IP Spoofing in Hindi

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज IP Spoofing in Hindi के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में नेटवर्क सुरक्षा और क्रिप्टोग्राफी के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

IP Spoofing in Hindi – आईपी स्पूफिंग क्या है?

IP Spoofing कंप्यूटर या सर्वर को unauthorized access करने की एक तकनीक है जिसमें attacker एक कंप्यूटर नेटवर्क में message भेजता है और इसमें यह लगता है कि यह message किसी trusted device से भेजा गया है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कि attacker इस device के IP address को बदल देता है.

दूसरे शब्दों में कहें तो, “आईपी स्पूफिंग internet protocol (IP) packets का निर्माण करना है जिसमें source address को बदल दिया जाता है. Source address को बदलने के दो कारण होते हैं:- sender की identity को छुपाने के लिए या computer system का प्रतिरूप बनाने के लिए. या फिर दोनों के लिए”.

इस तकनीक का प्रयोग सबसे ज्यादा attackers के द्वारा एक डिवाइस में DDoS attack और Man-in-the-Middle (MITM) attack करने के लिए किया जाता है. Cyber attack के दौरान इसका प्रयोग अक्सर attack के traffic source को छिपाने के लिए किया जाता है।

IP address को spoof करके attacker निम्नलिखित क्षमता प्राप्त कर सकता है:-

  • cyber police और authority से बचने के लिए, क्योंकि इसके द्वारा attacker का पता लगाना मुश्किल होता है.
  • target की जाने वाले device को alert होने से रोकने के लिए.
  • security script को bypass करने के लिए, security script वो होती है जिसके द्वारा IP address को blacklist करके DDoS हमलों को कम करने का प्रयास किया जाता है.

How IP spoofing works in Hindi – आईपी स्पूफिंग कार्य कैसे करता है?

IP spoofing में, भेजे जाने वाले packet header के source address को attacker के द्वारा बदल दिया जाता है. जिसके कारण destination computer इस packet को trusted computer से आने वाला समझता है. और इसे accept कर लेता है. चूंकि आईपी स्पूफिंग की activity को network level पर किया जाता है, इसलिए इसमें छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है।

IP स्पूफिंग का इस्तेमाल आमतौर पर DDoS के हमलों में किया जाता है. इसमें attacker बहुत सारें spoof किये गये IP address को सर्वर में भेजा देता है. जिससे सर्वर में बहुत सारा traffic आ जाता है जिसे सर्वर handle नहीं कर पाता. और जो सर्वर के सही users होते है वे इसका प्रयोग करने से वंचित रह जाते है.

उदाहरण के लिए:- माना मेरी इस वेबसाइट में कोई attacker बहुत सारा traffic भेज देता है, तो जो मेरी site का सर्वर होगा वो down हो जाएगा और आप या कोई अन्य यूजर इस वेबसाइट को खोल नही पायेंगे. और आपको error दिखाई देगा.

ip spoofing in hindi
image

IP spoofing के द्वारा किये जाने वाले attacks:-

इसके द्वारा किये जाने वाले attacks निम्नलिखित हैं:-

  1. Blinding :- इस प्रकार के attack में अटैकर बदले हुए data packets के sequence को target की जाने वाली device में भेजता है. इस प्रकार के attack को blinding इसलिए कहा जाता है क्योंकि अटैकर data transmission के लिए प्रयोग किये गये sequence के बारें में पूरी तरह sure नही होता है.
  2. Non-blinding:- इसमें, अटैकर उसी नेटवर्क में रहता है, जिससे टारगेट device को नोटिस करना या एक्सेस करना आसान हो जाता है। जिसके कारण attacker आसानी से data sequence को समझ सकता है.
  3. Denial-of-Service attack:- यह एक तूफान का एक रूप है जो हैकर्स अपनी पहचान छिपाते हुए किसी सिस्टम पर हमला करने के लिए उपयोग करते हैं, जिससे हमले के source को जानना मुश्किल हो जाता है. यह हमला आमतौर पर बड़े पैमाने पर किया जाता है.
  4. Man in the Middle:- जब दो devices एक-दूसरे के साथ communicate कर रही होती हैं, तो attacker सिस्टम द्वारा भेजे गए पैकेट को intercept कर लेता है और पैकेट में बदलाव कर देता है। और sender एवं receiver को इस बात का पता नही होता है कि उनके कम्युनिकेशन में किसी ने छेड़छाड़ की है.

आईपी स्पूफिंग से कैसे बचे? – How to prevent 

वैसे तो इससे बच पाना मुश्किल है लेकिन इससे बचने के उपाय निम्नलिखित हैं:-

1:- host और device के मध्य encryption का प्रयोग किया जाना चाहिए.

2:- filtering का प्रयोग करना चाहिए जिससे कि unwanted traffic को रोका जा सके.

3:- private IP address को आने से रोकना चाहिए.

4:- router में trusted source से आने वाले traffic को ही allow करना चाहिए.

हम आशा करते है कि यह Network Security & Cryptography के हिंदी में नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है | आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *