बॉक्साइट अयस्क क्या है | उपयोग | Bauxite in Hindi

बॉक्साइट अयस्क क्या है – Bauxite in Hindi

बॉक्साइट का प्रयोग एल्यूमीनियम बनाने के लिए किया जाता है। एल्यूमीनियम एक हल्की तथा लचीली धातु है जो विद्युत तथा ऊष्मा की अच्छी चालक है।

इसलिए इसे बहुत से उद्योगों में प्रयोग किया जाता है जिससे इसकी माँग दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। एल्यूमीनियम की माँग में वृद्धि होने से बॉक्साइट की माँग में भी उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।

भारत बॉक्साइट के भण्डारों के दृष्टिकोण से धनी है। यू.एन. एफ.सी.सी.सी (United Nations Framework Convention on Climate Change) के अनुसार, 1 अप्रैल, 2005 तक भारत में 3290 मिलियन टन बाक्साइड के भंडार हैं। उड़ीसा, आध्र प्रदेश, गुजरात, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, झारखउंड तथा महाराष्ट्र बॉक्साइट के भंडारा की दृष्टि से समृद्ध राज्य हैं।

सन् 1951 में बॉक्साइट का उत्पादन केवल 68,120 टन था, जो 1994-95 में बढ़कर 4644 हजार टन तथा 2007-2008 में 23085 हजार टन हो गया। तालिका 2.13 में बॉक्साइट के उत्पादन की प्रवृत्तियाँ दशाई गईं हैं।

भारत में बॉक्साइट के मुख्य उत्पादक उड़ीसा, गुजरात, झारखंड तथा छत्तीसगढ़ हैं। महाराष्ट्र, तमिलनाड. मध्य प्रदेश, कर्नाटक तथा गोवा में भी कुछ बॉक्साइट पैदा किया जाता है। तालिका 2.14 में बॉक्साइट का वितरण दर्शाया गया है।

उड़ीसा: उड़ीसा भारत में बॉक्साइट का सबसे बड़ा उत्पादक है। सन् 2005-06 में इस राज्य में 4871 हजार टन बॉक्साइट पैदा किया गया, जो भारत के कुल उत्पादन लगभग 40 प्रतिशत था। उड़ीसा में कुल 137 करोड़ टन बॉक्साइट के भण्डार होने का अनुमान है। मुख्य भण्डार कालाहाण्डी, कोरापुट, सुन्दरगढ़, बोलगीर तथा सभलपुर जिलों में हैं।

गुजरात: गुजरात राज्य भारत का 20 प्रतिशत से अधिक बॉक्साइट पैदा करता है। यहाँ पर 8.7 करोड़ टन भण्डार होने का समान है। मुख्य उत्पादक जिले जामनगर, जूनागढ़, खेडा, कच्छ. साबरकांठा, अमरेली तथा भावनगर हैं।

झारखंड: इस राज्य में लगभग छः करोड़ टन बॉक्साइट के भंडार हैं। अधिकांश भंडार राँची, लोहारडागा, पलाऊ, गुमला तथा उसका जिलों में हैं। सबसे अधिक भण्डार लोहारडगा तथा इसके निकटवर्ती इलाकों में हैं। यहाँ पर उच्च कोटि का बॉक्साइट पाया जाता है।

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ में बिलासपुर की मैकाल पहाड़ियाँ, सरगजा जिले का पठारी भाग तथा दुर्ग एवं रायगढ़ जिले में बॉक्साइट के भण्डार मिलते हैं।

महाराष्ट्र: महाराष्ट्र में भारत का लगभग 10 प्रतिशत बॉक्साइट पैदा किया जाता है। यहाँ पर कुल भण्डार लगभग 8.75 करोड़ टन हैं। ये भण्डार कोल्हापुर, ठाणे, रत्नागिरि, सतारा तथा पुणे में पाए जाते हैं।

तमिलनाडु: यहाँ कुल 1.7 करोड़ टन सुरक्षित भण्डार हैं और भारत का 2.54 प्रतिशत बॉक्साइट यहीं पर पैदा होता है। मुख्य उत्पादक नीलगिरि, सलेम तथा मदैुरे जिले है।
उपरोक्त क्षेत्रों के अतिरिक्त आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम पूर्वी गोदावरी एवं पश्चिमी गोदावरी जिले केरल के कन्नूर कोल्लम, व तिरुवनंतपुरम जिले राजस्थान का कोटा जिल्ला, उत्तर प्रदेश के बाँदा. ललितपर व वाराणसी जिले, जम्मू-कश्मीर के जम्मू. पुंछ व ऊधमपुर जिले तथा गोवा में बॉक्साइट का उत्पादन होता है।

व्यापार: पहले भारत बॉक्साइट का निर्यात करता था। परन्तु अब देश में बॉक्साइट की माँग बहुत बढ़ गई है। इसलिए भारत निर्यात करने की स्थिति में नहीं है। अब भारत बॉक्साइट का आयात करता है। मुख्य आयात कनाड़ा, संयुक्त राज्य अमेरिका, आस्ट्रेलिया तथा कुछ यूरोपीय देशों से होता है।

हम आशा करते है कि यह नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |
आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है |

Leave a Comment

Your email address will not be published.