Variable क्या है तथा इसके प्रकार क्या है?

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज Variable क्या है के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में सी भाषा के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

वेरिएबल एक स्टोरेज एरिया होता है जिसका प्रयोग डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है. variable डेटा को contain किये रहता है जिसे प्रोग्राम execution के समय कभी भी बदला जा सकता है.

वेरिएबल को declare करने के बाद इसे एक वैल्यू दी जाती है. इस को वैल्यू बराबर के चिन्ह (=) के द्वारा दी जाती है. जैसे- x = 5; या a = 10;
कभी भी वेरिएबल का प्रयोग करने से पहले इसे declare करना पड़ता है.

उदाहरण के लिए माना कि हमें किसी छात्र का नाम तथा उसका रोल नंबर वेरिएबल में स्टोर करना है. इसके लिए हम दो variables लेते है एक वेरिएबल में छात्र का नाम स्टोर करते है जबकि दुसरे वेरिएबल में रोल नंबर स्टोर करते है.

types of variable in hindi (वेरिएबल के प्रकार):-

वेरिएबल की अपनी एक सीमा या बाउंड्री होतो है जिसके बाहर वह कार्य नहीं करता है इस सीमा को variable का scope कहते है. वेरिएबल अपने स्कोप के आधार पर दो प्रकार का होता है जो निम्नलिखित है:-

1:- global
2:- local

1:- global variable (ग्लोबल वेरिएबल):-

ग्लोबल वेरिएबल एक ऐसा वेरिएबल होता है जो कि functions के बाहर declare होता है. ग्लोबल वेरिएबल का प्रयोग सभी functions में हो सकता है.

2:- local variable (लोकल वेरिएबल):-

लोकल वेरिएबल एक वेरिएबल है जो कि function के अन्दर declare होता है. लोकल वेरिएबल का प्रयोग केवल वहां पर होता है जहाँ पर फंक्शन declare होता है.

हम आशा करते है कि यह C Language के हिंदी में नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है | आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published.