Utpreksha Alankar in Hindi

Utpreksha Alankar in Hindi – उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते है?

Utpreksha Alankar in Hindi: हेलो स्टूडेंट्स, आज हम इस आर्टिकल में उत्प्रेक्षा अलंकार क्या होता है? (Utpreksha Alankar) के बारे में पढ़ेंगे | यह हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण टॉपिक है जिसे हर एक विद्यार्थी को जानना जरूरी है |

Utpreksha Alankar in Hindi

 ऐसा अलंकार जहां पर उपमेय में उपमान की सम्भवना या कल्पना के लि गयी हो। वहां पर हमेशा उत्प्रेक्षा अलंकार होता हैं। इस अलंकार में पहचानने वाले शब्द जो है वह निम्न हैं – मनो, मानो, मनु , मनहु, जानो, जनु, जनहु , ज्यो आदि।

उत्प्रेक्षा अलंकार की परिभाषा

जहाँ उपमेय में उपमान होने की संभावना या कल्पना की जाती है, वहाँ उत्प्रेक्षा अलंकार होता है।

इसके लक्षण है- जनु, मनु, इव, मानो, मनो, मनहुँ, आदि।

पहचान – मनो, मानो, मनु, मनुह, जानो, इव, जनु, जानहु, ज्यों आदि शब्द अगर किसी अलंकार में आते है तो वह उत्प्रेक्षा अलंकार होता है।

उत्प्रेक्षा अलंकार के उदाहरण

उदाहरण – सोहत ओढ़े पीत पर, स्याम सलोने गात।

              मनहु नील मनि सैण पर, आतप परयौ प्रभात।।

उत्प्रेक्षा अलंकार के प्रकार

उत्प्रेक्षा अलंकार के मुख्य रूप से तीन प्रकार होते हैं।

  • वस्तुप्रेक्षा अलंकार
  • हेतुप्रेक्षा अलंकार
  • फलोत्प्रेक्षा अलंकार

1. वस्तुप्रेक्षा अलंकार

जिस उत्प्रेक्षा अलंकार में प्रस्तुत में अप्रस्तुत की संभावना दिखाई जाती हैं तब वहाँ पर वस्तुप्रेक्षा अलंकार होता है।

जैसे :-

”सखि सोहत गोपाल के, उर गुंजन की माल।

बाहर लसत मनो पिये, दावानल की ज्वाल।।”

2. हेतुप्रेक्षा अलंकार

इसे भी पढ़े: संधि और संयोग में क्या अंतर है?

जिस उत्प्रेक्षा अलंकार में अहेतु में हेतु की सम्भावना देखी जाती है। अथार्त वास्तविक कारण को छोडकर अन्य कारण को मान लिया जाता हैं वहाँ हेतुप्रेक्षा अलंकार होता है।

3. फलोत्प्रेक्षा अलंकार

जिस उत्प्रेक्षा अलंकार में वास्तविक फल के न होने पर भी उसी को फल मान लिया जाता है। वहाँ पर फलोत्प्रेक्षा अलंकार होता है।

जैसे :-

खंजरीर नहीं लखि परत कुछ दिन साँची बात।

बाल द्रगन सम हीन को करन मनो तप जात।।

कुछ अन्य उदाहरण :

(a) नील परिधान बीच सुकुमारि

खुल रहा था मृदुल अधखुला अंग,

खिला हों ज्यों बिजली के फूल

मेघवन बीच गुलाबी रंग।

(b) पदमावती सब सखी बुलायी।

जनु फुलवारी सबै चली आई।।

(c) सोहत ओढ़े पीत पट, स्याम सलोने गात।।

मनो नीलमणि सैल पर, आतप पर्यो प्रभात।।

Utpreksha Alankar Video

Credit: AVINASH INSTITUTE OF EDUCATION; Utpreksha Alankar

आर्टिकल में अपने पढ़ा कि  उत्प्रेक्षा अलंकार  किसे कहते हैं, हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.