Kali Ghata ka Ghamand Ghata Mein Kaun Sa Alankar Hai

Kali Ghata ka Ghamand Ghata Mein Kaun Sa Alankar Hai – काली घटा का घमंड घटा अलंकार

Kali Ghata ka Ghamand Ghata Mein Kaun Sa Alankar Hai: हेलो स्टूडेंट्स, आज हम इस आर्टिकल में काली घटा का घमंड घटा कौन से अलंकार का प्रयोग किया गया हैं?, के बारे में पढ़ेंगे |

Kali Ghata ka Ghamand Ghata Mein Kaun Sa Alankar Hai

काली घटा का घमंड घटा नभ मण्डल तारक वृंद खिले।

काली घटा का घमंड घटा के उपर्युक्त पंक्तियों में यमक अलंकार है।वहीं उपर्युक्त काव्य-पंक्ति में शरद के आगमन पर उसके सौंदर्य का चित्रण किया गया है। क्योंकि जब वाक्य या कविता में एक ही शब्द दो या दो से अधिक बार आए और उसका अर्थ हर बार भिन्न हो वहाँ यमक अलंकार होता है। इस वाक्य में ‘घटा’ का अर्थ ‘बादलों का समूह’ और दूसरा ‘घटा’ का अर्थ ‘कम हो गया’ है का वर्णन हो रहा है।

इसे भी पढ़े: जातिवाचक संज्ञा किसे कहते है? परिभाषा व उदाहरण

यमक अलंकार

जिस प्रकार अनुप्रास अलंकार में किसी एक वर्ण की आवृति होती है उसी प्रकार यमक अलंकार में किसी काव्य का सौन्दर्य बढ़ाने के लिए एक शब्द की बार-बार आवृति होती है।

प्रयोग किए गए शब्द का अर्थ हर बार अलग होता है। शब्द की दो बार आवृति होना वाक्य का यमक अलंकार के अंतर्गत आने के लिए आवश्यक है।

आर्टिकल में अपने पढ़ा कि “काली घटा का घमंड घटा” मे कौन से अलंकार का प्रयोग किया गया हैं( Ghata ka Ghamand Ghata Mein Kaun Sa Alankar Hai), हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.