RBSE Solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya notes will help you.

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Textual questions

Comprehension

(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
King Vikramaditya was known
(a) For politics
(b) For administration
(c) For justice
(d) None
Answer:
(c) For justice

Question 2.
The story “The Judgement Seat of Vikramaditya’ highlights the importance of
(a) Purity
(b) Straightforwardness
(c) Impurity
(d) Dedication
Answer:
(a) Purity

Question 3.
The judgement seat of Vikramaditya was discovered by
(a) Shepherds
(b) Tribals
(c) Brahmins
(d) Kshatriyas
Answer:
(a) Shepherds

(B) Answer the following questions in about 10-15 words each:

Question 1.
What qualities of head and heart made Vikramaditya a well-loved king ?
विक्रमादित्य के किन मानसिक व आत्मिक गुणों ने उसे प्यारा राजा बना दिया था?
Answer:
He was strong, true and gentle by head and heart. These qualities made him a well loved king.
वह मन व आत्मा से मजबूत, सच्चा तथा विनम्र था। इन गुणों ने उसे एक प्यारा राजा बना दिया।

Question 2.
How long ago,_roughly, did Vikramaditya rule over Malwa ? Does the present story belong to his time ?
लगभग कितने वर्षों पूर्व विक्रमादित्य ने मालवा पर शासन किया था? क्या हाल की कहानी उसके समय से संबंधित है?
Answer:
Vikramaditya ruled over Malwa in the year 57 before Christ. No, the present story does not belong to his time.
विक्रमादित्य ने मालवा पर 57 ईस्वी पूर्व शासन किया था। नहीं, हाले की कहानी उसके समय से संबंधित नहीं है।

Question 3.
Who do you think the writer is talking to: Indians or people from other countries ?
आपके विचार से लेखिका किससे बात कर रही है : भारतीयों से या दूसरे देश के लोगों से?
Answer:
The writer is talking to the people from other countries.
लेखिका दूसरे देश के लोगों से बातचीत कर रही है।

Question 4.
Why is the cow a special animal for many Indians ?
गाय बहुत से भारतीयों के लिए एक विशेष पशु क्यों है?
Answer:
The cow is a special animal for many Indians because they worship it for being very precious and useful.
गाये बहुत से भारतीयों लिए विशेष पशु है क्योंकि वे इसके लाभप्रद तथा उपयोगी होने के कारण इसकी पूजा करते हैं।

Question 5.
Mark the rhythm of the language and note how the writer has been successful in creating an evocative picture of an evening in rural India ?
भाषा की तारतम्यता (लय) बताइये, और बताइये कि ग्रामीण भारत में संध्याकालीन भावनात्मक (अथवा जीवन्त) तस्वीर को उकेरने में लेखिका कैसे सफल रही हैं?
Answer:
The rhythm is simple and coherent. By describing the scene of twilight very vividly,
the writer has successfully presented rural India.
लय सादा व समरूप है। गोधूलिवेली के दृश्य का बहुत सजीव वर्णन करते हुए लेखिका ने ग्रामीण भारत को सफलतापूर्वक प्रस्तुत किया है।

(C) Answer the following questions in about 20-30 words each:

Question 1.
Why did the boys feel ‘a little frightened’ even though they were just playing at court scenes ?
लड़के थोड़े डरे हुए क्यों थे यद्यपि वे केवल अदालत के दृश्य का खेल ही खेल रहे थे?
Answer:
The boys felt ‘a little frightened even though they were just playing at court scenes because the tone and manner of the boy sitting on the seat were strange and impressive.
लड़के थोड़े डरे हुए थे यद्यपि वे केवल अदालत के दृश्य का खेल ही खेल रहे थे क्योंकि उस सिंहासन पर बैठे लड़के की आवाज तथा तरीका बिल्कुल ही भिन्न तथा प्रभावशाली थे।

Question 2.
How was the boy’s conduct when he was on the seat different from his normal behaviour?
जब वह लड़का सिंहासन पर बैठा हुआ था तो उसका व्यवहार उसके साधारण व्यवहार से किस प्रकार
से भिन्न था?
Answer:
When the boy was on the seat, he was full of gravity and power. He took the cases seriously and gave the wisest answers.
जब वह लड़का सिंहासन पर बैठा हुआ था तो वह गंभीर तथा शक्तिशाली हो जाता था। वह मामलों को गंभीरता से लेता था तथा सबसे अधिक बुद्धिमानीपूर्वक जवाब देता था।

Question 3.
How did the king react when he heard of the court of the herd-boys ?
उस राजा ने कैसी प्रतिक्रिया व्यक्त की जब उसने ग्वाले लड़कों की अदालत के बारे में सुना?
Answer:
When the king heard of the court of the herd-boys, he said that the boy must have sat on the Judgement-Seat of Vikramaditya.
जब उस राजा ने ग्वाले लड़कों की अदालत के बारे में सुना तो उसने कहा कि वह लड़का अवश्य ही विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठा होगा।

Question 4.
Why did the king want to have the judgement-seat of Vikramaditya ? Were his intentions good or bad ?
वह राजा विक्रमादित्य के न्याय सिंहासन को क्यों पाना चाहता था? क्या उसके इरादे अच्छे थे या बुरे ?
Answer:
The king wanted to have the judgement seat of Vikramaditya because he wanted to be possessed with the spirit of law and justice. His intentions were good.
वह राजा विक्रमादित्य का न्याय सिंहासन इसलिए पाना चाहता था क्योंकि वह कानून तथा न्याय की भावना से सम्पन्न होना चाहता था। उसके इरादे अच्छे थे।

Question 5.
How was the king prevented again and again from taking Vikramaditya’s seat?
राजा को बारम्बार विक्रमादित्य के सिंहासन पर बैठने से कैसे रोका गया?
Answer:
The king was prevented again and again from taking Vikramaditya’s seat by the questions asked by the stone angles and suggestions to observe fast for three days to purify his soul.
राजा को बारम्बार विक्रमादित्य के सिंहासन पर बैठने से पाषाण के देवदूतों के द्वारा पूछे गये प्रश्नों तथा पवित्र होने के लिए तीन दिन तक उपवास करने की सलाह से रोका गया।

Question 6.
What was the last angel’s question? What is the significance of this question?
अंतिम देवदूत का क्या प्रश्न था? इस प्रश्न का क्या महत्व है ?
Answer:
The last angel’s question was if the king was perfectly pure in heart. The significance of this question was that the story highlights the importance of purity.
उस अंतिम देवदूत्र का प्रश्न था कि क्या राजा को हृदय पूर्णतः पवित्र था। इस प्रश्न का महत्व यह है कि यह कहानी पवित्रता के महत्व पर जोर देती है।

(D) Answer the following questions in about 60-80 words each:

Question 1.
Why is Vikramaditya known as the greatest judge in India ?
विक्रमादित्य को भारत का सबसे बड़ा न्यायाधीश क्यों माना। जाता है?
Answer:
Vikramaditya was a popular king of Malwa in 57 B.C. He was a strong and gentle ruler who cared for his people. He was generous and had a great and tender heart. He was loved by his subjects who almost worshipped him even when he was living. He is also known as the greatest judge in history. He never punished any innocent person and he was never deceived by wrong-doers. The guilty trembled as they came before him because they knew that his eyes would look straight into their guilt.

विक्रमादित्य ईसा से 57 वर्ष पूर्व मालवा के लोकप्रिय राजा थे। वह पराक्रमी होने के साथ स्नेहशील शासक भी थे जिन्हें अपनी प्रजा के सुख-चैन की सदैव चिंता रहती थी। वे उदार थे और उनका हृदय विशाल तथा कोमल था। उनकी प्रजा उनके जीवनकाल में ही उनकी पूजा-सी करने लगी थी। इतिहास में उनकी गणना सबसे बड़े न्यायाधीश के रूप में होती है। उन्होंने कभी किसी निर्दोष को दण्डित नहीं किया, और अपराधी कभी उनकी आँखों में धूल नहीं झोंक सकते थे। दोषी लोग उनके सामने आते ही काँपने लगते थे क्योंकि वे जानते थे कि उनकी आँखें सीधे ही उनके अपराध को भाँप लेंगी।

Question 2.
Why could the shepherd boy sit on the judgement seat and not the king ?
न्याय सिंहासन पर गड़रिया लड़का क्यों बैठ पाया, राजा क्यों नहीं ?
Answer:
Vikramaditya was renowned for giving just decisions. Just decisions can be pronounced by such judges whose hearts are pure like small children. Vikramaditya himself was an example of such a person. The innocent shepherd boy could sit on the judgement seat as he was a child with a very pure heart. The king of Ujjain was not such a person with a really pure and innocent heart. So he was not worthy to sit on the judgement seat.

विक्रमादित्य एकदम सही एवं न्यायोचित निर्णय देने के लिए विख्यात थे। इस प्रकार को सही निर्णय केवल वही न्यायाधीश दे सकता था जिसका हृदय एक छोटे बालक के हृदय के समान पूर्णतः शुद्ध एवं पवित्र हो। विक्रमादित्य स्वयं ऐसे व्यक्तित्व के उदाहरण थे। गड़रिया लड़का बालक तो था ही, वह निष्कलंक और एकदम शुद्ध हृदय वाला था, इस कारण वह न्याय सिंहासन पर बैठ सका। उज्जैन के राजा का हृदय पवित्र नहीं था। इसलिए वह न्याय सिंहासन पर बैठने योग्य नहीं था।

(E) Say whether the following are True or False. Write ‘T’ for True and ‘F’ for False in the bracket :

  1. Vikramaditya became the King of Malwa in the year 57 year before Christ. [ ]
  2. Vikramaditya was the greatest judge in history. [ ]
  3. Vikramaditya, though the greatest King in history, was deceived several times. [ ]
  4. Sister Nivedita, the author of “The Judgement Seat of Vikramaditya’ was an Indian. [ ]
  5. The shephard boy could sit on the judgement seat of Vikramaditya because only a child could be perfectly just pure in heart. [ ]

Answer:

  1. T
  2. T
  3. F
  4. F
  5. T

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Additional Questions

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Short Answer Type Questions

Answer the following questions in about 20-30 words.

Question 1.
Who was Vikramaditya ? And what did the people of India think about him ?
विक्रमादित्य कौन था ? और भारत के लोग उसके विषय में क्या सोचते थे?
Answer:
Vikramaditya was a very just king. It is said that in the year 57 before Christ he became the king of Malwa. He was very dear to the people of India.
विक्रमादित्य एक राजा था। कहा जाता है कि ईसा से 57 वर्ष पूर्व वह मालवा का राजा बना था। भारत के लोगों के लिये वह बहत प्रिय था।

Question 2.
What did the people of Ujjain forget ?
उज्जैन के लोग क्या भूल गये?
Answer:
Though it was in Ujjain yet the poor people of Ujjain itself forgot that the heaped up ruins a few miles away had been Vikramaditya’s palace.
यद्यपि यह उज्जैन में ही था फिर भी उज्जैन कें ही गरीब लोग इस बात को भूल गये कि कुछ ही मील की दूरी पर खण्डहरों को जो ढेर है, वही विक्रमादित्य का महल था।

Question 3.
How was the judgement-seat of Vikramaditya when it was uncovered ?
विक्रमादित्य का न्याय-सिंहासन कैसा था जब उसको निकाला गया ?
Answer:
When the judgement-seat of Vikramaditya was uncovered, it was a slab of black marble, supported on the hands and outspread wings of twenty-five stone angels with-their faces turned outwards as if for flight.
जब विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन को निकाला गया तब यह एक काले संगमरमर की पट्टी थी जो कि पत्थर के पच्चीस देवदूतों के हाथों तथा उनके फैले हुऐ पंखों पर स्थित थी, उनके चेहरे बाहर की ओर थे जैसे वे उड़ने वाले हों।

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Long Answer Type Questions

Answer the following questions in about 60-80 words.

Question 1.
How did people come to know about the judgement-seat of Vikramaditya ?
लोगों को विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन के विषय में पता कैसे चला ?
Answer:
There were many shepherd boys in the villages about Ujjain. One day they found a beautiful playground. Here and there the end of a great stone peeped out. Many of those . stones were beautifully carved out. In the middle the boys saw a green mound, looking like a judge’s seat. One of the boys sat on it and hearing the case when he gave the wisest answer, people came to know about this judgement-seat.

उज्जैन के आस-पास के गाँवों में बहुत सारे चरवाहे थे। एक दिन उन्हें एक खूबसूरत खेल का मैदान मिला। यहाँ-वहाँ एक बड़े से पत्थर को कोई किनारा जमीन से बाहर झाँक रहा था (दीख रहा था)। उनमें से बहुत से पत्थरों पर सुन्दर नक्काशी की हुई थी। बीच में उन लड़कों ने एक हटा टीला (सिंहासननुमा) देखा जो ठीक एक न्यायाधीश के आसन की तरह दिखता था। उनमें से एक लड़का उस पर बैठ गया। और मुकद्दमा सुनने के बाद जब उसने सर्वाधिक बुद्धिमत्तापूर्ण उत्तर दिया, (तब) लोगों को इस न्याय के सिंहासन के विषय में पता चला।

Question 2.
What did people do after knowing about the boy and the judgement-seat ?
उस लड़के व न्याय के सिंहासन के विषय में पता लगने पर लोगों ने क्या किया?
Answer:
After knowing about the boy and the judgement seat, people from all the villages about that part began to come to the boy. They came with their lawsuits to be decided in the court of the herd-boy on the grass under the green trees. The boy satisfied both the parties by his judgement. He helped them settle all the diputes. The people of Ujjain said that the boy must have sat on the judgement seat of Vikramaditya.

उस लड़के व न्याय के सिंहासन के विषय में जानने के बाद आस-पास के गाँवों के सभी लोग उसके पास आने लगे वे अपने मुकदमों के निर्णय के लिये हरे वृक्षों के नीचे घास पर स्थित चरवाहे की कचहरी में आने लगे। वह लड़का अपने निर्णय से दोनों पक्षों को संतुष्ट कर देता था। वह उनके सारे विवादों को सुलझाने में उनकी सहायता की। उज्जैन के लोगों ने कहा, ‘वह लड़का अवश्य ही विक्रमादित्य के न्याय के सिंहासन पर बैठा होगा।’

Word-meanings and Hindi Translation

Unit A Deep in the ………. land to graze.(Page 43)

Word-meanings : deep in the hearts (519 इन द हा:ट्स) = हृदय के अन्त:स्थल में। is held ever dear (इज हेल्ड एवर डीयर) = सदा से प्रिय बना हुआ है। obliged (ऑब्लाइज़्ड) = अनुगृहीत, कृतज्ञ । appealed (अपील्ड) = याचना की थी। tender (टेण्डर) = कोमल, स्नेहशील। was deceived (वाज डिसीव्ड) = ठगा गया, धोखा खाया। the guilty (द् गिल्टि) = अपराधी। guilt (गिल्ट) = अपराध। convince (कन्विन्स) = आश्वस्त करना, सन्तुष्ट करना। pronounced (प्रोनाउन्स्ट) = सुनाते या घोषित करते थे। sentence (सेन्टेन्स) = निर्णय, फैसला। with great skill = अत्यधिक कौशल के साथ। this …. country = और इस तरह की बातें सारे देश में होती थीं। heaped up ruins (हीप्ट अप रुइन्ज़) = मलबे या खण्डहरों का ढेर। fortress (फॉ:ट्रिस) = गढ़, किला। thankful (थैक्फ़ल) = कृतज्ञ। wild land (वाइल्ड लैंड) = परती जमीन अथवा जंगलात की जमीन, जंगल।

हिन्दी अनुवाद-भारतवासियों के हृदय में एक नाम सदा से प्रिय बना हुआ है और वह है विक्रमादित्य का नाम, जिसके विषय में कहा जाता है कि वह ईसा से 57 वर्ष पूर्व मालवा का राजा बना था। वह इतना शक्तिशाली एवं सच्चा तथा सज्जन था कि उसके जमाने के लोग उसकी पूजा सी करते थे और उसके बाद के सभी समयों के लोग उसके प्रति इतना कृतज्ञता-भाव रखते थे कि वे उसे प्रथम स्थान देते थे, यद्यपि उन्होंने उसे कभी देखा भी नहीं था, न उसके महान् एवं कोमल (स्नेहशील) हृदय से कुछ याचना की थी-केवल एक ही कारण था कि वे समझ सकते थे कि उसके जैसा अभी तक कोई राजा नहीं हुआ था जिसे इतना प्यार मिला था। किन्तु विक्रमादित्य के विषय में एक चीज हम लोग भी जानते हैं। उसके बारे में कहा जाता है कि वह इतिहास का महानतम न्यायाधीश था। उसने कभी धोखा नहीं खाया। उसने कभी किसी गलत आदमी को सजा नहीं दी। अपराधी उसके सामने आते ही डर से काँपने लगते थे, क्योंकि वे जानते थे कि उसकी आँखें सीधे उसके अपराध पर पड़ेंगी। जो लोग उससे कठिन प्रश्न पूछना चाहते थे और सच्चाई जानना चाहते थे, वे इस बात के लिए कृतज्ञ होते थे कि उन्हें आने की अनुमति मिलती थी, क्योंकि वे जानते थे कि उनका राजा तब तक चैन नहीं लेगा जब तक वह सारी बातें समझ न जाये और तभी वह कोई ऐसा उत्तर देगा जो सभी को सन्तुष्ट कर देगा। और इसीलिए उसके बाद भी भारत में जब कोई न्यायाधीश बहुत ही कुशलता से कोई निर्णय सुनाता था तो उसके विषय में ऐसा कहा जाता था कि ‘वह अवश्य ही विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठा होगा।’ और इस तरह की बातें सारे देश में होती थीं। इसके बावजूद उज्जैन में ही गरीब लोग इस बात को भूल गये कि कुछ ही मील की दूरी पर खण्डहरों का जो ढेर है वही उसका राजमहल था, और केवल उन्हीं धनी व विद्वान तथा बुद्धिमान लोगों को यह बात स्मरण थी जो राजा के दरबार में रहते थे (कि खण्डहरों के ढेर विक्रमादित्य के राजमहल के हैं)। . यह कहानी जो मैं आपको कहने जा रही हूँ, बहुत प्राचीनकाल की है; तथापि यह वह समय था, जब उज्जैन के प्राचीन महल एवं किला खण्डहर में बदल चुके थे और उन पर बालू का ढेर जमा हो गया था जिसने पत्थर की चट्टानों एवं पुरानी दीवार के टुकड़ों को ढक दिया था, घास और धूल जम गयी थी और पेड़ भी उग आए थे। लोगों को भूलने के लिए पर्याप्त समय भी मिला था। आज की तरह उन दिनों भी गाँवों के लोग अपनी गायों को चरने के लिए जंगल में भेज दिया करते थे।

Early in the ………… rest and joy.(Page 44)

Word-meanings : shepherd (शेफ़:ड) = गड़रिया। dusk (डस्क) = गोधूलि-वेला, सूर्यास्त का समय। hump (हम्प) = कूबड़। timid (टिमिड) = डरपोक। precious (प्रेशस) = बहुमूल्य । tease (टीज़) = चिढ़ाना। frighten (नाइटेन) = डराना। day break (डे ब्रेक) = सूर्योदय का समय। pet (पेट) = दुलारना, थपकना । strew (स्ट्र) = बिखेरना। in the country = गाँव में। delight (डिलाइट) = आनन्द का अनुभव करना। frighten off (फ्राइटेन ऑफ़) = भय दिखाकर भगाना। stray (स्ट्रे) = भटक जाना। tinkling bells = टन-टन बजने वाली घण्टियाँ। pretty sight (प्रिटि साइट) = सुहावना दृश्य। cowherd (काउहःड) = चरवाहा। pasture (पैश्चें) = चरागाह। quietly (क्वायट्लि) = चुपचाप। brushwood (ब्रश्वुड) = झाड़ी। procession (पॅसेशन) = जुलूस । sun-baked path (सन बेक्ट पाथ) = धूप से तप्त राह। twilight (ट्वाइलाइट) = शाम का धुंधलका। before dawn (बिफ़ोर डॉन) = सूर्योदय से पहले।

हिन्दी अनुवाद-सुबह जल्दी ही गडरियों की देख-रेख में वे (गायें) चली जाती और शाम तक, सूरज डूबने के आस-पास तक नहीं लौटी। काश भारतीय गायों का उस प्रकार आना-जाना मैं आपको दिखा पाती। ये गायें अत्यन्त सज्जन जीव हैं, जिनकी बड़ी-बड़ी बुद्धिमत्तापूर्ण (गंभीर) आँखें, जिनके कन्धों के बीच एक बड़ा कूबड! ये हमारे (इंग्लैण्ड के) पशुओं की तरह न तो डरपोक हैं, न जंगली। क्योंकि भारत में हर हिन्दू इन्हें प्यार करता है। उस शुष्क तथा गर्म देश में ये अत्यन्त उपयोगी एवं बहुमूल्य होती हैं तथा इन्हें छेड़ने अथवा डराने की अनुमति किसी को नहीं दी जाती। बल्कि छोटी लड़कियाँ सवेरे इनके पास आकर इन्हें थपथपाती हैं, इन्हें खाना देती हैं ओर इनकी गर्दन में फूलों की मालाएँ पहनाती हैं। इन्हें गीत सुनाती हैं और इनके पैरों के आगे फूल भी बिखेरती हैं! और ऐसा प्रतीत होता है कि ये गायें यह अनुभव करती हैं कि ये उसी परिवार की हैं, ठीक उसी तरह जिस तरह हमारी बिल्लियाँ एवं कुत्ते अनुभव करते हैं। यदि वे गाँव में रहती हैं तब ये दिन के समय घास चरने के लिए बाहर ले जाये जाने में आनन्द अनुभव करती हैं; परन्तु जंगली जानवरों को भगाने के लिए तथा ये देखने के लिए कि ये कहीं दर भटक न जायें इनके साथ किसी का जाना आवश्यक हो जाता है। वे टन-टन वाली छोटी घण्टियाँ पहनती हैं और जब ये अपने सिरों को हिलाती हैं तो घण्टियाँ मानो कहती हैं-‘यहाँ!’ यहाँ और रात्रि बिताने के लिए गाँव जाने का समय होने पर ये बहुत ही सुहावना दृश्य प्रस्तुत करती हैं। एक चरवाहा चरागाह के किनारे खड़ा होकर पुकारता है और दूसरा पशुओं के पीछे जाता है, ताकि उन्हें अपनी ओर हाँककर ला सके, इस प्रकार ये इधर-उधर से चुपचाप आगे चली आती हैं, कभी-कभी तो ये राह के झाड़-जंगल को तोड़ते हुए आ जाती हैं। जब चरवाहे आश्वस्त हो जाते हैं कि ये सब की सब सुरक्षित हैं तब वे घर की ओर चल पड़ते हैं- एक आगे राह दिखाता हुआ और दूसरा पीछे से लाता हुआ, और गायें उनके बीच एक लम्बा जुलूस बना देती हैं। जब ये चलती हैं तब धूप से तप्त राह की धूलि को पैरों से उड़ाती रहती हैं, तब ऐसा लगता है ये एक बादल में से होकर चल रही हैं जिसे सूर्यास्त की आखिरी किरणें छूती रहती हैं। इसीलिए भारतवासी शाम के धुंधलके को ‘गोधूलि वेला’ कहते हैं। यह बड़ा ही शान्त एवं सुन्दर क्षण होता है। पूरे गाँव में बच्चों के खेलने की आवाज सुनी जा सकती है। गाँव के पुरुष किसी पुराने पेड़ के नीचे चारों और बैठकर बातें करते हैं और महिलाएं अपने घरों में गपशप अथवा प्रार्थना करती रहती हैं। कल सूर्योदय के पहले पुनः सभी अपने काम में जुट जायेंगे, पर यह तो विश्राम एवं आनन्द का समय है।

Unit B Such was ……….. ever heard.(Pages 44-45)

Word-meanings : delightful (डिलाइट्फ़ल) = मनोहर। rough (रफ़) = ऊबड़-खाबड़। peeped out (पीप्ट आउट) = झाँक रहा था। carved (काव्ड) = खुदाई की गयी थी। mound (माउण्ड्) = टीला। whoop (हूप) = a shout of joy, खुशी से चिल्लाने की आवाज़। cases (केसिज़) = मामले, मुकदमे। trials (ट्रायल्ज़) = मुकदमे की सुनवाई। straighten (स्ट्रेटेन) = सीधा करना। grave (ग्रेव) = गम्भीर । whispering (व्हिस्परिंग) = कानाफूसी करना। humbly (हम्ब्लि ) = नम्रतापूर्वक। your worship = धर्मावतार, पूज्य । be pleased = कृपा करेंगे। stated (स्टेटिड) = प्रस्तुत किया। strange (स्ट्रेन्ज) = विचित्र । frolicsome (नॉलिक्सम) = मजाकिया। lads (लैड्ज़) = लड़के, छोकरे। gravity (ग्रेविटि) = गम्भीरता। particular (प:टिक्यलें) = विशेष।

हिन्दी अनुवाद-उज्जैन के आस-पास के गाँवों में चरवाहों का जीवन ऐसा ही था। इनकी संख्या काफी थी और चरागाहों में बड़े दिनों में उनके पास मनोविनोद के लिए काफी कुछ रहता था। एक दिन उन्हें एक खेल का मैदान मिला। ओह, यह मैदान बहुत ही सुन्दर था। पेड़ों के नीचे की जमीन ऊबड़-खाबड़ थी। जहाँ-तहाँ, बड़े-बड़े पत्थरों के किनारे जमीन के बाहर झाँक रहे थे, और इनमें से कई पत्थरों पर सुन्दर खुदाई की गयी थी। बीच में एक हरा टीला था जो ठीक एक न्यायाधीश के आसन के समान दिख रहा था। उन लड़कों में से कम से कम एक ने ऐसा ही सोचा तथा वह खुशी से चिल्लाने की आवाज़ के साथ आगे दौड़ा और उस पर बैठ गया। वह चिल्लाया, “लड़कों, मैं कहता हूँ मैं न्यायाधीश बनूँगा और तुम सभी लोग मेरे सम्मुख अपने मुकदमे लाओ और मैं उनकी सुनवाई करूँगा!” फ़िर उसने न्यायाधीश की भूमिका अदा करने के लिए अपने चेहरे को सीधा तान लिया व अत्यन्त गम्भीर बना लिया। दूसरों ने तुरन्त इस मजाक को समझ लिया और आपस में कुछ फुसफुसाकर शीघ्र ही एक झगड़ा बना लिया और उसके पास आये और नम्रतापूर्वक बोले, “क्या धर्मावतार मेरे पड़ोसी और मेरे बीच के झगड़े का निपटारा करेंगे कि हममें से कौन सही है?” तब उन्होंने अपना-अपना पक्ष प्रस्तुत किया। एक ने कहा कि अमुक जमीन मेरी है, दूसरे ने कहा कि नहीं, इसकी नहीं है। इसी प्रकार बातें होती रहीं। लेकिन अब एक विचित्र चीज महसूस होने लगी। जब जज टीले पर बैठा था तब वह एक आम लड़का ही था। परन्तु जब वह प्रश्न सुन चुका तो वह उन मजाकिया लड़कों की आँखों में भी बिल्कुल भिन्न दिखायी पड़ने लगा। अब वह गम्भीरता से भरा था और मजाक में उत्तर देने की बजाय उसने मुकदमे को गम्भीरता से लिया और ऐसा उत्तर दिया जो इस विशेष मुकदमे में शायद वह सर्वाधिक बुद्धिमत्तापूर्ण उत्तर था जैसा मनुष्य ने कभी सुना था।

The boys ……………… were settled. (Page 45)

Word-meanings : tone and manner (टोन एण्ड मैनें) = स्वर और तौर-तरीका। impressive (इम्प्रेसिव) = प्रभावशाली। concocted (कन्कॉक्टिड) = मनगढन्त। incontrovertible (इन्कण्ट्रोवःटिब्ल) = अकाट्य। propounded (गॅपाउण्डिड) = उत्तर के लिए लाया गया। perplexing (प:प्लेक्सिंग) = जटिल। would set = बैठाते थे। dispute (डिस्प्यूट) = झगड़ा। spirit (स्पिरिट) = भावना। justice (जस्टिस) = न्याय। gradually (ग्रेज्यअलि) = शनैः-शनैः, धीरे-धीरे। law suits (लॉ सूट्स) = कानूनी मुकदमे। neighbourhood (नेबःहुड) = आस-पड़ोस के, इलाके के। settled (सैट्ल्ड ) = निर्णीत हो जाते, तय हो जाते।

हिन्दी अनुवाद-लड़के थोड़ा भयभीत हो गये। यद्यपि वे निर्णय का महत्त्व समझने में असमर्थ थे, फिर भी उसका स्वर एवं तरीका विचित्र एवं प्रभावोत्पादक था। इसके बावजूद वे इसे मजाक ही समझते रहे और पुनः दूर जाकर और बहुत सारी कानाफूसी करके एक दूसरा मुकदमा बनाकर ले आये। एक बार फिर उन्होंने इसे अपने जज के सम्मुख रखा और एक बार और उसने जवाब दिया मानो यह जवाब उसके दीर्घकालीन अनुभव की गहराई से और अकाट्य बुद्धिमत्ता के साथ आया हो। और ऐसा घण्टों चलता रहा, वह जज के आसन पर बैठे-बैठे दूसरों के प्रश्नों को ध्यान से सुनता रहा और सदा उसी आश्चर्यजनक गम्भीरता एवं शक्ति से निर्णय देता रहा। फिर अन्त में गायों को घर ले जाने का समय हो गया; और इसलिए तब वह अपने स्थान से कूद कर नीचे आ गया और ठीक किसी अन्य चरवाहे के समान हो गया। लड़के उस दिन को कभी नहीं भूल सके, जब कभी वे कोई पेचीदा विवाद सुनते तब वे इस लड़के को उस टीले पर बैठा देते और उसके सामने यह विवाद प्रस्तुत करते। और हमेशा वही बात घटित होती। ज्ञान और न्याय की भावना उसमें समा जाती और वह उन्हें सच्चाई से अवगत करा देता। पर जब वह उस आसन से नीचे उतर आता तब वह दूसरे लड़कों से जरा भी भिन्न नहीं होता था। धीरे-धीरे यह खबर सम्पूर्ण देहाती इलाके में फैल गयी और उस भाग के सभी गाँवों के वयस्क स्त्री एवं पुरुष अपने मुकदमों के निर्णय के लिए हरे वृक्षों के नीचे घास पर स्थित उस चरवाहे की कचहरी में आने लगे। उन्हें ऐसा निर्णय मिलता जिसे दोनों पार्टियाँ समझ लेती और सन्तुष्ट होकर चली जाती। इस प्रकार उस इलाके के सारे झगड़े तय हो जाते।

Unit C Now Ujjain ………. the people.(Pages 45-46)

‘Word-meanings : ceased to be (सीज़्ड ट बी) = नहीं रह गया था। hence (हेन्स) = इसलिए। judgement seat (जज्मण्ट सीट) = न्याय-सिंहासन। chronicles (क्रॉनिकल्ज़) = इतिहास। ruins (रुइन्ज़) = अवशेष, खण्डहर। yonder (यॉन्डर) = वहाँ। meadows (मीडोज़) = घास के मैदान। sovereign (सॉवरिन) = राजा। to be possessed with (ट बी पॅजेस्ट विद्) = प्राप्त करने की। ignorant (इग्नोरण्ट) = अज्ञानी। brings it (ब्रिग्स इट) = योग्यता प्राप्त होती है। descend (डिसेण्ड) = नीचे आना। just judge (जस्ट जज) = उचित न्याय देने वाला न्यायाधीश। grassy knoll (ग्रासि नॉल) = घास से भरा.वह टीला। was overturned (वाज ओव:टर्ड) = गिरा दिया गया। upturned sod (अपट:न्ड सॉड) = उजड़ा हुआ घास का मैदान। further afield (Idiom) (फरदर अफील्ड) = far away from home; घर से (यहाँ) उस घास के मैदान से दूर। had to be driven = भगा दिया गया। sorrowful (सॉरोफ़ल) = दुखी। came on something = (मजदूरों को) कोई चीज मिली। outspread wings (आउट्स्प्रेड विंग्ज़) = फैले हुए पंख। stone angels (स्टोन एंजिल्ज़) = पत्थर के देवदूत। with great rejoicings (विद् ग्रेट रिजॉइसिंग्ज) = बड़े आनन्द एवं उत्साह के साथ। the king himself stood by = राजा स्वयं वहाँ उपस्थित था। ascend (असेण्ड) = सिंहासन पर बैठना। publicly (पब्लिक्लि) = सार्वजनिक रूप से।

हिन्दी अनुवाद-अब उज्जैन बहुत दिनों से राजधानी नहीं रहा था और राजा अब बहुत दूर रहने लगे थे, इसलिए उन्हें यह कहानी कुछ समय बाद सुनने को मिली लेकिन अन्त में यह बात उनके कानों तक पहुँच ही गयी। वह बोल उठे, “वह लड़का निश्चय ही विक्रमादित्य के न्याय के सिंहासन पर बैठा होगा।” उसने इसे यों ही, बिना कुछ सोचे-विचारे ही कह दिया, किन्तु उनके चारों ओर विद्वान थे जिन्हें इतिहास की जानकारी थी। वे एक-दूसरे की ओर देखने लगे। उन्होंने कहा, “राजा सत्य ही कह रहे हैं; उन चरागाहों के खण्डहरों में ही कभी विक्रमादित्य का महल था।” अब इस राजा को बहुत दिनों से कानून और न्याय की भावना प्राप्त करने की अभिलाषा थी। हर रोज उसके सामने समस्याएँ एवं पेरशानियाँ आती और वह अक्सर इन बातों के निर्णय में दुर्बलता एवं अज्ञानता अनुभव करता जिनके लिए बुद्धिमत्ता एवं सबलता की आवश्यकता थी। उसने सोचा, “यदि टीले पर बैठने से एक चरवाहे में यह योग्यता प्राप्त होती है तो हम खूब गहरा खोदकर क्यों नहीं उस न्याय-सिंहासन को खोज निकालें। मैं उसे अपने न्याय के हॉल में मुख्य स्थान पर रखूगा और सभी मामलों को मैं उसी पर बैठकर सुनूँगा। तब विक्रमादित्य की आत्मा मुझमें भी प्रवेश कर जायेगी और तब मैं सदा न्यायी जज बन जाऊँगा!” इसलिए लोग कदालों तथा अन्य औजारों के साथ उस चरागाह की प्राचीन शान्ति को भंग करने के लिए वहाँ आ पहुँचे, और घास से भरा वह टीला जहाँ लड़के खेला करते थे गिरा दिया गया। उस स्थान के चारों ओर अब वहाँ मिट्टी, टूटी लकड़ियों तथा खुदी हुई (उजड़ी हुई) घास का ढेर जमा हो गया। और गायों को उस घास के मैदान से अगले मैदान में भगा दिया गया। किन्तु जो लड़का न्यायाधीश बनता था, उसका हृदय दुःख से भर गया, ऐसा प्रतीत होता था मानो उसकी आत्मा का घर ही उससे छीना जा रहा था। अन्त में मजदूरों को एक चीज मिली। उन्होंने इसको निकाला-एक काले संगमरमर की पट्टी जो कि पच्चीस पत्थर के देवदूतों के हाथों तथा उनके फैले पंखों पर स्थित थी; उनके चेहरे उस समय बाहर की ओर थे मानो वे उड़ने वाले हों-निश्चय ही विक्रमादित्य का न्याय-सिंहासन। बड़े आनन्द एवं उत्साह के साथ यह नगर में लाया गया, और जब वह (सिंहासन) न्याय के हॉल के मुख्य स्थान में रखा जा रहा था तब राजा स्वयं वहाँ मौजूद था। तब राष्ट्र को तीन दिनों की प्रार्थना एवं उपवास रखने का आदेश दिया गया, क्योंकि चौथे दिन राजा प्रजा की उपस्थिति में नये सिंहासन पर बैठने वाला, और लोगों को ठीक-ठीक न्याय देने वाला था।

At last …………. Vikramaditya. (Pages 46-47)

Word-meanings : the great morning = वह महत्त्वपूर्ण या महान सुबह। the priests (द प्रीस्ट्स) = पुजारीगण। sovereign (साविन) = राजा। prostrated (प्रॉस्ट्रेटिड) = अपने सिर से भूमि को स्पर्श करते हुए माथा टेका। close up (क्लोज़ अप) = एकदम समीप। thine (दाइन) = तुम्हारा। countenance (काउण्टनन्स) = चेहरे का भाव। as if (ऐज इफ़) = मानो। a long array of tyrannical wishes = निरंकुश आशाओं की एक लम्बी सूची। unjust (अन्जस्ट) = अन्यायपूर्ण । pause (पॉज़) = विराम। worthy (व:दि) = योग्य, लायक। thou (दाउ) = तुम। thy (दाइ) = तुम्हारा। will (विल) = अभिलाषा, इच्छा। royal (रॉयल) = राजकीय। retreat (रिट्रीट) = वापसी। essay to sit (एसे ट सिट) = बैठने का प्रयत्न करना। more searching (मोर स:चिंग) = अधिक सूक्ष्म। coveted (कविटिड) = प्राप्त करने की इच्छा की। riches (रिचिज़) = सम्पत्ति । yea (या) = हाँ। commanded (कमाण्डिड) = आदेश दिया। the blue (द ब्लू) = आसमान। the hundredth day = सौवाँ दिन। conscience (कॉन्शन्स) = अन्त:करण। prisoner (प्रिज्नर) = कैदी। ponder (पॉण्डर) = सोच-विचार करना। mystery (मिस्ट्रि) = रहस्य।

हिन्दी अनुवाद-अन्ततोगत्वा वह महान् सुबह आ पहुँची और सिंहासन पर बैठने का दृश्य देखने के लिए भीड़ जमा हो गयी। लम्बे हॉल से होकर धीरे-धीरे चलते हुए राज्य के न्यायधीश एवं पुजारी आये, तत्पश्चात् राजा आया। जब वे न्याय-सिंहासन के पास पहुंचे तब वे दो पंक्तियों में बँट गये, और वह बीच में चल रहा था, इसके सामने माथा टेक कर वह संगमरमर की पट्टी के समीप आया। ऐसा करके वह बैठने ही वाला था कि पच्चीस देवदतों में से एक ने बोलना शुरू किया। उसने कहा, “रुको! क्या तुम सोचते हो कि तुम विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठने लायक हो? क्या तुमने कभी ऐसी अभिलाषा नहीं की कि उन राज्यों पर भी शासन करूँ जो तुम्हारे नहीं हैं?” और पाषाण देवदूत का चेहरा दु:ख के भाव से भर गया। इन शब्दों को सुनते ही राजा ने अनुभव किया कि मानो उसके अन्त:करण में एक ज्वाला प्रज्ज्वलित हो उठी हो और उसने उसकी निरंकुश अभिलाषाओं की एक लम्बी सूची दिखा दी हो। वह जानता था कि उसका अपना जीवन अन्यायपूर्ण रहा है। बहुत देर रुककर वह बोला, ‘नहीं, मैं उस लायक नहीं हूँ।’ देवदूत ने कहा, ‘तीन दिनों तक और उपवास एवं प्रार्थना करो, ताकि तुम अपनी इच्छा को पवित्र कर सको और उसके बाद अपने को इस पर बैठने का अधिकारी पाओ।’ इन शब्दों के साथ उसने अपने पंख फैलाये और उड़ गया और जब राजा ने अपना सिर उठाया तो पाया कि वक्ता का स्थान खाली था तथा केवल चौबीस आकृतियाँ ही संगमरमर की पट्टी को उठाये हुई थीं। और इसलिए तीन दिनों तक और शाही वापसी हुई, और उसने प्रार्थना और उपवास के साथ अपने को तैयार किया और पुनः विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठने का प्रयत्न किया। किन्तु इस बार भी पहले जैसा ही हुआ। एक दूसरे पाषाण देवदूत ने उसे सम्बोधित किया और उससे एक प्रश्न पूछा जो और भी अधिक सूक्ष्म था। उसने कहा, ‘क्या तुमने दूसरे की सम्पति हड़पने की इच्छा कभी नहीं की?’ और अन्त में उसने कहा, ‘हाँ, मैंने ऐसा किया है। मैं विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठने लायक नहीं हूँ।’ उस देवदूत ने उसे और तीन दिनों तक उपवास एवं प्रार्थना करने का आदेश दिया। उसने अपने पंख फैलाये और आसमान में उड़ गया। अन्ततोगत्वा छियानवे दिनों की अवधि बीत गई, फिर भी तीन और दिनों का उपवास। अब यह सौवाँ दिन था। केवल एक ही देवदूत रह गया था जो संगमरमर की पट्टी को उठाये था और राजा बहुत विश्वास के साथ नजदीक आया, क्योंकि उसे पूर्ण विश्वास था उसे स्थान ग्रहण की अनुमति मिल जायेगी। पर ज्यों ही वह समीप आया और उसने दण्डवत् किया। अन्तिम देवदूत बोला, ‘हे राजन्, क्या आप पूर्ण हृदय से सच्चे हैं? क्या आपका हृदय एक बच्चे के समान है? यदि ऐसा है तो आप वास्तव में इस स्थान पर बैठने योग्य हैं।’ ‘नहीं’, राजा ने बहुत धीमे स्वर में कहा और पुनः एक बार अपने अन्त:करण को टटोला, ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार न्यायाधीश कठघरे में खड़े कैदी की जाँच करता है, किन्तु अत्यन्त उदासी के साथ कहा, ‘नहीं, मैं उस लायक नहीं हूँ।’ इन्हीं शब्दों के बाद अपने सिर पर संगमरमर की पट्टी उठाये देवदूत हवा में उड़ गया। उस दिन से उसे (सिंहासन को) कभी पृथ्वी पर नहीं देखा गया। परन्तु जब राजा होश में आया और एकान्त में था, तब उसने उस बात पर विचार किया और समझ गया कि अन्तिम देवदूत ने रहस्य को बिल्कुल स्पष्ट कर दिया था। केवल वही जो हृदय से एक छोटे बच्चे की तरह शुद्ध है, पूर्णरूपेण न्यायी हो सकता है। यही कारण था कि जंगल का चरवाहा लड़का विक्रमादित्य के उस न्याय-सिंहासन पर बैठ सका जहाँ संसार का कोई भी राजा नहीं बैठ सका था।

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English

—————————————————————————–

All Subject RBSE Solutions For Class 9

*************************************************

I think you got complete solutions for this chapter. If You have any queries regarding this chapter, please comment on the below section our subject teacher will answer you. We tried our best to give complete solutions so you got good marks in your exam.

If these solutions have helped you, you can also share rbsesolutionsfor.com to your friends.

————————————————————

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड कक्षा 9वीं की अंग्रेजी सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English notes will help you.

राजस्थान बोर्ड कक्षा 9 English के सभी प्रश्न के उत्तर को विस्तार से समझाया गया है जिससे स्टूडेंट को आसानी से समझ आ जाये | सभी प्रश्न उत्तर Latest Rajasthan board Class 9 English syllabus के आधार पर बताये गए है | यह सोलूशन्स को हिंदी मेडिअम के स्टूडेंट्स को ध्यान में रख कर बनाये है |

In this chapter, we provide RBSE Solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya, Which will very helpful for every student in their exams. Students can download the latest RBSE Solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya pdf, free RBSE Solutions Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya book pdf download. Now you will get step by step solution to each question.

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Textual questions

Comprehension

(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
King Vikramaditya was known
(a) For politics
(b) For administration
(c) For justice
(d) None
Answer:
(c) For justice

Question 2.
The story “The Judgement Seat of Vikramaditya’ highlights the importance of
(a) Purity
(b) Straightforwardness
(c) Impurity
(d) Dedication
Answer:
(a) Purity

Question 3.
The judgement seat of Vikramaditya was discovered by
(a) Shepherds
(b) Tribals
(c) Brahmins
(d) Kshatriyas
Answer:
(a) Shepherds

(B) Answer the following questions in about 10-15 words each:

Question 1.
What qualities of head and heart made Vikramaditya a well-loved king ?
विक्रमादित्य के किन मानसिक व आत्मिक गुणों ने उसे प्यारा राजा बना दिया था?
Answer:
He was strong, true and gentle by head and heart. These qualities made him a well loved king.
वह मन व आत्मा से मजबूत, सच्चा तथा विनम्र था। इन गुणों ने उसे एक प्यारा राजा बना दिया।

Question 2.
How long ago,_roughly, did Vikramaditya rule over Malwa ? Does the present story belong to his time ?
लगभग कितने वर्षों पूर्व विक्रमादित्य ने मालवा पर शासन किया था? क्या हाल की कहानी उसके समय से संबंधित है?
Answer:
Vikramaditya ruled over Malwa in the year 57 before Christ. No, the present story does not belong to his time.
विक्रमादित्य ने मालवा पर 57 ईस्वी पूर्व शासन किया था। नहीं, हाले की कहानी उसके समय से संबंधित नहीं है।

Question 3.
Who do you think the writer is talking to: Indians or people from other countries ?
आपके विचार से लेखिका किससे बात कर रही है : भारतीयों से या दूसरे देश के लोगों से?
Answer:
The writer is talking to the people from other countries.
लेखिका दूसरे देश के लोगों से बातचीत कर रही है।

Question 4.
Why is the cow a special animal for many Indians ?
गाय बहुत से भारतीयों के लिए एक विशेष पशु क्यों है?
Answer:
The cow is a special animal for many Indians because they worship it for being very precious and useful.
गाये बहुत से भारतीयों लिए विशेष पशु है क्योंकि वे इसके लाभप्रद तथा उपयोगी होने के कारण इसकी पूजा करते हैं।

Question 5.
Mark the rhythm of the language and note how the writer has been successful in creating an evocative picture of an evening in rural India ?
भाषा की तारतम्यता (लय) बताइये, और बताइये कि ग्रामीण भारत में संध्याकालीन भावनात्मक (अथवा जीवन्त) तस्वीर को उकेरने में लेखिका कैसे सफल रही हैं?
Answer:
The rhythm is simple and coherent. By describing the scene of twilight very vividly,
the writer has successfully presented rural India.
लय सादा व समरूप है। गोधूलिवेली के दृश्य का बहुत सजीव वर्णन करते हुए लेखिका ने ग्रामीण भारत को सफलतापूर्वक प्रस्तुत किया है।

(C) Answer the following questions in about 20-30 words each:

Question 1.
Why did the boys feel ‘a little frightened’ even though they were just playing at court scenes ?
लड़के थोड़े डरे हुए क्यों थे यद्यपि वे केवल अदालत के दृश्य का खेल ही खेल रहे थे?
Answer:
The boys felt ‘a little frightened even though they were just playing at court scenes because the tone and manner of the boy sitting on the seat were strange and impressive.
लड़के थोड़े डरे हुए थे यद्यपि वे केवल अदालत के दृश्य का खेल ही खेल रहे थे क्योंकि उस सिंहासन पर बैठे लड़के की आवाज तथा तरीका बिल्कुल ही भिन्न तथा प्रभावशाली थे।

Question 2.
How was the boy’s conduct when he was on the seat different from his normal behaviour?
जब वह लड़का सिंहासन पर बैठा हुआ था तो उसका व्यवहार उसके साधारण व्यवहार से किस प्रकार
से भिन्न था?
Answer:
When the boy was on the seat, he was full of gravity and power. He took the cases seriously and gave the wisest answers.
जब वह लड़का सिंहासन पर बैठा हुआ था तो वह गंभीर तथा शक्तिशाली हो जाता था। वह मामलों को गंभीरता से लेता था तथा सबसे अधिक बुद्धिमानीपूर्वक जवाब देता था।

Question 3.
How did the king react when he heard of the court of the herd-boys ?
उस राजा ने कैसी प्रतिक्रिया व्यक्त की जब उसने ग्वाले लड़कों की अदालत के बारे में सुना?
Answer:
When the king heard of the court of the herd-boys, he said that the boy must have sat on the Judgement-Seat of Vikramaditya.
जब उस राजा ने ग्वाले लड़कों की अदालत के बारे में सुना तो उसने कहा कि वह लड़का अवश्य ही विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठा होगा।

Question 4.
Why did the king want to have the judgement-seat of Vikramaditya ? Were his intentions good or bad ?
वह राजा विक्रमादित्य के न्याय सिंहासन को क्यों पाना चाहता था? क्या उसके इरादे अच्छे थे या बुरे ?
Answer:
The king wanted to have the judgement seat of Vikramaditya because he wanted to be possessed with the spirit of law and justice. His intentions were good.
वह राजा विक्रमादित्य का न्याय सिंहासन इसलिए पाना चाहता था क्योंकि वह कानून तथा न्याय की भावना से सम्पन्न होना चाहता था। उसके इरादे अच्छे थे।

Question 5.
How was the king prevented again and again from taking Vikramaditya’s seat?
राजा को बारम्बार विक्रमादित्य के सिंहासन पर बैठने से कैसे रोका गया?
Answer:
The king was prevented again and again from taking Vikramaditya’s seat by the questions asked by the stone angles and suggestions to observe fast for three days to purify his soul.
राजा को बारम्बार विक्रमादित्य के सिंहासन पर बैठने से पाषाण के देवदूतों के द्वारा पूछे गये प्रश्नों तथा पवित्र होने के लिए तीन दिन तक उपवास करने की सलाह से रोका गया।

Question 6.
What was the last angel’s question? What is the significance of this question?
अंतिम देवदूत का क्या प्रश्न था? इस प्रश्न का क्या महत्व है ?
Answer:
The last angel’s question was if the king was perfectly pure in heart. The significance of this question was that the story highlights the importance of purity.
उस अंतिम देवदूत्र का प्रश्न था कि क्या राजा को हृदय पूर्णतः पवित्र था। इस प्रश्न का महत्व यह है कि यह कहानी पवित्रता के महत्व पर जोर देती है।

(D) Answer the following questions in about 60-80 words each:

Question 1.
Why is Vikramaditya known as the greatest judge in India ?
विक्रमादित्य को भारत का सबसे बड़ा न्यायाधीश क्यों माना। जाता है?
Answer:
Vikramaditya was a popular king of Malwa in 57 B.C. He was a strong and gentle ruler who cared for his people. He was generous and had a great and tender heart. He was loved by his subjects who almost worshipped him even when he was living. He is also known as the greatest judge in history. He never punished any innocent person and he was never deceived by wrong-doers. The guilty trembled as they came before him because they knew that his eyes would look straight into their guilt.

विक्रमादित्य ईसा से 57 वर्ष पूर्व मालवा के लोकप्रिय राजा थे। वह पराक्रमी होने के साथ स्नेहशील शासक भी थे जिन्हें अपनी प्रजा के सुख-चैन की सदैव चिंता रहती थी। वे उदार थे और उनका हृदय विशाल तथा कोमल था। उनकी प्रजा उनके जीवनकाल में ही उनकी पूजा-सी करने लगी थी। इतिहास में उनकी गणना सबसे बड़े न्यायाधीश के रूप में होती है। उन्होंने कभी किसी निर्दोष को दण्डित नहीं किया, और अपराधी कभी उनकी आँखों में धूल नहीं झोंक सकते थे। दोषी लोग उनके सामने आते ही काँपने लगते थे क्योंकि वे जानते थे कि उनकी आँखें सीधे ही उनके अपराध को भाँप लेंगी।

Question 2.
Why could the shepherd boy sit on the judgement seat and not the king ?
न्याय सिंहासन पर गड़रिया लड़का क्यों बैठ पाया, राजा क्यों नहीं ?
Answer:
Vikramaditya was renowned for giving just decisions. Just decisions can be pronounced by such judges whose hearts are pure like small children. Vikramaditya himself was an example of such a person. The innocent shepherd boy could sit on the judgement seat as he was a child with a very pure heart. The king of Ujjain was not such a person with a really pure and innocent heart. So he was not worthy to sit on the judgement seat.

विक्रमादित्य एकदम सही एवं न्यायोचित निर्णय देने के लिए विख्यात थे। इस प्रकार को सही निर्णय केवल वही न्यायाधीश दे सकता था जिसका हृदय एक छोटे बालक के हृदय के समान पूर्णतः शुद्ध एवं पवित्र हो। विक्रमादित्य स्वयं ऐसे व्यक्तित्व के उदाहरण थे। गड़रिया लड़का बालक तो था ही, वह निष्कलंक और एकदम शुद्ध हृदय वाला था, इस कारण वह न्याय सिंहासन पर बैठ सका। उज्जैन के राजा का हृदय पवित्र नहीं था। इसलिए वह न्याय सिंहासन पर बैठने योग्य नहीं था।

(E) Say whether the following are True or False. Write ‘T’ for True and ‘F’ for False in the bracket :

  1. Vikramaditya became the King of Malwa in the year 57 year before Christ. [ ]
  2. Vikramaditya was the greatest judge in history. [ ]
  3. Vikramaditya, though the greatest King in history, was deceived several times. [ ]
  4. Sister Nivedita, the author of “The Judgement Seat of Vikramaditya’ was an Indian. [ ]
  5. The shephard boy could sit on the judgement seat of Vikramaditya because only a child could be perfectly just pure in heart. [ ]

Answer:

  1. T
  2. T
  3. F
  4. F
  5. T

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Additional Questions

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Short Answer Type Questions

Answer the following questions in about 20-30 words.

Question 1.
Who was Vikramaditya ? And what did the people of India think about him ?
विक्रमादित्य कौन था ? और भारत के लोग उसके विषय में क्या सोचते थे?
Answer:
Vikramaditya was a very just king. It is said that in the year 57 before Christ he became the king of Malwa. He was very dear to the people of India.
विक्रमादित्य एक राजा था। कहा जाता है कि ईसा से 57 वर्ष पूर्व वह मालवा का राजा बना था। भारत के लोगों के लिये वह बहत प्रिय था।

Question 2.
What did the people of Ujjain forget ?
उज्जैन के लोग क्या भूल गये?
Answer:
Though it was in Ujjain yet the poor people of Ujjain itself forgot that the heaped up ruins a few miles away had been Vikramaditya’s palace.
यद्यपि यह उज्जैन में ही था फिर भी उज्जैन कें ही गरीब लोग इस बात को भूल गये कि कुछ ही मील की दूरी पर खण्डहरों को जो ढेर है, वही विक्रमादित्य का महल था।

Question 3.
How was the judgement-seat of Vikramaditya when it was uncovered ?
विक्रमादित्य का न्याय-सिंहासन कैसा था जब उसको निकाला गया ?
Answer:
When the judgement-seat of Vikramaditya was uncovered, it was a slab of black marble, supported on the hands and outspread wings of twenty-five stone angels with-their faces turned outwards as if for flight.
जब विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन को निकाला गया तब यह एक काले संगमरमर की पट्टी थी जो कि पत्थर के पच्चीस देवदूतों के हाथों तथा उनके फैले हुऐ पंखों पर स्थित थी, उनके चेहरे बाहर की ओर थे जैसे वे उड़ने वाले हों।

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 8 The Judgement-Seat of Vikramaditya Tree Long Answer Type Questions

Answer the following questions in about 60-80 words.

Question 1.
How did people come to know about the judgement-seat of Vikramaditya ?
लोगों को विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन के विषय में पता कैसे चला ?
Answer:
There were many shepherd boys in the villages about Ujjain. One day they found a beautiful playground. Here and there the end of a great stone peeped out. Many of those . stones were beautifully carved out. In the middle the boys saw a green mound, looking like a judge’s seat. One of the boys sat on it and hearing the case when he gave the wisest answer, people came to know about this judgement-seat.

उज्जैन के आस-पास के गाँवों में बहुत सारे चरवाहे थे। एक दिन उन्हें एक खूबसूरत खेल का मैदान मिला। यहाँ-वहाँ एक बड़े से पत्थर को कोई किनारा जमीन से बाहर झाँक रहा था (दीख रहा था)। उनमें से बहुत से पत्थरों पर सुन्दर नक्काशी की हुई थी। बीच में उन लड़कों ने एक हटा टीला (सिंहासननुमा) देखा जो ठीक एक न्यायाधीश के आसन की तरह दिखता था। उनमें से एक लड़का उस पर बैठ गया। और मुकद्दमा सुनने के बाद जब उसने सर्वाधिक बुद्धिमत्तापूर्ण उत्तर दिया, (तब) लोगों को इस न्याय के सिंहासन के विषय में पता चला।

Question 2.
What did people do after knowing about the boy and the judgement-seat ?
उस लड़के व न्याय के सिंहासन के विषय में पता लगने पर लोगों ने क्या किया?
Answer:
After knowing about the boy and the judgement seat, people from all the villages about that part began to come to the boy. They came with their lawsuits to be decided in the court of the herd-boy on the grass under the green trees. The boy satisfied both the parties by his judgement. He helped them settle all the diputes. The people of Ujjain said that the boy must have sat on the judgement seat of Vikramaditya.

उस लड़के व न्याय के सिंहासन के विषय में जानने के बाद आस-पास के गाँवों के सभी लोग उसके पास आने लगे वे अपने मुकदमों के निर्णय के लिये हरे वृक्षों के नीचे घास पर स्थित चरवाहे की कचहरी में आने लगे। वह लड़का अपने निर्णय से दोनों पक्षों को संतुष्ट कर देता था। वह उनके सारे विवादों को सुलझाने में उनकी सहायता की। उज्जैन के लोगों ने कहा, ‘वह लड़का अवश्य ही विक्रमादित्य के न्याय के सिंहासन पर बैठा होगा।’

Word-meanings and Hindi Translation

Unit A Deep in the ………. land to graze.(Page 43)

Word-meanings : deep in the hearts (519 इन द हा:ट्स) = हृदय के अन्त:स्थल में। is held ever dear (इज हेल्ड एवर डीयर) = सदा से प्रिय बना हुआ है। obliged (ऑब्लाइज़्ड) = अनुगृहीत, कृतज्ञ । appealed (अपील्ड) = याचना की थी। tender (टेण्डर) = कोमल, स्नेहशील। was deceived (वाज डिसीव्ड) = ठगा गया, धोखा खाया। the guilty (द् गिल्टि) = अपराधी। guilt (गिल्ट) = अपराध। convince (कन्विन्स) = आश्वस्त करना, सन्तुष्ट करना। pronounced (प्रोनाउन्स्ट) = सुनाते या घोषित करते थे। sentence (सेन्टेन्स) = निर्णय, फैसला। with great skill = अत्यधिक कौशल के साथ। this …. country = और इस तरह की बातें सारे देश में होती थीं। heaped up ruins (हीप्ट अप रुइन्ज़) = मलबे या खण्डहरों का ढेर। fortress (फॉ:ट्रिस) = गढ़, किला। thankful (थैक्फ़ल) = कृतज्ञ। wild land (वाइल्ड लैंड) = परती जमीन अथवा जंगलात की जमीन, जंगल।

हिन्दी अनुवाद-भारतवासियों के हृदय में एक नाम सदा से प्रिय बना हुआ है और वह है विक्रमादित्य का नाम, जिसके विषय में कहा जाता है कि वह ईसा से 57 वर्ष पूर्व मालवा का राजा बना था। वह इतना शक्तिशाली एवं सच्चा तथा सज्जन था कि उसके जमाने के लोग उसकी पूजा सी करते थे और उसके बाद के सभी समयों के लोग उसके प्रति इतना कृतज्ञता-भाव रखते थे कि वे उसे प्रथम स्थान देते थे, यद्यपि उन्होंने उसे कभी देखा भी नहीं था, न उसके महान् एवं कोमल (स्नेहशील) हृदय से कुछ याचना की थी-केवल एक ही कारण था कि वे समझ सकते थे कि उसके जैसा अभी तक कोई राजा नहीं हुआ था जिसे इतना प्यार मिला था। किन्तु विक्रमादित्य के विषय में एक चीज हम लोग भी जानते हैं। उसके बारे में कहा जाता है कि वह इतिहास का महानतम न्यायाधीश था। उसने कभी धोखा नहीं खाया। उसने कभी किसी गलत आदमी को सजा नहीं दी। अपराधी उसके सामने आते ही डर से काँपने लगते थे, क्योंकि वे जानते थे कि उसकी आँखें सीधे उसके अपराध पर पड़ेंगी। जो लोग उससे कठिन प्रश्न पूछना चाहते थे और सच्चाई जानना चाहते थे, वे इस बात के लिए कृतज्ञ होते थे कि उन्हें आने की अनुमति मिलती थी, क्योंकि वे जानते थे कि उनका राजा तब तक चैन नहीं लेगा जब तक वह सारी बातें समझ न जाये और तभी वह कोई ऐसा उत्तर देगा जो सभी को सन्तुष्ट कर देगा। और इसीलिए उसके बाद भी भारत में जब कोई न्यायाधीश बहुत ही कुशलता से कोई निर्णय सुनाता था तो उसके विषय में ऐसा कहा जाता था कि ‘वह अवश्य ही विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठा होगा।’ और इस तरह की बातें सारे देश में होती थीं। इसके बावजूद उज्जैन में ही गरीब लोग इस बात को भूल गये कि कुछ ही मील की दूरी पर खण्डहरों का जो ढेर है वही उसका राजमहल था, और केवल उन्हीं धनी व विद्वान तथा बुद्धिमान लोगों को यह बात स्मरण थी जो राजा के दरबार में रहते थे (कि खण्डहरों के ढेर विक्रमादित्य के राजमहल के हैं)। . यह कहानी जो मैं आपको कहने जा रही हूँ, बहुत प्राचीनकाल की है; तथापि यह वह समय था, जब उज्जैन के प्राचीन महल एवं किला खण्डहर में बदल चुके थे और उन पर बालू का ढेर जमा हो गया था जिसने पत्थर की चट्टानों एवं पुरानी दीवार के टुकड़ों को ढक दिया था, घास और धूल जम गयी थी और पेड़ भी उग आए थे। लोगों को भूलने के लिए पर्याप्त समय भी मिला था। आज की तरह उन दिनों भी गाँवों के लोग अपनी गायों को चरने के लिए जंगल में भेज दिया करते थे।

Early in the ………… rest and joy.(Page 44)

Word-meanings : shepherd (शेफ़:ड) = गड़रिया। dusk (डस्क) = गोधूलि-वेला, सूर्यास्त का समय। hump (हम्प) = कूबड़। timid (टिमिड) = डरपोक। precious (प्रेशस) = बहुमूल्य । tease (टीज़) = चिढ़ाना। frighten (नाइटेन) = डराना। day break (डे ब्रेक) = सूर्योदय का समय। pet (पेट) = दुलारना, थपकना । strew (स्ट्र) = बिखेरना। in the country = गाँव में। delight (डिलाइट) = आनन्द का अनुभव करना। frighten off (फ्राइटेन ऑफ़) = भय दिखाकर भगाना। stray (स्ट्रे) = भटक जाना। tinkling bells = टन-टन बजने वाली घण्टियाँ। pretty sight (प्रिटि साइट) = सुहावना दृश्य। cowherd (काउहःड) = चरवाहा। pasture (पैश्चें) = चरागाह। quietly (क्वायट्लि) = चुपचाप। brushwood (ब्रश्वुड) = झाड़ी। procession (पॅसेशन) = जुलूस । sun-baked path (सन बेक्ट पाथ) = धूप से तप्त राह। twilight (ट्वाइलाइट) = शाम का धुंधलका। before dawn (बिफ़ोर डॉन) = सूर्योदय से पहले।

हिन्दी अनुवाद-सुबह जल्दी ही गडरियों की देख-रेख में वे (गायें) चली जाती और शाम तक, सूरज डूबने के आस-पास तक नहीं लौटी। काश भारतीय गायों का उस प्रकार आना-जाना मैं आपको दिखा पाती। ये गायें अत्यन्त सज्जन जीव हैं, जिनकी बड़ी-बड़ी बुद्धिमत्तापूर्ण (गंभीर) आँखें, जिनके कन्धों के बीच एक बड़ा कूबड! ये हमारे (इंग्लैण्ड के) पशुओं की तरह न तो डरपोक हैं, न जंगली। क्योंकि भारत में हर हिन्दू इन्हें प्यार करता है। उस शुष्क तथा गर्म देश में ये अत्यन्त उपयोगी एवं बहुमूल्य होती हैं तथा इन्हें छेड़ने अथवा डराने की अनुमति किसी को नहीं दी जाती। बल्कि छोटी लड़कियाँ सवेरे इनके पास आकर इन्हें थपथपाती हैं, इन्हें खाना देती हैं ओर इनकी गर्दन में फूलों की मालाएँ पहनाती हैं। इन्हें गीत सुनाती हैं और इनके पैरों के आगे फूल भी बिखेरती हैं! और ऐसा प्रतीत होता है कि ये गायें यह अनुभव करती हैं कि ये उसी परिवार की हैं, ठीक उसी तरह जिस तरह हमारी बिल्लियाँ एवं कुत्ते अनुभव करते हैं। यदि वे गाँव में रहती हैं तब ये दिन के समय घास चरने के लिए बाहर ले जाये जाने में आनन्द अनुभव करती हैं; परन्तु जंगली जानवरों को भगाने के लिए तथा ये देखने के लिए कि ये कहीं दर भटक न जायें इनके साथ किसी का जाना आवश्यक हो जाता है। वे टन-टन वाली छोटी घण्टियाँ पहनती हैं और जब ये अपने सिरों को हिलाती हैं तो घण्टियाँ मानो कहती हैं-‘यहाँ!’ यहाँ और रात्रि बिताने के लिए गाँव जाने का समय होने पर ये बहुत ही सुहावना दृश्य प्रस्तुत करती हैं। एक चरवाहा चरागाह के किनारे खड़ा होकर पुकारता है और दूसरा पशुओं के पीछे जाता है, ताकि उन्हें अपनी ओर हाँककर ला सके, इस प्रकार ये इधर-उधर से चुपचाप आगे चली आती हैं, कभी-कभी तो ये राह के झाड़-जंगल को तोड़ते हुए आ जाती हैं। जब चरवाहे आश्वस्त हो जाते हैं कि ये सब की सब सुरक्षित हैं तब वे घर की ओर चल पड़ते हैं- एक आगे राह दिखाता हुआ और दूसरा पीछे से लाता हुआ, और गायें उनके बीच एक लम्बा जुलूस बना देती हैं। जब ये चलती हैं तब धूप से तप्त राह की धूलि को पैरों से उड़ाती रहती हैं, तब ऐसा लगता है ये एक बादल में से होकर चल रही हैं जिसे सूर्यास्त की आखिरी किरणें छूती रहती हैं। इसीलिए भारतवासी शाम के धुंधलके को ‘गोधूलि वेला’ कहते हैं। यह बड़ा ही शान्त एवं सुन्दर क्षण होता है। पूरे गाँव में बच्चों के खेलने की आवाज सुनी जा सकती है। गाँव के पुरुष किसी पुराने पेड़ के नीचे चारों और बैठकर बातें करते हैं और महिलाएं अपने घरों में गपशप अथवा प्रार्थना करती रहती हैं। कल सूर्योदय के पहले पुनः सभी अपने काम में जुट जायेंगे, पर यह तो विश्राम एवं आनन्द का समय है।

Unit B Such was ……….. ever heard.(Pages 44-45)

Word-meanings : delightful (डिलाइट्फ़ल) = मनोहर। rough (रफ़) = ऊबड़-खाबड़। peeped out (पीप्ट आउट) = झाँक रहा था। carved (काव्ड) = खुदाई की गयी थी। mound (माउण्ड्) = टीला। whoop (हूप) = a shout of joy, खुशी से चिल्लाने की आवाज़। cases (केसिज़) = मामले, मुकदमे। trials (ट्रायल्ज़) = मुकदमे की सुनवाई। straighten (स्ट्रेटेन) = सीधा करना। grave (ग्रेव) = गम्भीर । whispering (व्हिस्परिंग) = कानाफूसी करना। humbly (हम्ब्लि ) = नम्रतापूर्वक। your worship = धर्मावतार, पूज्य । be pleased = कृपा करेंगे। stated (स्टेटिड) = प्रस्तुत किया। strange (स्ट्रेन्ज) = विचित्र । frolicsome (नॉलिक्सम) = मजाकिया। lads (लैड्ज़) = लड़के, छोकरे। gravity (ग्रेविटि) = गम्भीरता। particular (प:टिक्यलें) = विशेष।

हिन्दी अनुवाद-उज्जैन के आस-पास के गाँवों में चरवाहों का जीवन ऐसा ही था। इनकी संख्या काफी थी और चरागाहों में बड़े दिनों में उनके पास मनोविनोद के लिए काफी कुछ रहता था। एक दिन उन्हें एक खेल का मैदान मिला। ओह, यह मैदान बहुत ही सुन्दर था। पेड़ों के नीचे की जमीन ऊबड़-खाबड़ थी। जहाँ-तहाँ, बड़े-बड़े पत्थरों के किनारे जमीन के बाहर झाँक रहे थे, और इनमें से कई पत्थरों पर सुन्दर खुदाई की गयी थी। बीच में एक हरा टीला था जो ठीक एक न्यायाधीश के आसन के समान दिख रहा था। उन लड़कों में से कम से कम एक ने ऐसा ही सोचा तथा वह खुशी से चिल्लाने की आवाज़ के साथ आगे दौड़ा और उस पर बैठ गया। वह चिल्लाया, “लड़कों, मैं कहता हूँ मैं न्यायाधीश बनूँगा और तुम सभी लोग मेरे सम्मुख अपने मुकदमे लाओ और मैं उनकी सुनवाई करूँगा!” फ़िर उसने न्यायाधीश की भूमिका अदा करने के लिए अपने चेहरे को सीधा तान लिया व अत्यन्त गम्भीर बना लिया। दूसरों ने तुरन्त इस मजाक को समझ लिया और आपस में कुछ फुसफुसाकर शीघ्र ही एक झगड़ा बना लिया और उसके पास आये और नम्रतापूर्वक बोले, “क्या धर्मावतार मेरे पड़ोसी और मेरे बीच के झगड़े का निपटारा करेंगे कि हममें से कौन सही है?” तब उन्होंने अपना-अपना पक्ष प्रस्तुत किया। एक ने कहा कि अमुक जमीन मेरी है, दूसरे ने कहा कि नहीं, इसकी नहीं है। इसी प्रकार बातें होती रहीं। लेकिन अब एक विचित्र चीज महसूस होने लगी। जब जज टीले पर बैठा था तब वह एक आम लड़का ही था। परन्तु जब वह प्रश्न सुन चुका तो वह उन मजाकिया लड़कों की आँखों में भी बिल्कुल भिन्न दिखायी पड़ने लगा। अब वह गम्भीरता से भरा था और मजाक में उत्तर देने की बजाय उसने मुकदमे को गम्भीरता से लिया और ऐसा उत्तर दिया जो इस विशेष मुकदमे में शायद वह सर्वाधिक बुद्धिमत्तापूर्ण उत्तर था जैसा मनुष्य ने कभी सुना था।

The boys ……………… were settled. (Page 45)

Word-meanings : tone and manner (टोन एण्ड मैनें) = स्वर और तौर-तरीका। impressive (इम्प्रेसिव) = प्रभावशाली। concocted (कन्कॉक्टिड) = मनगढन्त। incontrovertible (इन्कण्ट्रोवःटिब्ल) = अकाट्य। propounded (गॅपाउण्डिड) = उत्तर के लिए लाया गया। perplexing (प:प्लेक्सिंग) = जटिल। would set = बैठाते थे। dispute (डिस्प्यूट) = झगड़ा। spirit (स्पिरिट) = भावना। justice (जस्टिस) = न्याय। gradually (ग्रेज्यअलि) = शनैः-शनैः, धीरे-धीरे। law suits (लॉ सूट्स) = कानूनी मुकदमे। neighbourhood (नेबःहुड) = आस-पड़ोस के, इलाके के। settled (सैट्ल्ड ) = निर्णीत हो जाते, तय हो जाते।

हिन्दी अनुवाद-लड़के थोड़ा भयभीत हो गये। यद्यपि वे निर्णय का महत्त्व समझने में असमर्थ थे, फिर भी उसका स्वर एवं तरीका विचित्र एवं प्रभावोत्पादक था। इसके बावजूद वे इसे मजाक ही समझते रहे और पुनः दूर जाकर और बहुत सारी कानाफूसी करके एक दूसरा मुकदमा बनाकर ले आये। एक बार फिर उन्होंने इसे अपने जज के सम्मुख रखा और एक बार और उसने जवाब दिया मानो यह जवाब उसके दीर्घकालीन अनुभव की गहराई से और अकाट्य बुद्धिमत्ता के साथ आया हो। और ऐसा घण्टों चलता रहा, वह जज के आसन पर बैठे-बैठे दूसरों के प्रश्नों को ध्यान से सुनता रहा और सदा उसी आश्चर्यजनक गम्भीरता एवं शक्ति से निर्णय देता रहा। फिर अन्त में गायों को घर ले जाने का समय हो गया; और इसलिए तब वह अपने स्थान से कूद कर नीचे आ गया और ठीक किसी अन्य चरवाहे के समान हो गया। लड़के उस दिन को कभी नहीं भूल सके, जब कभी वे कोई पेचीदा विवाद सुनते तब वे इस लड़के को उस टीले पर बैठा देते और उसके सामने यह विवाद प्रस्तुत करते। और हमेशा वही बात घटित होती। ज्ञान और न्याय की भावना उसमें समा जाती और वह उन्हें सच्चाई से अवगत करा देता। पर जब वह उस आसन से नीचे उतर आता तब वह दूसरे लड़कों से जरा भी भिन्न नहीं होता था। धीरे-धीरे यह खबर सम्पूर्ण देहाती इलाके में फैल गयी और उस भाग के सभी गाँवों के वयस्क स्त्री एवं पुरुष अपने मुकदमों के निर्णय के लिए हरे वृक्षों के नीचे घास पर स्थित उस चरवाहे की कचहरी में आने लगे। उन्हें ऐसा निर्णय मिलता जिसे दोनों पार्टियाँ समझ लेती और सन्तुष्ट होकर चली जाती। इस प्रकार उस इलाके के सारे झगड़े तय हो जाते।

Unit C Now Ujjain ………. the people.(Pages 45-46)

‘Word-meanings : ceased to be (सीज़्ड ट बी) = नहीं रह गया था। hence (हेन्स) = इसलिए। judgement seat (जज्मण्ट सीट) = न्याय-सिंहासन। chronicles (क्रॉनिकल्ज़) = इतिहास। ruins (रुइन्ज़) = अवशेष, खण्डहर। yonder (यॉन्डर) = वहाँ। meadows (मीडोज़) = घास के मैदान। sovereign (सॉवरिन) = राजा। to be possessed with (ट बी पॅजेस्ट विद्) = प्राप्त करने की। ignorant (इग्नोरण्ट) = अज्ञानी। brings it (ब्रिग्स इट) = योग्यता प्राप्त होती है। descend (डिसेण्ड) = नीचे आना। just judge (जस्ट जज) = उचित न्याय देने वाला न्यायाधीश। grassy knoll (ग्रासि नॉल) = घास से भरा.वह टीला। was overturned (वाज ओव:टर्ड) = गिरा दिया गया। upturned sod (अपट:न्ड सॉड) = उजड़ा हुआ घास का मैदान। further afield (Idiom) (फरदर अफील्ड) = far away from home; घर से (यहाँ) उस घास के मैदान से दूर। had to be driven = भगा दिया गया। sorrowful (सॉरोफ़ल) = दुखी। came on something = (मजदूरों को) कोई चीज मिली। outspread wings (आउट्स्प्रेड विंग्ज़) = फैले हुए पंख। stone angels (स्टोन एंजिल्ज़) = पत्थर के देवदूत। with great rejoicings (विद् ग्रेट रिजॉइसिंग्ज) = बड़े आनन्द एवं उत्साह के साथ। the king himself stood by = राजा स्वयं वहाँ उपस्थित था। ascend (असेण्ड) = सिंहासन पर बैठना। publicly (पब्लिक्लि) = सार्वजनिक रूप से।

हिन्दी अनुवाद-अब उज्जैन बहुत दिनों से राजधानी नहीं रहा था और राजा अब बहुत दूर रहने लगे थे, इसलिए उन्हें यह कहानी कुछ समय बाद सुनने को मिली लेकिन अन्त में यह बात उनके कानों तक पहुँच ही गयी। वह बोल उठे, “वह लड़का निश्चय ही विक्रमादित्य के न्याय के सिंहासन पर बैठा होगा।” उसने इसे यों ही, बिना कुछ सोचे-विचारे ही कह दिया, किन्तु उनके चारों ओर विद्वान थे जिन्हें इतिहास की जानकारी थी। वे एक-दूसरे की ओर देखने लगे। उन्होंने कहा, “राजा सत्य ही कह रहे हैं; उन चरागाहों के खण्डहरों में ही कभी विक्रमादित्य का महल था।” अब इस राजा को बहुत दिनों से कानून और न्याय की भावना प्राप्त करने की अभिलाषा थी। हर रोज उसके सामने समस्याएँ एवं पेरशानियाँ आती और वह अक्सर इन बातों के निर्णय में दुर्बलता एवं अज्ञानता अनुभव करता जिनके लिए बुद्धिमत्ता एवं सबलता की आवश्यकता थी। उसने सोचा, “यदि टीले पर बैठने से एक चरवाहे में यह योग्यता प्राप्त होती है तो हम खूब गहरा खोदकर क्यों नहीं उस न्याय-सिंहासन को खोज निकालें। मैं उसे अपने न्याय के हॉल में मुख्य स्थान पर रखूगा और सभी मामलों को मैं उसी पर बैठकर सुनूँगा। तब विक्रमादित्य की आत्मा मुझमें भी प्रवेश कर जायेगी और तब मैं सदा न्यायी जज बन जाऊँगा!” इसलिए लोग कदालों तथा अन्य औजारों के साथ उस चरागाह की प्राचीन शान्ति को भंग करने के लिए वहाँ आ पहुँचे, और घास से भरा वह टीला जहाँ लड़के खेला करते थे गिरा दिया गया। उस स्थान के चारों ओर अब वहाँ मिट्टी, टूटी लकड़ियों तथा खुदी हुई (उजड़ी हुई) घास का ढेर जमा हो गया। और गायों को उस घास के मैदान से अगले मैदान में भगा दिया गया। किन्तु जो लड़का न्यायाधीश बनता था, उसका हृदय दुःख से भर गया, ऐसा प्रतीत होता था मानो उसकी आत्मा का घर ही उससे छीना जा रहा था। अन्त में मजदूरों को एक चीज मिली। उन्होंने इसको निकाला-एक काले संगमरमर की पट्टी जो कि पच्चीस पत्थर के देवदूतों के हाथों तथा उनके फैले पंखों पर स्थित थी; उनके चेहरे उस समय बाहर की ओर थे मानो वे उड़ने वाले हों-निश्चय ही विक्रमादित्य का न्याय-सिंहासन। बड़े आनन्द एवं उत्साह के साथ यह नगर में लाया गया, और जब वह (सिंहासन) न्याय के हॉल के मुख्य स्थान में रखा जा रहा था तब राजा स्वयं वहाँ मौजूद था। तब राष्ट्र को तीन दिनों की प्रार्थना एवं उपवास रखने का आदेश दिया गया, क्योंकि चौथे दिन राजा प्रजा की उपस्थिति में नये सिंहासन पर बैठने वाला, और लोगों को ठीक-ठीक न्याय देने वाला था।

At last …………. Vikramaditya. (Pages 46-47)

Word-meanings : the great morning = वह महत्त्वपूर्ण या महान सुबह। the priests (द प्रीस्ट्स) = पुजारीगण। sovereign (साविन) = राजा। prostrated (प्रॉस्ट्रेटिड) = अपने सिर से भूमि को स्पर्श करते हुए माथा टेका। close up (क्लोज़ अप) = एकदम समीप। thine (दाइन) = तुम्हारा। countenance (काउण्टनन्स) = चेहरे का भाव। as if (ऐज इफ़) = मानो। a long array of tyrannical wishes = निरंकुश आशाओं की एक लम्बी सूची। unjust (अन्जस्ट) = अन्यायपूर्ण । pause (पॉज़) = विराम। worthy (व:दि) = योग्य, लायक। thou (दाउ) = तुम। thy (दाइ) = तुम्हारा। will (विल) = अभिलाषा, इच्छा। royal (रॉयल) = राजकीय। retreat (रिट्रीट) = वापसी। essay to sit (एसे ट सिट) = बैठने का प्रयत्न करना। more searching (मोर स:चिंग) = अधिक सूक्ष्म। coveted (कविटिड) = प्राप्त करने की इच्छा की। riches (रिचिज़) = सम्पत्ति । yea (या) = हाँ। commanded (कमाण्डिड) = आदेश दिया। the blue (द ब्लू) = आसमान। the hundredth day = सौवाँ दिन। conscience (कॉन्शन्स) = अन्त:करण। prisoner (प्रिज्नर) = कैदी। ponder (पॉण्डर) = सोच-विचार करना। mystery (मिस्ट्रि) = रहस्य।

हिन्दी अनुवाद-अन्ततोगत्वा वह महान् सुबह आ पहुँची और सिंहासन पर बैठने का दृश्य देखने के लिए भीड़ जमा हो गयी। लम्बे हॉल से होकर धीरे-धीरे चलते हुए राज्य के न्यायधीश एवं पुजारी आये, तत्पश्चात् राजा आया। जब वे न्याय-सिंहासन के पास पहुंचे तब वे दो पंक्तियों में बँट गये, और वह बीच में चल रहा था, इसके सामने माथा टेक कर वह संगमरमर की पट्टी के समीप आया। ऐसा करके वह बैठने ही वाला था कि पच्चीस देवदतों में से एक ने बोलना शुरू किया। उसने कहा, “रुको! क्या तुम सोचते हो कि तुम विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठने लायक हो? क्या तुमने कभी ऐसी अभिलाषा नहीं की कि उन राज्यों पर भी शासन करूँ जो तुम्हारे नहीं हैं?” और पाषाण देवदूत का चेहरा दु:ख के भाव से भर गया। इन शब्दों को सुनते ही राजा ने अनुभव किया कि मानो उसके अन्त:करण में एक ज्वाला प्रज्ज्वलित हो उठी हो और उसने उसकी निरंकुश अभिलाषाओं की एक लम्बी सूची दिखा दी हो। वह जानता था कि उसका अपना जीवन अन्यायपूर्ण रहा है। बहुत देर रुककर वह बोला, ‘नहीं, मैं उस लायक नहीं हूँ।’ देवदूत ने कहा, ‘तीन दिनों तक और उपवास एवं प्रार्थना करो, ताकि तुम अपनी इच्छा को पवित्र कर सको और उसके बाद अपने को इस पर बैठने का अधिकारी पाओ।’ इन शब्दों के साथ उसने अपने पंख फैलाये और उड़ गया और जब राजा ने अपना सिर उठाया तो पाया कि वक्ता का स्थान खाली था तथा केवल चौबीस आकृतियाँ ही संगमरमर की पट्टी को उठाये हुई थीं। और इसलिए तीन दिनों तक और शाही वापसी हुई, और उसने प्रार्थना और उपवास के साथ अपने को तैयार किया और पुनः विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठने का प्रयत्न किया। किन्तु इस बार भी पहले जैसा ही हुआ। एक दूसरे पाषाण देवदूत ने उसे सम्बोधित किया और उससे एक प्रश्न पूछा जो और भी अधिक सूक्ष्म था। उसने कहा, ‘क्या तुमने दूसरे की सम्पति हड़पने की इच्छा कभी नहीं की?’ और अन्त में उसने कहा, ‘हाँ, मैंने ऐसा किया है। मैं विक्रमादित्य के न्याय-सिंहासन पर बैठने लायक नहीं हूँ।’ उस देवदूत ने उसे और तीन दिनों तक उपवास एवं प्रार्थना करने का आदेश दिया। उसने अपने पंख फैलाये और आसमान में उड़ गया। अन्ततोगत्वा छियानवे दिनों की अवधि बीत गई, फिर भी तीन और दिनों का उपवास। अब यह सौवाँ दिन था। केवल एक ही देवदूत रह गया था जो संगमरमर की पट्टी को उठाये था और राजा बहुत विश्वास के साथ नजदीक आया, क्योंकि उसे पूर्ण विश्वास था उसे स्थान ग्रहण की अनुमति मिल जायेगी। पर ज्यों ही वह समीप आया और उसने दण्डवत् किया। अन्तिम देवदूत बोला, ‘हे राजन्, क्या आप पूर्ण हृदय से सच्चे हैं? क्या आपका हृदय एक बच्चे के समान है? यदि ऐसा है तो आप वास्तव में इस स्थान पर बैठने योग्य हैं।’ ‘नहीं’, राजा ने बहुत धीमे स्वर में कहा और पुनः एक बार अपने अन्त:करण को टटोला, ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार न्यायाधीश कठघरे में खड़े कैदी की जाँच करता है, किन्तु अत्यन्त उदासी के साथ कहा, ‘नहीं, मैं उस लायक नहीं हूँ।’ इन्हीं शब्दों के बाद अपने सिर पर संगमरमर की पट्टी उठाये देवदूत हवा में उड़ गया। उस दिन से उसे (सिंहासन को) कभी पृथ्वी पर नहीं देखा गया। परन्तु जब राजा होश में आया और एकान्त में था, तब उसने उस बात पर विचार किया और समझ गया कि अन्तिम देवदूत ने रहस्य को बिल्कुल स्पष्ट कर दिया था। केवल वही जो हृदय से एक छोटे बच्चे की तरह शुद्ध है, पूर्णरूपेण न्यायी हो सकता है। यही कारण था कि जंगल का चरवाहा लड़का विक्रमादित्य के उस न्याय-सिंहासन पर बैठ सका जहाँ संसार का कोई भी राजा नहीं बैठ सका था।

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.