UP Board Solutions for Class 10 Social Science Chapter 10 देश की सीमाएँ एवं सुरक्षा-व्यवस्था (अनुभाग – दो)

यहां हमने यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं की सामाजिक विज्ञान एनसीईआरटी सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student up board solutions for Class 10 Social Science Chapter 10 देश की सीमाएँ एवं सुरक्षा-व्यवस्था (अनुभाग – दो) pdf Download करे| up board solutions for Class 10 Social Science Chapter 10 देश की सीमाएँ एवं सुरक्षा-व्यवस्था (अनुभाग – दो) notes will help you. NCERT Solutions for Class 10 Social Science Chapter 10 देश की सीमाएँ एवं सुरक्षा-व्यवस्था (अनुभाग – दो) pdf download, up board solutions for Class 10 social science.

UP Board Solutions for Class 10 Social Science Chapter 10 देश की सीमाएँ एवं सुरक्षा-व्यवस्था (अनुभाग – दो)

विस्तृत उत्तरीय प्रज

प्रश्न 1.
भारतीय सेना का विस्तारपूर्वक वर्गीकरण कीजिए। भारतीय सेना के तीनों अंगों का वर्णन कीजिए। [2006]
            या
भारतीय सेना की तीनों शाखाओं का उल्लेख कीजिए। इनके मुख्यालय कहाँ स्थित हैं? [2009]
            या
भारतीय थल सेना का संक्षिप्त विवरण दीजिए। [2010]
            या
भारतीय थल सेना का संक्षिप्त विवरण दीजिए। [2010]
या
भारतीय सैन्य संगठन का संक्षिप्त विवरण दीजिए। [2011]
उत्तर :

भारतीय सेना के तीनों अंगों का परिचय

विशाल और, शक्तिशाली भारतीय सेना के तीन प्रमुख अंग हैं-

  • थल सेना,
  • जल सेना (नौ-सेना) और
  • वायु सेना। भारतीय सेनाओं का प्रधान सेनापति राष्ट्रपति होता है। इन तीनों अंगों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है|

1. थल सेना- भारत की थल सेना लगभग 15 लाख है। इसका मुख्य कार्यालय नयी दिल्ली में है।
इसके सर्वोच्च अधिकारी को स्थल सेनाध्यक्ष (जनरल) कहते हैं। भारतीय सेना 6 कमाण्डों में बँटी है-पश्चिम, पूर्वी, उत्तरी, दक्षिणी, दक्षिणी-पश्चिमी तथा केन्द्रीय। प्रत्येक कमाण्ड का सर्वोच्च अधिकारी जनरल कमाण्डिग-इन-चीफ कहलाता है। प्रत्येक कमाण्ड एरिया, इण्डिपेण्डेण्ट सब-एरिया और सेब-एरिया में विभाजित है, जिसका प्रधान क्रमश: एक मेजर, जनरल और ब्रिगेडियर होता है। थल सेना में कई प्रकार की सेनाएँ सम्मिलित हैं। इनमें इन्फेण्ट्री, बख्तरबन्द कोर, तोपखाना रेजीमेण्ट, इंजीनियरिंग कोर, सिग्नल कोर, आर्मी सेना कोर, आर्मी ऑर्डिनेन्स कोर, आर्मी डेण्टल कोर, इलेक्ट्रिकल तथा मेकैनिकल कोर, सेना शिक्षा कोर आदि सम्मिलित हैं। भारतीय थल सेना नवीनतम युद्ध कला तथा आधुनिकतम अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित है और हर समय शत्रु का सामना करने में
सक्षम है।

2. नौ-सेना- 
भारत की नौ-सेना का सर्वोच्च अधिकारी नौ-सेनाध्यक्ष कहलाता है। इसका मुख्यालय , नयी दिल्ली में है। हमारी नौ-सेना तीन कमानों में विभाजित है। नौ-सेना के पास दो विशाल बेड़े हैं। इसकी तीन प्रमुख कमानें हैं—

  1. पश्चिमी नौ-सेना कमान,
  2. पूर्वी नौ-सेना कमान तथा
  3. दक्षिणी नौ-सेना कमान। पश्चिमी कमान का कार्यालय मुम्बई में, पूर्वी कमान का विशाखापत्तनम् में तथा दक्षिणी कमान को कार्यालय कोचीन में है। प्रत्येक कमान का अधिकारी फ्लैग ऑफिसर कमाण्डिग-इन-चीफ होता है। नौ-सेना के दोनों बेड़ों में वायुयान वाहक विक्रान्त, क्रूजर, राजपूत और लड़ाकू अवरोधक भी हैं। इसके पास आधुनिकतम पनडुब्बियाँ, विमान भेदी रणपोत तथा गश्ती नौकाएँ हैं। इनके अलावा सर्वे वाले पोत, सर्वे वाली नावें, फ्लीट टैंकर तथा मूविंग पोतों जैसे सहायक पोत हैं। बंगाल की खाड़ी के द्वीपों की रक्षा के लिए पोर्ट ब्लेयर में नौ-सेना का संगठन कार्यरत है। तीन मिसाइल वाली पोतों के आ जाने से भारत की नौ-सेना की कार्यकुशलता अत्यधिक बढ़ गयी है।

3. वायु सेना- वायु सेना का सर्वोच्च अधिकारी वायु सेनाध्यक्ष कहलाता है। इसका मुख्यालय नयी दिल्ली में है। वायु सेना के पाँच लड़ाकू और दो समर्थन देने वाले कमाण्ड हैं–पश्चिमी कमाण्ड, पूवी कमाण्ड, दक्षिणी कमाण्ड, मध्य कनाड, दक्षिणी-पश्चिमी कमाण्ड, प्रशिक्षण कमाण्ड और रख-रखाव कमाण्ड अश्रु सेना के बेड़े में 45 स्क्वाड्रन हैं। प्रत्येक स्क्वाड्रन का अधिकारी स्क्वाड्रन लीडर कहलाता है। प्रत्येक स्क्वाड्रन में नाना प्रकार के लड़ाकू विमान, बमवर्षक तथा यातायात के विमान होते हैं। भारतीय वायु सेना कैनबरा, हंटर, नेट, अजीत, चेतकं, मिग-21, मिग-23, मिग-25, मिग-29, एन-7, एन-32, 11-76, एम० आई०-8 और मिराज-2000 आदि विमानों से सुसज्जित है। इसके पास जगुआर लड़ाकू तथा बमवर्षक व लड़ाकू अवरोधक जैसे विमान भी हैं। भारतीय वायु सेना युद्ध के समय थल सेना के साथ युद्ध भूमि में कार्यरत रहती है।

भारत सरकार का ध्यान देश की सुरक्षा की ओर विशेष रूप से रहता है। अतः इसके द्वारा मुख्य सेना के तीनों अंगों के अतिरिक्त अन्य अनेक सैनिक व अर्द्ध-सैनिक बलों की भी स्थापना की गयी है; उदाहरणार्थ-सीमा सुरक्षा बल (B.S.F), केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (C.I.S.E), केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल (C.R.PE), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (I.T.B.P), सशस्त्र सीमा बल (S.S.B.) आदि। ये सैनिक संगठन भारतीय सुरक्षा के कार्यों में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

प्रश्न 2.
भारत की सुरक्षा तैयारी पर एक निबन्ध लिखिए।
या
“भारतीय सशस्त्र सेना शत्रुओं को पराजित करने में सक्षम है।” इस कथन की पुष्टि में दो तर्क दीजिए।
उत्तर :

भारत की सुरक्षा तैयारी

भारत एक विशाल देश है। इसकी विस्तृत सीमाएँ 22,000 किमी से भी अधिक लम्बी हैं। दुर्भाग्य से सभी सीमाओं के पार शत्रु राष्ट्र भी हैं। विश्व के अन्य बहुत-से राष्ट्र भी भारत से द्वेष रखते हैं; अत: भारत अपनी सुरक्षा की तैयारी में विशेष रूप से संलग्न रहता है। भारत की सुरक्षा की तैयारी के सन्दर्भ में निम्नलिखित तर्क दिये जा सकते हैं

1. राष्ट्रीय स्तर पर सुरक्षा की भावना का विकास- भारत की जनता राष्ट्रप्रेम की भावना से ओत-प्रोत है। सरकार और सामाजिक कल्याण से सम्बन्धित संस्थाओं के द्वारा भी जनता में राष्ट्रीय स्तर पर सुरक्षा की भावना जगाने के प्रयास किये जाते हैं। फलस्वरूप भारतीयों में सुरक्षा की भावना का उत्तरोत्तर विकास हुआ है। बाह्य आक्रमण होने पर अब सम्पूर्ण भारतवासी एकजुट होकर शत्रु के दमन में लग जाते हैं।

2. आर्थिक और औद्योगिक विकास– 
सुरक्षा के लिए पर्याप्त धन की आवश्यकता होती है तथा औद्योगिक विकास के आधार पर ही सुरक्षा के संसाधनों को जुटाया जा सकता है। इसलिए सुरक्षा के कार्यों की पूर्ति हेतु हमारी सरकार ने देश के आर्थिक और औद्योगिक विकास पर विशेष ध्यान दिया है। तथा रक्षा-बजट में वृद्धि कर सुरक्षा को सुदृढ़ किया है।


3. खाद्यान्नों की उपज में वृद्धि और भण्डारण की व्यवस्था- 
युद्धकाल में आवश्यक वस्तुओं, विशेषतः खाद्यान्नों की बहुत अधिक आवश्यकता होती है; अतः खाद्यान्नों और अन्य वस्तुओं के उत्पादन तथा भण्डारण की समुचित व्यवस्था की ओर भारत सरकार ने विशेष ध्यान दिया है। इससे सुरक्षा की तैयारियों में विशेष सहायता मिली है।

4. रक्षा-उत्पादों में आत्मनिर्भरता- 
रक्षा-उत्पादों में भारत सरकार ने आत्मनिर्भर होने के लिए विशेष प्रयास किये हैं। देशभर में लगभग 33 ऑर्डिनेन्स फैक्ट्रियाँ हैं, जो विविध रक्षा-उत्पादों का निर्माण कर रही हैं। इनमें लगभग दो लाख व्यक्ति कार्यरत हैं। अब उन हजारों वस्तुओं का उत्पादन भारत में ही
होने लगा है, जो पहले विदेशों से मँगाई जाती थीं।

5. अनुसन्धान और विकास- 
रक्षा-उत्पादनों में तेजी लाने और उनकी गुणवत्ता में सुधार करने के लिए रक्षा मन्त्रालय के अधीन 7 मई, 1980 ई० को ‘रक्षा अनुसन्धान एवं विकास संगठन’ के नाम से एक नया विभाग बनाया गया। यह विभाग रक्षा-उत्पादों के लिए नये अनुसन्धान कर सुरक्षा की तैयारी की दिशा में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

6. सैन्य प्रशिक्षण– 
भारत में सैन्य प्रशिक्षण की ओर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। सरकार ने योग्य सैनिकों की भर्ती करने तथा उनको उत्कृष्ट प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए विभिन्न नगरों में सैनिको के समुचित प्रशिक्षण के लिए अनेक सैनिक प्रशिक्षण केन्द्र और प्रशिक्षणशालाएँ स्थापित की हैं। ये सैनिक प्रशिक्षण केन्द्र योग्य, सक्षम एवं कुशल सैनिक अधिकारियों को तैयार करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।


7. नागरिक सुरक्षा प्रशिक्षण- 
युद्धकाल में आक्रमण के समय नागरिक किस प्रकार अपनी सुरक्षा करें, इसके लिए सरकार विभिन्न प्रचार केन्द्रों के माध्यम से नागरिकों को प्रशिक्षण देती है। आन्तरिक सुरक्षा की तैयारी की दृष्टि से यह भी एक प्रशंसनीय कार्य है।

8. सेना का विकास और आधुनिकीकरण –
सुरक्षा की तैयारी हेतु दिन-प्रतिदिन सभी प्रकार की सेनाओं का अनवरत रूप से विकास और सभी दृष्टियों से आधुनिकीकरण भी किया जा रहा है। अत्याधुनिक अस्त्र-शस्त्रों और अन्य युद्ध-सामग्री से सेना को सुसज्जित किया जा रहा है। हवाई और समुद्री सेना को भी पहले की अपेक्षा अधिक शक्तिशाली, सुदृढ़ एवं सक्षम बनाया गया है।

9. परमाणु शक्तिसम्पन्न– 
भारत पहला परमाणु परीक्षण पोखरन में सन् 1974 ई० में और दूसरा सन् 1998 ई० में कर चुका है। भारतीय सेना के पास पृथ्वी, अग्नि, आकाश, त्रिशूल, नाग, ब्रह्मोस आदि मिसाइलें, अर्जुन टैंक, उन्नत किस्म के राडार, परमाणु पनडुब्बियाँ तथा जंगी जहाज हैं। भारत कई उपग्रह–आर्यभट्ट, भास्कर I व II, रोहिणी आदि–अन्तरिक्ष में भेज चुका है।

उपर्युक्त विवरण से यह स्पष्ट हो जाता है कि भारत सुरक्षा के मामले में पूर्णरूपेण आत्मनिर्भर है। हमारे पास अत्याधुनिक अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित एवं पूर्ण रूप से प्रशिक्षित सेना है तथा भारत एक परमाणु शक्तिसम्पन्न राष्ट्र भी है; अतः अब वह किसी भी प्रकार की चुनौती का सामना करने की पूर्ण .. क्षमता रखता है तथा शत्रुओं को मुंहतोड़ जवाब देने में पूर्णतया समर्थ है।

लघु उत्तरीय प्रा।

प्रश्न 1.
भारतीय सीमाओं का उल्लेख कीजिए।
या
भारत के किन चार राज्यों की सीमाएँ पाकिस्तान की सीमा को स्पर्श करती हैं? [2015]
या
भारत के उत्तर-पूर्वी तथा उत्तर-पश्चिमी सीमा पर स्थित देशों के नाम लिखिए। [2018]
उत्तर :
भारत की सीमाएँ दो प्रकार की हैं

  1. स्थल सीमाएँ तथा
  2. समुद्री सीमाएँ।

1. स्थल सीमाएँ- हमारी स्थल सीमाएँ 15,200 किमी लम्बी हैं। उत्तरी सीमा पर चीन, नेपाल तथा भूटान देश स्थित हैं। इन देशों के साथ जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, बिहार, पं० बंगाल, सिक्किम तथा अरुणाचल प्रदेश राज्यों की सीमाएँ लगती हैं।

  • उत्तर-पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान तथा अफगानिस्तान देश स्थित हैं। पाकिस्तान के साथ गुजरात, राजस्थान, पंजाब तथा जम्मू-कश्मीर राज्यों की सीमाएँ लगती हैं।
  • उत्तर-पूर्वी सीमा पर चीन, नेपाल, म्यांमार तथा बांग्लादेश स्थित हैं। म्यांमार के साथ अरुणाचल प्रदेश, नागालैण्ड, मणिपुर तथा त्रिपुरा राज्यों की सीमाएँ लगती हैं। बांग्लादेश के साथ प० बंगाल, असम, मेघालय, त्रिपुरा तथा मिजोरम राज्यों की सीमाएँ लगती हैं।

2. समुद्री सीमाएँ- भारत की समुद्री सीमो 7516.5 किमी है। भारतीय प्रायद्वीप के पश्चिम में अरब सागर में स्थित लक्षद्वीप, पूर्व में बंगाल की खाड़ी में स्थित अण्डमान-निकोबार द्वीप समूह तथा दक्षिण । में हिन्द महासागर स्थित है। भारत के दक्षिण-पूर्व में श्रीलंका स्थित है। पाक स्ट्रेट तथा मन्नार की खाड़ी भारत एवं श्रीलंका को पृथक् करते हैं। । भारत के मुख्य स्थल की तटरेखा 6,100 किमी लम्बी है।

प्रश्न 2.
थल सेना की प्रमुख शाखाएँ लिखिए।
उत्तर :
थल सेना में कई प्रकार की सेनाएँ सम्मिलित हैं। इनमें

  • इन्फेण्ट्री,
  • बख्तरबन्द कोर,
  • तोपखाना रेजीमेण्ट,
  • इंजीनियरिंग कोर,
  • आर्मी सेना कोर,
  • आर्मी मेडिकल कोर,
  • आर्मी डेण्टल कोर,
  • इलेक्ट्रिकल और मेकैनिकल कोर,
  • शिक्षा कोर,
  • सिग्नल कोर,
  • सप्लाई कोर,
  • आर्मी ऑर्डिनेन्स कोर,
  • पशु चिकित्सा कोर आदि सम्मिलित हैं।

प्रश्न 3.
वायु सेना के मुख्य अधिकारियों के पद (नाम) लिखिए।
उत्तर :
वायु सेना का सर्वोच्च अधिकारी वायु सेनाध्यक्ष कहलाता है। इसके अधीन सह-सेनाध्यक्ष, उप-सेनाध्यक्ष, एयर ऑफिस-इन-चार्ज (प्रशासन) और ऑफिस इन-चार्ज (रख-रखाव) आदि होते हैं।

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
भारत की स्थल सीमा कितनी लम्बी है ?
उत्तर :
भारत की स्थल सीमा की लम्बाई 15,200 किमी है।।

प्रश्न 2.
रक्षा विकास एवं अनुसन्धान विभाग की स्थापना कब की गयी ?
उत्तर:
रक्षा विकास एवं अनुसन्धान विभाग की स्थापना 7 मई, 1980 ई० को हुई थी।

प्रश्न 3.
उन दो देशों के नाम लिखिए जिनकी सीमाएँ भारत की उत्तरी सीमा को स्पर्श करती हैं? [2012]
उत्तर :
नेपाल और भूटान की सीमाएँ भारत की उत्तरी सीमा को स्पर्श करती हैं।

प्रश्न 4.
भारतीय सेना के विभिन्न अंग क्या हैं ? भारत की सशस्त्र सेनाओं का सर्वोच्च सेनापति कौन होता है ? [2012]
उत्तर :
भारतीय सेना के अंग हैं—जल सेना, थल सेना तथा नौ-सेना। भारतीय सेनाओं का सर्वोच्च सेनापति भारत का राष्ट्रपति होता है।

प्रश्न 5.
भारत की थल सेना का सर्वोच्च अधिकारी कौन होता है ?
उत्तर :
थल सेनाध्यक्ष (जनरल) भारतीय थल सेना का सर्वोच्च अधिकारी होता है।

प्रश्न 6.
भारत के सीमावर्ती किन्हीं दो राष्ट्रों के नाम लिखिए। या भारत के सीमावर्ती देशों के नाम लिखिए।
उत्तर :
भारत के सीमावर्ती देशों के नाम हैं

  • पाकिस्तान,
  • अफगानिस्तान,
  • चीन,
  • नेपाल,
  • भूटान,
  • म्यांमार तथा
  • बांग्लादेश।

प्रश्न 7.
वायु सेना के सर्वोच्च अधिकारी का पद नाम (रैंक) क्या है ? [2006]
उत्तर :
वायु सेना के सर्वोच्च अधिकारी का पद नाम (रैंक) एअर मार्शल (वायु सेना अध्यक्ष) है।

प्रश्न 8.
सीमा सुरक्षा बल की स्थापना कब और कहाँ की गयी थी ?
उत्तर :
सीमा सुरक्षा बल की स्थापना दिल्ली में दिसम्बर, 1965 ई० में की गयी थी।

प्रश्न 9.
भारतीय वायु सेना का मुख्यालय कहाँ स्थित है ?
उत्तर :
भारतीय वायु सेना का मुख्यालय नयी दिल्ली में स्थित है।

प्रश्न 10.
इंण्डियन मिलिट्री अकादमी कहाँ स्थित है ?
उत्तर :
इण्डियन मिलिट्री अकादमी देहरादून में स्थित है।

प्रश्न 11.
भारतीय नौसेना का मुख्यालय कहाँ स्थित है ? उसमें कितनी कमान होती हैं ? [2013]
उत्तर :
भारतीय नौसेना का मुख्यालय नयी दिल्ली में स्थित है। इसमें तीन कमान होती हैं।

प्रश्न 12.
सुदूर दक्षिणी सीमा पर कौन-सा देश स्थित है? [2018]
उत्तर :
श्रीलंका।

प्रश्न 13.
उन दो द्वीप-समूहों के नाम लिखिए जो भारत संघ के अभिन्न अंग हैं? [2018]
उत्तर :

  • लक्षद्वीप एवं
  • अण्डमान-निकोबार द्वीप समूह।

प्रश्न 14.
भारत के दो संस्थानों के नाम लिखिए जहाँ सैन्य अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाता है। [2018]
उत्तर :

  • नेशनल डिफेन्स अकादमी-खड़गवासला।
  • इण्डिया मिलिट्री अकादमी-देहरादून।

बहुविकल्पीय प्रश्न

1. भारतीय वायु सेना का मुख्यालय कहाँ है ? [2012, 13, 14, 15]

(क) बंगलुरु में
(ख) आगरा में
(ग) नयी दिल्ली में
(घ) कानपुर में

2. भारत ने प्रथम अणु परीक्षण 1974 ई० में किस स्थान पर किया था ?

(क) पोखरन में
(ख) खड़गवासला में
(ग) नरौरा में
(घ) ट्रॉम्बे में

3. भारतीय सेना के तीनों अंगों का अध्यक्ष कौन होता है ?

(क) राष्ट्रपति
(ख) प्रधानमन्त्री
(ग) रक्षामन्त्री
(घ) स्थल सेनाध्यक्ष

4. भारत में परमाणु विस्फोट के लिए कौन-सा स्थान प्रसिद्ध है?

(क) बॉम्बे हाई
(ख) पोखरन
(ग) हरिकोटा
(घ) बंगलुरु

5. भारतीय थल सेना का मुख्यालय कहाँ है ? [2014]

(क) नयी दिल्ली में
(ख) नागपुर में
(ग) बंगलुरु में
(घ) चेन्नई में

6. नौ-सेना का प्रधान कौन होता है ?

(क) एडमिरल
(ख) जनरल
(ग) ब्रिगेडियर
(घ) मेजर जनरल

7. नेशनल डिफेन्स अकादमी कहाँ है ?

(क) देहरादून में
(ख) चेन्नई में
(ग) मऊ में।
(घ) खड़गवासला में

8. भारत में रक्षा-मन्त्रालय का प्रधान होता है

(क) राष्ट्रपति
(ख) प्रधानमन्त्री
(ग) रक्षामन्त्री
(घ) थल सेनाध्यक्ष

9. भारत में प्रादेशिक सेना कब प्रारम्भ की गयी ?

(क) 1948 ई० में
(ख) 1949 ई० में
(ग) 1950 ई० में।
(घ) 1951 ई० में

10. प्रथम परमाणु-परीक्षण स्थल पोखरन कहाँ स्थित है ?

(क) हरियाणा में
(ख) पंजाब में
(ग) जम्मू-कश्मीर में
(घ) राजस्थान में

11. भारतीय नौसेना का मुख्यालय कहाँ स्थित है? [2014, 16]

(क) कोचीन में
(ख) विशाखापत्तनम में
(ग) चेन्नई में
(घ) नई दिल्ली में

उत्तरमाला

1. (ग), 2. (क), 3. (क), 4. (ख), 5. (क), 6. (क), 7. (क), 8. (ग), 9. (ग), 10. (घ), 11. (घ)

————————————————————

All Chapter UP Board Solutions For Class 10 social science

All Subject UP Board Solutions For Class 10 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह UP Board Class 10 social science NCERT Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन नोट्स से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *