Demand Paging in Hindi

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज Demand Paging in Hindi के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में ऑपरेटिंग सिस्टम के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

Demand paging एक ऐसी तकनीक है जिसमें एक पेज को सेकेंडरी मैमोरी (हार्ड डिस्क) से मैन मैमोरी (RAM) में तब तक नहीं लाया जाता है जब तक कि उनकी जरुरत नहीं पड़ती है.

demand paging जो है वह paging तथा swapping का एक combination होता है.

demand paging जो है वह normal paging की तरह ही होता है परन्तु इनमें मुख्य अंतर यह है कि demand paging में swapping का प्रयोग किया जाता है. अर्थात सभी pages हार्ड डिस्क में रहते है और उनकी जब जरुरत पड़ती है तो उन्हें RAM में swap in तथा swap out किया जाता है.

ऑपरेटिंग सिस्टम में जब हम कोई process को execute करते है तो वह process सबसे पहले हार्ड डिस्क में स्टोर रहती है. यह प्रोसेस pages के रूप में होती है.

जब भी किसी page की जरुरत पड़ती है तो उसे RAM में swap in कर दिया जाता है. इस कारण इसे lazy swapping भी कहते है. और जब RAM में किसी page की जरूरत नहीं होती है तो उसे swap out करके वापस हार्ड डिस्क में भेज दिया जाता है.

हार्ड डिस्क से या RAM से pages को swap करने के लिए हमें page table का प्रयोग करना पड़ता है. page table का प्रयोग page number तथा offset number को स्टोर करने के लिए किया जाता है. offset number जो है वह process के address को contain किये हुए रहता है.

page table में दो entries भी होती है- valid और invalid. इसमें अगर जिस पेज की जरुरत पड़ती है वह पेज हार्ड डिस्क में है तो उसके लिए वह valid एंट्री देगा. तथा अगर नहीं है तो invalid एंट्री देगा.

Demand paging swap in swap out
Demand paging swap in swap out

advantage of demand paging (डिमांड पेजिंग के लाभ):-

इसके लाभ निम्नलिखित है:-

1:- इससे मैमोरी की जरुरत कम पड़ती है.

2:- हम इसमें मैमोरी का प्रयोग अच्छे से कर सकते है.

3:– इससे swap time कम हो जाता है क्योंकि हम पूरी प्रोसेस को swap नहीं करते बल्कि सिर्फ pages को ही swap करते है.

4:- इससे multi programming का स्तर बढ़ता है.

disadvantage of demand paging (डिमांड पेजिंग की हानि):-

इसमें page fault होने की संभावना होती है. page fault वह स्थिति होती है जब किसी पेज की जरुरत होती है और वह पेज RAM में उपस्थित नहीं होता है.

हम आशा करते है कि यह operating system के हिंदी में नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है | आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *