मुक्ति के दिन शीघ्रता से लायें। मैं एक बार पुनः आपको आज आपके द्वारा दिए गए स्वागत के लिए और हाल ही में आयोजित सार्वजनिक सभा में उत्साहपूर्ण सहभागिता के लिए धन्यवाद देता हूँ। मैं आज आपके द्वारा भेंट की गई धनराशि के लिए भी आपको धन्यवाद देता हूँ। मेरी कामना है कि हमारी मातृभूमि की आजादी के लिए की जा रही हमारी सभी गतिविधियों का समापन विजय के रूप में हो। जैसा कि मैंने आपको पहले बताया था, अन्तिम संघर्ष के लिए अपने आपको तैयार करने का समय आ चुका है। मैं आजाद हिन्द फौज के गठन की घोषणा पहले ही विश्व के सामने कर चुका हूँ। यह फौज भी आजादी के युद्ध के लिए अपने आप को तैयार कर रही है। मैं आशा करता हूँ कि वह समय भी मेरे लिए आएगा कि मैं संसार को बता दूं कि झांसी रानी रेजिमेण्ट भी संघर्ष की तैयारी कर रही है। इस कार्य को तुरन्त प्रारम्भ किया जाना चाहिये है। इसलिए मैं उन सबसे, जो झांसी रानी रेजिमेण्ट में शामिल होना चाहती हैं, निवेदन करता हूँ कि वे आगे आयें और अपने नाम दें।

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *