RBSE solutions for Class 9 English The Great Journey to the West

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English The Great Journey to the West सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English The Great Journey to the West pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English The Great Journey to the West notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 9 English Insight Chapter 5 Vivekananda: The Great Journey to the West

RBSE Class 9 English Insight Chapter 5 Vivekananda: The Great Journey to the West Textual Questions

Activity 1: Comprehension
(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
Where did Swami Vivekananda represent India as a delegate?
(a) Chicago, Parliament of small Religions
(b) Europe, Parliament of World Peace
(c) Chicago, Parliament of World Religions
(d) America, Parliament of Peace
Answer:
(c) Chicago, Parliament of World Religions

Question 2.
When was the Parliament of World Religions, Chicago held?
(a) September 11, 1863
(b) September 11, 1893
(c) September 11, 1905
(d) September 11, 1906
Answer:
(b) September 11, 1893

Question 3.
How did Swami Vivekananda address the delegates?
(a) My Dear friends
(b) Ladies and Gentlemen
(c) Sisters and Brothers of America
(d) My Dear countrymen
Answer:
(c) Sisters and Brothers of America

(B) Answer the following questions in not more than 30-40 words each:

Question 1.
What aspects of Vivekananda’s character are revealed in his ‘Journey to the west’ ?
‘पश्चिम की यात्रा’ में विवेकानन्द के चरित्र के कौन-से. पक्ष प्रकट हुए हैं?
Answer:
Vivekananda was a true sannyasin. He had firm faith in his religion, Hinduism. To spread the fraternity among religions, he undertook a journey which was very risky for him. He was a good orator and a very learned scholar.
विवेकानन्द एक सच्चे संन्यासी थे। उनका अपने हिन्दू धर्म में दृढ़ विश्वास था। धर्मों के मध्य बन्धुत्व की भावना का प्रसार करने के लिए वे एक ऐसी यात्रा पर गये जो उनके लिए अत्यन्त जोखिमपूर्ण थी। वह एक अच्छे वक्ता थे और अत्यधिक विद्वान थे।

Question 2.
How does Rolland depict the journey as an astonishing adventure?
रॉलैण्ड यात्रा का वर्णन एक विस्मयकारक जोखिम के रूप में कैसे करते हैं?
Answer:
Rolland depicts the journey as an astonishing adventure as Vivekananda went into it at random with his eyes shut. He had no idea about the climatic conditions and customs of the destination and the route as well.
रॉलैण्ड यात्रा का वर्णन एक विस्मयकारक जोखिम के रूप में करते हैं क्योंकि विवेकानन्द बिना सोचे समझे आँखें बन्द कर यात्रा पर चल पड़े थे। उन्हें गन्तव्य स्थल एवं मार्ग की जलवायु सम्बन्धी परिस्थितियों एवं रीति-रिवाजों के बारे में कोई अनुमान नहीं था।

Question 3.
How has Vivekananda represented Hinduism in the Parliament of World Religions, Chicago?
विवेकनन्द ने शिकागो में विशव के धर्मों की संसद में हिन्दू धर्म को कैसे प्रस्तुत किया है?
Answer:
In the Parliament of World Religions, Chicago Vivekananda has represented Hinduism as the mother of religions which had taught them the double precept : ‘Accept and understand one another!’
शिकागो में विश्व के धर्मों की संसद में विवेकानन्द ने हिन्दू धर्म को धर्मों की जननी के रूप में प्रस्तुत किया जिसने उन्हें दो शिक्षाएँ प्रदान क : ‘एक दूसरे को स्वीकार करो और समझो !’

Question 4.
When was the first session of the Parliament of World Religions, Chicago opened? Who from India represented the Parliament?
शिकागो में विश्व के धर्मों की संसद कब प्रारम्भ हुई? भारत का प्रतिनिधित्व संसद में किसने किया?
Answer:
The Parliament of World Religions, Chicago was opened on Monday, 11 September 1893. Protap Chunder Mozoomdar, the chief of the Brahmo Samaj with Nagarkar of Bombay represented the Indian theists in the Parliament. Gandhi represented the Jains. But it was only Vivekananda who represented India as a whole.

शिकागो में विश्व के धर्मों की संसद सोमवार, 11 सितम्बर, 1893 को प्रारम्भ हुई। ब्रह्मसमाज के प्रमुख प्रताप चन्द्र मजूमदार ने बम्बई के नागरकर के साथ संसद में भारतीय ईश्वरवादियों का प्रतिनिधित्व किया। गांधीजी ने जैनों का प्रतिनिधित्व किया। किन्तु केवल विवेकानन्द ही ऐसे थे जिन्होंने समग्र भारत का प्रतिनिधित्व किया।

Question 5.
Who was J.H. Wright? How is he associated with Vivekananda?
जे.एच. राइट कौन थे? वह विवेकानन्द से किस प्रकार सम्बद्ध हैं?
Answer:
Hellenist J.H. Wright was a professor at Harvard. He was struck by the genius of Vivekananda. He insisted that Vivekananda should represent at the Parliament of Religions. He offered him a railway ticket to Chicago and wrote to the committee for providing him free lodgings.

यूनानी विज्ञान शास्त्री जे. एच. राइट हार्वर्ड में प्रोफेसर थे। वे विवेकानन्द की प्रतिभा से आकर्षित हुए। उन्होंने आग्रह किया कि विवेकानन्द को धर्म संसद में हिन्दू धर्म का प्रतिनिधित्व करना चाहिए। उन्होंने विवेकानन्द को शिकागो का रेलवे टिकिट दिया और उन्हें नि:शुल्क आवास उपलब्ध कराने के लिए समिति को पत्र लिखा।

Question 6.
How the official religions society treated Vivekananda’s application for help?
आधिकारिक धार्मिक सोसायटी ने विवेकानन्द द्वारा मदद के लिए दिए गये प्रार्थनापत्र पर कैसा बर्ताव किया?
Answer:
The chief of the official religions society did not show any sympathy with Vivekananda’s trouble. He did not make him any grant. Instead, he sent his reply ‘Let the devil die of cold!’
आधिकारिक धार्मिक सोसायटी के प्रमुख ने विवेकानन्द की परेशानी पर कोई सहानुभूति नहीं दर्शाई। उसने उनको कोई अनुदान नहीं दिया। इसके बजाय उसने अपना उत्तर भेजा “उस दुष्ट व्यक्ति को ठण्ड में मरने दों !”

(C) Answer the following questions in 60-80 words each:

Question 1.
How does Rolland depict the western world? What were Vivekananda’s reactions ?
रॉलैण्ड पश्चिमी संसार (अर्थात् पाश्चात्य देशों) का वर्णन किस प्रकार करते हैं? विवेकानन्द की क्या प्रतिक्रियाएँ ?
Answer:
Rolland depicts the western world as more powerful, full of riches and having inventive genius. He depicts Chicago as a city that knows a thousand and one ways of making money, but it does not know to help a coloured man. Vivekananda was surprised to see the western world. Like a child he wandered, gazing, mouth agape in Chicago. Everything was new to him and both surprised and stupefied him. He succumbed to its exciting intoxication. His admiration knew no bounds.

रॉलैण्ड पश्चिमी संसार को अधिक शाक्तिशाली, वैभव सम्पन्न व आविष्कारशील प्रतिभा सम्पन्न बताते हैं। वह वर्णन करते हैं कि शिकागो ऐसा शहर है जो धन कमाने के एक हजार एक तरीके जानता है किन्तु एक अश्वेत व्यक्ति की मदद करना नहीं जानता। विवेकानन्द पश्चिमी जगत को देखकर चकित थे। वे एक बच्चे की तरह शिकागो में एकटक निहारते हुए, मुँह बाये घूमे। उनके लिए प्रत्येक वस्तु नई थी और उन्हें चकित व हक्का-बक्का कर रही थी। वे उसके उत्तेजक उन्माद के वशीभूत हो गये। उनकी प्रशंसा की कोई सीमा नहीं थी।

Question 2.
How was Vivekananda different from others in his address? What was the reaction to his speech?
विवेकानन्द अपने सम्बोधन में अन्य लोगों से किस प्रकार भिन्न थे? उनके भाषण पर क्या प्रतिक्रिया हुई?
Answer:
Vivekananda addressed the people with very simple opening words, ‘Sisters and brothers of America. No other orator had addressed the people like this. These words touched the hearts of the people there. In reaction to his address, people arose in their seats and applauded. When his speech came to an end, the Parliament of Religions gave Vivekananda an ovation.

विवेकानन्द ने लोगों को बहुत ही सामान्य प्रारम्भिक शब्द ‘अमरीका की बहनों व भाइयों …..’ से सम्बोधित किया। किसी भी अन्य वक्ता ने लोगों को इस प्रकार सम्बोधित नहीं किया था। इन शब्दों ने वहाँ उपस्थित लोगों के हृदयों को छू लिया। उनके सम्बोधन की प्रतिक्रिया में लोग अपने स्थान से खड़े हो गए और तालियाँ बजाईं। जब उनका भाषण समाप्त हुआ तो धर्म संसद ने विवेकानन्द की जय-जयकार की।

(D) Say whether the following sentences are True or False. Write ‘T for true and ‘F’ for false in the bracket :

  1. Maharaja of Jaipur had taken Swamiji’s ticket on the boat for him. [ ]
  2. J.R. Wright offered Swamiji a railway ticket to Chicago. [ ]
  3. On Monday, 11 September, 1893, the first session of the Parliament opened. [ ]
  4. Swamiji was the disciple of Ramakrishna. [ ]

Answer:

  1. (F)
  2. (T)
  3. (T)
  4. (T)

Activity 2 : Vocabulary
(A) Construct one sentence each using the following pair of words in such a way so that the difference of meaning is clear.
1. (a) astonishing = (amazing, विस्मयकारी)
I found it astonishing that you didn’t like the movie.

(b) surprising = (causing surprise आश्चर्चजनक)
It is surprising what people will do for money.

2. (a) adventure = (an unusual, exciting or dangerous experience, जोखिम, साहस कर्म)
When you are a child, life is one big adventure.

(b) enterprise = (venture, उद्यम)
The government has made grants to encourage enterprise in this region.

3. (a) credential = (document to prove your worthiness,परिचयात्मक प्रमाण – पात्र)
He has all the credentials for the job.

(b) credit = (praise or approval for something good that has happened, श्रेय)
I cannot take all the credits for the show’s success. .

4. (a) climate = (the regular patterns of weather conditions at a place, जलवायु)
The climate in Kashmir is very cold.

(b) environment = (the natural world in which people, animals and plants live, पर्यावरण)
We should not pollute the environment.

5. (a) costume = (clothes worn by someone to make one look like something someone else, वेशभूषा)
He went to the party in a giant chicken costume.

(b) clothes = (the things that we wear, वस्र)
I wore new clothes yesterday.

6. (a) delegates = (persons chosen or elected to represent the views of a group of people and vote and make decisions for them, प्रत्यायुक्त, प्रतिनिधि)
Delegates from 101 countries attended the conference.

(b) representatives = (persons chosen to speak or vote for somebody also or on behalf of a group, प्रतिनिधि)
He was the queen’s representative at the ceremony.

7. (a) recommendation = (an official suggestion about the best thing to do, सिफारिश)
The government accepted recommendations of the committee.

(b) advocacy = (the giving of public support to an idea, a course of action or belief, हिमायत; वकालंत)
Mentally ill people need advocacy from general public for their betterment.

8. (a) legendary = (very famous and talked about by a lot of people, सुप्रसिद्ध)
Mr Narendra Modi has become a legendary figure today.

(b) mythological = (connected with ancient myths, पौराणिक)
In every religion, there are a lot of mythological stories.

नोट – Legendary से तात्पर्य अत्यधिक प्रसिद्ध एवं अनुश्रुत होता है जबकि Legendry का अर्थ दन्त-कथा समूह या किंवदन्ति समूह होता है, जिसे निम्न वाक्य प्रयोग के माध्यम से समझा जा सकता हैं
(A) India has a lot of legendry in Buddism as well as in Jainism.
(B) Shivaji and Maharana Pratap have been legendary heroes in India.

(B) The words given below are the members of the root ‘Juvenile’. Make one sentence each on these words so that their meaning is clear.
1. Juvenile (तरुण, किशोर) = Juvenile crimes are increasing day by day all over the world.
2. Juvenile Court (किशोर न्यायालय) = Juvenile offenders are taken to juvenile court.
3. Juvenile delinquent (बाल-अपराधी; किशोर अपराधी) = Juvenile delinquent was sentenced for one year imprisonment.
4. Juvenilia (किशोरावस्था की रचनाएँ) Rabindranath Tagore’s juvenilia are read everywhere in Bengal.

Activity 3 : Grammar
Future time भविष्य की गतिविधि को बताने का एक तरीका यह है कि will’ या ‘shall’ के साथ क्रिया के धातु रूप का प्रयोग करें। निम्नलिखित उदाहरण को देखिये
The match will begin at 9.30 tomorrow morning. I shall write to him next week.
भविष्य के समय का सन्दर्भ be + going to’ के साथ क्रिया के धातु रूप के साथ भी किया जाता है। जैसेI am going to buy a new scooter next week. ध्यान रखें कि इस वाक्य में ‘going to’ का प्रयोग शारीरिक गतिविधि को इंगित नहीं कर रहा है। I am going to Jaipur tomorrow (जहाँ ‘going to’ शारीरिक गतिविधि इंगित करता है) तथा I am going to write a book next year.’ के मध्य अन्तर है। ‘Going to’ का प्रयोग यहाँ यह दर्शाता है कि कोई भविष्य में कोई काम करना चाहता है या भविष्य के कार्य की योजना बनाई गई हैं। अन्त में, हम भविष्य के समय को simple present tense के माध्यम से भी सन्दर्भित कर सकते हैं। जैसेThe UN secretary general visits India and Pakistan next month.

Simple present tense का प्रयोग यह दर्शाता कि कार्य जो भविष्य में होने वाला है वह उस कार्यक्रम का भाग है। जिसे पहले से ही अन्तिम रूप दिया जा चुका है और उसके परिवर्तित होने की सम्भावना नहीं है। भविष्य के समय को चार प्रकार से सन्दर्भित करने के बारे में स्पष्ट जानकारी के लिए निम्न वाक्यों की तुलना कीजिए।

Hema Malini will perform at the Guruvayoor dance festival next week.
Hema Malini is going to perform at the Guruvayoor dance festival next week.
Hema Malini is performing at the Guruvayoor dance festival next week.
Hema Malini performs at the Guruvayoor dance festival next week.

We can show action in progress in the future by using the progressive (~ing) forms of verbs together with ‘will + be’. For example :
भविष्य में जारी रहने वाले कार्य को प्रदर्शित करने के लिए हम ‘will + be’ के साथ क्रिया का progressive रूप (~ing) प्रयोग करते हैं। उदाहरणार्थ
At 6.00 p.m. tomorrow, I will be speaking to some students.
When the boys meet after ten years, all of them will be working. Raju will be running the family business by the time his brother leaves college. निम्नलिखित वाक्यों को देखिएOur train reaches Chennai at 09:30 a.m. tomorrow. All the offices will have opened by then.
यह वाक्य हमें दो घटनाओं के बारे में बताता है-(a) ट्रेन का चेन्नई पहुँचना और (b) ऑफिस का खुलना-ये दोनों ही कार्य भविष्य में होने की आशा है। future perfect रूप का प्रयोग ‘will have opened’ यह इंगित करता है कि (b) घटना भविष्य में (a) घटना के साथ ही या उससे पूर्व ही घटित होगी।

Future perfect progressive
Future perfect progressive क्रिया रूप का प्रयोग एक विशेष स्थिति को व्यक्त करने के लिए किया जाता है, इसीलिए, हम इसका प्रयोग बातचीत या लिखने में आमतौर पर नहीं करते हैं। नीचे लिखे वाक्य को देखिएBy 2020. Bala’ will have been running the school for ten years. When I see you next. you will have been working at S. M. Pharma for ten months. उपर्युक्त वाक्य में क्रिया future perfect progressive रूप ‘will+have+been+participle’ में है। इस रूप में प्रयोग तब किया जाता है जब क्रिया के द्वारा इंगित कार्य भविष्य के किसी समय बिन्दु से माना जाता है, और यह देखा जाता है कि यह कार्य किसी पूर्व के समय बिन्दु से प्रारम्भ हो चुका होता है और सन्दर्भित भविष्य के समय तक निरन्तर चलती हुआ माना जाता है।

Activity 4: Speech Activity
“Life and message of Swami Vivekananda are a source of great inspiration to many in their individual as well as collective life.” Discuss amongst groups Swami Vivekananda as a prophet of religion and spirituality to the mankind.
“विवेकानन्द को जीवन एवं सन्देश अनेक व्यक्तियों तथा सामूहिक जीवन के लिए अत्यधिक प्रेरणा के स्रोत हैं।” स्वामी विवेकानन्द को मानव जाति के लिए धर्म एवं आध्यात्मिकता के अग्रदूत के रूप में वर्णन करते हुए दल बनाकर विचार विमर्श कीजिए।
Answer:
You may discuss following points, आप निम्न बिन्दुओं पर विचार-विमर्श कर सकते हैंSwami Vivekananda’s life and message

  • Born in an affluent family in Kolkata on 12 January 1863. Named as Narendra Nath Datta. Father-Vishwanath Datta. MotherBhuvaneshwari Devi.
  • He graduated from Calcutta University. He acquired a vast knowledge of different subjects, specially western Philosophy and History.
  • Shri Ramkrishna Paramhans was Narendra’s guru. In 1887 Narendra took the formal vow of sannyasa and assumed new name Swami Vivekananda.
  • During his travels all over India, Swami was deeply moved to see the poverty and backwardness of the masses. He was the first religious leader in India to declare that the real cause of India’s downfall was the neglect of masses. Indians should be taught improved methods of agricultue, village industries, etc.
  • He said that the masses needed two kinds of knowledge – secular knowledge to improve their economic condition, and spiritual knowledge to infuse in them faith in themselves and strengthen their moral sense.
  • With funds partly collected by his Madras disciples and partly provided by Maharaja of Khetri Swami Vivekananda left for America in 1893 to attend the Parliament of Religions in Chicago.
  • His speech at the World’s Parliament of Religions held in September 1893 made him famous as “an orator by divine right and as a ‘Messanger of Indian Wisdom to the Western World.’
  • He founded Ramkrishna Mission in 1897 and Belur Math in 1898.
  • Swami Vivekananda passed away on 4 July, 1902. स्वामी विवेकानन्द का जीवन एवं सन्देश
  • 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में जन्म। नरेन्द्रनाथ दत्त नाम रखा गया। पिता-विश्वनाथ दत्त। माता-भुवनेश्वरी देवी।।
  • उन्होंने कलकत्ता, विश्वविद्यालय से स्नातक किया। उन्होंने विभिन्न विषयों, विशेषकर पाश्चात्य दर्शन और इतिहास में विस्तृत ज्ञान प्राप्त किया।
  • श्रीरामकृष्ण परमहंस नरेन्द्र के गुरु थे। 1887 में नरेन्द्र ने संन्यास व्रत धारण किया और नवीन नाम स्वामी विवेकानन्द रख लिया।
  • सम्पूर्ण भारत की अपनी यात्राओं के दौरान स्वामीजी जन सामान्य की गरीबी व पिछड़ेपन को देखकर द्रवित हुए। वे भारत में पहले ऐसे धार्मिक नेता थे जिन्होंने भारत के पतन का वास्तविक कारण जनसामान्य की उपेक्षा को बताया। उन्होंने कहा कि भारतीयों को कृषि और ग्रामीण उद्योग आदि की उन्नत विधियाँ सिखाई जानी चाहिए।
  • उन्होंने कहा कि भारतीय जन सामान्य को दो प्रकार के ज्ञान की आवश्यकता थी-अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए धर्मनिरपेक्ष ज्ञान की तथा स्वयं में विश्वास उत्पन्न करने हेतु एवं अपने नैतिक अवबोध को मजबूत करने हेतु आध्यात्मिक ज्ञान की।
  • अपने मद्रास निवासी शिष्यों द्वारा आंशिक रूप से संग्रहीत एवं खेतड़ी के महाराजा द्वारा आंशिक रूप से उपलब्ध कराये गये धन से स्वामी विवेकानन्द 1893 में अमरीका के शिकागो में धर्म संसद में भाग लेने गये।
  • विश्व धर्म संसद सितम्बर 1893 में दिये भाषण ने उन्हें ‘दिव्य वक्ता’ तथा ‘पाश्चात्य विश्व के लिए भारतीय बुद्धिमत्ता के संन्देशवाहक’ के रूप में प्रसिद्ध कर दिया।
  • उन्होंने 1897 में रामकृष्ण मिशन व 1898 में बेलूर मठ की स्थापना की।
  • 4 जुलाई 1902 को स्वामी विवेकानन्द का निधन हो गया।

Activity 5 : Composition
(1) India claims to have achieved strides of success. Nobody, however, can deny the fact that this progress has added to the blots on India’s forehead. Can you recount these blots? Also suggest how these blots can be overcome.
भारत दावा करता है उसने सफलता के सोपान अर्जित किए हैं। हालांकि इस तथ्य को कोई अस्वीकार नहीं कर सकता कि इस प्रगति ने भारत के माथे पर कलंक बढ़ा दिये हैं। क्या आप इन कलंकों का वर्णन कर सकते हो ? यह भी सुझाव दीजिए कि इन कलंकों को कैसे पराभूत किया जा सकता है।
Answer:
We may say that following ones are the blots on India’s forehead-

  • Overpopulation or population explosionSecond rank in world.
  • Poverty : About 21.9% population is below official poverty line.
  • Insanitation : One in every ten deaths in India is linked to poor sanitation and hygiene.
  • Corruption : India is ranked 95 out of 179 countries in Transparency International’s Corruption Perception Index.
  • Poor Education : Only 16.65% schools have computers and 39% have electricity.
  • Religious Violence – In Jammu and Kashmir about 3 lac pundits migrated due to persecution by Islamic groups.
  • Terrorism – The regions with long term terrorist activities today are J&K, Central India (Naxalism) and Seven Sister States (North-East States)

Other Blots

  • Youth unemployment
  • Caste related violence
  • Dowry system
  • Domestic violence
  • Crimes against females
  • Environmental issues

These blots can be overcome by proper quality education to all. Education is the weapon which destroys all evils. Moreover, government should focus to remove these blots by making suitable budget provisions and implementing new policies to overcome them.
हम कह सकते हैं कि निम्नलिखित बातें भारत के माथे पर कलंक हैं

  • जनसंख्या आधिक्य या जनसंख्या विस्फोट-विश्व में द्वितीय स्थान।।
  • गरीबी-लगभग 21.9% जनसंख्या आधिकारिक गरीबी रेखा से नीचे है।
  • अस्वच्छता- भारत में प्रत्येक 10 मृत्युओं से एक मृत्यु स्वच्छता व स्वास्थ्य की बदहाली के कारण होती है।
  • भ्रष्टाचार-ट्रान्सपेरेन्सी इण्टरनेशनल के करप्शन परसॅप्शन इण्डेक्स में 179 देशों में भारतं का 95 वाँ स्थान है।
  • बदहाल शिक्षा-केवल 16.65% विद्यालयों में कम्प्यूटर हैं और 39% में बिजली है।।
  • धार्मिक हिंसा-जम्मू कश्मीर में इस्लामिक समूहों के अत्याचार के कारण लगभग तीन लाख पण्डितों ने पलायन किया।
  • आतंकवाद-आज दीर्घ अवधि से आतंककारी गतिविधियों से ग्रस्त राज्य जम्मू-कश्मीर, मध्य भारत (नक्सलवाद) और सेवन सिस्टर्स स्टेट्स (अर्थात् पूर्वोत्तर राज्य) हैं।

अन्य कलंक

  • युवा बेरोजगारी।
  • जाति आधारित हिंसा
  • दहेज प्रथा
  • घरेलू हिंसा
  • महिकलाओं के प्रति अपराध
  • पर्यावरण सम्बन्धी मामले

सभी को उचित व गुणवत्तापूर्ण शिक्षा द्वारा इन सभी कलंकों को धोया जा सकता है। शिक्षा ऐसा हथियार है जो सभी बुराइयों को नष्ट कर देता है। इसके अतिरिक्त, सरकार को उपयुक्त बजट प्रावधान कर एवं नवीन नीतियाँ लागू कर इन कलंकों को समाप्त करने की ओर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए।

(2) “The teachings of Ramkrishna Paramhans and Swami Vivekananda are exemplary for the whole world.” In the light of this statement, suggest ways to incorporate their teachings in our curriculum.
रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाएँ सम्पूर्ण विश्व के लिए अनुकरणीय हैं। इस कथन पर प्रकाश डालते हुए उनकी शिक्षाओं को हमारे पाठ्यक्रम में सम्मिलित करने के लिए सुझाव दीजिए।
Answer:
Teachings of Ramkrishna Paramhans. God is the rest-house for soul wandering in the world.

  • God is always with us, deep inside our own heart.
  • Purity of mind is the criteria to realize God in one’s soul.
  • All religions lead us to the Supreme Being.
  • Doing one’s own work is workship of God. Teachings of Swami Vivekananda
  • Rouse the religious consciousness of the people and create in them pride in their cultural heritage.
  • Bring about unification of Hinduism by pointing out the common bases of its sects.
  • Education is the manifestation of the perfection already in man.
  • Purity, patience and perseverance are the three essentials to success, and above all, love.
  • Religion is the manifestation of the divinity already in man.

Suggestions to incorporate their teachings in our curriculum :

  • In elementary education we should incorporate short stories told by Ramkrishna Paramhans so that the children might get moral education and develop ethical values.
  • In secondary and higher education, we should incorporate in curriculum the biographies of these great personalities. As well as we should organise educational tours to Ramkrishna Mission and Belur Math so that the students may come in contact with the monastic order established by Ramkrishna and Swami Vivekananda.

रामकृष्ण परमहंस की शिक्षाएँ

  • संसार में भ्रमण कर रही आत्मा के लिए ईश्वर ही आश्रय
  • ईश्वर हमेशा हमारे हृदय की गहराई में स्थित है।
  • किसी की आत्मा में ईश्वर को महसूस करने के लिए मन की शुद्धता ही कसौटी है।
  • सभी धार्मिक मार्ग हमें सार्वभौम सत्ता की ओर ले जाते हैं।
  • अपना स्वयं का कार्य करते रहना ही ईश्वर की पूजा है। स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाएँ
  • लोगों की धार्मिक चेतना को जाग्रत कीजिए और उनके अन्दर उनकी सांस्कृतिक विरासत के प्रति गर्व उत्पन्न कीजिए।
  • हिन्दू धर्म के सम्प्रदायों की सामान्य बातों को बताते हुए हिन्दू धर्म की एकता स्थापित कीजिए।
  • शिक्षा मनुष्य में पूर्व से ही विद्यमान पूर्णता का प्रकटीकरण
  • शुद्धता, धैर्य व दृढ़ता सफलता की तीन अत्यावश्यक शर्ते हैं, और इन सबसे ऊपर, प्रेम है।
  • धर्म मनुष्य में पूर्व से ही विद्यमान दिव्यता का प्रकटीकरण है। हमारे पाठ्यक्रम में उनकी शिक्षाओं को समाविष्ट करने के सुझाव
  • प्रारम्भिक शिक्षा में हमें रामकृष्ण परमहंस द्वारा कही गई छोटी कहानियों को शामिल करना चाहिए जिससे कि बच्चों को नैतिक शिक्षा प्राप्त हो सके और वे नैतिक मूल्य विकसित कर सकें।
  • माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा में हमें पाठ्यक्रम में इन महान् व्यक्तियों की जीवनियाँ शामिल करनी चाहिए। इसी प्रकार हमें रामकृष्ण मिशन और बेलूर मठ के लिए शैक्षणिक भ्रमणों का आयोजन करना चाहिए जिससे कि छात्र रामकृष्ण एवं स्वामी विवेकानन्द द्वारा स्थापित मठवासीय व्यवस्था से सम्पर्क कर सकें।

RBSE Class 9 English Insight Chapter 5 Vivekananda: The Great Journey to the West Additional Questions

Short Answer Type Questions
Answer the following questions in 30 words each :

Question 1.
How did Maharaja of Khetri help Vivekananda for his journey to the Parliament of World Religions in Chicago?
खेतड़ी के महाराजा ने विवेकानन्द की शिकागो में विश्व धर्म संसद के लिए यात्रा हेतु किस प्रकार मदद की ?
Answer:
Maharaja of Khetri provided a ticket on the boat for Vivekananda. And despite Vivekananda’s protests he provided him a beautiful robe.
खेतड़ी के महाराजा ने विवेकानन्द को जहाज का टिकिट उपलब्ध कराया। और विवेकानन्द के । विरोध के बावजूद उन्होंने उनको एक सुन्दर पोशाक प्रदान की।

Question 2.
Whom does, according to the author, fate always help?
लेखक के अनुसार, भाग्य हमेशा किसकी मदद करता है?
Answer:
According to the author, fate always helps those who know how to help themselves.
लेखक के अनुसार, भाग्य हमेशा उन लोगों की मदद करता है जो अपनी मदद खुद ही करना जानते हैं।

Question 3.
Why did Vivekananada have to spend the night at Chicago railway station?
विवेकानन्द को शिकागो के रेलवे स्टेशन पर रात क्यों गुजारनी पड़ी?
Answer:
Vivekananda had to spend the night at Chicago railway station because the train arrived late and he had lost the address of the committee. No one was ready to inform him about the address of the committee.
विवेकानन्द को शिकागो रेलवे स्टेशन पर रात गुजारनी पड़ी। क्योंकि ट्रेन देर से आई थी और उन्होंने समिति का पता खो दिया था। उन्हें समिति का पता बताने के लिए कोई-तैयार नहीं हुआ।

Question 4.
How was Vivekananda treated in Chicago?
शिकागो में विवेकानन्द से कैसा व्यवहार किया गया?
Answer:
In Chicago, Vivekananda was treated very badly. He was rudely dismissed from some of the houses. At others he was insulted by the servents. At still others, the door was slammed in his face. No one helped Vivekananda because he was a coloured man.
शिकागो में विवेकानन्द से बहुत बुरा व्यवहार किया गया। कुछ मकानों से उन्हें अशिष्टतापूर्वक निकाल दिया गया। अन्य मकानों में उन्हें नौकरों द्वारा अपमानित किया गया। दूसरे कुछ मकानों में तो उनके मुँह पर ही दरवाजा धम्म से बन्द कर दिया गया। किसी ने भी विवेकानन्द की मदद नहीं की क्योंकि वे अश्वेत थे।

Long Answer Type Questions
Answer the following questions in 60 words each :

Question 1.
What arrangements were made in India for Vivekananda’s journey to the Parliament of Religions ?
विवेकानन्द की धर्म संसद की यात्रा हेतु भारत में क्या व्यवस्थाएँ की गई र्थी ?
Answer:
Vivekananda had heard vaguely of a Parliament of Religions to be opened some day somewhere in America and he had decided to go to it. But neither he nor his disciples, nor his Indian friends, students, pundits, ministers or Maharajas had taken any trouble to find out about it. No one knew the exact date and the conditions of admission. The Maharaja of Khetri had taken his ticket on the boat for him and had provided him with a beautiful robe. But no one had considered the climatic conditions and customs. Thus, no proper arrangements were made for Vivekananda’s journey to the Parliament of Religions.

विवेकानन्द ने अस्पष्ट तौर पर यह सुना था कि अमरीका में किसी स्थान पर किसी दिन धर्म संसद प्रारम्भ होने वाली थी और उन्होंने इसमें जाने का निश्चय कर लिया। किन्तु न तो उन्होंने न ही उनके शिष्यों, भारतीय मित्रों, छात्रों, पण्डितों, मन्त्रियों या महाराजाओं ने इसके बारे में जानकारी करने का प्रयास किया था। किसी को भी सही तारीख और प्रवेश की शर्तों की जानकारी नहीं थी। खेतड़ी के महाराजा ने उन्हें जहाज का टिकिट दिलवा दिया था और उन्हें एक सुन्दर परिधान उपलब्ध करा दिया था। किन्तु किसी ने भी जलवायु सम्बन्धी परिस्थितियों और रीति-रिवाजों के बारे में विचार । नहीं किया था। इस प्रकार, विवेकानन्द की धर्म संसद की यात्रा के लिए उचित व्यवस्थाएँ नहीं की गई।

Question 2.
What thoughts struck Vivekananda while he visited China and Japan?
चीन और जापान में भ्रमण करते समय विवेकानन्द को कौन-से विचार आए?
Answer:
Everywhere, both in China and Japan, Vivekananda’s attention was attracted by all things that might confirm his hypothesis and conviction. He realised religious influence of ancient India over the Empires of the Far East and the spiritual unity of Asia. At the same time the thought of the ills from which his country was suffering never left him; and the sight of the progress achieved by Japan reopened the wound.

चीन और जापान दोनों ही देशों में प्रत्येक जगह विवेकानन्द का ध्यान उन सब बातों से आकर्षित हुआ जो उनकी परिकल्पना व विश्वास को पुष्ट करती थीं। उन्होंने सुदूर पूर्व में प्राचीन भारत के धार्मिक प्रभाव और एशिया की आध्यात्मिक एकता को महसूस किया। उनका देश जिन विपत्तियों से पीड़ित था उसके बारे में विचारों ने उनको उस समय भी नहीं छोड़ा और जापान द्वारा की गई प्रगति के नजारे ने उनके जख्म को हरा कर दिया।

Question 3.
Why was Vivekananda overwhelmed in Chicago ? What did he do to get help?
शिकागों में विवेकानन्द अभिभूत, (घबरा) क्यों हो गए? उन्होंने मदद प्राप्त करने के लिए क्या किया?
Answer:
Vivekananda discovered at the Information Bureau of the Exposition that the Parliament would not open until after the first week of September and that it was too late for registration of delegates and that no registration would be accepted without official references. He had no credentials with him. His purse was nearly empty. So he was overwhelmed. He cabled to his friends in Madras for help. He also applied to an official religious society to make him a grant.

विवेकानन्द को प्रदर्शनी के सूचना कार्यालय में पता चला कि संसद का प्रारम्भ सितम्बर के प्रथम सप्ताह के बाद तक भी नहीं होना था और यह भी पता चला कि प्रतिनिधियों के पंजीकरण के लिए काफी विलम्ब हो चुका है और आधिकारिक सन्दर्भो के बिना कोई भी पंजीकरण स्वीकार नहीं किए जायेंगे। उनके पास कोई भी परिचयात्मक प्रमाण-पत्र नहीं था। उनका पर्स लगभग खाली हो चुका था। इसलिए वे अविभूत हो गये। उन्होंने मदद के लिए मद्रास में अपने मित्रों को तार दिया। उन्होंने एक आधिकारिक धार्मिक सोसायटी में भी अनुदान प्राप्त करने के लिए आवेदन किया।

Question 4.
What did Vivekananda discover at the Information Bureau of the Exposition? Why was he shocked?
विवेकानन्द ने प्रदर्शनी के सूचना कार्यालय में क्या पता किया? उन्हें धक्का क्यों लगा?
Answer:
Vivekananda discovered at the Bureau that the Parliament would not open until after the first week of September. And it was too late for the registration of delegates. Moreover, that no registration would be accepted without official references. Vivekananda had no credentials with him. His purse was nearly empty. So he was shocked.

विवेकानन्द ने कार्यालय में पता किया कि संसद सितम्बर के प्रथम सप्ताह के बाद तक शुरू नहीं होनी थी। और प्रतिनिधियों के पंजीकरण के लिए काफी विलम्ब हो चुका था। इसके अतिरिक्त राजकीय सन्दर्भो के बिना कोई भी पंजीकरण स्वीकार्य नहीं था। विवेकानन्द के पास कोई भी परिचयात्मक प्रमाण-पत्र नहीं था। उनका पर्स लगभग खाली हो चुका था। इसलिए उन्हें धक्का लगा।

Question 5.
How many persons represented in the Parliament of Religions in Chicago ? Who were they ?
शिकागो में धर्म संसद में कितने व्यक्तियों ने प्रतिनिधित्व किया? वे कौन थे?
Answer:
There were eight persons including Cardinal Gibbons who represented in the Parliament of Religions in Chicago. Protap Chunder Mozoomdar and Nagarkar represented the Indian theists. Dharmapala represented the Buddhists of Ceylon. Gandhi represented Jains. Chakravarti and Annie Besant represented the theosophical society. And Vivekananda represented India as a whole.

शिकागो में धर्म संसद में कर्डिनल गिबॉन्सर्ड सहित आठ व्यक्तियों ने प्रतिनिधित्व किया। प्रताप चन्द्र मजूमदार व नागरकर ने भारतीय ईश्वरवादियों का प्रतिनिधित्व किया। धर्मपाल ने श्रीलंका के बौद्धों का प्रतिनिधित्व किया। गांधीजी ने जैनों का प्रतिनिधत्व किया। चक्रवर्ती व एनी बेसेन्ट ने ब्रह्मविद्या समाज का प्रतिनिधित्व किया। और विवेकानन्द ने समग्र भारत का प्रतिनिधित्व किया।

Passages for Comprehension

Read the following passages carefully and answer the questions that follow :

Passage 1
This journey was indeed an astonishing adventure. The young Swami went into it at random with his eyes shut. He had heard vaguely of a Parliament of Religions to be opened some day somewhere in America; and he had decided to go to it, although neither he, nor his disciples, not his Indian friends, students, pundits, ministers or Maharajas, had taken any trouble to find out about it. He knew nothing, neither the exact date nor the conditions of admission. He did not take a single credential with him.

He went straight ahead with complete assurance, as if it was enough for him to present himself at the right time God’s time. And although the Maharaja of Khetri had taken his ticket on the boat for him, and despite his protests had provided him with a beautiful robe that was to fascinate American idlers no less than his eloquence, neither he nor anybody else had considered the climatic conditions and customs; he froze on the boat when he arrived in Canada in his costume of Indian pomp and ceremony. He left Bombay now Mumbai on 31 May 1893, and went by way of Ceylon, Penang, Singapore, Hong Kong and then visited Canton and Nagasaki. Thence he went by land to Yokohama, seeking Osaka, Kyoto and Tokyo.

1. What had Vivekananda heard vaguely of ?
विवेकानन्द ने अस्पष्ट रूप से क्या सुना था ?

2. What had Vivekananda decided ?
विवेकानन्द ने क्या निश्चय कर लिया था?

3. What did Maharaja of Khetri do for Vivekananda ?
खेतड़ी के महाराजा ने विवेकानन्द के लिए क्या किया?

4. Why did Vivekananda freeze on the boat when he arrived Canada ?
जब विवेकानन्द कनाडा पहुँचे तो वे जहाज पर ठण्ड से क्यों ठिठुर गये?

5. Who had not taken any trouble to find out about the Parliament of Religions ?
धर्म संसद के बारे में पता लगाने के लिए किसने कोई भी प्रयास नहीं किया था ?

6. What did Vivekananda not know?
विवेकानन्द क्या नहीं जानते थे?

7. What type of robe did Maharaja of Khetri provide Vivekananda ?
खेतड़ी के महाराजा ने विवेकानन्द को किस प्रकार का वस्त्र उपलब्ध कराया?

8. What had Vivekananda not considered about?
विवेकानन्द ने किसी बात के बारे में विचार नहीं किया था ?

9. Read the following sentence and combine them using neither………nor :
He did not go there. His brother did not go there.

10. Find from the passage the words which mean-
(a) amazing
(b) letter of introduction
Answers:
1. Vivekananda had heard vaguely of a Parliament of Religions to be opened some day somewhere in America.
विवेकानन्द ने अस्पष्ट रूप से किसी दिन अमरीका में किसी स्थान पर प्रारम्भ होने वाली एक धर्म संसद के बारे में सुना था।

2. Vivekananda had decided to go to the Parliament of Religions.
विवेकानन्द ने धर्म संसद में जाने का निश्चय कर लिया था।

3. Maharaja of Khetri had taken Vivekananda’s ticket on boat and had provided him with a beautiful robe.
खेतड़ी के महाराजा ने विवेकानन्द का जहाज का टिकिट ले लिया था और उन्हें एक सुन्दर वस्त्र उपलब्ध करा दिया था।

4. When Vivekananda arrived Canada, he froze on the boat because he was wearing a costume of Indian pomp and ceremony which couldn’t save him from cold.
जब विवेकानन्द कनाडा पहुँचे तो वह जहाज पर ही ठण्ड से ठिठुर गये क्योंकि उन्होंने भारतीय तड़क- भड़क और औपचारिकता की वेशभूषा धारण कर रखी थी जो उन्हें ठण्ड से नहीं बचा सकती थी।

5. Neither Vivekananda, nor his disciples, not his Indian friends, students, pundits, ministers or Maharaja had taken any trouble to find out about the Parliament of Religions.
न तो विवेकानन्द ने, न ही उनके शिष्यों ने न ही उनके भारतीय मित्रों, छात्रों, पण्डितों, मन्त्रियों या महाराजाओं ने धर्म संसद के बारे में पता लगाने का कोई भी प्रयास नही किया था।

6. Vivekananda knew neither the exact date nor the conditions of admission.
विवेकानन्द को न तो सही-सही तिथि का न ही प्रवेश की शर्तों का पता था।

7. Maharaja of Khetri provided Vivekananda a beautiful robe which fascinated the American idlers.
खेतड़ी के महाराजा ने विवेकानन्द को एक सुन्दर वस्त्र उपलब्ध कराया जो अमरीका के निठल्लों को मोहित करता था।

8. Vivekananda had not considered the climatic conditions and customes of America.
विवेकानन्द ने अमरीका की जलवायु व रीतिरिवाजों के बार में विचार नहीं किया था।

9. Neither he nor his brother went there.

10. (a) astonishing, (b) credential

Passage 2
Vivekananda returned to Chicago. The train arrived late; and the dazed young man, who had lost the address of the Committee, did not know where to go. Nobody would deign to inform a coloured man. He saw a big empty box in a corner of the station, and slept in it. In the morning he went to discover the way, begging from door to door as a sannyasin. But he was in a city that knows, Panurge-like, a thousand and one ways of making money, except one, the way of St Francis, the vagrancy of God. He was rudely dismissed from some of the houses. At others he was insulted by the servants. At still others, the door was slammed in his face. After having wandered for a long time, he sat down exhausted in the street. He was remarked from a window opposite and asked whether he were not a delegate to the Parliament of Religions. He was invited in; and once more fate found for him one who was later numbered among his most faithful American followers. When he had rested he was taken to the Parliament. There he was gladly accepted as a delegate and found himself lodged with the other Oriental delegates to the Parliament.

1. What had Vivekananda lost ?
विवेकानन्द ने क्या खो दिया था ?

2. Where did Vivekananda spend the night?
विवेकानन्द ने रात्रि कहाँ व्यतीत की?

3. What did he go to discover in the morning ?
वे प्रातः क्या पता लगाने के लिए गए?

4. What does the city Chicago know?
शिकागो शहर क्या जानता है?

5. Who insulted Vivekananda at some houses ?
कुछ घरों में विवेकानन्द को किसने तिरस्कृत किया?

6. What was he asked from a window of a house ?
एक मकान की खिड़की से उनसे क्या पूछा गया ?

7. What did fate find for him ?
भाग्य ने उनको किससे मिलवा दिया था?

8. How was Vivekananda treated at the Parliament ?
संसद में विवेकानन्द से कैसा व्यवहार किया गया?

9. Find from the passage the words which mean
(a) condescend
(b) wandering

10. Find from the passage the words opposite in meaning to the following words
(a) early
(b) welcomed
Answers:
1. Vivekananda had lost the address of the Committee.
विवेकानन्द ने कमेटी का पता खो दिया था।

2. Vivekananda spent the night in a big empty box in a corner of the station.
विवेकानन्द ने स्टेशन के एक कोने में स्थित एक बड़े खाली बॉक्स में रात्रि व्यतीत की।

3. In the morning he went to discover the way.
प्रातः वे रास्ता पता लगाने के लिए गए।

4. The city Chicago knows a thousand and one ways of making money.
शिकागो शहर पैसे कमाने के एक हजार एक तरीके जानता है। ‘

5. At some houses the servants insulted Vivekananda.
कुछ घरों में नौकरों ने विवेकानन्द को तिरस्कृत किया।

6. From a window of a house he was asked whether he were not a delegate to the Parliament of Religions.
एक मकान की खिड़की से उनसे पूछा गया कि क्या वे धर्म संसद के प्रतिनिधि तो नहीं हैं।

7. Fate found for him one who was later numbered among his most faithful American followers.
भाग्य ने उनको ऐसे व्यक्ति से मिला दिया था जो बाद में उनके अमरीकी अनुयायियों में सर्वाधिक निष्ठावालों में गिना गया।

8. At the Parliament, Vivekananda was gladly accepted and lodged with the other Oriental delegates to the Parliament.
संसद में विवेकानन्द को प्रसन्नतापूर्वक स्वीकार किया गया और उन्हें संसद के अन्य प्राच्य प्रतिनिधियों के साथ ठहराया गया।

9. (a) deign, (b) vagrancy.

10. (a) late, (b) dismissed

Passage 3
But then his speech was like a tongue of flame. Among the grey wastes of cold dissertation it fired the souls of the listening throng. Hardly had he pronounced the very simple opening words, ‘Sisters and brothers of America ….’ then hundreds arose in their seats and applauded. He wondered whether it could really be he they were applauding. He was certainly the first to cast off the formalism of the Congress and to speak to the masses in the language for which they were waiting. Şilence fell again. He greeted the youngest of the nations in the name of the most ancient monastic order in the world—the Vedic order of sannyasins. He presented Hinduism as the mother of religions, who had taught them the double precept : ‘Accept and understand one another! He quoted two beautiful passages from the sacred books: Whoever comes to Me, through whatsoever form, I reach him.’ ‘All men are struggling through paths which in the end lead to Me.’ Each of the other orators had spoken of his God, of the God of his sect. He he alone spoke of all their Gods and embraced them all in the Universal Being.

1. What was his speech like ?
उनकी वाणी किस प्रकार की थी?

2. How did he start his speech ?
उन्होंने अपना भाषण कैसे शुरु किया?

3. What did he wonder ?
उन्होंने किस बात पर ताज्जुब किया?

4. How did he greet the youngest of the nations ?
उन्होंने सबसे छोटे राष्ट्र का अभिवादन किस प्रकार किया?

5. How did he present Hinduism ?
उन्होंने हिन्दू धर्म को किस प्रकार प्रस्तुत किया?

6. What has Hinduism taught ?
हिन्दू धर्म ने क्या शिक्षा दी है?

7. What do all the paths lead to ?
सभी मार्ग किसकी ओर जाते हैं?

8. What fired the souls of the listening throng?
श्रोता भीड़ की अन्तरात्मा को किसने उत्तेजित कर दिया?

9. Find from the passage the words opposite · in meaning to the following words
(a) oldest
(b) deny

10. Find from the passage the words which mean-
(a) concerned with form
(b) definitely
Answers:
1. His speech was like a tongue of flame.
उनकी वाणी ऐसी थीं मानो ज्वालाएँ उगल रही हो।

2. He started his speech with very simple words, Sisters and brothers of America ….
उन्होंने अपना भाषण बहुत ही सीधे सादे शब्द, ‘अमरीका की बहनों व भाइयों, ….’ से प्रारम्भ किया।

3. He wondered whether it could really be he they were applauding.
उन्हें यह ताज्जुब हुआ कि क्या वास्तव में लोग उन्हीं के लिए तालियाँ बजा रहे थे।

4. He greeted the youngest of the nations in the name of the most ancient monastic order in the world.
उन्होंने सबसे छोटे राष्ट्र का अभिवादन विश्व में सर्वाधिक प्राचीन मठवासीय व्यवस्था की ओर से किया।

5. He presented Hinduism as the mother of religions.
उन्होंने हिन्दू धर्म को धर्मों की माता के रूप में प्रस्तुत किया।

6. Hinduism has taught people the double precept, “Accept and understand one another!”
हिन्दू धर्म ने लोगों को दो शिक्षाएँ प्रदान की हैं, ‘एक दूसरे को स्वीकारो और समझो।

7. All the paths lead to God.
सभी मार्ग ईश्वर ओर जाते हैं।

8. Vivekananda’s speech fired the souls of the listening throng.
विवेकानन्द की वाणी ने श्रोता भीड़ की अन्तरात्मा को उत्तेजित कर दिया।

9. (a) youngest, (b) accept

10. (a) formalism, (b) certainly

Word-meanings and Hindi Translation

This.journey ……………………………………………………… the wound. (Page 32)

Word-meanings : astonishing (ऑस्टोनिशिंग) = विस्मयकारक। adventure (अॅड्वेन्चें) = जोखिम, साहसिक कार्य। went into = चल पड़े। at random = यों ही, अकस्मात् ही। vaguely (वेग्लि) = अस्पष्ट रूप से, अनिश्चित रूप से। parliament (पार्लमन्ट) = संसद। to be opened (ट बि ओपन्ड) = शुरु होने वाली। disciples (डिसाइपॅल्ज़) = शिष्य। had taken any trouble (हेड टेकन एनि ट्रबल) = कोई मेहनत की, श्रमपूर्वक कार्य किया। exact (इग्ज़ैक्ट) = सही, सुनिश्चित। conditions (कॅण्डिशन्ज़) = शर्ते। credentials (क्रिडेन्शल्ज़) = प्रत्यय-पत्र, परिचयात्मक प्रमाण पत्र। straight (स्ट्रेइट) = सीधा। ahead (अहेड्) = आगे। assurance (ॲशुरॅन्स्) = विश्वास, भरोसा। despite (डिस्पाइट) = के बावजूद। protests (प्रंटेस्ट्स्) = विरोध। robe (रोब्) = वस्त्र। fascinate (फैसिनेट) = मोह लेना, मोहित करना। idlers (आइडेंलॅज) = निठल्ले, निकम्मे। eloquence (एलॅक्वन्स्) = वाक्पटुता। considered (कॅन्सिडर्ड) = ध्यान दिया, विचार किया। climatic (क्लाइमटिक) = जलवायु सम्बन्धी। conditions (कण्डिरॉन्ज़) = परिस्थितियाँ। customs (कॅस्टॅम्ज़) = रिवाज, प्रथा। froze (फ्रॉज्) = ठण्ड से अकड़ गया, ठिठुर गया। costume (कॉस्ट्यूम) = वेशभूषा, पोशाक। pomp (पॉम्प्) = तड़क-भड़क, शान। ceremony (सेरिमॅनि) = औपचारिकता, शिष्टाचार। left (लेफ्ट) = (से) रवाना हुए। by way of = के मार्ग से। by land (बाई लैण्ड) = सड़क मार्ग से। attention (अँटेन्शन) = ध्यान। hypothesis (हाइपॉथिसिस्) = परिकल्पना। conviction (कॅन्विक्शन्) = विश्वास, दृढ़-धारण। alike (अॅलाइक्) = समान, समान रूप से। influence (इन्फ्लु ॲन्स्) = प्रभाव। ancient (एनरॉन्ट) =प्राचीन। empires (एम्पाइअॅ:ज़) = साम्राज्य। spiritual (स्पिरिचुअॅल्) = आध्यत्मिक। ills (इल्ज़) = बुराइयाँ, विपत्तियाँ। sight (साइट) = नजारा, दृश्य। achieved (ॲचीव्ड्) = प्राप्त किया, सम्पादित किया। wound (वुन्ड्) = घाव, जख्म।

हिन्दी अनुवाद-यह यात्रा वास्तव में एक विस्मयकारक साहसिक कार्य थी। वह युवा स्वामी अपनी आँखें मूंद कर यों ही इस यात्रा पर निकल पडे। उन्होंने अस्पष्ट रूप से अमरीका में कहीं पर किसी दिन प्रारम्भ होने वाली धर्म संसद के बारे में सुन लिया था, और उन्होंने इसमें जाने का निश्चय कर लिया, यद्यपि न तो उन्होंने, न ही उनके शिष्यों, न ही उनके भारतीय मित्रों, छात्रों, पण्डितों, मन्त्रियों या महाराजाओं ने इसके बारे में पता लगाने का श्रम किया। उन्हें कुछ भी पता नहीं था, न तो सही तारीख, न ही प्रवेश की शर्तों के बारे में कोई जानकारी थी। उन्होंने अपने साथ एक परिचयात्मक प्रमाण-पत्र भी नहीं लिया। वे पूर्ण भरोसे के साथ सीधे आगे बढ़ गये, मानो कि उनको सही समय पर अर्थात् ईश्वर द्वारा निर्धारित समय पर ही स्वयं को प्रस्तुत करना था। और यद्यपि खेतड़ी के महाराजा ने उनको जहाज का टिकिट दिलवा दिया था, तथा स्वामी जी के विरोध के बावजूद उनको एक सुन्दर पोशाक उपलब्ध करा दी थी जिसने स्वामी जी की वाकपटुता के समान ही अमरीकी निठल्लों को मोहित किया, न तो स्वामी जी ने और न ही किसी अन्य ने जलवायु सम्बन्धी परिस्थितियों और रिवाजों के बारे में विचार किया था; जब वे भारतीय तड़क-भड़क व औपचारिकता वाली अपनी पोशाक में कनाडा पहुँचे तो वे जहाज पर ही ठण्ड से ठिठूर गये। उन्होंने बॉम्बे (अब मुम्बई के नाम से जाने वाला शहर) से 31 मई 1893 को प्रस्थान किया और श्रीलंका, पेनांग, सिंगापुर, हाँग काँग के मार्ग से गए और फिर कैण्टन व नागासाकी का भ्रमण किया। वहाँ से वे सड़क मार्ग से ओसाका, क्योटो और टोक्यो को देखते हुए योकोहामा गए। चीन और जापान दोनों ही देशों में हर जगह उनका ध्यान उन सब चीजों से आकर्षित हुआ जो उनकी परिकल्पना – उनके विश्वास को पुष्ट कर सकता था, जैसे कि सुदूरपूर्व में साम्राज्यों पर प्राचीन भारत का धार्मिक प्रभाव और एशिया की आध्यात्मिक एकता के बारे में उनका विश्वास था। उस समय भी उनका देश जिन विपत्तियों से पीड़ित था उनके बारे में उनके विचार ने उन्हें कभी नहीं छोड़ा; और जापान द्वारा प्राप्त की गई प्रगति के नजारे ने जख्म को फिर से हरा कर दिया।

He went from ……………………………………………………… of cold !’ (Pages 32-33)

Word-meanings : bewilderment (बिविल्डमण्ट) = घबराहट, सम्भ्रम। was strewn (वाज़ स्ट्रन) = बिखरे पड़े थे, छितरे पड़े थे। feathers (फेदें:ज़) = पंख। marked (मा:क्ट) = अच्छा खासा, सुस्पष्ट। prey (प्रे) = शिकार। afar (अॅफार्) = दूर से। wandered (वॉण्डेड्) = घूमा, भ्रमण किया। agape (अँगेप्) = मुँह फाड़कर। universal (यूनिवःसॅल्) = सार्वभौमिक, विश्वव्यापक। exposition (एक्स्पॉज़िशन्) = प्रदर्शनी। stupefied (स्ट्यूपिफाइड्) = हक्का-बक्का या विस्मित कर देता था। riches (रिचिज़) = धन-दौलत, समृद्धि। inventive (इन्वेन्टिव्) = आविष्कारशील, मौलिक। genius (जीनिअॅस्) = प्रतिभा। vitality (वाइटलिटि) = जीवन-शक्ति, ओजस्विता। sensitive (सेन्सिटिव्) = संवेदनशील। force (फॉ:स्) = शक्ति, बल, आवेग। oppressed (अॅप्रेस्ट) = दलित, उत्पीड़ित। frenzy (फ्रेन्जि) = उन्माद, पागलपन। movement (मूव्मॅण्ट) = गतिविधि। especially (इस्पेशलि) = विशेष रूप से। mechanism (मेकनिज़्म्) = तन्त्र, बनावट। ease (ईज़) = सहजता, चैन। succumbed (सॅकॅम्ड्) = वशीभूत हुआ, हार मान ली। exciting (इक्साइटिंग) = उत्तेजक। intoxication (इन्टॉक्सिकेशन्) = नशा, उन्माद। juvenile (जविनाइल्) = किशोर, नवयुवक। acceptance (अॅक्सेप्टॅन्स्) = स्वीकृति, सहमति। admiration (ऐड्मॅरेइरॉन्) – प्रशंसा। bounds (बाउण्ड्ज़ ) = सीमाएँ। eager (ईगें) = उत्सुक। bethought (बिथॉट) = विचार किया, याद आया। bureau (ब्यूरो) = ब्यूरो, कार्यालय। shock (शॉक्) = आघात, धक्का, सदमा। delegates (डेलिगिट्स) = प्रतिनिधि। references (रेफरेन्सिज़) = सन्दर्भ, प्रेषण। unknown (ॲन्नोन्) = अपरिचित, अज्ञात। recognised (रेकग्नाइज़्ट) = मान्यता प्राप्त, मान्य। nearly (निों:ल्)ि = लगभग। opening (ओपनिंग) = उद्घाटन। overwhelmed (ओवॅवेम्ड्) = अभिभूत, पराजित। cabled (केबॅल्ड्) = तार किया। applied (अॅप्लाइड्) = आवेदन किया। grant (ग्रान्ट) = अनुदान। forgive (फॅगिव्) = क्षमा करना, (यहाँ) अनदेखी करना। devil (डेवॅल्) = दुष्ट व्यक्ति।

हिन्दी अनुवाद-वे योकोहामा से वेंकुवर गये, वहाँ से उन्होंने घबराहटर की सी स्थिति में ट्रेन के माध्यम से जुलाई के मध्य में शिकागो की यात्रा की। पूरा मार्ग उनके बारे में उपहासपूर्ण बातों से छितराया हुआ था, क्योंकि वे लुटेरों के लिए एक सुस्पष्ट शिकार थे, उन्हें दूर से ही देखा जा सकता था! सबसे पहले उन्होंने एक बड़े बच्चे की भाँति शिकागो की सार्वभौमिक प्रदर्शनी अर्थात् वैश्विक मेले में, एकटक देखते हुए, मुँह फाड़ते हुए, भ्रमण किया। उनके लिए हर चीज नई थी और उन्हें चकित व हक्का बक्का कर रही थी। उन्होंने पश्चिमी संसार की शक्ति, धन-दौलत तथा आविष्कारशील प्रतिभा की कभी भी कल्पना नहीं की थी। टैगोर और गांधी जो कि सम्पूर्ण यूरोपीय-अमरीकी (विशेषकर अमरीकी) तन्त्र के द्वारा गतिविधि एवं कोलाहल के उन्माद द्वारा उत्पीड़ित कर दिए गए थे, उनकी तुलना में विवेकानन्द अधिक शक्तिशाली ओजस्विता वाले और आवेग के आकर्षण के प्रति अधिक संवेदनशील थे, इसलिए विवेकानन्द कम से कम पहले तो ऐसे माहौल में सहज ही बने रहे, वे उसके उत्तेजक उन्मादं के प्रति वशीभूत हो गये, और उनकी प्रथम अनुभूति किसी युवक की स्वीकृति की भाँति थी, उनकी प्रशंसा की कोई सीमा नहीं थी। बारह दिन तक उन्होंने इस नवीन संसार से अपनी उत्सुक आँखों को तृप्त किया। शिकागो में अपने आगमन के कुछ दिन बाद उन्हें प्रदर्शनी के सूचना कार्यालय जाने की याद आई।…….कैसा चकित करने वाला था! उन्हें पता चला कि सितम्बर के प्रथम सप्ताह बाद तक भी संसद प्रारम्भ नहीं होगी – और प्रतिनिधियों के पंजीकरण के लिए काफी विलम्ब हो चुका था – इसके अलावा, आधिकारिक या राजकीय अनुमोदनों के बिना कोई पंजीकरण स्वीकार नहीं किया जायेगा। उनके पास कोई नहीं था, वह अनजान थे, उनके पास किसी भी मान्यता प्राप्त समूह का कोई परिचयात्मक प्रमाणपत्र नहीं था, और उनका पर्स लगभग खाली हो चुका था, यह उन्हें कांग्रेस के उद्घाटन तक प्रतीक्षा करने की इजाजत नहीं देता था…. वे अभिभूत हो गये। उन्होंने मदद के लिए मद्रास में अपने मित्रों को तार भेजा और अनुदान प्राप्त करने के लिए एक राजकीय धार्मिक सोसायटी में. आवेदन कर दिया। किन्तु राजकीय सोसायटी स्वतन्त्रता को अनदेखा नहीं करतीं। सोसायटी के प्रमुख ने यह उत्तर भेजा : “उस दुष्ट व्यक्ति को ठण्ड से मरने दो!”

The devil ……………………………………………………… the Parliment.(Page 33)

Word- meanings : gave up = निराशं हुआ, आशा छोड़ी। threw up = छोड़ दिया। fate (फेट) = भाग्य, किस्मत। hoarding (हॉडिंग्) = जमाखोरी। inaction (इनेक्शन्) = निष्क्रियता। remaining (रिमेनिंग्) = शेष। fascinated (फेसिनेटिड्) = मोहित करते थे। appearance (अॅपिअरॅन्स्) = रूप रंग, दर्शन, प्रतीति। fellow (फेलो) = साथ, सह। Hellenist (हॅलॅनिस्ट) = यूनानी विज्ञानशास्त्री। latter (लेट) = परवर्ती। entirely (इन्टाइलि ) = पूरी तरह से। disposal (डिस्पोजल्) = व्यवस्था, प्रबन्ध। insisted (इन्सिस्टिड्) = आग्रह किया। represent (रेप्रिजेन्ट) = प्रतिनिधित्व करना। penniless (पेनिलस्) = कंगाल, अकिञ्चन। pilgrim (पिग्रिम्) = तीर्थयात्री। recommendation (रेकमेन्डेशन्) = सिफारिश, अनुशंसा। funding (फॅण्डिंग्) = निधिकरण, वित्तीय व्यवस्था। lodgings (लॉजिंग्स्) = आवास। removed (रिमूव्ड्) = दूर हो गई। dazed (डेज्ड्) = स्तब्ध, हक्का -बक्का। deign (डेन्) = अनुग्रह करना, कृपा करना। coloured (कलॅड्) = अश्वेत। vagrancy (वेग्रॅन्सि) = wandering, भ्रमण। rudely (रूड्लि ) = असभ्यता से, अभद्रता से। dismissed (डिस्मिस्ट) = निकाल दिया, दूर कर दिया। slammed (स्लैम्ड्) = धम्म से बन्द कर दिया। wandered (वैण्ड:ड्) = घूमा, भटका। exhausted (इग्जॉ:स्टिड्) = थका-माँदा। remarked (रिमा:क्ट) = देखा। whether (वेअ) = कि क्या। delegate (डेलिगिट्) = प्रतिनिधि। later (लेटें) = बाद में। faithful (फेथ्फल्) = निष्ठावान्। followers (फॉलोअॅ:) = अनुयायी, शिष्य। lodge (लॉज्) = ठहरना, रहना। oriental (ऑ:रिएण्टॅल्) = पूर्वी, पूर्वदेशीय, प्राच्य।

हिन्दी अनुवाद-वह दुष्ट व्यक्ति न तो मरा न ही निराश हुआ! उसने अपने आप को भाग्य के भरोसे छोड़ दिया, और अपने पास शेष बचे कुछ डॉलरों को निष्क्रियता में जमा रखने के बजाये, उसने उन्हें बोस्टन में भ्रमण करने में खर्च कर दिया। भाग्य ने उनकी सहायता की। भाग्य हमेशा उनकी मदद करता है जो अपनी मदद स्वयं करना जानते हैं। विवेकानन्द किसी भी स्थान से नाचीज़ या अलक्षित बनकर नहीं जाते थे, बल्कि अनजान होते हुए भी मोहित करते थे। बोस्टन की एक ट्रेन में उनके रूपरंग एवं बातचीत ने एक साथी यात्री का ध्यान आकर्षित किया, मेसाच्युसेट्स की एक धनी महिला, जिसने उनसे प्रश्न पूछे एवं तत्पश्चात् उनमें अपनी दिलचस्पी दिखाई, उन्हें अपने घर आमन्त्रित किया, और हार्वर्ड के एक प्रोफेसर हेलेनिस्ट (यूनानी विज्ञानशास्त्री) जे.एच. राइट से उनका परिचय कराया; परवर्ती अर्थात् प्रोफेसर तुरन्त ही इस युवा हिन्दू की प्रतिभा से आकर्षित हो गया और पूर्णत: उनकी व्यवस्था में लग गया, उसने आग्रह किया कि विवेकानन्द को धर्मसंसद में हिन्दू धर्म का प्रतिनिधित्व करना चाहिए, और समिति के अध्यक्ष को पत्र लिखा। उसने इस कंगाल तीर्थयात्री को शिकागो का रेल टिकिट दिया तथा आवास की व्यवस्था करने के लिए समिति को अनुशंसा पत्र दिया। संक्षेप में, उनकी सारी कठिनाइयाँ दूर हो गईं। विवेकानन्द शिकांगो लौट आए। ट्रेन विलम्ब से आई, और हक्का-बक्का नवयुवक जो समिति के पते को खो चुका था, नहीं जानता था कि कहाँ जाये। एक अश्वेत व्यक्ति को पता. बताने की कृपा किसी ने नहीं की। उन्होंने स्टेशन के एक कोने में एक खाली बड़ा बक्सा देखा और उसी में सो गये। सुबह एक सन्यासी की भाँति घर-घर भिक्षा माँगते हुए की तरह से वे अपना रास्ता तलाशने निकले। किन्तु वे एक ऐसे शहर में थे, जो पेनर्ज की भाँति, धन कमाने के एक हजार एक रास्ते जानता था-सिवाय एक रास्ते के, सैण्ट फ्रांसिस का रास्ता, जो ईश्वर के भ्रमण का स्थल था। कुछ मकानों से उन्हें अशिष्टतापूर्वक निकाल दिया गया। अन्य मकानों में नौकरों ने उन्हें अपमानित किया। और कुछ ऐसे भी मकान थे जहाँ उनके मुँह पर ही दरवाजा धम्म से बन्द कर दिया गया। काफी समय तक भटकने के बाद वे मार्ग में ही थके-माँदे होकर बैठ गए। उन्हें सामने की खिड़की से किसी ने देखा और पूछा कि क्या वे धर्मसंसद के प्रतिनिधि तो नहीं हैं। उन्हें अन्दर आमन्त्रित किया गया, और एक बार फिर भाग्य ने उनको ऐसे व्यक्ति से मिला दिया जो बाद में उनके सर्वाधिक निष्ठावान् अमरीकी अनुयायियों में गिना जाने लगा। जब उन्होंने आराम कर लिया तब उन्हें संसद में ले जाया गया। वहाँ उन्हें प्रसन्नतापूर्वक एक प्रतिनिधि के रूप में स्वीकार किया गया और संसद के अन्य प्राच्य प्रतिनिधियों के साथ उन्होंने निवास किया।

His adventurous ……………………………………………………… the day. (Page 34)

Word-meanings : disastrously (Sale ) = संकटपूर्ण तरीके से, घोर विपत्तियों के साथ। resolution (रेजलूशन्) = समाधान, संकल्प। despised (डिस्पाइज़्ट) = तिरस्कृत। mob (मॉब्) = जनसमूह, भीड़। dregs (ड्रैग्ज़) = worthless part; sediment, तलछट, कूड़ा-कचरा। glance (ग्लान्स्) = झलक, दृष्टिपात। impose (इम्पोज़) = थोपना, आरोपित करना। sovereign (सॉत्रिन्) = परम, सर्वश्रेष्ठ। session (सेशन) = अधिवेशन, सत्र। theists (थीइस्ट्स्) = ईश्वरवादी, आस्तिक। theosophical (थिअॅसॉफिकल) = ब्रह्मविद्या सम्बन्धी। belonging (बिलाँगिंग्) = सम्बन्धित। sect (सेक्ट) = सम्प्रदाय, पन्थ। drew (ड्रयू) = आकर्षित किया। noble (नोब्ल्) = भव्य, उत्तम। stature (स्टेच्ों) = कद, महिमा। gorgeous (गॉडस्) = शानदार, अलंकृत। apparel (अपैरल्) = परिधान, वेशभूषा। heightened (हाइटण्ड्)
= ऊँचा कर दिया, दिव्य-दर्शन। legendary (लेजॅन्डरि) __ = पौराणिक। brief (ब्रीफ्) = संक्षिप्त। harangue (हरैंग्) = भाषण।

हिन्दी अनुवाद-उनकी साहसिक यात्रा, जो लगभग संकटपूर्ण तरीके से समाप्त हो गई थी, उन्हें इस अवसर पर इस रंग-ढंग से ले आई, किन्तु शेष बातें समाप्त नहीं हुई थीं। कर्म उन्हें पुकार रहा था, चूँकि अब भाग्य अपना बदतरीन कार्य कर चुका था, अतः अब इसको समाधान प्रदान करना था! कल तक अनजान रहने वाला, वह याचक, जनसमूह द्वारा अपने रंग के लिए तिरस्कृत, जहाँ संसार के आधे दर्जन से ज्यादा लोगों को मिलना था – पहली ही झलक में अपनी सर्वश्रेष्ठ प्रतिभा को आरोपित करना था। संसद का प्रथम अधिवेशन मंगलवार 11 सितम्बर 1893 को प्रारम्भ हुआ। मध्य में प्रमुख (कार्डिनल) गिबॅन्स बैठे थे। उनके दायीं व बाँयी ओर घेरे में समूह में प्राच्य प्रतिनिधि बैठे थे, जिनमें ब्रह्म समाज के प्रमुख प्रताप चन्द्र मजूमदार थे, जो विवेकानन्द के पुराने मित्र थे तथा बम्बई के नागरकर के साथ भारतीय ईश्वरवादियों का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, धर्मपाल श्रीलंका के बौद्धों का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, गांधी जैनों का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, चक्रवर्ती एनीबेसेण्ट के साथ थियोसॉफिकल सँसायटी (ब्रह्मविद्या समाज) का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। किन्तु उन सबके बीच वह युवक जो किसी का भी प्रतिनिधित्व नहीं कर रहा था – और सब धर्मों का प्रतिनिधित्व कर रहा था – वह व्यक्ति किसी भी पंथ या सम्प्रदाय से नहीं था, बल्कि समग्र रूप से भारत से ही सम्बन्धित था. जिसने हजारों एकत्र लोगों की निगाह अपनी ओर आकर्षित की। उसका मोहक चेहरा, उसकी भव्य कद-काठी, और उसका अलंकृत परिधान, जो पौराणिक विश्व से आए इस दिव्य स्वरूप के प्रभाव को बढ़ा रहा था, उसके मनोभावों को छिपा रहे थे। उसने इस बात को कोई रहस्य बनाए नहीं रखा। यह प्रथम अवसर था कि उसे इस प्रकार की सभा के सामने बोलना पड़ा, और जैसा कि प्रतिनिधियों को एक-एक कर के अपनी बात को. सामान्य जन के समक्ष एक संक्षिप्त भाषण में ही उद्घोषित करना था, किन्तु विवेकानन्द ने तो अपनी बारी को घण्टे दर घण्टे दिन की समाप्ति तक चलने दिया।

But then his ……………………………………………………… an aviation (Pages 34-35)

Word-meanings : flame (फ्लेम्) = ज्वाला, अग्नि। grey (ग्रे) = धूसर, निरानन्द। cold (कोल्ड) = निरुत्साह, भावशून्य। dissertation (डिज़:टेशन्) = शोध-निबन्ध, (यहाँ) वार्ता। fired (फाइॲड्) = उत्तेजित कर दिया, जोश दिलाया। souls (सोल्ज़) = अन्तरात्मा, अन्त:करण। throng (थ्रॉङग) = भीड़। pronounced (प्रनाउन्स्ट) = उच्चारण किया। opening (ओपॅनिंग) = प्रारम्भिक। arose (अॅरोज़) = उठ खड़े हुए। applauded (ॲप्लॉडिड्) = तालियाँ बजाईं, वाह-वाह की। cast off = छोड़ दिया, विमुख कर दिया। formalism (फॉमॅलिज़्म्) = रूढ़िवाद, रीतिवाद। masses (मैसिंज) = जनसमूह, भीड़। greeted (ग्रीटिड्) =नमस्कार या अभिवादन किया। monastic (मॅनैस्टिक्) = मठवासीय। order (ऑ:) = व्यवस्था, पद्धति। precept (प्रीसेप्ट) = नियम, शिक्षा। quoted (क्वोटिड्) = उद्धरित की। whatsoever (वॉट्सोएव) = जो कुछ थी, जो भी। form (फॉम्) = रूप। struggling (स्ट्रॅग्लिंग्) = प्रयत्न कर रहे, जो आगे बढ़ रहे। paths (पाथ्स्) = पथ, रास्ते। Me (मी) = मुझको अर्थात् ईश्वर को। orators (ऑरेटॅ:) = वक्ता। embraced (इम्ब्रेस्ट) =स्वेच्छा से स्वीकार किया। universal being (यूनिव:सॅल् बीइंग्) = सार्वभौम सत्ता अर्थात् ईश्वर। breath (ब्रेथ्) = सुगन्ध, महक। breaking down (ब्रेकिंग डाउन) = ध्वस्त करते हुए, तोड़ते हुए। ovation (ओवेशन्) = जय-जयकार, करतल ध्वनि।

हिन्दी अनुवाद-किन्तु उनकी वाणी ऐसी थी मानो ज्वालाएँ उगल रही हो। भावशून्य वार्ताओं के धूसर अपव्यय के बीच उनकी वाणी ने श्रोता भीड़ की अन्तरात्मा को उत्तेजित कर दिया। ‘अमरीका के बहनों व भाइयों ……………………….’ जैसे सीधे-सादे प्रारम्भिक शब्दों के उच्चारण करते ही सैंकड़ों लोग अपने स्थान से उठ खड़े हुए और तालियाँ बजाने लगे। उन्हें ताज्जुब हुआ कि क्या वास्तव में उन्हीं के लिए वे तालियाँ बजा रहे हैं। निश्चित रूप से वे प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने कांग्रेस की रूढ़िवादिता को त्याग दिया और जनसमूह से उस भाषा में बात की जिसकी वे प्रतीक्षा कर रहे थे। पुनः खामोशी छा गई। उन्होंने सबसे छोटे राष्ट्र का अभिवादन विश्व की प्राचीनतम मठवासीय व्यवस्था की ओर से किया – सन्यासियों की वैदिक व्यवस्था। उन्होंने हिन्दू धर्म को धर्मों की माता के रूप में प्रस्तुत किया, जिसने उन्हें दो प्रकार की शिक्षाएँ (नियम) सिखाई हैं’एक दूसरे को स्वीकार करो और समझो!’ उन्होंने पवित्र पुस्तकों (ग्रंथों) से दो सुन्दर लेखांश भी उद्धरित किए’जो कोई मेरे पास आता है, जिस किसी भी रूप में आता है, मैं उसके पास पहुँचता हूँ।’ ‘सभी मनुष्य मार्गों के माध्यम से आगे बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं, वे मार्ग अन्त में मुझ तक ही ले जाते हैं।’ (यहाँ ‘Me’ ईश्वर के लिए है। paths से तात्पर्य विभिन्न धर्म हैं।) अन्य वक्ताओं में से प्रत्येक अपने ईश्वर के बारे में बोला था, (या) अपने सम्प्रदाय के ईश्वर के बारे में बोला था। केवल वे ही अकेले थे जो – उन सभी के ईश्वरों के बारे में बोले, और और उन सभी (ईश्वरों) को ईश्वर के रूप में स्वेच्छा से स्वीकार किया। यह रामकृष्ण की सुगन्ध थी, जिसने अपने महान् शिष्य के मुँह के माध्यम से सभी अवरोधों को तोड़ दिया था। धर्मसंसद ने युवा वक्ता की जय-जयकार की।

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *