Steps in Development of a Program in C in Hindi

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज Steps in Development of a Program in C in Hindi के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में सी भाषा के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

Steps in development of a program in Hindi

जब भी हम किसी program को विकसित करते हैं तो हम steps के एक क्रम को follow करते हैं. Program development में इन steps को phases कहते हैं.

C में, program को develop करने के निम्नलिखित 7 steps होते हैं:-

  1. Problem Definition
  2. Program Design
  3. Coding
  4. Debugging
  5. Testing
  6. Documentation
  7. Maintenance
Steps in development of a program in C in Hindi

Problem Definition

  • यह program को develop (विकसित) करने का सबसे पहला step होता है.
  • इसमें हम उस problem को समझते है जिसके लिए program को develop करना है. अर्थात् इसमें problem को identify और understand किया जाता है.
  • इस स्टेप में, problem को formal रूप में define किया जाता है.
  • इसमें सभी factors जैसे कि – इनपुट/आउटपुट, मैमोरी की जरूरत, प्रोसेसिंग की जरूरत, error को handle करना आदि के बारें में विचार विमर्श किया जाता है.

Program Design –

  • प्रोग्राम को विकसित करने का दूसरा स्टेप program design होता है. इसमें प्रोग्राम को डिजाईन किया जाता है.
  • प्रोग्रामर flow-chart और algorithms जैसे tools का प्रयोग करके प्रोग्राम को डिजाईन करते हैं.
  • इसमें आम तौर पर प्रोग्राम का architecture बनाया जाता है.

Coding –

  • एक बार जब design की प्रक्रिया पूरी हो जाती है तो उसके बाद वास्तविक program को लिखा जाता है अर्थात् coding की जाती है.
  • इसमें C language के programming instructions (प्रोग्रामिंग निर्देशों) का पालन करते हुए program को लिखा जाता है.
  • यह सबसे महत्वपूर्ण step होता है क्योंकि इसमें problem को solve करने के लिए program को write करते हैं.
  • इस step में सभी syntax errors जैसे कि – spelling में गलती, comma ना लगाना, undefined labels आदि को हटाया जाता है.
  • Coding को करने में कम समय लगता है और यह program development का सबसे छोटा phase है.

Debugging

  • इस step में, program में उपस्थित erros को detect और correct किया जाता है. अर्थात् इसमें erros को खोज के उन्हें सही किया जाता है.
  • यह भी एक महत्वपूर्ण process है. Debugging को program validation भी कहते हैं.
  • इसमें हम program को test करते हैं और यह देखते है कि प्रोग्राम दी गयी problem को solve कर पा रहा है या नहीं.
  • इसमें यह भी check किया जाता है कि प्रोग्राम वांछित आउटपुट दे रहा है या नहीं.

Documentation –

  • Debugging के बाद हम documentation करते हैं.
  • डॉक्यूमेंटेशन उन users को मदद करता है जो software या program को maintain करते हैं.
  • यह सुनिश्चित करता है कि यदि future में प्रोग्राम में कोई बदलाव करना हो तो उसे आसानी से किया जा सके.

Maintenance

  • यह किसी program को develop करने का सबसे last स्टेप होता है.
  • इस phase में, प्रोग्राम को actual users के द्वारा use किया जा चूका होता है.
  • यदि किसी user को प्रोग्राम को use करने में कोई परेशानी आती है तो हमें सभी steps को दुबारा से दोहराने की जरूरत होती है. जिससे कि problem को solve किया जा सके.
  • सरल शब्दों में कहें तो, “इस phase में प्रोग्राम को update किया जाता है.”

हम आशा करते है कि यह C Language के हिंदी में नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है | आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published.