RBSE Solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child notes will help you.

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child Textual questions

Comprehension

(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
The father looked at the child red-eyed in his familiar tyrant’s way because
(a) the child wanted everything at the fair.
(b) the child was lost.
(c) his wife asked him to buy sweets for the child.
(d) it was raining.
Answer:
(a) the child wanted everything at the fair.

Question 2.
The child was panic-stricken because-
(a) he had lost his father and mother.
(b) he had been scolded by his father.
(c) a kind-hearted person had given everything he desired.
(d) his parents had deserted him.
Answer:
(a) he had lost his father and mother.

Question 3.
The lost child in the story The Lost child is a symbol of
(a) a human being lost in this world.
(b) the unfulfilled desires of a human being.
(c) a human being who is never satisfied.
(d) a human being who is spiritual in his approach.
Answer:
(a) a human being lost in this world.

(B) Answer the following questions in about 10-15 words each:

Question 1.
What is the story “The Lost Child’ about ?
कहानी The lost Child’ किस बारे में है?
Answer:
The story “The Lost Child’ is about a child who gets lost in the fair.
कहानी ‘The lost Child’ एक बच्चे के विषय में है जो मेले में खो जाता है।

Question 2.
What does the lost child represent ?
खोया हुआ बच्चा किसका प्रतीक है?
Answer:
The lost child represents a human being lost in this world.
खोया हुआ बच्चा इस संसार में खोये हए मनष्य का प्रतीक है।

Question 3.
Who is the disconsolate find in the story “The Lost Child ?
कहानी “The Lost Child’ में अत्यन्त दु:खी (मायूस) कौन है?
Answer:
The lost child is the disconsolate find in the story.
खोया हुआ बच्चा इस कहानी में अत्यन्त दुःखी (मायूस) है।

Question 4.
What does the phrase “gaily clad humanity” mean ?
वाक्यांश “gaily clad humanity” से क्या तात्पर्य है?
Answer:
Gaily clad humanity means people were wearing colourful dresses and happily going to the fair.
वाक्यांश “gaily clad humanity” से तात्पर्य उन लोगों से है जो कि खुशी-खुशी रंगीन वस्त्रों को पहनकर मेले में जा रहे थे।

Question 5.
What was the attitude of the father | towards the demands of the child ?
बच्चे की मांगों के प्रति उसके पिता का दृष्टिकोण कैसा था?
Answer:
The attitude of the father towards the demands of the child was negative.
बच्चे की माँगों के प्रति पिता को दृष्टिकोण नकारात्मक था।

(C) Answer the following questions in about 20-30 words each:

Question 1.
What made the father angry with his child ?
किस चीज ने पिता को अपने बच्चे से नाराज कर दिया?
Answer:
The child was always demanding. He was attracted by many things in the fair but his father did not want to provide him any of the things. The child’s behaviour against his wish made the father angry with his child.
वह बच्चा बार-बार मांग कर रहा था। वह मेले में कई सारी चीजों से आकर्षित हो रहा था लेकिन उसके पिताजी उसे उनमें से कोई भी चीज नहीं दिलाना चाहते थे। उनके पुत्र के उनकी इच्छा के विरुद्ध व्यवहार ने उन्हें नाराज कर दिया।

Question 2.
What did the child want after he had lost his father and mother ?
जब बच्चे ने अपने माता-पिता को खो दिया तो वह क्या चाहता था?
Answer:
After the child had lost his father and mother, he wanted only his father and mother. He refused everything else-
roundabout, horse ride, juggler, garland, balloons and sweets.
जब उस बच्चे ने अपने माता-पिता को खो दिया तो वह केवल अपने माता-पिता को ही चाहता था। उसने अन्य किसी भी चीज-झूला, घुड़सवारी, जादूगर, माला, गुब्बारे और मिठाई को अस्वीकार कर दिया।

Question 3.
What happened as the child entered the grove ?
जब बच्चा कुंज में घुसा तो क्या हुआ?
Answer:
A shower of young flowers fell upon the child as he entered the grove. And he began to gather the raining petals in his hands.
जब बच्चा कुंज में घुसा तो फूलों की एक बौछार उस पर गिरी। और वह गिरती हुई पंखुड़ियों को अपने हाथों में इकट्ठा करने लगा।

Question 4.
What did the child do to find his parents ?
बच्चे ने अपने माता-पिता को पाने के लिए क्या किया?
Answer:
The child cried as loud as he could. He. started running here and there looking for his parents. He looked for his parents at every crowded place.
वह बच्चा जितनी जोर से रो सकता था रोया। वह अपने माता-पिता को तलाशने के लिए इधर-उधर भागने लगा। उसने अपने माता-पिता को प्रत्येक भीड़ भरे स्थान पर खोजा।

(D) Answer the following questions in about 60-80 words each:

Question 1.
Enumerate the things that the child wants. Do the parents fulfil his desire ?
उन चीजों की सूची बनाइये जिन्हें वह बच्चा चाहता है। क्या माता-पिता उसकी इच्छा की पूर्ति करते हैं?
Answer:
On his way to fair, the child is attracted towards many things which he wanted. He jumps around the banyan tree, gathers the raining petals, enjoys the cooing of the dove, tries to catch the dragon-fly and follows the teeming worms in the fields. He wants to buy a toy, a balloon and a garland of flowers. His mouth waters when he sees his favourite ‘burfi’. The juggler’s flute playing and roundabout also attract him. His parents don’t fulfill his desire.

मेले में जाते हुए बच्चा बहुत सी चीजों से आकृष्ट होता है जिन्हें वह पाने की इच्छा करता है। वह बरगद के पेड़ के चारों ओर उछलता है, बरसती हुई पंखुड़ियों को इकट्ठा करता है, कबूतर की कु कू का आनन्द लेता है, ड्रैगन फ्लाई को पकड़ने की कोशिश करता है तथा खेतों में झुण्ड बनाकर जाते हुए कीड़ों का पीछा करता है। वह खिलौना, गुब्बारा व फूलों की माला खरीदना चाहता है। अपनी पसंदीदा ‘बर्फी’ देखकर उसके मुँह में पानी आ जाता है। बच्चा बाजीगर की बीन तथा झूले से भी आकर्षित होता है। उसके माता-पिता उसकी इच्छा पूरी नहीं करते हैं।

Question 2.
Bring out the symbolic significance of the title of the story “The Lost Child’.
कहानी के नाम The Lost Child’ के प्रतीकात्मक महत्व को बताइये।
Answer:
As the story goes, a child goes to the fair with his parents. He wants to get all the things which he sees on his way to the fair. But knowing the nature of his father, he moves on. He does not like the nature of his parents. But when he is lost from his parents, he feels very anxious and insecure. He comes to know the importance of parents. In the same way, we don’t care for the things which we have but we cry for the things when we lose them.

कहानी के अनुसार एक बच्चा अपने माता-पिता के साथ मेले में जाता है। वह उन सभी चीजों को पाने की इच्छा रखता है जिन्हें वह मेले के रास्ते में देखता है। लेकिन अपने पिताजी के स्वभाव को जानते हुए, वह आगे चल देता है। उसे अपने माता-पिता का स्वभाव पंसद नहीं आता है। लेकिन जब वह अपने माता-पिता से भटक जाता है तो वह चिंतित तथा असुरक्षित महसूस करता है। उसे अपने माता-पिता के महत्व का आभास होता है। इसी प्रकार से हम उन किन्हीं भी चीजों की परवाह नहीं करते हैं जो कि हमारे पास होती हैं लेकिन जब उन्हें हम खो देते हैं तब रोते हैं।

(E) Say whether the following statements are True or False. Write “T” for True and ‘F’ for False in the bracket:

  1. All the desires of the child are fulfilled towards the end of the story in “The Lost Child’. [ ]
  2. The parents in ‘The Lost Child’ are generous and fulfill all his demands. [ ]
  3. The story “The Lost Child’ is written by Mulk Raj Anand. [ ]
  4. The lost child gets pleased because people fulfill his demands by offering him several things. [ ]

Answer:

  1. F
  2. F
  3. T
  4. F

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child Additional Questions

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child Short Answer Type Questions

Answer the following questions in about 20-30 words each :

Question 1.
Why did the child move on from the flower shop without waiting for an answer?
बच्चा उत्तर की प्रतीक्षा किये बिना ही फूलों की दुकान से क्यों चल दिया?
Answer:
The child moved on from the flower shop without waiting for an answer because he already knew that his parents would say that the flowers were cheap.
बच्चा बिना उत्तर की प्रतीक्षा किये फूलों की दुकान से चल दिया क्योंकि वह पहले से ही जानता था कि उसके माता-पिता कहेंगे कि फूल अच्छे नहीं हैं।

Question 2.
How was the behaviour of the man towards the child who lifted him up in his arms ?
जिस आदमी ने उस बच्चे को अपनी बाहों में उठाया था उसका बच्चे के प्रति कैसा व्यवहार था?
Answer:
The man hearing the groan of the child, lifted him up in his arms. The gentleman tried his best to soothe him. Thus his behaviour towards the child was very good.
उस आदमी ने बच्चे की चीख सुनकर उसे अपनी बाहों में उठा लिया। उस सज्जन पुरुष ने बच्चे को शान्त करने का भरसक प्रयास किया। इस प्रकार उसका बच्चे के प्रति व्यवहार बहुत अच्छा था।

Question 3.
How did the child feel while going to the fair ?
मेले जाते समय बच्चा कैसा महसूस कर रहा था?
Answer:
The child felt very joyous while going to the fair. He was attracted towards flowers, insects, birds and whatever he saw on the way.
मेले जाते समय बच्चा बहुत आनन्दित महसूस कर रहा था। वह फूलों, कीटों, पक्षियों वे जो कुछ भी उसे रास्ते में दिखाई दे रहा था, उस सबसे आकर्षित था।

Question 4.
Describe the condition of the boy when he had got separated from his parents.
अपने माता-पिता से बिछुड़ जाने पर लड़के की दशा का वर्णन कीजिए।
Answer:
The boy’s throat dried because of nervousness. He cried loudly. He felt afraid and ran here and there to look for his parents.
घबराहट के कारण लड़के का गला सूख गया। वह जोर से चीखा। उसे डर लग रहा था और वह अपने माता-पिता को ढूँढने के लिए इधर-उधर दौड़ा फ़िर रहा था।

Question 5.
What do you think must have happened with the child in the end ?
आपके विचार से अन्त में बच्चे के साथ क्या हुआ होगा?
Answer:
I think the child must have met his parents in the end. The person who had saved him must have found them for him.
मेरे विचार से अन्त में बच्चे को अपने माता-पिता मिल गए होंगे। जिस व्यक्ति ने उसे बचाया था, उसने उसके लिए उन्हें ढूंढ निकाला होगा।

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 5 The Lost Child Long Answer Type Questions

Answer the following questions in about 60 – 80 words each :

Question 1.
Explain the theme of the lesson The Lost Child’ briefly.
‘खोया हुआ बच्चा’ पाठ का कथानक (विषय वस्तु) संक्षिप्त में लिखिये।
Answer:
“The Lost child’ is the story of a child who goes to a fair with his parents. In the fair he wants many things. But his parents deny him everything. Then he gets lost. The man who lifts him up in his arms, tries to soothe him. He asks him to have any of the things which he had earlier wanted so much. But now he insists, ‘I want my mother, I want my father.’

‘खोया हुआ बच्चा’ एक ऐसे बच्चे की कहानी है जो अपने माता-पिता के साथ मेले में जाता है। मेले में वह बहुत सी चीजें लेना चाहता है। लेकिन उसके माता-पिता उस प्रत्येक चीज़ के लिए मना कर देते हैं। फिर वह खो जाता है। जो व्यक्ति उसे अपनी बाहों में उठाता है। वह उसे शान्त करने की कोशिश करता है। वह उससे उनमें से कोई भी वस्तु लेने के लिये कहता है जिन्हें कि वह पहले बहुत तीव्र इच्छा से लेना चाहता था। लेकिन अब वह जिद करता है, मुझे मेरी माँ चाहिये, मुझे मेरे पिताजी चाहिये।

Question 2.
The child understanding his parents’ feelings, suppresses his own desires. Explain.
बच्चा अपने माता-पिता की भावनाओं को समझते हुये अपनी स्वयं की इच्छाओं का दमन करता है। वर्णन करिये।
Answer:
In the Lesson The Lost Child’ a child goes to a fair with his parents. Like other children, he too wants to have toys, sweets, garland of flowers, colourful balloons etc. He wants to enjoy juggler’s show and roundabout etc. He asks his parents for all these but soon moves on without waiting for their reply because he already knows that they wouldn’t allow him any of these things.

‘खोया हुआ बच्चा’ पाठ में एक बच्ची अपने माता-पिता के साथ मेले में जाता है। अन्य बच्चों की तरह वह भी खिलौने, मिठाइयाँ, फूलों की माला, रंग-बिरंगे गुब्बारे आदि लेना चाहता है। वह बाजीगर का खेल देखना और झूला झूलना चाहता है। वह इस सबके लिये अपने माता-पिता से कहता है लेकिन जल्दी ही आगे बढ़ जाता है उनके उत्तर की प्रतीक्षा किये बिना, क्योंकि वह पहले से ही जानता है कि वे उनमें से कोई भी चीज उसे नहीं दिलवायेंगे।

Word-meanings and Hindi Translation

It was the ………….. laughter.(Pages 22-23)

Word-meanings : alleys (ऐलीज़) = गलियाँ, वीथिकाएँ, पथ। emerged (इम:ज्ड) = बाहर निकले। gaily (गेलि) = खुश होते हुए। clad (क्लैड) = कपड़े पहने हुए। humanity (ह्यूमेनिटि) = लोगों की भीड़। issuing (इशूईंग) = निकल रहे। warren (वॉरन) = खरगोशों को पालने का बाड़ा। flooded (फ्लॅडिड) = जलमग्न, घिरे हुए। sparkling (स्पा:कलिंग) = चमकदार। sunshine (सन्शाइन) = धूप। sped (स्पेड) = तेजी से चले। rode (रोड) = सवार थे। brimming over (ब्रिमिंग ओवे) = लबालब भरा हुआ। life (लाइफ़) = जीवन, (यहाँ) उत्साह। open (ओपन) = साफ| unashamed (अनअशेम्ड) . = संकोचहीन। lagged behind (लैग्ट बिहाइण्ड) = पीछे रह गया। arrested (अरेस्टिड) = सम्मोहित। lingering (लिगंरिंग) = ठहरी हुई। receding (रिसीडिंग) = पीछे रह गए। suppress (सप्रेस) = दबाना। pleaded (प्लीडिड) = निवेदन किया। melted (मेल्टिड) = द्रवित। tender (टेन्डर) = संवेदनशील, उदार। quelled (क्वेल्ट) = शमन की गई। heavy (हैवि) = उग्र। pouting (पाउटिंग) = खीझना, मुँह फुलाना। wend (वेन्ड) = गुजरना, चलना। circuitously (सकिटलि ) = घुमावदार। flowering (फ्लाउरिंग) = खिला हुआ। melting (मेल्टिंग) = पिघलता हुआ। even (ईवन) = समतल। ebbing (एबिंग) = ऊपर उठती हुई। eddy (एडि) = भँवर। wild (वाइल्ड) = प्रचण्ड। straying (स्ट्रेइंग) = भटकती हुई। rich (रिच) = शानदार। tributary (ट्रिब्युटर) = सहायक। constant (कॉन्स्टन्ट) = निरन्तर, सतत। sweep (स्वीप) = फैलाव। mirage (मिराज) = मरीचिका। robed (रोब्ट) = कपड़े पहने हुए। high squeaking (स्क्वीकिंग) = चरमराहट। roaring (रोरिंग) = दहाड़ना। humming (हमिंग) = भिनभिनाहट। across (अक्रॉस) = सर्वत्र। grove (ग्रोव) = कुंज, उपवन। throated (थ्रोटिड्) = कण्ठ वाले। weird (वीअॅड) = निराला।

हिन्दी अनुवाद-वसंत ऋतु का उत्सव मनाया जा रहा था। हल्की सर्दी में सँकरी गलियों व वीथिकाओं में से सजे-धजे, खुश होते हुए लोगों की भीड़ इस प्रकार से बाहर निकल रही थी जैसे खरगोशों को पालने के बाड़े से चमकीले रंगों वाले खरगोशों की भीड़ बाहर निकल रही हो, और शहर के दरवाजे के बाहर चमकदार उज्जवल धूप से घिरे हुए महासागर में प्रवेश कर रहे हों, इस प्रकार वह भीड़ मेले की ओर तेजी से जा रही थी। कुछ पैदल चल रहे थे, कुछ घोड़ों पर सवार थे, कुछ बाँस की बनी हुई गाड़ियों और बैल-गाड़ियों में ले जाये जा रहे थे। उत्साह और हँसी से लबालब एक छोटा लड़का अपने पिता की टाँगों के बीच से ऐसे भागकर निकल गया जैसे आनंदित, मुस्कुराती हुई सुबह, अपने खुले अभिवादन और संकोचहीन आमंत्रण से फूलों तथा गानों से भरे खेत में आने के लिए बुला रही हो। रास्ते में कतारों में लगी हुई खिलौनों की दुकानों से सम्मोहित होकर जब वह पीछे रह गया तो उसके माता-पिता ने पुकारा, ‘आओ, बच्चे, आओ।’ वह तेजी से अपने माता-पिता की ओर चला, मानो उसके पैर उनकी पुकार के आज्ञाकारी हों, लेकिन उसकी नजर अभी भी पीछे रह गये खिलौनों पर ठहरी हुई थी। जब वह उस स्थान पर आया जहाँ वे उसकी प्रतीक्षा करने के लिए रुक गये थे, वह अपने दिल की इच्छा को नहीं दबा सका, जबकि वह उनकी आँखों में मना करने की पुरानी, रूखी नजर को अच्छी तरह समझता था। उसने आग्रह किया, ‘मुझे वह खिलौना चाहिये।’ उसके पिता ने उसे अपने चिर-परिचित तानाशाही अंदाज में आँखें लाल करके (गुस्से से) देखा। उस दिन के उल्लसित वातावरण से द्रवित होकर उसकी माँ उदारता से व्यवहार करके उसे पकड़ने के लिए अपनी अंगुली देते हुए बोली : ‘देखो, बच्चे, तुम्हारे सामने क्या है।’ बच्चे की अधूरी इच्छा की हल्की नाराजगी एक साँस की उग्र, मुँह फुलाने वाली सुबकी में बमुश्किल ही शांत हुई थी, ‘माँ’ उसी समय उसके सामने जो आनन्द था उसने उसकी. उत्सुक आँखों को भर दिया। उस उबाने वाले रास्ते से जो कि उत्तर की ओर घुमावदार था उससे गुजरने के लिए जिस धूल भरी सड़क पर वे अभी तक चल रहे थे उसको उन्होंने छोड़ दिया था और एक खेत में एक पगडण्डी पर चलने लगे। यह सरसों का एक खिला हुआ ऐसा पीला खेत था मानो कि सोना पिघल रहा हो, क्योंकि यह समतल धरती पर मीलों दूर तक फैला हुआ था, पीली चमक वाली एक नदी, प्रचण्ड हवा के प्रत्येक नये भंवर से ऊपर उठती हुई और नीचे उतरती हुई, और कई स्थानों पर चौड़ी, शानदार सहायक धाराओं में भटकती हुई, फिर भी एक सतत सूर्य सी चमकीली स्वच्छ रोशनी के महासागर के दूरस्थ मरीचिका की ओर बहती हुई थी। जहाँ पर इसका अंत हुआ, वहाँ इसके एक ओर निचले, कच्ची दीवारों वाले घरों में दोनों ही चीजों से शांति थी पीले कपड़े पहने हुए आदमियों और औरतों की घनी भीड़ से तथा सीटी के, चरचराहट के, चरमराने के, दहाड़ने के, गुनगुनाने के शोर से जो इस भीड़ पैदा होने वाले ऊँची आवाज के तारतम्य से कुंज के आर-पार से लेकर आसमान तक उठ रहा था जो नीले-कण्ठ वाले शिव की निराली, अजीब उग्र हँसी की तरह से था।

The child ………….. pent up souls.(Page 23) Word-meanings : saturated (सैचरेटिड) = भरी हुई। shrill (श्रिल) = तीव्र। vast (वास्ट) = विशाल। wore (वोर) = प्रकट किया। plunged (प्लन्ज्ड) = घुसा। colt (कॉल्ट) = घोड़े का बच्चा। chiming (चाइमिंग) = ताल मिलाना। fitful (फिटफ़ल) = चपल, चंचल। winnowing (विनोइंग) = छानकर भरना। bustling about (बस्लिंग अबाउट) = हलचल के साथ चलना। gaudy (गॉडि) = चमकीलें। purple (पॅ:पल) = बैंगनी। intercepting (इन्टॅ:सेप्टिंग) = बाधा डालते हुए। hearts of flower (हा:ट्स ऑव फ्लाउअ) = मधु। fluttering (फ्लटरिंग) = लहराते हुए। flapping (फ्लैपिंग) = फड़फड़ाते हुए। hovering (हवरिंग) = मँडराते हुए। evaded (इवेडिड) = बच निकला। abreast (अब्रेस्ट) = साथ-साथ। teeming (टीमिंग) = कुलबुलाते हुए। jack (जैक) = कटहल। cassis (कैसिज़) = दालचीनी। crimson (क्रिम्ज़न) = लाल। blushing (ब्लशिंग) = गुलाबी। adoration (अडोरेशन) = पूजा, आराधना। chaperon (शैपरोन) = संरक्षिका। uncovering (अन्कवरिंग) = उघाड़कर, खोलकर। perfume (पॅफ़्यूम) = सुगंध। pollen (पॉलन) = परागकण। mingled (मिंगल्ड्) = मिल गई, सम्मिलित हो गई। puff (पफ़) = झोंका। wafted (वैफ़्टिड) = बहा ले जाया गया। aloft (अलॉफ़्ट) = हवा में, ऊपर। gush (गश) = झोंका। shower (शावे) = बौछार। raining (रेनिंग) = गिरती हुई। doves (डब्ज़) = फाख्ताएँ (मादा कबूतर)। forgotten (फॅ:गॉटन) = विस्मृत। look (लुक) = रुख होना। koel (कोअल) = कोयल। note (नोट) = सुर। pent up (पेन्ट अप) = दबा हुआ, (भावनाओं को दबाए हुए)।

हिन्दी अनुवाद-उस बच्चे ने अपने माता और पिता की ओर देखा, तीव्र खुशी तथा इस विशाल भव्यता से भरे हुए, और यह महसूस करते हुए कि उनके चेहरे से भी यह शुद्ध खुशी झलक रही थी, पगडण्डी को छोड़कर एक घोड़े के बच्चे की तरह से उछलकूद करते हुए तेजी से खेत में घुस गया, उसके छोटे-छोटे पैर उस हवा के चंचल झोंकों से ताल मिला रहे थे जो कि और अधिक दूर के खेतों की खुशबू से छनकर आ रही थी। ड्रैगन मक्खियों का एक झुण्ड अपने चमकीले, बैंगनी पंखों से हलचल करता हुआ चल रहा था (उड़ रहा था), जो कि फूलों से मधु को खोजती हुई एक अकेली काली मधुमक्खी या तितली की उड़ान में बाधा डाल रहा था। वह बच्चा अपनी दृष्टि टिकाये हुए उनका हवा में तब तक पीछा करता जब तक कि उनमें से कोई एक अपने पंखों को समेट कर बैठ नहीं जाता और वह उसे पकड़ने की कोशिश करता। लेकिन जब वह उसे अपने हाथों में लगभग पकड़ ही चुका होता तब वह लहराते हुए, फड़फड़ाते हुए, मंडराते हुए ऊपर हवा में चला जाता था। एक साहसी काली मधुमक्खी ने पकड़ से बचकर उसके कान के चारों ओर सनसनाते हुए निकलकर उसे चिढ़ाने के लिए पीछा किया, और वह उसके होठों पर लगभग बैठ ही गई थी जब उसकी माँ ने उसे सावधान करते हुए पुकारा ‘आओ, बच्चे, आओ; पगडण्डी पर आओ।’ वह प्रसन्नतापूर्वक अपने माता-पिता की ओर दौड़ जाता और कुछ देर तक उनके साथ-साथ चलता, हालाँकि, जल्द ही वह पगडण्डी के किनारे-किनारे धूप का आनंद लेने के लिए अपने छिपने के स्थानों से बड़ी संख्या में कुलबुलाकर बाहर आते हुए छोटे-छोटे कीट पतंगों से आकर्षित होकर पीछे छूट जाता था। एक कुएँ के किनारे की एक दीवार पर कुंज की छाया में बैठे हुए उसके माता-पिता ने पुकारा, ‘आओ, बच्चे, आओ’। वह उनकी ओर दौड़ा। एक पुराने बरगद के पेड़ की मजबूत टहनियाँ यहाँ पर फ़लते-फूलते कटहल तथा जामुन व नीम तथा चम्पा और सरिसा के ऊपर फैली हुई थी और इसकी परछाई सुनहरी दालचीनी तथा लाल गुलमोहर की क्यारियों पर उसी प्रकार से पड़ रही थी जिस प्रकार से एक बूढ़ी दादी माँ अपना आँचल अपने छोटे बच्चों पर फैला देती है। गुलाबी खिले हुए पेड़ स्वतंत्र रूप से सूर्य को अपनी पूजा (गिरते हुए फूल) अर्पण कर रहे थे, लेकिन अपने सुरक्षा आवरण (बरगद के पेड़) के बावजूद, स्वयं को आधा उघाड़कर (बरगद की टहनियों के बीच से कुछ-कुछ चमकते हुए) पेड़ों की वह फूलों की भेंट, छोटे-छोटे झोंकों के रूप में आती-जाती मधुर, ठंडी हवा में अपने परागकणों को सुगन्ध मिलाकर एक अधिक तीव्र हवा के झोके के द्वारा ऊपर की ओर बहाई ले जा रही थी अर्थात् फूल ऊपर की ओर उड़ रहे थे। जैसे ही बच्चे ने कुंज में प्रवेश किया, ताजे फूलों की एक बौछार उस पर गिरी, और अपने माता-पिता को भूलकर वह गिरती हुई फूलों की पंखुड़ियों को अपने हाथों में इकट्ठा करने लगा। लेकिन देखो! फाख्ताओं के गूटर-गू करने की आवाज सुनाई दी और वह ‘फाख्ता! फ़ाख्ता! चिल्लाता हुआ अपने माता-पिता की ओर दौड़ा। उसके विस्मृत हाथों से बरसती हुई पंखुड़ियाँ गिर पड़ी। उसके माता-पिता के चेहरों पर जिज्ञासा का भाव था जब तक कि एक कोयल ने एक प्यारा-सा सुर छेड़कर उनके भावनाओं को दबाए हुए मन को शांत नहीं किया।

‘Come, child……………farther. (Pages 23-24)

Word-meanings : capers (केपर्ज़) = उछलकूद, कूद-फाँद। gathering him up (गैदरिंग हिम अप) = उसे पकड़कर। throngs (थ्राँग्ज़) = लोगों के झुण्ड। converging (कॉन्वर्जिंग) = हिस्सा बनते हुए। whirlpool (व्हर्लपूल) = (लोगों का) भँवर। repelled (रिपेल्ड) = प्रतिकर्षित, विकर्षित। confusion (कन्फ्यू श्जन) = भ्रम, अव्यवस्था। hawked (हॉक्ट) = (बेचने के लिए) चिल्लायां। pressed (प्रेस्ट) = इकट्ठी हो गई। architecture (आ:किटेक्चें) = संरचना, सुव्यवस्थित। half (हाफ़) = काफी हद तक। heeded (हीडिड) = ध्यान दिया जाना। moved on (मूव्ड ऑन) = आगे बढ़ गया। irresistibly (इरेज़िस्टिब्लि) = बरबस। drawn (ड्रॉन) = आकर्षित हुआ। implacable (इम्प्लेकेब्ल) = unstoppable, अशमनीय.। sweetness (स्वीट्नस) = मिठास, सुगंध। floating (फ्लोटिंग) = बहती हुई। languid (लैंग्विड) = सुस्त, ठण्डी। heaped (हीप्ट) = ढेर के रूप में। cheap (चीप) = तुच्छ, घटिया। carried away (कैरीड अवे) = प्रभावित, आकर्षित। rainbow (रेन्बो) = इन्द्रधनुषी। glory (ग्लोरि) = छटा। silken (सिल्केन) = रेशमी। overwhelming (ओवव्हेमिंग) = अत्यधिक, जबरदस्त। desire (डिजाइअर्) = इच्छा। possess (पजेस) = पाना, अथिकार में करना। farther (फा:दर) = आगे।

हिन्दी अनुवाद-अब जबकि वह जंगलीपन से कूद-फाँद करता हुआ बरगद के पेड़ तक चला गया था, उसके माता-पिता ने उसे पुकारा, ‘आओ, बच्चे, आओ,’ और उसे पकड़कर वे उस सँकरी, घुमावदार पगडण्डी पर चल पड़े, जो सरसों के खेतों से होकर मेले की ओर जाती थी। जब वे गाँव के समीप पहुँचे, बच्चे ने लोगों के झुण्डों से भरी बहुत-सी दूसरी पगडण्डियाँ देखीं जो मेले के भँवर की ओर जाती थीं, और उसने, जिस भीड़ में वह प्रवेश कर रहा था, उसकी अव्यवस्था से (स्वयं को) एक साथ ही विकर्षित व आकर्षित अनुभव किया। प्रवेश द्वार के कोने पर एक मिठाई विक्रेता चिल्ला रहा था, ‘गुलाब जामुन, रसगुल्ला, बर्फी, जलेबी,’ और उसके काउण्टर पर सोने व चाँदी के वरकों से सजी हुई बहुत-सी रंग-बिरंगी, सुव्यवस्थित मिठाईयों के पास ही भीड़ इकट्ठी हो गई थी। बच्चा आँखें फैलाये देखता रह गया और अपनी मनपसंद मिठाई बर्फी के लिए उसके मुँह में पानी भर आया। वह धीरे से बुदबुदाया, ‘मुझे वह बर्फी चाहिये।’ परन्तु यह आग्रह करते समय काफी हद तक वह यह जानता ही था कि उसके इस आग्रह पर ध्यान नहीं दिया जायेगा क्योंकि उसके माता-पिता कहेंगे कि वह पेटू है। इसलिए, उत्तर की प्रतीक्षा किये बिना ही वह आगे बढ़ गया। एक फूल विक्रेता चिल्लाया, ‘गुलमोहर की माला, गुलमोहर की माला।’ वह बच्चा उस महक की अशमनीय सुगंध की ओर अत्यधिक आकर्षित लगा जो कि सुस्त हवा के पंखों पर सवार होकर बहते हुए आ रही थी। वह उस टोकरी की ओर गया जिसमें फूलों का ढेर रखा हुआ था और हल्के से बुदबुदाया, ‘मुझे वह माला चाहिए।’ परन्तु वह अच्छी तरह से जानता था कि उसके माता-पिता उसके लिए वे फूल खरीदने से मना कर देंगे क्योंकि वे कहेंगे कि वे फूल घटिया हैं। इसलिए उत्तर की प्रतीक्षा किये बिना ही वह आगे बढ़ गया। एक व्यक्ति एक डण्डा पकड़े हुए खड़ा हुआ था जिस पर से पीले, लाल, हरे और बैंगनी गुब्बारे उड़ रहे थे। बच्चा स्वाभाविक रूप से उनके रेशमी रंगों की इन्द्रधनुषी छटा से अत्यधिक प्रभावित हो गया और वह उन सबको पाने की अत्यधिक इच्छा से भर गया। लेकिन वह अच्छी तरह से जानता था कि उसके माता-पिता उसे कभी गुब्बारे खरीदकर नहीं देंगे क्योंकि वे कहेंगे कि वह ऐसे खिलौनों के लिए बहुत बड़ा है। इसलिए वह आगे चल पड़ा।

A juggler ……………… of lead.(Pages 24-25)

Word-meanings : juggler (जग्लर) = बाज़ीगर। bend (बेन्ड) = घुमाव। stole (स्टोल) = चुपके से पड़ा। invisible (इन्विज़ब्ल) = अदृश्य। gentle (जेन्टल) = मन्द-मन्द। rippling (रिलिंग) = कल-कल की ध्वनि। miniature (मिनिएचें) = छोटे से। coarse (कॉ:स) = भद्दा, कर्कश। proceeded (प्रसीडिड) = पड़ा। in full swing (इन फुल स्विंग) = पूरी तेजी में। whirling (व्हर्लिंग) = घुमावदार, गोल-गोल। dizzy (डिज़ि) = चक्कर खाकर। blush (ब्लॅश) = लालिमा। fiercely (फ़िअर्लि) = अत्यधिक तेजी से। overpowering (ओवॅपाउअरिंग) = अत्यधिक तीव्र। anticipated (ऐन्टिसिपेटिड) = पूर्वानुमानित। sensation (सेन्सेंशन) = एहसास, जोश। eternal (इटॅनःल) = चिरकालीन। denial (डिनाइअल) = इंकार, अस्वीकृति। arose (अरोज़) = उठी। jerk (ज:क) = झटका। rained (रेन्ड) = गिरे। heavy (हैवि) = दुःखद। fierce (फिअस्) = भयंकर। flushed (फ्लश्ट) = लाल। convulsed (कन्वल्स्ट) = काँपना। panic stricken (पैनिक-स्ट्रिकन) = अत्यधिक घबराया हुआ। moist (मॉइस्ट) = तर, गीला। shrill (श्रिल) = तेज। swallowing (स्वॉलोईंग) = निगलना। spittle (स्पिटल) = थूक। untied (अन्टाईड) = खुल गई। perspiration (पॅस्परेशन) = पसीना। mass (मैस) = ढेर। lead (लेड) = सीसा।

हिन्दी अनुवाद-एक बाजीगर एक टोकरी में कुंडली बनाकर बैठे हुए एक साँप के सामने बीन बजा रहा था, जबकि वह संगीत, साँप के अदृश्य कानों में किसी अदृश्य झरने की कल-कल की मंद ध्वनि के समान पड़ रहा था, उसने अपना सिर एक हंस की गर्दन के सुन्दर घुमाव की भाँति उठा रखा था। बच्चा बाजीगर की ओर गया। लेकिन, यह जानते हुए कि उसके माता-पिता ने बाजीगर द्वारा बजाये जाने वाले इस प्रकार के कर्कश संगीत को सुनने से मना किया है, वह आगे बढ़ गया। एक चक्करदार झला पूरी तेजी से घम रहा था। गोल-गोल घूमते हुए पुरुष, स्त्री और बच्चे चक्कर खाते हुए हँस रहे थे और चीख-चिल्ला रहे थे। बच्चे ने उनको गोल-गोल घूमते हुए तब-तक ध्यान से देखा जब तक कि उसने यह महसूस नहीं किया कि उसे खुद को भी गोल-गोल घुमाया जा रहा है, उसके चेहरे पर एक मुस्कुराहट की एक गुलाबी लालिमा छा गयी, उसकी आँखें उसी गति के साथ लहराती रहीं, उसके होंठ आश्चर्य से आधे खुले रह गये। वह वलय शुरू-शुरू में तो तेजी से घूमता हुआ लगा, फिर धीरे-धीरे यह कम तेजी से घूमने लगा। इस समय, मोहित होकर उस लड़के ने अपनी अंगुली को मुँह में डाले हुए इसे रुककर देखा। इस समय, इससे पहले कि उसकी हरकत के पूर्वानुमानित जोश की अत्यधिक चाह को उसके माता-पिता की चिरस्थायी अस्वीकृति के द्वारा ठण्डा कर दिया जाये उसने बहादुरी भरा आग्रह किया, ‘माँ, पिताजी, मैं झूले में झूलना चाहता हूँ।’ कोई जवाब नहीं आया। वह अपने माता-पिता को देखने के लिए मुड़ा। वे वहाँ, उसके सामने नहीं थे। वह अपने दोनों ओर देखने को मुड़ा। वे वहाँ पर नहीं थे। उसने पीछे देखा। वहाँ उनका कोई निशान नहीं था। उसके सूखे हुए गले से अत्यधिक तेज व गहरी चीख उठी और अचानक एक झटके से वास्तविक डर से ‘माँ, पिताजी’ चिल्लाते हुए अपने खड़े होने के स्थान से दौड़ पड़ा। उसकी आँखों से गर्म और बहुत तेजी से आँसू बह रहे थे, उसका चेहरा डर से काँप रहा था। अत्यधिक घबराया हुआ वह पहले एक ओर दौड़ा, फिर दूसरी ओर, सभी दिशाओं में आगे व पीछे दौड़ा, यह न जानते हुए कि कहाँ जाना है। उसका गला थूक निगलने से गीला हो गया था और अब एक तर, तेज सांस से उसने विलाप किया, ‘माँ, पिताजी।’ उसकी पीली पगड़ी खुल गई और उसके कपड़े पसीने से गीले होकर उन स्थानों पर गंदे हो गये थे जहाँ पर धूल उसके शरीर के पसीने से मिल गई थी। उसका हल्का शरीर ऐसा भारी प्रतीत हो रहा था मानो एक सीसे का ढेर हो।

Having run …………. my father!’.(Page 25)

Word-meanings : to and fro (टु एन फ़ो) = इधर-उधर। sheer (शीों) = अत्यधिक। rage (रेज) = धुन, भावावेश। at little distance (ऐट लिटिल डिस्टन्स) = बिल्कुल पास। filmy (फ़िल्मि) = आँखों से धुंधली। patches (पैचिज़) = धब्बे। shrine (श्राइन) = मन्दिर। hotly (हॉट्ल) = उत्तेजनापूर्वक। congested (कॉन्जेस्टिड) = खचाखच भरा हुआ। lingering (लिंगरिंग) = अब भी बनी हुई। jostle (जॉसल) = धक्का-मुक्की कर रहे। flashing (फ़्लैशिंग) = गुस्से में लाल। murderous (मॅडरस) = खूनी। hefty (हैफ़्टि) = मजबूत। carve (का:व) = काटना, बनाना। knocked (नॉक्ट) = गिरकर। brutal (ब्रटल) = निर्दयी। trampled (ट्रेम्पल्ड) = कुचला जाता। surging (सॅ:जिंग) = उमड़ती हुई। stooping (स्टूपिंग) = नीचे झुककर। groan (ग्रोन) = चीख, कराह। steered clear (स्टीअॅर्ड क्लिों ) = बाहर आये। mass (मास) = भीड़। bitterly (बिटॅ:लि) = फूट-फूटकर। soothe (सूद) = सांत्वना देना, राहत देना। approached (अप्रोच्ट) = पहुँचा।

हिन्दी अनुवाद-दौड़ने की अत्यधिक धुन में कुछ समय तक इधर-उधर दौड़ चुकने पर वह हार मानकर खड़ा हो गया, उसकी चीख-पुकार दबकर सिसकियों में बदल गई थी। अपनी आँसुओं से भरी धुंधली आँखों से वह कुछ दूरी पर हरी घास पर स्त्री-पुरुषों को बातें करते हुए देख सकता था। उसने चमकीले पीले कपड़ों के धब्बों के बीच ध्यान से देखने की कोशिश की परन्तु वहाँ उन लोगों के बीच उसके माता-पिता का कोई निशान नहीं था, वे लोग उसे व्यर्थ ही हँसते और बातें करते हुए प्रतीत हुए। वह फिर से उत्तेजनापूर्वक दौड़ा, इस बार वह एक मंदिर की ओर दौड़ा जिसकी ओर लोगों की भीड़ बढ़ती हुई प्रतीत हो रही थी। उस स्थान की एक-एक इंच जगह लोगों से खचाखच भरी हुई थी, परन्तु, वह लोगों की टाँगों के बीच से दौड़ता रहा। ‘माँ, पिताजी’ बोलते हुए उसकी हल्की सिसकी अब भी बनी हुई थी। परन्तु, मन्दिर के प्रवेश द्वार के निकट भीड़ बहुत बढ़ गई; लोग एक दूसरे के साथ धक्का-मुक्की कर रहे थे, मोटे-मोटे लोग गुस्से में लाल-लाल खनी आँखों और मजबत कंधों से धक्का मुक्की कर रहे थे। बेचारे बच्चे ने उनके पैरों के बीच से किसी प्रकार रास्ता बनाने का प्रयास किया परन्तु उनके निर्दयी पंजों से इधर-उधर गिरकर वह उनके पैरों के नीचे कुचल ही गया होता, यदि वह बहुत ऊँची आवाज में ‘माँ, पिताजी,’ नहीं चीखा होता। उस उमड़ती हुई भीड़ में एक व्यक्ति ने उसकी चीख सुनी और बड़ी मुश्किल से नीचे झुककर उसने उसे अपनी बाँहों में ऊपर उठा लिया। भीड़ से बाहर निकलकर उस व्यक्ति ने पूछा, “तुम यहाँ कैसे पहुँचे, बच्चे? तुम किसके बच्चे हो?” बच्चा अब पहले से भी अधिक फूट-फूट कर रो पड़ा और केवल यही चिल्लाया, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिताजी चाहिए।” उस व्यक्ति ने उसे झूले के पास ले जाकर सांत्वना देने की कोशिश की। जब वह झूले के घेरे के पास पहुँचा, उस व्यक्ति ने कोमलता से बच्चे से पूछा, “क्या तुम घोड़े की सवारी करोगे?” बच्चे के गले से हजारों तीखी (जोर की) सिसकियाँ फूट पड़ीं और वह केवल चिल्लाया, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिताजी चाहिए।”

The man……………… father.’ (Pages 25-26)

Word-meanings : headed (हैडिड) = बढ़ा। pleaded (प्लीडिड) = (यहाँ) कहा। double pitched strain (डबल पिच्ट स्ट्रेन) = दोगुनी ऊँची आवाज़। distract (डिस्ट्रैक्ट) = (ध्यान) बँटाना। quieten (क्वाइटन) = चुप करना। rainbow (रेन्वो कल:ड) = रंग-बिरंगा। persuasively (पॅ:स्युएसिवलि) = फुसलाते हुए। importunate (इम्पॉर्चनेट) = हठी। bore (बोर) = गोद में ले कर गया। smell (स्मेल) = सुगन्ध। reiterated (रीटरेटिड) = repeated, फिर से किया। humour (ह्यूमर) = प्रसन्न करना, बहलाना। disconsolate (डिस्कन्सोलेट) = बहुत दुखी और निराश।

हिन्दी अनुवाद-वह व्यक्ति उस स्थान की ओर बढ़ा जहाँ बाजीगर अब भी झूमते हुए कोबरा के सामने बीन बजा रहा था। उसने कहा, “बच्चे, वह मधुर संगीत सुनो।” परन्तु बच्चे ने अपनी उँगलियों से अपने कान बन्द कर लिये और दोगुनी ऊँची आवाज में चीखा, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिताजी चाहिए।” वह व्यक्ति उसे गुब्बारों के पास ले गया, उसने सोचा कि गेंदों के चमकीले रंगों से उसका ध्यान बँट जायेगा और वह चुप हो जायेगा। उसने फुसलाते हुए पूछा, “क्या तुम एक रंग-बिरंगा गुब्बारा लेना पसंद करोगे?” बच्चे ने उड़ते हुए गुब्बारों की ओर से अपनी आँखें घुमा ली और बस यह कहते हुए सुबकता रहा, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिताजी चाहिए।” वह व्यक्ति अब भी बच्चे को खुश करने की अपनी दयालु हठ करता हुआ उसे गोद में लेकर दरवाजे के पास खड़े हुए फूल-विक्रेता के पास गया। वह बोला, “देखो, बच्चे! क्या तुम इन सुन्दर फूलों की सुगन्ध अनुभव कर सकते हो? क्या तुम अपने गले में पहनने के लिए एक माला लेना पसन्द करोगे?” बच्चे ने टोकरी की ओर से अपनी नाक घुमा ली और फिर से सुबकते हुए बोला, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिताजी चाहिए।” उस बहुत दुखी और निराश खोये हुए बच्चे को मिठाईयों के उपहार द्वारा प्रसन्न करने की सोचकर वह व्यक्ति उसे मिठाई की दुकान के काउण्टर पर ले गया। उसने पूछा, “बच्चे! तुम कौन-सी मिठाई पसन्द करोगे?” बच्चे ने मिठाई की दुकान की ओर से मुँह फेर लिया और केवल सुबकता रहा, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिताजी चाहिए।”

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.