Desh Bhakti Mein Kaun Sa Samas Hai

Desh Bhakti Mein Kaun Sa Samas Hai – देशभक्ति में कौन सा समास है?

Desh Bhakti Mein Kaun Sa Samas Hai: हेलो स्टूडेंट्स, आज हम इस आर्टिकल में देशभक्ति में कौन सा समास है? (Desh Bhakti Mein Kaun Sa Samas Hai) के बारे में पढ़ेंगे | यह हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण टॉपिक है जिसे हर एक विद्यार्थी को जानना जरूरी है |

Desh Bhakti Mein Kaun Sa Samas Hai

देशभक्ति’ में ‘तत्पुरुष’ समास है। इसका सही समास विग्रह होगा – ‘देश की भक्ति’। यहां    हमने विद्यार्थियों की सहायता के लिए ‘तत्पुरुष’ समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण को यहाँ पर संक्षेप में समझाया है।

देशभक्ति में कौन सा समास है?

जिस सामासिक शब्द का उत्तर पद प्रधान होता है उसे तत्पुरुष समास कहते हैं। इसमें दोनों पदों के मध्य आने वाले परसर्गों (के लिए, को, से, के द्वारा, का, के, की, में, पर) का लोप हो जाता है।

जिस समस्त पद का उत्तरपद प्रधान होता है अर्थात दूसरा शब्द प्रधान होता है वहां तत्पुरुष समास माना जाता है।

तत्पुरुष समास के उदाहरण

इसे भी पढ़े: “चारू चन्द्र की चंचल किरणें” मे किस अलंकार का प्रयोग किया गया है?

  1. मूर्ति को बनाने वाला — मूर्तिकार
  2. काल को जीतने वाला — कालजयी
  3. राजा को धोखा देने वाला — राजद्रोही
  4. खुद को मारने वाला — आत्मघाती
  5. मांस को खाने वाला — मांसाहारी
  6. शाक को खाने वाला — शाकाहारी

आर्टिकल में अपने पढ़ा कि देशभक्ति में कौन सा समास प्रयोग किया गया है? हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.