RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners

RBSE Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners Textual Questions

Activity 1 : Comprehension
(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
When the young man recovered, he could move slowly. Here ‘recovered’ means
(a) covered again
(b) covered completely
(c) to get well after illness
(d) all of these.
Answer:
(c) to get well after illness

Question 2.
The young man realized the problems of the older people
(a) after his illness
(b) before his illness
(c) when he was very young
(d) when he was very old.
Answer:
(a) after his illness

Question 3.
When we are cycling and see an old man hesitating on a crossing, we should not call him torn old fool because
(a) he may not hear very well
(b) he may not see clearly
(c) he may have become tired with walking
(d) all of these.
Answer:
(d) all of these.

(B) Answer the following questions not exceeding 30-40 words each:

Question 1.
What is the significance of the story of the young man at the beginning of the essay?
निबन्ध के प्रारम्भ में नवयुवक की कहानी का क्या महत्व है?
Answer:
The story of the young man at the beginning of the essay brings home the author’s point of view that in the present time people have no sympathy for the poor and weak Good manners are very necessary in the society.
निबन्ध के शुरुआत में नवयुवक की कहानी लेखक के इस दृष्टिकोण को समझाती है कि आज लोग गरीब तथा कमजोरों के प्रति सहानुभूति नहीं रखते हैं। समाज में शिष्टाचार अति आवश्यक है।

Question 2.
What happened to the young man and what change did it bring in his outlook?
नवयुवक को क्या हुआ और इससे उसके दृष्टिकोण में क्या परिवर्तन आया?
Answer:
The young man got an attack of influenza. The physical weakness that he suffered during and after his illness made him sympathetic towards the sick and elderly people of the society.
नवयुवक को जुकाम हो गया था। अपनी बीमारी के दौरान और उसके बाद उसने स्वयं में जो शारीरिक दुर्बलता महसूस की उसके कारण वह समाज के बीमार व वयोवृद्ध व्यक्तियों के प्रति सहानुभूति रखने लगा।

Question 3.
Why are good manners important ?
शिष्टाचार क्यों महत्त्वपूर्ण है?
Answer:
Good manners are important to make life easy for others in society as well as to ourselves. They are a product of our feelings of sympathy and kindness towards our fellow beings. They make us real human beings.
शिष्टाचार इसलिए महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इससे समाज में दूसरों का व हमारा स्वयं को जीवन सरल हो जाता है। शिष्टाचार हमारी हमारे साथियों के प्रति सहानुभूति व दयालुता की भावना से उपजता है। इससे हम वास्तविक मनुष्य बनते हैं।

Question 4.
What does socialism mean to different people ?
अलग-अलग लोगों के लिए समाजवाद का क्या अर्थ है?
Answer:
To some people, socialism means taking money from the rich and giving it to the poor. To others, socialism means state control over industry and commerce. To others, it means

what the listener understands by the term. कुछ लोगों के लिए समाजवाद का अर्थ है धनी लोगों से धन लेकर निर्धनों को देना। दूसरों के लिए समाजवाद का अर्थ है, उद्योग व वाणिज्य पर राज्य का नियंत्रण। दूसरों के लिए इसका अर्थ है, वह जो श्रोता इस शब्द से समझता है।

Question 5.
What is the underlying meaning of the sentence ‘I shall not pass this way again’ ?
‘मैं इस रास्ते से दोबारा नहीं गुजरूंगा’ वाक्य का निहितार्थ क्या है?
Answer:
‘I shall not pass this way again’ means I have got this life only once. This life will not again be available to me. So I should make life worthwhile by showing sympathy and kindness to all.
‘मैं इस रास्ते से दोबारा नहीं गुजरूंगा’ का अर्थ है कि मुझे यह जीवन एक ही बार मिला है। यह जीवन मुझे फ़िर नहीं मिलेगा। इसलिए मुझे सभी के प्रति सहानुभूति व दयालुता प्रदर्शित करके अपने जीवन का पूरा उपयोग करना चाहिए।

(C) Answer the following questions in 6080 words each :

Question 1.
Why does one have to express truth differently to different people ? Give reasons for your answer with suitable examples from the text.
किसी को भी अलग-अलग लोगों को अलग-अलग रूप में सत्य को अभिव्यक्त क्यों करना पड़ता है? पाठ से उपयुक्त उदाहरणों के साथ अपने उत्तर के कारण दीजिए।
Answer:
It is truly said in the text that it takes two to express truth. It depends on the understanding of the listener how he takes a statement-true, half true or false. That is why we have to express truth differently to different people. Suppose we talk to somebody about socialism, we’ll have to explain the term regarding their understanding of it. We’ll have to keep in mind whether it means robbery or state control over industry and commerce to them.

पाठ में ठीक ही कहा गया है कि सत्य को अभिव्यक्त करने के लिए दो लोगों की आवश्यकता होती है। यह श्रोता की समझ पर निर्भर करता है कि वह किसी कथन को किस रूप में लेता है-सत्य, अर्द्ध सत्य या असत्य। इसीलिए हमें सत्य को अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग रूप में अभिव्यक्त करना पड़ता है। मान लीजिए हम किसी से समाजवाद के विषय में बात करते हैं। तो हमें इस शब्द को इस आधार पर समझाना पड़ेगा कि वे इस शब्द से क्या समझते हैं। हमें ध्यान रखना पड़ेगा कि वे इसका अर्थ लूट समझते हैं या उद्योग और वाणिज्य पर राज्य का नियन्त्रण।

Question 2.
Bring out the significance of good manners in life.
जीवन में शिष्टाचार के महत्व पर प्रकाश डालिए।
Answer:
Good manners form the basis of a civilized life. They are a product of our consideration for our fellow beings. Our feelings of sympathy and kindness towards all make us well mannered. Good manners make the life of our fellow beings easy and they consider us as a very good and kind human being. Showing good manners makes us acceptable at all places and among all groups.

शिष्टाचार सभ्य जीवन का आधार होता है। यह हमारे साथ के लोगों के प्रति हमारे अच्छे विचारों से जन्म लेता है। सभी के प्रति सहानुभूति व दयालुता की हमारी भावनाएँ हमें शिष्ट बनाती हैं। शिष्टाचार से हमारे साथ के लोगों को जीवन सरल हो जाता है और उनके बीच हमारी छवि एक अच्छे व दयालु मनुष्य की बन जाती है। शिष्टाचार का प्रदर्शन करके हम सब स्थानों व सब समूहों के बीच स्वागत योग्य बन जाते हैं।

(D) Say whether the following statements are True or False. Write ‘T’ for true and ‘F for False in the bracket :

  1. The young man in the beginning was very happy and cared for everyone. [ ]
  2. After his illness a change came in the young man and he started helping older people. [ ]
  3. Wise people take remarks too literally while talking. [ ]
  4. Good manners are important even when we are with our friends. [ ]
  5. The writer is curious to help people because he expects to pass through this world but once. [ ]

Answer:

  1. F
  2. T
  3. F
  4. T
  5. T.

Activity 2 : Vocabulary
(A) Match the following words in column ‘A’ with their meaning in column ‘B’ as used in the passage,
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners 1
Answer:
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners 2

(B) Use the following expressions in your own sentences to bring out the meaning clearly :
निम्नलिखित अभिव्यक्तियों को इस प्रकार अपने वाक्यों में प्रयोग कीजिए कि उनका अर्थ स्पष्ट हो सके- .
Feel on top of life, make fun of, it takes two to speak the truth, a great deal of, make allowances
Answer:
Feel on top of life-On getting success in the IAS examination, he felt himself on top of life. Make fun of-We should never make fun of the weak.। It takes two to speak the truth – What is true to one person could be quite otherwise to another person. Thus, it takes two to speak the truth. A great deal of – Many people waste a great deal of their time in idle Make allowances – While speaking in a group, give yourself a pause and make allowance for others too to speak.

Activity 3 : Grammar Tense
(काल) शब्द क्रिया के विभिन्न रूपों को इंगित करता है जिनसे हमें पता चलता है कि बताया गया कार्य कब हो रहा है-बोलने के पहले, बोलते समय अथवा बोलने के बाद। अंग्रेजी में दो मुख्य tense होते हैं : Present tense (वर्तमान काल) और Past tense (भूतकाल)। इनमें से प्रत्येक कई sub-tenses में बँटा होता है। Tenses की पूरी व्यवस्था इस प्रकार है :

  • simple present simple past
  • present progressive (or present continuous)
  • past progressive (or continuous)
  • present perfect past perfect
  • present perfect progressive
  • past perfect progressive

अंग्रेजी में क्रिया के दो अलग-अलग tense forms होते हैं जो कार्य का वर्तमान में या भूतकाल में होना बताते हैं, जैसे-we go to school everyday. (यहाँ ‘go’ का present tense form यह बताता है कि कार्य वर्तमान में हो रहा है।) We went to school yesterday. (यहाँ ‘go’ की past tense form प्रयुक्त है जो यह बताती है कि कार्य भूतकाल में हुआ।) लेकिन यदि हम किसी ऐसे कार्य के विषय में बात करना चाहते हैं जिसके भविष्य में होने की आशा है तो अलग से कोई tense या verb form नहीं होता है जिसका प्रयोग किया जा सके। उदाहरणार्थ : He will go to school tomorrow.

यद्यपि अंग्रेजी में भविष्य में होने वाली क्रिया को इंगित करने के लिए कई अलग-अलग तरीके हैं फिर भी इस उद्देश्य के लिए किसी विशेष tense का प्रयोग नहीं होता है। इसके बजाय हम कुछ अलग तरीके काम में लेते हैं। इसलिए ‘Future tense’ के विषय में बात करने के बजाय हम भविष्य में होने वाली क्रिया को प्रदर्शित करने वाले विभिन्न तरीकों के सन्दर्भ में बात करेंगे। उनकी सूची नीचे है

a. मुख्य क्रिया की simple present tense form of
साथ ‘will’ या ‘shall’ के प्रयोग द्वारा प्रदर्शित भविष्य का कार्य।

b. ‘going to’
द्वारा प्रदर्शित भविष्य का कार्य।

c. present progressive tense’
के प्रयोग द्वारा प्रदर्शित भविष्य का कार्य

d. simple present tense
के प्रयोग द्वारा प्रदर्शित भविष्य को कार्य। आगे के पाठों में आप ‘tenses’ के बारे में और अधिक पढ़ेंगे।

Activity 4: Speech Activity
You are Rajesh. Recently you visited the fort of Chittorgarh. The historicity of the fort impressed you very much. What displeased you was the crowd’s unintentional annoying manners. Form a circle of your friends and tell them how we can observe good manners at a public place.

आप राजेश हैं। हाल ही में आप चित्तौड़गढ़ किला घूमने गए। किले की ऐतिहासिकता से आप अत्यधिक प्रभावित हुए। बस भीड़ के अनजाने में प्रदर्शित क्रोध दिलाने वाले तौर-तरीके आपको बिल्कुल अच्छे नहीं लगे। अपने मित्रों को एक गुट बनाकर उन्हें बताइये कि हम सार्वजनिक स्थानों पर किस प्रकार शिष्टाचार का पालन कर सकते हैं।
Answer:
Dear friends, you know last week I went to visit the fort of Chittorgarh. This fort is really a vivid example of our glorious history. But one thing that displeased me was that the people gathered there were throwing trash here and there. Some people didn’t even hesitate to spit here and there. Some of them were so busy taking photographs that they didn’t even mind pushing others. Friends, we should always take care of keeping public places clean. Our behaviour with other visitors there should be polite and decent.

प्रिय मित्रों, जानते हो पिछले सप्ताह मैं चित्तौड़गढ़ किला घूमने गया। यह किला वास्तव में हमारे वैभवशाली इतिहास का एक जीवंत उदाहरण है। लेकिन एक चीज़ जो मुझे अच्छी नहीं लगी वह थी कि वहाँ एकत्रित लोग इधर-उधर कचरा फेंक रहे थे। कुछ लोग तो इधर-उधर थूकने में भी नहीं हिचकिचा रहे थे। कुछ लोग फोटो लेने में इतने व्यस्त थे कि उन्हें दूसरों को धक्को मारने में भी बुरा नहीं लग रहा था। मित्रों, हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हम सार्वजनिक स्थलों को स्वच्छ रखें। वहाँ, घूमने आये हुए दूसरे लोगों के साथ हमारा व्यवहार विनम्र व शिष्ट होना चाहिए।

Activity 5 : Composition
Your grandma must have narrated to you some story dealing with the thought as to how our unintentional discourtesy may also lead to dangerous results. Write the story with its moral and read it out in your cultural progamme held at every weekend.
आपकी दादी माँ ने आपको अवश्य ही ऐसी कोई कहानी सुनाई होगी कि कैसे हमारी अनजाने में की गई अशिष्टता के परिणाम खतरनाक भी हो सकते हैं। उस कहानी को वे उससे मिलने वाली शिक्षा को लिखिए और प्रत्येक सप्ताहान्त में होने वाले अपने सांस्कृतिक कार्यक्रम में उसे पढ़कर सुनाइये।।
Answer:
Once there was a little boy. He had a bad temper. His father gave him a bag of nails and told him that every time he lost his temper, he must hammer a nail into the back of the fence. The first day the boy had driven 37 nails into the fence. Over the next few weeks, as he learned to control his anger, the number of nails hammered daily gradually dwindled down.

He discovered it was easier to hold his temper than to drive those nails into the fence…. Finally the day came when the boy didn’t lose his temper at all. He told his father about it and the father suggested that the boy now pull out one nail for each day that he was able to hold his temper. The day passed and the young boy was finally able to tell his father that all the nails were gone. The father took his son by the hand and led him to the fence.

He said, “You have done well, my son, but look at the holes in the fence. The fence will never be the same. When you say things in anger, they leave a scar just like this one.” Moral : A verbal wound is as bad as a physical one.

एक बार एक छोटा लड़का था। वह गुस्सेल था। उसके पिताजी ने उसे कीलों का एक थैला दिया और कहा कि हर बार जब भी उसे गुस्सा आवे तो वह एक कील बाड़े के पीछे की ओर ठोक दे। पहले दिन उस लड़के ने बाड़े में 37 कीलें ठोकी। आने वाले सप्ताहों में जब वह अपने गुस्से पर काबू पाना सीख गया तो कीलों के ठोके जाने की संख्या धीरे धीरे कम होती गई। उसने जाना की कीलों को बाड़ में ठोकने से ज्यादा आसान है गुस्से पर काबू पाना। आखिरकार वह दिन आ ही गया जब लड़के को बिल्कुल भी गुस्सा नहीं आया।

उसने इसके बारे में अपने पिताजी से कहा और उसके पिताजी ने अब उस लड़के को प्रतिदिन एक एक कील निकालने को कहा जिनसे वह अपने गुस्से पर काबू कर पाया था। दिन गुजरते गये और आखिरकार वह लड़का अपने पिताजी को यह बता पाया कि सारी कीले निकाली जा चुकी थीं। उसके पिताजी उस लड़के को हाथ पकड़ कर बाड़े के पास ले गये। उन्होंने कहा, मेरे पुत्र, तुमने अच्छा किया, लेकिन बाड़े में हुए छेदों को देखो। यह बाड़ कभी भी वैसी नहीं रहेगी। जब आप गुस्से में कोई चीज कहते हो तो वे इसी प्रकार से घाव करती है।” शिक्षा-शाब्दिक घाव भी शारीरिक घावों जितने ही बुरे होते हैं।

RBSE Class 9 English Insight Chapter 2 Good Manners Additional Questions

Short Answer Type Questions
Answer the following questions in 30 words each:

Question 1.
Why does a man have no sympathy for others ?
किसी व्यक्ति की दूसरों के प्रति कोई सहानुभूति क्यों नहीं होती है?
Answer:
A man does not have sympathy towards others because he has not suffered any blow in his life which has been suffered by other person. He has no experience of such blows.
किसी व्यक्ति की दूसरों के प्रति सहानुभूति नहीं होती है। क्योंकि दूसरे व्यक्तियों के द्वारा सहे गये आघातों को उनके द्वारा नहीं सही गया होता है। उसे ऐसे आघातों का कोई अनुभव नहीं होता है।

Question 2.
Why should we try to make life easy ?
हमें जीवन को सुखद बनाने का प्रयास क्यों करना चाहिये?
Answer:
We should try to make life easy so that when it is our turn to suffer we will feel happier for having helped when we could.
हमें जीवन को सुखद बनाने का प्रयास करना चाहिये ताकि जब कष्ट उठाने की अपनी बारी आती है तो हम अधिक प्रसन्न अनुभव करेंगे क्योंकि जब हम कर सकते थे तब हमने दूसरों की मदद की थी।

Question 3.
Why does it take two to speak the truth?
सत्य बोलने के लिए दो लोगों की आवश्यकता क्यों होती है?
Answer:
This proverb was said by an American writer called Thoreau. According to him it takes two to speak the truth – one to speak and another to hear.
यह कहावत एक अमेरिकन लेखक थोरो ने कही थी। उनके अनुसार सत्य बोलने के लिए दो लोगों की आवश्यकता होती है – एक बोलने वाला तथा दूसरा सुनने वाला।

Question 4.
Why should we not take remarks too literally ?
हमें टिप्पणियों को शब्दशः क्यों नहीं लेना चाहिये ?
Answer:
We should not take remarks too literally because the person who is making some remarks does not really mean what he says but he is willing to know something associated to that.
हमें टिप्पणियों को शब्दशः नहीं लेना चाहिये क्योंकि टिप्पणी करने वाला व्यक्ति का वास्तव में वह तात्पर्य नहीं होता है जो वह कहता है लेकिन वह उससे संबंधित किसी चीज को जानने की इच्छा रखता है।

Question 5.
Why should we avoid back biting ?
हमें पीठ पीछे बुराई करने से क्यों बचना चाहिये?
Answer:
We should avoid back biting because the remarks about someone behind his back usually surprisingly find their way to the person with our name attached.
हमें पीठ पीछे बुराई करने से बचना चाहिये क्योंकि किसी व्यक्ति की | पीठ पीछे की गई टिप्पणी सामान्यतया आश्चर्यजनक तरीके से उस व्यक्ति के पास अपना नाम जुड़कर पहुँच जाती है।

Question 6. What should we remember while arguing ?
बहस करते समय हमें क्या ध्यान रखना चाहिये?
Answer:
While arguing we should remember that there is quite a good chance that we are wrong, however confident we feel about it. बहस करते
समय हमें यह ध्यान रखना चाहिये कि हम उस विषय में कितना ही आश्वस्त अनभव क्यों न करें, हमारे गलत होने की पूरी सम्भावना है।

Long Answer Type Questions
Answer the following questions in 60 words each :

Question 1.
Why should we not make fun of the old ?
हमें वृद्धों का मजाक क्यों नहीं उड़ाना चाहिये?
Answer:
There are many reasons why we should not make fun of the old. If an old man hesitates in crossing the road, he may not hear very well, or he may not see clearly, or he may have become tired of walking. Perhaps he was a famous soldier in the war and his wounds are still painful, or perhaps he had an artificial leg. Any one may make fun of us in the same situation. So we must not make fun of the old but help them.

कई कारण हैं कि हमें वृद्धों का मजाक क्यों नहीं उड़ाना चाहिये। यदि कोई वृद्ध सड़क पार करने में हिचकिचाता है तो हो सकता है कि वह भली प्रकार से सुन नहीं पाता होगा, या वह स्पष्ट रूप से नहीं देख पाता होगा, या वह चलने से थक गया होगा। सम्भवतया वह युद्ध में कोई प्रसिद्ध सैनिक हो और उसके घावों में अभी भी दर्द हो रहा हो, या सम्भवतया उसके कोई एक टांग कृत्रिम हो। कोई भी इसी परिस्थिति में हमारा भी मजाक उड़ा सकता है। अतः हमें वृद्धों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए बल्कि उनकी सहायता करनी चाहिए।

Question 2.
Why is it always not easy to speak frankly?
हमेशा खुल कर बोलना आसान क्यों नहीं होता है?
Answer:
It is not always easy to speak frankly because it is not easy to listen for long time to any person. So in a company one should take only a fair share of the conversation. If there are two, we should take half of it. When we have said a little, we should keep quiet and give our friend a chance to say something. And if he does not talk, he probably does not wnat us to talk either.

हमेशा ही खुल कर बोलना आसान नहीं होता है क्योंकि किसी व्यक्ति को अधिक देर तक सुन पाना आसान नहीं होता है। इसलिए एक संगति में किसी को भी वार्तालाप का एक उचित हिस्सा ही लेना चाहिये। यदि आप दो व्यक्ति हैं तो हमें आधी बात करना चाहिये। और जब हम थोड़ा बोल चुके होते हैं तो हमें चुप होकर दूसरे मित्र को कुछ बोलने का अवसर देना चाहिये और यदि वह बात नहीं करता तो हो सकता है वह यह चाहता हो कि हम भी बात न करें।

Passages for Comprehension

Read the following passages carefully and answer the questions given that follow :

Passage 1
There was once a young man who was strong and healthy and enjoyed his work. In every way he felt on top of life, and had no sympathy
for the uninteresting folk who seemed to form such a large proportion of the population. One day he got an attack of influenza. He had had it before and paid little attention to it but this time he developed pneumonia and was dangerously ill. When he recovered he could only move slowly. He was easily tired and life became difficult for him. When he was well enough to go to work he found the journey home very tiring. He looked at the strong young men sitting comfortably in the train or bus, and then, feeling tired himself, noticed how tired some of the older people were who were standing beside him.

Gradually, he got strong again, but when he was in a train or bus he now looked round to see if there was any older person in need of a seat, and if there was he gave up his. “I’ve got my strength back now,” he said to himself; “these older people will never have their strength again.” When you are cycling and see an old men hesitating on a crossing, don’t call him an old fool. He may not hear very well, or he may not see clear, or he may have become tired with walking.

1. What was the young man’s attitude towards others ?
नवायुवक का दूसरों के प्रति क्या दुष्टिकोण था ?

2. How was the young man seriously ill ?
नवयुवक किस प्रकार गम्भीर रूप से बीमार था?

3. How did life become difficult for the young man?
नवयुवक के लिए जीवन किस प्रकार कठिन हो गया?

4. What change did the young man’s illness bring in his attitude ?
बीमारी से नवयुवक के दृष्टिकोण में क्या अन्तर आया?

5. How did the young man take his work ?
नवयुवक अपने कार्य को किस रूप में लेता था?

6. Which disease did he catch first ?
पहले उसे कौन-सी बीमारी हुई ?

7. What did he develop later ?
बाद में उसे क्या हुआ?

8. What did he notice later ?
बाद में उसने क्या ध्यान दिया?

9. Find from the passage the words which mean :
(a) part .
(b) by and by

10. Make the plural forms of the following:
(a) life
(b) this
Answers
1. The young man had no sympathy for others.
नवयुवक की दूसरों के प्रति कोई सहानुभूति नहीं थी।

2. The young man got an attack of influenza. Later he developed pneumonia.
नवयुवक को जुकाम हुआ। बाद में उसे न्यूमोनिया हो गया।

3. The young man’s illness made him physically weak. This made life difficult for him.
नवयुवक बीमारी के कारण शारीरिक रूप से कमजोर हो गया। इससे उसका जीवन कठिन हो गया।

4. Now he learnt to have sympathy and show kindness for the weak and olderly people.
अब उसने कमज़ोर व वयोवृद्ध लोगों के प्रति सहानुभूति रखना और दयालुता प्रदर्शित करना सीख लिया।

5. He enjoyed his work.
वह अपने कार्य को आनन्दित होकर करता था।

6. He got an attack of influenza.
उसे जुकाम हुआ।

7. Later he developed pneumonia.
बाद में उस न्यूमोनिया हो गया।

8. He noticed that the elderly people looked very tired while standing.
उसने ध्यान दिया कि खड़े हुए लोग बहुत थके हुए दिखाई देते थे।

9. (a) proportion (b) gradually

10. (a) lives, (b) these

Passage 2
It is not always easy in company to speak frankly, and if you don’t want to be considered a bad mannered person, you have to watch constantly for signs, It is not easy, for example, to listen for long to any person. Try in company to take only a fair share of the conversation. If there are two of you, take half of it. When you have said a little, keep quiet, and give your friend a chance to say something. If he does not talk, he probably does not want you to talk either. Many a young man or woman talks away, thinking the company is delighted to hear him or her, and everyone is really exhausted and angry.

Don’t think you can say unpleasant things about someone behind his back and not be found out. It is surprising how the remarks usually find their way to the person with your name attached, so to speak. Whatever you say, always assume that the person may overhear, and adjust your remarks accordingly. All experienced people act in this way. Now here is one of the most surprising thing in life; no man really understanding himself. What a lot of argument and anger we should be saved if people would only understand this

1. Why is watching for signs important ?
संकेतों पर नज़र रखना क्यों महत्त्वपूर्ण है?

2. How much should we speak while in company ?
लोगों के साथ होने पर हमें कितना बोलना चाहिए?

3. How can we know that the company is not interested in listening to us?
हम कैसे जान सकते हैं कि हमारे साथ के लोगों की हमारी बात सुनने में रुचि नहीं है?

4. What should be our approach while talking about others ?
दूसरों के बारे में बात करते समय हमें क्या ध्यान रखना चाहिए?

5. When is it not easy to speak frankly ?
खुलकर बोलना कब सरल नहीं होता है?

6. Whom does ‘you’refer to in the passage ?
गद्यांश में ‘आप’ किसके लिए प्रयुक्त हुआ है?

7. How should we speak about others ?
हमें दूसरों के बारे में किस प्रकार बोलनी चाहिए?

8. How do all experienced people act ?
सभी अनुभवी लोग किस प्रकार व्यवहार करते हैं?

9. Find from the passage the words which mean :
(a) happy
(b) tired

10. Make the verb forms of the following :
(a) argument
(b) conversation
Answers:
1. Watching for signs is important to understand the conversation properly and behave accordingly.
संकेतों पर नजर रखना इसलिए महत्त्वपूर्ण है जिससे कि हम बातचीत को अच्छे से समझ पायें और उसी के अनुसार व्यवहार कर पायें।

2. While in company, we should take only a fair share of the conversation.
लोगों के साथ होने पर हमें वार्तालाप का एक ईमानदारीपूर्वक हिस्सा लेना चाहिए।

3. If otheres don’t talk, that could be a sign they are not interested in listening to us..
यदि दूसरे नहीं बोलते हैं तो यह एक संकेत हो सकता है कि वे हमें सुनने में रुचि नहीं रखते हैं।

4. While taking about others, we should always assume that they may overhear, and adjust our remarks accordingly.
दूसरों के बारे में बात करते समय हमें हमेशा यह मानकर चलना चाहिए कि हमारी बात उन तक पहुँच सकती है और वे अपनी समझ के अनुसार उसे समझ सकते हैं।

5. It is not easy to speak frankly in company.
लोगों के साथ होने पर खुलकर बोलना सम्भव नहीं होता है।

6. ‘You’ refers to the readers.
‘आप’ शब्द पाठकों के लिए प्रयुक्त हुआ है।

7. We should speak pleasant things about others.
हमें दूसरों के बारे में अच्छी बातें बोलनी चाहिए।

8. All experienced people generally don’t talk behind someone’s back.
सभी अनुभवी लोग सामान्यत: किसी के पीठ पीछे बात नहीं करते।

9. (a) delighted, (b) exhausted.

10. (a) argue, (a) converse

Passage 3
Good manners come from having sympathy with others and from understanding our own limitations. “The truth’ is too big for any one of us to understand. “The truth’ as we see it is only our truth and part of a larger truth. We should always realize that we are humble, unimportant little people on this earth and try to help the world as much as we can in our short time here, “I expect to pass through this world but once. Any good, therefore, that I can do, or any kindness that I can show to any fellow creature, let me do it now. Let me not defer or neglect it, for I shall not pass this way again.”

Now how does this happen? Here, for example, was one mistake. A student saw the bull having its tongue out. He was quite sure about it, Yet when he was shown the picture again, he saw that the bull’s mouth was closed, but that, because its head was turned to the side, the ear looked like the tongue. So whenever you are arguing with someone about a point remember that there is quite a good chance that you are wrong, however confident you feel about it.

1. What should we remember while arguing with someone ?
किसी से बहस करते समय हमें क्या ध्यान रखना चाहिए?

2. Why can one single person not understand truth ?
एक अकेला व्यक्ति सत्य को क्यों नहीं समझ सकता हैं ?

3. How should we behave in our life?
हमें अपने जीवन में किस प्रकार व्यवहार करना चाहिए?

4. What should we not defer or neglect ?
हमें किस बात में टालमटोल या उपेक्षा नहीं करनी चाहिए?

5. Where do good manners come from ?
शिष्टाचार कहाँ से आते हैं?

6. What is too big ?
क्या बहुत बड़ा होता है ?

7. What should we always realize ?
हमें हमेशा क्या महसूस करना चाहिए?

8. How should we use our life?
हमें अपने जीवन का उपयोग किस प्रकार करना चाहिए?

9. Find from the passage the words which mean :
(a) feel
(b) not of great value

10. Change the following sentence into indirect narration :
Hill.said, “I expect to pass through this world but once.”
Answers:
1. While arguing some one, we should remember that their is a quite good chance that we are wrong. however confident we feel about it.
किसी से बहस करते समय हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि हम उस विषय में कितना ही आश्वस्त अनुभव क्यों न करें, हमारे गलत होने की पूरी सम्भावना है।

2. One single person cannot understand truth because what he understands of it is only a part of a larger truth.
एक अकेला व्यक्ति सत्य को इसलिए नहीं समझ सकता हैं क्योंकि सत्य की उसकी समझ एक बड़े सत्य का एक हिस्सा मात्र होती है।

3. We should help the world as much as we can in our life.
हमें अपने जीवन में यथाशक्ति संसार की सहायता करनी चाहिए।

4. We should not defer or neglect the deeds of kindness.
हमें दयालुता के कार्यों में टालमटोल या उपेक्षा नहीं करनी चाहिए।

5. Good manners come from having sympathy with others.
शिष्टाचार दूसरों के साथ सहानुभूति रखने से आता है।

6. The truth is too big.
सत्य बहुत बड़ा होता है।

7. We should always realize that we are humble, unimportant little people on this earth.
हमें हमेशा यह महसूस करना चाहिए कि हम इस पृथ्वी पर तुच्छ, गैर-महत्वपूर्ण छोटे प्राणी हैं।

8. We should use our life in showing kindness to other.
हमें अपने जीवन का उपयोग दूसरों के प्रति दयालुता प्रदर्शित करने में करना चाहिए।

9. (a) realize, (b) humble

10. Hill said that he expected to pass through that world but once.

Word-meanings and Hindi Translation

There was ……………………………………….. strength again.”(Page 7)

Word-meanings : sympathy (सिम्पथि) = हृदय की कोमलता, सहानुभूति। folk (फॉक) = लोगों। proportion (प्रपो:शन) = part, भाग। influenza (इन्फ्ल्यू एन्ज़ा) = एक प्रकार का बुखार, जुकाम। little (लिट्ल) = बिल्कुल नहीं। pneumonia (न्यूमोनिया) = फेफड़ों को प्रभावित करने वाली एक बीमारी। recovered (रीकवर्ड) = ठीक हुआ। comfortably (कम्फैटेब्लि) = आराम से। gradually (ग्रैज्यलि) = धीरे-धीरे। gave up (गेव अप) = छोड़ देता था।

हिन्दी अनुवाद-एक बार एक नवयुवक था जो हट्टा-कट्टा व स्वस्थ था और अपने काम से आनन्दित रहता था। हर प्रकार से वह स्वयं को जीवन की श्रेष्ठतम अवस्था में अनुभव करता था, और उसे उन नीरस लोगों के प्रति कोई सहानुभूति नहीं थी जो जनसंख्या का इतना बड़ा भाग बनते हुए प्रतीत होते थे (जो मात्र भीड़ का एक अंग थे)।

बार उसे जुकाम हो गया। उसे यह पहले भी हो चुका था और उसने इस पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया था परन्तु इस बार यह न्यूमोनिया में बदल गया और गम्भीर रूप से बीमार हो गया। जब वह ठीक हुआ तो वह बस धीरे-धीरे चल पाता था। वह बहुत जल्दी थक जाता था और जीवन उसके लिए कठिन हो गया। जब वह काम पर जाने लायक ठीक हो गया तो वह घर आने के लिए यात्रा करते समय बहुत थक जाता था। वह रेलगाड़ी या बस में आराम से बैठे हुए नवयुवकों को देखता था और फ़िर स्वयं थकान महसूस करते हुए वह ध्यान देता था कि उसके अगल-बगल खड़े हुए कुछ वयोवृद्ध व्यक्ति कितने थके हुए होते थे। धीरे-धीरे वह फिर से हट्टा-कट्टा हो गया, लेकिन अब जब वह किसी रेलगाड़ी या बस में होता था तो चारों तरफ़ देखता कि कहीं कोई वयोवृद्ध व्यक्ति तो नहीं है जिसे सीट की आवश्यकता हो, और यदि ऐसा (कोई व्यक्ति) होता था तो वह उसके लिए अपनी सीट छोड़ देता था। वह स्वयं से (मन ही मन) कहता था, “मुझे तो अब मेरी ताकत वापिस मिल गई है, इन वयोवृद्ध व्यक्तियों को इनकी ताकत कभी वापिस नहीं मिलेगी।”

When you are ……………………………………….. understood. (Page 7)

Word-meanings : hesistating (हेजिटेटिंग) = संकोच करते हुए। painful (पेन्फ़ल) = दुःखपूर्ण। perhaps (प:हैप्स) = probably, सम्भवतः। artificial (आफ़िशल) = कृत्रिम। severely (सिविअर्लि) = गम्भीर रूप से। injured (इन्जर्ड) = घायल। make fun of (मेक फ़न ऑव) = मज़ाक बनाना। before very long (बिफोर वेरि लाँग) = जल्दी ही। fragile (फ्रजाइल) = कमजोर। severe (सिविअर) = कठोर। blows (ब्लोज़) = आघात। alright (ऑलाइट) = ठीक-ठाक। at times = कभी-कभी। suffer (सफ़) = कष्ट उठाना। sufficiently (सफ़िशट्लि ) = पर्याप्त रूप से, इतना। responsibility (रिस्पॉन्सिब्लिटि) = जिम्मेदारी।

हिन्दी अनुवाद-जब आप साइकिल चलाते समय किसी वृद्ध व्यक्ति को सड़क पार करने में हिचकिचाते हुए देखो तो उसे एक वृद्ध मूर्ख व्यक्ति मत कहो। शायद वह बहुत अच्छी तरह से सुन नहीं पाता हो, या स्पष्ट रूप से देख नहीं पाता हो, या शायद वह चलने से थक गया हो। शायद वह युद्ध में कोई प्रसिद्ध सिपाही रहा हो और उसके घाव अब भी दुःखपूर्ण हों, या सम्भवतः उसकी एक टाँग कृत्रिम हो। शायद किसी दिन आप युद्ध लड़ने जाओ और गम्भीर रूप से घायल हो जाओ। यदि स्कूल जाने वाले लड़के मात्र थीरे-धीरे चलने के कारण आपका मज़ाक बनायें तो आपको कैसा लगेगा?

एक बात जो सभी लड़के-लड़कियाँ जल्दी ही सीखने वाले हैं, वह यह है कि वे (लड़के-लड़कियाँ) एक खतरनाक विश्व में कमज़ोर छोटी चीजें हैं। आपके माता-पिता और आपके शिक्षकगण और सभी बड़े लोग पहले ही कुछ कठोर आघात सह चुके हैं। वे प्रतिवर्ष और अधिक कठोर आघात सहते हैं। उनमें से अधिकांश लोग आपके स्वास्थ्य और शक्ति, आपके अच्छे दाँतों और सुन्दर बालों को पाने के लिए अपना सारा पैसा दे सकते हैं। आपको कोई अन्दाजा नहीं है कि कभी-कभी वे कितने थके होते हैं, लेकिन चूँकि वे शिकायत नहीं करते हैं तो आपको लगता है कि सब कुछ ठीक-ठाक है। तो फिर, जहाँ तक आपके लिए सम्भव हो, उनके लिए जीवन को सरल बनाने का प्रयास कीजिए, और जब कष्ट उठाने की आपकी बारी आयेगी तो आप अधिक प्रसन्न अनुभव करेंगे क्योंकि जब आप कर सकते थे, आपने दूसरों की सहायता की थी। शिष्टाचार उस समय भी महत्त्वपूर्ण है जब आप अपने स्वयं के मित्रों के साथ होते हैं। किसी से बात करते समय स्पष्ट रूप से व इतना ज़ोर से बोलिए कि वह व्यक्ति सुन पाये। यह किसी व्यक्ति के लिए अपमान का विषय होता है कि पहले उससे ध्यान देने को कहा जाये और फ़िर बोला जाये जैसे कि वह आपकी बात समझता ही न हो। और याद रखिए कि अपनी बात दूसरों को समझाना आपकी ज़िम्मेदारी है।

An American ……………………………………….. her remark. (Page 8)

Word-meanings : saying (सेइंग) = popular words, कहावत। argument (आग्यमण्ट) = बहस। annoyance (अनॉयन्स) = क्रोध। socialism (सोश्यलिज्म) = सामाजिक समानता की एक अवधारणा, समाजवाद। commerce (कॉमःस) = वाणिज्य, व्यापार। term (ट:म) = word, शब्द। robbery (रॉबरि) = लूट। surprised (स:प्राइज़्ड) = आश्चर्यचकित। tiresome (टाइअर्सम) = थकाऊ, उबाऊ। fellow (फेलो) = person, व्यक्ति। however (हाउएवें) = हालाँकि। silly (सिलि) = मूर्खतापूर्ण।

हिन्दी अनुवाद-थोरो नामक एक अमरीकन लेखक कहता था, “सत्य बोलने के लिए दो लोगों की आवश्यकता होती है-एक बोलने के लिए और दूसरा सुनने के लिए।” यह एक बहुत महत्त्वपूर्ण कहावत है, और यदि लोग इस पर ध्यान दें तो जीवन में काफ़ी कुछ बहस और क्रोध से बचा जा सकता है। “सत्य बोलने के लिए दो लोगों की आवश्यकता होती है।” इसे अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग प्रकार से अभिव्यक्त करना पड़ता है। कुछ लोगों के लिए ‘समाजवाद’ का अर्थ है-जिनके पास पैसा है उनसे लेकर इसे उन्हें देना जिनके पास कुछ नहीं है (धनी लोगों से पैसे लेकर निर्धनों को देना)। दूसरे लोगों के लिए ‘समाजवाद’ का अर्थ है-उद्योग और वाणिज्य पर राज्य का नियंत्रण।

दूसरे लोगों के लिए ऐसा है कि आप किसी को समाजवाद का अर्थ तब तक नहीं बता सकते जब तक कि आपको पता न हो कि वह समाजवाद से क्या समझता है। यदि आप कहते हैं “मैं समाजवाद में विश्वास करता हूँ, और वह (सुनने वाला) व्यक्ति समझता है कि आपका अभिप्राय यह है कि आप लूट में विश्वास करते हैं तो यदि वह व्यक्ति आपको नापसन्द करने लग जाये तो आपको आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए; और यदि आपका यह अभिप्राय नहीं था तो इसका अर्थ यह है कि आपने सत्य नहीं बोला। यदि कोई व्यक्ति किसी मित्र से कहता है-“सुप्रभात, श्रीमान ए” और वह मित्र उत्तर देता है, “यह प्रभातकाल जरा भी अच्छा नहीं है”, तो क्या यह सत्य है, भले ही वह प्रभातकाल बुरा ही क्यों न हो? कभी-कभी लोग बड़े उबाऊ प्रश्न पूछते हैं और हमें उन बातों का मज़ाक बनाने में मज़ा आता है। निकर पहने हुए, कई बैज लगी हुई जर्सी पहने, एक स्काउट का हैट पहने और स्काउट का डंडा ले जाते हुए एक लड़के से एक महिला ने पूछा, “क्या तुम एक स्काउट हो?” उस छोटे लड़के ने उत्तर दिया, “नहीं, मैं टोस्ट पर रखे हुए दो अण्डों का जोड़ा हूँ।” हालाँकि उस महिला का अभिप्राय मात्र यही कहना था, “तुम अपनी वर्दी में बहुत अच्छे लग रहे हो; यह स्काउट वर्दी है, है न?” और वास्तव में उसकी बात में कुछ भी मूर्खतापूर्ण नहीं था।

It is only stupid ……………………………………….. and angry. (Page 8)

Word-meanings: literally (लिटरलि) = शाब्दिक अर्थ पर आधारित, शब्दशः। grateful (ग्रेटफ़ल) = आभारी। willing (विलिंग) = इच्छुक। oblige (अब्लाइज़) = किसी के लिए कुछ करना। company (कम्पनि) = समूह। frankly (पँक्लि ) = स्पष्ट रूप से। considered (कन्सिडर्ड) = सोचा जाना, समझा जाना। bad mannerd (बेड मेनर्ड) = अशिष्ट। constantly (कॉन्स्ट ट्ल ) = लगातार। listen (लिसन) = ध्यानपूर्वक सुनना। a fair share (अ फेअ शेयर) = ईमानदारीपूर्ण हिस्सा। conversation (कॉन्वेंसेशन) = बातचीत। keep quiet (कीप क्वाइअट) = चुप हो जाओ। probably (Iबब्लि) = शायद, सम्भवतः। talk away (टॉक अवे) = बहुत देर तक बोलते रहना। delighted (डिलाइटिड) = प्रसन्न। exhausted (इग्ज़हॉस्टिड) = थका हुआ।

हिन्दी अनुवाद-केवल मूर्ख लोग ही, हमारी कही बातों को शब्दशः लेते हैं अर्थात् वे लोग जो लोगों की कही हुई बातों में वास्तविक अर्थ को नहीं ढूँढते हैं। इस प्रकार, जब कोई मित्र कहता है, “आप डाकघर के सामने से होकर तो नहीं जाओगे, जाओगे क्या?” ऐसा कहते समय उसका अभिप्राय शायद यह हो, “यदि आपको अधिक परेशानी न हो तो क्या आप मेरा एक पत्र पोस्ट कर दोगे, मैं आपका आभारी रहूँगा।” यदि आप यह सोचकर “ना” कह दोगे कि आप डाकघर के सामने से नहीं गुजरोगे तो आपके मित्र को ऐसा लगेगा कि आप उसका कार्य करने के लिए अपने रास्ते से थोड़ा भी हटकर जाने को इच्छुक नहीं हो। समूह में (लोगों के बीच में) स्पष्ट रूप से बोलना हमेशा आसान नहीं होता है, और यदि आप चाहते हैं कि आपको एक अशिष्ट व्यक्ति न समझा जाये, तो आपको लगातार संकेतों पर नज़र रखनी होगी। यह आसान नहीं है, उदाहरण के लिए, किसी व्यक्ति की बात बहुत देर तक सुनना। लोगों के बीच में होने पर कोशिश करो कि आप बातचीत का मात्र एक ईमानदारीपूर्ण हिस्सा लो। यदि आप दो लोग हैं तो आधी बातें आप करो। थोड़ा बोलकर चुप हो जाओ, और अपने मित्र को कुछ बोलने का अवसर दो। यदि वह नहीं बोलता है तो शायद वह चाहता है कि आप भी बात न करें। बहुत से नवयुवक व नवयुवतियाँ बहुत देर तक बोलते रहते हैं, यह सोचकर कि साथ के लोग उनकी बातें सुनकर प्रसन्न हैं और वास्तव में प्रत्येक व्यक्ति थका हुआ और क्रोधित होता है।

Don’t think ……………………………………….. black car. (Pages 8-9)

Word-meanings : unpleasant (अन्प्लेश्जण्ट) = बुरी। surprising (स:प्राइजिंग) = आश्चर्य की बात। remarks (रिमा:क्स) = कही हुई बातें। find their way to the person = उस व्यक्ति के पास पहुँच जाती है। whatever (वॉट्एव) = जो कुछ भी। assume (अज़्यूम) = सोचना, मानकर चलना। overhear (ओहिों ) = वक्ता के जाने बिना सुनना। adjust (अड्जस्ट) = (यहाँ) समझ लेना। accordingly (अकॉ:डिंग्लि) = उसकी अपनी समझ के अनुसार। argument (आ:ग्यमण्ट) = बहस। suppose (सपोज़) = assume, मान लो। giving evidence (गिविंग एविडन्स) = किसी घटना के बारे में कुछ कहना, गवाही देना। perfectly (पॅफ़िट्ल ) = पूरी तरह से। confident (कॉन्फ़िडण्ट) = आश्वस्त, आत्मविश्वास से पूर्ण। knocked over (नॉक्ट ओवे) = टक्कर मारी। equally (इक्वलि) = उतना ही।

हिन्दी अनवाद-ऐसा मत सोचना कि आप किसी की पीठ पीछे उसके बारे में बुरी बातें बोल सकते हैं और इस बारे में उसे पता नहीं चलेगा। यह आश्चर्य की बात है कि कैसे वह बातें प्रायः उस व्यक्ति के पास तक पहुँच जाती हैं, कहा जाये तो, आपके नाम के साथ जुड़कर। आप जो भी कहो, हमेशा मानकर चलो कि आपके जाने बिना दूसरा व्यक्ति उसे सुन सकता है, और आपकी बातों को अपनी समझ के अनुसार समझ सकता है। सभी अनुभवी लोग इसी तरह व्यवहार करते हैं। अब यहाँ जीवन की एक सर्वाधिक आश्चर्यजनक बात है; कोई भी व्यक्ति वास्तव में स्वयं को नहीं समझता है। यदि लोग केवल यह बात समझते तो हम कितने अधिक बहस व गुस्से से बच जाते! उदाहरण के लिए, मान लो आपने एक मोटर दुर्घटना देखी और जो हुआ, आप उस बारे में गवाही दे रहे हैं। शायद आप पूरी तरह आश्वस्त होंगे कि जिस कार ने लड़के को टक्कर मारी वह नीले रंग की थी, कोई दूसरा व्यक्ति उतना ही आश्वस्त होगा कि वह एक सलेटी कार थी; और कोई अन्य व्यक्ति आश्वस्त होगा कि वह काली कार थी।

Experiments ………… the tongue. (Page 9)

Word-meanings : experts (एक्स्पःट्स) = किसी विषय के विशेषज्ञ। find out (फाइण्ड आउट) = पता लगाना। errors (एरर्ज) = गलतियाँ। bull-fight (बुल-फ़ाइट) = बैलों की लड़ाई। account (अकाउण्ट) = विवरण। fairly (फेों:लि) = कुछ हद तक। prepared (प्रिपेअर्ड) = तैयार। swear to an oath = (स्वे ॲटु एन ओथ) = शपथ खाकर कहना। considerably (कन्सिडरब्लि) = काफ़ी हद तक।

हिन्दी अनुवाद-कभी-कभी विशेषज्ञों द्वारा यह पता लगाने के लिए प्रयोग किए जाते हैं कि लोग अपने कथनों में कितनी गलतियाँ करते हैं। यहाँ एक प्रयोग दिया जा रहा है जो किया गया। एक विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों को एक स्क्रीन पर बैलों की लड़ाई का एक चित्र दिखाया गया। फ़िर उनसे, जो कुछ उन्होंने देखा था उसका एक संक्षिप्त विवरण लिखने के लिए कहा गया। यह काम पूरा होने पर उनसे कहा गया कि वे अपने प्रत्येक कथन के आगे एक संख्या लिखें-1. यदि उन्हें ऐसा लगता है; 2. यदि वे कुछ हद तक उस विषय में निश्चित हैं; 3. यदि वे पूरी तरह निश्चित हैं:4 यदि वे शपथ खाकर उस बात को कह सकते हैं। प्रत्येक छात्र ने उन कथनों में कम-से-कम दस प्रतिशत गलतियाँ की थीं जिन्हें वह शपथ खाकर कहने को तैयार था, और काफी हद तक, अन्य सभी समूहों में दस प्रतिशत से भी अधिक। अब यह कैसे होता है? उदाहरण के लिए, यहाँ एक गलती थी। एक छात्र ने देखा कि बैल ने अपनी जीभ बाहर निकाल रखी थी। वह इस विषय में पूरी तरह निश्चित था। फिर भी जब उसे वह चित्र दोबारा दिखाया गया तो उसने देखा कि बैल का मुँह बन्द था, लेकिन, क्योंकि उसने सिर एक ओर को घुमा रखा था, इसलिए उसका कान जीभ की तरह दिखाई दे रहा था।

So whenever ………… way again.” (Page 9)

Word-meanings : whenever (व्हेन्एव) = जब कभी। arguing (आ:ग्यूइंग) = बहस कर रहे। point (पॉइण्ट) = बात, विषय। quite a good chance (क्वाइअट अ गुड चान्स) = काफी हद तक अवसर, पूरी सम्भावना। confident (कॉन्फिडण्ट) = आश्वस्त। own (ओन) = अपनी। limitations (लिमिटेशन्ज़) = सीमाएँ। realize (रिअलाइज़) = महसूस करना। humble (हम्ब्ल) = तुच्छ। expect (इक्स्पेक्ट) = आशा करना। creature (क्रीचॅ) = प्राणी, लोग। defer (डिफ़) = देर करना। neglect (निग्लेक्ट) = उपेक्षा करना।

हिन्दी अनुवाद-इसीलिए जब कभी आप किसी विषय पर किसी के साथ बहस करें तो याद रखिए कि आपके गलत होने की पूरी सम्भावना है, आप उस विषय में कितना ही आश्वस्त अनुभव क्यों न करें। शिष्टाचार का जन्म हमारे दूसरों के साथ सहानुभूति रखने और हमारी अपनी सीमाओं को समझने से होता है। ‘सत्य’ इतना बड़ा होता है कि हममें से कोई भी अकेले उसे नहीं समझ सकता है। ‘सत्य’ को हम जिस रूप में देखते हैं, वह मात्र हमारा सत्य होता है और एक अधिक बड़े सत्य का भाग होता है। हमें हमेशा महसूस करना चाहिए कि हम इस पृथ्वी पर तुच्छ, गैर-महत्त्वपूर्ण छोटे से लोग हैं और हमें यहाँ अपनी छोटी सी जीवन-अवधि में संसार की सहायता करने का अपना भरसक प्रयास करना चाहिए। “मैं आशा करता हूँ कि मैं इस संसार से होकर मात्र एक बार गुजरूँगा। मैं जो भी भलाई कर सकता हूँ, या अपने साथी लोगों के प्रति जो भी दयालुता दिखा सकता हूँ, वह मुझे अभी कर लेना चाहिए। मुझे इस विषय में देर या उपेक्षा नहीं करनी चाहिए, क्योंकि मैं दोबारा इस रास्ते से नहीं गुजरूँगा।”

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.