जापानी नेवला | Hindi Learning

जापानी नेवला – New Hindi Short Story :

 

जापान में एक बहुत सुंदर जगह है- नारूमी। वहाँ पर एक नदी के किनारे एक नेवला रहता था। वह नेवला नदी के पार जाकर जंगल के जानवरों को परेशान करता था।

वह सबको सताता भी रहता था। यदि किसी को चोट लग जाए तो प्यार से उसे मरहम लगाने को देता था। लेकिन यह मरहम नींबू के रस और काली मिर्च से बना होता था।

यह भी पढ़े: भूल गए शैतानी

इस कारण मरहम लगानेवाले को और ज्यादा पीड़ा होने लगती थी। नेवले को यह सब देखकर और भी मज़ा आता था। उसने एक दिन ख़रगोश के साथ ऐसा ही किया।

खरगोश ने उसी दिन सोच लिया कि वह दुष्ट नेवले को सबक जरूर सिखाएगा। और एक दिन खरगोश को एक बढ़िया उपाय सूझ गया।

यह भी पढ़े: श्रृगाल और ऊदबिलाव

उसने दो टोकरियाँ लीं, एक बड़ी और एक छोटी। बड़ी टोकरी के नीचे उसने तारकोल लगा दिया। खरगोश दानों टोकरियाँ लेकर नेवले केपास पहुंचा और उससे बोला, ‘चलो, पहाड़ी के ऊपर चलें। वहाँ बहुत मीठे आमों का एक पेड़ है। वहाँ से आम लेकर आएँगे।’

लालची नेवले ने तुरंत बड़ी वाली टोकरी उससे ले ली। खरगोश तो यही चाहता था।

यह भी पढ़े: नई बकरियाँ

पहाड़ी के ऊपर जाकर दोनों ने आमों से टोकरियाँ भर लीं। बड़ी वाली टोकरी भारी हो गई। नेवले ने भारी होने के कारण नीचे रख दी। टोकरी के नीचे तारकोल लगा हुआ था।

इसलिए टोकरी जमीन से चिपक गई। आमों से भरी टोकरी को नेवला छोड़ना नहीं चाहताा था। इसलिए उसने पूरा जोर लगाकर टोकरी उठाई। इससे उसके पंजे छिल गए।

खरगोश ने उससे कहा, ‘दोस्त, तुम्हें दर्द हो रहा होगा। ये लो दवा लगा लो।’

यह भी पढ़े: आदत से मजबूर

नेवले ने जब दवा लगाई तो दर्द से चिल्लाने लगा।

असल में यह वही नींबू और काली मिर्च का मरहम था, जो नेवला सबको दिया करता था।

नेवला परेशान होकर नदी की ओर भागा। वह नदी पार करके जल्दी अपने घर पहुंचना चाहता था।

यह भी पढ़े: पैसों का पेड़

नदी के किनारे पर दो नावें खड़ी हुई थी। एक पुरानी थी और नई चमचमाती हुई। वह तुरंत नई नाव में बैठ गया। इस नाव में एक छेद था। नाव डूबने लगी। नेवला किसी तरह नदी पार करके दूसरे किनारे तक पहुंचा। उसके छिले हुए पंजों पर मिर्च का जो मरहम था, उसका दर्द अभी तक हो रहा था। ऊपर से पानी में भीगने का कारण जख्म और ज्यादा दर्द कर रहे थे।

उस दिन नेवले को इस बात का अनुभव हुआ कि उसकी हरकतों से दूसरे जानवरों को कितनी तकलीफ होती होगी। उस दिन से उसने कान पकड़ लिए कि वह कभी किसी को नहीं सताएगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.