UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi पत्रों के प्रकार या भेद – UP Board Guide

UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi पत्रों के प्रकार या भेद – UP Board Guide Hindi पत्रों के प्रकार या भेद are part of UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi पत्रों के प्रकार या भेद – UP Board Guide Hindi. Here we have given UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi पत्रों के प्रकार या भेद – UP Board Guide Hindi पत्रों के प्रकार या भेद.

BoardUP Board
TextbookNCERT
ClassClass 11
SubjectSamanya Hindi
Chapter Nameपत्रों के प्रकार या भेद
CategoryUP Board Solutions

UP Board Solutions for Class 11 Samanya Hindi पत्रों के प्रकार या भेद

कौन, किसको, किस विषय पर, किन परिस्थितियों में पत्र लिख रहा है, इस आधार पर पत्रों के अनेक भेद होते हैं, जिनमें से मुख्य इस प्रकार हैं—

(1) निजी/व्यक्तिगत/घरेलू या पारिवारिक पत्र—परिवार के विभिन्न सदस्यों, निकट सम्बन्धियों या घनिष्ठ मित्रों को भिन्न-भिन्न उद्देश्यों से विभिन्न अवसरों पर लिखे जाने वाले पत्र इस वर्ग में आते हैं।
(2) सामाजिक पत्र—निमन्त्रण-पत्र, बधाई-पत्र, शोक-पत्र, सान्त्वना-पत्र, परिचय-पत्र, संस्तुति-पत्र, आभार या धन्यवाद-पत्र आदि प्रायः सामाजिक सम्बन्धों के कारण लिखे जाते हैं; अतः ये सामाजिक पत्रों की श्रेणी में आते हैं।
(3) व्यापारिक या व्यावसायिक पत्र—विभिन्न व्यापारिक या औद्योगिक संस्थानों के पारस्परिक पत्र, व्यापारिक संस्थाओं की ओर से समाज के किसी व्यक्ति को और समाज के किसी व्यक्ति की ओर से व्यावसायिक संस्थाओं को लिखे गये उद्योग-व्यापार सम्बन्धी पत्र इसी श्रेणी में आते हैं।
(4) सरकारी शासकीय/प्रशासकीय या आधिकारिक पत्र–इस वर्ग में विभिन्न सरकारी कार्यालयों के पत्र आते हैं, जिनके दशाधिक उपभेद हैं।
(5) आवेदन-पत्र—किसी विशेष उद्देश्य से लिखे गये प्रार्थना-पत्र आवेदन-पत्र (Application) कहलाते हैं। प्रवेश लेने, शुल्क मुक्ति कराने, विद्यालय छोड़ने के कारण अपनी धरोहर-राशि वापस माँगने, चरित्र प्रमाणपत्र आदि लेने के लिए विद्यार्थियों द्वारा प्राचार्य को आवेदन-पत्र लिखे जाते हैं। कहीं भी नौकरी/पदोन्नति पाने, अवकाश माँगने या बैंक/बीमा निगम आदि से ऋण लेने के लिए भी आवेदन करना पड़ता है। इस प्रकार आवेदन की आवश्यकता के अनुसार इसके अनेक उपभेद भी होते हैं।
(6) शिकायती-पत्र—किसी व्यक्तिगत या सामाजिक समस्या के लिए हमें अनेक बार सम्बन्धित अधिकारियों को शिकायती पत्र लिखने पड़ते हैं।
(7) सम्पादक के नाम पत्र—वर्तमान युग में समाचार-पत्रों की भूमिका बहुत महत्त्वपूर्ण है। समस्याओं के उचित समाधान के लिए समाचार-पत्र के माध्यम से आवाज उठाना विशेष प्रभावकारी होता है; अत: समाज की विभिन्न समस्याओं के लिए सम्पादक के नाम पत्र लिखना एक विशेष कला है। सभी दैनिक समाचार-पत्रों में विभिन्न शीर्षकों से सम्पादक के नाम पत्र छपते हैं, जिससे उच्चाधिकारियों तक बात पहुँचती है और समाधान शीघ्र हो जाता है।
(8) विविध पत्र—उपर्युक्त श्रेणियों के अतिरिक्त जो पत्रे बचते हैं, उन्हें इसी वर्ग में रखा जाता है।

अच्छे पत्र के गुण

(1) सरलता—पत्र की भाषा सरल व सुबोध होनी चाहिए। जिस प्रकार सरल और निष्कपट व्यक्ति के व्यवहार का बहुत असर होता है, उसी प्रकार सरल, सुबोध पत्र भी पाठक के मन पर अत्यधिक प्रभाव डालते हैं।
(2) स्पष्टता—पत्र में अपनी बात स्पष्ट तथा विनम्रता से कहनी चाहिए, जिससे पाने वाला उसका आशय सही-सही समझ सके।
(3) संक्षिप्तता—जहाँ तक हो पत्र संक्षेप में लिखना चाहिए, पत्र में कोई ऐसी बात नहीं लिखनी चाहिए, जिससे पत्र पढ़ने में रुचि ही न रहे।
(4) शिष्टाचार—पत्रलेखक और पाने वाले के बीच में कोई-न-कोई सम्बन्ध तो होता ही है। आय और पद में बड़े व्यक्तियों को आदरपूर्वक, मित्रों को सौहार्दपूर्वक और छोटों को स्नेहपूर्वक लिखना चाहिए।
(5) केन्द्र में मुख्य विषय—औपचारिक अभिवादन के बाद सीधे मुख्य विषय पर आ जाना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.