Pratidin Kaun Sa Samas Hai

Pratidin Kaun Sa Samas Hai – प्रतिदिन में कौन सा समास है?

Pratidin Kaun Sa Samas Hai: हेलो स्टूडेंट्स, आज हम इस आर्टिकल में प्रतिदिन में कौन सा समास है? (Pratidin Kaun Sa Samas Hai) के बारे में पढ़ेंगे | यह हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण टॉपिक है जिसे हर एक विद्यार्थी को जानना जरूरी है |

Pratidin Kaun Sa Samas Hai

प्रतिदिन में प्रयुक्त समास का नाम –
प्रतिदिन में अव्ययीभाव समास है।

प्रतिदिन में अव्ययीभाव समास है।इसलिए हमने विद्यार्थियों की सहायता के लिए अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण को यहाँ पर संक्षेप में समझाया है!

अव्ययीभाव समास की परिभाषा

इस समास में दो शब्दों से मिलकर जो शब्द बनता है वह अव्यव यानी क्रिया विशेषण का काम करता है । इसलिए इसका नाम अव्ययीभाव समास है । अव्ययीभाव समास में पहला पद प्रधान होता है। और यह अवयव होता है जैसे- प्रतिदिन, यथाशक्ति । कई बार शब्दों की आवृत्ति के रूप में भी अव्ययीभाव समास का प्रयोग होता है । जैसे- रातों-रात दिनोंदिन।  पुनरुक्ति होने पर भी अव्ययीभाव समास माना जाता है।

जैसे- जल्दी-जल्दी,साफ-साफ,गली गली। कभी-कभी अव्ययीभाव समास में मूल शब्द में उपसर्ग जोड़कर भी शब्द रचना की जाती है

जैसे –बेमतलब = बिना मतलब के

प्रतिक्षण = हर क्षण।

अव्ययीभाव समास के उदाहरण –

समस्तपद और विग्रह

प्रत्येक = प्रति-एक

साफ-साफ = बिल्कुल साफ

आमरण = मरण तक

यथानियम = नियम के अनुसार

बेकाम = बिना काम के

आजन्म = जन्म से लेकर

इसे भी पढ़े:  पीताम्बर में कौन सा समास है?

गाँव-गाँव = प्रत्येक गाँव

यथाशक्ति = शक्ति के अनुसार

रातोंरात = रात ही रात में

निस्संदेह = संदेह रहित

प्रतिदिन = दिन-दिन

घर-घर = प्रत्येक घर

यथाशीघ्र = जितना शीघ्र हो

आजीवन = जीवन-पर्यंत/जीवन भर

हरघड़ी = घड़ी-घड़ी

हाथोंहाथ = हाथ ही हाथ में

आर्टिकल में अपने पढ़ा कि प्रतिदिन मे कौन सा समास है? हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.