फाइल हैंडलिंग क्या है? File Handling in C in Hindi

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज File Handling in C in Hindi के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में सी भाषा के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

File Handling in C in Hindi – फाइल हैंडलिंग क्या है?

C language में, File एक container होता है जिसका प्रयोग data को स्टोर करने के लिए किया जाता है. File Handling एक प्रक्रिया है जिसमें program का प्रयोग करके file में data को स्टोर किया जाता है.

C में, हम file handling का प्रयोग करके एक file में बहुत सारें operations (कार्य) कर सकते हैं जैसे कि – file को create करना, update करना, read करना, और delete करना आदि.

एक file में निम्नलिखित operations को perform किया जा सकता है:-

  1. नयी file को create करना.
  2. फाइल को open करना.
  3. फाइल को read करना.
  4. फाइल को write करना.
  5. फाइल को delete करना.
  6. फाइल को close करना.

File Handling के लिए functions

C library में बहुत सारें functions मौजूद है जिनके द्वारा हम किसी file को read, write, create, search और open आदि कर सकते है. नीचे आपको इसकी पूरी list दी गयी है:-

No.FunctionDescription
1fopen()इस function का कार्य file को open करना होता है.
2fprintf()इस फंक्शन के द्वारा हम file में data को write कर सकते हैं.
3fscanf()इसके द्वारा file में से data को read किया जाता है.
4fputc()इस function का प्रयोग करके फाइल में एक character को write किया जाता है.
5fgetc()यह file में से एक character को read करता है.
6fclose()इस फंक्शन के द्वारा फाइल को close किया जाता है.
7fseek()यह दी गयी position पर file pointer को set करता है.
8fputw()यह file में integer को write करता है.
9fgetw()यह file में से integer को read करता है.
10ftell()यह current position को return करता है.
11rewind()यह file की शुरुआत में file pointer को set करता है.

File को open करना

किसी file को read, write, या update करने से पहले हमें file को open करना पड़ता है. फाइल को open करने के लिए fopen() फंक्शन का प्रयोग किया जाता है. इसका syntax नीचे दिया गया है:-

FILE *fopen( const char * filename, const char * mode );  

fopen() फंक्शन दो parameters लेता है. पहला filename और दूसरा mode.

हम fopen() function में निम्नलिखित modes का प्रयोग file को open करने के लिए कर सकते हैं:-

ModeDescription
rयह text फाइल को read mode में open करता है.
wयह text फाइल को write mode में open करता है.
aयह text फाइल को append mode में open करता है.
r+यह text फाइल को read और write दोनों modes में open करता है.
w+यह text फाइल को read और write दोनों modes में open करता है.
a+यह text फाइल को read और write दोनों modes में open करता है.
rbयह binary file को read mode में open करता है.
wbयह binary file को write mode में open करता है.
abयह binary file को append mode में open करता है.
rb+यह binary file को read और write दोनों modes में open करता है.
wb+यह binary file को read और write दोनों modes में open करता है.
ab+यह binary file को read और write दोनों modes में open करता है.

file को close करना

फाइल में किसी भी कार्य को करने के बाद हमें हमेशा फाइल को close करना चाहिए file को close करने के लिए fclose() फंक्शन का प्रयोग किया जाता है. इसका syntax निम्नलिखित हैं:-

fclose(fptr);

यहाँ fptr एक file pointer है जो कि close किये जाने वाली file से जुडा हुआ है.

File में से data को read करना

फाइल में से data को read करने के लिए fscanf(), fgets() और fgetc() functions का प्रयोग किया जाता है. इसका syntax नीचे दिया गया है:-

int fscanf(FILE *stream, const char *charPointer[])

File को write करना

C language में, फाइल को write करने के लिए fprintf(), fputs(), fputc() functions का प्रयोग किया जाता है. इसका syntax नीचे दिया गया है.

int fprintf(FILE *stream, char *string[])

File handling का program –

नीचे आपको file को open, write और close करने का program दिया है.

# include <stdio.h>
# include <string.h>
 
int main( )
{
FILE *fp ;
char data[50];
// opening an existing file
printf( "Opening the file test.c in write mode" ) ;
fp = fopen("test.c", "w") ;
if ( fp == NULL )
{
printf( "Could not open file test.c" ) ;
return 1;
}
printf( "n Enter some text from keyboard” 
             “ to write in the file test.c" ) ;
// getting input from user
while ( strlen ( gets( data ) ) > 0 )
{
// writing in the file
fputs(data, fp) ;   
fputs("n", fp) ;
}
// closing the file
printf("Closing the file test.c") ;
fclose(fp) ;
return 0;        
}

Advantage of File Handling in Hindi – फाइल हैंडलिंग के लाभ

इसके लाभ निम्नलिखित हैं:-

  1. इसके द्वारा हम program से जनरेट हुए data को file में स्टोर कर सकते हैं. और इस data का प्रयोग बाद में किया जा सकता है. इससे reusability बढती है.
  2. files का प्रयोग करके हम बड़ी मात्रा के data को भी आसानी से स्टोर कर सकते हैं.
  3. हम c library में मौजूद functions का प्रयोग करके file के किसी भी part को बहुत जल्दी access कर सकते हैं. इससे time की बचत होती है.
  4. हम file handling का प्रयोग करके files को एक computer से दूसरे computer में आसानी से transfer कर सकते हैं.

हम आशा करते है कि यह C Language के हिंदी में नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है | आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *