कालवाचक क्रिया विशेषण – Kaal Vachak Kriya visheshan

Kaal Vachak Kriya visheshan: कालवाचक क्रियाविशेषण परीक्षा के दृष्टिकोण से एक महत्वपूर्ण टॉपिक है. अक्सर इस विषय से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है. अतः परीक्षार्थियों को कालवाचक क्रियाविशेषण से जुड़े सभी सम्बंधित प्रश्नों को भलीभांति तैयार कर लेना चाहिए।

आज यहां हम आपको कालवाचक क्रियाविशेषण के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं, इसलिए यदि आप कालवाचक क्रियाविशेषण के बारे में नहीं जानते हैं, तो इस लेख की मदद से, आप आज इस विषय को बेहतर तरीके से जान पाएंगे।

कालवाचक क्रिया विशेषण – Kaal Vachak Kriya visheshan

कालवाचक क्रिया विशेषण किसे कहते हैं?

वे क्रियाविशेषण शब्द जो हमें क्रिया के होने वाले समय का बोध कराते हैं, वह शब्द कालवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। यानी जब क्रिया होती है उस समय का बोध कराने वाले शब्दों को कालवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं।

इसे भी पढ़ें- उ मात्रा वाले शब्द

जैसे: आज बरसात होगी। इस वाक्य से हमें बरसात क्रिया के होने के समय का बोध हो रहा है।

जैसे- परसों, पहले, पीछे, कभी, अब तक, अभी-अभी, बार-बार।

कालवाचक क्रिया विशेषण के उदाहरण

  • आज बरसात होगी।

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं कि आज शब्द से हमें बारिश कि क्रिया के होने के समय के बारे में पता चल रहा है। अतः ऊपर दिया गया उदाहरण कालवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • राम कल मेरे घर आएगा।

ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा कि आप देख सकते हैं कल शब्द जो है वह राम के घर आने की क्रिया के होने के समय के बारे में बोध करा रहा है।

जिस समय यह क्रिया होने वाली है उस समय का बोध इस शब्द से हो रहा है। अतः यह शब्द कालवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • वह कल आया था।

ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा कि आप देख सकते हैं कि किसी के आने के समय का बोध हो रहा है। यह वाक्य बता रहा है कि जिस व्यक्ति के बारे में बात हो रही है वह कल आया था।

उदाहरण

  • रमा कल आई थी।
  • हमारा मित्र अभी आ जायेगा।
  • अब कभी मत आना।
  • वह पहले कभी नहीं आया।
  • रवि बार-बार मेरे घर आ जाता है।
  • यह यहाँ पहले ही पहुँच चुका है।
  • कल मैं मित्र के जन्मदिन उत्सव में गया था।
  • मेरी दसवीं की परीक्षा परसों से आरंभ होगी।
  • कुछ पैसों की आवश्यकता थी वह तत्काल प्राप्त हो गया।
  •  किसी भी कार्य को शीघ्रता से समाप्त करना चाहिए।
  • कार्य करने से पूर्व सोच विचार करना चाहिए।
  • मित्र ऐसे बनाओ जो हमेशा साथ दें।
  • सोचो विचारों तत्पश्चात कार्य करो।
  • कुछ लोग घड़ी घड़ी अपना रोना रोते रहते हैं।
  • ऐसे कार्य से क्या लाभ जो पीछे पछताना पड़े।
  • पिताजी निरंतर समझाते थे किंतु समझ नहीं पाया।
  • मुझे हमेशा यह सबक याद रहेगा।
  • तुम जब भी पुकारो हम साथ रहेंगे।
  • अध्यापक ने इस पाठ को कई बार पढ़ाया तब जाकर समझ में आ सका।
  • कल मैं हरिद्वार घूमने जाऊंगा।
  • परसों बहुत बारिश हो रही थी।

इस आर्टिकल में अपने कालवाचक क्रियाविशेषण को पढ़ा। हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.