RBSE Solutions for Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी.

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी. सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी. pdf Download करे| RBSE solutions for Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी. notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी.

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 पाठ्यपुस्तक के प्रश्न

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 बहचयनात्मक

प्रश्न 1.
Php को किस programmer ने विकसित किया था :
(अ) रदरफोर्ड
(ब) बिल गेट्स
(स) रेसमस लेडार्फ
(द) जेम्स रॉबर्ट
उत्तर:
(ब) बिल गेट्स

प्रश्न 2.
Php में Variable को कैसे Initialize किया जाता है :
(अ) # द्वारा
(ब) @ द्वारा
(स) $
(द) * द्वारा
उत्तर:
(द) * द्वारा

प्रश्न 3.
Php व MySql को use में लेने के लिए कौन-सा Bundled, Open Source use किया जाता है :
(अ) JDK
(ब) Microsoft. Net
(स) Eclipse
(द) XAMPP
उत्तर:
(द) XAMPP

प्रश्न 4.
Apache Web Server के लिए कौन-सा Port use किया जाता है :
(अ) 82
(ब) 85
(स) 90
(द) 80
उत्तर:
(द) 80

प्रश्न 5.
MySql के लिए कौन-सा Port Default काम में लिया जाता है :
(अ) 3122
(ब) 8080
(स) 3000
(द) 3306
उत्तर:
(द) 3306

प्रश्न 6.
Php में Script को Start करने के लिए कौन-से Tags क़ाम में लाये जाते हैं :
(अ) <?php–?>
(ब) <!–php–!>
(स) <%php—%>
(द) <%php—–?>
उत्तर:
(द) <%php—–?>

प्रश्न 7.
निम्नलिखित में से Loop का प्रकार कौन-सा है:
(अ) while
(ब) float
(स) int
(द) long
उत्तर:
(ब) float

प्रश्न 8.
निम्नलिखित में से कौन-सा Statement conditional है :
(अ) if-else
(ब) while
(स) foreach
(द) for
उत्तर:
(स) foreach

प्रश्न 9.
निम्नलिखित में से कौन-सा Statement similar data type के collection के लिए काम में आता है :
(अ) Array
(ब) Union
(स) Constructor
(द) Class
उत्तर:
(ब) Union

प्रश्न 10.
निम्नलिखित में से Associative Array का कौन-सा प्रकार है :
(अ) $_GET[]
(ब) Array()
(स) Foreach
(द) Class
उत्तर:
(द) Class

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
Php में script को कैसे लिखा जाता है?
उत्तर-
Php में Script लिखना-Php स्क्रिप्ट में सभी स्टेटमेंट व कोड को हम <?php//–your code here–?> के मध्य लिखते हैं, क्योंकि Php का इन्टरप्रेटर (interpreter) इन्हीं टैग्स के बीच के समाहित स्टेटमेंट के कोड को पढ़ता है व उसे सही प्रकार से एक्जीक्यूट करता है। इसलिए हम जितने भी Php प्रोग्राम बनाते हैं उन सभी प्रोग्रामों के Php कोड को इन्हीं टैग्स के बीच लिखा जाता है। भले ही हमारा कोड एक लाइन को ही क्यों ना हो। जैसा कि दिए गए चित्र 1 में Php प्रोग्राम का उदाहरण दिया है।
RBSE Solutions for Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी. image - 1
अब ऊपर दिए गए कोड को हम सेव करते हैं। पीएचपी प्रोग्राम का एक्सटेंशन (extension) *.php होना चाहिए। यहाँ * का अभिप्राय पेज के नाम से है व .php का अभिप्राय: फाईल के एक्सटेंशन से है।
निम्नांकित चित्र 2 में स्क्रिप्ट को कम्प्यूटर में सुरक्षित करना बताया गया है।
RBSE Solutions for Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी. image - 2

प्रश्न 2.
Function को Php में कैसे लिखते हैं?
उत्तर-
Function को php में लिखने के लिए function keyword का उपयोग फंक्शन के नाम से पहले करते हैं।

जब हम Php में हमारी जरूरत के अनुसार किसी function को आरम्भ करते हैं तब हम उस फंक्शन का नाम भी उसी समय लिख देते हैं ताकि समय आने पर उसे कॉल किया जा सके। जैसे – Multiplex नाम का कोई function अगर बनाना है। तो उसे Multiplex () के नाम से भी प्रदर्शित किया जा सकता है यहाँ () Paranthesis फंक्शन के भाग को दर्शा रहा है।
उदाहरण :

<?php
function multiplex ($x, $y) // body of function
{
$z= ($x*$y)
echo $z;
}
?>
//Calling. Function in Script
<?php Multiplex , (5, 4); //calling of function
?>
Syntax :
<?php function name (Argument) >
{
//body of function
}
?>

Function की calling कुछ ऐसे भी की जाती है :
<?php function name (Argument); //Function calling?>

प्रश्न 3.
Php में Array का निर्माण कैसे करते हैं?
उत्तर-
Php में Array का निर्माण-Array array ([mixed $…])
Array सबसे साधारण डाटा स्ट्रक्चर होता है। कम्प्यूटर में हम किसी भी डेटा को जब तक व्यवस्थित तरीके से सुरक्षित ‘ नहीं करते तब तक उस डेटा को सही प्रकार से एक्सेस यो मैनेज नहीं किया जा सकता।

उदाहरण के तौर पर किसी विद्यालय के विद्यार्थियों के Roll numbers/Unique Numbers को computer की Memory में सुरक्षित करना चाहते हैं ताकि उनकी जानकारी तैयार की जा सके। इसके लिए हम सभी प्रकार के मानों को सुरक्षित डेटा टाईप Array में लिख सकते हैं। अगर हमें 500 छात्रों का नाम या उनके Roll number को store करने के लिए हमें कम्प्यूटर प्रोग्राम में 500 Variable लेने होंगे जबकि Array में Program का code लिखना बेहद आसान होगा, जिसमें केवल एक वेरियेबल व एक लाइन के कार्ड से कार्य सम्पन्न हो जाएगा।

Php में भी, C, C++, Java व अन्य Programming की तरह बहुत सारे Data को एक साथ Group में Computer की Memory में store करना होता हो, तो Array का उपयोग किया जाता है। Php में हम दो प्रकार से Array को बना सकते है।

  1. Square bracket pair []
  2. Array constructor

1. Bracket Pair: यहाँ Array $ar [] से create किया जाता है व उसकी value को { } मझले Bracket के द्वारा दिखाया जाता है।
उदाहरण— $ar[]={“ceg”,“jaipur”};
2. Array Constructor : यहाँ Array को create करने के लिए array() नामक function का उपयोग किया जाता है।
उदाहरण— $ar=array(“mainder”,“singh”);

दोनों प्रकार की Array variable को print करने के लिए हम print_r()function का use करते हैं। जिसमें सभी मानों को आउटपुट मानव द्वारा पढ़े जा सकने वाले फोरमेट में आता है।

प्रश्न 4.
php में एक Expression को लिखकर बताइये
उत्तर:

<?php
$a=40;
$b=50;
if ($x>$y)
{
echo "$a is greater than $b'';
}
if ($a<$b)
{
echo ''$b is greater than $a'';
}
?>
//output:-50 is greater than 40

प्रश्न 5.
Php में Operator की Associativity क्या होती है?
उत्तर-
Php में operator की Associativity
RBSE Solutions for Class 11 Computer Science Chapter 7 पी. एच. पी. image - 3

प्रश्न 6.
Php में Operators की सूची बनाइए।
उत्तर-
Php निम्नलिखित ऑपरेटर्स हैं
(i) अंकगणितीय (Arithmetic) ऑपरेटर्स – विभिन्न अंकगणितीय गणनाओं को प्रदर्शित करने के लिये हम निम्ननांकित पाँच ऑपरेटर का उपयोग करते हैं *, %, +, – ,/

(ii) स्ट्रिंग (String) ऑपरेटर – Php में स्ट्रींग के लिए दो आपरेटर होते हैं जो कि आपस में कड़ी का काम करते हैं। पहला operator वास्तव में मूलं operator है जिसे single dot (.) द्वारा प्रदर्शित करते हैं। दूसरे प्रकार का बिन्दु ऑपरेटर दशमलव वाली संख्याओं को दर्शाता है।

(iii) इंक्रीमेंट एण्ड डिक्रीमेंट (Increment & Decrements) ऑपरेटर – ये ऑपरेटर भी अन्य प्रोग्रामिंग की तरह होते हैं। इंक्रीमेंट ऑपरेटर को द्वि धनात्मक चिह्न (++) द्वारा प्रदर्शित किया जाता है तथा डिक्रीमेंट ऑपरेटर को द्वि ऋणात्मक चिह्न (–) द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। इन ऑपरेटर्स की यह विशेषता है कि इन्हें एक ऑपरेण्ड के साथ ही काम में लाते हैं।

(iv) Equal operator : इस प्रकार के ऑपरेटर को किन्हीं दो मानों की आपस में तुलना के लिए काम में लेते हैं।

(v) Relational operator : यह ऑपरेटर मूलतः असत्य मान वापस (return) करता है।

(vi) Logical operator : यह ऑपरेटर तार्किक गणनाओं के मानों को को परखने का कार्य करते हैंकि वे आपस में बराबर हैं या नहीं। ये भी दो operand के साथ काम करते हैं, और true या false मानों को वापस (return) करते हैं।

(vii) Bit-wise operator : पूर्व में हमने अभी तक जितने भी ऑपरेटर्स का अध्ययन किया है, वे मुख्य रूप से किसी चिह्न के बाईट मान पर कार्य करते हैं, जबकि बिटवाईज ऑपरेटर ऐसे ऑपरेटर-होते हैं जो किसी चिह्न की मेमोरी लोकेशन पर सुरक्षित की गई बाईनरी डिजिट यानि बिट पर काम करते हैं।

(viii) Assignment operator : असाइनमेंट ऑपरेटर को php में equal (=) चिह्न द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। किसी कम्प्यूटर प्रोग्राम की अभिव्यक्ति (expression) में बाईं ओर होने वाली गणना को यह ऑपरेटर दायीं ओर ऑपरेड में सुरक्षित कर देता है।

प्रश्न 7.
Php में echo व Print_r() function को समझाइये।
उत्तर-
echo statement: यह एक प्रकार का स्टेटमैन्ट (Statement) है, व आउटपुट लेने के लिए ज्यादातर पीएचपी में इसका उपयोग किया जाता है। ये फंक्शन की तरह भी काम में लाया जा सकता है। इसीलिए जरुरी नहीं है कि echo के साथ parenthesis का प्रयोग करें या न करें।

Syntax : void echo (String $arg, String $arg)
Print_r() Function – यह फंक्शन किसी वैरिएबल (variable) के बारे में information को दर्शाता है।
mixed print_r(mixed)
$ expression (,bool $return = false)

प्रश्न 8.
Php में Array तथा class में कोई दो अंतर बताइये।।
उत्तर-
Array-Array: यह एक प्रकार ऐसा डेटा टाइप है जो कि मूल रूप से परफॉर्मेंस क्षमता की दृष्टि से अन्य डेटा टाइप से ज्यादा महत्त्वपूर्ण होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इसमें एक जैसे डेटा टाइप्स का समूह निहित होता है। इसलिए इसे Array नाम से जाना जाता है।

Php में ऐरे लिखने का तरीका-array array ([mixed $…])

Array सबसे साधारण डाटा स्ट्रक्चर होता है। कम्प्यूटर में हम किसी भी डेटा को जब तक व्यवस्थित तरीके से सुरक्षित नहीं करते तब तक उसे डेटा को सही प्रकार से एक्सेस या मैनेज नहीं किया जा सकता।

Class : Php में एक class को ठीक उसी तरह, create किया जाता है, जिस तरह से “C++” या “Java” में create किया जाता है। Php में class यानि एक नया user defined data type create करने के लिए हमें निम्नांकित syntax को follow करना होता है

Class class name
{
//Field declarations defined here 
// Method declarations defined here
}

प्रश्न 9.
Php का MySql से connection का code लिखकर बताइये।
उत्तर-
पीएचपी का माई एसक्यूएल से कनेक्शन कोड (Connectivity Php with Mysql)-जब हम माईएसक्यूएल डेटाबेस को Php के साथ कनेक्ट करते हैं तो डेटाबेस के डेटा की सूचना व सुरक्षा को भी बहुत ध्यान से रखना होता है। जब भी हम Php के पेज को mysql से connect करते हैं तो हमेशा user-name व Password को सुरक्षित रखना चाहिए ताकि कोई data को चुरा न सके। Php को mysql से connect करने व database की table को access करने के लिए हम दो प्रकार के फंक्शन का उपयोग करते हैं

<?php
mysql_connect("'localhost'',''root'','') or die (mysql_error();
mysql_select_db("ceg'') or die (mysql_error()); 
?>

उदाहरण के तौर पर अगर डेटाबेस का नाम है व उसके छात्रों की टेबल जिसका नाम स्टूडेंट है, को php page से connect करना है तो हमे Web root directory (C:xampphtdocsmyceg) में एक Php की file बनानी पड़ती है, जिसमें connection का code लिखा जाता है। एवं इस connectivity के code को दूसरे php page में दुबारा से कॉल (call) किया जा सकता है। call करने के लिए हमें किसी भी php में page के प्रथम लाईन पर Php tags में (<?php—-?>)

include () या require() function का उपयोग करके उस connectivity की Php file को call कर सकते हैं। जिसके द्वारा Database से सभी php pages का Mysql से connection establish (स्थापित) हो जाता है।

अब इस स्क्रिप्ट को c:xampphtdocslceg directory में सुरक्षित करना है व इस फाईल का नाम connect.php रखना है व जिस किसी भी page में इसे लोड करना है, तो include()function में एक्सेस कर सकते हैं। जैसे
<?php include(“’connect.php”); ?>

प्रश्न 10.
MySql_connect()function को समझाइये।।
उत्तर-
MySql_connect() – ये फंक्शन Mysql database से connect करने के लिए प्रयोग किया जाता है। Database के साथ काम करने के लिए सबसे पहले इसी function को call किया जाता है। इस method में तीन arguments पास किये जाते हैं। पहला argument local host का port no. होता है। दूसरा argument database का user name होता है और तीसरा argument database का password होता है। इस function की value एक variable में store की जाती है। ये function database का pointer return करता है।

उदाहरण

  1. <?php
  2. $conn=MySql_connect(“localhost”,”username”,”password”);
  3. ?>

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 निबंधात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
Php में variable को declare व initialize करने के लिए script लिखिये।
उत्तर-
Php में जब कोई variable create करते हैं तो उसके नाम के आगे $ (डॉलर) sign लगाते हैं। Php में जब कोई variable declare करते हैं तो उसका data type mention नहीं करते हैं। Php यह automatically identify करती है। जब variable में value assign की जाती है। तो जिस type की value होती है, variable भी उसी type का बन जाता है।
उदाहरण :

<?php
$age=123; 
echo ''type of variable is'', get type ($age); 
echo "<br>''; 
echo "end of the code";
?>

output:
Type of variable is integer

प्रश्न 2.
Php में सभी Arithmetic Operation Calculation Perform करने हेतु function सहित Script लिखिये।।
उत्तर-
अंकगणितीय (Arithmetic operators)–विभिन्न अंकगणितीय गणनाओं को प्रदर्शित करने के लिए हम निम्नलिखित पाँच ऑपरेटर्स का उपयोग करते हैं।
* , % , + , – , /

Arithmetic Operators :

ExampleName Result
-$aNegationOpposite of $a.
$a+$bAdditionSum of $a and $b.
$a-$bSubtractionDifference of $a and $b.
$a*$bMultiplicationProduct of $a and $b.
$a/$bDivisionQuotient of $a and $b.
$a%$bModulusRemainder of $a divided by $b.
$a**$bExponentiationResult of raising $a to the $b the power.
Introduced in PHP 5.6.

Example 1

<?php
echo (5%3)n; //prints 2
echo (5%-3)n; //prints 2 
echo (-5%3) n; //prints -2
echo (-5%-3)n; //prints -2
?>

Example 2

<?php
$a=42;
$b=20;
$c=$a+$b; 
echo "Addition operation result: $c''; 
$c=$a-$b; 
echo ''subtraction operation result: $c''; 
$c=$a* $b; 
echo ''Multiplication operation result:$c''; 
$c=$a/ $b; 
echo ''Division operation result:$c'';
$c=$a%$b; 
echo ''Modulus operation result:$c'';
?>

Output :
Addition operation result: 62
Subtraction operation result: 22
Multiplication operation result: 840
Division operation result: 2.1
Modulus Operation result: 2

प्रश्न 3.
MySql में कौन-कौन सी Keys होती हैं? Explain कीजिए।
उत्तर-
MySql में हम निम्नलिखित Keys का प्रयोग करते हैं
Primary key : एक ऐसा column होती है, जो किसी table के किसी record या row को unique तरीके से identify करने का काम करती है। हर table में केवल एक primary key ही हो सकती है। Mysql स्वयं ही Primary key के आधार पर table के records की indexing करता रहता है।

Unique key : यह key भी Primary key की तरह ही होती है लेकिन यह constraint null values को storage allow करती है। जिस column पर ये constraint apply होता है उस column की values पूरी table में unique होनी चाहिए। यदि किसी भी column की value null नहीं है तो इस constraint के द्वारा rows को uniquely identify किया जा सकता है।

Foreign key : यह key किसी table की primary key को point करती है। एक foreign key किसी दूसरी table में primary key होती है। ये constraint 2 tables में relation बताता है। ये constraint बताता है कि इस table के columns foreign key वाली table से संबन्धित है।

प्रश्न 4.
Php में सभी operators को Detail में उदाहरण सहित समझाइए।
उत्तर-
1. अंकगणितीय (Arithmetic) Operators : विभिन्न अंकगणीतीय गणनाओं को प्रदर्शित करने के लिए, हम निम्नांकित पाँच ऑपरेटर का उपयोग करते हैं।
*, %, +, -, /
Arithmetic Operators :

ExampleName Result
-$aNegationOpposite of $a.
$a+$bAdditionSum of $a and $b.
$a-$bSubtractionDifference of $a and $b.
$a*$bMultiplicationProduct of $a and $b.
$a/$bDivisionQuotient of $a and $b.
$a%$bModulusRemainder of $a divided by $b.
$a**$bExponentiationResult of raising $a to the $b the power.
Introduced in PHP 5.6.

2 स्ट्रिंग (String) Operators: Php में मूलत: स्ट्रिंग के लिए दो ऑपरेटर होते हैं। जो कि आपस में कड़ी का काम करते हैं। पहला operator वास्तव में मूल operator है जिसे single dot (.) द्वारा प्रदर्शित करते हैं। दूसरे प्रकार का बिन्दु ऑपरेटर दशमलव वाली संख्याओं को दर्शाता है जैसे कि 15.6 इस ऑपरेटर के दायें या बायें में जो भी स्पेश दिया जाता है वह महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करता है जैसे कि

<?php
$a=""Hello''; 
$b = $a. ''World''; //now $b contains ''hello world!'' 
$a="Hello"';
$a.=''World!''; //now $a contains ''hello world!'' 
?>

उपर दिखाये गए उदाहारण में “में String को दिखाया गया है जबकि Backward slash () को dot operator से concate किया गया है”।

3. इंक्रीमेंट एण्ड डिक्रीमेंट (Increment & decrements) Operator: ये ऑपरेटर भी अन्य प्रोग्रामिंग की तरह होते हैं। इंक्रीमेंट ऑपरेटर को द्वी धनात्मक चिह्न (++) द्वारा प्रदर्शित किया जाता है साथ ही डिक्रीमेंट ऑपरेटर को ऋणात्मक चिह्न (–) द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। इन ऑपरेटर्स की यह विशेषता है कि इसे एक ऑपरेण्ड के साथ ही काम में लाते हैं। जो कि निम्नलिखित अनुसार है

Increment/decrements Operators :

ExampleNameEffect
++$aPre-incrementIncrements $a by one, then returns $a.
$a++Post-incrementReturns $a, then increments $a by one.
–$aPre-decrementsDecrements $a by one, then returns $a.
$a–Post-decrementsReturns $a, then decrements $a by one.
<?php
echo "<h3>postincrement</h3>''; 
$a = 5; 
echo ''should be 5:'', $a++. "<br/>n"); 
echo ''should be 6:'', $a."<br/>n''; 
echo "<h3>preincrement</h3>''; 
$a=5; 
echo ''should be 6:''. ++$a. ''<br/>n'' 
echo ''should be 6:''.$a."<br/>n''; 
echo ''<h3>postdecrement</h3>"; 
$a=5; 
echo ''should be 5:'', $a-. "<br/>n''; 
echo ''should be 4:''.$a. "<br/>n''; 
echo "<h3>Predecrement</h3>"; 
$a=5; 
echo ''should be 4:". -$a. "<br/>n''; 
echo ''should be 4:''.$a. "<br/>n";
?>

4. Equal Operator : इस प्रकार के ऑपरेटर किन्हीं दो मानों को आपस में तुलना के लिए काम में लेते हैं।
Comparison Operators :

Example NameResult
$a==$b EqualTrue if $a is equal to $b after type juggling.
$a === $b IdenticalTrue if $a is equal to $b, and they are of the same type.
$a!=$b Not equalTrue if $a is not equal to $b after type juggling.
$a<>$b Not equalTrue if $a is not equal to $b after type juggling.
$a!==$b Not identicalTrue if $a is not equal to $b, or they are not of the same type.
$a<$b Less thanTrue if $a is strictly less than $b.
$a>$b Greater thanTrue if $a is strictly greater than $b.
$a<$b Less than or equal toTrue if $a is less than or equal to $b.
$a>-$b Greater than or equal toTrue if $a is greater than or equal to $b.

5. Relational Operator : यह ऑपरेटर मूलतः असत्य मान वापस (return) करता है। Php में मुख्य रूप से निम्नलिखित Relational Operators होते हैं

OperatorNameExampleResult
==Equal$x == $yTrue if $x is exactly equal to $y
===Identical$x = = = $yTrue if $x is exactly equal to $y, and they are of the same type.
!=Not equal$x!=$yTrue if $x is exactly not equal to $y.
<>Not equal$x <>$yTrue if $x is exactly not equal to $y.
!==Not identical$x!== $yTrue if $x is not equal to $y, or they are not of the same type.
<Less than$x < $yTrue if $x (left-hand argument) is strictly less than $y (right hand argument).
>Greater than$x > $yTrue if $x (left hand argument) is strictly greater than $y (right hand argument).
<=Less than or equal to$x <= $yTrue if $x is (left hand argument) is less than or equal to $y (right hand argument).
>=Greater than or equal to$x >= $yTrue if $x is greater than or equal to $y.

6. Logical Operator : यह ऑपरेटर तार्किक गणनाओं के मानों को कि वे आपस में बराबर है या नहीं को परखने का कार्य करते हैं। ये भी दो operand के साथ काम करते हैं, और true या false मानों को वापस (return) करते हैं। जो कि निम्नलिखित चार प्रकार के होते हैं

PHP Logical Operators :

OperatorNameExample
andAnd$x and $y
orOr$x or $y
xorXor$x xor $y
&&And$x && $y

7. Bit wise Operator : पूर्व में हमने अभी तक जितने भी ऑपरेटर्स का अध्ययन किया है वे मुख्य रूप से किसी चिह्न की बाईट मान पर कार्य करते हैं। जबकि बिटवाईज ऑपरेटर ऐसे ऑपरेटर होते हैं जो किसी चिह्न की मैमोरी लोकेशन पर सुरक्षित की गई बाईनरी डिजिट यानि बिट पर काम करते हैं। ये निम्नलिखित हैं
Bit wise Operators :

ExampleNameResult
$a&$bAndBits that are set in both $a and $b are set.
$a|$bOR (inclusive or)Bits that are set in either $a or $b are set.
$a^$6XOR (exclusive or)Bit that are set in $a or $b but not both are set.
~$aNOTBit that are set in $a are not set, and vice versa.
$a<<$bShift leftShift the bits of $a $b steps to the left (each step means ‘‘multiply by two”)
$a>>$bShift rightShift the bits of $a $b steps to the right (each step means ‘‘divided by two”)

8. Assignment Operator : असाइनमेंट ऑपरेटर को Php में equal (=) चिह्न द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। किसी कम्प्यूटर प्रोग्राम की अभिव्यक्ति (expression) में बायीं ओर होने वाली गणना को यह ऑपरेटर दायीं ओर ऑपरेटर में सुरक्षित कर देता है।
उदाहरण-
$a=$b+$c;
यहाँ इस उदाहरण में $b व $c की value को जोड़ कर $a में save किया गया है।

Example:
<?php
$a= ($b=4)+5; // $a is equal to 9 now, and $b has been set to 4.
?>

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 अन्यमहवपणप्रश्न

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
स्क्रिप्टिंग क्या होती है?
उत्तर-
स्क्रिप्टिंग एक प्रकार की प्रोग्रामिंग भाषा होती है, जिसमें ज्यादातर इंटरप्रेटर को काम में लिया जाता है।

प्रश्न 2.
स्क्रिप्टिंग भाषा का विकास किस उद्देश्य से किया गया है?
उत्तर-
स्क्रिप्टिंग भाषा का विकास कुछ विशेष Environment के लिए किया जाता है। इसे डोमेन विशेष अथवा सामान्य कार्य भाषा भी कहते हैं जिसका कार्य टैक्स्ट प्रोसेसिंग (text processing) करना होता है।

प्रश्न 3.
Php को किसने विकसित किया है?
उत्तर-
Php को रासमॅस लैडार्फ (Rasmus Ledorf) नाम के प्रोग्रामर ने विकसित किया था।

प्रश्न 4.
यूजर को दिखाई देने वाली वेबसाईट को कितने भागों में विभाजित कर सकते हैं?
उत्तर-
यूजर (user) को दिखाई देने वाली वेबसाईट को तीन भागों में विभाजित कर सकते हैं
(अ) वैब पेज का प्रकार,
(ब) वैब पेज की स्टाइल (style),
(स) वैब पेज का व्यवहार

प्रश्न 5.
Php प्रोग्राम का एक्सटेंशन क्या होता है?
उत्तर-
Php प्रोग्राम का एक्सटेंशन .php होता है।

प्रश्न 6.
वैरियेबल आईडैन्टीफायर या चर किसे कहते हैं?
उत्तर-
Php का उपयोग करते समय जब हम कम्प्यूटर में ऐसे मानों को सुरक्षित करना चाहते हैं जिनका मान स्क्रिप्ट के कोड के अनुसार समय-समय पर बदलता रहता है इसके लिए हम आइडेन्टीफायर का उपयोग करते हैं। इस आइडैन्टीफायर को वैरियेबल आइडेन्टीफायर या केवल चर कहा जाता है।

प्रश्न 7.
Php में चर को किस प्रकार लिखा जाता है?
उत्तर-
जब हमें Php में चर को लिखना होता है, तो हम ($) sign का प्रयोग करते हैं। $ sign के तुरन्त बाद हमें वह नाम लिखना होता है, जिसे हम Php द्वारा अपने मानों को सुरक्षित करने के लिए काम में ली जाने वाली मैमोरी की लोकेशन के साथ एसोसिएट करते हैं।

प्रश्न 8.
Php में मुख्यत: कितने प्रकार के डेटा टाईप्स होते हैं?
उत्तर-
Php में मुख्यतः 3 प्रकार के डेटा टाईप्स होते हैं

  1. Scaler डेटा टाईप
  2. Compound डेटा टाईप
  3. Special डेटा टाईप।

प्रश्न 9.
Php में फंक्शन का क्या उपयोग होता है?
उत्तर-
फंक्शन का कार्य किसी भी प्रोग्रामिंग भाषा में किसी कार्य को जब बार-बार दोहराना हो व बिना किसी विघ्न के जिससे कि दूसरे भाग पर कोई असर ना पड़े, इसके लिए हम फंक्शन का उपयोग करते हैं।

प्रश्न 10.
Mysql से आप क्या समझते हैं?
उत्तर-
Mysql एक प्रकार का relational database management system (RDBMS) है। इसमें सभी Information table रूप में पंक्ति व स्तम्भ के कॉमन हिस्से यानि सैल में सुरक्षित रहती है।

प्रश्न 11.
Phymyadmin क्या है?
उत्तर-
Phymyadmin एक प्रकार का फ्री व ऑपन सोर्स सॉफ्टवेयर है। जिसे Xampp server के साथ ही इंस्टाल किया जाता है।

प्रश्न 12.
कमेन्ट (comment) से आप क्या समझते हैं?
उत्तर-
कमेन्ट (comment) किसी भी प्रोग्रामिंग भाषा का बहुत ही महत्त्वपूर्ण भाग होता है जिसमें प्रोग्रामर अपने प्रोग्राम के अलग-अलग प्रकार के लॉजिक (logic/program) को लिखने की दिनांक एवं इस प्रोग्राम से क्या आउटपुट आएगा व किसी भी कोड की लाईन को एक्जीक्यूट होने से रोकना इन सभी के लिए कमेन्ट स्टाइल का उपयोग करता है।

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
प्रोग्रामिंग भाषा के प्रकार बताइये।
उत्तर-
कम्पयूटर में प्रोग्रामिंग भाषा मूलतः दो प्रकार की होती है

  1. कम्पायलर आधारित भाषा (Compiler based language)
  2. इंटरप्रेटर आधारित भाषा (Interpreter based language)

1. कम्पायलर आधारित भाषा – कम्पायलर आधारित भाषा के कम्प्यूटर प्रोग्राम जिस कम्प्यूटर आकेंटैक्चर व ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए निर्माण किये गए हैं, उसी कम्प्यूटर आर्केटैक्चर के अनुसार सोर्स कोड को बाइनरी कोड में परिवर्तित कर देता है। अर्थात् एक बार किसी प्रोग्राम को हम कम्पाईल कर देते हैं तो उसके बाद उस प्रोग्राम के सोर्स कोड की आवश्यकता नहीं रहती है। उस प्रोग्राम को बिना सोर्स कोड के हम चला सकते हैं। उदाहरण के तौर पर C, C++ एवं Java एक प्रकार की कम्पायलर आधारित भाषा हैं।

2. इंटरप्रेटर आधारित भाषा – इस प्रकार की प्रोग्रामिंग भाषा को स्क्रिप्टिंग भाषा भी कहा जाता है। ऐसे में Php भी एक स्क्रिप्टिंग भाषा है, क्योंकि Php के प्रोग्राम को रन करने के लिए इंटरप्रेटर की आवश्यकता होती है। यहाँ हम Php इंटरप्रेटर के रूप में अपाचे वैब सर्वर (Apache web server) को उपयोग में लेंगे।

प्रश्न 2.
किसी Web-site को कितने भागों में बाँट सकते हैं?
उत्तर-
किसी web-site को हम दो प्रकार के भागों में बाँट सकते हैं
(a) स्टैटिक (Static) या क्लाइंट साईट वेब साईट
(b) डायनैमिक (Dynamic) या सर्वर साईड वेब साईट

(a) स्टैटिक वैब साईट – यह एक ऐसे प्रकार की वेब साईट होती है जिसकी सूचना केवल एक बार लिखी जाती है व बहुत कम बार इसे परिवर्तित किया जाता है। यह HTML, CSS, JS से निर्मित होती है। जिसमें कोड जब कभी परिवर्तित करना हो तो उसे किसी एडिटर के साथ ओपन करके परिवर्तन कर सकते हैं। इस अध्याय में हम एप्लीकेशन सोफ्टवेयर जैसे कि ड्रीम विवर या नोट पैड के साथ HTML पेज को उपयोग में लाएँगे। उदाहरण के लिए HTML, CSS एवं Java Script से निर्मित वैब साईट केवल ब्राउजर पर डबल क्लिक करने से ओपन हो जाती है, क्योंकि हमारी ब्राउजर केवल एचटीएमएल भाषा समझता है।

(b) डायनैमिक वैब साईट (Dynamic web site) – इस प्रकार की वेब साईट को ज्यादातर वैब एप्लीकेशन (web application) के नाम से भी जाना जाता है। इसको कारण यह होता है कि इस प्रकार की वैब साइट डाटाबेस से जुड़ी रहती है। एवं यह सर्वर पर एक्जिक्यूट होती है, तत्पश्चात इसका आउटपुट ब्राउजर में एचटीएमएल. के रूप में दिखाई देता है। उदाहरण के लिए, किसी विद्यालय के छात्रों की सूचना संग्रहित करने के लिए एचटीएमएल के फार्म (Form) टैग का उपयोग करके हम उसे डेटाबेस में सुरक्षित कर सकते हैं।

प्रश्न 3.
Php में आइडैन्टीफायर को उदाहरण सहित समझाइये।
उत्तर-
Php में आईडैन्टीफायर (identifier) – आईडेन्टीफायर किसी मैमौरी की लोकेशन का एक प्रकार का नाम होता है जिसे हम अपनी आवश्यकता के अनुसार स्वयं लिख सकते हैं और फिर Php उन आईडैन्टीफायर के नामों को जुड़ी हुई मैमोरी की लोकेशन में सुरक्षित करती है।

जैसे–$age;
$age=12;
जहाँ 12 एक प्रकार की value है व $age एक identifier है।

Example :

<?php
$age=123; 
echo ''Type of variable is''.get type ($age); 
echo"<br>";
echo ''End of the code''; 
?>

Output 1 : Type of variable is integer

प्रश्न 4.
शाब्दिक (literal) से आप क्या समझते हैं?
उत्तर-
शाब्दिक (Literal) किसी भी तरह के डेटा टाईप के मानों को दर्शाने वाले अक्षरों के संरचनात्मक इकाई को शाब्दिक (literal) कहा जाता है। Php में निम्नलिखित प्रकार के literal काम में ला सकते हैं।

  1. 12345//Integer
  2. 0XFE//Hexa
  3. OX()//Octal
  4. “Hello ceg”// string
  5. True, null/Boolean

प्रश्न 5.
Php में विभिन्न प्रकार के कंट्रोल स्टेटमेंट के विषय में बताइये।
उत्तर-
Php में विभिन्न प्रकार के Control/conditional statements को हम 4 भागों में बाँट सकते हैं
1. Sequential Statements : जिन स्टेटमेंट को एक्जीक्यूट होने के बाद अगली पंक्ति में क्रमबद्ध तरीके से डेटा को प्रिन्ट करने के लिए प्रोग्राम का कोड लिखा जाता है वह क्रमबद्ध स्टेटमेंट कहलाते हैं।

2. Conditional Statements : कम्प्यूटर प्रोसेसिंग में प्रोग्राम की किसी स्थिति के आधार पर नियंत्रण अपने सामान्य फ्लो को छोड़कर किसी अन्य बिन्दु के स्टेटमेंट को अगर एक्जीक्यूट करवाया जाए तो इस प्रकार के चुने हुए एक्जीक्यूसन सशर्त स्टेटमेंट कहलाते हैं। जैसे कि–(if-else)

3. Iterative Statements: जब प्रोसेसिंग में कुछ स्टेटमेंट को कंडिसन पर निर्भर रहते हुए बार-बार पुनरावृत्ति करने की आवश्यकता होती है तो उसे लूप स्टेटमेंट या पुनरावर्ती स्टेटमेंट कहा जाता है। जैसे—loops.

4. Jumping Statements: इस प्रकार का स्टेटमेंट हमें प्रोग्राम में किसी एक बिन्दु से दूसरे एक्जीक्यूट बिन्दु पर जम्प करने की सुविधा उपलब्ध कराता है। इसलिए इन्हें जम्पिंग स्टेटमेंट भी कहा जाता है। जैसे—break, continue.

प्रश्न 6.
Iteration के विषय में बताइये।
उत्तर-
Iterations (Loops) – यह एक तीसरे प्रकार का कंट्रोल स्टेटमेंट है, जब प्रोग्राम में हमें किसी प्रक्रिया को बार-बार दोहराना (repeat करना) होता है तब हम Looping control statements का उपयोग करते हैं। किसी भी loop में हमेशा मुख्यत: तीन भाग होने चाहिए

  • Initialization: इसे loop का आरम्भिक हिस्सा होता है। जो यह तय करता है कि loop की शुरुआत कहाँ से होगी इसके लिए (=) Assignment operator का उपयोग किया जाता है।
  • Condition: यह किसी loop का conditional part होता है जो कि यह तय करता है कि loop कब तक चलेगा।
  • Size Increment/Decrements : इस part में loop किस क्रम में आगे बढ़ेगा या घटेगा, यह हमको Increment/Decrements ऑपरेटर बताता है। जैसे–$i++,–$i;

प्रश्न 7.
Php में हम कितने प्रकार से Array बना सकते हैं?
उत्तर-
Php में हम दो प्रकार से Array बना सकते हैं

  1. Square Bracket Pair[]
  2. Array Constructor

1. Bracket Pair – यहाँ Array $ar[] से create किया जाता है व उसकी Value को {} मंझले Bracket के द्वारा दिखाया जाताc
उदाहरण-$ar[]={”ceg”,”jaipur”};
2. Array Constructor : यहाँ Array को create करने के लिए array () नामक function का उपयोग किया जाता है।
उदाहरण-$ar=array(‘‘maninder’,“singh”)’

दोनों प्रकार के Array variable को print करने के लिए हम print_r()function का use करते हैं, जिसमें सभी मानों का आउटपुट मानव द्वारा पढ़े जा सकने वाले फोरमेट में आता है।

RBSE Class 11 Computer Science Chapter 7 निबंधात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
Php में कमेन्ट (comment) करने के तरीके बताइए।
उत्तर-
Php में कमेन्ट करने के निम्नलिखित तरीके उपयोग में लाये जाते हैं
1.“C” भाषा की तरह कमेन्ट करने का तरीका प्रोग्रामिंग करते समय कई बार ऐसा होता है कि हम बिना कोड को डिलिट किये टैस्टिंग के दौरान कुछ लाईन्स का आटपुट देखना चाहते हैं तो हम “Cभाषा की तरह कमेन्ट का तरीका उपयोग में लाते हैं।

<?Php
/*
$a=1234; 
$b="Hello''; यहाँ output के तौर पर कुछ भी नहीं आएगा क्योंकि 
$c=55.5; */ Multiple line को comment किया गया है।
?>

2. “C++ भाषा की तरह कमेन्ट करने का तरीका-हम इस प्रकार के कमेन्ट को //forward slash द्वारा प्रदर्शित करते हैं, जैसे

<?php
for ($i=0; $i<=5; $i ++) 
{
echo$i; 
//ech0 "Hi"; यहाँ Single line comment किया गया है जो कि
Browser पर output में नहीं दिखेगा।
}
?>

3. Unix में कमेन्ट करने का तरीका-इस प्रकार के कमेन्ट के लिए # का उपयोग करते हैं। जैसे

<?php
for ($i=0; $i<=5,$1++) 
{
echo$i; 
#echo "Hi"; यहाँ Hi print नहीं होगा क्योंकि # द्वारा comment किया गया है।
}
?>

प्रश्न 2.
Php में मुख्यतः कितने डेटा टाईप्स होते हैं?
उत्तर-
Php में मुख्यत: 3 प्रकार के डेटा टाईप्स होते हैं :

  1. Scaler डेटा टाईप,
  2. Compound डेटा टाईप,
  3. Special डेटा टाईप।

1. Scaler डेटा टाईप – इन्हें scaler/single डेटा टाईप के नाम से भी जाना जाता है। इन्हें एकल डेटा टाईप कहने का तात्पर्य इनमें सुरक्षित होने वाली एक प्रकार का मान होता है। इनके द्वारा निम्नलिखित डेटा टाईप को प्रदर्शित किया जाता है ।
(a) Integer,
(b) Float,
(c) String,
(d) Boolean

(a) Integer डेटा टाईप – किसी भी दशमलव वाले धनात्मक/ऋणात्मक संख्यात्मक मान को Integer कहा जाता है। Php में हम integer के मान को binary, octal, decimal अथवा Hexa के रूप में प्रदर्शित करते हैं। जैसे

BinaryDecimalOctalHexa Decimal
001105507OXA
11001– 6– 08– OX7
11001+150+045+OXFF

(b) Float/Double डेटा टाईप – किसी दशमल वाली धनात्मक/ऋणात्मक value को फ्लोटिंग प्रकार की संख्या कहा जाता है। Floating point numbers को float, double और real numbers भी कहा जाता है। Php में float numbers को दशमल वाली संख्या के रूप में या उसके घातांक के रूप में भी प्रदर्शित कर सकते हैं।
जैसे-

  1. 145.6
  2. 1.3e2
  3. 8E-10

(c) String डेटा टाईप – किसी भी प्रोग्रामिंग का आधार string होता है। इस लिए string में बदलाव को Php में स्वीकार किया गया है। Php केवल 256 आधारभूत ASCII संख्याओं का String रूप में समर्थन करता है। यानि String को। हम Unicode के रूप में उपयोग नहीं कर सकते हैं। String शाब्दिक को हम 4 अलग तरीकों से विभाजित कर सकते हैं

  1. Single Quotes
  2. Double Quotes
  3. Heredoc
  4. Nowdoc

(d) Boolean डेटा टाईप – Php में सत्य व असत्य ऐसे दो मान हैं, जो boolean डाटा टाईप को प्रदर्शित करते हैं। जिनके अन्तर्गत मान एक अथवा शून्य हो सकता है।

2. Compound डेटा टाईप – Php में यह दूसरे प्रकार के डेटा टाईप को ग्रुप होता है। इसमें Array व objects को सम्मिलित किया गया है। वास्तव में यौगिक (compound) डाटा टाईप एक प्रकार का बेसिक डेटा टाईप का ही रूप होता है:
(a) Array डेटा टाईप – Array एक प्रकार के डाटा टाईप के समूह को प्रदर्शित करता है।

(b) Object डेटा टाईप – जब हम Php को OOPS (Object Oriented Programming) के तरीके से प्रोग्राम को विकसित करने के लिए उपयोग में लेते हैं, तब Php हमें आब्जैक्ट (Object) निर्माण करने की सुविधा देती है। आब्जैक्ट एक ऐसी इकाई होती है, जो क्लास में एक संयुक्त रूप से उपयोग में आती है। उदाहरण के लिए, Car एक प्रकार की क्लास हो सकती है व उसके मॉडल उसके आब्जेक्ट अर्थात् ऑब्जेक्ट क्लास की एक रन टाईम entity होता है या किसी class का स्वरूप (Blue print) होता है।

3.Special डेटा टाईप – इस प्रकार के डेटा टाईप में रिसोर्स टाईप व Null Data Type को सम्मिलित किया गया है :
(a) Resource डेटा टाईप – यह सामान्यतया एक Integer Number होता है, जो कि बाह्य रिसोर्स से कनेक्शन स्थापित करता है।

उदाहरणार्थ, जब हम Mysql Database में connection स्थापित करके डेटा को प्राप्त करते हैं तब Php के लिए Mysql डाटा बेस की टेबल का डेटा एक प्रकार के Resource की तरह काम करता है। इस प्रकार के Integer Number को Resource/Handle कहा जाता है।

(b) Null डेटा टाईप – जब हम किसी रिसोर्स से Php को लिंक स्थापित करना चाहते हैं अथवा किसी Identifier में सुरक्षित मान को डिलीट करना चाहते हैं तो हम उस Resource में Null value स्थापित कर देते हैं।

प्रश्न 3.
स्विच केस की कार्य-प्रणाली उदाहरण सहित समझाइये।
उत्तर-
स्विच केस की कार्य प्रणाली—इसकी working में value, valued, valuen ऐसे प्रकार के मान होते हैं, जिन्हें case labels भी कहा जाता है। इसके बाद colon (:) लगाना जरूरी होता है। साथ ही इनके मानों को लिखना भी जरूरी होता है। यदि break ना लिखा जाए तो स्टेटमेंट कोड ब्लॉक के एक्जीक्यूशन के बाद का कंट्रोल जारी रहेगा। इसीलिए प्रत्येक स्टेटमेंट के बाद break लगाना जरूरी होता है।
Example:

<?php
$per=55.8%; 
$a= (int) $per; 
switch ($a)
{
case ($a=<85&$a>=60) 
echo ''Ist div.'';
break; 
case ($a>=45&$a<=59) 
echo'' second div.''; 
break; 
case ($a>36&$a<=44) 
echo'' Third div.'';
break; 
default;
echo''fail''; 
break;
}

इस उदाहरण में हमने यह देखा कि किसी छात्र के प्रतिशत को हल किया जाए तो उसकी डिविजन उसे कैसे प्रदान की जाएगी। यह हमें स्विच केस से पता लगेगा। इसके लिए हमने 3 प्रकार की सीमा निर्धारित की है। जैसे
60-85-Ist Division
45-59-IInd Division
36-44-IIIrd Division
Below 36%student is fail.

All Chapter RBSE Solutions For Class 11 Computer Science Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 11 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 11 Computer Science Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *