RBSE Solutions for Class 10 Information Technology Chapter 3 वर्कबुक में तत्त्वों (एलिमेंट्स) को जोड़ना

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 10 Information Technology Chapter 3 वर्कबुक में तत्त्वों (एलिमेंट्स) को जोड़ना सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 10 Information Technology pdf Download करे| RBSE solutions for Class 10 Information Technology notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 10 Information Technology Chapter 3 वर्कबुक में तत्त्वों (एलिमेंट्स) को जोड़ना

RBSE Class 10 Information Technology Chapter 3 पाठ्यपुस्तक के प्रश्नोत्तर

RBSE Class 10 Information Technology Chapter 3 वस्तुनिष्ठ प्रश्ना

प्रश्न 1.
एक चार्ट को संपादित करने के लिए आप कर सकते
(अ) चार्ट ऑब्जेक्ट क्लिक करें
(ब) चार्ट ऑब्जेक्ट को क्लिक करें और खींचें
(स) चार्ट ऑब्जेक्ट को डबल क्लिक करें।
(द) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर:
(स) चार्ट ऑब्जेक्ट को डबल क्लिक करें।

प्रश्न 2.
प्रत्येक एक्सेल फाइल
(अ) टेक्स्ट और डेटा शामिल कर सकती है।
(ब) संशोधित की जा सकती है।
(स) वर्कशीटस् और चार्ट शीटस् सहित कई शीटस् को रख सकती है।
(द) ऊपर के सभी।
उत्तर:
(द) ऊपर के सभी।

प्रश्न 3.
आप एक चार्ट बनाने के लिए क्या प्रयोग करते हैं ?
(अ) पाई विजार्ड
(ब) एक्सेल विजार्ड।
(स) डेटा विजार्ड
(द) चार्ट विजार्ड
उत्तर:
(द) चार्ट विजार्ड

प्रश्न 4.
एक्सेल में एक पिक्चर सम्मिलित करने के लिये, निम्न में से पिक्चर विकल्प का उपयोग कहाँ से कर सकते हैं ?
(अ) इलस्ट्रेशन्स ग्रुप
(ब) अरेंज ग्रुप
(स) कनेक्शन ग्रुप
(द) टेक्स्ट ग्रुप
उत्तर:
(अ) इलस्ट्रेशन्स ग्रुप

प्रश्न 5.
निम्नलिखित में से कौन एक ऐब्सलूट सेल रेफरेन्सेस है ?
(अ) !A!!
(ब) $A$1
(स) #a#1
(द) A1
उत्तर:
(ब) $A$1

प्रश्न 6.
जो निम्न विकल्पों में से पेज सेटअप डायलॉग बॉक्स में सेट नहीं किया जा सकता :
(अ) प्रिंटर का चयन
(ब) वर्टीकल और हॉरिजॉन्टल प्लेसमेंट
(स) ओरिएंटेशन
(द) रो और कॉलम टाइटलस्
उत्तर:
(स) ओरिएंटेशन

RBSE Class 10 Information Technology Chapter 3 अतिलघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
एक्सेल चार्ट विजार्ड किसके लिए प्रयोग | किया जाता है ?
उत्तर:
एक्सेल चार्ट विजार्ड चार्ट बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 2.
चार्ट जो डेटा रुझान ( टेंड) प्रदर्शित करने के लिए सबसे उपयुक्त है।
उत्तर:
डेटा रुझान प्रदर्शित करने के लिए सबसे उपयुक्त चार्ट लाइन चार्ट है।

प्रश्न 3.
लिजेंड क्या होता है ?
उत्तर:
लिजेंडस् एक प्रकार के लेवल होते हैं जो कि एक चार्ट में प्लॉट की जाने वाली विभिन्न सीरीज को चिह्नित करने में उपयोग किए जाते हैं।

प्रश्न 4.
पाई चार्ट किसमें उपयोगी है ?
उत्तर:
वह स्थिति जिसमें सापेक्षिक अनुपात या पूर्ण में किसी वस्तु का कितनी योगदान है प्रदर्शित करना होता है। उसमें पाई चार्ट बहुत उपयोगी होते हैं।

प्रश्न 5.
स्पार्कलाइन को परिभाषित करें।
उत्तर:
स्पार्कलाइन एक बहुत ही छोटी लाइन चार्ट है जो कि आमतौर पर बिना अक्ष या निर्देशांक के बनाई जाती है।

RBSE Class 10 Information Technology Chapter 3 लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
चार्ट का महत्त्व क्या है ?
उत्तर:
चार्ट एमएस एक्सेल के रेखांकित चित्र सम्बन्धी अवयव है जो डाटा सारणीबद्ध रूप में Enter किया जाता है, उसे हम चित्रित रूप में एक चार्ट की तरह देख सकते हैं। चार्ट के रूप में डाटा प्रभावशाली, रोचक और समझने में आसान हो जाता है इससे हम डाटा को आसानी से विश्लेषित कर सकते हैं और तुलनात्मक बना सकते हैं। एक्सेल में नम्बरों को भी एक चार्ट के रूप में दर्शा सकते हैं।

प्रश्न 2.
एक्सेल में चार्ट के प्रकारों को समझाइये।
उत्तर:
एम.एस. एक्सेल हमें चार्ट के विभिन्न प्रकारों को उपलब्ध कराता है जिनमें से प्रत्येक का कम से कम एक उपप्रकार होता है। चार्ट के विभिन्न प्रकार इस तरह हैं –

  1. कॉलम चार्ट-यह चार्ट लम्बवत् कॉलमों की श्रृंखला से बना होता है, जो दो या दो से अधिक सम्बन्धित वस्तुओं की तुलना को प्रस्तुत करता है।
  2. लाइन चार्ट – इसमें प्रत्येक डाटा सीरीज विभिन्न प्रकार के रंगों और शेडिंग की लाइन की तरह होते हैं।
  3. पाई चार्ट – ये चार्ट डाटा सीरीज के जोड़ के प्रतिशत की तुलना के लिए सबसे अच्छे हैं यह चार्ट केवल एक डाटा सीरीज को दिखाता है।
  4. बार चार्ट – यह चार्ट बार की श्रृंखला से बने होते हैं जो दो या दो से अधिक सम्बन्धित वस्तुओं में तुलना को प्रस्तुत करते हैं।
  5. एरिया चार्ट – यह चार्ट परिवर्तन के विस्तार को दिखाता है। यह एक स्टेक की लाइन का चार्ट होता है। यहाँ लाइनों के बीच का क्षेत्र रंग और शेडिंग से भरा होता है।
  6. स्केटर चार्ट – स्केटर चार्ट का उद्देश्य यह निरीक्षण करना है कि कैसे दो श्रृंखला के मान की समय या अन्य रेंज के ऊपर तुलना होती है।

प्रश्न 3.
चार्ट टूल्स क्या होते हैं ?
उत्तर:
जब हम चार्ट के किसी हिस्से पर क्लिक करते हैं। तो हम देखते हैं कि रिबन पर चार्ट टूल दृश्यमान हो जाते हैं। चार्ट टूल्स में शामिल तीन चार्ट कोन्टेक्सट टैब हैं, डिजाइन, लेआउट और फॉर्मेट। इन टैब्स को कोन्टेक्सट टैब कहा जाता है। क्योंकि यह टैब्स केवल तभी दिखाई देते हैं जब हमको इनकी आवश्यकता होती है जब हम कोई नया चार्ट बनाते हैं या जब हम किसी चार्ट पर क्लिक करते हैं तो यह टैब्स उपलब्ध होती है। आप अपने चार्ट को संशोधित करने के लिए भी इन टैब्स का उपयोग कर सकते हैं। डिजाइन टैब, चार्ट के शेष को संशोधित करने के लिए उपयोग की जाती है। ले-आउट, टैब, चार्ट से सम्बन्धित सभी प्रकार के घटकों को जोड़ने के लिए या वे चार्ट में कैसे दिखेंगे के तरीके को परिवर्तित करने के लिए उपयोग की जाती है। फॉर्मेट टैब विशेष प्रभाव लागू करने के लिए उपयोग की जाती है।

प्रश्न 4.
चार्ट को संशोधित करने के लिए विभिन्न तरीके लिखें।
उत्तर:
चार्ट को परिवर्तित करने के लिए चार्ट कॉन्टेक्स्ट टैब्स का उपयोग कर सकते हैं। जब हम चार्ट क्लिक करते हैं। तब ये टैब्स दृश्यमान हो जाते हैं। हम किसी विशिष्ट घटक के रेफरेन्सस में उसकी विशिष्ट सुविधाओं तक तुरन्त पहुँचने के लिए चार्ट के उस घटक पर दायाँ क्लिक कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि हमें चार्ट के प्लॉट एरिया पर क्लिक करते हैं तो हमें फॉर्मेट प्लॉट एरिया डायलॉग बॉक्स प्राप्त होगा। इस डायलॉग बॉक्स का उपयोग कर हम अपने चार्ट को परिवर्तित कर सकते हैं।

प्रश्न 5.
सेल रेफरेन्सेस कैल्कुलेशन में कैसे उपयोगी
उत्तर:
एक्सेल में फॉर्मूला बनाने के लिए रेफरेन्सेस एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। एक विशेष सेल की वैल्यू में परिवर्तन होने पर सेल रेफरेन्सेस हमारे फार्मूले को स्वचालित रूप से अपडेट कर देता है और सेलों को कॉपी या मूव किया जाता है। तब फार्मूले को अपडेट करने में हमारी सहायता कर सकते हैं। रेफरेन्सेस दो प्रकार के होते हैं-रिलेटिव और एब्सोल्यूट। रिलेटिव और ऐब्साल्यूट रेफरेन्सेस अलग-अलग तरह से व्यवहार करते हैं। जब इन्हें अन्य सेलों में फिल या कॉपी किया जाता है जब एक फार्मूले को अन्य सेल में कॉपी किया जाता है तब रिलेटिव रेफरेन्सेस परिवर्तित हो जाते हैं। इसके विपरीत ऐब्सल्यूट रेफरेन्सेस में कोई परिवर्तन नहीं होता, चाहे उन्हें कहीं भी कॉपी किया जाए वे स्थिर होते हैं।

प्रश्न 6.
एक्सेल में फंक्शन का क्या कार्य है ?
उत्तर:
पूर्व-निर्धारित फार्मूले को फंक्शन कहते हैं, जो एक कैलकुलेशन निष्पादित करने के लिए एक विशिष्ट मान को एक विशेष क्रम में उपयोग करता है। एक साथ हजारों नम्बरों को एक ही पल में जोड़ने, उनका औसत निकालने और कई अन्य चीजों की गणना करने के लिए, फंक्शन आपको सक्षम करता है, सभी फंक्शनस् का एक फंक्शन नाम होता है। उदाहरण के लिए फंक्शन जो नम्बरों को एक साथ जोड़ता है ‘Sum’ कहा जाता है। और जो फंक्शन औसत की गणना करता है Average कहा जाता

प्रश्न 7.
एक्सेल में टेबल सम्मिलित करना समझाइए।
उत्तर:
एक्सेल में टेबल बनाने के लिए निम्न चरणों का उपयोग करेंगे।
चरण 1. टेबल में शामिल करने के लिए इच्छित सेलों की रेंज का चयन करेंगे।
चरण 2. इनसर्ट टैब के टेबल ग्रुप में टेबल क्लिक करेंगे।
चरण 3. यदि चयनित रेंज की शीर्ष रोज जो डेटा रखती है उसे हम टेबल हैडर्स की तरह उपयोग करना चाहते हैं तो माइ टेबल हैज हैडर बॉक्स को चैक करेंगे।
चरण 4. ओके पर क्लिक करेंगे। यदि हम माई टेबल हैज हैडर बॉक्स को चैक नहीं करते हैं तो हमारी टेबल के हैडर डिफॉल्ट नामों के साथ बन जायेंगे जैसे Column 1 और Column 2 हमारी टेबल में उसके डेटा के ऊपर जुड़ जाते हैं। हम किसी भी समय डिफॉल्ट हैडर के नामों को संशोधित कर सकते हैं।

प्रश्न 8.
डेटा वेलिडेशन क्या है ?
उत्तर:
डेटा वेलिडेशन के माध्यम से उपयोगकर्ता द्वारा किसी सेल में दर्ज मानों या डेटा के प्रकार को सीमित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए हम डेटा वेलिडेशन का उपयोग कर एक ड्रॉप-डाउन सूची बनाकर, यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि उपयोगकर्ता कुछ दिए गए विकल्पों में से ही डेटा को चुनें। इस तरह के डेटा वेलिडेशन एक शक्तिशाली फूल-पुफ स्प्रेडशीट बनाने देते हैं क्योंकि उपयोगकर्ता को डेटा मैन्यूअल रूप से टाइप करने की जरूरत नहीं होती, इसलिये स्प्रेडशीट का उपयोग तेजी से किया जा सकता है और किसी त्रुटि के रहने का भी बहुत कम मौका रहता है।

RBSE Class 10 Information Technology Chapter 3 निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
एक्सेल का उपयोग करके हम चार्ट कैसे बना सकते हैं ? चरणों को समझाइए।
उत्तर:
चार्ट बनाना–सभी चार्ट्स को बनाने की बुनियादी प्रक्रिया समान होती है, चाहे हम किसी भी प्रकार को चार्ट बनायें। हम जैसे ही अपने डेटा को बदलते हैं, हमारा चार्ट स्वचालित रूप से अपडेट हो (बदल) जाता है। इन्सर्ट टैब से हम विभिन्न प्रकार के चार्ट्स चुन सकते हैं। जैसे-लाइन, पाइ, एरिया, कॉलम चार्ट्स आदि। एक चार्ट आरेखित करने के लिए निम्न चरणों का पालन करेंगे|
चरण 1. सबसे पहले वर्कशीट में डेटा दर्ज करेंगे जिसको हम चार्ट प्लॉट करना चाहते हैं।
चरण 2. डेटा वाली सभी सेलों का चयन करेंगे जो हम हमारे चार्ट में चाहते हैं।
चरण 3. इन्सर्ट टैब क्लिक करेंगे।
चरण 4. चार्ट ग्रुप से कोई चार्ट टाइप और चार्ट के उप प्रकार का चयन करेंगे।
चरण 5. चार्ट के टाइटल का चयन करेंगे

  • एक चार्ट के लिए एक टाइटल देने के लिए, चार्ट पर क्लिक करेंगे। अब हम ले-आउट टैब को देख सकते हैं। ले-आउट टैब पर क्लिक करेंगे।
  • लेबल ग्रुप में उपलब्ध चार्ट टाइटल विकल्प का चयन/क्लिक करेंगे।

चरण 6. चार्ट टाइटल पर क्लिक करेंगे और एक टाइटल लिखेंगे।
चरण 7. इसी प्रकार चार्ट के अन्य घटकों को सेट करेंगे।

प्रश्न 2.
चार्ट का क्या उपयोग है? एक चार्ट के घटक समझाइए।
उत्तर:
चार्ट हमें वर्कशीट में दर्ज किये हुए डेटा को, कई प्रकार के ग्राफ की किस्मों का उपयोग कर, एक दृश्य फॉर्मेट में प्रस्तुत करने देता है। अक्सर संख्यात्मक जानकारी को जब ग्राफिकली किसी एमएस एक्सेल चार्ट के रूप में प्रस्तुत करते हैं तब उसे समझना आसान होता है। एक्सेल में, आप नम्बरों को एक चार्ट के रूप में दर्शा सकते हैं। चार्ट के घटक – एक चार्ट में कई घटक होते हैं। डिफॉल्ट रूप से कुछ घटक दिखाई देते हैं, और दूसरों को आवश्यकता के अनुसार जोड़ा जा सकता है। आप प्रदर्शित करने के लिए नहीं इच्छित चार्ट घटक निकाल भी सकते हैं।

RBSE Solutions for Class 10 Information Technology Chapter 3 वर्कबुक में तत्त्वों (एलिमेंट्स) को जोड़ना
  1. चार्ट एरिया – सम्पूर्ण एरिया जो चार्ट और अन्य घटक जैसे टाइटल्स, लिजेंड्स आदि के लिए आरक्षित होता है।
  2. प्लॉट एरिया – चार्ट एरिया का हिस्सा है जिसमें चार्ट होता है।
  3. चार्ट टाइटल – पूरे चार्ट के लिए दिया गया एक शीर्षक।
  4. चार्ट एक्सिस टाइटल्स – एक्स-एक्सिस टाइटल-एक्स-एक्सिस डेटा रेंज के लिए दिया गया शीर्षक। वाई-एक्सिस टाइटल – वाई-एक्सिस डेटा रेंज के लिए दिया गया शीर्षक।
  5. लिजेंड्स – एक प्रकार के लेबल होते हैं जो कि विभिन्न सीरीज को चिह्नित करने में उपयोग किए जाते हैं। यह लेबलस् एक प्रतीक या रंग या पैटर्न से संलग्न रहते हैं, जो कि चार्ट की सीरीज के साथ संबद्ध होते हैं।
  6. हॉरिजॉन्टल (एक्स) और वर्टीकल (वाइ) एक्सिस (अक्ष)।
  7. डेटा लेबल – प्लॉट किए हुए डाटा सीरीज का मान।
  8. ग्रिडलाइनें – यह कैटेगरी एक्स और/या वाइ अक्ष पर प्रमुख अंतराल पर लाइनें दर्शाता है।

प्रश्न 3.
आर्गेनाइजेशनल चार्ट की व्याख्या करें।
उत्तर:
आर्गेनाइजेशनल चार्ट – एक आर्गेनाइजेशनल चार्ट, एक कंपनी के भीतर किसी आर्गेनाइजेशन की प्रबंधकीय संरचना (जैसे विभाग प्रबंधकों और गैरप्रबंधन कर्मचारियों) को ग्राफिकल्ली रिप्रेजेंट (प्रदर्शित) करता है। एमएस एक्सेल में, किसी स्मार्टआर्ट ग्राफिक का उपयोग करके, आप आर्गेनाइजेशनल चार्ट बना सकते हैं और इसे आपकी वर्कशीट में शामिल कर सकते हैं। आर्गेनाइजेशनल चार्ट को जल्दी और आसानी से बनाने के लिए, अपने आर्गेनाइजेशनल चार्ट में टेक्स्ट को लिखें या पेस्ट करें, और फिर टेक्स्ट स्वचालित रूप से स्थित और व्यवस्थित हो जाएगा। एक आर्गेनाइजेशनल चार्ट बनाने के लिए निम्न चरणों का उपयोग करेंगे –
चरण 1. इन्सर्ट टैब में इलुस्ट्रेशन्स ग्रुप पर जाएँगे और स्मार्टआर्ट क्लिक करेंगे।
चरण 2. चूज ए स्मार्टआर्ट ग्राफिक विंडो में हायरार्की क्लिक करेंगे।
चरण 3. चार्ट डिजाइन का चयन करके ओके क्लिक करेंगे।
चरण 4. प्रथम शेप में टेक्ट शब्द पर क्लिक करें और सम्बन्धित कर्मचारी के टाइटल या नाम को लिखेंगे।

प्रश्न 4.
एक्सेल में फंक्शंस की व्याख्या करो।
उत्तर:
एक्सेल में फंक्शन बनाना – पूर्वनिर्धारित फार्मूले को फंक्शन कहते हैं, जो एक कैलकुलेशन निष्पादित करने के लिए एक विशिष्ट मान को एक विशेष क्रम में उपयोग करता है। एक साथ हजारों नम्बरों को एक ही पल में जोड़ने, उनका औसत निकालने और कई अन्य चीजों की गणना करने के लिए, फंक्शन हमें सक्षम करता है। सभी फंक्शनस् का एक फंक्शन नाम होता है। उदाहरण के लिए, फंक्शन जो नम्बरों को एक साथ जोड़ता है। *SUM’ कहा जाता है और जो फंक्शन औसत की गणना करता है ‘AVERAGE’ कहा जाता है फंक्शन नाम के बाद, एक या अधिक आर्गयूमेंट्स होते हैं, जो कि नम्बर या सेल रेफरेन्सेस हो सकते हैं।

यदि फंक्शन में, एक से अधिक आयूमेंट्स होते हैं, तो वे अर्धविराम, से अलग किये जाते हैं। प्रत्येक फंक्शन का एक विशिष्ट क्रम होता है, यह फंक्शन के सिन्टैक्स के रूप में जाना जाता है, फंक्शन के सही ढंग से काम करने के लिए इसका कड़ाई से पालन होना चाहिए। निम्न चित्र में दिया गया उदाहरण, ‘AVERAGE’ फंक्शन को एक आग्र्युमेंट के साथ दिखाता है, जो कि A3 से C3 तक सेलों की रेंज हैं।

प्रश्न 5.
एक्सेल में रेफरेन्सेस् समझाइये।
उत्तर:
एक्सेल में फार्मूला बनाने के लिए रेफरेन्सेस् एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। एक विशेष सेल की वैल्यू में परिवर्तन होने पर, सेल रेफरेन्सेस् आपके फार्मूले को स्वचालित रूप से अपडेट कर देता है, और जब सेलों को कॉपी या मूव किया जाता है तब फार्मूले को अपडेट करने में आपकी सहायता कर सकते हैं। रेफरेन्सेस् दो प्रकार के होते हैं : रिलेटिव और ऐब्सोलूट। रिलेटिव और ऐब्सोलूट रेफरेन्सेस् अलग-अलग तरह से व्यवहार करते हैं। जब इन्हें अन्य सेलों में फिल या कॉपी किया जाता है। जब एक फार्मूले को अन्य सेल में कॉपी किया जाता है, तब रिलेटिव रेफरेन्सेस् परिवर्तित हो जाते हैं। इसके विपरीत ऐब्सोलूट रेफरेन्सेस् में कोई परिवर्तन नहीं होता, चाहे उन्हें कहीं भी कॉपी किया जाये, वे स्थिर रहते हैं।

डिफॉल्ट रूप से, सेल रेफरेन्सेस् रिलेटिव होते हैं, उदाहरण के लिए = A1। कॉलम या रोज या दोनों की लोकेशन से पहले एक डॉलर चिह्न ($) को जोड़ने से, रेफरेन्सेस् ऐब्सोलूट हो जाता है। जब सेल रेफरेन्सेस् में डॉलर चिह्न को जोड़ते हैं तब रेफरेन्स का वही भाग ऐब्सोलूट बनता है जो सीधे डॉलर चिह्न के बाद होता है। पूरे सेल रेफरेन्सेस को स्थिर रखने के लिए, डॉलर चिह को कॉलम और रोज दोनों की लोकेशन से पहले जोड़ते हैं, उदाहरण के लिए, =$A$1। रेंजस् और फार्मूला सहित, सभी स्थितियों में जहाँ पर सेल रेफरेन्सेस् की आवश्यकता होती है, रिलेटिव और ऐब्सोलूट सेल रेफरेन्सेस् का इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रश्न 6.
एक्सेल फॉर्म क्या है ? आप एक डेटा फॉर्म को एक्सेल में कैसे बना सकते हैं ?
उत्तर:
एक्सेल फॉर्म – यदि हमारी स्प्रेडशीट प्रबंधित करने के लिए बहुत बड़ी है, और हमें डेटा दर्ज करने के लिए लगातार आगे पीछे स्क्रॉल करना पड़ता है, ऐसी स्थिति में एक डेटा फॉर्म हमारे लिये बहुत सहायक हो सकता है। एक डेटा फॉर्म, किसी रेंज या टेबल में एक पूर्ण रो की जानकारी को, क्षैतिज रूप से स्क्रॉल किये बिना, प्रदर्शित करने के लिए एक सुविधाजनक साधन प्रदान करता है। डेटा फॉर्म सभी कॉलमों को प्रदर्शित करता है। ताकि हम एक बार में एक रो के सभी डेटा को देख सके। एक डेटा फॉर्म बनाने के लिए निम्न चरणों का उपयोग करेंगे।

चरण 1. हमें रेंज या टेबल में प्रत्येक कॉलम के ऊपर लेबल जोड़ना चाहिए, क्योंकि एक्सेल, फॉर्म के फील्ड बनाने के लिए इन लेबल्स का उपयोग करता है।
चरण 2. रेंज या टेबल में एक सेल का चयन करेंगे जिससे हम फॉर्म जोड़ना चाहते हैं।
चरण 3. क्विक एक्सेस टूलबार में फॉर्म पर क्लिक करेंगे।

यदि फॉर्म बटन क्विक एक्सेस टूलबार में मौजूद नहीं है। तो, इसे जोड़ने के लिए निम्न चरणों का उपयोग करेंगे।

चरण 1. क्विक एक्सेस टूलबार पर क्लिक करेंगे और मेन्यू से मोर कमांड्स का चयन करेंगे।
चरण 2. चूज कमांड्स फ्रॉम ड्रॉप डाउन लिस्ट से आल कमांड्स का चयन करेंगे और फिर नीचे की सूची में फॉर्म का चयन करेंगे।
चरण 3. एड >> क्लिक करेंगे और उसके बाद ओके दबायेंगे (फॉर्म बटन क्विक एक्सेस टूलबार में जुड़ जायेगा)

प्रश्न 7.
एक सेल या एक रेंज में डेटा वैलिडेशन जोड़ने के लिए चरणों को लिखें।
उत्तर:
एक सेल या एक रेंज में डेटा वैलिडेशन जोड़ने के लिए निम्न चरणों का उपयोग करते हैं –
चरण 1. वेलिडेट करने के लिए एक या अधिक सेलों को चयन करेंगे।
चरण 2. डाटा टैब के डाटा टूल्स ग्रुप में डाटा वेलिडेशन पर क्लिक करेंगे।
चरण 3. डाटा वेलिडेशन डायलॉग बॉक्स के सेटिंग्स टैब पर, अलाऊ (Allow) ड्रॉप-डाउन सूची में से उपयुक्त डेटा वेलिडेशन प्रकार का चयन करेंगे।
चरण 4. अपने डिजायर्ड (चाहे गए) वेलिडेशन के अनुसार, उचित पैरामीटर्स सेट करेंगे।
चरण 5. रिक्त (null) मानों को हैंडल करने के लिए, इग्नोर ब्लेंक का उपयोग करेंगे।
चरण 6. सेल चयनित होने पर एक्सेल इनपुट संदेश प्रदर्शित करेंगे इसके लिए इनपुट मैसेज टैब का उपयोग करेंगे।
चरण 7. उपयोगकर्ता द्वारा सेल में इनवैलिड (अशुद्ध) डेटा दर्ज करने के बाद एक्सेल त्रुटि चेतावनी प्रदर्शित करे इसके लिए एरर अलर्ट टैब का उपयोग करेंगे।
RBSE Solutions for Class 10 Information Technology Chapter 3 वर्कबुक में तत्त्वों (एलिमेंट्स) को जोड़ना 2


RBSE Solutions for Class 10 Information Technology Chapter 3 वर्कबुक में तत्त्वों (एलिमेंट्स) को जोड़ना 3
RBSE Solutions for Class 10 Information Technology Chapter 3 वर्कबुक में तत्त्वों (एलिमेंट्स) को जोड़ना 4

प्रश्न 8.
एक्सेल में आप अपने वर्कशीट और वर्कबुक को कैसे साझा कर सकते हैं ?
उत्तर:
एक्सेल में वर्कशीट और वर्कबुक को साझा करना–यदि हम एक वर्कबुक को शेयर (साझा) करते हैं, तब हम एक ही समय में उसी वर्कबुक पर अन्य लोगों के साथ काम कर सकते हैं। वर्कबुक किसी नेटवर्क स्थान पर, जहाँ अन्य लोग इसे खोल सकते हैं पर सेव की जानी चाहिए। शेयर वर्कबुक के ओनर के रूप में, हम इसे पर यूजर एक्सेस को नियंत्रित और (कंफलिक्टिंग) परस्पर-विरोधी परिवर्तनों का निराकरण (रिजोल्व) करके इसे मैनेज कर सकते हैं।

हम अन्य लोगों द्वारा किये गये परिवर्तनों को ट्रैक करके, उन परिवर्तनों को स्वीकार या अस्वीकार कर सकते हैं। सभी परिवर्तनों को शामिल करने के बाद, हम वर्कबुक शेयरिंग को रोक सकते हैं। डेटा को साझा करने के तरीके का चुनाव कई कारकों पर निर्भर करता है। जैसे कि डेटा दूसरों को कैसे दिखे या कैसे दूसरे डेटा के साथ काम करें। उदाहरण के लिए आप संवेदनशील या महत्त्वपूर्ण जानकारी को संशोधित किये जाने से रोकना चाहते हैं।

या हम उपयोगकर्ताओं को संपादित करने और बदलने की अनुमति देना चाहते हैं। वर्कबुक शेयरिंग के लिए निम्न चरणों का पालन करेंगे|

चरण 1. चेंज ग्रुप में रिव्यू टैब पर, शेयर वर्कबुक्स क्लिक करेंगे।
चरण 2. शेयर वर्कबुक्स डायलॉग बॉक्स में, एडिटिंग टैब पर, चेक बॉक्स अलाऊ चेंजेस बाई मोर देन वन यूजर एट द सेम टाइम, दिस आल्सो अलाउ वर्कबुक मार्जिन को चेक करेंगे।
चरण 3. एडवांस्ड टैब पर, ट्रैकिंग एंड अपडेटिंग चेंजेस के लिए इच्छित विकल्पों का चयन कर ओके क्लिक करेंगे।
चरण 4. निम्न में से एक करेंगे

  • यदि यह कोई नई वर्कबुक है, तो फाइल का नाम, नेम बॉक्स में लिखेंगे।
  • यदि यह कोई मौजूदा वर्कबुक है, तो वर्कबुक को सहेजने के लिए ओके क्लिक करेंगे।

चरण 5. यदि वर्कबुक में अन्य वर्कबुकों या डॉक्यूमेंट्स के लिए लिंक है, तो लिंक की जाँच करेंगे और किसी टूट लिंक को सही करेंगे।
चरण 6. ऑफिस बटन क्लिक करेंगे और फिर सेव क्लिक करेंगे।

यो वर्कबुक को सहेजने के लिए की-बोर्ड शॉर्टकट, CTRL + S दबायेंगे।

प्रश्न 9.
एक्सेल में आप अपने डेटा को आयात (इम्पोर्ट) या निर्यात (एक्सपोर्ट) कैसे कर सकते हैं ?
उत्तर:
एक्सेल का उपयोग करके एक टेक्स्ट फाइल से डेटा आयात करने के दो तरीके हैं – आप एक्सल में टेक्स्ट फाइल खोल सकते हैं, या आप टेक्स्ट फाइल को बाह्य डेटा रेंज के रूप में इम्पोर्ट कर सकते हैं। एक्सेल से डेटा को किसी टेक्स्ट फाइल में एक्सपोर्ट करने के लिए, सेव एस कमांड का उपयोग करें। निम्न दिए गए चरणों में, हम यह मान रहे हैं कि टेक्स्ट फाइल में, टैब करैक्टर, टेक्स्ट के प्रत्येक फील्ड को अलग करता है।

एक टेक्स्ट फाइल को, एक्सेल में खोलकर, इसे आयात करने के लिए, निम्न चरणों का पालन करेंगे –

चरण 1. ऑफिस बटन पर ओपन क्लिक करेंगे।
चरण 2 ओपन डायलॉग बॉक्स से टेक्स्ट फाइल्स का चयन करेंगे, फिर उसके बाद टेक्स्ट फाइल पर डबल| क्लिक करेंगे, जिसे हम खोलना चाहते हैं।
चरण 3. (अ) एक .csv फाइल इम्पोर्ट करने के लिए, .csv फाइल का चयन करेंगे और ओपन क्लिक करेंगे।
चरण 3. (ब) एक .txt फाइल को इम्पोर्ट करने के लिए .txt फाइल का चयन करेंगे और ओपन क्लिक करेंगे। एक्सेल टेक्स्ट इम्पोर्ट विजार्ड को खोल देगा।
चरण 4. डिलिमिटेड का चयन करेंगे और नेक्स्ट पर क्लिक करेंगे।
चरण 5. डिलिमिटर के अंतर्गत, टैब चेक बॉक्स को छोड़कर, सभी चेक बॉक्सों को क्लियर करेंगे और नेक्स्ट क्लिक करेंगे।
चरण 6. फिनिश क्लिक करेंगे।

डाटा को एक्सपोर्ट करना-टेक्स्ट फाइल को एक्सपोर्ट करने के लिए, निम्न चरणों का उपयोग करेंगे –

चरण 1. एक एक्सेल फाइल खोलेंगे।
चरण 2. ऑफिस बटन के सेव एस पर क्लिक करेंगे।
चरण 3. टेक्स्ट (टैब डिलिमिटेड) या सीएसवी (कामा डिलिमिटेड) को ड्रॉप-डाउन सूची में से चुनेंगे।
चरण 4. सेव क्लिक करेंगे।

प्रश्न 10.
स्पार्कलाइन क्या है ? स्पार्कलाइन बनाए रखने के लिए चरणों को लिखें।
उत्तर:
स्पार्कलाइन – स्पार्कलाइन एक बहुत ही छोटी लाइन चार्ट है, जो कि आम तौर पर बिना अक्ष या निर्देशांक के बनाई जाती है। स्पार्कलाइंस इतनी छोटी होती है कि उन्हें टेक्स्ट में एम्बेड किया जा सकता है या कई स्पार्कलाइंस को एक छोटे बहुघटकों के रूप में एक साथ समूहीकृत किया जा सकता है। डेटा को एक रो या कॉलम में प्रस्तुत करना उपयोगी है, लेकिन एक नजर में पैटर्न का पता करना कठिन हो सकता है। स्पार्कलाइन को डेटा के आगे डालने से, उन नम्बरों के लिए कान्टेक्स्ट प्रदान किया जा सकता है। स्पार्कलाइन बनाने के लिए निम्न चरणों का उपयोग करेंगे –

चरण 1. सभी सेलों का चयन करेंगे जिनके डेटा के लिए हम स्पार्कलाइन बनाना चाहते हों, और फिर इन्सर्ट टैब में चार्ट्स ग्रुप पर क्लिक करेंगे।
चरण 2. लाइन विकल्प क्लिक करेंगे और 2डी लाइन चार्ट का चयन करेंगे।
चरण 3. लिजेंड का चयन करेंगे और डिलिट कुंजी दबाएँगे।
चरण 4. हॉरिजॉन्टल एक्सिस और वर्टीकल एक्सिस का चयन करेंगे और डिलिट कुंजी दबाएँगे।
चरण 5. हॉरिजॉन्टल ग्रिड लाइन का चयन करेंगे और डिलिट कुंजी दबाएँगे।
चरण 6. चार्ट का चयन करेंगे और हैंडल्स को इच्छित शेप के लिए ड्रैग करेंगे।

All Chapter RBSE Solutions For Class 10 Information Technology Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 10 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 10 Information Technology Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *