RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 1 The Power of Prayer

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Insight Chapter 1 The Power of Prayer सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 1 The Power of Prayer pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 1 The Power of Prayer notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 9 English Insight Chapter 1 The Power of Prayer

RBSE Class 9 English Insight Chapter 1 The Power of Prayer Textual Questions

Activity 1 : Comprehension
(A) Tick the correct alternative :
Question 1.
Kalam felt that he had a very ……….
(a) secure childhood
(b) insecure childhood
(c) peaceful childhood
(d) disgusted childhood
Answer:
(a) secure childhood

Question 2.
Kalam’s house was made of ……….
(a) brick ..
(b) limestone and brick
(c) stone and brick
(d) red stone and brick
Answer:
(b) limestone and brick

Question 3.
Prayers make a ………. of the spirit between people possible.
(a) communion
(b) transcendence
(c) recurrence
(d) communication
Answer:
(a) communion

(B) Answer the following questions in not more than 30-40 words each :

Question 1.
What used to happen when the writer’s father came out of the mosque after prayers?
प्रार्थना के बाद जब लेखक के पिताजी मस्जिद से बाहर आते थे तब क्या होता था?
Answer:
People of different religions would be sitting outside, waiting for writer’s father. Many of them offered bowls of water to him. He would dip his fingertips in them and say a prayer. This water was then carried home for invalids.
विभिन्न धर्मों के लोग बाहर बैठकर लेखक के पिताजी का इन्तजार करते रहते थे। उनमें से बहुत से लोग उनको पानी के कटोरे देते थे। जिनमें वे अपनी उंगलियों के पोरों को डुबाकर प्रार्थना करते थे। फिर यह पानी अपाहिजों/निर्बलों के लिये घरों पर ले जाया जाता था।

Question 2.
Why does Kalam suggest not to feel small or helpless ?
कलाम छोटा या असहाय महसूस न करने की सलाह क्यों देते हैं ?
Answer:
Kalam suggests not to feel small or helpless because we all are born with a divine fire in us. Our efforts should be to give wings to this fire and fill the world with the glow of its goodness.
कलाम (हमें) छोटा या असहाय महसूस न करने की सलाह देते हैं क्योंकि हम अपने अन्दर एक दैवीय/ईश्वरीय शक्ति के साथ पैदा हुये हैं। हमारे प्रयास इस शक्ति को पंख लगाने के लिए और संसार को इसकी अच्छाई के तेज (दीप्ति) से भरने के लिये होने चाहिये।

Question 3.
Why, according to Kalam, has God created an individual creature ?
कलाम के अनुसार ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी का सृजन क्यों किया है?
Answer:
According to Kalam, God has created an individual creature on this beautiful planet to fulfil a particular role. That’s why we are all born with a divine fire in us.
कलाम के अनुसार इस खूबसूरत ग्रह (पृथ्वी) पर ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी का सृजन एक विशेष भूमिका को पूरा करने के लिये किया है। इसीलिये हम सब अपने अन्दर एक दैवीय शक्ति के साथ पैदा हुए हैं।

Question 4.
How does prayer affect an individual?
प्रार्थना किस प्रकार एक व्यक्ति को प्रभावित करती है?
Answer:
Prayer makes possible a communion of the spirit between people. When we pray, we transcend our body and become a part of the cosmos, which knows no division of wealth, age, caste, or creed.
प्रार्थना लोगों के बीच आत्मा का एक सम्प्रेषण/बन्धुत्व/समन्वय सम्भव कराती है। जब हम प्रार्थना करते हैं तो हम अपने शरीर से ऊपर उठ जाते हैं, और उस ब्रह्माण्ड का हिस्सा बन जाते हैं जो धन, उम्र, जाति या मज़हब के किसी भेद (अन्तर) को नहीं जानता।

Question 5.
What did Kalam’s meal in childhood normally consist of ?
बचपन में कलाम के भोजन में सामान्यतः क्या-क्या होता था?
Answer:
Kalam’s meal in his childhood normally included rice, aromatic sambhar, a variety of sharp, homemade pickles and a dollop of fresh coconut chutney.
बचपन में कलाम के भोजन में सामान्यत: चावल, सुगन्धित सांभर, विभिन्न प्रकार के चोखे, घर पर बने अचार और ताजा नारियल की चटनी का एक | डला शामिल होता था।

Question 6.
What, according to the author, is God’s purpose in creating each individual being ?
कलाम के अनुसार प्रत्येक प्राणी के सृजन में ईश्वर का क्या उद्देश्य है?
Answer:
According to the author, each individual creature on this beautiful planet is created by God to fulfil a particular role on the earth.
लेखक के अनुसार प्रत्येक प्राणी के सृजन के पीछे ईश्वर का उद्देश्य इस सुन्दर पृथ्वी पर एक विशेष भूमिका को पूरा करना है।

(C) Answer the following questions in 60-80 words each:

Question 1.
Describe the house in which Kalam lived during his childhood.
उस घर का वर्णन करिये जिसमें कलाम अपने बचपन में रहा करते थे।
Answer:
The house in which Kalam lived during his childhood was his ancestral house. It was built in the middle of the 19th century. It was a fairly pucca house made of limestone and bricks. It was on the Mosque Stree in Rameswaram. The famous Shiva temple was about a ten-minute walk from his house. The locality was predominantly Muslim.

वह मकान जिसमें कलाम अपने बचपन में रहते थे वह उनका पैत्रक मकान था। यह उन्नीसवीं शताब्दी के मध्य बनवाया गया था। यह काफी बड़ा पक्का, चूना-पत्थर व ईटों का बना हुआ था। यह रामेश्वरम में मस्जिद वाली गली में था। प्रसिद्ध शिव मन्दिर उनके घर से लगभग दस मिनट की पैदल दूरी पर था। इलाका मुख्य रूप से मुस्लिम था।

Question 2.
What did Kalam learn from his father about the power of prayer ?
कलाम ने अपने पिताजी से प्रार्थना की शक्ति के विषय में क्या सीखा ?
Answer:
About the power of prayer, Kalam learnt from his father that there was nothing mysterious about prayer. Rather, prayer made possible a communion of the spirit between people. When we pray, we transcend our body and become a part of the cosmos which knows no division of wealth, age, caste or creed.

प्रार्थना की शक्ति के विषय में कलाम ने अपने पिताजी से यह सीखा कि प्रार्थना में कुछ भी गूढ़ नहीं है। बल्कि प्रार्थना लोगों के बीच आत्मा का एक सम्प्रेषण/बन्धुत्व/समन्वय सम्भव कराती है। जब हम प्रार्थना करते हैं तो हम अपने शरीर से ऊपर उठ जाते हैं और उस ब्रह्माण्ड का हिस्सा बने। जाते हैं जो धन, उम्र, जाति या मज़हब के किसी भेद को नहीं जानता।

Question 3.
Why does the writer regard his father to have been austere? लेखक अपने पिताजी को सादगी पसन्द क्यों मानते हैं?
Answer:
The writer regarded his father to have been austere because he avoided all inessential comforts and luxuries. However, all necessities were provided to the family in terms of food, medicine or clothes. His father lived in a very simple but fairly large pucca house made of limestone and bricks.

लेखक अपने पिताजी को सादगीपसंद इसलिये मानते हैं क्योंकि वे सभी अनावश्यक सुख-सुविधाओं और विलासिताओं से बचते थे। फिर भी परिवार को भोजन, औषधि या वस्त्रों जैसी सभी आवश्यकता की वस्तुएं उपलब्ध करा दी जाती र्थी। उसके पिता बहुत ही साधारण पर चूना-पत्थर और ईंट के बने बड़े मकान में रहते थे।

Question 4.
Why does Kalam say that one should not be afraid of difficulties, sufferings and problems?
कलाम क्यों कहते हैं कि व्यक्ति को कठिनाइयों, पीड़ाओं, और समस्याओं से भयभीत नहीं होना चाहिये ?
Answer:
Kalam says that one should not be afraid of difficulties,sufferings and problems because he learnt from his father that when troubles come, one should try to understand the relevance of one’s sufferings. And adversity always presents opportunities for introspection. Every human being is a specific element within the whole of the manifest divine being. Hence one should not be afraid of all these things.

कलाम कहते हैं कि व्यक्ति को कठिनाईयों, पीड़ाओं और समस्याओं से भयभीत नहीं होना चाहिये क्योंकि उन्होंने अपने पिताजी से सीखा था कि जब परेशानियाँ आती हैं तो व्यक्ति को अपनी पीड़ाओं का औचित्य समझने का प्रयास करना चाहिये और विपत्ति हमेशा हमेशा (ही) आत्म-विश्लेषण के अवसर प्रदान करती है। प्रत्येक मानव उस दिव्य सत्ता का एक विशिष्ट अंग है। अतः व्यक्ति को इन सब चीजों से भयभीत नहीं होना चाहिये।

(D) Say whether the following statements are True or False. Write T for true and ‘F for False in the bracket:
1. A.P.J. Abdul Kalam was born in Shimla.
2. The high Priest of Rameswararm temple, Pakshi Lakshaman Sastry, was a close friend of Kalam’s father.
3. A.P.J. Abdul Kalam is known as the missile man of India.
4. The Wings of Fire is an autobiographical work of A.P.J. Abdul Kalam.
Answer:
1. (F)
2. (T)
3. (T)
4. (T)

Activity 2 : Vocabulary
(A) Find out one word for the following group of words
1. Severe or strict in appearance or manner …………..
2. Family line ………
3. A shapeless mass of food ……………..
4. Willingness to give someone money, gifts, time freely ……….
5. A building in which Muslims worship ….
6. Done in a friendly way and without arguing …….
7. The situation of being greater in number …….
Answer:
1. austere
2. lineage
3. dollop
4. generosity
5. mosque
6. amicably
7. far more.

(B) Change the following words into adverbs by adding a suitable affix :
Affix = A group of letters that are added to the beginning or end of a word and that change its meaning – प्रत्यय या उपसर्ग।
1. wide
2. fair
3. normal
4. predominant
5. vivid
6. real
7. individual
Answer:
1. widely
2. fairly
3. normally
4. predominantly
5. vividly
6. really
7. individually

(C) The word ‘invalid used in the lesson can be used as an adjective, noun and verb. Study the following sentences :

  1. People with invalid papers are deported to another country (adjective).
  2. Her parents had treated her as an invalid (noun).
  3. He was invalided out of the army in 1975 (verb).

Find out five words from the Dictionary which express different meanings when used as different word category, such as noun, adjective, verb or any other.
डिक्सनरी (शब्द कोष) में से पांच शब्द खोजिये जिनका अलग-अलग शब्दों की श्रेणी जैसे संज्ञां, विशेषण, क्रिया या अन्य कोई रूप के प्रयोग करने पर अलग-अलग अर्थ देते हैं।
Answer:

  1. belt :
    verb = आघात करना / noun = पेटी, बेल्ट / phrasal verb = ऊँचे स्वर में गाना या बजाना
  2. close
    verb = बंद करना /noun = समाप्ति (किसी गतिविधि या अवधि की) / adjective = निकट, पास
  3. need
    verb = किसी वस्तु की आवश्यकता होना /modal = modal verb के रूप में /noun = अनिवार्यता
  4. over
    preposition = किसी वस्तु के सीधे ऊपर (न छूते हुऐ) / adjective = समाप्त । noun = क्रिकेट में ओवर
  5. net
    verb = किसी को जाल में फंसाना / adjective = शेष / noun = जाल।

Activity 3 : Grammar
1. निम्नलिखित वाक्यों को पढ़िये जो दो भिन्न तरीकों में रेखांकित है। एक ही वाक्य के छोटे-छोटे दो रेखांकित भाग
(i) व (ii) भिन्न हैं। क्या आप अनुमान लगा सकते हैं कि वे क्या हैं? और रेखांकित भाग  (i) रेखांकित भाग  (ii) से किस प्रकार भिन्न है।
(i) My parents were ideally regarded as an ideal people.
       1                      2          3                         3         4

(ii) My parents were ideally regarded as an ideal People.
       1                 2                                3   4

वाक्य
(i) में रेखांकित तत्व क्रमशः संज्ञा (1), क्रिया विशेषण (2), क्रिया (3) विशेषण (4) तथा संज्ञा (5) हैं। जबकि वाक्य
(ii) में रेखांकित तत्व possessive
(1) सहायक क्रिया
(2) preposition
(3) तथा निर्धारक
(4) हैं।

इस प्रश्न का संकेत कि (i) में वर्णित तत्व (ii) में वर्णित तत्वों से किस प्रकार से भिन्न हैं वह निम्नलिखित प्रश्न के उत्तर खोजने में है।

क्या आपने कभी यह विचार किया है कि समय के साथ साथ एक डिक्शनरी में शब्दों की संख्या क्यों बढ़ती है? इस प्रश्न का उत्तर यह है कि वाक्य
(i) में रेखांकित प्रकार के शब्दों की संख्या उसी प्रकार से बढ़ती जाती है। जिस प्रकार से हमारी आवश्यकता बढ़ती जाती है। फिर भी। यह  (ii) प्रकार के वाक्यों के बारे में सही नहीं है। उनकी सदस्यता बिल्कुल निश्चित है।

नाम वाले शब्दों को संज्ञा कहते हैं, जैसे वाक्य  (i) में माता-पिता तथा लोग; वे ‘यह कौन है?’ या ‘यह क्या है?’ प्रश्न का उत्तर देते हैं। विशेषण वे शब्द होते हैं जो कि इनके बाद में आने वाली संज्ञाओं का वर्णन करते हैं या विशेषता बताते हैं जैसे शब्द आदर्श। Ideally एक क्रिया विशेषण है। एक क्रिया विशेषण एक क्रिया की विशेषता बताता है; यह एक विशेषणं की भी विशेषता बता सकता है। regarded शब्द एक क्रिया है। क्रियाओं को कार्य करने वाले शब्द कहते हैं।

वाक्य  (ii) में रेखांकित शब्द my, were, as, an क्रमशः एके निधारक, एक सहायक क्रिया, एक preposition तथा एक निर्धारक हैं। इसके अलावा जिन शब्दों की सदस्यता निश्चित है उनमें निम्नलिखित रेखांकित शब्द भी शामिल है।

2. (i) I normally ate with my mother.
(ii) ……….. but I was totally convinced that they reach God.
(iii) Yes ! We are all born with a divine fire in us.

वाक्य 2 (i)  (ii) तथा  (iii) में रेखांकित शब्द क्रमशः एक सर्वनाम, एक संयोजक तथा एक विस्मयादिबोधक कहलाते हैं। एक सर्वनाम संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होता है; | एक संयोजक एक जोड़ने वाला शब्द होता है तथा एक । विस्मयादिबोधक जोर, खुशी, भय, दु:ख इत्यादि की हमारी जोरदार भावना को व्यक्त करने वाला होता है।
1 (ii) and 2 (i), (ii), (iii)
Answer:
(i) ……he possessed great innate wisdom….
         1         2            3                  4
1. Pronoun
2. Verb
3. Adverb
4. Noun

(ii) He had an ideal helpmate..
      1         2      3        4
1. Pronoun
2. Determiner
3. Adjective
4. Noun

(iii) I normally ate with my father.
            1          2     3            4
1. Adverb
2. Verb
3. Preposition
4. Noun

(iv) She would place a banana leaf before me.
1         2                              3         4 
1. Auxiliary
2. Verb
3. Preposition
4. Pronoun
आप इसी प्रकार से आगे कार्य कर सकते हैं।

Activity 4 : Speech Activity
Divide your class among groups and discuss the contribution of A.P.J. Abdul Kalam as a Missile Man. अपनी कक्षा में विभिन्न समूह (group) बनायें और मिसाइल मैन के तौर पर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के योगदान पर चर्चा करें।
Answer:
Abdul Kalam: A Missile Man After graduating, Abdul Kalam joined Defence Reserch and Development Organisation [DRDO]. He focused on research in defense and space arena as a scientust. In 1969 he was shifted to the Indian Space Research Organisation (ISRO). There he got the government’s approval to expand the programme. Within 20 years, Dr Kalam was successful to develop the Satellite Launch Vehicle (PSLV) and SLV-III projects. In the 1970s he also directed two projects which developed the ballistic missiles from the technology of the SLV programme. For this he was given secret funds from the then PM. He developed many missiles including Agni and Prithvi. In this way he became the Missile Man of India.

स्नातक करने के पश्चात, अब्दुल कलाम रक्षा अनुसंधान तथा विकास संगठन में शामिल हुए। उन्होंने एक वैज्ञानिक के रूप में रक्षा तथा अंतरिक्ष अनुसंधान पर ध्यान केन्द्रित किया। 1969 में उन्हें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में स्थानान्तरित कर दिया गया। वहाँ पर उन्हें इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए सरकार की अनुशंसा प्राप्त हो गई। बीस वर्षों में डॉ कलाम सेटेलाईट लान्च व्हीकल तथा एस.एल.वी. – ।।। प्रोजेक्ट को चालू करने में सफल हुऐ। 1970 में उन्होंने दो प्रोजेक्ट को निर्देशित

किया जिसने एस.एल.वी. कार्यक्रम की तकनीक से बेलेस्टिक मिसाईल विकसित की। इसके लिए उन्हें उस समय के प्रधानमंत्री के द्वारा गुप्त रूप से धन उपलब्ध कराया गया। उन्होंने पृथ्वी और अग्नि सहित अनेकों मिशाईले विकसित की। इस प्रकार से वे भारत के मिसाईल मेन बन गये।।

Activity 5 : Composition
Kalam considered youth, the architect of India. Have you ever heard Kalam’s speech on the role of youth in nation building ? In the light of any of Kalam’s speech you have read, organize a discussion/debate related to the ‘Importance of Youth’ in the making of a nation.
कलाम ने युवाओं को भारत का शिल्पी माना। क्या आपने कभी राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका (विषय) पर कलाम का भाषण सुना है? कलाम के किसी भी भाषण, जो आपने पढ़ा हो के सन्दर्भ में, राष्ट्र के निर्माण में युवाओं का महत्व से सम्बन्धित विषय पर एक परिचर्चा/वाद-विवाद का आयोजन करिये।।
Answer:
The following lines can be discussed.
निम्नलिखित लाईनों पर विचारविमर्श किया जा सकता है।

1. Have a goal and work hard to achieve that goal. Small aim is a crime.
एक उद्देश्य को निर्धारित करो और उसे पाने के लिए कठोर परिश्रम करो। छोटे उद्देश्य रखना एक अपराध है।

2. Work with integrity and succeed with integrity.
निष्ठापूर्वक कार्य करो और निष्ठापूर्वक सफलता पाओ।

3. Try to save or better someone’s life, without any discrimination of caste, creed, language, religion or state.
किसी का जीवन बगैर किसी जाति, संप्रदाय, भाषा, धर्म या राज्य के भेदभाव के बचाने या बेहतर बनाने का प्रयास करो।

4. Always remember the importance of time. Let not winged days be spent in vain.
समय को हमेशा याद रखो। दिन को व्यर्थ मत जाने दो।

5. Always work for clean planet Earth and clean energy.
स्वच्छ ग्रह पृथ्वी तथा स्वच्छ ऊर्जा के लिए हमेशा कार्य करो।
OR
Kalam believed in ‘Work is Worship’. He, therefore, told the nation not to observe a holiday on his death. The genuine tribute to him, he said, would be to work one day extra. In the light of the maxim and Kalam’s belief, enlist ways which enable you to execute the saying. Your list must be as long as possible.
कलाम ‘कर्म ही पूजा है’ में विश्वास करते थे। इसलिये उन्होंने राष्ट्र से उनकी अपनी मृत्यु पर अवकाश नहीं रखने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी एक अतिरिक्त दिवस कार्य करना। इस कहावत के और कलाम के विश्वास के सन्दर्भ में उन तरीकों की सूची बनाइये जो आपको इस कहावत के क्रियान्वयन में समर्थ बनाते हैं। आपकी सूची जितनी सम्भव हो उतनी बड़ी होनी चाहिये।
Answer:
Some of the ways can be :
कुछ तरीके इस प्रकार से हो सकते हैं :

1. I never leave any work for tomorrow for tomorrow never comes.
मैं काम को कल पर कभी भी नहीं छोड़ता हूँ क्योंकि कल कभी भी नहीं आता है।

2. Sometimes we idle away and think that we will do it later but by doing so we are only killing time that will never return. We should not waste time in idling away.
कभी कभी हम सुस्ताते रहते हैं और सोचते हैं कि हम इसे बाद में कर लेंगे लेकिन ऐसा करके हम केवल समय को नष्ट करते हैं जो कि कभी वापस नहीं आता है। हमें समय व्यर्थ नहीं आँवाना चाहिये।

3. Laziness is the chief enemy of the work. It puts us on the back bench
आलस्य काम का मुख्य शत्रु है। यह हमें पीछे धकेल देता है।

4. We should work without caring for result.
हमें परिणाम की चिंता किये बगैर ही कार्य करना चाहिये।

RBSE Class 9 English Insight Chapter 1 The Power of Prayer Additional Questions

Short Answer Type Questions
Answer the following questions in 30 words each :
Question 1.
How did Kalam perform prayer in childhood?
बचपन में कलाम प्रार्थना कैसे करते थे?
Answer:
Kalam’s father would take him to the mosque in their locality for evening prayers. He had not the faintest idea of the meaning of the Arabic prayers chanted but he was totally convinced that they reached God.
कलाम के पिताजी कलाम को अपने इलाके की एक मस्जिद में सांयकालीन प्रार्थना के लिये ले जाते थे। उन्हें अरबी (भाषा) में गायी जाने वाली प्रार्थना के अर्थ की ज़रा सी भी समझ नहीं थी लेकिन उन्हें यह पक्का विश्वास था कि वे (प्रार्थनाएँ) ईश्वर तक पहुँचती थीं।

Question 2.
What does Kalam say in praise of his father?
अपने पिता की प्रशंसा में कलाम क्या कहते हैं?
Answer:
In praise of his father Kalam says that he was austere who used to avoid all inessential comforts and luxuries. And he could convey complex spiritual concepts in very simple and down-to-earth Tamil.
पिताजी की प्रशंसा में कलाम कहते हैं कि वह सादगीपसन्द थे जो सभी अनावश्यक सुख-सुविधाओं व विलासिताओं से बचा करते थे। और वह जटिल आध्यात्मिक अवधारणाओं को बहुत ही सादा व सरल तमिल (भाषा) में समझा सकते – थे।

Question 3.
We should not get afraid of difficulties, sufferings and problems. why?
हमें कठिनाइयों, पीड़ाओं व समस्याओं से भयभीत नहीं चाहिये। क्यों?
Answer:
We should not be afraid of difficulties, sufferings, and problems because when troubles come, we should try to understand the relevance of our sufferings. Adversity always presents opportunities for introspection.
हमें कठिनाइयों, पीड़ाओं व समस्याओं से भयभीत नहीं होना चाहिये क्योंकि जब परेशानियाँ आती हैं। तो हमें अपनी पीड़ाओं के औचित्य को समझने का प्रयास करना चाहिये। विपत्ति हमेशा आत्मविश्लेषण के अवसर प्रदान करती है।

Question 4.
What does Kalam say about his achievements ?
अपनी उपलब्धियों के विषय में कलाम क्या कहते हैं?
Answer:
About his achievements Kalam says that whatever he has achieved in life, is through God’s help, and expression of his will. He showered His grace on him through some outstanding teachers and colleagues.
उपलब्धियों के विषय में कलाम कहते हैं कि उन्होंने अपने जीवन में जो कुछ भी प्राप्त किया है वह ईश्वर की सहायता से और उनकी इच्छा के अनुसार किया है। उन्होंने (ईश्वर) अपनी कृपा उन पर कुछ विशिष्ट अध्यापकों व सहकर्मियों के द्वारा की है।

Long Answer Type Questions
Answer the following question in 60 words :

Question
What massage has Kalam conveyed through this lesson ?
इस पाठ के माध्यम से कलाम ने क्या संदेश दिया है?
Answer:
Through this lesson Kalam has conveyed his message to several million mass of India that they should never feel small or helpless. He say that we are all born with a divine fire in us. Our efforts should be to give wings to this fire and fill the world with the glow of its goodness. He has also conveyed that we should not be afraid of difficulties ad problems.

लाख जन समुदाय को यह सन्देश दिया है कि उन्हें स्वयं को कभी भी छोटा या असहाय नहीं समझना चाहिये। वह कहते हैं कि हम सब एक दैवीय शक्ति के साथ पैदा हुये हैं। हमारे प्रयास इस शक्ति को पंख लगाने के लिये और संसार को इनकी अच्छाई के तेज (चमक) से भरने के लिये होने चाहिये। उन्होंने यह संदेश भी दिया कि हमें कठिनाइओं और समस्याओं से नहीं डरना चाहिये।

Passages for Comprehension

Read the following passages carefully and answer the questions given below them :

Passage 1
I was born into a middle-class Tamil family in the island town of Rameswaram in the erstwhile Madras state. My father Jainulabdeen had neither much formal education nor much wealth; despite these disadvantages, he possessed great innate wisdom and a true generosity of spirit. He had an ideal helpmate in my mother, Ashiamma. I do not recall the exact number of people she fed every day, but I am quite certain that far more outsiders ate with us than all the members of our own family put together.

My parents were widely regarded as an ideal couple. My mother’s lineage was the more distinguished, one of her forebears having been bestowed the title of ‘Bahadur’ by the British. I was one of many children a short boy with rather undistinguished looks, born to tall and handsome parents. We lived in our ancestral house, which was built in the middle of the 19th century. It was a fairly large pucca house, made of limestone and brick, on the Mosque Street in Rameswaram. My austere father used to avoid all inessential comforts and luxuries. However, all necessities were provided for, in terms of food, medicine or clothes. In fact, I would say mine was a very secure childhood, both materially and emotionally.

1. Where was the writer born ?
लेखक का जन्म कहाँ हुआ था ?

2. What innate quality did Kalam’s father possess ?
कलाम के पिताजी में क्या जन्मजात गुण (अच्छाई) था ?

3. Who was the writer’s mother ?
लेखक की माताजी कौन थीं?

4. What does Kalam say about his parents ?
कलाम अपने माता-पिता के विषय में क्या कहते हैं?

5. What does Kalam say about his mother’s lineage ?
अपनी माता के वंश के विषय में कलाम क्या कहते हैं ?

6. Who was bestowed the title of ‘Bahadur’? And by whom ?
किसको ‘बहादुर ‘ की पदवी से नवाजा गया था ? और किसके द्वारा ?

7. Why does Kalam call his father an austere man ?
कलम अपने पिताजी को एक सादगीपसन्द व्यक्ति क्यों कहते हैं ?

8. How was Kalam’s childhood ?
कलाम का बचपन कैसा था?

9. Pick from the passage the word which is the opposite to ‘miserliness’.

10. Find from the passage the word which means :’commanding great respect.’

Answers :
1. The writer was born in a middle-class Tamil family.
लेखक को जन्म एक मध्यम वर्गीय तमिल परिवार में हुआ था।

2. Kalam’s father possessed great innate wisdom and a true generosity of spirit.
कलाम के पिताजी में बहुत अधिक जन्मजात बुद्धिमानी और सच्ची आत्मिक उदारता थी।

3. The writer’s mother was Ashiamma.
लेखक की माताजी आशिअम्मा र्थी।

4. Kalam says that his parents were widely regarded as an ideal couple.
कलाम कहते हैं कि उनके माता-पिता को दूर-दूर तक एक आदर्श युगल के रूप में माना जाता था।

5. Kalam says that his mother’s lineage was the more distinguished.
कलाम कहते हैं कि उनकी माताजी का वंश और अधिक प्रसिद्ध था।

6. One of the forebears of Kalam’s mother was bestowed the title of ‘Bahadur’ by the Britishers.
कलाम की माताजी के एक पूर्वज को अंग्रेजों द्वारा ‘बहादुर’ की पदवी से नवाजा गया था।

7. Kalam calls his father an austere man because he used to avoid all inessential comforts and luxuries.
कलाम अपने पिताजी को सादगीपसन्द इसलिए कहते हैं क्योंकि वह सभी अनावश्यक सुख-सुविधाओं और विलासिताओं से बचते थे।

8. How are we all born ?
हम सब कैसे पैदा हुए हैं?

9. Pick from the passage the word which is the opposite to ‘simple’.

10. Find from the passage the word which means : ‘very good’ or ‘clearly noticeable’

Passage 2

I normally ate with my mother, sitting on the floor of the kitchen. She would place a banana leaf before me, on which she then ladled rice and aromatic sambhar, a variety of sharp, homemade pickles and a dollop of fresh coconut chutney. The famous Shiva temple, which made Rameswaram so sacred to pilgrims, was about a ten-minute walk from our house. Our locality was predominantly Muslim, but there were quite a few Hindu families too, living amicably with their Musliin neighbours.

There was a very old mosque in our locality where my father would take me for evening prayers. I had not the faintest idea of the ‘meaning of the Arabic prayers chanted, but I was totally convinced that they reached God. When my father came out of the mosque after the prayers, people of different religions would be sitting outside, waiting for him. Many of them offered bowls of water to my father who would dip his fingertips in them and say a prayer. This water was then carried home for invalids. I also remember people visiting our home to offer thanks after being cured. My. father always smiled and asked them to thank Allah, the benevolent and merciful.

1. What was Kalam’s way of eating ?
कलाम के खाने का क्या तरीका था?

2. What was Kalam’s usual meal ?
कलाम को सामान्यः भोजन क्या था?

3. What made Rameswaram so sacred to pilgrims ?
रमेशवरम तिरधयात्राओं के इतना पवित्र किसने बनाया था?

4. How was Kalam’s locality ?
कलम की बस्ती (इलाक़ /क्षेत्र) कैसी थी ?

5. Did Kalam understand the prayers in his childhood ?
क्या बचपन में कलम बालम को प्रार्थनाएं समाज में आती थीं ?

6. What did Kalam know about the prayers?
प्रार्थनाओं के विषय में कलाम क्या जानते थे?

7. What did Kalam’s father do with the bowls of water ?
पानी के कटोरों का कलाम के पिता क्या करते थे?

8. What did people do with the water ?
लोग उस पानी का क्या करते थे?

9. Pick from the passage the word which is the opposite to ‘cruel.

10. Make the plural forms of the following.
(a) banana
(b) home

Answers:
1. Kalam normally ate with his mother, sitting on the floor of the kitchen.
कलाम अधिकांशतः रसोईघर में फर्श पर बैठकर अपनी माताजी के साथ भोजन करते थे।

2. Kalam’s usual meal was rice, aromatic sambhar, sharp, homemade pickles and fresh coconut chutney.
कलाम का सामान्यः भोजन होता था-चावल, सुगन्धित सांभर, चोखे, घर के बने अचार और ताजा नारियल की चटनी आदि।

3. The famous Shiva temple made Rameswaram so sacred to pilgrims. yftas fora
मन्दिर ने रामेश्वरम को तीर्थयात्रियों के लिये इतना पवित्र बनाया।

4. Kalam’s locality was predominantly Muslim.
कलाम की बस्ती मुस्लिम बाहुल्य थी।

5. No, Kalam did not have the faintest idea of the meaning of the Arabic prayers in his childhood.
नहीं, कलाम को अपने बचपन में अरबी में गाई जाने वाली प्रार्थनाओं के अर्थ की जरा सी भी समझ नहीं थी।

6. Kalam knew that the prayers reached God certainly.
कलाम जानते थे प्रार्थनाएँ ईश्वर तक निश्चित पहुँचती थीं।

7. Kalam’s father dipped his fingertips in the bowls of water and said a prayer.
कलाम पानी के उन कटोरों में अपने हाथों की उंगलियों के पोरों को डुबाकर प्रार्थना करते थे।

8. People carried the water to their homes for invalids.
लोग उस पानी को अपने घरों पर निर्बलों/अपाहिजों के लिये ले जाते थे।

9. merciful

10. (a) bananas , (b) homes

Passage 3

My father could convey complex spiritual concepts in very simple, down-to-earth Tamil. He once told me, “In his own time, in his own place, in what he really is, and in the stage he has reached-good or bad-every human being is a specific element within the whole of the manifest divine Being. So why be afraid of difficulties, sufferings and problems? When troubles come, try to understand the relevance of your sufferings. Adversity always presents opportunities for introspection.” Each individual creature on this beautiful planet is created by God to fulfil a particular role.

Whatever I have achieved in life is through His help, and an expression of His will. He showered His grace on me through some outstanding teachers and colleagues, and when I.pay my tributes to these fine persons, I am merely praising His glory. All these rockets and missiles are His work through a small person called Kalam, in order to tell the several-million mass of India, to never feel small or helpless. Yes ! We are all born with a divine fire in us. Our efforts should be to give wings to this fire and fill the world with the glow of its goodness.

1. What does Kalam say about his father’s understanding of Tamil ?
तमिल में अपने पिताजी की समझ के विषय में कलाम क्या कहते हैं?

2. What do you know about the existence of human beings ?
आप मनुष्य के अस्तित्व के विषय में क्या जानते हैं?

3. What should we do when troubles come ?
जब परेशानियाँ आयें तो हमें क्या-क्या करना चाहिये?

4. What is the positive aspect of an adversity?
विपत्ति का सकारात्मक पहलू क्या है?

5. What is God’s purpose of creating each individual ?
प्रत्येक प्राणी के सृजन का ईश्वर का क्या उद्देश्य है?

6. How had Kalam achieved success in his life ?
कलाम ने अपने जीवन में सफलता कैसे प्राप्त की थी?

7. How had God showered his grace on Kalam?
ईश्वर ने कलाम पर अपनी कृपा कैसे की?

8. How are we all born ?
हम सब कैसे पैदा हुए हैं?

9. Pick from the passage the word which is the opposite to ‘simple’.

10. Find from the passage the word which means : ‘very good’ or ‘clearly noticeable’

Answers:
1. Kalam says that his father could convey complex spiritual concepts in very simple, down-to-earth Tamil.
कलाम कहते हैं कि उनके पिताजी जटिल आध्यात्मिक अवधारणाओं को बहुत ही सादा, सरल तमिल में समझा सकते थे।

2. Every human being is a specific element within the whole of the manifest divine Being.
प्रत्येक मनुष्य (उस) सम्पूर्ण दिव्य सत्ता का एक विशिष्ट अंग है।

3. When troubles come we should try to understand the relevance of our sufferings.
जब विपत्तियाँ आयें तो हमें अपनी पीड़ाओं के औचित्य को समझने का प्रयास करना चाहिये।

4. The positive aspect of an adversity is that it always presents opportunities for introspection.
विपत्ति का सकारात्मक पहलू यह है कि यह हमेशा आत्मविश्लेषण (आत्मनिरीक्षण) के अवसर प्रस्तुत करती है।

5. God’s purpose of creating each individual is to fulfil a particular role.
प्रत्येक प्राणी के सृजन करने का ईश्वर का उद्देश्य है एक विषेश भूमिका को भरना।

6. Kalam had achieved success in his life through the help of God.
कलाम ने अपने जीवन में सफलता ईश्वर की सहायता से प्राप्त की थी।

7. God showered his grace on Kalam through some outstanding teachers and colleagues.
ईश्वर ने कलाम पर अपनी कृपा कुछ विशिष्ट अध्यापकों और सहकर्मियों के माध्यम से की।

8. We are all born with a divine fire in us. हम सब अपने अन्दर एक ईश्वरीय शक्ति के साथ पैदा हुए

9. complex

10. distinguished

Word-meanings and Hindi Translation

I was born ……………………………………… coconut chutney. (Page 1)

Word-meanings : erstwhile (अस्टवाइल) = पूर्व, तत्कालीन। formal education (फॉमल एजुकेशन) = औपचारिक (स्कूल) शिक्षा। despite (डिस्पाइट) = के बावजूद। -disadvantages (डिसएडवान्टिजिज़) = कमियाँ। possessed (पज़ेस्ट) = से युक्त थे, उनमें थीं। innate (इननेट) = जन्म जात। wisdom (विज़्डम) = समझ। generosity (जेनरोंसिटि) = उदारता। spirit (स्पिरिट) = आत्मा। fed (फेड) = भोजन कराती थी। quite certain (क्वॉइट सट:न) = निश्चित तौर पर। far more outsiders (फार मोर आउटसाइडज़) = कहीं अधिक संख्या में बाहरी लोग। put together (पुट टगेदर्) = कुल मिलाकर। regarded (रिगार्डिड) = माने जाते थे। lineage (लिनाइज़) = वंश। distinguished (डिस्टिंगग्विश्ट) = मशहूर। forebears (फॉबेअर्ज) = पूर्वज। bestowed (बिस्टोड) = प्रदान की। title (टाइटल) = पद्वी। rather (रादर) = कुछ-कुछ। undistinguished (अनडिस्टिग्विश्ट) = साधारण। ancestral (एन्सेस्ट्रल) = पैतृक। fairly (फेअलि) = काफी। limestone (लाइमस्टोन) = चूना-पत्थर। austere (ऑस्टीअर) = सादगीपसन्द। inessential (इनइसैन्शल) = अनावश्यक। comforts (कम्फॅ:ट्स) = सुख सुविधायें। however (हाउएवर) = तथापि। in terms of (इन टर्ज़ ऑव्) = के मामले में। medicine (मेडिसिन्) = दवा। materially (मटिरिअलि) = भौतिक दृष्टि से। ladled (लेडल्ड) = बड़े से चम्मच से प्लेट में खाना परोसती। aromatic (एरमैटिक) = सुगंधित। sharp (शा:प) = चोखा। pickles (पिकल्ज्) = अचार। dollop (डॉलप) = कोमल वस्तु का डला या छोटा गोला।

हिन्दी अनुवाद-मैं भूतपूर्व मद्रास राज्य के द्वीपीय नगर रामेश्वरम् के एक मध्यमवर्गीय तमिल परिवार में पैदा हुआ था। मेरे पिताजी जैनुलब्दीन ने न तो बहुत औपचारिक (स्कूली) शिक्षा ली थी और ना ही उनके पास बहुत सम्पत्ति थी; इन कमियों के बावजूद भी उनमें बहुत अधिक जन्मजात समझ और सच्ची आत्मिक उदारता थी। मेरी माँ आशिअम्मा के रूप में उनके पास एक आदर्श संगिनी थी। मैं उन लोगों की ठीक-ठीक संख्या तो याद नहीं कर पा रहा हूँ जिनको वह प्रतिदिन खाना खिलाती थी. लेकिन मैं यह निश्चित तौर पर कह सकता हूँ कि हमारे परिवार में कुल मिलाकर जितने सदस्य थे उससे कहीं अधिक संख्या में बाहरी लोग हमारे साथ भोजन करते थे। मेरे माता-पिता दूर-दूर तक एक आदर्श युगल के रूप में माने जाते थे। मेरी माँ का वंश और भी अधिक मशहूर था, उनके एक पूर्वज को तो अंग्रेजों के द्वारा बहादुर की पदवी से नवाज़ा गया था। मैं अनेक बच्चों में से एक था-कुछ साधारण सी शक्ल सूरत वाला, ठिगना-सा बालक, (जो) लम्बे एवं सुन्दर माता-पिता से जन्मा था। हम लोग अपने पैतृक मकान में रहते थे, जो कि उन्नीसवीं शताब्दी के मध्य में बनवाया गया था। रामेश्वरम् में मस्ज़िद वाली गली में चूना-पत्थर और ईंट का बना यह काफी बड़ा पक्का मकान था। मेरे सादगी पसंद पिताजी सभी अनावश्यक सुख-सुविधाओं और विलासिताओं से बचा करते थे। तथापि, भोजन, औषधि या कपड़ों जैसी सभी जरूरत की वस्तुएँ अपलब्ध करा दी जाती थीं। वास्तव में, मैं तो कहूँगा कि भौतिक एवं भावनात्मक, दोनों ही दृष्टियों से मेरा बचपन बहुत ही सुरक्षित था। मैं आमतौर पर रसोई घर के फर्श पर बैठकर अपनी माँ के साथ भोजन किया करता था। वह मेरे सामने केले का एक पत्ता रखा करती थी फिर वह उस पर बड़े चम्मच भर चावल तथा सुगंधित साँभर, विभिन्न प्रकार के चोखे, घर पर बने अचार तथा ताजी नारियल की चटनी का एक डला रखती थी।

The famous ……………………………………… or creed. (Pagesl- 2)

Word-meanings : sacred (सेक्रिट) = पवित्र। pilgrims (पिल्ग्रिम्ज़) = तीर्थयात्रियों। locality (लोकैलिटि) = इलाका। predominantly (प्रिडामनटिल) = मुख्यतः। amicably (ऐमिकब्लि) = सौहार्द्रपूर्ण रूप से। faintest (फैन्टिएस्ट) = हल्का सा भी। chanted (चैन्टिड) = गायी गयी। convinced (कन्विन्स्ट) = मान लिया। bowls (बोल्ज़) = कटोरे। dip (डिप) = डूबोना। fingertips (फिंगरटिप्ज) = उंगली के पोर। invalids (इन्वलिड्ज़) = अपाहिजों। benevolant (बनेवलन्ट) = परोपकारी। merciful (मसिफल) = दयावान। priest (प्रीस्ट) = पुजारी। traditional (ट्रडिशनल) = परम्परागत। attire (अटाइअर) = पोशाक। discussing (डिस्कसिंग) = वाद-विवाद कर रहे। spiritual (स्पिरिचवल्) = आध्यात्मिक। relevance (रेलवन्स) __ = औचित्य। mysterious (मिस्टिरीअस) = गूढ़। rather (रादर) = कुछ हद तक। communion __ (कम्यून्यन) = समन्वय। cosmos (काज्मोस) = the universe, ब्रह्माण्ड। creed (क्रीड) = मज़हब।

हिन्दी अनुवाद-वह प्रसिद्ध शिव मंदिर, जिसने रामेश्वरम् को तीर्थ यात्रियों के लिए इतना पवित्र बनाया, हमारे घर से लगभग दस मिनट की पैदल दूरी पर था। हमारा इलाका मुख्यतः मुस्लिम था, लेकिन वहाँ पर बिल्कुल कुछ ही (बहुत ही कम) हिन्दू परिवार भी थे जो कि अपने मुस्लिम पड़ौसियों के साथ सौहार्द्रपूर्ण तरीके से रह रहे थे। हमारे इलाके में एक बहुत ही पुरानी मस्ज़िद थी जहाँ मेरे पिताजी मुझे सायंकालीन प्रार्थना (नमाज) के लिए ले जाया करते थे। मुझे अरबी में गायी जाने वाली प्रार्थना (नमाज) के अर्थ का जरा सा भी अंदाजा नहीं था, परन्तु मुझे यह पक्का विश्वास था कि ये भगवान तक पहुँचती थी। प्रार्थना करने के बाद जिस समय मेरे पिताजी मस्जिद से बाहर आते थे उस समय विभिन्न धर्मों के लोग बाहर बैठकर उनका इन्तजार करते रहते थे। उनमें से कई मेरे पिताजी को पानी के कटोरे देते थे जिनमें वे अपनी उंगली के पोरों को डूबोकर प्रार्थना करते थे। फिर यह पानी अपाहिजों/निर्बलों के लिए घर ले जाया जाता था। मुझे निरोग होने के बाद धन्यवाद देने के लिए लोगों का हमारे घर आना भी याद है। मेरे पिताजी हमेशा मुस्कराकर उनसे उस परोपकारी तथा दयावान, अल्लाह को धन्यवाद देने की कहते थे। रामेश्वरम् मंदिर के मुख्य पुजारी पाक्षि लक्ष्मण शास्त्री मेरे पिताजी के एक बहुत घनिष्ठ मित्र थे। दो व्यक्तियों का अपनी परम्परागत पोशाकों में आध्यात्मिक मामलों पर वाद विवाद करना मेरे आरंम्भिक बचपन की जीवंत यादों में से एक है। जब मैं इतना बड़ा हो गया कि प्रश्न पूछ सकूँ तो मैंने अपने पिताजी से प्रार्थना के औचित्य के बारे में पूछा।

मेरे पिताजी ने मुझे बताया कि प्रार्थना में कुछ भी गूढ़ नहीं है। कुछ हद तक प्रार्थना लोगों के बीच आत्मा का एक समन्वय सम्भव कराती है। “जब आप प्रार्थना करते हो”, उन्होंने कहा, “तो आप अपने शरीर से आगे बढ़ जाते हो और इस ब्रह्माण्ड का एक भाग बन जाते हो, जो धन, उम्र, जाति या मज़हब के किसी भेद को नहीं जानता है।”

My father ……………………………………… bless you! (Page 2)

Word-meanings : convey (कन्वे) = बतलाना। complex (काम्प्लेक्स) = पेचीदा। down-to-earth (डाउन-ट-अर्थ) = सरल। specific (स्पसिफिक) = विशिष्ट। element (एलमन्ट) = अंश। manifest (मैनफेस्ट) = स्पष्ट। divine (डिवाइन) = दिव्य। being (बीइंग) = सत्ता। sufferings (सफरिंग्ज़) = पीड़ाओं। relevance (रेलवन्स) = औचित्य। ___adversity (अड्वर्सिटि) = विपत्ति। introspection (इन्ट्रस्पेक्टशन) = आत्म-विश्लेषण। individual (इन्डविज़वल) = व्यक्ति। created (क्रीएटिड) = सृजन किया गया। fulfil (फुल्फिल) = पूरा करना। showered (शाउअर्ड) = उदारतापूर्वक दिया। outstanding (आउटस्टैण्डिंग) = प्रकाण्ड। collegues (कालीग्ज़) = सहकर्मियों। tribute (ट्रिब्यूट) = शुक्रिया। glory (ग्लोरि) = प्रभुता। million (मिल्यन) = दस लाख। mass (मैस) = जन-साधारण। divine (डिवाइन) = दिव्य। fire (फायर) = शक्ति। glow (ग्लो) = तेज।

हिन्दी अनुवाद-मेरे पिताजी पेचीदा आध्यात्मिक अवधारणाओं को बहुत ही सादी, सरल तमिल में समझा सकते थे। उन्होंने मुझसे एक बार कहा, “अपने ही समय में, अपने ही स्थान पर, जो कुछ भी वास्तव में वे हैं उसमें तथा जिस स्तर में वे पहुँच चुके हैं-अच्छा या बुरा-प्रत्येक मानव मात्र स्पष्ट रूप से उस सम्पूर्ण दिव्य सत्ता का एक विशिष्ट अंश है। इसलिए परेशानियों, पीड़ाओं तथा समस्याओं से क्यों डरें? जब परेशानियाँ आती हैं तो अपनी पीड़ाओं के औचित्य को समझने की कोशिका करो। विपत्तियाँ हमेशा ही आत्मविश्लेषण के मौके देती हैं। इस सुन्दर ग्रह पर एक विशेष भूमिका को पूरी करने के लिए प्रत्येक मानव प्राणी का सृजन भगवान द्वारा किया गया है। जो कुछ भी मैंने अपने जीवन में अर्जित किया है वह उसकी मदद से, और उसकी इच्छा के अनुसार किया है। उसने अपनी कृपा मुझ पर कुछ प्रकाण्ड अध्यापकों और सहकर्मियों के द्वारा की है, और जब मैं अपना शुक्रिया इन भले लोगों का अदा करता हूँ तो मैं केवल उसकी प्रभुता की ही प्रशंसा कर रहा होता हूँ। ये सभी रॉकेट तथा मिसाईलें एक कलाम नाम के छोटे से व्यक्ति के द्वारा किये गये उसके कार्य हैं, भारतीयों के कुछ लाखों के जन समुदाय को यह बताने के लिये कि कभी भी छोटा और असहाय न समझे। हाँ! हम अपने में एक दैवीय शक्ति के साथ पैदा हुए हैं। हमारा प्रयास इस शक्ति को पंख लगाने के लिए तथा संसार को इसकी अच्छाई के तेज से भरने का होना चाहिए। ईश्वर आपको शुभाशीष दें!

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.