RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 6 Prospects of Democracy in India

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Insight Chapter 6 Prospects of Democracy in India सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 6 Prospects of Democracy in India pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 6 Prospects of Democracy in India notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 9 English Insight Chapter 6 Prospects of Democracy in India

RBSE Class 9 English Insight Chapter 6 Prospects of Democracy in India Textual questions

Activity 1: Comprehension
(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
Dr Ambedkar defines democracy as :
(a) an associated earning
(b) a mode of associated living
(c) a campaign
(d) a charity shop
Answer:
(b) a mode of associated living

Question 2.
Dr Ambedkar says that.
(a) caste system be abolished
(b) caste system be safe guarded
(c) caste system be replaced by Vyavastha
(d) religion has no place in democracy
Answer:
(a) caste system be abolished

(B) Answer the following questions in 30-40 words each:

Question 1.
How does Dr Ambedkar describe democracy?
डॉ. अम्बेडकर लोकतन्त्र को किस प्रकार वर्णित करते हैं?
Answer:
Dr Ambedkar describes democracy as a mode of associated living. He says that the roots of democracy lie in the social relationship, and in the terms of associated life between the people who form a society.
डॉ. अम्बेडकर लोकतन्त्र को सहचारी जीवन की पद्धति के रूप में वर्णित करते हैं। वे कहते हैं कि लोकतन्त्र की जड़ें सामाजिक सम्बन्धों एवं समाज की रचना करने वाले लोगों के मध्य संयुक्त जीवन की शर्तों में निहित होती हैं।

Question 2.
Why does Dr Ambedkar express doubts about India’s democratic system?
डॉ. अम्बेडकर भारत की लोकतान्त्रिक व्यवस्था के बारे में सन्देह क्यों व्यक्त करते हैं?
Answer:
According to Dr Ambedkar, due to the existence of the caste system in Indian society, democracy cannot exist in India in its true sense. So he expresses doubts about India’s democratic system.
डॉ. अम्बेडकर के अनुसार भारतीय समाज में जाति व्यवस्था के अस्तित्व के कारण भारत में सही मायने में लोकतन्त्र का अस्तित्व नहीं हो सकता। इसीलिए वे भारत की लोकतान्त्रिक व्यवस्था पर सन्देह व्यक्त करते हैं।

Question 3.
How does Dr Ambedkar describe the existence of caste system in India ?
डॉ. अम्बेडकर भारत में जाति व्यवस्था के अस्तित्व का वर्णन किस प्रकार करते हैं?
Answer:
Dr Ambedkar says that the Indian society does not consist of individuals. It consists of a collection of innumerable castes. Indian society is so embedded in the caste system that everything is organised on the basis of caste.
डॉ. अम्बेडकर कहते हैं कि भारतीय समाज व्यक्तियों से नहीं बना है। इसमें असंख्य जातियों का एकत्रीकरण है। भारतीय समाज जाति व्यवस्था में इतना सन्निहित है कि प्रत्येक चीज जाति के आधार पर संगठित है।

Question 4.
How is the caste system against true democracy ?
जाति प्रथा किस प्रकार से सच्चे लोकतन्त्र के विरुद्ध है?
Answer:
The caste system is consisted of such features which militate against democracy. These features include graded inequality, caste bound occupations, deliberate stunting of growth and caste-based voting.
जाती प्रथा में कुछ ऐसे लक्षण हैं जो लोकतन्त्र के विरुद्ध लडाई लड़ते हैं। इन लक्षणों में क्रमिक असमानता, जाति-बद्ध पेशे, सुविचारित वृद्धि अवरोध तथा जाति आधारित मतदान शामिल हैं।

Question 5.
How can education help in destroying the caste system ?
जाति प्रथा को नष्ट करने में शिक्षा किस प्रकार मदद कर सकती है?
Answer:
If education is given to the lower strata of the Indian society, it would raise their spirit of rebellian. In this way education may help in destroying the caste system.
यदि भारतीय समाज के निम्न वर्ग को शिक्षा प्रदान की जाये तो यह उनके विद्रोह की भावना को बढ़ाएगी इस प्रकार शिक्षा यह जाति प्रथा को नष्ट करने में मदद कर सकती है।

Question 6.
What does Dr Ambedkar mean by ‘a democracy is more than a form of a government’ ?
डॉ. अम्बेडकर का ‘लोकतन्त्र सरकार के एक रूप से कहीं बढ़कर होता है’ से क्या आशय है?
Answer:
Dr Ambedkar says that the roots of democracy lie not in the form of Government. A democracy actually is more than a form of Government. It is primarily a mode of associated living.
डॉ. अम्बेडकर कहते हैं कि लोकतन्त्र की जड़ें सरकार के रूप में स्थित नहीं हैं। वास्तव में लोकतन्त्र सरकार के एक रूप से कहीं बढ़कर है। यह प्रारम्भिक रूप से सहचारी या संयुक्त जीवन की एक पद्धति है।

(C) Answer the following questions not exceeding 60-80 words each :

Question 1.
What are the evil effects of the caste system and how do these stand in the way of democracy ?
जाति प्रथा के बुरे प्रभाव क्या हैं और ये लोकतन्त्र की राह में किस प्रकार से (अवरोध के रूप में) खड़े हैं?
Answer:
There are some special features of the caste system which have their evil effects and which militate against democracy. These include graded inequality, complete isolation, caste-bound occupations, caste-based voting etc. Castes are not equal in their status. There is complete isolation between castes. One caste is bound to only one occupation. In such conditions, Indian society is disorganised and factional. And all these things in the caste system cut at the very roots of democracy. Jilid

प्रथा में कुछ विशेष लक्षण हैं जिनके बुरे प्रभाव हैं और जो लोकतन्त्र के विरुद्ध लड़ाई लड़ते हैं। इनमें क्रमिक असमानता, पूर्ण अलगाव, जाति-बद्ध पेशे, जाति आधारित मतदान आदि शामिल हैं। जातियाँ अपने स्तर में बराबर नहीं हैं। जातियों के मध्य पूर्ण अलगाव है। एक जाति केवल एक ही पेशे को करने के लिए बाध्य है। ऐसी परिस्थितियों में भारतीय समाज असंगत और भेदकारी है। और जाति प्रथा में स्थित ये सभी बातें लोकतन्त्र की असली जड़ों को काटती हैं।

Question 2.
What are the various obstacles in the way of ending the caste system ? What remedies does Dr Ambedkar suggest to abolish the caste system ?
जाति प्रथा को समाप्त करने के मार्ग में कौन-सी विविध बाधाएँ हैं? डॉ. अम्बेडकर जाति प्रथा को समाप्त करने के लिए क्या उपाय सुझाते हैं?
Answer:
According to Dr Ambedkar there are various obstacles in the way of ending the caste system. The first obstacle lies in the system of graded inequality which is the soul of the caste system. People are divided into two classes, higher and lower. The second obstacle is that the Indian society is disabled by unity in action by not being able to know what is its common good. Dr Ambedkar says that education may be solvent in ending the caste system if it is applied to the lower strata of the Indian society.

डॉ. अम्बेडकर के अनुसार जाति प्रथा को समाप्त करने की राह में कई अवरोध हैं। पहला अवरोध क्रमिक असमानता की व्यवस्था में निहित है जो जाति प्रथा की आत्मा है। लोग उच्च एवं निम्न दो वर्गों में बँटे हुए हैं। दूसरा अवरोध यह है कि भारतीय समाज अपने सर्वनिष्ठ हित को समझने में सामूहिक रूप से असमर्थ होने के कारण पंगु बना हुआ है। डॉ. अम्बेडकर कहते हैं कि यदि भारतीय समाज के निम्न स्तर को शिक्षा दी जाये तो यह जाति प्रथा का अंत करने में एक समाधान हो सकती है।

Question 3.
Are the observations of Dr Ambedkar about the caste system in India still relevant today ? What remedies would you like to suggest to end the caste system ?
क्या भारत में जाति प्रथा के विषय में डॉ. अम्बेडकर की टिप्पणियाँ आज भी प्रासंगिक हैं? जाति प्रथा को समाप्त करने के लिए आप क्या उपाय सुझाना चाहेंगे?
Answer:
Dr Ambedkar’s observations about the caste system are not so relevant today, as he made these observations about 60-65 years ago. Today, the downtrodden and lower classes are getting better education. They have been provided reservation in government jobs as well as in parliament and legislative assemblies. But, still a lot of people are living a miserable life due to ignorance and poverty. However, the government has made policies for their betterment. But the implementation of these policies should be proper.

जाती प्रथा के बारे में डॉ. अम्बेडकर की टिप्पणियाँ आज उतनी प्रासंगिक नहीं हैं, क्योंकि उन्होंने ये टिप्पणियाँ लगभग 60-65 वर्ष पूर्व की थीं। आज दलित एवं निम्न वर्ग बेहतर शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। सरकारी नौकरियों में एवं संसद और विधान सभाओं में उन्हें आरक्षण उपलब्ध कराया गया है। किन्तु, अब भी बहुत से लोग अज्ञानता और गरीबी के कारण दयनीय जीवन जी रहे हैं। हालाँकि सरकार ने उनकी बेहतरी के लिए नीतियाँ बनाई हैं। किन्तु इन नीतियों का क्रियान्वयन उचित ढंग से होना चाहिए।

(D) Say whether the following statements are True or False. Write T for true and F for False in the bracket :

  1. Dr Ambedkar says that the roots of democracy are to be traced in social relationship. [ ]
  2. Dr Ambedkar suggests that education can solve the problem of untouchability. [ ]
  3. Dr Ambedkar says that democracy can succeed only in those countries which are rooted in caste system. [ ]
  4. Graded inequality, says Dr Ambedkar, is a part of caste system. [ ]
  5. Dr Ambedkar believes that Indian society is disabled by unity in action. [ ]

Answer:

  1. True
  2. True
  3. False
  4. True
  5. True

Activity 2: Vocabulary
(A) Match the words in column ‘A’ with those in column ‘B’.
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 9 The World as I See It 3
Answer:
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 9 The World as I See It 4

(B) Change the following into adjectives by adding a suitable affix- 
Praise, Faction, Progress, Assign, Parliament
Answer:
Praise           Praiseworthy
Faction         Factional
Progress       Progressive
Assign           Assigned
Parliament    Parliamentary

(C) The word ‘innumberable’ as used in this lesson also, means ‘countless’. There are other words such as numerous, many, several, various, etc. Explain their difference of meaning by using them into sentences.
Answer:
many (बहुत से)- इसका प्रयोग countable nouns के साथ मुख्यत: प्रश्नवाचक एवं नकारात्मक वाक्यों में होता है।
उदाहरण- How many people came to the meeting ? I don’t go to many concerts.
several (दो से अधिक किन्तु बहुत ज्यादा नहीं)
उदाहरण- Several letters arrived this morning.
He has written several books.
various (विविध)
उदाहरण- She took the job for various reasons.
numerous (बड़ी संख्या में)
उदाहरण- He has been late on numerous occassions.
countless (असंख्य)
उदाहरण- The new treatment can save lives of countless people.
innumerable (असंख्य)
उदाहरण- Innumerable books have been written on this subject.

Activity 3 : Grammar
Sequence of Tenses कालों का अनुक्रम

एक वाक्य में एक मुख्य उपवाक्य एवं एक या अधिक आश्रित उपवाक्य हो सकते हैं। जब मुख्य क्रिया या एक वाक्य past tense में हो तो आश्रित उपवाक्य की क्रियाएँ भी सामान्यतया past tense में ही आती हैं। Study the box below : नीचे दिये गए बॉक्स का अध्ययन कीजिए
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 9 The World as I See It 5
However, when the subordinate clause expresses a universal truth, the verb is in present tense form The Preacher said that God exists. The teacher said that the earth moves round the sun. Now do the exercises given in your grammar book.
अब अपनी व्याकरण की पुस्तक में दिए गये अभ्यासों को हल करिये।

Activity 4: Speech Activity
Dr Ambedkar’s role as Chairman of the Constitution Drafting Committee can hardly be exaggerated. Discuss amongst the groups Dr Ambedkar’s contribution in framing the Indian constitution.
डॉ. अम्बेडकर की संविधान निर्माता समिति के अध्यक्ष के रूप में भूमिका को बमुश्किल ही बढ़ा चढ़ा कर बताया जा सकता है। डॉ. अम्बेडकर का भारतीय संविधान के निर्माण में भूमिका पर समूहों में विचार विमर्श करो।
Answer:
We can discuss the following points :
हम निम्नलिखित बिन्दुओं पर विचार विमर्श कर सकते हैं।

1. On 29th August, 1947 passing one resolution the Constituent Assembly appointed a ‘Drafting Committee’. There were seven members including Dot Ambedkar for preparing a draft of the Constitution of the Independent India.
29 अगस्त 1947 को एक प्रस्ताव पारित करके संविधान सभा ने निर्मात्री समिति’ नियुक्त की। स्वतंत्र भारत के संविधान की संरचना बनाने के लिए डॉ. अम्बेडकर सहित सात सदस्य थे।

2. According to Gandhiji Dr Ambedkar was an outstanding legal and constitutional expert.
गाँधीजी के अनुसार डॉ. अम्बेडकर एक उत्कृष्ट कानूनी और संविधान विशेषज्ञ थे।

3. Because of his bright characteristics, as his deep and vast study, tremendous knowledge, amazing command of an English language, expertness in explaining the subject and ideals of patriotism, he was chosen as Chairman.
उनकी स्पष्ट विशेषताएँ जैसे उनका गहरा व विस्तृत अध्ययन, असाधारण ज्ञान, अंग्रेजी भाषा पर अविश्वसनीय अधिकार, देशभक्ति के विषय तथा आदर्श को समझाने में निपुणता के कारण उन्हें अध्यक्ष चुना गया।

4. He was the first and foremost leader of the depressed classes. He struggled for the depressed classes for Human Rights and sociopolitical equality.
वे दलित वर्गों के प्रथम व अग्रणी नेता थे। उन्होंने दलित वर्गों के मानव अधिकारों तथा सामाजिक राजनैतिक समानता के लिए संघर्ष किया।

5. The contribution of Dr Ambedkar in Indian Democracy is not to be forgotten. As a Chairman of the Constitutional Committee he gave a shape to our country of a Complete Sovereign, Democratic and Republic based on adult franchise.
भारतीय लोकतंत्र में डॉ अम्बेडकर के योगदान को नहीं भुलाया जा सकता है। संविधान समिति के अध्यक्ष के रूप में उन्होंने अपने देश को एक पूर्ण प्रभुसत्ता सम्पन्न, वयस्क मताधिकार के आधार पर लोकतांत्रिक तथा गणतांत्रिक देश के रूप में आकार प्रदान किया है।

6. Baba Saheb Ambedkar’s name will be written in golden letters in the history of India as a creator of social justice.
सामाजिक न्याय के रचयिता के रूप में बाबा साहब अम्बेडकर का नाम भारत | के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों से लिखा जावेगा।

7. He was one of the few sons in the History of India that can be said as the gift of Indian freedom movement.
वे भारत के कई इतिहास पुरूषों में से एक थे जिन्हें स्वंतत्र भारत का उपहार कहा जा सकता। है।

8. If Mahatma Gandhi gave direction and lesson of morality, Baba Saheb gave shape to Social aspect without exploitation.
यदि महात्मा गाँधी ने नैतिकता को निर्देशित किया तथा नैतिकता का पाठ पढ़ाया तो बाबा साहेब ने शोषण मुक्त सामाजिक दृष्टिकोण प्रदान किया।

9. He spent his whole life for the betterment of the poor, exploited and untouchables.
उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों, शोषितों व अछूतों के उद्धार में बिताया।

Thus, Dr Ambedkar’s contribution to the Indian Constitution is undoubtedly of the highest order. Indeed he deserves to be called the “Father or the Chief Architect” of the Indian Constitution.
इस प्रकार से, डॉ. अम्बेडकर का भारतीय संविधान में योगदान नि:संदेह सर्वोच्च प्रकार का है। वे वास्तव में भारतीय संविधान के मुख्य रचयिता। कहलाने के हकदार हैं।

Activity 5 : Composition

Question 1.
India is the largest democracy of the world. In democracy, the importance of voting can hardly be exaggerated as it decides the destiny of a democratic nation India as a nation suffers from some severe ills which are certainly the obstacles to establish a democracy Gandhiji dreamt of. One such obstacle is the caste system. Write an essay pointing out the ills of caste system which seems to have played havoc with Indian polity.

भारत संसार का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। लोकतंत्र में मतदान के महत्व को बमुश्किल ही अतिरंजित किया जा सकता है। क्योंकि यह एक लोकतांत्रिक राष्ट्र के भविष्य को निर्धारित करता है। एक राष्ट्र के रूप में भारत उन कुछ गंभीर मुसीबतों को झेल रहा है जो कि निश्चित रूप से गाँधी जी के द्वारा देखे गये स्वप्न के लोकतंत्र की स्थापना के रास्ते में रोड़ा है। ऐसा ही एक रोड़ा है जातिप्रथा। जातिप्रथा की बुराईयों की ओर इशारा करते हुए एक निबंध लिखिये जो कि भारतीय राजतंत्र का विनाश कर रहा है।
Answer:
Caste System and Democracy in India India has adopted the liberal democratic system which is basically based on equality, liberty and justice. But the reality is quite different. Caste system is prevalent in our country. And caste system is a bane to democracy. Role of caste in elections has two dimensions. One is of the parties and candidates and the second is of the voters. People vote on the basis of caste and religion and do not take the merits of the candidate into consideration. India is the world’s largest democracy but everyday democracy fails. Even today one can’t find a dalit candidate contesting in the non-reserved constitution. To make democracy successful in India we should oppose the caste system.

भारत में जातिप्रथा व लोकतंत्र । भारत ने स्वतंत्र लोकतांत्रिक परम्परा को अपनाया जो कि समानता, स्वतंत्रता तथा न्याय पर आधारित है। लेकिन वास्तविकता बिल्कुल भिन्न है। हमारे देश में जाति प्रथा व्याप्त है। और जाति प्रथा लोकतंत्र के विनाश का कारण है। चुनाव में जाति के दो आयाम होते हैं। एक तो पार्टियों का तथा उम्मीदवारों का तथा दूसरा है मतदाताओं का। लोग जाति तथा धर्म के नाम पर वोट डालते हैं तथा उम्मीदवार के गुणों के बारे में विचार नहीं करते हैं। इसकी बुराई के कारण लोकतंत्र अपने आप में ही एक हँसी का पात्र बन गया है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है लेकिन प्रतिदिन लोकतंत्र असफल हो रहा है। आज भी गैरआरक्षित क्षेत्र में किसी भी दलित को चुनाव लड़ते हुए नहीं देखा जा सकता है। भारत में लोकतंत्र को सफल बनाने के लिए हमें जाति प्रथा का विरोध करना चाहिए।

Question 2.
You will agree that the maker of a democratic nation is its voter. If he/she abstain from voting, it is unlikely to establish democracy to the root. Therefore, don’t you think that voting must be made mandatory ? Write an essay expressing your ideas as to why voting be made mandatory.
आप इस बात से सहमत होंगे कि एक राष्ट्र के निर्माता इसके मतदाता होते हैं। यदि वे मतदान में भाग नहीं लेंगे तो इसके मूल तक लोकतंत्र की स्थापना असम्भाव्य लगता है। इसलिए क्यों आप यह नहीं मानते हो कि मतदान अनिवार्य कर ही दिया जाना चाहिये? अपने विचार व्यक्त करते हुए कि मतदान क्यों अनिवार्य कर दिया जाना चाहिये पर एक निबंध लिखिये।
Answer:
Voting must be Made Mandatory India is the largest democracy of the world but it has many faults. One of which is voting. In India voting is not mandatory. So there are many people who don’t take any interest in casting vote. There may be many reasons behind this factor. But in my view voting must be made mandatory in our country to make democracy a success. Some points in favour the compulsory voting can be as follow :

  1. After the.compulsory voting the victorious candidate will represent a majority of the population, not just the politically motivated individuals who would vote without compulsion.
  2. After introducing the compulsory voting, it will become more difficult for extremist or special interest groups to get themselves into power or to influence mainstream candidates.
  3. Political parties will not have to spend time and money to convince voters for voting.
  4. Compulsory voting would compel the people to be more practical in building a government.

मतदान को अनिवार्य बनाया ही जाना चाहिये भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है लेकिन इसकी कुछ कमियाँ हैं। इनमें से एक है मतदान। भारत में मतदान अनिवार्य नहीं है। इसलिए अनेक लोग मतदान करने के लिए नहीं जाते हैं। इसके पीछे कई सारे कारण हो सकते है। लेकिन मेरे विचार से लोकतंत्र को सफल बनाने के लिए मतदान को अनिवार्य बनाया ही जाना चाहिये। अनिवार्य मतदान के पक्ष में कुछ बिन्दु इस प्रकार हो सकते हैं :

  1. अनिवार्य मतदान के पश्चात विजयी उम्मीदवार जनसंख्या के बहुत ही बड़े भाग का प्रतिनिधित्व करेगा केवल राजनीतिक रूप से प्रेरित व्यक्तियों का नहीं जो बगैर किसी अनिवार्यता के मतदान करते हैं।
  2. अनिवार्य मतदान के लागू होने के बाद, चरमपंथियों या विशेष रुचि वाले समूहों के लिए अपने आप को शासन में लाने या मुख्य धारा के प्रत्याशियों को प्रभावित करना कठिन हो जावेगा।
  3. राजनीतिक दलों को मतदाताओं को मत डालने के लिए लुभाने के लिए समय व धन बर्बाद नहीं करना पड़ेगा।
  4. अनिवार्य मतदान लोगों को व्यवहारिक सरकार बनाने के लिए बाध्य करेगा।

RBSE Class 9 English Insight Chapter 6 Prospects of Democracy in India

Short Answer Type Questions
Answer the following questions in 30 words each :

Question 1.
What according to Dr Ambedkar, is the common perception about democracy?
डॉ. अम्बेडकर के अनुसार लोकतन्त्र के विषय में सामान्य अवधारणा क्या है?
Answer:
According to Dr Ambedkar, it is supposed that where there is Parliament which is elected by the people on adult suffrage and the laws are made by the people’s representatives in Parliament, there is democracy.
डॉ. अम्बेडकर के अनुसार, यह माना जाता है कि जहाँ पर वयस्क मताधिकार के माध्यम से लोगों द्वारा संसद का चुनाव होता है और संसद में जन प्रतिनिधियों द्वारा कानून बनाये जाते हैं वहाँ लोकतन्त्र होता है।

Question 2.
What features does Indian society have? भारतीय समाज के क्या लक्षण हैं?
Answer:
The Indian society does not consist of individuals. It consists of an innumerable collection of castes which are exclusive in their life and have no common experience to share and have no bond of sympathy.
भारतीय समाज व्यक्तियों से बना हुआ नहीं है। यह असंख्य जातियों के एकत्रीकरण से बना है जो अपने जीवन में गैरमिलनसार हैं और उनके पास बांटने के लिए कोई सर्वसामान्य अनुभव नहीं होता और सहानुभूति का कोई बन्धन नहीं होता।

Question 3.
What does the author mean by ‘Graded Inequality’? .
‘क्रमिक असमानता’ से लेखक का क्या अभिप्राय है?
Answer:
The author explains graded inequality as the difference of status among castes. Some castes are lower and some others are higher. They are jealous of one another.
लेखक क्रमिक असमानता को जातियों के मध्य स्तर का अन्तर बताते हैं। कुछ जातियाँ निम्न हैं तो कुछ अन्य उच्च हैं। वे एक दूसरों के प्रति ईष्र्यालु हैं।

Question 4.
What is the difference between caste system and class system ?
जाति व्यवस्था एवं वर्ण व्यवस्था में क्या अन्तर है?
Answer:
The main difference between caste system and class system is that there is no complete isolation in the class sytem as there is in the caste system. जाति व्यवस्था एवं वर्ण व्यवस्था में मुख्य अन्तर यह है कि वर्ण व्यवस्था में जाति व्यवस्था जैसी पूर्ण अलगाव नहीं है।

Question 5.
When is a society stably organised ?
एक समाज स्थिरतापूर्वक संगठित कब होता है?
Answer:
A society is stably organised when each individual is doing an occupation for which he has aptitude by nature in such a way to be useful to others. And it is the business of society to discover these aptitudes and progressively to train them for social use.
एक समाज स्थिरता से संगठित तब रहता है जब प्रत्येक व्यक्ति वह कार्य करे जिसमें उसकी स्वाभाविक अभिरुचि है जिससे कि वह दूसरों के लिए उपयोगी हो सके। और यह कार्य समाज का है कि वह उन अभिरुचियों की खोज करे एवं उन्हें सामाजिक उपयोग के लिए उत्तरोत्तर प्रशिक्षण दे।

Question 6.
Why is an educated person belonging to the higher caste interested to retain the caste system ?
उच्च जाति का शिक्षित व्यक्ति जाति प्रथा को बनाये रखने में दिलचस्पी क्यों लेता है?
Answer:
An educated person belonging to the higher caste is more interested to retain the caste system because education gives him an additional interest in the retention of the caste system namely by opening additional opportunity of getting a bigger job.
उच्च जाती का शिक्षित व्यक्ति जाति प्रथा को बनाये रखने में अधिक दिलचस्पी लेता है क्योंकि शिक्षा उसे जाति प्रथा को बनाये रखने में अतिरिक्त रुचि प्रदान करती है अर्थात् उसके लिए बड़ी नौकरी के अतिरिक्त अवसर प्रदान करती है।

Long Answer Type Questions
Answer the following questions in 60 words each :

Question 1.
What impression does Dr Ambedkar have while depicting Indian society ?
भारतीय समाज का वर्णन करते समय डा. अम्बेडकर के क्या विचार हैं?
Answer:
Dr Ambedkar says that when we speak of society, we conceive of it as one by its very nature. The qualites which accompany the unity of society are praiseworthy community of purpose and desire for welfare, loyalty to public ends and mutuality of sympathy and co-operation. But these ideals are not found in Indian society. The Indian society does not consist of individuals. It consists of an innumerable collection of castes which are exclusive in their life and have no common experience to share and have no bond of sympathy.

डॉ. अम्बेडकर कहते हैं कि जब हम समाज की बात करते हैं तो हम इसके यथार्थ स्वरूप से इसे एक ही समझते हैं। समाज के एकत्व से जुड़ी विशेषताएँ हैं-प्रशंसनीय उद्देश्यपरक समुदाय एवं कल्याण की आकांक्षा, सार्वजनिक हितों के प्रति निष्ठा व सहानुभूति एवं सहयोग की पारस्परिकता। किन्तु ये आदर्श भारतीय समाज में नहीं मिलते। भारतीय समाज व्यक्तियों से बना हुआ नहीं है। यह असंख्य जातियों के एकत्रीकरण से बना है जो अपने जीवन में गैरमिलनसार होते हैं और उनके पास बाँटने के लिए कोई सर्व सामान्य अनुभव नहीं होता एवं कोई सहानुभूति का बंधन नहीं होता।

Question 2.
How does Dr Ambedkar prove that ‘everything is organised on the basis of caste in Indian society ?
डॉ. अम्बेडकर किस प्रकार सिद्ध करते हैं कि भारतीय समाज में हर बात जाति के आधार पर संगठित है?
Answer:
Dr Ambedkar says that ‘everything is organised on the basis of caste in Indian society’. An Indian cannot eat or marry with an Indian simply because he or she does not belong to his or her caste. An Indian cannot touch an Indian because he or she does not belong to his or her caste. An Indian votes for a candidate who belongs to his own caste. All charity in India is communal. There is no room for the downtrodden and the outcastes in politics, in industry, in commerce, and in education.

डॉ अम्बेडकर करते है की ‘भारतीय समाज में हर बात जाति के आधार पर संगठित है’। एक भारतीय दूसरे भारतीय के साथ भोजन नहीं कर सकता या विवाह नहीं कर सकता इसलिए क्योंकि वह स्त्री का पुरुष उसकी जाति से नहीं है। एक भारतीय दूसरे भारतीय को छू नहीं सकता क्योंकि वह स्त्री/पुरुष उसकी जांति से नहीं है। एक भारतीय उस प्रत्याशी को मतदान करता है जो उसकी स्वयं की जाति का है। भारत में सम्पूर्ण दान साम्प्रदायिक है। दलितों और अछूतों के लिए राजनीति, उद्योग, वाणिज्य एवं शिक्षा में कोई स्थान नहीं है।

Passages for Comprehension

Read the following passages carefully and answer the questions given below them :

Passage 1
Indian Society is so embedded in the Caste System that everything is organised on the basis of caste. Enter Indian Society and you can see caste in its glaring form. An Indian cannot eat or marry with an Indian simply because he or she does not belong to his or her caste. An Indian cannot touch an Indian because he or she does not belong to his or her caste. Go and enter politics and you can see caste reflected therein. How does an Indian vote in an election? He votes for a candidate who belongs to his own caste and no other. Go into the field of industry. What will you find? You will find that the topmost men drawing the highest salary belong to the caste of the particular industrialist who owns the industry. The rest hang on for life on the lowest rungs of the ladder on a pittance.

Go into the field of commerce and you will see the same picture. The whole commercial house is one camp of one caste, with no entry board on the door for others. Go into the field of charity. With one or two exceptions all charity in India is communal. If a Parsi dies, he leaves his money for Parsis. If a Jain dies, he leaves his money for Jains. If a Marwadi dies, he leaves his money for Marwadis. If a Brahmin dies, he leaves his money for Brahmins. Thus, there is no room for the downtrodden and the outcastes in politics, in industry, in commerce, and in education.

1. How is everything organised in Indian Society ?
भारतीय समाज में प्रत्येक बात किस प्रकार संगठित है?

2. How can one see caste in its glaring form ?
कोई व्यक्ति जाति को उसके सुस्पष्ट रूप में कैसे देख Honcil ?

3. Why can an Indian not touch an Indian ?
एकं भारतीय दूसरे भारतीय को क्यों नहीं छू सकता?

4. How does an Indian vote in an election ?
एक भारतीय चुनाव में किस प्रकार मतदान करता है?

5. Who draw highest salary in an industry ?
एक उद्योग में सर्वाधिक वेतन कौन लेते हैं?

6. What can be seen in the field of charity in India ?
भारत में दान के क्षेत्र में क्या देखा जा सकता है?

7. Whom does a Parsi leave his money for, when he dies ?
एक पारसी जब मरता है तो अपना धन किसके लिए छोड़ जाता है?

8. Where is there no room for the downtrodden and the outcastes, according to the author ?
लेखक के अनुसार दलितों और अछूतों के लिए कहाँ कोई जगह नहीं है?

9. Find from the passage the words opposite in meaning to those given below
(a) highest
(b) exit

10. Make the plural forms of the following:
(a) society
(b) election
Answers:
1. In Indian Society, everything is organised on the basis of caste.
भारतीय समाज में प्रत्येक बात जाति के आधार पर संगठित है।

2. One can see caste in its glaring form by entering Indian Society.
भारतीय समाज में प्रवेश करके कोई भी जाति को सुस्पष्ट रूप में देख सकता है।

3. An Indian cannot touch an Indian because he or she does not belong to his or her caste.
एक भारतीय दूसरे भारतीय को नहीं छूता है क्योंकि वह स्त्री/पुरुष उस स्त्री/पुरुष की जाति से नहीं होता है।

4. In an election, an Indian votes for a candidate who belongs to his own caste.
चुनाव में एक भारतीय उसी प्रत्याशी को मतदान करता है जो उसकी खुद की जाति से हो।

5. In an industry, the persons who draw highest salary belong to the caste of the particular industrialist who owns that industry.
उद्योग में जो व्यक्ति सर्वाधिक वेतन लेते हैं वे किसी उस उद्योगपति की जाति से होते हैं जो उस उद्योग का मालिक होता है।

6. All charity in India is communal with one or two exceptions.
एक या दो अपवादों को छोड़कर भारत में सारा दान साम्प्रदायिक होता है।

7. When a Parsi dies, he leaves his money for Parsis.
जब एक पारसी मरता है तो वह अपना धन पारसियों के लिए छोड़ जाता है।

8. According to the author, there is no room for the downtrodden and the outcastes in politics, in commerce, in industry and in education.
राजनीति, वाणिज्य, उद्योग एवं शिक्षा में दलितों और अछूतों के लिए कोई जगह नहीं है।

9. (a) lowest, (b) enter

10. (a) societies, (b) elections

Passage 2
There is a third characteristic of the Caste System which cuts at the very roots of democracy. It is that one caste is bound to one occupation. Society is no doubt stably organised when each individual is doing that for which he has aptitude by nature in such a way as to be useful to others; and that it is the business of society to discover these aptitudes and progressively to train them for social use. But there is in a man an indefinite plurality of capacities and activities which may characterise an individual. A society to be democratic should open a way to use all the capacities of the individual. Stratification is stunting of the growth of the individual and deliberate stunting is a deliberate denial of democracy. How to put an end to the Caste System? The first obstacle lies in the system of graded inequality which is the soul of the Caste System.

Where people are divided into two classes, higher and lower, it is easier for the lower to combine to fight the higher, for there is no single lower class. The class consists of lower and lowerer. The lower cannot combine with the lowerer. For the lower is afraid that if he succeeds in raising the lowerer, he may well himself lose the high position given to him and his caste.

1. Which characteristic of the Caste System cuts at the very roots of democracy ?
जाति प्रथा की कौन-सी विशेषता लोकतन्त्र की असली जड़ों को काटती है?

2. When is a society stably organised ?
समाज स्थिर रूप से कब संगठित होता है?

3. What is the business of the society ?
समाज का क्या कार्य है?

4. What capacities does a man have ?
एक मनुष्य में क्या क्षमताएँ होती हैं?

5. What should a society to be democratic do?
लोकतान्त्रिक बनने के लिए समाज को क्या करना चाहिए?

6. What affects the growth of an individual ?
व्यक्ति के विकास को कौन प्रभावित करता है?

7. What is the soul of the Caste System ?
जाति प्रथा की आत्मा क्या है?

8. Why can the lower not combine with the lowerer ?
निम्न (जाति का व्यक्ति) निम्नतर के साथ क्यों नहीं जुड़ सकता?

9. Find from the passage the words opposite in meaning to those given below
(a) fails
(b) singularity

10. Find from the passage the words which mean
(a) a job or profession
(b) obstruction
Answers:
1. In the Caste System, one caste is bound to one occupation. This charactersistic of the Caste System cuts at the very roots of democracy.
जाति प्रथा में एक जाति एक पेशे के लिए। बाध्य है। जाति प्रथा की यह विशेषता लोकतन्त्र की असली जड़ों को काटती है।

2. A society is stably organised when each individual is doing that for which he has aptitude by nature in such a way as to be useful to others.
एक समाज तब स्थिर रूप से संगठित होता है जब प्रत्येक व्यक्ति वह व्यवसाय करे जिसमें उसकी स्वाभाविक रुचि है और इस प्रकार करे कि वह दूसरों के लिए उपयोगी हो सके।

3. It is the business of the society to discover the aptitudes of men and train them for social use.
यह समाज का कार्य है कि वह लोगों की अभिरुचि का पता लगाये और उन्हें सामाजिक उपयोग के लिए प्रशिक्षित करे।

4. A man has indefinite plurality of capacities and activities.
एक मनुष्य में अनिश्चित संख्या में क्षमताएँ एवं गतिविधियाँ होती हैं।

5. A society to be democratic should open a way to use all the capacities of the individual.
लोकतान्त्रिक बनाने के लिए समाज को व्यक्ति की सभी क्षमताओं को काम में लेने का मार्ग खोलना चाहिए।

6. Stratification stunts of the growth of the individual.
स्तरीकरण व्यक्ति के विकास को अवरुद्ध करता है।

7. Graded inequality is the soul of the Caste System.
क्रमिक असमानता जाति प्रथा की आत्मा है।

8. The lower cannot combine with the lowerer because the lower is afraid that if he raises the lowerer, he may loose the high position given to him and his caste.
निम्न (जाति का व्यक्ति) निम्नतर के साथ नहीं जुड़ सकता क्योंकि वह डरता है कि यदि उसने निम्नतर को उठा दिया तो वह अपनी और अपनी जाति की ऊँची हैसियत को खो देगा।

9. (a) succeeds, (b) plurality

10. (a) occupation, (b) obstacle

Passage 3
Can education destroy caste? The answer is ‘Yes’ as well as ‘No’. If education is given as it is today, education can have no effect on caste, it will remain as it will be. The glaring example of it is the Brahmin caste. Cent per cent of it is educated, nay, majority of it is highly educated. Yet not one Brahmin has shown himself to be against caste. In fact an educated person belonging to the higher caste is more interested after his education to retain the Caste System than when he was not educated. For education gives him an additional interest in the retention of the Caste System namely by opening additional opportunity of getting a bigger job.

From this point of view, education is not helpful as a means to dissolve caste. So far is the negative side of education. But education may be solvent if it is applied to the lower strata of the Indian Society. It would raise their spirit of rebellion. In their present state of ignorance they are the supporters of the Caste System. Once their eyes are opened they will be ready to fight the Caste System. The fault of the present policy is that though education is being given on a larger scale, it is not given to the right strata of Indian Society.

1. When can education have no effect on caste?
शिक्षा का जाति पर प्रभाव कब नहीं हो सकता?

2. Which caste is totally educated ?
कौनसी जाति पूर्णतः शिक्षित है?

3. How many Brahmins have shown themselves to be against caste ?
कितने ब्राह्मणों ने स्वयं को जाति के विरुद्ध प्रदर्शित किया है?

4. Why is an educated person more interested to retain the Caste System ?
एक शिक्षता व्यक्ति जाति प्रथा को बनाये रखने में ज्यादा दिलचस्पी क्यों लेता ?

5. When may education be solvent in dissolving the Caste System ?
जाती प्रथा को समाप्त करने में शिक्षा कब समाधान हो सकती है?

6. Why are lower caste people supporters of the Caste System ?
निम्न जाति के लोग जाति प्रथा के समर्थक क्यों हैं?

7. When will they be ready to fight the Caste System ?
वे जाती प्रथा से लड़ने को कब तैयार होंगे?

8. What does education give a man ?
शिक्षा मनुष्य को क्या प्रदान करती है?

9. Find from the passage the words opposite in meaning to those given below
(a) minority
(b) positive

10. Make plural forms of the following words:
(a) opportunity
(b) effect
Answers:
1. If education is given as it is today, education can have no effect on caste.
यदि शिक्षा को उसी प्रकार प्रदान किया जाये जैसे कि आज प्रदान की जा रही है तो शिक्षा का जाति पर कोई प्रभाव नहीं हो सकता।

2. The Brahmin caste is totally educated.
ब्राह्मण जाति पूर्णतः शिक्षित है।

3. No Brahmin has shown himself to be against caste.
एक भी ब्राह्मण ने स्वयं को जाति के विरुद्ध प्रदर्शित नहीं किया है।

4. An educated person is more interested to retain the Caste system because education gives him an additional interest in retention of the Caste system by opening additional opportunities of getting a bigger job.
एक शिक्षित व्यक्ति जाति प्रथा को बनाये रखने में ज्यादा दिलचस्पी लेता है क्योंकि शिक्षा उसको बड़ी नौकरी के अतिरिक्त अवसर खोलकर जाति प्रथा को बनाये रखने में उसे अतिरिक्त दिलचस्पी प्रदान करती है।

5. Education may be solvent in dissolving the Caste System if it is applied to the lower strata of the Indian Society.
शिक्षा जाति प्रथा को समाप्त करने में समाधान हो सकती है यदि इसे भारतीय समाज के निम्न वर्ग को प्रदान किया जाये।

6. Lower caste people are supporters of the Caste System because they are in a state of ignorance.
निम्न जाति के लोग जाति प्रथा के समर्थक हैं। क्योंकि वे अज्ञान की अवस्था में हैं।

7. Once their eyes are opened, they will be ready to fight the Caste System.
एक बार उनकी आँखें खुल जायें तो वे जाति प्रथा से लड़ने के लिए तैयार हो जायेंगे।

8. Education gives a man additional opportunity of getting a bigger job.
शिक्षा मनुष्य को बड़ी नौकरी पाने के लिए अतिरिक्त अवसर प्रदान करती है।

9. (a) majority, (b) negative

10. (a) opportunities, (b) effects

Word-meanings and Hindi Translation

The subject …………………………. a society. (Page 40)

Word-meanings : assigned (असॉइण्ड्) = निर्दिष्ट, सौंपा गया। prospects (प्रॉस्पेक्ट्स्) = सम्भाव्यताएँ, भविष्य। democracy (डिमॉसि) = लोकतन्त्र। diplomatic (डिप्लॅमैटिक) = कूटनीतिक। it is held = यह समझा जाता है। republic (रिपब्लिक) = गणतन्त्र। is supposed = माना जाता है। adult suffrage (ॲड्ल्ट सॅफ़रिज्) = वयस्क मताधिकार। representatives (रिप्रिजेण्टेटिव्ज़) = प्रतिनिधि। instrument (इन्स्ट्रॉण्ट) = साधन। exists (इग्ज़िस्ट्स्) = विद्यमान है, अस्तित्व में है। caused (कॉज़्ड्) = उत्पन्न किया गया। equating (इक्वेटिंग्) = बराबर मानते हुए, समान मानते हुए। parliamentary (पालॅमॅण्टॅरि) = संसदीय। remove (रिमूव्) = दूर करना, हटा देना। different (डिफरण्ट) = भिन्न। roots (रूट्स्) = जड़ें। lie (लाइ) = स्थित होना, होना। primarily (प्राइमॅरिलि) = प्रारम्भिक रूप से। mode (मोड्) = पद्धति; प्रणाली। associated (ॲसोसिएटिड्) = संयुक्त, सहचारी। living (लिविंग्) = जीवन। relationship (रिलेशन्शिप्) = सम्बन्ध। terms (टर्मज़) = शर्ते। society (सँसाइटि) = समाज।

हिन्दी अनुवाद-मुझे जो विषय सौंपा गया है, वह है “भारत में लोकतन्त्र का क्या भविष्य है?” अधिकांश भारतीय अत्यधिक गर्व के साथ ऐसे बोलते हैं मानो उनका देश पहले से ही लोकतन्त्र था। विदेशी लोग भी जब भारत को कूटनीतिक सम्मान देने के लिए भोजन की टेबल पर बैठते हैं तो वे महान भारतीय प्रधानमन्त्री और महान भारतीय लोकतन्त्र की बात करते हैं। इससे तर्क की प्रतीक्षा करे बिना ही समझा जाता है कि जहाँ गणतन्त्र है, वहाँ लोकतन्त्र निश्चित होगा। यह भी माना जाता है कि जहाँ वयस्क मताधिकार से निर्वाचित लोगों की संसद है और प्रत्येक कुछ वर्ष बाद निर्वाचित लोगों के प्रतिनिधियों द्वारा संसद में कानून बनाये जाते हैं, वहाँ लोकतन्त्र है। दूसरे शब्दों में, लोकतन्त्र को एक राजनीतिक साधन समझा जाता है और जहाँ यह राजनीतिक साधन अस्तित्व में है, वहाँ लोकतन्त्र है। क्या भारत में लोकतन्त्र है या क्या भारत में लोकतन्त्र नहीं है? सत्य क्या है? तब तक कोई सकारात्मक उत्तर नहीं दिया जा सकता जब तक कि लोकतन्त्र को गणतन्त्र के समान मानने एवं लोकतन्त्र को संसदीय सरकार के समान मानने से उत्पन्न भ्रम को नहीं हटा दिया जाता। लोकतन्त्र एक गणतन्त्र से एवं उसी प्रकार संसदीय सरकार से बिल्कुल भिन्न है। लोकतन्त्र की जड़ें संसदीय या अन्य किसी प्रकार की सरकार के स्वरूप में स्थित नहीं होती हैं। एक लोकतन्त्र सरकार के किसी स्वरूप से बढ़कर होता है। यह प्रारम्भिक रूप से संयुक्त जीवन की पद्धति है। लोकतन्त्र की जड़ों को सामाजिक सम्बन्धों में, समाज की रचना करने वाले लोगों के मध्य संयुक्त जीवन की शर्तों में तलाशा जाना चाहिए।

What does …………………………. education.(Pages 40-41)

Word-meanings : connote (कॅनोट) = का संकेत करना। briefly (ब्रीफ्लि) = संक्षिप्त रूप से। conceive (कॅन्सीव्) = कल्पना करना, समझना। very nature (वेरि नेचॅ) = यथार्थ स्वरूप। accompany (ॲकम्पॅनि) = साथ-साथ चलना, संलग्न होना। praiseworthy (प्रेज्वेदि) = प्रशंसनीय। community (कम्यूनिटि) = समुदाय। welfare (वेल्फेों ) = कल्याण। loyalty (लॉइअॅल्टि) = निष्ठा। ends (ऐण्ड्स्) = प्रयोजन, ध्येय। mutuality (म्यूट्यूएलिटि) = पारस्परिकता। cooperation (को-ऑपरेशन्) = सहयोग; सहकारिता। consist (कॅन्सिस्ट्) = से बना होना। individuals (इन्डिविड्युअल्स्) = व्यक्ति, व्यष्टि। innumerable (इन्यूमॅरॅबॅल) = असंख्य, अगणित। castes (कास्ट्स) = जाति। exclusive (इक्स्क्लू सिव्) = गैरमिलनसार, अनन्य। bond (बॉण्ड्) = बन्धन। sympathy (सिम्पॅथि) = सहानुभूति। argue (आ:ग्यू) = बहस करना। existence (इग्जिस्टॅन्स्) = अस्तित्व। standing (स्टैण्डिंग्) = स्थायी। denial (डिनाइॲल्) = अस्वीकृति। embedded (ऐम्बैडिड्) = सन्निहित, लिप्त। everything (एव्रिथिंग) = प्रत्येक चीज। organised (ऑ:गनाइज़्ड्) = संगठित। glaring (ग्लेॲरिंग्) = सुस्पष्ट। belong to = से सम्बन्ध रखना, का होना। reflected (रिफ्लेक्टिड्) = प्रतिबिम्बित। topmost (टॉप्मोस्ट्) = सर्वोच्च। drawing (ड्रॉइंग) = ले रहे। particular (प:टिक्युलॅ:) = विशेष, खास। industrialist (इण्डस्ट्रिअॅलिस्ट) = उद्योगपति। hang on (हेंग ऑन) = लटके होना। rest (रेस्ट्) = शेष। lowest (लोऍस्ट्) = निम्नतम, सबसे नीचे के। rungs (रंग्ज) = नसैनी या सीढ़ी में आड़े लगे हुए छोटे डण्डे। ladder (लैडेंः) = नसैनी, सीढ़ी। pittance (पिटॅन्स्) = अल्पवेतन, बहुत कम तनख्वाह। commerce (कॉमॅस्) = वाणिज्य, व्यापार। exceptions (इक्सेप्शन्ज़) = अपवाद। communal (कॉम्युनॅल्) = साम्प्रदायिक, सामुदायिक, (यहाँ अर्थ है) दान समुदाय के हितों को ध्यान में रखकर दिया जाता है। room (रूम्) = जगह, गुंजाइश, अवसर। outcastes (आउटकास्ट्स् ) = अछूत, जातिबहिष्कृत।

हिन्दी अनुवाद-‘समाज’ शब्द किस का संकेत करता है? संक्षेप में कहा जाये तो जब हम ‘समाज’ की बात करते हैं तो हम इसके यथार्थ स्वरूप से इसे एक ही समझते हैं। कल्याण के उद्देश्य एवं आकांक्षा से युक्त प्रशंसनीस समुदाय, सार्वजनिक प्रयोजन के प्रति निष्ठा एवं सहानुभूति एवं सहयोग की पारस्परिकता जैसे गुण जो इसके (समाज के) एकत्व के साथ संलग्न हैं। क्या ये आदर्श भारतीय समाज में पाये जाते हैं? भारतीय समाज व्यक्तियों से नहीं बनता है। यह जातियों की उन असंख्य भीड़ से बना होता है जो अपने जीवन में गैरमिलनसार होते हैं और उनके पास बाँटने के लिए कोई भी सर्वसामान्य अनुभव नहीं होता और कोई सहानुभूति का बन्धन नहीं होता। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए इस विषय पर बहस करना आवश्यक नहीं है। जाति प्रथा का अस्तित्व समाज के उन आदर्शों की एवं उसी प्रकार लोकतन्त्र के अस्तित्व की स्थायी अस्वीकृति है। भारतीय समाज जाति प्रथा में इतना सन्निहित है कि प्रत्येक चीज जाति के आधार पर संगठित है। भारतीय समाज में प्रवेश कीजिए और आप जाति को उसके सुस्पष्ट स्वरूप में देख सकेंगे। एक भारतीय किसी भारतीय के साथ भोजन नहीं कर सकता तथा विवाह नहीं कर सकता मात्र इसलिए क्योंकि वह पुरुष या स्त्री उसकी जाति से सम्बन्धित नहीं है। एक भारतीय दूसरे भारतीय को नहीं छूता क्योंकि वह स्त्री या पुरुष उसकी जाति से सम्बन्धित नहीं है। जाइये और राजनीति में प्रवेश कीजिये और आप इसमें जाति को प्रतिबिम्बित देख सकते हैं। एक भारतीय चुनाव में मतदान किस प्रकार करता है? वह उस प्रत्याशी को मत देता है जो उसकी स्वयं की जाति से सम्बन्धित है, अन्य से नहीं। उद्योग के क्षेत्र में जाइये। आप क्या पायेंगे? आप पायेंगे कि सबसे ज्यादा वेतन लेने वाले सर्वोच्च लोग उस उद्योग के मालिक किसी खास उद्योगपति की जाति से होते हैं। शेष लोग अल्प वेतन प्राप्त करते हुए मानो सीढ़ी के निम्नतम डण्डे पर लटके हुए हैं। वाणिज्य के क्षेत्र में जाइये और आप वैसी ही तस्वीर देखेंगे। सम्पूर्ण वाणिज्यिक घराना एक ही जाति का खेमा है, उसके दरवाजे पर दूसरों के लिए ‘प्रवेश नहीं’ की पट्टिका लगी है। दानशीलता के क्षेत्र में जाइये। एक या दो अपवादों को छोड़कर भारत में सम्पूर्ण दान साम्प्रदायिक है। यदि कोई पारसी मरता है तो वह अपना धन पारसियों को छोड़ जाता है। यदि कोई जैन मरता है तो वह अपना धन जैनों को छोड़ जाता है। यदि कोई मारवाड़ी मरता है तो वह अपना धन मारवाडियों को छोड़ जाता है। यदि कोई ब्राह्मण मरता है तो वह अपना धन ब्राह्मणों को छोड़ जाता है। इस प्रकार, राजनीति, उद्योग, वाणिज्य और शिक्षा में दलितों और अछूतों के लिए कोई स्थान नहीं है।

There are other …………………………. endosmosis. (Page 41)

