Class 12th Geography

ज्योमार्कोलॉजी और फिजियोग्राफी क्या होता है | Difference Between Geomorphology and Physiography in Hindi

भू-आकृति विज्ञान : अर्थ, प्रकृति व क्षेत्र: 20 वीं शताब्दी तक भू-आकृति विज्ञान को भौतिक भूगोल में ही मिश्रित माना जाता था। वारसेस्टर ने कहा है कि ‘भू-आकृति विज्ञान स्थलरूपाों (पृथ्वी पर पायी जाने वाली भू-आकृतियों) का विज्ञान है। पंरतु अपनी परिभाषा को विस्तृत करते हुए कहा कि भू-आकृति विज्ञान पृथ्वी के धरातलीय स्वरूपाों का …

ज्योमार्कोलॉजी और फिजियोग्राफी क्या होता है | Difference Between Geomorphology and Physiography in Hindi Read More »

पनामा नहर को किसने बनाया पनामा नहर कहाँ पर स्थित है | Panama Canal in Hindi

पनामा नहर : इस नहर को पनामा भूसंधि को काट कर बनाया गया है। यह प्रशांत महासागर और कैरेबियन सागर को जोड़ती है। इसके प्रशान्त तट पर पनामा तथा कैरेबियन तट पर कोलोन पत्तन अवस्थित है। यह 72 किमी लंबी नहर न्यूयार्क व सैन फ्रांसिस्कों के बीच की दूरी 13000 किमी कम कर देती है। …

पनामा नहर को किसने बनाया पनामा नहर कहाँ पर स्थित है | Panama Canal in Hindi Read More »

उच्चावच क्या है | उच्चावच के प्रकार कितने होते हैं | Relief Features Types in Hindi

उच्चावच क्या है: भू-आकृति विज्ञान का विषय क्षेत्र: भू-आकृति विज्ञान की विविध परिभाषाओं और विज्ञानों के साथ संबंधों से इसके विषय क्षेत्र की वशालता तो पता चल गई है। सामान्यतः किसी क्षेत्र विशेष या भौतिक प्रदेश की भू आकारिकी के अंर्तगत थलरूपाों के निम्नलिखित पक्षों का अध्ययन किया जाता है। (1) स्थलरूपाों की विशेषतायें: इसके …

उच्चावच क्या है | उच्चावच के प्रकार कितने होते हैं | Relief Features Types in Hindi Read More »

आकारमिति क्या है – Morphometry in Hindi | एक प्रवाह-बेसिन की जलीय आकारमिति

आकारमिति क्या है Morphometry in Hindi: इसके अन्तर्गत किसी प्रवाह-बेसिन (drainage basin) का चयन करके उसका गणितीय अध्ययन करते हैं। प्रवाह-बेसिन के विभिन्न आकारमितिक पहलुओं के अध्ययन का प्रचलन आज बड़ी तेजी से चल पडा है। प्रवाह-वेसिन जिसका आकारमितिक विश्लेषण करना है, यह आकार में छोटी-बड़ी दोनों प्रकार की हो सकती हैं। प्रायः देखा जाता …

आकारमिति क्या है – Morphometry in Hindi | एक प्रवाह-बेसिन की जलीय आकारमिति Read More »

बॉक्साइट अयस्क क्या है | उपयोग | Bauxite in Hindi

बॉक्साइट अयस्क क्या है Bauxite in Hindi बॉक्साइट का प्रयोग एल्यूमीनियम बनाने के लिए किया जाता है। एल्यूमीनियम एक हल्की तथा लचीली धातु है जो विद्युत तथा ऊष्मा की अच्छी चालक है। इसलिए इसे बहुत से उद्योगों में प्रयोग किया जाता है जिससे इसकी माँग दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। एल्यूमीनियम की माँग में …

बॉक्साइट अयस्क क्या है | उपयोग | Bauxite in Hindi Read More »

भू आकृति विज्ञान किसे कहते है | Geomorphology in Hindi

भू आकृति विज्ञान की परिभाषा: विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार की भू आकृतियों का और उनका बनने सम्बन्धी क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है उसे भू विज्ञान कहते है | अर्थात इस शाखा में भूमि पर पायी जाने वाली विभिन्न आकृतियों जैसे पहाड़ , पर्वत आदि का और ये किस प्रकार विकसित …

भू आकृति विज्ञान किसे कहते है | Geomorphology in Hindi Read More »

भूमिगत जल किसे कहते हैं | Groundwater Definition in Hindi

भूमिगत जल क्या होता है: वर्षा से प्राप्त हुए जल की कुल मात्रा का कुछ भाग भूमि द्वारा सोख लिया जाता है। इसका 60 प्रतिशत भाग मिट्टी की ऊपरी सतह तक ही पहुंचता है। यही जल कृषि उत्पादन के लिए अधिक महत्वपूर्ण है। शेष जल धरातल के नीचे प्रवेश्य स्तर तक पहुंचता है। इस जल …

भूमिगत जल किसे कहते हैं | Groundwater Definition in Hindi Read More »

नाभिकीय विकिरण | Nuclear Radiation in Hindi

विकिरण और पर्यावरण (radiation and environment): परमाणु ऊर्जा संस्थानों के कारण जो प्रदूषण फैलने की आशंका है उसके विषय में जनसाधारण का चिंतित होना स्वाभाविक है। इसका एक विशेष कारण है। प्रदूषण के जो अन्य अनेक स्रोत है , जनसाधारण अपनी ज्ञानेन्द्रियो से उनका अनुभव कर सकता है। उदाहरण , बस एवं कार और बिजलीघर …

नाभिकीय विकिरण | Nuclear Radiation in Hindi Read More »

Management of Natural Resources in Hindi | प्राकृतिक सम्पदा का प्रबन्धीकरण  

Management of Natural Resources in Hindi: जीवनयापन के लिए मानव विभिन्न प्राकृतिक संसाधनों पर निर्भर रहता है , परिणामस्वरूप मानव ने इन संसाधनों का मनमाना अंधाधुंध दोहन प्रारंभ कर दिया। इस अविवेकपूर्ण उपयोग से भौतिक सुखों में बढ़ोतरी का खतरा भी उत्पन्न हो गया है। वास्तव में मानव द्वारा प्रकृति पर अपना एकछत्र राज्य स्थापित …

Management of Natural Resources in Hindi | प्राकृतिक सम्पदा का प्रबन्धीकरण   Read More »