Kerberos Protocol in Hindi

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज Kerberos Protocol in Hindi के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में नेटवर्क सुरक्षा और क्रिप्टोग्राफी के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

Kerberos Protocol in Hindi

Kerberos एक कंप्यूटर नेटवर्क authentication प्रोटोकॉल है. यह tickets के द्वारा users को एक असुरक्षित network में अपनी identity साबित करने की अनुमति देता है. और network में passwords को send करने से पूरी तरह बचता है.

इस protocol का नाम ग्रीक की प्राचीन कथाओं के पात्र Kerberos (केरबरोस) के नाम पर रखा गया था. Kerberos जो है वह Hades का तीन सिर वाला कुत्ता था.

इसके डिज़ाइनर ने इसे client-server model पर design किया है और यह mutual authentication प्रदान करता है अर्थात् इसमें client और server दोनों एक दूसरे की identity को verify करते है.

Kerberos protocol message जो है वह eavesdropping और replay attacks से सुरक्षित रहते हैं.

kerberos जो है वह symmetric key cryptography पर बना हुआ है और इसे एक trusted third party की आवश्यकता होती है. यह कभी कभी authentication के कुछ phases के लिए public key cryptography का प्रयोग भी करता है. kerberos सामान्य रूप से UDP port 88 का use करता है.

इसे Massachusetts Institute of Technology (MIT) ने network services को protect करने के लिए विकसित किया था.

kerberos protocol in hindi
image source

Advantage of Kerberos in Hindi

इसके लाभ निम्नलिखित हैं:-

  1. यह बहुत ही सुरक्षित है, और यह बहुत प्रकार के intrusion attacks से बचाता है.
  2. यह tickets का प्रयोग करता है जिसे user सुरक्षित तरीके से किसी service को access करने के लिए server को प्रस्तुत करता है.
  3. User के passwords को network में कभी भी भेजा नहीं जाता है.
  4. यह mutual authentication को सपोर्ट करता है अर्थात इसमें user और सर्वर एक दूसरे की identity को authenticate कर सकते है.
  5. यह open internet standards पर आधारित है.
  6. इसे बहुत सारें operating system के द्वारा सपोर्ट किया जाता है.
  7. kerberos में, secret keys को share किया जाता है जो public keys को share करने की तुलना में ज्यादा प्रभावी होता है.

disadvantage:-

  1. यह weak और repeated passwords के लिए vulnerable होता है.
  2. यह केवल services और clients के लिए ही authentication प्रदान करता है.

हम आशा करते है कि यह Network Security & Cryptography के हिंदी में नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है | आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *