RBSE Solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma

Make your learning experience enjoyable by preparing from the quick links available on this page. Use the Rajasthan Board RBSE Class 9 English Solutions for Chapter 10 Karma Questions and Answers get to know different concepts involved. All the Answers are covered as per the latest syllabus guidelines. Knowing the Answers to the Questions from Class 9 English Textbooks helps students to attempt the exam with confidence.

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma Textual questions

Comprehension

(A) Tíck the correct alternative :

Question 1.
Khushwant Singh was not a
(a) journalist
(b) novelist
(c) short-story writer
(d) politician
Answer:
(d) politician

Question 2.
Balliol is alan
(a) Oxford college
(b) Christ college
(c) Rodgee’s college
(d) a famous university in London
Answer:
(a) Oxford college

Question 3.
He is a vizier… Who is a vizier?
(a) Sir Mohan Lal
(b) Bill
(c) Jim
(d) Lachmi
Answer:
(a) Sir Mohan Lal

(B) Answer the following questions in about 10-15 words each-

Question 1.
Where was Sir Mohan Lal’s luggage lay piled up?
श्रीमान् मोहन लाल के सामान का ढेर कहाँ पड़ा था ?
Answer:
Sir Mohan Lal’s luggage lay piled along the wall outside the waiting room.
श्रीमान् मोहन लाल के सामान का ढेर प्रतीक्षालय के बाहर दीवार के किनारे पड़ा था।

Question 2.
‘Are you travelling alone, sister? Who speaks these words and to whom?
‘क्या आप अकेली यात्रा कर रही हैं, बहिन?’ ये शब्द कौन कहता है और किससे?
Answer:
Coolie speaks these words to Lady Mohan Lal.
ये शब्द लेडी मोहन लाल से कुली बोलता हैं।

Question 3.
“She was fond of a little gossip and had no one to talk at home’. Whom does this. line refer to?
‘वह थोड़ी गपशप की शौकीन थीं और घर पर बात करने वाला कोई था नहीं।’ यह पंक्ति किसको इंगित करती है?
Answer:
This line refers to Lady Mohan Lal.
यह पंक्ति लेडी मोहन लाल को इंगित करती है।

Question 4.
Who flings Mohan Lal out of the train?
मोहन लाल र्को ट्रेन से बाहर कौन फेंकता है?
Answer:
Two English soldiers fling Mohan Lal out of the train.
दो अंग्रेज सैनिक मोहन लाल को ट्रेन से बाहर फेंकते हैं।

(C) Answer the following questions in about 20-30 words each

Question 1.
Comment on Sir Mohan Lal’s manner of speech?
श्रीमान् मोहन लाल के बोलने के तरीके पर टिप्पणी करिए।
Answer:
Sir Mohan Lal rarely spoke Hindustani. When he did, it was like an Englishman’sonly the very necessary words and properly anglicized so his accent sounded like an Englishman’s.

श्रीमान् मोहन लाल हिन्दुस्तानी कभी-कभार ही बोलते थे। जब बोलते भी थे तो एक अंग्रेज की तरह-सिर्फ बेहद आवश्यक शब्द और अच्छी तरह से आंग्लीयता (अंग्रेजियत) लिए हुए, इसलिए उनका बोलने का तरीका (उच्चारण) एक अंग्रेज के तरीके जैसा लगता था।

Question 2.
What is Mohan Lal’s attitude towards Indian culture?
भारतीय संस्कृति के प्रति मोहन लाल का क्या दृष्टिकोण है?
Answer:
Mohan Lal is an anglophile man. He has a sense of inferiority towards Indian culture. He takes pride in following and displaying western manners. His accent is also anglicized.
मोहन लाल एक आंग्लप्रेमी आदमी है। भारतीय संस्कृति के प्रति उनमें एक प्रकार की हीनभावना है। उन्हें पश्चिमी तौर तरीकों को अपनाना और उनका दिखावा करने में गर्व महसूस होता है। उनका बोलने का ढंग (उच्चारण) भी आंग्लीयता लिए हुए है।

Question 3.
Write a note on Sir Mohan Lal’s dress.
श्रीमान् मोहन लाल के वस्त्रों (ड्रेस) पर एक संक्षिप्त टिप्पणी (नोट) लिखिए।
Answer:
Sir Mohan Lal loves to be dressed like an Englishman. He wears the suit from Saville Row with the carnation in the buttonhole, and wears Balliol tie.
श्रीमान् मोहन लाल को एक अंग्रेज की तरह कपड़े पहनना पसंद है। वह बटन के छेद में लगे गुलनार के फूल के साथ सेविले रो का सूट पहनते हैं और बेलिअल टाई पहनते हैं।

Question 4.
What was Lachmi’s attitude towards the coolie?
लछमी का कुली के प्रति व्यवहार (आचरण) कैसा था?
Answer:
Lachmi’s attitude towards the coolie was like that of a talkative lady. She asked him about the Zanana stop, crowd on those lines, and talked about her husband and herself in detail.
कुली के प्रति लछमी का व्यवहार (आचरण) एक बातूनी महिला जैसा था। उन्होंने उससे महिला डिब्बे के रुकने के विषय में, उन लाइनों पर भीड़ के विषय में पूछा, और अपने पति व स्वयं के विषय में विस्तार से बातें की।

Question 5.
Why did Lachmi travel in the Zenana and not with her husband in the first class?
लक्ष्मी जनाना डिब्बे में यात्रा क्यों करती थी, अपने पति के साथ प्रथम श्रेणी में क्यों नहीं?
Answer:
Lachmi did so because her husband Sir Mohan was fond of talking to officers and Englishmen in trains. And Lachmi was a native woman.
लक्ष्मी ऐसा इसलिए करती थीं क्योंकि उनके पति श्रीमान् मोहन ट्रेन में अधिकारियों व अंग्रेजों से बातचीत करने के शौकीन थे। और लक्ष्मी एक देशी (बेहद साधारण) महिला र्थी।

(D) Answer the following questions in about 60-80 words each-

Question 1.
Bring out the significance of the title *Karma’.
शीर्षक ‘कर्म’ का महत्व बताइए।
Answer:
‘Karma’ is a religious term. It means the sum of a person’s good or bad deeds or works which decide his destiny. The title ‘Karma’ refers to Sir Mohan Lal’s sin of pride and the punishment he receives for it. He feels ashamed to be an Indian and takes pride in presenting himself like an English man. His *Karma’ is punished when two English soldiers throw him out of a first class compartment, while his wife Lachmi has a safe and comfortable journey in ladies compartment in inter class.

‘कर्म’ एक धार्मिक शब्द है। इसका अर्थ है। किसी व्यक्ति के अच्छे या बुरे कार्यों का कुल योग जो उस व्यक्ति के भाग्य को निर्धारित करता है। शीर्षक ‘कर्म’ श्रीमान् मोहन लाल के घमण्ड के पाप और इसके लिए उन्हें मिले दण्ड को इंगित करता है। उन्हें भारतीय होने पर शर्मिंदगी होती है और स्वयं को एक अंग्रेज की तरह प्रस्तुत करने पर घमण्ड है। उनका कर्म तब दंडित होता है जब दो अंग्रेज सैनिक उन्हें प्रथम श्रेणी के कम्पार्टमेन्ट से बाहर फेंक देते हैं, जबकि उनकी पत्नी लछमी सामान्य श्रेणी के महिला कम्पार्टमेन्ट में सुरक्षित व आरामदायक यात्रा करती है।

Question 2.
Who is an anglophile in the story? Describe the characteristics that make him an anglophile.
कहानी में आंग्लप्रेमी कौन है? उन विशेषताओं का वर्णन करिए जो उसे आंग्लप्रेमी बनाती
Answer:
Sir Mohan Lal is an anglophile in the story. The characteristics that make him an anglophile are his way of dressing and love for his suit from Saville Row and Balliol tie. He travels in first class to meet officers and Englishmen in trains. He has anglicized way of talking and manners. He feels a sense of superiority about ‘The Times’, Scotch and English cigarettes. He is always eager to talk about English society. Like an Englishman, he can talk on any subject.

कहानी में श्रीमान् मोहन लाल आंग्लप्रेमी हैं। वे विशेषताएँ जो उन्हें आंग्लप्रेमी बनाती हैं वे हैं-उनके कपड़े पहनने का तरीका और सेविले रो के अपने सूट और बेलिअल टाई के लिए उनका प्रेम। वह ट्रेन में अधिकारियों व अंग्रेजों से मिलने के लिए प्रथम श्रेणी में यात्रा करते हैं। उनके बात करने के तरीके आंग्लीयता लिए हुए और तौर तरीके भी अंग्रेजों वाले हैं। दि टाइम्स, स्कॉच, अंग्रेजी सिगरेट के विषय में वह श्रेष्ठता की भावना अनुभव करते हैं। वह अंग्रेजी समाज के विषय में बात करने को आतुर रहते हैं। एक अंग्रेज की तरह वह किसी भी विषय पर बात कर सकते हैं।

(E) Say whether the following statements are true or false. Write ‘T’ for True and ‘F” for False

  1. Sir Mohan Lal in Khushwant Singh’s story ‘Karma’ is an anglophile. [ ]
  2. Sir Mohan Lal and his wife Lachmi (in Khushwant Singh’s Karma) lived in the upper storey of the house. [ ]
  3. The story ‘Karma’ is about postindependence India. [ ]
  4. Sir Mohan had decided to welcome Jim and Bill. [ ]

Answer:

  1. T
  2. F
  3. F
  4. T

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma Additional Questions

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma Short Answer Type Questions

Answer each of the following questions in about 20-30 words:

Question 1.
When were Sir Mohan’s thoughts disturbed?
श्रीमान् मोहन के विचार कब बाधित हुए?
Answer:
Sir Mohan’s thoughts were disturbed when the bearer announced that he had installed his luggage in a first class coupe (compartment) next to the engine.
श्रीमान् मोहन के विचार तब बाधित हुए जब नौकर ने उद्घोषणा की कि उसने उनका सामान इंजन के पास वाले प्रथम श्रेणी के कम्पार्टमेन्ट में रख दिया है।

Question 2.
How was Sir Mohan’s behaviour with the English a bit different from that of other Indians?
श्रीमान् मोहन का व्यवहार अंग्रेजों के साथ अन्य भारतीयों से थोड़ा भिन्न कैसे होता था?
Answer:
Sir Mohan never showed any sign of eagerness to talk to the English as most Indians did. Nor he was loud, aggressive and opinionated like them.
श्रीमान् मोहन अंग्रेजों से बात करने की उत्सुकता का कभी कोई संकेत नहीं देते थे जैसा कि अधिकांश भारतीय करते थे। न ही वह तेज बोलने वाले, आक्रामक और उनकी तरह अपने विचारों या राय के हठी होते थे।

Question 3.
Why did Sir Mohan decide to welcome the English soldiers?
श्रीमान् मोहन ने अंग्रेज सैनिकों का स्वागत (कम्पार्टमेन्ट में बैठने हेतु) करने का निश्चय क्यों किया?
Answer:
Sir Mohan decided to welcome the English soldiers because the compartment was empty. He was dismayed by the thought of travelling alone.
श्रीमान् मोहन ने उन अंग्रेज सैनिकों का स्वागत करने का निश्चय किया क्योंकि (वह) कम्पार्टमेन्ट खाली था। वह अकेले यात्रा करने के विचार से निराश थे।

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 10 Karma Long Answer Type Questions

Answer each of the following questions in about 60-80 words

Question 1.
Give a character sketch of Lady Mohan Lal.
लेडी मोहन लाल को चरित्र-चित्रण लिखिए।
Answer:
Lady Mohan Lal (Lachmi) was the wife of Sir Mohan Lal. She was an ordinary middle class Indian woman. She was an illiterate lady who always spoke her native language. She wore a dirty saree and sat on her suitcase. She chewed betel-leaf and she talked to the coolie merrily. She usually travelled in Zanana compartment of interclass when travelled by trains.

लेडी मोहन लाल (लक्ष्मी) श्रीमान् मोहन की पत्नी र्थी। वह एक मध्यमवर्गीय भारतीय साधारण महिला थीं। वह एक अशिक्षित महिला थीं जो कि हमेशा अपनी देशी भाषा में (बोली में) बोलती थीं। वह एक गंदी साड़ी पहने थीं और अपने सूटकेस पर बैठी थीं और उन्होंने कुली से मजे से बातें कीं। वह जब ट्रेन से यात्रा करती थीं तो अधिकांशतः इन्टरक्लास के महिला कम्पार्टमेन्ट में यात्रा करती थीं।

Question 2.
Give a character sketch of Sir Mohan Lal.
श्रीमान् मोहन लाल का चरित्र-चित्रण कीजिए।
Answer:
Sir Mohan Lal is an arrogant middle aged man. He works in the British Raj so he is ashamed to be an Indian. He feels bad about its culture, lifestyle etc. Hence he speaks in English or in Anglicized Hindustani. He loves to be dressed like a high ranked British official. He does not like his wife Lachmi because she is illiterate and an ordinary woman.

श्रीमान् मोहन लाल एक गर्वीले मध्य आयु के व्यक्ति हैं। वह अंग्रेजी राज में कार्य करते हैं इसलिए उन्हें भारतीय होने में शर्म महसूस होती है। वह इसकी (भारत की) संस्कृति व जीवन शैली आदि को खराब (निम्न स्तरीय) समझते हैं। अतः वह अंग्रेजी में बात करते हैं या आंग्लीयता लिए हुए हिन्दुस्तानी में। उन्हें एक उच्च ब्रिटिश अधिकारी की तरह कपड़े पहनना पसंद है। वह अपनी पत्नी लछमी को पसंद नहीं करते हैं क्योंकि वह एक अशिक्षित और साधारण महिला है।

Word-meanings and Hindi Translation

Sir. …………………………. coolie. (Page 58)

Word-meanings-translucent (ट्रान्स्लु सेन्ट) = अर्द्धपारदर्शक। efficient (एफ़िशन्ट) = दक्ष, कार्यकुशल। Saville Row (सेविले रो) = लंदन में एक फैशनेबल विक्रय केंद्र। carnation (का:नेशन) = गुलाबी रंग का एक फूल (गुलनार)| aroma (अरोमा) = सुगंध, खुशबू। eau de cologne (यू डी कोलोन) = नहाने के लिए इत्रयुक्त पानी। threw out his chest = अपना सीना चौड़ा किया अर्थात् गर्व से सिर ऊँचा किया। Balliol (बेलिअल) = = जॉन बेलिअल द्वारा 1263 में स्थापित एक ऑक्सफोर्ड कॉलेज। umpteenth (अम्प्टीन्थ्) = many, बहुत। glistened (ग्लिसन्ड्) = चमकता था।

हिन्दी अनुवाद-श्रीमान् मोहन लाल ने रेलवे स्टेशन के एक प्रथम श्रेणी के प्रतीक्षा कक्ष में लगे शीशे में स्वयं को देखा। शीशा स्पष्टतः भारत में बना हुआ था। इसके पीछे लगा हुआ रैड ऑक्साइड कई स्थानों पर उखड़ गया था और अर्द्धपारदर्शक काँच की लम्बी रेखाएँ/दरारें इसकी सतह पर पड़ी थीं। श्रीमान् मोहन लाल शीशे पर दया और संरक्षण के भाव लिए मुस्कुराए। शीशा भी पलट कर श्रीमान् मोहन पर मुस्कुरा दिया। “ठीक-ठाक लग रहे हो, वृद्ध साथी’, उसने (शीशे ने) कहा। ‘विशिष्ट, दक्ष-यहाँ तक कि आकर्षक भी। वो साफ-सुथरे तरीके से बनाई (काटी) गयी मूंछे-बटन के छेद में गुलनार का फूल लगा हुआ, सेविले रो से खरीदा गया सूट-कोलोन की सुगंध, टेल्कम पाउडर, और सुगंधित साबुन सब तुम्हारे विषय में! हाँ, वृद्ध साथी, तुम जरा ठीक-ठाक लग रहे हो।’ श्रीमान् मोहन ने अपना सीना चौड़ा किया (सिर गर्व से ऊँचा किया), अपनी बेलिअल तरीके की टाई को अनेकानेक बार ठीक किया और शीशे को अलविदा (गुडबाय) कहा। प्रतीक्षालय के बाहर दीवार के किनारे श्रीमान् मोहन लाल के सामान का ढेर पड़ा था। एक छोटे स्लेटी रंग के स्टील के बक्से पर लछमी, लेडी मोहन लाल (मोहन लाल की पत्नी) पान चबाते हुए व एक अखबार से हवा करती हुई बैठी थीं। वह छोटे कद की व मोटी और लगभग 45 वर्ष की थी। वह लाल बॉर्डर (किनारी) वाली सफेद साड़ी पहने थीं। उनकी नाक की एक ओर हीरे की नथुली चमक रही थी और उनकी बांहों पर कई सारी सोने की चूड़ियाँ थीं। वह तब तक अपने नौकर से बात कर रही थीं जब तक कि श्रीमान् मोहन ने उसे अंदर नहीं बुला लिया। जैसे ही वह गया, उन्होंने वहाँ से गुजरते हुए रेलवे के कुली को बुलाया।

Where.. …………….never came. (Pages 58-59)

Word-meanings- zanana (जनाना) = महिलाओं का डिब्बा। hoisted (हॉइस्टिड) = उठा लिया। ambled along (एम्बल्ड् अलाँग) = धीरे-धीरे चलने लगीं। replenish (रिप्लेनिश) = फिर से भरना। gravel (ग्रेवल) = कंकड़ियाँ। vizier (विजिअर) = वजीर। native (नेटिव) = देशी, साधारण। ways (वेज) = तौर-तरीके। keep (यहाँ) = सफर करती हूँ। fond of (फौण्ड आव) = शौकीन। to spare for her = उसके लिए खाली समय। hanging about (हैंगिग अबाउट) = आस-पास घूमना।।

हिन्दी अनुवाद-‘महिलाओं का डिब्बा कहाँ रुकता है?’ ‘प्लेटफार्म के एकदम अंत में।’ कुली ने गद्दी बनाने के लिए अपनी पगड़ी को चपटा कर लिया, स्टील के बक्से को अपने सिर पर उठा लिया, और प्लेटफार्म के एक छोर की ओर चल दिया। लेडी लाल ने अपना पीतल का टिफिन होल्डाल (कैरिअर) उठा लिया और धीरे-धीरे उसके पीछे चलने लगी। रास्ते में वह एक फेरी वाले की दुकान पर अपने सिल्वर के पानदान को पुनः भरने के लिए रुक गयीं, और फिर कली के साथ चल पड़ीं। वह अपने स्टील के बक्से पर बैठ गयीं (जिसे कि कुली ने रख दिया था) और उससे बातें करने लगीं। ‘क्या इन लाइनों पर रेलगाड़ियों में बहुत ज्यादा भीड़ रहती है?’ ‘इन दिनों सभी रेलगाड़ियों में भीड़ है, लेकिन आपको जनाना (महिला डिब्बा) में स्थान मिल जाएगा।’ ‘फिर तो मुझे खाने की चिन्ता से भी मुक्त हो ही जाना चाहिए।’ लेडी लाल ने अपना पीतल का होल्डाल-खोला और लूंस कर रखी हुई चपातियों का एक बण्डल और कुछ आम का अचार निकाला। जब उन्होंने खाना खाया, कुली उनकी विपरीत दिशा में (सामने) बैठ गया अपनी उंगली से कंकड़ियों में रेखाएँ बनाता हुआ। ‘बहिन, क्या आप अकेली यात्रा कर रही हैं?’ ‘नहीं भाई, मैं अपने मास्टर, पति के साथ हूँ। वह प्रतीक्षालय में हैं। वह प्रथम श्रेणी में यात्रा करते हैं। वह एक वज़ीर और वकील हैं, और रेलगाड़ियों में बहुत सारे अधिकारियों व अंग्रेजों से मिलते हैं और मैं केवल एक देशी (साधारण) महिला हूँ। मैं अंग्रेजी (भाषा) नहीं समझ सकती और उनके तौर-तरीके नहीं जानती इसलिए मैं सामान्य श्रेणी के अपने जनाना (महिला) डिब्बे में ही सफर करती हैं।’ लछमी ने मजे से बातें की। वह जरा गपशप करने की शौकीन थीं और घर पर बात करने वाला कोई था नहीं। उनके पति के पास उनके लिए कभी खाली समय नहीं रहता था। वह मकान की ऊपर की मंजिल पर रहती थीं और वह भूतल पर। वह उनके (पत्नी के) गरीब अशिक्षित रिश्तेदारों का अपने बंगले के आस-पास घूमना (भी) पसंद नहीं करते थे, इसलिए वे कभी आते नहीं थे।

The signal………….Englishman. (Page 59)

Word-meanings-clanging (क्लेंगिंग) = झन्कार। emitted (एमिटिड्) = फेंका, निकाला। belch (बेल्च) = डकार। rinse (रिन्स) = पानी से धोना। bulged (बल्ज्ड) = फूल गए। sang-froid (सैन्गनाइड) = प्रतिकूल परिस्थितियों में शांत मन:स्थिति। bustle (बस्ल) = उतावलापन। breading (ब्रीडिंग) = शिष्टता, आचरण। anglicized (एंग्लिसाइज़्ड) = अंग्रेजियत प्रदान किए हुए।

हिन्दी अनुवाद-सिग्नल हो गया और घण्टी की झन्कार ने आती हुई ट्रेन की उद्घोषणा की। लेडी लाल ने जल्दी से अपना खाना खत्म किया। वह अब भी आम के अचार की गुठली को चूसते हुए उठीं। जैसे ही वह सार्वजनिक नल पर अपने मुँह और हाथों को धोने गयीं उन्होंने एक लम्बी और जोर से डकार ली। धोने के बाद उन्होंने अपना मुँह और हाथ अपनी साड़ी के पल्लू से पोंछ लिये और डकार लेती हुई और भरपेट खाना खा लेने के लिए देवताओं को धन्यवाद देती हुई वापिस अपने स्टील के बक्से पर पहुँच गयीं। . ट्रेन तेजी से आई। लक्ष्मी ने गाड़ी के एकदम अंत में गार्ड की वैन के पास वाले सामान्य श्रेणी के लगभग खाली जनाने डिब्बे के सामने स्वयं को पाया। बाकी सारी गाड़ी खचाखच भरी हुई थी। उन्होंने अपना छोटा, चौड़ा व भारी ढाँचा (शरीर) खींचकर दरवाजे से अंदर किया और खिड़की के सहारे एक सीट ले ली। उन्होंने अपनी साड़ी की गाँठ खोलकर उसमें से दो आने का सिक्का दिया और कुली को विदा कर दिया। उन्होंने फिर अपना पानदान खोला और एक लाल व सफेद घोल लगाकर, कटी हई सपारी और इलायची डालकर अपने लिए दो पान बनाए। उन्होंने तब तक उनको अपने मुँह में ठूसा जब तक कि उनके दोनों गाल फूल नहीं गए। फिर उन्होंने अपनी ठुड्डी अपने हाथों पर टिका ली और प्लेटफार्म पर धक्का-मुक्की करती हुई भीड़ को आलस्यपूर्वक देखती हई बैठ गयीं। ट्रेन के आगमन ने श्रीमान् मोहन लाल की शांत मनःस्थिति में विघ्न नहीं डाला। उन्होंने अपनी स्कॉच की चुस्की जारी रखी और नौकर को आदेश दिया जब वह प्रथम श्रेणी के डिब्बे में सामान रख दे तो उन्हें बता दे। उत्तेजना, उतावलापन और जल्दबाजी बुरे (असभ्य) शिष्टाचार का प्रदर्शन (प्रतीक) करते थे, और श्रीमान् मोहन विशिष्ट रूप से अच्छे संस्कारों वाले थे। अपने विदेश में रहने के पाँच वर्ष के दौरान श्रीमान् मोहन ने उच्च वर्ग के शिष्टाचार व तौर-तरीकों (ढंग) को सीख लिया था। वह हिन्दुस्तानी कभी-कभार (बहुत कम) ही बोलते थे। जब कभी बोलते (भी) थे तो एक अंग्रेज की तरह-सिर्फ बहुत आवश्यक शब्द और उचित प्रकार से अंग्रेजियत लिए (अंग्रेजी अंदाज में)। लेकिन वह अपनी अंग्रेजी को इतना पूर्ण व परिष्कृत समझते थे कि उन्होंने उसे ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय से सीखा हो। वह वार्तालाप करने के शौकीन थे, और एक शिष्ट अंग्रेज की तरह वह लगभग किसी भी विषय पर बात कर सकते थे-पुस्तकों, राजनीति, लोगों (के विषय में)। कितनी बार उन्होंने अंग्रेज लोगों को कहते हुए सुना था कि वह एक अंग्रेज की तरह बोलते हैं!

Sir Mohan…………. ..life. (Pages 59-60)

Word-meanings-the Times (द टाइम्स) = लंदन से प्रकाशित एक प्रमुख ब्रिटिश समाचार-पत्र (अखबार)। vista (विस्टा) = सुखद दृश्य सम्भावना। dons (डॉन्ज़) = प्रवक्ता। rugger (रगॅ) = रग्बी यूनियन। inns of court (इन्ज़ ऑव को:ट) = लंदन में कानून (law) की वे संस्थाएँ सिर्फ जिनके पास लोगों को बार में शामिल करने का अधिकार होता है। हिन्दी अनुवाद-श्रीमान् मोहन को आश्चर्य हुआ कि क्या वह अकेले ही यात्रा करेंगे। यह एक छावनी थी और ट्रेन में कुछ अंग्रेज अधिकारी होंगे। प्रभावशाली वार्तालाप की सम्भावना से उनका हृदय उत्साहित हो गया। वह किसी अंग्रेज से बात करने की अपनी उत्सुकता को कभी भी जाहिर नहीं करते थे जैसा कि अधिकांश भारतीय करते थे। न ही वह उनकी तरह ऊँचे स्वर में बात करते, आक्रामक होते और अपनी राय या विचारों के प्रति हठी होते थे। तथ्य की बात तो यह थी कि वह भावहीन होकर अपने काम में लगे रहते। वह खिड़की के सहारे अपने कोने में चले जाते और द टाइम्स (The Times) अखबार की एक प्रति निकाल लेते थे। वह उसे इस प्रकार मोड़ते थे कि उस मांदे साथ-साथ चलते हुए देखा। उनकी पीठों पर उनके टाट/किरमिच के थैले (बैग) लटके हुए थे और वे इधर उधर हिलते-डुलते हुए चल रहे थे। श्रीमान् मोहन ने उनका स्वागत करने का निर्णय किया यद्यपि वे सिर्फ द्वितीय श्रेणी में ही यात्रा करने के पात्र थे। वह गार्ड से बात करेंगे। उनमें से एक सैनिक अंतिम कम्पार्टमेन्ट तक आया और उसने अपना चेहरा खिड़की पर सटा लिया। उसने उस कम्पार्टमेन्ट का निरीक्षण किया (स्थिति का जायजा लिया) और खाली सीट को देखा। “यहाँ, बिल’, वह चीखा, ‘एक’ यहाँ।’ उसका साथी आ गया, उसने भी देखा, और श्रीमान् मोहन को देखा। ‘इस हब्शी को बाहर कर दो’, वह अपने साथी से बुदबुदाया। उन्होंने दरवाजा खोला, और आधे मुस्कुराते हुए और आधे विरोध करते हुए श्रीमान् मोहन की ओर मुड़े। ‘आरक्षित!’ बिल चिल्लाया ‘जानता-आरक्षित। आर्मी-फौज’, जिम अचानक चिल्लाया; अपनी खाकी शर्ट की ओर इशारा करते हुए। ‘एक दम जाओ-बाहर निकलो!’ ‘मैं कहता हूँ, मैं कहता हूँ, अवश्य ही’, श्रीमान् मोहन ने अपने ऑक्सफोर्ड लहजे में विरोध किया। वे सैनिक रुक गए। यह (उच्चारण या बोलने का लहजा) लगभग अंग्रेज वाला लग रहा था, लेकिन वे नशे में चूर अपने कानों पर विश्वास करने के बजाय बेहतर जानते थे। इंजन ने सीटी बजा दी और गार्ड ने अपनी हरी झंडी दिखादी।

They ……………………… dart. (Page 61)

Word-meanings-preposterous (प्रिपॉस्टेरस) – बिल्कुल अतार्किक, अत्याचारी। king’s standard English = स्तरीय अंग्रेजी भाषा। ruddy (रडि) = दुष्ट। flung out (फ्लंग आउट) = बाहर फेंक दिया। stared (स्टेअर्ड) = घूरा। tempo (टैम्पो) = गति। glistened (ग्लिसन्ड्) = चमकी। bloated (ब्लोटिड) = फूले हुए। dribble (ड्रिबल) = धार। dart (डा:ट) = बी, भाला।

हिन्दी अनुवाद-उन्होंने श्रीमान् मोहन का सूटकेस उठाया और उसे प्लेटफॉर्म पर फेंक दिया। उसके बाद उनका थर्मस, सूटकेस, बिस्तर और द टाइम्स फेंक दिए। श्रीमान् मोहन क्रोध से नीले हो रहे थे। ‘अत्याचारी, अत्याचारी’, वह रूंधे हुए गले से क्रोध में चिल्लाए। ‘मैं तुम्हें गिरफ्तार करवा दूंगा-गार्ड, गार्ड!’ बिल और जिम फिर से रुक गये। वह अंग्रेज जैसा ही लग रहा था, लेकिन यह उनके लिये बहुत ज्यादा था (बहुत हो चुका था)। ‘अपना दुष्ट मुँह बंद रखो!’ और जिम ने श्रीमान् मोहन के चेहरे पर एक जड़ दिया (मार दिया)। इंजन ने एक और छोटी सीटी दी और ट्रेन चलने लगी। उन सैनिकों ने श्रीमान् मोहन की बाहें पकड़ीं और उन्हें ट्रेन से बाहर फेंक दिया। वह पीछे की ओर लुढ़के, अपने बिस्तर से टकराये और सूटकेस पर आ पड़े। ‘अलविदा!’ श्रीमान् मोहन के पैर जमीन से चिपक गए और उनका बोल बंद हो गया। उन्होंने अपने पास से तेज होती रफ्तार से जाती ट्रेन की बिजली जली हुई खिड़कियों को घूरा। ट्रेन का अंतिम हिस्सा एक लाल बत्ती जलते हुए और गार्ड अपने हाथों में झंडी लिए खुले दरवाजे में खड़े हुए दिखाई दिया। सामान्य श्रेणी के जनाने कम्पार्टमेन्ट (महिला कम्पार्टमेन्ट) में लछमी थीं, गोरी व मोटी जिनकी नाक पर हीरे की नथुली स्टेशन की रोशनी में चमक उठी। उनका मुँह पान की पीक से फूला हुआ था जिसे वह ट्रेन के स्टेशन को छोड़ देने पर थूकने के लिए इकट्ठा किए हुए थीं। जैसे ही ट्रेन ने प्लेटफॉर्म के रोशनी वाले स्थान को क्रॉस किया, लेडी लाल ने पीक थूक दिया और भाले की तरह इस ओर से उस ओर उछालते हुए लाल रंग की धार (पान की पीक) का फुहारा (सा) चला दिया।

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.