RBSE Solutions for Class 10 English Supplementary Reader Chapter 2 Bholi

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 10 English Supplementary Reader Chapter 2 Bholi सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 10 English Supplementary Reader Chapter 2 Bholi pdf Download करे| RBSE solutions for Class 10 English Supplementary Reader Chapter 2 Bholi notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 10 English Supplementary Reader Chapter 2 Bholi

Gather chapter wise Rajasthan Board Class 10 English Solutions Study Material to score the highest marks in the final exam. Various chapters and subtopics are given clearly in RBSE Solutions Class 10 English Material. All the Rajasthan Board Class 10 English Chapter 2 Bholi Questions with detailed answers are provided by subject experts.

The step by step Rajasthan Board RBSE Class 10 English guide will help you to enhance your skills in both English subject and grammar. Here, along with the subject knowledge, grammar knowledge also plays an important role. So, students should download Rajasthan Board Class 10 English Solutions and read it to attempt all the questions with 100% confidence.

Textbook Questions Solved

Comprehension

A. Tick the correct alternative :

Bholi Class 10 Questions And Answers RBSE Question 1.
At what age did Bholi have an attack of smallpox?
(a) two years
(b) three years
(c) four years
(d) five years
Answer.
(a)

RBSE Solutions For Class 10 English Question 2.
Who insisted on Ramlal to send his daughter to school?
(a) Teacher
(b) Numberdar
(C) Tehsildar
(d) Bishamber
Answer.
(c)

Bholi Class 10 Questions And Answers Question 3.
What did the teacher give to Bholi on the first day of her school?
(a) sweets
(b) book
(c) clothes
(d) note book
Answer.
(b)

RBSE Solution Class 10 English Question 4.
How much money was demanded by Bishamber?
(a) one thousand rupees
(b) two thousand rupees
(c) ten thousand rupees
(d) five thousand rupees
Answer.
(d)

B. State whether the statements given below are True (T) or False (F) :

RBSE Solution English Class 10 Question 1.
Sulekha was the first daughter of Numberdar Ramlal.
Answer.
False

RBSE Solutions Class 10 English Question 2.
Bholi’s mother was an educated woman.
Answer.
False

Class 10 English RBSE Solution Question 3.
Ramlal’s wife was in a hurry to marry Bholi off to anyone.
Answer.
True

Bholi Chapter Class 10 Question Answer Question 4.
Bholi did not enjoy her first day at school.
Answer.
False

English Class 10 RBSE Solutions Question 5.
The teacher told Bholi to speak without fear.
Answer.
True

C. Answer the following questions in about 20 25 words each :

Bholi Class 10 Question Answer Question 1.
How did Bholi become a backward child?
भोली एक मंदबुद्धि बालिका कैसे बन गई?
Answer.
Bholi was the fourth daughter of Ramlal. When she was only ten months old, she unfortunately fell off the cot. She fell down on her head and some part of her brain got damaged. As she lost her mental ability, she remained a backward child.

भोली रामलाल की चौथी बच्ची थी। जब वह केवल दस महीने की थी, तो दुर्भाग्यवश चारपाई से गिर गई। वह सिर के बल गिरी तथा उसके मस्तिष्क का कुछ भाग क्षतिग्रस्त हो गया। अपनी मानसिक योग्यता खो देने के कारण वह मंदबुद्धि बालिका बन गई।

RBSE Solutions English Class 10 Question 2.
Why did the other children make fun of Bholi?
भोली का अन्य बच्चों ने उपहास क्यों उड़ाया?
Answer.
Bholi had no idea about school. She was made to sit down in a corner of the classroom. Several girls were also squatting on mats. The lady teacher asked her name but she could stammer no further than Bh-Bho-Bho. When the other girls heard her voice, they burst into laughter because it was a fun for them.

भोली को विद्यालय के बारे में कोई अनुमान नहीं था। वह कक्षा में एक कोने में बैठी थी। बहुत सारी लड़कियाँ चटाई पर पालथी मारकर बैठी थीं। महिला शिक्षिका ने उसका नाम पूछा किंतु वह हकलाकर भो-भो के सिवास कुछ भी नहीं बोल पाई। जब अन्य लड़कियों ने उसकी आवाज की सुनी तो वे ठठाकर हँस पड़ीं, क्योंकि यह उनके लिए मनोरंजन का विषय था।

RBSE Solution For Class 10 English Question 3.
Write a short note on Ramlal’s family.
रामलाल के परिवार पर एक टिप्पणी लिखिए।
Answer.
Ramlal was a revenue official and a government representative. He had seven children-three sons and four daughters. There was plenty to eat and drink. The sons had been sent to the city to study in schools and later in colleges. He represented the government in the village. Everybody had respect him.

रामलाल एक समृद्ध किसान था। उसके सात बच्चे थे-तीन बेटे तथा चार बेटियाँ। खाने-पीने की कमी नहीं थी। लड़कों को अध्ययन के लिए शहर में पहले विद्यालय तथा बाद में महाविद्यालय में भेजा गया। वह गाँव में सरकार का प्रतिनिधित्व करता था। एक राजस्व अधिकारी के रूप में हर कोई उसकी इज्जत करता था।

RBSE Solution Class 10th English Question 4.
Why was Bholi’s father worried about her?
भोली के पिता उसके प्रति चिंतित क्यों थे?
Answer.
Bholi’s father was worried about her because she was neither intelligent nor beautiful. A part of her brain was damaged due to falling from the cot and the attack of smallpox had leftugly pock-marks all over her body.

भोली के पिता उसके प्रति चिंतित इसलिए थे, क्योंकि न तो वह बुद्धिमान थी और न ही सुंदर। उसके मस्तिष्क का एक भाग चारपाई से गिरने के कारण क्षतिग्रस्त हो चुका था तथा चेचक के कारण उसके शरीर के सभी भागों में दाग हो गए थे।

Class 10th RBSE Solution English Question 5.
Why was Bholi sent to school?
भोली को विद्यालय क्यों भेजा गया?
Answer.
Bholi was sent to school because the Tehsildar asked Ramlal to do so and Ramlal could not dare to ignore him. The Tehsildar told him that he should send his daughter to school as he was a revenue official and government representative in the village. So, he must set an example before the villagers.

भोली को विद्यालय इसलिए भेजा गया, क्योंकि तहसीलदार ने रामलाल को ऐसा करने के लिए कहा था और वह तहसीलदार की बात को टाल नहीं सकता था। तहसीलदार ने उससे कहा कि उसे अपनी बच्ची को विद्यालय भेजना चाहिए क्योंकि वह एक राजस्व अधिकारी है तथा वह गाँव में सरकार का प्रतिनिधित्व करता है। इसलिए उसे गाँव में एक उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए।

RBSE Solutions For Class 10th English Question 6.
What did Bholi’s mother say after receiving the proposal from Bishamber?
बिशम्बर के प्रस्ताव स्वीकारने के बाद भोली की माँ ने क्या कहा?
Answer.
Bholi’s mother suggested Ramlal to accept Bishamber’s proposal. She said Bholi was lucky to get such a rich and wel-to-do bridegroom. Forty-five or fifty is no great age for a man. They are lucky that he does not know about the pock-marks and her lack of sense.

भोली की माँ ने रामलाल को सुझाव दिया कि वह बिशम्बर के प्रस्ताव को स्वीकार कर ले। उसने कहा कि भोली भाग्यवान है कि उसे ऐसा दूल्हा मिला है। व्यक्ति के लिए पैंतालीस अथवा पचास की उम्र कोई ज्यादा नहीं है। हम भाग्यवादी हैं कि वह उसके शरीर के दाग तथा मंद मस्तिष्क के बारे में नहीं जानता।

D. Answer the following questions in about 30 40 words each :

Question 1.
What was the situation in the class room when Bholi attended the school for the first time?
जब भोली ने प्रथम बार कक्षा में प्रवेश किया, तो वहाँ की स्थिति क्या थी?
Answer.
Bholi did not know what the school was like. When she reached school, she found many children sitting in their classrooms. There were several rooms and in each room girls like her squatted on mats. They were reading from books or writing on slates. She was glad to find so many girls. She thought that one of these girls might become her friend.

भोली को यह नहीं मालूम था कि विद्यालय कैसा होता है। जब वह विद्यालय पहुँची तो उसने देखा कि बहुत सारे बच्चे अपनी-अपनी कक्षाओं में बैठे हुए हैं। वहाँ बहुत सारे कमरे थे तथा प्रत्येक कमरे में उसके जैसी लड़कियाँ चटाई पर पालथी मारकर बैठी हुई थीं। वे किताबें पढ़ रही थीं या स्लेट पर लिख रही थीं। बहुत सारी लड़कियों के बीच पाकर वह बहुत खुश थी। वह सोच रही थी कि उनमें से एक लड़की उसकी दोस्त हो सकती है।

Question 2.
What major changes were visible in the village in a few years ?
कुछ ही वर्षों में गाँव में कौन-से महत्वपूर्ण परिवर्तन दृष्टिगोचर हुए थे?
Answer.
Several changes were visible in the village in a few years. The village had become a town and the little primary school was converted into a high school. It had a cinema hall arranged under a tin shed and a cotton ginning mill. The village railway station had also become important. Now the mail train stopped there.

कुछ ही वर्षों में गाँव में बहुत सारे परिवर्तन आए थे। गाँव शहर के रूप में परिवर्तित हो गया था तथा छोटा प्राथमिक विद्यालय उच्च विद्यालय के रूप में परिवर्तित हो गया था। टीन के शेड से बना एक सिनेमा हॉल भी तैयार हो गया था तथा कपास ओटाई का एक मिल भी बन गया था। गाँव का रेलवे स्टेशने भी महत्वपूर्ण बन गया था। अब यहाँ मेल ट्रेनें भी रुकरने लगी थीं।

Question 3.
Why did Ramlal place his turban at Bishamber’s feet?
रामलाल ने बिशम्बर के पैरों पर अपनी पगड़ी क्यों रख दी?
Answer.
Bishamber took a quick glance at Bholi’s face. He found pock-marks on her face and showed hesitation to marry her. Finally he decided that he would take five thousand rupees for marrying her, otherwise he would go away with his friends. Ramlal was a respectable man in the village. He placed his turban at Bishamber’s feet so that he could save his honour.

बिशम्बर ने एक तीक्ष्ण दृष्टि भोली के चेहरे पर डाली। उसने उसके चेहर पर चेचक के दाग देखे एवं उससे शादी करने में हिचकिचाहट दिखलाई। अंत में उसने यह निर्णय लिया कि वह शादी करने के एवज में पाँच हजार रुपये लेगा। अन्यथा वह अपने दोस्तों के साथ चला जाएगा। रामलाल गाँव का एक प्रतिष्ठित व्यक्ति था। उसने अपनी इज्जत बचाने के लिए बिशम्बर के पैरों पर अपनी पगड़ी रख दी।

Question 4.
Why did Bholi refuse to marry Bishamber?
भोली ने बिशम्बर के साथ शादी करने से क्यों इंकार कर दिया।
Answer.
Bholi refused to marry Bishamber due to his greedy nature. Bholi’s parents accepted Bishamber’s proposal to get married to Bholi. Although it was not a right pair as Bishamber was forty five or fifty years old and lame also. On the fixed date Bishamber reached to marry Bholi. By chance he saw Bholi’s pock-marks and refused to garland Bholi. Now he demanded five thousand rupees from Ramlal. Ramlal requested Bishamber and put his turban at his feet. But Bishamber did not agree. At last Ramlal gave him five thousand rupees. Seeing his greediness, Bholi threw the garland into the fire and refused to marry Bishamber. Thus the marriage could not take place.

भोली ने बिशम्बर से उसके लालची व्यवहार के कारण शादी करने से इंकार कर दिया। भोली के माता-पिता ने भोली के साथ शादी करने के बिशम्बर के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया। हालाँकि यह आदर्श जोड़ी नहीं थी क्योंकि बिशम्बर 45 या 50 वर्ष का था और लँगड़ा भी था। लेकिन उन लोगों ने इस प्रस्ताव को इसलिए स्वीकार कर लिया क्योंकि भोली मंद बुद्धि थी तथा उसके शरीर पर चेचक के दाग भी थे। निर्धारित विधि को बिशम्बर भोली से शादी रचाने पहुँचा। संयोगवश उनकी नजर भोली के चेचक के दागों की तरफ गई तथाउसने भोली को माला पहनाने से इंकार कर दिया। इसके बाद उसने रामलाल से पाँच हजार रुपये की माँग की। रामलाल ने बिशम्बर से प्रार्थना की तथा अपनी पगड़ी को उसके कदमों में रख दिया। किंतु बिशम्बर तैयार नहीं हुआ। अंत में रामलाल ने उसे पाँच हजार रुपये दिए। उसके लालच को देखकर, भोली ने माला को आग में फेंक दिया तथा बिशम्बर से शादी करने से मना कर दिया। अतएव, शादी नहीं हो पाई।

E. Answer the following questions in about 60 80 words each :

Question 1.
Draw a character sketch of Bholi.
भोली को चरित्र-चित्रण दीजिए।
Answer.
Bholi’s real name was Sulekha. She was a backward child as why she was only 10 months old, she fell off the cot on her head and got her brain damaged. She was never given importance at home. Bholi was leading the life of a sick person. But the teacher changed her life and brought a sea change in her personality. She made her outspoken, bold, confident, fearless, and courageous. She became an intelligent girl who could tell what was right or wrong. She stopped stammering and recovered from mental illness. Her refusal to marry Bishamber proved that she was courageous and could distinguish between right and wrong.

भोली का वास्तविक नाम सुलेखा था। वह एक मंदबुद्धि बालिका थी, क्योंकि वह चारपाई से सिर के बेल गिर गई थी तथा उसका मस्तिष्क क्षतिग्रस्त हो गया था। उसे घर में कभी भी महत्व नहीं दिया गया। वह एक रुग्ण जीवन जी रही थी। लेकिन शिक्षिका ने उसके जीवन को परिवर्तित कर दिया तथा उसके व्यक्तित्व में एक क्रांतिकारी परिवर्तन लाई। शिक्षिका ने उसे सुस्पष्ट, निर्भीक, आत्मविश्वासी, निर्भय तथा साहसी होना सिखाया। वह एक समझदार लड़की बन गई। वह गलत और सही के बीच पहचान कर सकती थी। उसका हकलाना बंद हो गया तथा वह मानसिक अयोग्यता से मुक्त हो गई। बिशम्बर से उसका शादी से इंकार यह दर्शाता है कि वह एक साहसी लड़की थी तथा गलत और सही के बीच पहचान कर सकती थी।

Question 2.
Why did Bholi’s parents accept Bishamber’s marriage proposal?
भोली के माता-पिता ने बिशम्बर के विवाह के प्रस्ताव को क्यों स्वीकार कर लिया?
Answer.
Bholi’s parents accepted Bishamber’s marriage proposal because they thought that no one will marry Bholi and she will remain unmarried throughout the life as Bholi is neither intelligent nor beautiful. Secondly, Bishamber has a big shop and his own house. Moreover, he doesn’t ask for dowry.

भोली के माता-पिता ने बिशम्बर के विवाह के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया, क्योंकि वे सोचते थे कि कोई भी भोली से शादी नहीं करेगा। भोली जीवन भर कुँआरी रह जाएगी, क्योंकि न तो वह समझदार है और न ही सुंदर। बिशम्बर की एक बड़ी दुकान थी तथा उसका अपना एक बड़ा घर भी था। इसके अलावा उसने दहेज की भी मांग नहीं की थी।

Question 3.
What was the role of the school teacher in Bholi’s life?
भोली के जीवन में शिक्षिका की क्या भूमिका थी?
Answer.
When Bholi came to school and met her teacher, she was very shy and innocent. She didn’t know anything about life’s hardships. She had lack of sense as she fell from a cot when she was ten months old and her brain got damaged. That’s why she could not speak till five of her age. After five, she tried to speak but could not and only stammered. Due to the attack of smallpox-there were pock-marks all over her body. All made fun of her. But her teacher didn’t make fun of her. She encouraged her to speak and told if she would come to school daily, she could speak properly. When she will cated in the village, no one could dare to laugh at her. Her words motivated Bholi very much. Thus her teacher played a very important role in changing the course of Bholi’s life.

जब भोली विद्यालय आई तथा अपनी शिक्षिका से मिली तब वह बहुत ही शर्मीली तथा मासूम थी। वह जीवन की दुशवारियों के बारे में बिल्कुल ही नहीं जानती थी। वह मंद बुद्धि की थी, क्योंकि जब वह दस माह की थी तो वह चारपाई से गिर गई थी तथा उसके मस्तिष्क का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था। इसलिए वह पाँच वर्ष तक की आयु तक कुछ भी बोलने में असमर्थ थी। पाँच वर्ष के बाद उसने बोलने की कोशिश की, लेकिन बोल नहीं सकी तथा हकलाने लगी। चेचक के प्रकोप के कारण, उसके पूरे शरीर में दाग हो गए। सभी उसका मजाक उड़ाते। लेकिन उसकी शिक्षिका ने उसका मजाक नहीं उड़ाया। उसने उसे बोलने के लिए प्रोत्साहित किया तथा कहा कि यदि वह रोज विद्यालय आएगी तो सही तरीके से बोलने लगेगी। जब वह गाँव की सबसे शिक्षित लड़की होगी तो कोई भी उस पर हँसने का साहस नहीं कर पाएगा। इस शब्दों ने भोली को बहुत ही ज्यादा प्रेरित किया। अतः उसकी शिक्षिका ने भोली के जीवन में परिवर्तन लाने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Activity

Question 1.
After having read the story, you must have realised the evils of the dowry system. Deliver a speech in the assembly at your school on the eradication of dowry system in India.
इस कहानी को पढ़ने के बाद आपने दहेज प्रथा की बुराइयों को अवश्य ही महसूस किया होगा। अपने विद्यालय की विधान-सभा में दहेज प्रथा के उन्मूलन पर एक व्याख्यान दीजिए।
Answer.
The eradication of dowry system in India Respected Principal, learned teachers and dear friends! Good morning! Dowry is a widely prevalent evil in Indian Society. In the 70 years since independence, three separate and coexisting laws have been passed against dowry, yet the evil has not subsided. The answers are simple. The society itself loves dowry so much that it does not want to let it go.

The media or the Indian government never mentions about the total number of married women committing suicides. However, we can overcome the problem of dowry.

What the Indian government and NGO’s have not been able to achieve in 70 years, can actually be achieved in less than four years. The steps to eradicate the problem are simple. We should attack the root not the stem. Dowry must be stopped at the exchange stage. The police must raid marriages where dowry is being exchanged and arrest the groom, bride and all members accused of giving or taking dowry. This will completely stop this practice.

Prosecuting dowry givers will instil fear in the minds of people and they will then take a strong stand against giving dowry. The society will slowly realise that the dowry hungry husbands will have to sit at home unmarried for life because no one will give dowry. They will ultimately have to marry in dowry free marriages.

We must stop extravagant marriages and have hotline numbers to report dowry exchanges. Both the families who engage in dowry, including the bride and groom must be punished. But marriage worth crores happen every day in India and the government does not bat an eyelid. Further, a hotline should be set up where people can report such exchanges.

Marriages must be registered in court with the seal of a dowry prohibitation officer. In these marriages, when the bride and groom take a solemn vow that no dowry has been exchanged, it will spread some encouraging message against the dowry takers. In conclusion, it can be said that dowry must be stopped for a healthy social life.

भारत में दहेज प्रथा का उन्मूलन गुड मॉर्निंग! सम्मानित प्राचार्य महोदय, विद्वान शिक्षकगण तथा प्रिय मित्रो! दहेज भारतीय समाज
में व्यापक रूप से प्रचलित बुराई है। आजादी के 70 वर्ष गुजर जाने के बाद तक, तीन पृथक तथा सह-अस्तित्ववाले कानून दहेज प्रथा को समाप्त करने हेतु लागू किए गए, किंतु अभी तक इस कुप्रथा को कम नहीं किया जा सका है। उत्तरे बिल्कुल ही सरल है। समाज को भी दहेज प्रथा रास आ रही है, इसलिए इसे भगाना मुश्किल हो रहा है।

सरकार अथवा मीडिया यह कभी उल्लेख नहीं करती कि कितनी संख्या में विवाहित महिलाओं ने आत्महत्या की। तथापि हम दहेज की समस्या पर काबू पा सकते हैं। जिसे भारत सरकार तथा स्वयंसेवी संस्थाएँ 70 वर्षों में नहीं कर सकीं, उसे चार वर्षों से कम अवधि में भी किया जा सकता है। इस समस्या का समाधान करने का तरीका बड़ा ही आसान है। हमें इसकी जड़ पर प्रहार करना चाहिए, न कि इसके तने पर। दहेज की लेन-देन की अवस्था को रोका जाना चाहिए। पुलिस को दहेज के लेन-देन के स्थान, जहाँ शादी होती है, पर छापा मारकर दूल्हा-दुल्हन समेत उन सभी लोगों को गिरफ्तार कर लेना चाहिए जो दहेज की लेन-देन में शामिल होते हैं। यह दहेज प्रथा पर पूरी तरह से रोक लगा देगा।

दहेज देने वालों को भी दंडित करने से लोगों के मन में भय पैदा होगा तथा वे दहेज देने के खिलाफ एक सशक्त मोर्चा लेंगे। समाज धीरे-धीरे इस बात को समझेगा कि दहेज लोभी दूल्हे को जीवन भर घर में कुँआरा ही रहना होगा, क्योंकि कोई भी उन्हें दहेज नहीं देगा। अंततोगत्वा वे दहेज मुक्त शादी करेंगे। हमें अपव्ययी शादियों पर भी रोक लगानी चाहिए तथा हॉट लाइन नंबर का प्रावधान रखना चाहिए, जहाँ कि इस तरह की शादियों के बारे में सूचनाएँ प्राप्त हो सकें। दूल्हा व दुल्हन, दोनों के परिवार, जो दहेज को बढ़ावा देते हैं, को दंडित किया जाना चाहिए। लेकिन भारत में करोड़ों रुपये का लेन-देन शादियों के संदर्भ में होता है, किंतु भारत सरकार की आँखें नहीं खुलतीं। इसलिए एक हॉट लाइन नंबर की प्रावधान किया जाना चाहिए, जहाँ कि लोग इस तरह की लेन-देन के बारे में सूचनाएँ दे सकें।

शादियाँ न्यायालय में दहेज विरोधी अधिकारी के मोहर के साथ निबंधित की जानी चाहिए। इस प्रकार की शादियों में जहाँ कि दूल्हा तथा दुल्हन सत्यनिष्ठा से इस बात की प्रतिज्ञा करते हैं कि इस शादी में कोई दहेज नहीं लिया गया है, दहेज लेने वालों के खिलाफ एक सशक्त संदेश के रूप में जाएगा। अंत में, निष्कर्ष के तौर पर यही कहा जा सकता है कि एक स्वस्थ समाज में दहेज का निषेध होना चाहिए।

All Chapter RBSE Solutions For Class 10 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 10 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 10 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *