RBSE Solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions notes will help you.

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions Textual questions

Comprehension

(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
The story “Three Questions’ reveals the importance of the –
(a) future in life
(b) past in life
(c) present in life
(d) anytime in life
Answer:
(c) present in life

Question 2.
The hermit lived in a ………. which he never quitted.
(a) wood
(b) temple
(c) palace
(d) farm house
Answer:
(a) wood

Question 3.
When the King approached, the hermit
(a) was digging the ground
(b) was praying to God.
(c) was delivering sermons to his followers
(d) was sitting idle
Answer:
(a) was digging the ground

Question 4.
Present is the only time when we have –
(a) no power
(b) any power
(c) some power
(d) none
Answer:
(b) any power

(B) Answer the following questions in 10-15 words each:

Question 1.
What are the three questions of the king ?
राजा के तीन प्रश्न कौन-कौन से हैं?
Answer:
They are : what is the right tinue for every action, who are the most necessary people, and what is the most important thing to do.
प्रश्न हैं -‘प्रत्येक कार्य के लिए सही समय क्या होता है, कौन लोग सबसे ज्यादा आवश्यक होते हैं तथा कौन सा कार्य करना सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण है।”

Question 2.
What does he do to get an appropriate answer ?
उपयुक्त उत्तर पाने के लिए वह क्या करता है?
Answer:
He proclaims throughout his kingdom that he will give a great reward to anyone who answers his three questions.
वह अपने पूरे राज्य में यह घोषणा करवा देता है कि वह उस व्यक्ति को बहुत बड़ा ईनाम देगा जो कि उसके तीनों प्रश्नों के उत्तर दे देगा।

Question 3.
Is the king satisfied with the answers of the various learned men ? If not, why?
क्या राजा विभिन्न विद्वानों के उत्तरों से संतुष्ट होता है? यदि नहीं, तो क्यों ?
Answer:
No, the king is not satisfied with the answers of the various learned men because all the answers are different and confusing.
नहीं, राजा विभिन्न विद्वानों के उत्तरों से संतुष्ट नहीं होता है। क्योंकि सभी उत्तर भिन्न व भ्रमित करने वाले हैं।

Question 4.
Where does the king go to seek answers to his questions and why?
राजा अपने प्रश्नों को उत्तर खोजने के लिए कहाँ जाता है और क्यों ?
Answer:
The king goes to a hermit who lived in a wood to seek answers to his questions because he was widely renowned for his wisdom.
राजा अपने प्रश्नों का उत्तर खोजने के लिए एक संन्यासी के पास जाता है जो कि एक जंगल में रहता है। क्योंकि वह अपनी बुद्धिमानी के लिए बहुत विख्यात था।

Question 5.
Describe the manner in which the king approaches the hermit.?
उस तरीके का वर्णन करो जिससे राजा उस संन्यासी के पास पहुँचता है।
Answer:
The king puts on simple clothes, dismounts from his horse, leaves his bodyguards behind and approaches the hermit alone.
राजां सादे कपड़े पहनता है, अपने घोड़े से उतरता है, अपने अंगरक्षकों को पीछे छोड़ता है तथा संन्यासी से अकेला मिलने पहुँचता है।

Question 6.
Did the hermit pay immediate attention to the king’s questions? If not, how did he behave?
क्या संन्यासी ने राजा के प्रश्नों पर तुरन्त ध्यान दिया? यदि नहीं तो उसने किस प्रकार से बर्ताव किया?
Answer:
No, the hermit did not pay immediate attention to the king’s questions. He went on doing his work which he was doing.
नहीं, उस संन्यासी ने राजा के प्रश्नों पर तुरंत ध्यान नहीं दिया। वह अपना जो कार्य कर रहा था वह करता ही रहा।

(C) Answer the following questions in 20-30 words each
Note – सभी प्रश्नों के उत्तर 20 – 30 शब्दों में देना संभव नहीं है।

Question 1.
List in brief the various answers given by the learned men to the king’s three questions.
राजा के तीन प्रश्नों के विभिन्न विद्वानों के द्वारा दिए गये उत्तरों की संक्षिप्त सूची बनाईये।
Answer:
The various answers given by the learned men to the king’s three questions were
राजा के तीन प्रश्नों के विभिन्न विद्वानों के द्वारा दिए गये विभिन्न उत्तर थे।

(a) Draw up in advance a table of days, months and years and must live strictly according to it.
दिनों, महीनों तथा वर्षों की एक सारणी पहले से ही बनाओ तथा उसका सख्ती से अनुसरण करो।

(b) One should always attend to all that is going on and then do what is most needful.
किसी को भी जो चल रहा है उसमें हमेशा ही भाग लेते रहना चाहिए और फिर जो सबसे ज्यादा जरूरी हो वह करना चाहिए।

(c) The king should have a council of wise men who would help him fix the proper time for everything.
राजा के पास विद्वान लोगों की एक समिति होनी चाहिये जो कि प्रत्येक कार्य को करने के उचित अवसर का निर्धारण करने में उसकी सहायता करे।

(d) To know the right time for every action, one must consult magicians
प्रत्येक कार्य के सही समय को जानने के लिए व्यक्ति को जादूगरों से ही पूछना चाहिये।

(e) The people whom the king needs most are his councillors, the priests, the doctors and warriors.
जिन लोगों की राजा को सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है वे होते हैं उसके सलाहकार, धर्माचार्य, डाक्टर तथा योद्धा।

(f) Most important occupations are science, skill in warfare and religious worship.
सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण कार्य होते हैं विज्ञान, युद्ध कला में कुशलता तथा धार्मिक पूजा।

Question 2.
Describe how the king takes care of the wounded man.
वर्णन करो कि राजा उस घायल व्यक्ति की देखभाल किस प्रकार से करता है।
Answer:
The king washes the wound of the man as best he can, and bandages it with his handkerchief and with a towel of the hermit. He carries the wounded man with the hermit’s help into the hut and lays him on the bed.

राजा उस घायल व्यक्ति के घाव को जितना अच्छा वह साफ कर सकता था उतना अच्छा साफ करता है। और अपने रूमाल तथा संन्यासी के एक तौलिये से पट्टी बाँधता है। वह संन्यासी की मदद से उस घायल व्यक्ति को अंदर कुटिया में लाता है तथा उसे बिस्तर पर लिटाता है।

Question 3.
Describe how the king and his enemy passed that particular day. What, happened at the end of the day ?
बताइये कि राजा तथा उसके शत्रु ने वह दिन किस प्रकार से बिताया? दिन के अंत में क्या हुआ?
Answer:
The king dug beds for the hermit. The enemy waited for the king’s return. At the end of the day the enemy was wounded by the king’s bodyguards. He escaped from them. The king dressed the enemy and saved his life.
राजा ने संन्यासी के लिए क्यारियाँ खो। शत्रु ने राजा के लौटने का इंतजार किया। दिन के अंत में वह शत्रु राजा के अंगरक्षकों द्वारा घायल कर दिया गया। वह उनसे भाग निकला। राजा ने शत्रु की पट्टी की और उसकी जान बचाई।

Question 4.
How did the hermit answer the king’s questions through the incidents of the previous day ?
उस संन्यासी ने एक दिन पहले की घटना के द्वारा राजा के प्रश्नों का उत्तर किस प्रकार से दिया?
Answer:
The hermit answered the king’s questions as follows :
संन्यासी ने राजा के प्रश्नों के उत्तर इस प्रकार दिए :

(a) The most important time was when the king was digging beds as it saved him from his enemy’s attack.
सबसे महत्त्वपूर्ण समय वह था जब राजा क्यारियाँ खोद रहा था क्योंकि इससे वह अपने शत्रु के आक्रमण से बच गया।

(b) The most necessary thing was that he did good to a wounded man as it turned his enemy into a friend.
सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य जो उसने किया, वह था एक घायल व्यक्ति का भला करना क्योंकि इससे उसका शत्रु उसका मित्र बन गया।

(c) The most important person was the wounded man whom he attended to.
सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति वह घायल व्यक्ति था जिसकी उसने परिचर्या की।

Question 5.
Write a brief note on the moral of the story.
उक्त कहानी की नैतिक शिक्षा पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखो।
Answer:
The moral of the story is that the most important time is the present. The most important person is the one we are dealing with at that moment and the most important thing is to do good to our fellow beings.
इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि सबसे महत्त्वपूर्ण समय वर्तमान होता है। सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति वह होता है जिससे हम उस समय बर्ताव कर रहे हैं; और सबसे महत्त्वपूर्ण चीज | होती है अपने साथी व्यक्ति का कल्याण करना।

(D) Answer the following questions in 60-80 words each:

Question 1.
Draw a character sketch of the hermit.
संन्यासी का चरित्र चित्रण कीजिये।
Answer:
The hermit was a very learned person. He was renowned for his wisdom. He lived in a wood which he never quitted. He received none but common folk. The hermit believed in hard work. When the king reached him, he was digging ground for sowing seeds. The hermit did not say anything directly, but : elaborated on the incidents to provide convincing answers to the king’s questions. He believed in living in present. He satisfied the king with his convincing answer.

वह संन्यासी एक बहुत ही विद्वान व्यक्ति था। वह अपनी बुद्धिमानी के लिए विख्यात था। वह एक जंगल में रहता था जिसे वह कभी नहीं छोड़ता था। वह आम नागरिकों के अलावा किसी से भी नहीं मिलता था। वह संन्यासी कठोर परिश्रम में विश्वास करता था। जिस समय राजा उसके पास पहुँचा उस समय वह बीज बोने के लिए भूमि खोद रहा था। उसने सीधे ही कुछ भी नहीं कहा, लेकिन प्रश्नों के आश्वस्त करने वाले उत्तर देने के लिए उदाहरणों के द्वारा समझाया। वह वर्तमान में जीने में विश्वास रखता था। उसने राजा को अपने आश्वस्त करने वाले उत्तरों से संतुष्ट कर दिया।

Question 2.
Why is the “Present” the most important time in life ? Elaborate.
जीवन में ‘वर्तमान’ सबसे महत्त्वपूर्ण समय क्यों होता है? व्याख्या कीजिये।
Answer:
The “Present” is the most important time in life. We can find many types of people. Some of them waste their time in regretting for the past but we should remember that the past has gone and it will never return, so why weep for the past. As for the future, it is hidden. Nobody can predict what will happen in future. So we should not waste our present for the future about which nobody knows. So one who wants to live life in true sense, must learn to live in the present.

जीवन में वर्तमान सबसे महत्त्वपूर्ण समय होता है। हमें कई प्रकार के लोग मिलते हैं। कुछ भूतकाल के लिए दुखी होकर अपना जीवन बेकार कर लेते हैं लेकिन हमें यह याद रखना चाहिये कि भूतकाल जा चुका होता है और यह कभी लौट कर नहीं आ सकता है इसलिए भूतकाल के लिए क्यों रोयें। जहाँ तक भविष्य का सवाल है यह रहस्यमय है। कोई भी यह भविष्यावाणी नहीं कर सकता है कि भविष्य में क्या होगा तो फिर हम उस भविष्य के लिए जिसके बारे में कोई नहीं जानता है अपना वर्तमान खराब नहीं करना चाहिए। इसलिए जो कोई भी सच्चे अर्थों में जीवन जीना चाहता है उसे वर्तमान में जीना सीखना ही चाहिये।

(E) Say, whether the following statements are True or False. Write ‘T’ for True and ‘F’ for False in the brackets

  1. The king goes to hermit to seek answers to his questions. [ ]
  2. The king put on simple clothes because the hermit received none but common folk. [ ]
  3. At the end of the story the king gets a kind of formula for success in life. [ ]
  4. The hermit answers the king’s questions by elaborating on the incidents of the day. [ ]
  5. Leo Tolstoy was a Russian novelist and short story writer. [ ]

Answer:

  1. True
  2. True
  3. True
  4. True
  5. True.

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions Additional Questions

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions Short Answer Type Questions

Answer the following questions in 20-30 words each :

Question 1.
Why did the king want to have answers to his questions ?
राजा अपने प्रश्नों के उत्तर क्यों चाहता था?
Answer:
The king wanted to have answers to his questions because by knowing all those things he would act accordingly. And he would never fail in anything he might undertake.
राजा अपने प्रश्नों का उत्तर चाहता था क्योंकि उन सभी चीजों को जानकर वह उसी के अनुरूप कार्य करता। और वह कभी भी किसी भी कार्य में असफल नहीं होता जो (कार्य) वह हाथ में लेता।।

Question 2.
Where did the hermit live ? And what was he doing when the king approached him ?
संन्यासी कहाँ रहता था? और जब राजा उसके पास पहुँचा तब वह क्या कर रहा था?
Answer:
The hermit lived in a wood. When the king approached him putting on simple clothes, he was digging the ground in front of his hut. Seeing the king, he greeted him and went on digging.
संन्यासी एक जंगल में रहता था। जब राजा साधारण वस्त्र पहने वहाँ पहुँचा, वह अपनी कुटिया के सामने जमीन की खुदाई कर रहा था। राजा को देख कर उसने उसका अभिवादन किया और फिर खुदाई करने लग गया।

Question 3.
What did the king say to the hermit when the sun began to sink behind the trees ?
जब सूर्य वृक्षों के पीछे अस्त होने लगा तो राजा ने संन्यासी से क्या कहा?
Answer:
When the sun began to sink behind the tree the king said to the hermit, “I came to you, wise man, for an answer to my questions. If you can give me none, tell me so and I will return home.”
जब सूर्य वृक्षों के पीछे अस्त होने लगा तब राजा ने संन्यासी से कहा, “बुद्धिमान व्यक्ति, मैं आपके पास अपने प्रश्नों के उत्तर के लिये आया हूँ। यदि आप मुझे कोई (उत्तर) नहीं दे सकते हैं तो मुझे ऐसा बताइये और मैं घर लौट जाऊंगा।”

Question 4.
How did the king feel at the end of the day?
राजा ने उस दिन की समाप्ति पर कैसा महसूस किया?
Answer:
The king was so tired with his walk and with the work that he crouched down on the threshold, and also fell asleep so soundly that he slept all through the short summer night.
राजा अपने चलने से व कार्य से इतना थक गया था कि वह देहली पर सिकुड़ कर बैठ गया और इतनी गहरी नींद सो गया कि गर्मी की उस छोटी रात भर सोया। –

RBSE Class 9 English Gems of Fiction Chapter 1 Three Questions Long Answer Type Questions

Answer each of the following questions in about 60-80 words :

Question 1.
What was the thought that once occurred to the king? Explain.
वह क्या विचार था जो एक बार राजा के दिमाग में आया? वर्णन करिये।
Answer:
The thought that once occurred to the king was that if he always knew the right time to begin everything; if he knew who were the right people to listen to and to whom to avoid; and above all, if he always knew what was the most important thing to do, he would never fail in anything he might undertake.

एक बार राजा के दिमाग में जो विचार आया वह था कि, यदि उसे हमेशा ही प्रत्येक कार्य को प्रारम्भ करने का उचित समय पता चल जाये, यह पता लग जाये कि सुनने के लिये कौन व्यक्ति सही हैं और किसे टाला जाये; और सबसे ज्यादा तो यह कि यदि उसे हमेशा ही यह पता चल जाये कि कौन-सा कार्य करना सबसे महत्त्वपूर्ण है, तो वह उस किसी भी कार्य में कभी भी असफल नहीं होगा जो वह हाथ में लेगी।

Question 2.
What was the first question ? And what were the various answers given to it?
प्रथम प्रश्न क्या था? और इसके लिये दिये गये विभिन्न उत्तर क्या थे?
Answer:
The first question was how to know the right time to begin everything. The answers given to it were –

  1. One must draw up in advance a table of days, months, years for every action and must live strictly according to it.
  2. It was impossible to decide beforehand the right time.
  3. One should attend to all that was going on and then do what was most needful.
  4. We should have a council of wise men.
  5. We should consult magicians

प्रथम प्रश्न था प्रत्येक कार्य को शुरु करने के सही समय को कैसे जाना जाय। इसके लिये दिये गये उत्तर थे-

  1. प्रत्येक कार्य के लिये पहले से ही दिनों, महीनों तथा वर्षों की एक सारिणी बनानी और सख्ती से उसी के अनुसार चलना चाहिए।
  2. सही समय का पहले से पता लगाना असम्भव है।
  3. जो हो रहा है उसमें शामिल होना चाहिये और फिर जो सबसे ज्यादा जरुरी हो उसे करना चाहिए।
  4. हमें बुद्धिमान लोगों की समिति बनानी चाहिए।
  5. हमें जादूगरों से विचार-विमर्श करना चाहिए।

Word-meanings and Hindi Translation

It once occured …………………. magicians. (Page 1)

Word-meanings : occurred (अकर्ड) = सूझा, मन में आया। certain (स:टन) = किसी। avoid (अवॉइड) = टाला जाना। undertake (अण्डेंटेक) = हाथ में लेना। had it proclaimed (Causative Verb : हैड इट प्रोक्लेम्ड) = घोषणा करवा दी। teach (टीच) = समझा सके, बता सके। learned (ल:न्ड) = विद्वान। draw up (ड्रॉ अप्) = तैयार करना। beforehand (बिफ़ॉहेन्ड) = पहले से ही। lettingbe absorbed (लेटिंग-बी अब्जॉर्ड) = तल्लीन होने देना। idle (आइडल) = व्यर्थ। pastimes (पास्टाइम्ज़) = मनबहलाव। attentive (अटेन्टिव) = सावधान। council (काउन्सिल्) = समिति। laid (लेड) = पेश किया जाना। to undertake (ट अन्डॅटेक) = (किसी काम को) हाथ में लेना। in order to decide = निश्चित करने के लिए।

हिन्दी अनुवाद-किसी राजा को एक बार यह सूझा कि यदि उसे हमेशा ही प्रत्येक कार्य को शुरू करने के सही समय का पता चल जाये: यदि उसे पता चल जाये कि सनने के लिए कौन सही व्यक्ति है तथा किसे टाला जाये; और सबसे ज्यादा तो यह कि यदि उसे हमेशा ही यह पता चल जाये कि कौन-सा कार्य करना सबसे महत्त्वपूर्ण है, तो वह उस किसी भी कार्य में कभी भी असफल नहीं होगा जो वह हाथ में लेगा। और यह विचार जैसे ही उसके मन में आया, उसने अपने पूरे साम्राज्य में यह घोषणा करवा दी कि वह उस किसी भी व्यक्ति को एक बड़ा इनाम देगा जो उसे बता दे कि प्रत्येक कार्य के लिये सही समय क्या है. कौन सबसे आवश्यक व्यक्ति है, और वह कैसे जाने कि सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य क्या है। विद्वान लोग राजा के पास आये, लेकिन उन सभी ने उसके प्रश्नों के उत्तर अलग-अलग प्रकार से दिए। पहले प्रश्न के जवाब में, कुछ ने तो कहा कि प्रत्येक कार्य को करने के सही समय को जानने के लिए व्यक्ति को पहले से ही दिनों, महीनों तथा वर्षों की एक सारिणी बना लेनी चाहिये, और इसका सख्ती से अनुसरण करना चाहिये। उन्होंने कहा कि केवल इस प्रकार से ही प्रत्येक कार्य को उसके सही समय पर किया जा सकता है। दूसरों ने निश्चयपूर्वक कहा कि प्रत्येक कार्य को करने के सही समय के बारे में पहले से निर्धारित करना असम्भव है; लेकिन, अपने आप को व्यर्थ के मनबहलावों में तल्लीन न करके किसी को हमेशा ही जो हो रहा है उसमें शामिल होना चाहिये और फिर जो सबसे ज्यादा जरूरी हो उसे करना चाहिए। दूसरों ने फिर कहा कि जो कुछ भी चल रहा है उसके लिए चाहे जितना भी सावधान हो, किसी के लिए भी प्रत्येक कार्य को करने के लिए सही समय का निर्धारण करना असम्भव होता है, लेकिन यह कि उसे (राजा को) विद्वान लोगों की एक समिति रखनी चाहिये जो कि प्रत्येक चीज के लिए उपयुक्त समय का निर्धारण करने में उसकी (राजा की) मदद करे। लेकिन फिर दूसरों ने कहा कि ऐसी भी कुछ चीजें हैं जिन्हें समिति के सम्मुख रखे जाने का इंतजार नहीं किया जा सकता है, बल्कि उनके बारे में किसी को तुरन्त ही यह निश्चित करना होता है कि क्या उन्हें हाथ में लिया जाये या नहीं। लेकिन उसके बारे में निश्चित करने के लिए, किसी को भी पहले से यह ज्ञात होना चाहिये कि क्या होने वाला है। ऐसा केवल जादूगर ही जान सकते हैं; और इसलिए प्रत्येक कार्य के सही समय को जानने के लिए व्यक्ति को जादूगरों से ही विचार-विमर्श करना चाहिये।

Equally various ………………. digging. (Pages 1-2)

Word-meanings : councillors (213-461:9) = सलाहकार। priests (प्रीस्ट्स) = धर्माचार्य। warriors (वॉरिअॅज़) = योद्धा। occupation (ऑक्यपइशन) = कार्य। warfare (वॉफ़ेअर) = युद्ध। hermit (ह:मिट) = सन्यासी। widely (वाइड्लि ) = दूर-दूर तक। renowned (रिनाउन्ड) = प्रसिद्ध, विख्यात। wisdom (विज़्डम्) = ज्ञान, अक्लमंदी। quitted (क्विटिड) = छोड़ा। received none (रिसीव्ड नन) = किसी से नहीं मिलता था। common folk (कॉमन फोक) = आम नागरिक। cell (सेल) = कुटीर, मठ। dismounted (डिस्माउण्टिड) = उतरा। approached (अप्रोच्ट्) = पहुँwent on digging = खोदता ही रहा। frail (फ़ेल) = दुर्बल। stuck (स्टक्) = चुभाता। spade (स्पेड्) = फावड़ा। breathed (ब्रीदिड) = साँस लेता। rest (रेस्ट) = बाकी सभी से। affairs (अफ़ेअज़) = महत्त्वपूर्ण मामले। spat (स्पैट) = थूका। recommenced (रीकमेन्स्ट) = पुनः प्रारम्भ कर दिया।

हिन्दी अनुवाद-दूसरे प्रश्न के भी उतने ही विभिन्न उत्तर थे। कुछ ने कहा कि जिन लोगों की राजा को सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है वे होते हैं उसके सलाहकार; दूसरों के अनुसार वे धर्माचार्य होते हैं; अन्यों के अनुसार चिकित्सक होते हैं; जबकि कुछ ने तो कहा कि योद्धाओं की राजा को सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है। तीसरे प्रश्न के लिए, (कि) कौन-सा कार्य सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण होता है; कुछ ने जवाब दिया कि दुनिया में सबसे ज्यादा जरूरी चीज विज्ञान होती है। अन्यों ने कहा कि यह युद्ध कौशल होता है; और अन्यों ने फिर से कहा कि यह धार्मिक प्रार्थना होती है। सभी उत्तरों के भिन्न-भिन्न होने से राजा किसी से भी सहमत नहीं हुआ और किसी को भी पुरस्कार नहीं दिया। लेकिन अभी भी अपने प्रश्नों के सही उत्तर खोजने की कामना करते हुए, उसने एक ऐसे संन्यासी से विचार-विमर्श करने का निश्चय किया जो कि अपने ज्ञान के लिए दूर-दूर तक विख्यात था। वह संन्यासी एक जंगल में रहता था जिसे वह कभी भी नहीं छोड़ता था (उस जंगल से कभी भी बाहर नहीं जाता था।) और वह आम नागरिकों के अलावा किसी से भी नहीं मिलता था। इसलिए राजा ने साधारण कपड़े पहने, और उस संन्यासी की कुटी के पास पहुँचने से पहले अपने घोड़े से उतरा, और अपने अंगरक्षक को पीछे छोड़ते हुए अकेला ही चला गया। जब राजा पहुँचा उस समय वह संन्यासी अपनी कुटिया के सामने की भूमि को खोद रहा था। राजा को देखकर, उसने उसका अभिवादन किया और खोदता रहा। वह संन्यासी दुर्बल व कमजोर था, और हर बार जब वह भूमि में फावड़े को चुभाता (प्रहार’ करता) और फिर थोड़ी सी मिट्टी उलटता, वह जोर से साँस लेता। राजा उसके पास गया और कहा, हे बुद्धिमान संन्यासी, मैं आपके पास तीन प्रश्नों के उत्तर पूछने के लिए आया हूँ; मैं सही चीज को सही समय पर करने के लिए कैसे जानूँ? किन लोगों की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है, और इसलिए मैं बाकी सभी से ज्यादा किन पर अधिक ध्यान दूँ? और कौन से मामले सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण होते हैं और जिन पर मुझे सबसे पहले ध्यान देना चाहिये? उस संन्यासी ने राजा को सुना, लेकिन कोई जवाब नहीं दिया। उसने केवल अपने हाथ पर थूका और पुनः खुदाई करना प्रारम्भ कर दिया।

You are tired …………….. eyes (Pages 2-3)
Word-meanings : awhile (अवाइल) = थोड़ी देर के लिए। beds (बेड्ज़) = क्यारियाँ। stretched out (स्ट्रेच्ट आउट) = फैलाया। a bit (अ बिट) = थोड़ा-सा। sink (सिंक) = अस्त होना। at last (एट् लास्ट) = अंततः। stuck (स्टक) = गड़ा दिया, मारा। bearded (बिअडिड्) = दाढ़ी वाला। fainting (फ़ेन्टिंग्) = मूर्छित होते हुए। moaning (मोनिंग) = दर्द से कराहते हुए। feebly (फीब्लि) = हल्के से, अशक्त भाव से। unfastened (अन्फासन्ड्) = खोले। wound (वून्ड) = घाव। soaked (सोक्ट) = तरबतर। ceased (सीज़्ड) = रुका। revived (रिवाइव्ड्) = पुनर्जीवित हुआ। meanwhile (मीन्वाइल) = इस बीच, उस समय तक। crouched (क्राउच्ट) = सिकुड़कर बैठा। threshold (थ्रेश्होल्ड) = देहली।

हिन्दी अनुवाद-‘आप थके हुए हैं,’ उस राजा ने कहा, ‘मुझे फावड़ा लेने दो और आपके लिए थोड़ी देर काम करने दो।’ ‘धन्यवाद!’ संन्यासी ने कहा, और राजा को फावड़ा देकर वह भूमि पर बैठ गया। जब राजा ने दो क्यारियाँ खोद दी तो वह रुका और अपना प्रश्न दोहराया। उस संन्यासी ने फिर से कोई उत्तर नहीं दिया, लेकिन उठा, अपना हाथ फावड़े के लिए बढ़ाया और कहा, ‘अब थोड़ी देर विश्राम करो-और मुझे थोड़ा सा काम करने दो।’ लेकिन राजा ने उसे फावड़ा नहीं दिया, और खोदता रहा। एक घण्टा बीता, और दूसरा (घण्टा बीता)। सूर्य पेड़ों के पीछे अस्त होने लगा, और उस राजा ने अंततः फावड़े को भूमि पर मारा और कहा; ‘बुद्धिमान व्यक्ति, मैं आपके पास अपने प्रश्नों के उत्तर के लिए आया हूँ। यदि आप मुझे कोई (उत्तर) नहीं दे सकते हो तो मुझे ऐसा बता दीजिए और मैं घर लौट जाऊँगा।’ ‘कोई यहाँ दौड़ता हुआ आ रहा है?’ उस संन्यासी ने कहा, ‘चलो चलकर देखें यह कौन है?’ राजा पूरा घूमा और देखा कि एक दाढ़ी वाला व्यक्ति दौड़ते हुए जंगल से बाहर आ रहा था। उस व्यक्ति ने अपने हाथों से अपने पेट को दबा रखा था, और उनके नीचे से खून बह रहा था। जब वह राजा के पास पहुँचा तो वह हल्के से दर्द से कराहते हुए मूर्छित होते हुए भूमि पर गिर गया। राजा तथा उस संन्यासी ने उस व्यक्ति के कपड़े खोले। उसके पेट में एक बड़ा घाव था। उस राजा ने जितना अच्छा वह साफ कर सकता था उतना अच्छा उस घाव को साफ किया और अपने रूमाल तथा उस संन्यासी के पास जो एक तौलिया था उससे पटटी बाँधी। लेकिन बहता हआ खन नहीं रुका, और राजा ने बार बार गर्म खून से तरबतर पट्टियों को हटाया और साफ किया तथा घाव की पुनः पट्टी की। जब आखिरकार खून का बहना रुक गया तो वह व्यक्ति पुनर्जीवित हुआ (उसे होश आया) और उसने पीने के लिए कुछ माँगा। वह राजा ताजा पानी लाया और उसे पीने के लिए दिया। उस समय तक सूर्य अस्त हो चुका था तथा ठण्डक हो गई थी। इसलिए राजा संन्यासी की सहायता से उस घायल व्यक्ति को कुटिया में लाया और उसे बिस्तर पर लिटा दिया। बिस्तर पर लेटे हुए उस व्यक्ति ने अपनी आँखें बंद की और शांत हो गया; लेकिन वह राजा अपने चलने से और जो कार्य उसने किया उससे इतना थक गया कि वह देहली पर सिकुड़ कर बैठ गया और सो गया-इतनी गहरी नींद सोया कि गर्मी की उस छोटी सी रात भर सोया। जब वह सुबह में जागा तो बहुत देर हो गई थी जब उसे यह याद आया कि वह कहाँ था या वह दाढ़ी वाला अजनबी व्यक्ति कौन था जो कि बिस्तर पर लेटा हुआ था तथा चमकती हुई आँखों से उसकी ओर हढ़ निश्चयपूर्वक टकटकी लगाए देख रहा था।

Forgive me ………….. before him. (Page 3)

Word-meanings : forgive (फ़ॉगिव) = माफ कर दें। swore (स्वॉर्) = कसम खाई। revenge (रिवेन्ज) = बदला लेना। executed (एक्सिक्यूटिड) = मृत्युदण्ड दिया। seized (सीजूड) = छीन ली; जब्त कर ली। resolved (रिज़ॉल्व्ड) = निश्चय किया। ambush (एम्बुश) = घात लगाने का स्थान। came upon (केम अपॉन) = संयोग से मिला। should have bled to death = रक्तस्राव से मर गया होता। serve (स:व) = सेवा करना। slave (स्लेव) = गुलाम। bid (बिड्) = propose, tell, प्रस्ताव रखना, कहना। gained (गेन्ड) = प्राप्त किया। physician (फ़िज़िशन) = चिकित्सक। to attend (टु अटेन्ड) = परिचर्या करने के लिए। restore (रिस्टॉर) = लौटाना। leave (लीव) = विदा लेना। porch (पो:च) = बरामदा। sowing (सोईंग) = बो रहा।

हिन्दी अनुवाद-‘मुझे माफ कर दो!’ उस दाढ़ी वाले व्यक्ति ने कमजोर आवाज़ में कहा, जब उसने यह देखा कि राजा जाग चुका था तथा उसे देख रहा था। ‘मैं तुम्हें नहीं जानता हूँ, और ऐसी कोई बात नहीं है जिसके लिए मैं तुम्हें माफ़ करूँ।’ उस राजा ने कहा। ‘आप मुझे नहीं पहचानते हो, लेकिन मैं आपको जानता हूँ, मैं आपका वह शत्रु हूँ जिसने आपसे बदला लेने की कसम खाई थी, क्योंकि आपने मेरे भाई को मृत्युदण्ड दिया था तथा उसकी सम्पत्ति जब्त कर ली थी। मैं जानता था कि संन्यासी से मिलने के लिए आप अकेले गये हो, और मैंने आपको आपके वापसी के रास्ते में मारने का निश्चय कर लिया था। लेकिन दिन गुजर गया और आप नहीं लौटे। इसलिए मैं आपको तलाशने के लिए अपने घात लगाने के स्थान से बाहर निकला और संयोग से आपके अंगरक्षकों से मिल गया और उन्होंने मुझे पहचान लिया और मुझे घायल कर दिया। मैं उनसे बच निकला, लेकिन यदि आपने मेरे घाव की मरहम पट्टी नहीं की होती तो मैं रक्तस्राव से मर गया होता। मैंने आपको मारने की कामना की थी और आपने मेरा जीवन बचा लिया। अब, यदि मैं जीवित रहता हूँ और यदि आप यह चाहें तो, मैं आपकी आपके सबसे वफादार गुलाम की तरह से सेवा करूँगा और अपने पुत्रों से भी ऐसा ही करने को कहूँगा। मुझे क्षमा कर दो!’ वह राजा अपने शत्रु से इतनी आसानी से शांति स्थापित .करके तथा उसे मित्र के रूप में पाकर बहुत खुश था, और उसने न केवल उसे माफ कर दिया बल्कि कहा कि वह उसकी परिचर्या करने के लिए अपने नौकरों को तथा अपने स्वयं के चिकित्सक को भेजेगा, और उसकी संपत्ति लौटाने का वादा किया। उस घायल व्यक्ति से विदा लेकर वह राजा बरामदे में बाहर आया और उस संन्यासी को चारों ओर ढूंढा। जाने से पहले उसने कामना की कि जो प्रश्न उसने पूछे थे उनके एक बार फिर से उत्तर पूछे। संन्यासी बाहर अपने घुटनों पर बैठकर एक दिन पहले खोदी गई क्यारियों में बीज बो रहा था। राजा उसके पास गया और बोला; ‘बुद्धिमान व्यक्ति, अंतिम बार मैं आपसे अपने प्रश्नों का उत्तर देने की प्रार्थना करता हूँ।’ “आपको जवाब तो पहले से ही मिल चुका है!” अभी भी अपनी पतली टांगों पर सिकुड़ कर बैठे हुए और उस राजा की तरफ देखते हुए जो उसके सामने खड़ा था, संन्यासी ने कहा।

“How answered ………………… this life!” (Pages 3-4)
Word-meanings : would have repented = पछताते। good (गुड) = कल्याण। business (बिज़निस) = कार्य। attending (अटेण्डिंग) = परिचर्या करना। afterwards (आफ्टव:ड्ज़) = फिर बाद में। bound (बाउण्ड) = पट्टी बाँधी। dealings (डीलिंग्ज़) = बर्ताव।

हिन्दी अनुवाद-“कैसे उत्तर मिल गया? आपका क्या तात्पर्य है?” राजा ने पूछा। ‘आप समझे नहीं,’ उस संन्यासी ने जवाब दिया, ‘यदि कल आपने मेरी कमजोरी पर दया नहीं की होती और मेरे लिए ये क्यारियाँ नहीं खोदी होती, इसके बजाय अपने रास्ते चले गये होते तो वह व्यक्ति आप पर हमला कर देता और आप मेरे पास नहीं रुकने के लिए पछताते। इसलिए सबसे महत्त्वपूर्ण समय वह था जब आप मेरे लिए क्यारियाँ खोद रहे थे; और मैं वह सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति था; और मेरा कल्याण करना आपका सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य था। फिर, जब वह व्यक्ति भाग कर हमारे पास आया, सबसे महत्त्वपूर्ण समय वह था जब आप उसकी परिचर्या कर रहे थे, क्योंकि यदि आप उसके घावों को पट्टी नहीं करते तो वह आपसे शांति स्थापित किये बगैर ही मर जाता। इसलिए वह सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति था, और जो आपने उसके लिए किया वह आपका सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य था। तो याद रखो केवल एक ही समय होता है जो कि बहुत ही महत्त्वपूर्ण होता है (और वह होता है)-अब! यही (वर्तमान समय ही) सबसे महत्त्वपूर्ण समय होता है क्योंकि यही वह समय होता है जब हमारे पास कोई शक्ति होती है। सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति वह होता है जिसके साथ आप होते हो, क्योंकि कोई भी व्यक्ति यह नहीं जानता है कि क्या उसका किसी अन्य से कोई लेना-देना है (या नहीं), और सबसे महत्त्वपूर्ण मामला होता है, उसका कल्याण करना, क्योंकि केवल उसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए मनुष्य को इस जीवन में भेजा गया है।’?

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published.