Word-meanings : features (फीचॅज़) = लक्षण, विशेषताएँ। evil (ईवॅल्) = बुराई, बुरा। militate (मिलिटेट) = युद्ध करना, विरोध करना। lies (लाई) _ = स्थित है। graded (ग्रेडिड्) = क्रमिक, श्रेणीकृत। ascending (अॅसेण्डिंग्) = आरोही (उच्च जाति के लोग निम्न जाति के लोगों के लिए घृणा रखते हैं)। scale (स्केल) = माप, पैमाना। contempt (कन्टेम्ट) = घृणा, तिरस्कार। pernicious (पॅ:निशस्) = हानिकर, विनाशक। consequences (कॉन्सिक्वॅन्सिज़) = परिणाम। co-operation (को- ऑपरेशन्) = सहयोग। differ (डिफें) = भिन्न होना। manifests (मैनिफेस्ट्स्) = व्यक्त करता है, दिखलाना, प्रमाणित करता है। stimulus (स्टिम्यूलॅस्) = उद्दीपन, प्रोत्साहन। responce (रिस्पॉन्स्) = उत्तर, प्रतिक्रिया। established (इस्टैब्लिश्ट) = स्थापित। equiltable (एक्विटॅबॅल) = न्यायसंगत; उचित। influences (इन्फ्ल्यू अॅन्सि) = प्रभाव। slaves (स्लेव्ज़) = गुलाम। – loses (लूजिज्) = खो देता है। interchange (इण्टॅचेन्ज्) = विनिमय, अदला-बदली। varying (वैरिइंग्) = परिवर्तनशील, घटता-बढ़ता। modes (मोड्ज़) = विधियाँ, तरीके। arrested (ॲरिस्टिड्) = रुक गया, बाधित हो गया। subject class (सबजेक्ट क्लास) = अधीन वर्ग। prevents (प्रिवेन्ट्स्) = रोकता है। social (सोशल) = सामाजिक। endosmosis (इन्डॉस्मॉसिस्) = अन्तःप्रसारण (यहाँ अर्थ है समाज के विभिन्न तत्त्वों का आपस में मिलना-जुलना)।

हिन्दी अनुवाद-जाति-प्रथा के अन्य विशेष लक्षण ऐसे हैं जिनका बुरा प्रभाव होता है और जो लोकतन्त्र के विरुद्ध लड़ते हैं। जाति प्रथा का ऐसा ही एक विशेष लक्षण इसका ‘क्रमिक असमानता’ के साथ संलग्न होना है। जातियाँ अपनी प्रतिष्ठा में बराबर नहीं हैं। वे एक के ऊपर एक स्थित हैं। वे एक दूसरे के प्रति ईर्ष्यालु हैं। यह घृणा का एक आरोही पैमाना है और तिरस्कार का अवरोही पैमाना। जाति प्रथा के इस लक्षण के सर्वाधिक विनाशक परिणाम होते हैं। यह स्वैच्छिक एवं उपयोगी सहयोग को नष्ट करता है। जाति और वर्ण इस बात में भिन्न हैं कि वर्ण व्यवस्था में ऐसा पूर्ण अलगाव नहीं होता जैसा कि जाति व्यवस्था में होता है। जाति व्यवस्था में संलग्न असमानता के बाद यह दूसरा बुरा प्रभाव है। यह स्वयं इस बात को प्रमाणित करता है कि दो जातियों के मध्य प्रोत्साहन एवं प्रतिक्रिया केवल एक-तरफा है। उच्च जाति एक मान्य तरीके से कार्य करती है और निम्न जाति को एक स्थापित तरीके से प्रत्युत्तर देना पड़ता है। इसका मतलब है कि जब दूसरी जाति से प्रोत्साहन प्राप्त करने के लिए और प्रत्युत्तर देने के लिए न्यायसंगत अवसर नहीं हो तो इसके फलस्वरूप ऐसे प्रभाव उत्पन्न होते हैं जो कुछ लोगों को मालिक के रूप में शिक्षित करते हैं और अन्य लोगों को गुलामों के रूप में जब जीवन के अनुभव के परिबर्तनशील तरीकों का मुक्त रूप से विनिमय बाधित होता है तो प्रत्येक दल का अनुभव अपना अर्थ खो देता है। इसका परिणाम होता है विशेषाधिकृत और अधीन वर्ग के रूप में समाज का विभाजन। ऐसा विभाजन सामाजिक अन्तःप्रसारण (अर्थात् अन्तर्मिलन) को रोक देता है।

There is a …………………………. his caste. (Pages 41-42)

Word-meanings: characteristic (कैरिक्टॅरिस्टिक्) = विशेषता, लक्षण। very (वेरि) = असली। roots (रूट्स्) = जड़ें। is bound = बाध्य है। occupation (ऑक्यूपेशन्) = व्यवसाय; पेशा। stably (स्टेबॅलि) = दृढ़तापूर्वक, स्थिरता से। aptitude (ऐप्टिट्यूड्) = अभिरुचि, अभिवृत्ति। business (बिनिस्) = कार्य। discover (डिस्कवे) = खोजना। progressively. (पॅगेसिक्लि) = उत्तरोत्तर, क्रमिक रूप से। train (ट्रेन्) = प्रशिक्षित करना। indefinite (इन्डेफिनिट) = अपरिमित; अनिश्चित। plurality (प्लुरॅलिटि) = बहुसंख्या, बाहुल्य। characterise (कैरिक्टॅराइज़्) = विशेषता बतलाना, चरित्र-चित्रण करना। democratic (डिमॉक्रॅटिक) = लोकतान्त्रिक। stratification (स्ट्रैटिफिकेशन्) = स्तरीकरण, स्तरविन्यास। stunting (स्टॅण्टिंग्) = वृद्धि रोक रहा, बढ़ने नहीं दे रहा! deliberate (डिलिबॅरिट) = सुविचारित, जानबूझ कर किया हुआ। denial (डिनाइॲल्) = अस्वीकृति। put an end (पुट एन एण्ड) = समाप्त करना। obstacle (ऑब्सॅटॅक्ल) = अवरोध, रुकावट। graded inequality (ग्रेडिड इनक्वलिटि) = क्रमिक असमानता। soul (सोल) = आत्मा। combine (कॉम्बाइन्) = जोड़ना, संगठित करना। consists of = से बना है। in raising = उठाने में। lowerer (लोअॅ::) = अधिक निम्न।

हिन्दी अनुवाद-जाति व्यवस्था की तीसरी विशेषता वह है जो लोकतन्त्र की असली जड़ों को ही काटती है। यह है एक जाति का एक ही पेशे को करने के लिए बाध्य होना। समाज, निस्सन्देह, स्थिरतापूर्वक संगठित रहता है जब प्रत्येक व्यक्ति वह कार्य करे जिसमें उसकी स्वाभाविक अभिरुचि है जिससे कि वह दूसरों के लिए उपयोगी हो सके; और यह समाज का कार्य है कि वह इन अभिरुचियों की खोज करे और उन्हें सामाजिक उपयोग के हेतु रूप प्रशिक्षण दे। किन्तु एक व्यक्ति में अपरिमित संख्या में क्षमताएँ और गतिविधियाँ होती हैं जो एक व्यक्ति की विशेषता बतलाती हैं। किसी समाज को लोकतान्त्रिक होने के लिए व्यक्ति की समस्त क्षमताओं को काम में लेने का तरीका शुरू करना चाहिए। स्तरीकरण व्यक्ति की वृद्धि को रोक रहा है और ये जान-बूझकर किया गया वृद्धिरोधन लोकतन्त्र के लिए जानबूझकर की गई अस्वीकृति है। जाति व्यवस्था को समाप्त कैसे किया जाये? प्रथम रुकावट क्रमिक असमानता में निहित है जो इस जांति व्यवस्था की आत्मा है। जहाँ लोग उच्च व निम्न दो वर्गों में बँटे हुए हों, वहाँ निम्न वर्ग को उच्च वर्ग के विरुद्ध लड़ने के लिए संगठित होना ज्यादा आसान हो जाता है क्योंकि निम्न वर्ग केवल एक ही जाति नहीं है। इस वर्ग में निम्न व निम्नतर शामिल हैं। निम्न लोग निम्नतर के साथ नहीं जुड़ सकते। क्योंकि निम्न व्यक्ति को यह भय है कि यदि वह निम्नतर व्यक्ति को ऊपर उठाने में सफल हो गया तो वह स्वयं को और स्वयं की जाति को दी गई उच्च स्थिति को खो देगा।

The second …………………………. bigger job.(Page 42)

Word-meanings: disabled (डिस्एबल्ड) = पंगु, अशक्त। action (एक्शन्) = कार्य। ultimately (अल्टिमिलि) = अन्ततोगत्वा, अन्त में। existence (इग्ज़िस्टेन्स) = अस्तित्त्व, सत्ता। at the mercy of (अट द मर्सी ऑव) = के वश में। accident (ऐक्सिडॅण्ट) = अप्रत्याशित घटना, संयोग, इत्तफाक। caprice (केप्रिस) = सनक, मौज। criterion (क्राइटिरअॅन्) = मापदण्ड, कसौटी। rationally (रैशनॅलि) = विवेकपूर्वक, तर्कसंगत ढंग से। promote (प्रमोट) = प्रोत्साहन देना, बढ़ावा देना। caste-bound = जाति-बद्ध। ultimate (अॅल्टिमट) = अन्तिम, परम। come upon = (संयोगवश) मिलना या पाना। insuperable (इन्स्यूपरेबॅल) = अलंघ्य, दुस्तर। save (सेव्) = सिवाय। just (जॅस्ट) = न्यायसंगत, उचित। harmonious (हामोन्यस्) = सद्भावपूर्ण, मैत्रीपूर्ण। distracted (डिस्ट्रैक्टिड्) = ध्यान भंग, विकर्षित। misled (मिस्लेड्) = भ्रमित, पथभ्रष्ट। valuations (वैल्यूएशन्ज़) = मूल्यांकन, मूल्यनिर्धारण। perspectives (पॅस्पेक्टिव्ज़) = परिप्रेक्ष्य, परिदृश्य। factional (फैक्शनल्) = भेदकारी, फूट डालने वाला। sets up (सेट्स अप) = स्थापित करता है, पैदा करता है। standards (स्टैण्डड्ज्) = मानक, मानदण्ड। consistency (कॅसिस्टॅन्सि) = सामञ्जस्य। remain (रिमेन्) = रहना। glaring (ग्लेॲरिंग्) = सुस्पष्ट। cent per cent (सेंट पर सेंट) = शत-प्रतिशत। ney (ने) = बल्कि। majority (मॅजॉरिटि) = अधिकांश। interest (इन्ट्रिस्ट) = रुचि। retention (रिटेन्शन्) = अवधारण, धारण (निरन्तर बनाए रखने की भावना)। namely (नेम्लि) = अर्थात्, यानि।

हिन्दी अनुवाद-दूसरा अवरोध यह है कि भारतीय समाज अपने सर्वसामान्य हित को समझने में असफल होने के कारण कार्यव्यवहार में एकरूपता की वजह से पंगु बना हुआ है। प्लेटो ने कहा है कि समाज का संगठन अन्ततोगत्वा अस्तित्व के प्रयोजन के ज्ञान पर निर्भर है। यदि हम इसका प्रयोजन नहीं जानते हैं, यदि हम इसका हित नहीं जानते हैं तो हम संयोग और सनक के वश में ही रहेंगे। जब तक हम प्रयोजन की अच्छाई नहीं जान लेते तब तक हमारे पास यह विवेकपूर्वक निश्चय करने के लिए कोई मापदण्ड नहीं है कि हमें कौन-सी सम्भावनाओं को प्रोत्साहित करना चाहिए। प्रश्न यह है कि, क्या भारतीय समाज अपनी जाति-बद्ध अवस्था में वह प्राप्त कर सकता है जो अन्तिम प्रश्न है? हमें सर्वाधिक अलंघ्य अवरोध मिलते हैं कि एक न्यायसंगत और सद्भावपूर्ण सामाजिक व्यवस्था के सिवाय ऐसा ज्ञान संभव नहीं है। क्या जाति व्यवस्था के अन्तर्गत सद्भावपूर्ण सामाजिक व्यवस्था हो सकती है? भारतीयों का मन हर जगह झूठे मूल्य निर्धारणों और झूठे परिदृश्यों से विकर्षित और पथभ्रष्ट हो रहा है। एक असंगठित और भेदकारी समाज बड़ी संख्या में विभिन्न आदर्श और मानदण्ड स्थापित करता है। ऐसी परिस्थितियों में भारतीय व्यक्तियों के लिए यह असम्भव है कि वे जाति के प्रश्न पर मन में सामञ्जस्य की अवस्था तक पहँचें। क्या शिक्षा जाति को नष्ट कर सकती है? इसका उत्तर ‘हाँ’ भी है और ‘नहीं’ भी। यदि शिक्षा उस प्रकार प्रदान की जाये जिस प्रकार आज प्रदान की जा रही है, तो जाति पर शिक्षा का कोई प्रभाव नहीं हो सकता। यह उसी प्रकार रहेगी जैसी ये है। इसका एक सुस्पष्ट उदाहरण ब्राह्मण जाति है। इस जाति के शत-प्रतिशत लोग शिक्षित हैं, बल्कि, इसके अधिकांश लोग उच्च शिक्षित हैं। फिर भी किसी भी ब्राह्मण ने स्वयं को जाति के विरुद्ध प्रदर्शित नहीं किया है। वस्तुतः उच्च जाति का एक शिक्षित व्यक्ति अपनी शिक्षा के बाद जाति प्रथा को बनाये रखने में ज्यादा दिलचस्पी लेता है बजाय उसके जब वह शिक्षित नहीं था। क्योंकि शिक्षा उसकी जाति प्रथा को बनाये रखने में अतिरिक्त रुचि प्रदान करती है, यानि बड़ी नौकरी प्राप्त करने में अतिरिक्त अवसर प्रदान कर। जाति प्रथा को बनाए रखने में उसकी रुचि को बढ़ाती है।

From this point …………………………. jeopardy. (Pages 42-43)

Word-meanings : from this point of view (फ्रॉम दिस पाइन्ट ऑव व्यू) = इस दृष्टिकोण से। dissolve (डिज़ॉल्व्) = समाप्त करना। solvent (सॉल्वन्ट) = समाधान, शोधक्षम। is applied (इज़ अप्लाइड) = लागू कर दी जाती है। strata (स्टॉ:टा) = स्तर (यहाँ-सामाजिक स्तर)। raise (रेइज़) = बढ़ाना, ऊपर उठाना। spirit (स्पिरिट) = भावना। rebellian (रिबेल्यँन्) = विद्रोह, बगावत। ignorance (इग्नॅरॅन्स्) = अज्ञान, अनभिज्ञता। vested (वेस्टिड्) = निहित। maintaining (मेन्टेनिंग) = बनाये रखने में। advantages (अॅड्वॉण्टेजिज़) = लाभ, हित। strengthen (स्ट्रेन्थेन) = शक्ति बढ़ाना, मजबूत करना। blowing up (ब्लोईंग अप) =. नष्ट करना। _indiscriminate (इन्डिस्क्रिमिनेट) = अविवेकपूर्ण, अव्यवस्थित। abolish (अॅबॉलिश्) = उन्मूलन करना; समाप्त करना। poverty (पॉवे:टि) = गरीबी। keep up (कीप् अप) = बनाये रखना। improve (इम्प्रूव्) = सुधारना। prospect (प्रॉस्पेक्ट) = भविष्य, परिदृश्य। jeopardy (जेपॅडि) = जोखिम, संकट।

हिन्दी अनुवाद-इस दृष्टिकोण से, शिक्षा जाति को समाप्त करने में एक साधन के रूप में मददगार नहीं है। अब तक शिक्षा का ये नकारात्मक पक्ष है। किन्तु शिक्षा समाधान बन सकती है यदि इसे भारतीय समाज के निम्न स्तर के लिए लागू कर दिया जाए। यह उनकी विद्रोह की भावना को बढ़ायेगी। वे अज्ञान की अपनी वर्तमान स्थिति में जाति प्रथा के समर्थक हैं। एक बार उनकी आँखें खुल जायेंगी तो वे जाति प्रथा से लड़ने के लिए तैयार हो जायेंगे। वर्तमान नीति का दोष यह है कि यद्यपि शिक्षा बड़े पैमाने पर प्रदान की जा रही है, किन्तु यह भारतीय समाज के सही स्तर को प्रदान नहीं की जा रही है। यदि आप भारतीय समाज के उस स्तर को ही शिक्षा देंगे जिनका जाति प्रथा से मिलने वाले लाभों के कारण जाति प्रथा को बनाये रखने में निहित स्वार्थ है, तो जाति प्रथा मजबूत ही होगी। दूसरी ओर यदि आप भारतीय समाज के निम्नतम स्तर को शिक्षा देंगे जो जाति प्रथा को समाप्त करने में रुचि लेते हैं, तो जाति प्रथा समाप्त हो जायेगी। वर्तमान में सरकार एवं अमरीकी फाउण्डेशन द्वारा शिक्षा को प्रदान की जा रही अविवेकपूर्ण मदद जाति प्रथा को मजबूत करेगी। अमीरों को और अधिक अमीर बनाना और गरीबों को और अधिक गरीब बनाना गरीबी समाप्त करने का तरीका नहीं है। यही बात जाति प्रथा समाप्त करने के लिए शिक्षा को साधन के रूप में काम में लेने के बारे में सत्य है। जाति प्रथा को बनाये रखने की इच्छा रखने वाले लोगों को शिक्षा प्रदान करना भारत में लोकतन्त्र के भविष्य को सुधारना नहीं है बल्कि यह तो भारत में हमारे लोकतन्त्र को एक बड़े जोखिम में डालना है।

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.