UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 4 The Kite Maker

यहां हमने यूपी बोर्ड कक्षा 11वीं की अंग्रेजी एनसीईआरटी सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student up board solutions for Class 11 English Prose Chapter 4 The Kite Maker pdf Download करे| up board solutions for Class 11 English Prose Chapter 4 The Kite Maker notes will help you. NCERT Solutions for Class 11 English Prose Chapter 4 The Kite Maker pdf download, up board solutions for Class 11 English.

UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 4 The Kite Maker

These Solutions are part of UP Board Solutions for Class 11 English. Here we have given UP Board Solutions for Class 11 English Prose Chapter 4 The Kite Maker.

LESSON at a Glance
It is a story of an old man-Mahmood who was a kite maker. There was a time when grown ups flew kites from the maidans. There was a good deal of betting in it and money frequently changed hands. Kite-flying was then the sport of kings. Mahmood, the kite maker had been well known throughout the city in the prime of his life. At the request of the Nawab, he had once made a very special kind of kite. It consisted of a series of small, very light paper discs, trailing on a thin bamboo frame. The discs decreasing in size from head to tail gave the kite the appearance of a crawling serpent.

Yes, these were leisurely days. But the Nawab had died years ago. Kite makers, like poets once had their patrons. Mahmood, when grew old had none. The children who had bought kites from him ten years ago were now adults struggling for a living. They did not have time for the old man and his memories. Mahmood had grown old like banyan tree, his hands gnarled and twisted like the roots of the tree.

The old kite maker was sad though he still made kites for his own amusement and as playthings for his grandson, Ali. Not many people bought kites these days. Adults hated kites and children preferred movies. Moreover, there were left hardly any open spaces for flying kites.

But still he could find some happiness out of his grandson, the old man made kites for Ali. Ali was like the young mimosa planted at the end of their courtyard. Mahmood thought that in two years, both Ali and the tree would acquire the strength and confidence that are characteristics of youth.

But the old man did not live long to see his grandson grow with the young mimosa and passed away silently leaving his playful grandson in bewilderment.

पाठ का हिन्दी अनुवाद

1.An ancient banyan ……… hollowed-out cheek.

गली रामनाथ नामक सड़क पर एक पुरानी मस्जिद की दरारों में उगा हुआ एक बरगद का पुराना अकेला पेड़ था और छोटे अली की पतंग इसकी शाखाओं में फंस गई।

वह लड़का, नंगे पैर फटी हुई कमीज पहने हुए उस तंग गली के गोल पत्थरों पर दौड़ता हुआ उस स्थान पर पहुँचा जहाँ उसके दादा अपने पीछे के आँगन में धूप में सपने में ऊँघते हुए बैठे थे।

‘दादाजी !’ लड़का चिल्लाया, पतंग चली गई।

बूढ़ा आदमी झटके के साथ अपने सपने से जागा और अपना सिर उठाकर दाढ़ी दिखाई जो सफेद होती यदि उसने इसे मेहँदी की पत्तियों से लाल न रँगा होता।

उसने पूछा कि क्या डोर टूट गई, ‘मैं जानता हूँ कि पतंग की डोर वैसी नहीं है जैसी होनी चाहिए।’ ‘नहीं दादाजी, पतंग बरगद के पेड़ में फंस गई।’

वह बूढ़ा आदमी मुस्कराया, ‘मेरे बच्चे, तुम्हें अभी यह सीखना है कि ठीक प्रकार से पतंग कैसे उड़ाई जाए और मैं इतना बूढ़ा हो गया हूँ कि तुम्हें सिखा नहीं सकता, यह बड़ी दया की बात है। लेकिन तुम्हें दूसरी पतंग मिल जाएगी।’ उसने अभी-अभी बाँस, कागज और पतले सिल्क से एक नई पतंग बनाई है और यह सूखने के लिए धूप में पड़ी है। यह हल्की गुलाबी रंग की पतंग थी जिसमें एक छोटी हरी पूँछ लगी थी। बूढ़े आदमी ने यह पतंग अली को दे दी और वह लड़का अपने पंजों पर खड़ा हो गया और उसने अपने दादाजी के गड्ढेदार (पोपले) गाल चूमे।

2. I will not …. in the district.

मैं इसे नहीं खोऊँगा।” उसने कहा, “यह पतंग चिड़िया के समान उड़ेगी।”

और वह मुड़ा और कूदता हुआ आँगन से बाहर भाग गया।

बूढ़ा आदमी धूप में बैठो सपना देखता रहा। उसकी पतंग की दुकान समाप्त हो गई थी और दुकान तथा उसका सामान वर्षों पहले एक कबाड़ी को बेच दिया गया था, किन्तु अपने मनोरंजन के लिए तथा अपने पोते के लिए खिलौने के रूप में वह अब भी पतंगें बनाता था। इन दिनों बहुत अधिक लोग पतंग नहीं खरीदते थे। प्रौढ़ व्यक्ति उनसे घृणा करते थे और बच्चे अपना धन सिनेमा में खर्च करना पसन्द करते थे। इसके अतिरिक्त पतंग उड़ाने के लिए खुले स्थान बहुत कम रह गए थे। जो मैदान पुराने किले की दीवारों से नदी के किनारे तक फैले हुए थे वे नगर के बसने से समाप्त हो गए थे।

किन्तु बूढ़े आदमी को वह समय याद था जब बड़ी आयु के लोग मैदानों में पतंगें उड़ाते थे और बड़े-बड़े पेंच लड़ाते थे। पतंगें आकाश में इधर-उधर घूमती थीं और झटके से ऊपर-नीचे आती-जाती थीं। एक-दूसरे से पेंच लड़ते थे, जब तक उनमें से एक पतंग कट न जाए। फिर कटी हुई स्वतन्त्र पतंग आकाश में गायब हो जाती थी, काफी शर्ते भी लगती थीं और बार-बार धन का आदान-प्रदान होता था।

उस समय पतंग उड़ाना राजाओं का खेल था। बूढ़े व्यक्ति को याद था कि नवाब कैसे अपने सेवकों के साथ नदी के किनारे आकर इस अच्छे खेल में भाग लेता था। उन दिनों खाली समय सुन्दर नाचती हुई कागज की पट्टी अर्थात् पतंग के साथ बिताया जाता था। अब प्रत्येक व्यक्ति को जल्दी है, मशीन की तरह वह जल्दी में है और पतंग जैसी नाजुक वस्तुएँ तथा दिवा स्वप्नों को पैरों के नीचे कुचल दिया गया है।

पतंगें बनाने वाला महमूद अपने प्रारम्भिक जीवन स्तर में नगर में खूब प्रसिद्ध था। उसकी कुछ बड़ी-बड़ी पतंगें तीन या चार रुपये में बिकती थीं। एक बार नवाब की प्रार्थना पर उसने एक ऐसी विशेष पतंग बनाई जो जिले (क्षेत्र) में पहले कभी नहीं देखी गई थी।

3. It consisted of……. like the veena.

इसमें बहुत-सी छोटी हल्के कागज की डिस्कें थीं जो बाँस के एक ढाँचे से लटक रही थीं। प्रत्येक डिस्क के सिरे पर सन्तुलन बनाने के लिए उसने घास की एक टहनी बाँध दी थी। सबसे पहली डिस्क की सतह कुछ ढालदार थी। उस पर एक अद्भुत भद्दा चेहरा बना हुआ था जिसमें शीशे की दो आँखें थीं। सिर से पूँछ की ओर डिस्क का आकार घटता जा रहा था और इससे पतंग की शक्ल एक रेंगते हुए साँप जैसी बन गई। इस भारी और भद्दी योजना को जमीन से उठाने में बड़े कौशल की आवश्यकता थी और केवल महमूद ही इसका प्रबन्ध कर सकता था।

इस साँप जैसी पतंग के विषय में, जिसे महमूद ने बनाया था, लोगों ने सुन रखा था और यह खबर फैल गई कि इसमें कोई पारलौकिक शक्ति है। लोगों की भारी भीड़ मैदान में नवाब की मौजूदगी में इसकी पहली सार्वजनिक उड़ाने को देखने के लिए इकट्ठी हो गई। पहली कोशिश में यह धरती से नहीं उठी। डिस्क में ऐसी आवाज हुई मानो यह उठना नहीं चाहती और सूर्य का प्रतिबिम्ब आँखों में लगे छोटे शीशों में आ गया और पतंग शिकायत करती हुई सजीव प्राणी लगने लगी।

फिर सीधी ओर से हवा चली और साँप जैसी पतंग आकाश में ऊँची उड़ गई, ऐंठती हुई ऊपर उठ गई और सूर्य इसकी आँखों में अब भी चमक रहा था। जब यह बहुत ऊँची चली गई, तब इसने डोरी को बहुत तेजी से खींचा और महमूद के युवा पुत्रों को चरखी से उसकी सहायता करनी पड़ी, फिर भी पतंग डोरी को खींचती रही मानो इसने स्वतन्त्र होने और अपनी मौज का जीवन बिताने का निश्चय कर लिया हो।

फिर यह घटना घटी कि अचानक डोरी टूट गई। पतंग सूर्य की ओर भागने लगी, तब तक भागती रही जब तक यह दिखनी बन्द न हो गई। फिर यह कभी नहीं मिली और महमुद को बाद में यह आश्चर्य हुआ कि क्या उसने पतंग के रूप में इतनी स्पष्ट और जीवित वस्तु बनाई थी। उसने इसके समान फिर दूसरी पतंग नहीं बनाई। किन्तु इसके स्थान पर उसने नवाब को संगीत वाली पतंग भेट की जिसकी आवाज वीणा के समान थी।

4. Yes, those were ……… last leaves.

हाँ, वे दिन आराम से बिताने वाले दिन थे, लेकिन नवाब की कई वर्ष पूर्व मृत्यु हो गई थी। उसके वंशज उतने गरीब थे जितना स्वयं महमूद। एक समय कवियों के समान पतंग बनाने वालों के भी संरक्षक होते थे, महमूद का कोई नहीं था। किसी ने उससे उसके नाम अथवा व्यापार के विषय में नहीं पूछा, क्योंकि गली में और अनेक व्यक्ति थे और कोई अपने पड़ोसी के विषय में चिन्तित नहीं होता था।

जब वह युवा था और बीमार पड़ा उसके पड़ोस का प्रत्येक व्यक्ति उसके स्वास्थ्य के विषय में पूछने आता था। अब जबकि उसका अन्त निकट है कोई भी उससे मिलने नहीं आता। उसके अधिकांश पुराने साथी मर गए हैं। उसके पुत्र बड़े हो गए हैं। उनमें से एक स्थानीय गैराज में काम करता था, दूसरा पाकिस्तान में रह गया था जो वहाँ विभाजन के समय से है।

जो बच्चे उससे दस वर्ष पहले पतंग खरीदते थे अब प्रौढ़ व्यक्ति हो गए हैं और अपनी आजीविका के लिए संघर्ष कर रहे हैं। उनके पास उस बूढ़े आदमी तथा उसकी बातें याद करने का समय ही नहीं है। इस तेजी से बदलते हुए प्रतियोगिता वाले संसार में बड़े होकर उन्होंने उस पतंग वाले को उतने ही बे-मन से देखा जितना वे बरगद के पेड़ को बे-मन से देखते थे।

ये दोनों (महमूद और बरगद के पेड़) ऐसी स्थायी वस्तुएँ हो गई थीं जो उनके इर्द-गिर्द रहने वाले आम लोगों के लाभ अथवा सम्बन्ध की वस्तुएँ नहीं थीं। अब लोग उस बरगद के पेड़ के नीचे अपनी समस्याओं और योजनाओं पर विचार करने के लिए इकट्ठे नहीं होते थे। केवल गर्मियों में कुछ व्यक्ति धूप से बचने के लिए उसके नीचे बैठ जाते थे।

लेकिन फिर भी उसका एक पोता था। यह अच्छा था कि उसका पुत्र निकट ही काम करता था और वह तथा उसकी पुत्रवधू महमूद के घर में ही रहते थे। उसे यह देखकर प्रसन्नता होती थी कि वह लड़का जाड़ों में धूप में खेलता था। उसकी आँखों के सामने ही एक छोटे पौधे की परवरिश के समान ही यह युवा हुआ और प्रतिदिन फला-फूला।

वृक्षों तथा मनुष्यों में बहुत समानता है। वे एक ही रफ्तार से बढ़ते हैं यदि उन्हें हानि न पहुँचाई जाए, भूखा न रखा जाए या काटा न जाए। अपनी युवावस्था में वे आकर्षक प्राणी होते हैं और बुढ़ापे में वे थोड़ा-सा झुके हुए। वे याद रखते हैं, वे अपनी कठोर लेकिन आसानी से टूटने वाली भुजाएँ धूप में फैलाते हैं और दु:खभरी साँस के साथ अपनी अन्तिम पत्तियाँ गिराते हैं अर्थात् मर जाते हैं।

5. Mahmood was take……the blue sky.

महमूद बरगद के पेड़ के समान था। उसके हाथ पुराने पेड़ की जड़ों के समान ऐंठे हुए थे। अली एक छोटे छुईमुई के पौधे के समान था जिसे आँगन के सिरे पर लगा दिया गया हो। दो वर्ष में वह भी और यह पौधा भी शक्ति और विश्वास प्राप्त कर लेंगे जो जवानी के लक्षण हैं।

सड़क पर आवाजें और धीमी हो गईं और महमूद को आश्चर्य हुआ कि क्या वह सोने वाला और स्वप्न देखने वाला था जैसा कि वह बहुधा सुन्दर शक्तिशाली पतंग का स्वप्न देखा करता था जो हिन्दुओं के महान् सफेद पक्षी गरुड़ से मिलती-जुलती होती थी जो भगवान् विष्णु की प्रसिद्ध सवारी है।

वह छोटे अली के लिए एक अद्भुत नई पतंग बनाना चाहेगा। उसके पास लड़के को देने के लिए और कुछ, है भी तो नहीं।

उसने दूर से आती हुई अली की आवाज को सुना, किन्तु यह अनुभव नहीं किया कि लड़का बुला रहा है। आवाज बहुत दूर से आती मालूम पड़ रही थी।

अली आँगन के दरवाजे पर था और पूछ रहा था कि क्या उसकी माँ बाजार से अभी लौटी है या नहीं। जब महमूद ने उत्तर नहीं दिया तब लड़का आगे आया और उसने अपने प्रश्न को दोहराया। धूप उस व्यक्ति के सिर पर तिरछी पड़ रही थी और एक सफेद छोटी तितली उसकी लटकी हुई दाढ़ी पर बैठी हुई थी। महमूद चुप था और जब अली ने अपना छोटा भूरा हाथ बूढ़े व्यक्ति के कन्धे पर रखा तो उसे उत्तर नहीं मिला। लड़के ने इतनी धीमी आवाज सुनी जितनी उसकी जेब में पत्थरों के रगड़ने से होगी (महमूद मर गया)

अचानक डरा हुआ अली मुड़ा और दरवाजे की ओर चला और फिर अपनी माँ के लिए चिल्लाता हुआ सड़क पर दौड़ गया। बरगद के पेड़ में हवा के अचानक झोंके में उसकी फटी हुई पतंग उठ गई तथा हवा में उड़ गई और उस भारी व्यस्त नगर से दूर नीले आकाश में चली गई।

Understanding the Text

Explanations
Explain one of the following passages with reference to the context:
1. Not many people ……… river-banks.
Reference: These lines have been taken from the lesson ‘The Kite Maker’ written by Ruskin Bond.
[ N.B. : The above reference will be used for all explanations of this lesson. ]

Context : In these lines the writer describes the story of a famous kite maker Mahmood. In his young age the business of kite flying flourished but nowadays nobody takes interest in flying the kites.

Explanation : In these lines Mahmood remembers his old time. So, the writer how much interest and pleasure the people took in flying the kites. He further described that not many people bought kites these days. Adults had disdained them and children spent their money for the pictures. The fields were not more for flying kites. Most of the maidans which had stretched from the old fort walls to the river-bank were covered by the people for their residents and farming.

2. But the old man ……..changed hands.

Context : In this lesson the writer describes the story of a famous kite maker, Mahmood. His young age was full of fun and pleasure. He was the most famous kite maker. So, many people came to him. When he became old, the people had no interest in flying kite. So, he had to pass his old age sitting idle.

Explanation : In these lines Mahmood remembers the old time. So, the writer describes how much interest and pleasure the people took in flying the kite. Kite flying was the hobby of so many people. They gathered in open spaces and flew kites. There were great battles with high betting. Two rivals flew the kite. Each of them tried to tangle his kite with that of the other and to cut the string of his kite. Thus the winning rival got money.

3.The discs …… could manage it.

Context : In this lesson the writer describes the story of a famous kite maker, Mahmood. His kites were very famous and even the Nawab was very fond of flying kites.

Explanation : In these lines the writer describes a very special kind of kite which Mahmood made on the request of Nawab. It was popular by the name of ‘Dragon Kite’. In it there was a series of small, light paper discs, trailing on a thin bamboo frame. The size of the discs was not equal. The uppermost disc was the biggest and the lowest disc the smallest. Thus, the kite looked like a crawling serpent. It was so heavy and complicated that only Mahmood could fly it. In the sun light it was shining like a dragon and hence it was known as dragon kite.

4. And then it happened ……..sound like veena.

Context: The writer describes a very special kind of kite known as dragon kite made by Mahmood. The kite was very heavy and looked like a crawling serpent. In the sun-light it looked like a dragon. It was so complicated that only Mahmood could manage it. Now the dragon kite began to soar higher and higher.

Explanation : In these lines the writer explains the power of dragon kite. The kite pulled and looked as if it wanted to be free. All of a sudden the twine of the kite broke and the kite went on higher and higher and soon it disappeared forever. Mahmood also wondered on the construction and power of this kite. After this Mahmood never made such a kite. He only made a kite which produced sound like veena. He presented this kite to Nawab.

5. When he was younger ……… at the time of partition.

Context : In his early life Mahmood was known as the best kite maker. He was respected everywhere and by all. But after the death of Nawab no one took interest in kite-flying. People were busy in earning their bread and butter.

Explanation: In these lines the writer compares the life of Mahmood in his young age and old age. When Mahmood was younger, he had many friends. His well-wishers and neighbours used to come to ask about his health whenever he was sick. But now in his old age no one comes to him. Many of his friends have died. His sons also had grown up and they are also busy in their own occupations. So, Mahmood has no child to play with. Thus, his life has become deserted and he was very sad.

6. The children who ……. banyan tree.

Context: In this lesson the writer compares the youth of Mahmood with his old age. In his youth, many children came to Mahmood. Whenever he fell ill, many people came to ask for his health. But now he has grown old and nobody comes to him.

Explanation: In these lines the writer says why people do not come to him in his old age. The children who bought kites from Mahmood, have now become young. They are now busy earning their livelihood. They are facing struggles in their life. They have no time to come to Mahmood and ask for his well being. They have no attachment, affection or sympathy either with Mahmood or with the banyan tree under which they used to play in their young age.

7. Both were taken ………fierce sun.           [Imp.]

Context: Mahmood, who was a famous kite maker in his young age, has now grown old. He recalls the days of his young age when many people and children came to him to buy his kites. He had so many well-wishers also. But now many of his friends have died and children have no interest in flying kites. So, Mahmood is grieving over his old age.

Explanation : In these lines the writer makes it clear that there has been a great change in the attitude of people since Mahmood was young. Now, the people are very busy. They have no time to sit under the banyan tree for a long time to gossip and discuss their problems. Mahmood as well as the banyan tree has no importance for the common people. Both are like the things which are fixed permanently at one place and can do no good to others. Only during summer few people sit under the banyan tree to protect themselves from the heat.

8. There is a great ……. last leaves.

Context: Mahmood was a famous kite maker. But now he has become old. So, the people do not come to him so often as they used to come in his young age. Mahmood had a grandson named Ali, and he was glad to watch the boy playing and growing. under his eyes.

Explanation: In these lines the writer compares trees with men. He says that there is a great similarity between them. Both of them grow slowly if they are not hurt in any way and are supplied with proper food. When they are young, they look very bright. But as they advance in their age, they bend and become weak. In old age the limbs of men and the branches of trees become hard and can easily be broken. Ultimately they die.

9. Mahmood was like …… characteristics of youth.          [M. Imp.)

Context: Here, the writer says that trees and men both grow slowly if they are not hurt. When they are young they look very bright. But as they advance in their age, they bend and become weak. In the old age the limbs of men and the branches of the trees become hard and can easily be broken.

Explanation : Mahmood has become very old and Ali is very young. So, the writer makes a comparison between Mahmood and banyan tree and Ali and mimosa. He says that the twisted hands of Mahmood are like the roots of banyan tree. Ali is like a young mimosa plant and he will get strength and confindence as he grows. These are the characteristics of youth.

10. Suddenly afraid…….. into the blue sky.                       [Imp.]

Context: Mahmood was feeling sleepy and dreamy as usual. But in reality the end of his life had approached nearer. He could not hear even the question of his son Ali and he was quite silent. Ali put his small hand on Mahmood’s soldier and heard only a faint sound like rubbing of marbles.

Explanation : Ali was afraid when Mahmood did not answer, he ran into the street crying for his mother. The writer ends the story hereby saying that a sudden gust of wind came and lifted the torn kite from the tree and carried it away into the sky far from the noisy city. This description resembles the liberation of soul from torn and worn out body and its final journey to Heaven.

Short Answer Type Questions

Answer the following questions in not more than 30 words :

Question 1.
How did Ali lose his kite?
(अली ने अपनी पतंग कैसे खो दी ?)
Answer:
Ali’s kite was caught in the branches of a banyan tree.
(अली की पतंग एक बरगद के पेड़ की शाखाओं में फंस गई थी।)

Question 2.
What complaint did Ali make to his grandfather in the lesson ‘The Kite Maker ?
(The Kite Maker’ नामक पाठ में अली ने अपने दादा से क्या शिकायत की ?)
Answer:
Ali’s grandfather made a kite for him which was caught in the branches of a banyan tree. Ali complained to his grandfather that his kite was stuck in the banyan tree.
(अली के दादा ने उसके लिए एक पतंग बनाई थी जो एक बरगद के पेड़ की शाखाओं में फंस गई थी। अली ने अपने दादा जी से शिकायत की कि उसकी पतंग बरगद के पेड़ में अटक गई है।)

Question 3.
What did the old man say when he heard that Ali had lost his kite ?
(जब बूढ़े आदमी को पता लगा कि अली की पतंग खो गई है, तब उसने क्या कहा ?)
Answer:
When the old man heard that Ali had lost his kite, he told Ali that he had yet to learn how to fly a kite.
(जबे बूढ़े व्यक्ति को पता लगा कि अली की पतंग खो गई है, तब उसने अली को केवल यह कहा कि उसे अभी सीखना है कि पतंग कैसे उड़ाई जाए।)

Question 4.
Could Ali get another kite from his grandfather? what was it like ?
(क्या अली अपने दादाजी से दूसरी पतंग प्राप्त कर सका ? यह किसके समान थी ?)
Answer:
Yes, Ali could get another kite from his grandfather. It was a pink kite with a small green snake like tail.
(हाँ, अली को अपने दादाजी से दूसरी पतंग मिल गई। यह एक गुलाबी पतंग थी जिसमें एक छोटी हरी पूँछ थी और यह एक साँप के समान थी।)

Question 5.
Why did the little boy kiss his grandfather and what promise did he make to him ?
(छोटे लड़के ने अपने दादा को क्यों चूमा और उससे क्या वायदा किया ?)
Answer:
Ali got a new kite from his grandfather. So, he kissed him. He promised that he would not lose it.
(अली को अपने दादाजी से एक नई पतंग मिल गई। इसलिए उसने उन्हें चूमा। उसने वायदा किया कि वह उसे खोएगा नहीं।)

Question 6.
Why did the old man continue to make kites even when his shop was no longer there ?
(बूढ़े आदमी ने पतंग बनाना क्यों जारी रखा जबकि उसकी दुकान भी समाप्त हो गई थी ?)
Answer:
The old man continued to make kites for his own amusement and as playthings for his grandson.
(बूढ़े आदमी ने अपने मनोरंजन के लिए तथा अपने पोते के खेलने के लिए पतंग बनाना जारी रखा।)

Question 7.
why did many people not buy kites ?
(बहुत से आदमी पतंग क्यों नहीं खरीदते थे ?)
Answer:
The grown up people had no time for flying kites. They hated it. The children spent money on seeing films. So, many people did not buy the kites.
(बड़ी आयु के लोगों के पास पतंग उड़ाने का समय नहीं था। वे इससे घृणा करते थे। बच्चे अपना धन फिल्म देखने में खर्च करते थे। इसलिए, अधिकांश व्यक्ति पतंगें नहीं खरीदते थे।)

Question 8.
How were the great battles fought in kite-flying?
(पतंग उड़ाने में बड़ी-बड़ी लड़ाइयाँ कैसे लड़ी जाती थीं ?)
Answer:
There were at least two rivals. Each of them tried to tangle his kite with the other. The man who could cut the string of another’s kite was the winner. There was a lot of betting also in it.
(दो प्रतिद्वन्द्वी होते थे। उनमें से प्रत्येक दूसरे की पतंग में पेंच लड़ाने की कोशिश करता था। वह व्यक्ति जो दूसरे की पतंग की डोरी काट देता था वह जीतता था। इसमें काफी बड़ी शर्त भी लगती थी।)

Question 9.
What time did the old man remember ? Give some of the peculiarities of the time he remembered.
(बूढ़े व्यक्ति को कौन-सा समय याद था ? जो समय उसे याद था उसकी कुछ विशेषताएँ बताइए।)
Answer:
The old man remembered the days of Nawab. The people were very fond of flying kites. Great battles with betting were fought in kite flying.
(बूढ़े व्यक्ति को नवाब के दिन याद थे। उस समय लोग पतंग उड़ाने के शौकीन थे। शर्त के साथ पतंग उड़ाने की लड़ाइयाँ लड़ी जाती थीं।)

Question 10.
who was Mahmood why was he popular throughout the city?
(महमूद कौन था ? वह पूरे नगर में क्यों प्रसिद्ध था ?)
Answer:
Mahmood was a kite maker. He was popular throughout the city for good and pretty kite making.
(महमूद पतंग बनाने वाला था। वह अच्छी और सुन्दर पतंग बनाने के लिए पूरे नगर में प्रसिद्ध था।)

Question 11.
Describe the special features of the kite Mahmood had once made at the request of the Nawab.
(उस पतंग की कुछ विशेषताएँ बताइए जो महमूद ने नवाब की प्रार्थना पर बनाई थी।)
Or
Describe the characteristic features of the ‘dragon kite’made by Mahmood.
(महमूद के द्वारा बनाई गई ड्रेगन पतंग की कुछ विशेषताएँ लिखिए।)
Answer:
Dragon kite was a clumsy plan. This kite was like a crawling serpent. It had some coloured discs, a fantastic painted face and two eyes made of mirror. A small twig was tied to it to keep it balanced.
(यह एक भद्दी योजना थी। यह पतंग एक रेंगते हुए साँप के समान थी। इसमें कुछ रंगीन डिस्कें थीं, एक अद्भुत चेहरा जिसमें दो शीशे की आँखें लगी थीं, पेण्ट हो रहा था। इसे सन्तुलित रखने के लिए घास की टहनी इससे बँधी हुई थीं।)

Question 12.
why was the name ‘dragon kite given to the kite that Mahmood had made for the Nawab ?
(जो पतंग महमूद ने नवाब के लिए बनाई उसका नाम ड्रेगन पतंग क्यों पड़ा ?)
Answer:
The kite made for the Nawab was like a moving serpent. So it was given the name of dragon kite’.
(जो पतंग नवाब के लिए बनाई गई थी वह एक उड़ते हुए साँप के समान थी। इसलिए उसका नाम ड्रेगन पतंग पड़ गया था।)

Question 13.
Did the dragon kite’ really possess supernatural power ? Was it a success or a failure ? Give the details to justify your answer.
(क्या ड्रेगन पतंग में वास्तव में अलौकिक शक्ति थी ? क्या वह सफल हुई या असफल ? विस्तार से अपने उत्तर की पुष्टि कीजिए।)
Answer:
The ‘dragon kite’ did not possess supernatural power. It was too heavy to fly and to be controlled. So it was a failure.
(ड्रेगन पतंग’ में अलौकिक शक्ति नहीं थी। यह इतनी भारी थी कि न तो इसे उड़ाया जा सकता था और न नियन्त्रित किया जा सकता था। इसलिए यह असफल रही।)

Question 14.
What happened finally to the ‘dragon kite’ ?
(अन्त में ड्रेगन पतंग का क्या हुआ ?)
Answer:
In the end dragon kite pulled off the string and vanished into the sky.
(अन्त में ड्रेगन पतंग की डोरी टूट गई और यह आकाश में अदृश्य हो गई।)

Question 15.
What was the other kite like which Mahmood presented to Nawab ? Why did he not make another kite like the ‘dragon kite’?
(दूसरी पतंग जो महमूद ने नवाब को भेंट की किसके समान थी ? उसने ड्रेगन पतंग जैसी दूसरी पतंग क्यों नहीं बनाई ?)
Answer:
The other kite which Mahmood presented to Nawab was a musical kite. It made a sound like the Veena. Dragon kite was not a success. So, he did not make another kite like this.
(दूसरी पतंग जो महमूद ने नवाब को उपहार में दी, वह संगीत वाली पतंग थी जिसमें वीणा की-सी आवाज निकलती थी। ड्रेगन पतंग सफल नहीं हुई। इस कारण उसने उस जैसी दूसरी पतंग नहीं बनाई।)

Question 16.
What differences does the writer describe between the days when Mahmood was young and now when he was old ?
(लेखक महमूद की युवावस्था तथा बुढ़ापे के समय के बीच अन्तर का क्या वर्णन करता है ?)
Answer:
Those were the days of leisure, fun and kite flying, Mahmood was respected. But now in his old age people have no leisure, no fun and no kite flying. Mahmood is also not respected.
(वे फुरसत, प्रसन्नता एवं पतंग उड़ाने के दिन थे। महमूद को सम्मान किया जाता था। किन्तु अब बुढ़ापे में लोगों को न फुरसत है, न हँसी मजाक है और न पतंग उड़ाना। महमूद का सम्मान भी नहीं होता है।)

Question 17.
Why did no one visit Mahmood now when he was old and his life was coming to an end?
(अब महमूद के पास कोई भी व्यक्ति क्यों नहीं आता जबकि वह बूढ़ा हो गया है और उसके जीवन का अन्त होने वाला है ?)
Answer:
Now the people had no interest in flying kites. Mahmood had closed down his shop also. Most of his old friends had died. So, no one visited Mahmood.
(अब लोगों को पतंग उड़ाने में रुचि नहीं थी। महमूद ने अपनी दुकान भी बन्द कर दी थी। उसके अधिकांश मित्र मर चुके थे। इसलिए महमूद से मिलने कोई नहीं आता था।)

Question 18.
What sort of attitude did people have for the old kite-maker ? Give reasons which contributed to that indifference
(बूढ़े पतंग बनाने वाले के प्रति लोगों का किस प्रकार का व्यवहार था? इस अरुचि के कारण बताइए।)
Answer:
The people had an attitude of indifference for the old man. They had no interest in flying the kite. Moreover, all were busy in their business.
(लोगों के व्यवहार बूढ़े के प्रति अरुचिकर थे। लोगों को पतंग उड़ाने में रुचि नहीं थी। इसके अतिरिक्त सभी अपने व्यापार में व्यस्त थे।)

Question 19.
What was that which gave some relief to the kite-maker now when he was old and people hardly visited him ?
(वह कौन-सी बात थी जिसने पतंग बनाने वाले को कुछ आराम दिया, जब वह बूढ़ा हो गया था और लोग मुश्किल से ही उससे मिलने आते थे ?)
Or
What was the source of Mahmood’s happiness in his old age ?
(बुढ़ापे में महमूद की खुशी का क्या स्रोत था?)
Answer:
Past memories of his life and his little grandson Ali gave him some relief when he was old.
(जब वह बूढ़ा हो गया था, उसके जीवन की पुरानी यादें और उसका छोटा पोता अली उसे कुछ आराम देते थे।)

Question 20.
In what way does the writer compare men with trees ?
(लेखक मनुष्य और वृक्षों की तुलना किस प्रकार करता है ?)
Or
How does the writer, Ruskin Bond, show that there is a great affinity between trees and men ?
(लेखक, रस्किन बॉण्ड, किस प्रकार यह प्रदर्शित करता है कि वृक्षों तथा मनुष्यों में बहुत समानता है ?)
Or
What is common between men and trees ?
(मनुष्यों और वृक्षों में क्या समानता है?)
Answer:
The writer says that both, men and trees, grow at the same pace if they are not hurt or starved. In their young age both look charming and active. In their old age both stoop a little, grow weak and die.
(लेखक कहता है कि मनुष्य और वृक्ष दोनों ही एक रफ्तार से बढ़ते हैं यदि उन्हें हानि न पहुँचाई जाए और भूखा न मारा जाए। अपनी युवावस्था में दोनों सुन्दर और चुस्त दिखाई देते हैं। बुढ़ापे में दोनों थोड़े-से झुक जाते हैं और मर जाते हैं।)

Question 21.
The writer describes Mahmood and Ali in two different ways. Can you find out what they are and how rightly they describe the two characters ?
(लेखक महमूद और अली का दो भिन्न ढंग से वर्णन करता है। क्या आप बता सकते हैं कि वे क्या हैं। और कितनी अच्छी प्रकार से वे दोनों पात्रों का वर्णन करते हैं ?)
Answer:
The writer compares Mahmood to a banyan tree and his twisted hands to the roots of banyan. Ali is described as a young mimosa plant. He will get strength and confidence as he grows.
(लेखक महमूद की तुलना बरगद के पेड़ से और उसकी ऐंठी हुई भुजाओं की तुलना बरगद की जड़ों से करता है। इसी प्रकार वह अली को छोटा छुई-मुई का पौधा बताता है। वह ज्यों-ज्यों बढ़ेगा त्यों-त्यों शक्ति और विश्वास प्राप्त कर लेगा।)

Question 22.
Could Mahmood realise before hand that he was soon going to die ? What facts in the story give you this idea ?
(क्या महमूद ने पहले से यह अनुभव कर लिया था कि वह शीघ्र ही मर जाएगा ? कहानी में कौन-से तथ्य आपको ऐसा बताते हैं ?)
Answer:
Yes, Mahmood could realise before hand that he was soon going to die. He dreamt that his kite resembled Garuda, the steed of Hindu God Vishnu.
(हाँ, महमूद को पहले से आभास हो गया था कि वह जल्दी ही मर जाएगा। उसने सपना देखा कि उसकी पतंग गरुड़ के समान है जो विष्णु भगवान् की सवारी है।)

Question 23.
What happened to the torn kite in the banyan tree ? Why does the writer end the story with this description ?
(बरगद के पेड़ में फटी हुई पतंग का क्या हुआ ? लेखक ने कहानी का अन्त इस वर्णन के साथ क्यों किया ?)
Answer:
The torn kite in the banyan tree was blown away in the sky by a gust of wind and disappeared. In the same way Mahmood also left for his heavenly abode. So, the writer also ends the story with this description.
(बरगद के पेड़ में फटी हुई पतंग को हवा का झोंका आकाश में उड़ाकर ले गया और पतंग गायब हो गई। इसी प्रकार महमूद भी स्वर्ग सिधार गया। इसी कारण लेखक ने भी इस कहानी का अन्त यहीं कर दिया।)

Question 24.
What is the feeling created in us by this story?
(इस कहानी से हमारे मन में क्या भावना उत्पन्न होती है ?)
Answer:
By this story the feeling of pathos and sympathy for Mahmood is created in us. Moreover, we feel that man also is like a kite to fly away forever at any time.
(इस कहानी से हमारे मन में महमूद के प्रति दुःख और सहानुभूति की भावना पैदा होती है। इसके अतिरिक्त हम यह भी अनुभव करते हैं कि मनुष्य भी. एक पतंग के समान है जो किसी भी समय इस संसार से जा सकता है और फिर कभी नहीं आएगा।)

Question 25.
what made Mahmood happy and enthusiastic in his youth ?
(कौन-सी बात ने महमूद को उसकी युवावस्था में प्रसन्न और उत्साही बनाया ?)
Answer:
The popularity of Mahmood as a kite maker made him happy and enthusiastic in his youth.
(पतंग निर्माता के रूप में महमूद की प्रसिद्धि ने उसे युवावस्था में प्रसन्न और उत्साही बना दिया।)

Vocabulary

Choose the most appropriate word or phrase that best completes the sentence:

1. The discs, decreasing in size from head to tail, gave the kite the appearance of a crawling
(a) monkey
(b) serpent
(c) ant
(d) worm
Answers:
(b) serpent

2. A large crowd ……. on the maidan to watch its first public launching in the presence of the Nawab.
(a) gathered
(b) collected
(c) stood
(d) assembled
Answers:
(a) gathered

3. When he was younger, and had fallen sick, everyone in the neighbourhood had come to ask after his (a) health
(b) wealth
(c) well-being
(d) treatment
Answers:
(a) health

4. No longer did people gather under the banyan tree to….. their problems and their plans.
(a) discuss
(b) argue
(c) solve
(d) sort out
Answers:
(a) discuss

5. It was good that his son worked close by, and he and the daughter-in-law could live in …
(a) Nawab’s house
(b) their own house
(c) Mahmood’s house
(d) a rented house
Answers:
(c) Mahmood’s house

6. There is a great affinity….. trees and men.
(a) in
(b) with
(c) among
(d) between
Answers:
(d) between

7. In two years both he and the tree would acquire the strength and …. that are characteristics of youth.
(a) power
(b) confidence
(c) satisfaction
(d) prosperity
Answers:
(b) confidence

8. The boy heard a ….. sound, like the rubbing of marbles in his pocket.
(a) dim
(b) faint
(c) slow
(d) high
Answers:
(b) faint

9. Mahmood ……..a wonderful kite.
(a) made
(b) manufactured
(c) prepared
(d) constructed
Answers:
(a) made

10. Moreover, there were few open ….. left for flying kites.
(a) spaces
(b) regions
(c) rivers
(d) valleys
Answers:
(a) spaces

11. The old man remained …….in the sun.
(a) drinking
(b) dressing
(c) drifting
(d) dreaming
Answers:
(d) dreaming

12. In those days there was time to spend an …… hour with a gay, dancing strip of paper.
(a) busy
(b) in ept
(c) cheerful
(d) idle
Answers:
(d) idle

13. Suddenly afraid, Ali turned and moved to the door, and then ran down the street…… his mother.
(a) speaking about
(b) shouting for
(c) telling for
(d) calling
Answers:
(b) shouting for

14. The twine ……. the kite-leapt away towards the sun.
(a) cracked
(b) smashed
(c) lapsed
(d) snapped
Answers:
(c) lapsed

15. Mahmood had been well-known throughout the city in the ….. of his life
(a) early
(b) late
(c) prime
(d) old
Answers:
(c) prime

————————————————————

All Chapter UP Board Solutions For Class 11 English

All Subject UP Board Solutions For Class 11 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह UP Board Class 11 English NCERT Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन नोट्स से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *