Teardrop Attack in Hindi

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज Network Security & Cryptography के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में नेटवर्क सुरक्षा और क्रिप्टोग्राफी के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

Teardrop Attack in Hindi

Teardrop attack एक प्रकार का Daniel of Service (DOS) अटैक है जिसमें attacker के द्वारा target server को fragment किये हुए packets भेजे जाते हैं.

चूंकि इस तरह के packet प्राप्त करने वाला सर्वर TCP/IP fragmentation reassembly में bug के कारण उन्हें दुबारा इकट्ठा नहीं कर सकता, इसलिए packet एक दूसरे को overlap करते हैं, जिससे सर्वर overload हो जाता है।

teardrop attack का सबसे ज्यादा प्रभाव पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे:- Windows 95, windows NT और पुराने Linux के versions में होता है क्योंकि ये TCP/IP fragmentation reassembly bug को स्टोर किये रहते है.

यह attack काम कैसे करता है?

जब भी कभी internet में बहुत बड़े मात्रा के data को sent किया जाता है तो data छोटे छोटे fragments में विभाजित हो जाता है. इन सभी fragments को एक number दिया जाता है. जब ये packets अपने receiving end पर पहुँच जाते है तो इनको rearrange करके original data को वापस लाया जाता है.

fragments के sequence (क्रम) को identify करने के लिए, fragment offset field महत्वपूर्ण जानकारी को स्टोर किये रहता है जिसके द्वारा डिवाइस sequence को फिर से arrange करती है.

लेकिन teardrop attack में, attacker या hacker के द्वारा fragment offset field को buggy बना दिया जाता है जिसके कारण victim की device सही fragments को ढूंड नही पाती है.

इसलिए, जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, buggy packets आंसुओं की तरह जमा रहते हैं और अंत में डिवाइस crash हो जाती है.

लेकिन आजकल की जो networking device होती है वे buggy packets को identify कर लेती है.

Leave a Comment

Your email address will not be published.