डरपोक खरगोश – Hindi Learning

डरपोक खरगोश – Short Story in Hindi :

 

तुम जानते होगे कि खरगोश बड़े ही डरपोक होते हैं। एक खरगोश को अपनी डरने की आदत बहुत बुरी लगती थी। वह सोचा करता था- ‘हे भगवान, आपने मुझे इतना डरपोक क्यों बनाया।

ज़रा-सी आवाज़ हुई कि मैं डर जाता हूं। कोई प्यार करने के लिए भी हाथ बढ़ाए तो भी मैं डरकर छिप जाता हूं। क्यों हूं मैं इतना डरपोक? आखिर क्यों?’

यह भी पढ़े: नई बकरियाँ

उसने सोचा कि अ बवह डरेगा नहीं। उसने अपने-आपसे कहा, ‘मैं बहादुर हूं। मैं डरपोक नहीं हूं |’ तभी एक हल्की-सी आवाज़ हुई और खरगोश डरकर भागने लगा। आदत इतनी जल्दी ही न बदलती है।

यह भी पढ़े: जापानी नेवला

दौड़ते-दौड़ते वह एक तालाब के किनारे पहुंचा। वहाँ कुछ मेढ़क खेल रहे थे। जैसे ही उन्होंने किसी के आने की आवाज़ सुनी, वे डरकर तुरंत पानी में कूद गए।

यह भी पढ़े: श्रृगाल और ऊदबिलाव

खरगोश को तसल्ली हुई। उसने सोचा, ‘चलो कोई तो है जो मुझसे भी डरता है। इसका मतलब यह हुआ कि दुनिया में सब किसी-न-किसी से डरते हैं और जो सबसे ज्यादा ताकतवर है, वह भी ईश्वर से डरता है।

इसलिए अपने से ज्यादा ताकतवर जीव से डरना और सावधान रहना बुरी बात नहीं है।’

Leave a Comment

Your email address will not be published.