RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India’s Forehead

हेलो स्टूडेंट्स, यहां हमने राजस्थान बोर्ड Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India’s Forehead सॉल्यूशंस को दिया हैं। यह solutions स्टूडेंट के परीक्षा में बहुत सहायक होंगे | Student RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India’s Forehead pdf Download करे| RBSE solutions for Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India’s Forehead notes will help you.

Rajasthan Board RBSE Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India’s Forehead

RBSE Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India’s Forehead Textual Questions

Activity 1 : Comprehension
(A) Tick the correct alternative :

Question 1.
The caste system, according to Gandhiji, is a
(a) hindrance
(b) sin
(c) crime
(d) polluted system
Answer:
(a) hindrance

Question 2.
What, according to Gandhiji, is a stain on India’s forehead ?
(a) Untouchability
(b) Caste system
(c) Division in the society
(d) Poverty
Answer:
(a) Untouchability

Question 3.
Gandhiji wants to
(a) do away with Varnashrama
(b) defend the Varnashrama
(c) save Varnashrama by doing away with its excesses
(d) none
Answer:
(c) save Varnashrama by doing away with its excesses

(B) Answer the following questions in 30-40 words each:

Question 1.
Is Varna system, according to Gandhiji, practised by Hindus in the way defined and described in our Shastras ?
गांधीजी के अनुसार क्या हमारे शास्त्रों में दी गई परिभाषा एवं वर्णन के अनुसार वर्ण व्यवस्था को हिन्दुओं द्वारा काम में लिया जा रहा है?
Answer:
The Varna system is not practised by Hindus today. For example, the Brahmins have given up the pursuit of learning. They have started other occupations. Thus, the Varna system is not practised as it is defined and described in our Shastras.
आज हिन्दुओं द्वारा वर्ण व्यवस्था को काम में नहीं लिया जा रहा है। उदाहरणार्थ, ब्राह्मणों ने ज्ञान के व्यवसाय को छोड़ दिया है। उन्होंने अन्य व्यवसाय प्रारम्भ कर दिये हैं। इस प्रकार, हमारे शास्त्रों में परिभाषित व वर्णितानुसार वर्णव्यवस्था को काम में नहीं लिया जा रहा है।

Question 2.
Why does Gandhiji say that untouchability is even more terrible than Ravana? गांधीजी यह क्यों कहते हैं कि छुआछूत रावण से भी अधिक भयानक है?
Answer:
Gandhiji says that Ravana was a rakshasa, but this rakshasi of untouchability is even more terrible than Ravana. And when we worship this rakshasi in the name of religion, the gravity of our sins is further increased.
गांधीजी कहते हैं कि रावण राक्षस था, किन्तु छुआछूत की यह राक्षसी रावण से भी अधिक भयानक है। और जब हम धर्म के नाम पर इस राक्षसी की पूजा करते हैं। तो हमारे पापों की गम्भीरता और अधिक बढ़ जाती है।

Question 3.
“If there are any untouchables …..” who are, according to Gandhi, real untouchables ?
“यदि कोई अछूत हैं ….” गांधीजी के अनुसार वास्तव में अछूत कौन हैं ?
Answer:
According to Gandhi, there are so many people who have become soiled with untruth and hypocrisy. And it is very difficult to remove this dirt. So if there are any untouchables, they are the people who are filled with untruth and hypocrisy.
गांधीजी के अनुसार, ऐसे बहुत से लोग है जो झूठ और पाखण्ड से मैले हो गये हैं। और इस गन्दगी को हटाना बहुत कठिन है। अतः यदि कोई अछूत हैं, तो वे लोग हैं जो झूठ और पाखण्ड से भरे हुए हैं।

Question 4.
What, says Gandhiji, does not lead to an awareness of the true spirit of religion?
गांधीजी के अनुसार, धर्म की सच्ची आत्मा के बोध की ओर कौन अग्रसर नहीं करता है ?
Answer:
Gandhiji says that mere perusal of Shastras does not lead to an awareness of the true spirit of religion.
गांधीजी कहते हैं कि मात्र शास्त्रों का पठन धर्म की सच्ची आत्मा के प्रति बोध की ओर अग्रसर नहीं करता है।

Question 5.
How do the untouchables deserve the same respect as doctors ?
किसी प्रकार अछूत लोग डॉक्टरों के समान सम्मान पाने के पात्र हैं ?
Answer:
The work of the doctors as well as of untouchables protects the country from a number of diseases. So the untouchables are entitled to an equal measure of social privileges with doctors. They, therefore, deserve the same respect as doctors.
डॉक्टरों का काम एवं उसी प्रकार अछूतों का काम देश की कई बीमारियों से रक्षा करता है। इसलिए अछूत लोग डॉक्टरों की बराबर ही विशेषाधिकार पाने के हकदार हैं। इस प्रकार वे डॉक्टरों के समान ही सम्मान पाने के पात्र हैं।

(C) Answer the following questions in 60-80 words each:

Question 1.
Why does Gandhiji say that Hinduism with untouchability stinks in my nostrils?
गांधीजी यह क्यों कहते हैं कि छुआछूत वाला हिन्दू-धर्म उनके नथुनों में बदबू फैलाती है?
Answer:
Gandhiji says that nowhere in Hinduism it is laid down that untouchability should prevail in society. If we continue the custom of untouchability in the name of religion, the gravity of our sins is further increased. So the Hinduism stinks in his nostrils. He says that this certainly cannot be the Hindu religion. It was through the Hindu religion that he learnt to respect Christianity and Islam. So the Hinduism with untouchability cannot be true Hinduism. It is like a thing rotten and stinking in nostrils.

गांधीजी कहते हैं। कि हिन्दू धर्म में कहीं भी यह उल्लेख नहीं है कि समाज में छुआछूत का प्रचलन होना चाहिए। यदि हम धर्म के नाम पर छुआछूत का रिवाज जारी रखते हैं तो हमारे पापों की गम्भीरता और बढ़ जायेगी। इसीलिए हिन्दू धर्म उनके नथुनों में बदबू करता है। वे कहते हैं कि यह निश्चित रूप से हिन्दू धर्म नहीं हो सकता। उन्होंने हिन्दू धर्म के माध्यम से ईसाई धर्म व इस्लाम धर्म का सम्मान करना सीखा। अत: छुआछूत वाला हिन्दू धर्म सच्चा धर्म नहीं हो सकता है। यह एक सड़ी हुई व नथुनों में बदबू पैदा करने वाली वस्तु के समान है।

Question 2.
How, according to Gandhiji, can Sanatana Dharma be saved ?
गांधीजी के अनुसार सनातन धर्म की रक्षा कैसे की जा सकती है?
Answer:
According to Gandhiji, the Sanatana Dharma will not be saved by defending every verse printed in the scriptures. It will be saved only by putting into action the principles enunciated in them-principles that are eternal. In these scriptures a number of verses are apocryphal and a number of them are quite meaningless. So we should follow only eternal principles, not verses so that the Sanatana Dharma can be saved.

गांधीजी के अनुसार, धर्मग्रन्थों में मुद्रित प्रत्येक श्लोक की रक्षा करने से सनातन धर्म की रक्षा नहीं होगी। इसकी रक्षा केवल तभी हो सकती है जब धर्मग्रन्थों में प्रतिपादित सिद्धान्तों, शाश्वत सिद्धान्तों को कर्म में अपनाया जाये। इन धर्मग्रन्थों में बड़ी संख्या में श्लोक अप्रामाणिक हैं और काफी सारे पूर्णतः निरर्थक हैं। इसलिए हमें श्लोकों का नहीं बल्कि शाश्वत सिद्धान्तों का पालन करना चाहिए, जिससे कि सनातन धर्म की रक्षा हो सके।

Question 3.
What indicators of hatred do Gandhiji narrate in the essay?
गांधीजी इस निबन्ध में घृणा के कौनसे चिह्नों (सूचकों) का वर्णन करते हैं?
Answer:
Gandhiji says that untouchables are not allowed to enter our compartment. If by mistake one does so, he will be beaten or abused. The tea-seller will not hand him tea. The shopkeeper will not sell him goods. Moreover, we will not care to touch him even if he were dying. We give him our leavings to eat and our torn and soiled garments to wear. No Hindu is willing to teach him. He cannot dwell in a proper house. On the road, out of fear of our wrath, he has to proclaim his untouchability repeatedly. In this way, Gandhiji narrates indicators of hatred in the essay.

गांधीजी कहते हैं कि अछूत हमारे डिब्बों (रेलवे कम्पार्टमण्ट) में प्रवेश नहीं कर सकते। यदि गलती से कोई प्रवेश कर भी ले तो उसे पीटा जायेगा या उसे गालियाँ दी जायेगी। चाय-विक्रेता उसे चाय नहीं थमायेगा। दुकानदार उसे वस्तुएँ नहीं बेचेगा। इसके अतिरिक्त, हम उसे उस समय भी नहीं छुएँगे जब वह मर रहा हो। हम उसे अपनी जूठन खाने को देते हैं और अपने फटे व गन्दे कपड़े पहनने को देते हैं। कोई भी हिन्दू उन्हें पढ़ाने का इच्छुक नहीं है। वह एक उपयुक्त मकान में निवास नहीं कर सकता है। सड़क पर, हमारे क्रोध के भय से, उसे बार-बार अपनी अस्पृश्यता की घोषणा करनी पड़ती है। इस प्रकार से गांधीजी निबन्ध में घृणा के सूचकों का वर्णन करते हैं।

(D) Say whether the following statements are true or false. Write ‘T’ for true and ‘F’ for false in the bracket :

  1. Untouchability, according to Gandhiji, should be practised. [ ]
  2. Untouchables, says Gandhiji, should not be considered as falling outside Hinduism. [ ]
  3. The work done by the untouchables, says Gandhiji protects the country from a number of diseases. [ ]
  4. The Untouchables, according to Gandhiji, are to be venerated. [ ]

Answer:

  1. (F)
  2. (T)
  3. (T)
  4. (T)

Activity 2 : Vocabulary
(A) Match the phrase in Column A with the word in Column B.
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India's Forehead 1
Answer:
RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India's Forehead 2


RBSE Solutions for Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India's Forehead 3

(B) A number of Hindi words have been used in this essay. Some of them are the following: Varna, Varnashram, Rakshasha, Rakshasi, Pundit, Guru, Siddhas, Siddhantas Construct one sentence each on the words given above and explain their meanings also.
ऊपर दिये प्रत्येक शब्द से एक वाक्य बनाइये और उनका अर्थ भी समझाइये।
Answer:
1. Varna (Caste according to one’s profession or occupation) (वर्ण)
The Hinduism depicts Varna system in scriptures.

2. Varnashram (division of castes according to one’s profession) (वर्णश्रम)
Gandhiji says that the system of Varnashram was originally meant only for the division of labour.

3. Rakshasa (demon) (राक्षस)
Ravana was a rakshasa.

4. Rakshasi (female demon) (राक्षसी)
Surpanakha was a rakshasi.

5. Pundit (scholar) (पण्डित)
A well read person is called a Pundit.

6. Guru (spiritual teacher) (गुरु)
Swami Ramkrishna Paramhans wasVivekananda’s guru.

7. Siddhas (enlightened or perfect ones) (सिद्ध)
Swami Ramkrishna Paramhans was a Siddha who had seen God.

8. Siddhantas (principles) (सिद्धान्त)
The Siddhantas of Hinduism never consider anybody untouchable.

Activity 3 : Grammar Past tense
अंग्रेजी में भूतकाल के कार्यों को बताने के लिए क्रिया के चार भिन्न रूप हैं।

The simple past
simple past tense में नियमित क्रियाओं में क्रिया +ed आता है। उदाहरणार्थ-ask, asked; reach, reached; pray, prayed; smile, smiled, आदि। अनियमित क्रियाओं में मूल क्रिया का past रूप बिल्कुल भिन्न होता है; जैसे-break, broke; sit, sat; आदि।

simple past tense का प्रयोग उन कार्यों को बताने के लिए किया जाता है जो कार्य, गतिविधि या घटना भूतकाल में किसी समय घटित हुए हों – अर्थात बोलने के समय से पहले। भूतकाल को सन्दर्भ सामान्यतया (किन्तु हमेशा नहीं) समय सम्बन्धी क्रिया विशेषणों से प्रदर्शित किया जाता है। उदाहरणार्थ

He played in the match yesterday.
She drovė to Mumbai last week.
The trees shook violently in the strong wind.
Water flowed down the slope.
Verghese enrolled for a course in spoken English.

Simple past tense का प्रयोग अतीत की आदत सम्बन्धी गतिविधी या अतीत में नियमित रूप से या बार-बार हुए कार्यों को इंगित करने के लिए किया जाता है। उदाहरणार्थ
James played cricket when he was in school. I walked to school every morning when I was a child.

Simple past तथा Present perfect tense ऐसे कार्यों को बताने के लिए किया जाता है जो भूतकाल में सम्पन्न हुए हों। हालांकि, इन दोनों के बीच एक महत्त्वपूर्ण अन्तर है। Simple past का प्रयोग यह दर्शाता है कि वक्ता केवल कार्य के पूर्ण होने के बारे में ही विचार कर रहा है। दूसरी ओर Present perfect का प्रयोग यह बताता है कि भूतकाल के कार्य का प्रभाव वर्तमान में भी महसूस किया जा रहा है। उदाहरणार्थ
He read the book in 1986. (past simple tense) He has read the book and can talk to us about it. (present perfect tense)

The past progressive tense
Past progressive tense में was या were के साथ क्रिया की progressive form (+ ung) का प्रयोग होता है। उदाहरणार्थ
I was reading a book at 9.00 p.m. last night. My brothers were playing cards when the fight started.
Past progressive tense का प्रयोग यह दर्शाने के लिए किया जाता है कि कार्य भूतकाल में किसी समय प्रगति पर था, किन्तु वर्तमान में प्रगति पर नहीं हैं। निम्न स्थिति की कल्पना कीजिए। एक ताला बन्द फ्लैट में शुक्रवार को सायं 8.30 बजे चोरी हो जाती है तथा पुलिस एक व्यक्ति पर सन्देह करती हैं। अगले दिन, शनिवार को, पुलिस इन्स्पेक्टर उससे पूछताछ करता है

Inspector :
What were you doing at 8.30 last night?
Man : Sir, I was watching a television serial with my friend at his house.
ध्यान दीजिए कि इन्स्पेक्टर तथा उस व्यक्ति द्वारा क्रिया के कौन-से रूप प्रयोग में लिए जा रहे हैं (क्रमशः were doing तथा was watching) यहाँ सहायक क्रियाएँ ‘was/ were’, जो Past Tense में हैं, क्रिया की participle form (‘doing’, ‘watching) के साथ प्रयोग की गई हैं। जो यह दर्शाती हैं कि कार्य प्रगति पर था। कुल मिलाकर ये दोनों भूतकाल में जारी कार्य को प्रदर्शित करती हैं।

The past perfect tense
निम्न वाक्य को देखिए
When I met my friend in the canteen yesterday, he had eaten his lunch already.
इस वाक्य में दो क्रियाएँ हैं, जो दो विभिन्न कार्यों को बताती हैं, ये दोनों ही कार्य भूतकाल में हुए थे। पहली क्रिया Simple Past Tense (met’) में है, जबकि दूसरी क्रिया Past Perfect Tense (had eaten’) में है। past perfect tense (had eaten’) में (present perfect tense के समान) मुख्य क्रिया का प्रयोग participle रूप (eaten’) में होता है। किन्तु यहाँ सहायक क्रिया ‘had (‘have’ की past tense form) है।

Past perfect tense का प्रयोग भूतकाल में घटनाओं के क्रम को दर्शाता है। यदि हम कई घटनाओं का जिक्र कर रहे हैं तथा सारी घटनाएँ भूतकाल में ही हुई हैं तो हमें ये बताना चाहते हैं कि कौनसी घटना पहले हुई और कौनसी बाद में घटित हुई। किसी घटना को बताने के लिए Past perfect tense का प्रयोग यह बताता है कि यह घटना इस घटना से पहले घटित हुई है। Simple past tense का प्रयोग उन घटनाओं को बताने के लिए किया जाता है जो भूतकाल में बाद में घटित हुई थीं। एक और उदाहरण देखिए

After I had read the newspaper, I tidied the room.
क्रिया विशेषण ‘after’ का प्रयोग हमें स्पष्ट बताता है कि अखबार को पढ़ने का कार्य दूसरे कार्य (कमरा साफ करना) से पहले हुआ था। Past perfect tense का प्रयोग भूतकाल में पहले हुए कार्य की सूचना पर बल देने के लिए ही किया जाता है।..वास्तव में यदि ऐसी स्थिति में Past perfect tense का प्रयोग होता है तो यह आवश्यक नहीं है कि क्रिया विशेषण ‘after’ का ही प्रयोग किया जाये। उदाहरणार्थ
When I had read the newspaper, Í tidied the room.

The past perfect progressive tense
निम्न उदाहरण को देखिए –
Yesterday, while I was writing a letter, my friend telephoned from Mumbai. He told me that he had been trying to contact me for the past two days. क्रिया ‘had been trying’ past perfect progressive tense में है जिसका प्रयोग उन कार्यों को बताने के लिए किया जाता है जो भूतकाल में प्रारम्भ होकर भूतकाल में ही किसी निश्चित समय तक निरन्तर चले। ध्यान दीजिए कि यहाँ क्रिया के present participle form (trying) का प्रयोग सहायक क्रिया ‘had+been’ के साथ किया जाता है। निम्न दो वाक्यों की तुलना कीजिए

Arjun was reading when Tanvi rang the bell. Arjun had been reading when Tanvi rang the bell.
प्रथम वाक्य में Past progressive tense का प्रयोग मात्र यह दर्शाता है कि एक कार्य जब चल रहा था उसी समय किसी विशेष समय बिन्दु पर दूसरा कार्य हुआ। द्वितीय वाक्य में past perfect progressive tense का प्रयोग यह दर्शाता है कि पहला कार्य किसी ऐसी अवधि तक जारी रहा जब द्वितीय कार्य सम्पन्न हुआ। past perfect progressive tense के निम्नलिखित वाक्यों को देखिए

I switched off the over-heated engine, which had been running for six hours.
It had been raining since three in the morning, and the plane could not take off.
The country’s economy had been improving steadily until last year’s drought.

Activity 4: Speech Activity
Divide the class into groups and ask each group member to deliver a speech on “The Sin of Untouchability and our Dharamshastras”. Your speech must cover as to how our Dharamshastras exercise a ban on the practice of untouchability.
कक्षा को दलों में बाँटिए और प्रत्येक दल के सदस्य से छुआछूत का पाप और हमारे धर्मशास्त्र विषय पर भाषण देने के लिए कहिए। आपके भाषण में इसका उल्लेख होना चाहिए कि हमारे धर्मशास्त्र किस प्रकार छुआछूत के व्यवहार का निषेध करते हैं।
Answer:
‘The Sin of Untouchability and our Dharmashastras’
There is no doubt about the urgent need for eradication of the sin of untouchability, which is universally considered as a blot on the Hindu society. Neither in the Vedas nor in the Dharmashastras, we find any sanction for this abominable practice. While describing the need to maintain physical cleanliness and ceremonial purity on certain occasions, a kind of untouchability has been advocated by our scriptures. However, this untouchability has nothing to do with the brand which the Hindu society has been stupid enough to enforce during the last few centuries.

It is interesting that the same scriptures tell that even such untouchability, need not be observed in holy places and on holy occasions or during national emergencies. Some of the Dharmashastras go to the extent of not permitting even the lowest of the castes and sections of the society to enter temples. Hence it can be safely asserted that untouchability current in our society is the handiwork of selfish people with a narrow vision.

‘छुआछूत का पाप और हमारे धर्मशास्त्र’ छुआछूत का पाप जिसे वैश्विक तौर पर हिन्दू समाज पर एक कलंक माना जाता है, इसके उन्मूलन की अत्यन्त आवश्यकता के बारे में कोई दो राय नहीं है। इस घृणित प्रथा के लिए न तो वेदों में न ही धर्मशास्त्रों में स्वीकृति प्रदान की गई है। शारीरिक स्वच्छता एवं विशेष अवसरों पर औपचारिक विशुद्धता बनाए रखने की आवश्यकता का वर्णन करते समय हमारे धर्मशास्त्रों द्वारा एक प्रकार की अस्पृश्यता का समर्थन किया गया है। हालांकि, इस अस्पृश्यता का उस कलंक से कोई सम्बन्ध नहीं है जिसे हिन्दू समाज विगत कुछ सदियों से नासमझीपूर्वक लागू किए हुए है। यह रोचक बात है कि इन्हीं धर्मशास्त्रों ने यह भी बताया है। कि इस अस्पृश्यता का भी पवित्र स्थानों पर और पवित्र अवसरों पर या राष्ट्रीय आपातकाल के समय पालन करना आवश्यक नहीं है। कुछ धर्मशास्त्र तो निम्नतम जाति के लोगों और समाज के निम्नतम वर्गों को मन्दिरों में प्रवेश की अनुमति देते हैं। अतः यह स्पष्टतः कहा जा सकता है कि हमारे समाज में वर्तमान में प्रचलित छुआछूत संकीर्ण दृष्टिकोण वाले स्वार्थी लोगों द्वारा रचित कार्य है।

Activity 5 : Composition
Prepare an exhaustive list of the demerits and disadvantages of untouchability. Ask your friends to add to this list of demerits and put it on the notice board of your school.
छुआछूत के दोषों व हानियों की एक विस्तृत सूची बनाइये। अपने मित्र से दोषों की इस सूची में और दोष जोड़ने के लिए कहिए और इस सूची को अपने स्कूल के नोटिस बोर्ड पर लगाइयेAns. आप सूची निम्न प्रकार तैयार कर सकते हैंMerits and Disadvantages of Untouchability, छुआछूत के दोष व हानियाँ

1. Undemocratic tradition
(अलोकतान्त्रिक परम्परा)

2. No vertical mobility
(ऊर्ध्वाधर गतिशीलता का अभाव)

3. Creation of a class of idlers
(अकर्मण्य वर्ग का सृजन)

4. Oppression
(दमन)

5. Encouragement to conversion
(धर्मान्तरण को प्रोत्साहन)

6. Against integrity of nation
(राष्ट्र की एकता के विरुद्ध)

7. False sense of superiority and inferiority
(श्रेष्ठता और हीनता का मिथ्या भाव)

8. Hindrance to socio-economic progress
(सामाजिक-आर्थिक उन्नति में बाधा)

9. Not beneficial for nation
(राष्ट्रहित विरोधी)

10. Encouragement to protests
(विरोधों को प्रोत्साहन)

11. Social disorganisation
(सामाजिक संगठन का अभाव)

12. Political disunity
(राजनीतिक एकता का अभाव)

13. Despotism of upper castes
(उच्च जातियों की निरकुंशता)

14. Retardation of solidarity
(सहानुभूति का अभाव)

RBSE Class 9 English Insight Chapter 4 A Stain on India’s Forehead Additional Questions

Short Answer Type Questions
Answer the following questions in 30 words each :

Question 1.
What is a blot on India’s forehead ?
भारत के माथे पर क्या कलंक है ?
Answer:
There is caste system in India and some castes are regarded as untouchables. To consider the untouchables as a separate class is a blot on India’s forehead.
भारत में जाति प्रथा है। तथा कुछ जातियों को अछूत मानी जाता है। अछूतों को एक | पृथक् वर्ण मानना भारत के मार्थे पर कलंक है।

Question 2.
How should the untouchables be treated? अछूतों से कैसा बर्ताव होना चाहिए ?
Answer:
Untouchability is a sin and a crime, so the untouchables should be treated as respectable members of the society and should be assigned Varnas according to their vocations.
छूआछूत एक पाप है, एक अपराध है अतः अछूतों के साथ समाज के सम्मानीय सदस्यों के रूप में बर्ताव होना चाहिए और उन्हें उनके व्यवसाय के अनुसार वर्ण
आवण्टित होने चाहिए।

Question 3.
How were we untouchables in the eyes of the Westerners ?
पश्चिम के निवासियों की नजर में हम अछूत कैसे थे?
Answer:
Owing to our subjection to foreign rule, we all were slaves and untouchables in the eyes of the Westerners.
विदेशी शासन के अधीन होने के कारण पश्चिम के निवासियों की नजरे में हम सब गुलाम और अछूत थे।

Question 4.
Through which religion did Gandhiji learn to respect Christianity and Islam, why ?।
किस धर्म के माध्यम से गांधीजी ने ईसाई और इस्लाम धर्म का सम्मान करना सीखा, क्यों?
Answer:
Through the Hindu religion Gandhiji learnt to respect Christianity and Islam as he did not think untouchability could be the Hindu religion.
हिन्दू धर्म के माध्यम से गांधीजी ने ईसाई और इस्लाम धर्म का सम्मान करना सीखा, क्योंकि वे नहीं मानते थे कि छूआछूत हिन्दू धर्म हो सकता है।

Question 5.
Which event took place in Godhra ?
गोधरा में कौनसा कार्यक्रम आयोजित हुआ?
Answer:
A convention of untouchables was held in the Mahar compound of Godhra which was criticized in the newspaper ‘Gujarati’. The critics misled the readers.
अछूतों का एक सम्मलेन गोधरा के महर परिसर में आयोजित हुआ। जिसकी ‘गुजराती नामक समाचार-पत्र में आलोचना हुई। आलोचकों ने पाठकों को गुमराह किया।

Question 6.
When does a man’s behaviour tend to be wayward ?
किसी व्यक्ति का व्यवहार हठधर्मिता की ओर अग्रसर कब होता है ?
Answer:
A man’s behaviour tends to be wayward without following a code of rules and without the study of the shastras.
किसी नियम संहिता का पालन किए बिना तथा शास्त्रों का अध्ययन किए बिना मनुष्य का व्यवहार हठधर्मिता की ओर अग्रसर होता है।

Question 7.
Who according to Gandhiji are found to be ignorant and conceited?
गांधीजी के अनुसार कौन से लोग अज्ञानी व दम्भी पाये जाते हैं?
Answer:
According to Gandhiji, nowadays lots of people who profess themselves knowledged in the shastras are found to be ignorant and conceited. गांधीजी के अनुसार, आजकल बहुत से लोग जो स्वयं को शास्त्रों का ज्ञाता मानते हैं, वे अज्ञानी व दम्भी पाए जाते हैं।

Question 8.
Whom does Gandhiji make his guru?
गांधीजी अपना गुरु किसको बनाते हैं?
Answer:
Gandhiji seeks a guru. He accepts that a guru is needed. But, he says that as long as he has not come upon a worthy guru, he will continue to be his own guru.
गांधीजी गुरु की तलाश करते हैं। वे यह स्वीकार करते हैं कि गुरु आवश्यक है। किन्तु, वे कहते हैं कि जब तक उन्हें कोई योग्य गुरु नहीं मिल जाता, वे स्वयं को ही अपना गुरु बनाये रखेंगे।

Long Answer Type Questions
Answer the following questions in 60 words each :

Question 1.
What does Gandhiji say about the practice of Varna system by Hinduism today?
गांधीजी आज हिन्दू धर्म द्वारा व्यवहार में ली जा रही वर्ण व्यवस्था के बारे में क्या कहते हैं?
Answer:
Gandhiji says that Varna system is not practised by Hinduism today, in accordance with its definition and tradition. Those, who call themselves Brahmins have given up the pursuit of learning. They have taken to various other occupations. The same is true more or less of the other varnas. In this way, the Hindu individuals occupying the traditional assigned varnas, have given up their assigned occupations and have taken to other ones. The varnas have only been limited to their names, not occupations.

गांधीजी कहते हैं कि आज हिन्दू धर्म द्वारा वर्ण व्यवस्था को उसकी परिभाषा एवं वर्णन के अनुसार व्यवहार में नहीं अपनाया जा रहा है। वे लोग जो स्वयं को ब्राह्मण कहते हैं, उन्होंने ज्ञान के पेशे को छोड़ दिया है। उन्होंने अन्य विविध व्यवसाय आरम्भ कर दिये हैं। अन्य वर्गों के साथ भी कमोबेश यही बात सत्य है। इस प्रकार हिन्दू लोगों ने परम्परा निर्दिष्ट वर्ण पर ही अधिकार करते हुए अपने निर्दिष्ट व्यवसायों को त्याग दिया है और अन्य व्यवसाय शुरु कर दिये हैं। वर्ण अब व्यवसाय से सम्बन्धित न रहकर केवल नाम तक ही सीमित रह गये हैं।

Question 2.
In which circumstances do untouchables become touchables? And how do we behave with them in such circumstances?
किन परिस्थितियों में अछूत लोग स्पृश्य हो जाते हैं? ऐसी परिस्थितियों में हम उनके साथ कैसा बर्ताव करते हैं?
Answer:
We touch untouchables in the trains. They are employed in mills where we touch them without the least compunction. Untouchables have found admission in the Fergusson and Baroda colleges. Society puts no hindrance so far as these matters are concerned. In English and Muslim homes, they are politely welcomed. And we have no hesitation in touching Englishmen and Muslims. When these very untouchables are converted to Christianity, we dare not treat them as untouchables.

हम रेलगाड़ियों में अछूतों को छूते हैं। वे कारखानों में नियोजित हैं जहाँ हम उन्हें जरा भी खेद किए बिना ही छूते हैं। अछूतों ने फर्युसन और बड़ौदा कॉलेजों में प्रवेश ले लिए हैं। जहाँ तक इन बातों का सम्बन्ध है, समाज कोई अवरोध उत्पन्न नहीं करता है। अंग्रेजों और मुसलमानों के घरों में उनका शिष्टतापूर्वक स्वागत होता है। अंग्रेजों तथा मुसलमानों को छूने में हमें कोई हिचकिचाहट नहीं होती है। जब वही अछूत धर्म परिवर्तन कर ईसाई बन जाते हैं, तब हम उनसे अछूत की तरह बर्ताव करने का साहस नहीं कर सकते।

Question 3.
What does Gandhiji appeal the writers? गांधीजी लेखकों से क्या अपील करते हैं? ।
Answer:
Gandhiji says that India is venerated for its tapasya, purity, compassion and other virtues, it is also a playground of licence, sin, barbarity and other vices. At such a juncture he asks the fraternity of writers to gird up their loins to oppose and root out hypocricy. He appeals to them to join the sacred work that was taken up in Godhra, greeting it as such, and participate in the effort that may be undertaken in this cause, so that sixty million people may not break away from us in despair.

गांधीजी कहते हैं कि भारत अपनी तपस्या, विशुद्धता, करुणा व अन्य सद्गुणों के लिए पूजा जाता है, (तो दूसरी ओर) यह स्वच्छन्दता, पाप, बर्बरता और अन्य बुराइयों की क्रीड़ास्थली भी रहा है। ऐसे संकट काल में वे लेखकों के संघ से कहते हैं कि पाखण्ड को जड़ से उखाड़ने के लिए और विरोध करने के लिए वे अपनी कमर कस लें। वह अपील करते हैं कि गोधरा में प्रारम्भ किए गए पवित्र कार्य में भागीदार बनें, और उसी रूप में उस कार्य का स्वागत करते हुए, इस आन्दोलन में प्रारम्भ किए गये प्रयास में भाग लें, जिससे कि छह करोड़ लोग निराशा में हमसे अलग न हो जायें।

Passages for Comprehension

Read the following passages carefully and answer the questions that follow :

Passage 1
That the untouchables are a separate class is a blot on India’s forehead. The caste system is a hindrance, not a sin. But untouchability is a sin, a great crime, and if Hinduism does not destroy this serpent while there is yet time, it will be devoured by it. The untouchables must not be considered as falling outside Hinduism. They should be treated as respectable members of Hindu society and should be assigned their varnas according to I their vocations. The varna system, as I have defined and described it, is not practised by Hinduism today.

Those, who call themselves Brahmins have given up the pursuit of learning. They have taken to various other occupations. The same is true more or less of the other varnas. As a matter of fact, owing to our subjection to foreign rule, we are all slaves and are, in the eyes of the Westerners, untouchables lower even than the Sudras. Why does God permit this atrocity? Ravana was a rakshasa, but this rakshasi of untouchability is even more terrible than Ravana. And when we worship this rakshasi in the name of religion, the gravity of our sins is further increased.

1. What is a blot on India’s forehead?
भारत के माथे पर क्या कलंक है?

2. How should the untouchables be treated?
अछूतों से कैसा बर्ताव होना चाहिए?

3. What is not practised by Hinduism today?
आज हिन्दू धर्म द्वारा क्या व्यवहार में नहीं अपनाया जाता है?

4. What are Brahmins doing today?
आज ब्राह्मण क्या कर रहे हैं?

5. Who are untouchables in the eyes of the Westerners?
पश्चिम के निवासियों की नजरों में अछूत कौन हैं?

6. “If Hinduism does not destroy this serpent…..” What does the word “this serpent’ here refer to? यहाँ ‘this serpent शब्द किसके सन्दर्भ में है ?

7. How is the caste system defined in the passage?
जाती व्यवस्था को गद्यांश के किस प्रकार परिभाषित क्रिया गया है ?

8. Who must not be considered as falling outside Hinduism?
किन्हें हिन्दू धर्म से बाहर नहीं मानना चाहिए?

9. Find from the passage the words opposite in meaning to the following words :
(a) upper
(b) more

10. Make adjectives of the following words :
(a) sin
(b) crime
Answers:
1. That the untouchables are a separate class is a blot on India’s forehead.
अछूतों को अलग वर्ग का मानना भारत के माथे पर कलंक है।

2. The untouchables should be treated as respectable members of the society.
अछूतों से समाज के सम्माननीय सदस्यों के रूप में बर्ताव करना चाहिए।

3. The varna system is not practised by Hinduism today.
आज हिन्दू धर्म में वर्ण व्यवस्था व्यवहार में नहीं अपनाई जाती है।

4. Today the Brahmins have given up pursuit of learning and taken to other various occupations.
आज ब्राह्मणों ने ज्ञान के पेशे को छोड़ दिया है और अन्य विविध व्यवसाय आरम्भ कर दिये हैं।

5. Owing to our subjection to foreign rule, we are all slaves and untouchables in the eyes of the Westerners.
विदेशी शासन के अधीन होने के कारण हम पश्चिमी निवासियों की नजर में गुलाम व अछूत हैं।

6. The word ‘this serpent here refers to untouchability.
शब्द ‘this serpent’ यहाँ छुआछूत के सन्दर्भ में है।

7. The caste system is defined as a hindrance in this passage.
इस गद्यांश में जाति व्यवस्था को एक अवरोध के रूप में परिभाषित किया गया है।

8. The untouchables must not be considered as falling outside Hinduism.
अछूतों को हिन्दूधर्म से बाहर नहीं मानना चाहिए।

9. (A) lower, (B) less

10. (A) sinner, (B) criminal

Passage 2
Why does God permit this atrocity? Ravana was a rakshasa, but this rakshasi of untouchability is even more terrible than Ravana. And when we worship this rakshasi in the name of religion, the gravity of our sins is further increased. Even the slavery of the Negroes is better than this. This religion, if it can be called such, stinks in my nostrils. This certainly cannot be the Hindu religion. It was through the Hindu religion that I learnt to respect Christianity and Islam. How then can this sin be a part of the Hindu religion? But then what is to be done? I shall put up a lone fight if need be, against this hypocrisy. Alone I shall undergo penance and die with His name on my lips. It is possible that I may go mad and say that I am mistaken in my views on the question of untouchability, that I was guilty of a sin in calling untouchability a sin of Hinduism. Then you should take it that I am frightened, that I cannot face the challenge and that I change my views out of cowardice. You should take it, in that event, that I am in delirium. In my humble opinion, the dirt that soils the scavenger is physical and can be easily removed. But there are those who have become soiled with untruth and hypocrisy, and this dirt is so subtle that it is very difficult to remove it. If there are any untouchables, they are the people who are filled with untruth and hypocrisy.

1. What is more terrible than Ravana?
रावण से ज्यादा भयानक क्या है?

2. What is better than untouchability?
छुआछूत से ज्यादा अच्छा क्या है?

3. Through which religion did the author learn to respect Christianity and Islam?
लेखक ने किस धर्म के माध्यम से ईसाई व मुस्लिम धर्म का आदर करना सीखा?

4. What will the author do against the hypocrisy?
पाखण्ड के विरुद्ध लेखक क्या करेगा ?

5. When is the gravity of our sins further increased?
हमारे पाप की गम्भीरता और अधिक कब बढ़ जाती है ?

6. What will the author do alone?
लेखक अकेले ही क्या करेगा?

7. When can it be taken that the author is in delirium?
यह कब मान सकते हैं कि लेखक उन्माद में है?

8. What stinks in the author’s nostrils?
लेखक के नथुनों में क्या चीज बदबू करती है?

9. Write the root words from which the following words have been formed
(a) gravity
(b) frightened

10. Find from the passage the words which mean
(a) reeks
(b) adore
Answers:
1. The rakshasi of untouchability is more terrible than Ravana.
छुआछूत की राक्षसी रावण से ज्यादा भयानक है।

2. The slavery of the Negroes is better than untouchability.
नीग्रों लोगों की दासता छुआछूत से बेहतर है।

3. Through the Hindu religion, the author learnt to respect Christianity and Islam.
हिन्दू धर्म के माध्यम से लेखक ने ईसाई व मुस्लिम धर्म का आदर करना सीखा।

4. If need be, the author will put up alone fight against the hypocrisy.
यदि आवश्यकता हुई तो लेखक पाखण्ड के विरुद्ध अकेले ही लड़ाई लड़ेगा।

5. When we worship the rakshasi of untouchability in the name of religion, the gravity of our sins is further increased.
जब हम धर्म के नाम पर छुआछूत की राक्षसी की पूजा करते हैं। तो हमारे पापों की गम्भीरता और अधिक बढ़ जाती है।

6. Alone the author will undergo penance and die with God’s name on his lips.
लेखक अकेला ही प्रायश्चित भोगेगा और अपने होठों पर ईश्वर का नाम लेते हुए मर जायेगा।

7. If the author changes his views out of cowardice, it can be taken that the author is in delirium.
यदि लेखक कायरतावश अपने विचार बदल लेता है तो यह मान लेना चाहिए कि लेखक उन्माद में है।

8. Hinduism with untouchability stinks in the author’s nostrils.
छुआछूत वाला हिन्दू धर्म लेखक के नथुनों में बदबू पैदा करता है।

9. (a) grave, (b) fright

10. (a) stinks, (b) worship

Passage 3
The Sanatana Dharma will not be saved by defending every verse printed in the scriptures. It will be saved only by putting into action the principles enunciated in them- principles that are eternal. All the religious leaders with whom I have had occasion to discuss the matter have agreed in this. All the preachers who are counted among the learned and who are revered in society have clearly announced that our treatment of untouchables has no sanction other than the custom to which it conforms. To be truthful, no one really follows this custom. We touch them in the trains. They are employed in mills where we touch them without the least compunction. Untouchables have found admission in the Fergusson and the Baroda Colleges. Society puts no hindrance so far as these matters are concerned. In English and Muslim homes they are politely welcomed. And we have no hesitation in touching Englishmen and Muslims; in fact, we feel a pride in shaking hands with many of these. When these same untouchables are converted to Christianity, we dare not treat them as untouchables. Thus, it is impossible for a thoughtful Hindu, even if he feels differently in the matter to uphold a tradition which is not possible to follow.

1. How will the Sanatana Dharma be saved?
सनातन धर्म की रक्षा कैसे होगी?

2. Whom do we touch in the trains?
हम रेलगाड़ियों में किसे छूते हैं?

3. Where do we touch the untouchables without the least compunction?
हम जरा भी खेद किए बिना अछूतों को कहाँ छूते हैं?

4. In which institutions have the untouchables found admission?
अछूतों ने किन संस्थानों में प्रवेश लिया है?

5. Where are the untouchables politely welcomed?
अछूतों का शिष्टतापूर्वक स्वागत कहाँ होता है?

6. Whom do we touch without hesitation?
हम बिना हिचकिचाहट के किन्हें छूते हैं?

7. How do we feel in shaking hands with many of Englishmen and Muslims?
बहुत से अंग्रेजोंऔर मुस्लिमों से हाथ मिलाने में हम कैसा महसूस करते हैं?

8. How do we treat untouchables when they are converted to Christianity?
अछूतों के ईसाई धर्म परिवर्तन कर लेने पर हम उनसे कैसा बर्ताव करते हैं?

9. Write the root words from which the following words have been formed
(a) treatment
(b) preachers

10. Find from the passage the words which mean
(a) pricking of conscience
(b) existing forever
Answers:
1. The Sanatana Dharma will be saved by putting into action the eternal principles enunciated in scriptures.
सनातन धर्म की रक्षा धर्मग्रन्थों में प्रतिपादित शाश्वत सिद्धान्तों को कर्म में अपनांने से ही होगी।

2. We touch untouchables in trains.
हम रेलगाड़ियों । में अछूतों को छूते हैं।

3. We touch the untouchables in mills without the least compunction.
हम जरा भी खेद किए बिना | कारखानों में अछूतों को छूते हैं।

4. The untouchables have found admission in the Fergusson and the Baroda Colleges.
अछूतों ने फग्र्युसन और बड़ौदा कॉलेजों में प्रवेश पा लिया है।

5. In English and Muslim homes, the untouchables are politely welcomed.
अंग्रेजों और मुसलमानों के घरों में अछूतों का शिष्टतापूर्वक स्वागत होता है।

6. We touch Englishmen and Muslims without hesitation.
हम अंग्रेजों और मुसलमानों को बिना हिचकिचाहट के छूते हैं।

7. We feel a pride in shaking hands with Englishmen and Muslims.
हम अग्रेजों व मुस्लिमों से हाथ मिलाने में गर्व का अनुभव करते हैं।

8. When the untouchables are converted to Christianity, we dare not treat them as untouchables.
जब अछूत धर्मपरिवर्तन कर ईसाई बन जाते हैं, तब हम उनसे अछूतों जैसा बर्ताव करने का साहस भी नहीं कर सकते।।

9. (a) treat, (b) preach

10. (a) compunction, (b) eternal

Passage 4
We shall have to free religion of the sin of untouchability which is imputed to it. Unless we do this, diseases like plague, cholera, etc. cannot be rooted out. There is nothing lowly in the occupations of the untouchables. Doctors as well as our mothers perform similar duties. It may be argued that they cleanse themselves afterwards. Yes, but if untouchables do not do so, the fault is wholly ours and not theirs. It is clear that the moment we begin lovingly to hug them, they will begin to learn to be clean.

Unlike the movement for inter-dining, this movement does not need to be pushed. This movement will not cause the system of Varnashram to disappear. It aims at saying it by doing away with its excesses. It is also not the desire of the initiators of this movement that untouchables should give up their vocations. They only want to demonstrate that the function of removing garbage and filth is a necessary and sacred function and its performance can impart grace even to a Vaishnava. Those who pursue this vocation are not, therefore, degraded but entitled to an equal measure of social privileges with those pursing other callings; their work protects the country from a number of diseases. They, therefore, deserve the same respect as doctors.

1. What shall we have to free religion of ?
हमें धर्म को किससे मुक्त करना होगा ?

2. Who perform similar duties as untouchables do ?
अछूतों जैसे कार्य कौन करते हैं?

3. When will untouchables begin to learn to be clean?
अछूत लोग कब स्वच्छ रहने लगेंगे?

4. When can diseases like plague, cholera, etc. be rooted out?
प्लेग, हैजा आदि जैसी बीमारियाँ कब उन्मूलित हो सकती हैं?

5. Whose work protects the country from a number of diseases?
किनका कार्य देश की कई बीमारियों से रक्षा करता है?

6. Who deserve the same respect as doctors?
डाक्टरों के समान सम्मान के पात्र कौन हैं?

7. What will this movement not cause?
यह आन्दोलन किस बात का कारण नहीं बनेगा?

8. They only want to demonstrate….’ Who does the word ‘They’ here refer to?
यहाँ “They’ शब्द किसके सन्दर्भ में हैं?

9. Find from the passage the words opposite in meaning to the following words
(a) different
(b) appear

10. Find from the passage the words which mean
(a) holy
(b) rubbish
Answers:
1. We shall have to free religion of the sin of untouchability.
हमें धर्म को छुआछूत के पाप से मुक्त करना होगा।

2. Doctors as well as mothers perform similar duties as untouchables do.
डॉक्टर व माताएँ अछूतों के समान ही कामों को करते हैं।

3. The moment we begin lovingly to hug untouchables, they will begin to learn to be clean.
जिस क्षण हम अछूतों को प्यार से गले लगायेंगे, वे स्वच्छ रहना प्रारम्भ कर देंगे।

4. When we free the religion of the sin of untouchability, the diseases like plague, cholera, etc. can be rooted out.
जब हम धर्म को छुआछूत के पाप से मुक्त कर देंगे तब प्लेग, हैजा इत्यादि जैसी बीमारियाँ उन्मूलित हो सकेंगी।

5. The work of untouchables protects the country from a number of diseases.
अछूतों का कार्य देश की कई बीमारियों से रक्षा करता है।

6. The untouchables deserve the same respect as doctors.
अछूत डाक्टरों के समान सम्मान के पात्र हैं।

7. The movement will not cause the system of Varnashram to disappear.
यह आन्दोलन वर्णाश्रम व्यवस्था के लुप्त होने का कारण नहीं बनेगा।

8. The word “They’ here refers to the initiators of the movement.
यहाँ “They’ शब्द आन्दोलन के आरम्भकर्ताओं के सन्दर्भ में है।

9. (a) same, (b) disappear

10. (a) sacred, (b) garbage

Word-meanings and Hindi Translation

That the …………………………… their vocations. (Page 23)

Word-meanings: untouchables (अन्टॅचेबल्ज्) = अस्पृश्य, अछूत। पृथक्। blot (ब्लॉट) = कलंक। forehead (फॉ:हेड्) = माथा, मस्तक। hindrance (हिन्ड्रेन्स्) = बाधा, रुकावट। sin (सिन्) = पाप। un touch ability (अन्टचेबिलिटि) = अस्पृश्यता, छुआछूत। destroy (डिस्ट्रॉइ) = नष्ट करना। serpent (सें:पॅन्ट्) = सर्प, भुजंग। devour (डिवाउँअ) = निगल जाना, नष्ट करना। consider (कन्सिडें) = मानना। fall outside (फाल आउटसाइड) = किसी वर्ग या समूह से बाहर होना। treat (ट्रीट) = व्यवहार करना, मानना। assign (अॅसाइन्) = देना, निर्धारित करना। according to (अॅकॉ:डिंग टु) = के अनुसार vocations (वॅकेशन्स्) = व्यवसाय, पेशा।

हिन्दी अनुवाद-अछूतों को एक पृथक् वर्ग मानना भारत देश के माथे पर कलंक है। जाति व्यवस्था एक रुकावट है, किन्तु पाप नहीं। पर छुआछूत पाप है, एक बड़ा अपराध है और यदि हिन्दू धर्म ने अभी समय रहते ही (छुआछूत रूपी) इस सर्प को नष्ट नहीं किया तो यह (सर्प) इसको (हिन्दू धर्म को) ही निगल जायेगा। अछूतों को हिन्दुत्व से बाहर की श्रेणी का नहीं मानना चाहिए। उन्हें हिन्दू समाज के सम्माननीय सदस्यों के रूप में मानना चाहिए एवं उनके व्यवसायों के अनुसार उनका ‘वर्ण’ निर्धारित करना चाहिए।

The varna …………………………… the Sudras. (Page 23)
Word-meanings : define (डिफाइन्) = परिभाषित करना। practise (प्रैक्टिस्) = आचरण करना, कार्यान्वित करना। pursuit (पॅ:स्यूट) = पेशा, व्यवसाय। learning (ल:निंग) = ज्ञान, विद्या। take to (टेक् टु) = आरम्भ करना, करने लगना। occupations (ऑक्यपेरॉन्ज़) = व्यवसाय, धन्धे। owing to (ओइंग टु) = के कारण। subjection (सॅब्जेक्श न्) = पराधीनता, दासता। foreign (फॉरिन्) = विदेशी। slaves (स्लेव्ज़) = गुलाम, दास। westerners (वेस्टॅनज़) = पश्चिमी देशों के निवासी। lower (लोों) = अधिक निम्न।

हिन्दी अनुवाद-वर्ण व्यवस्था, जैसा कि मैंने इसे परिभाषित किया है और वर्णित किया है, आज हिन्दू धर्म में काम में नहीं ली जा रही है। वे जो स्वयं को ब्राह्मण कहते हैं, उन्होंने ज्ञान के व्यवसाय को त्याग दिया है। उन्होंने अन्य प्रकार के व्यवसाय आरम्भ कर दिए हैं। अन्य वर्गों में भी कमोबेश यही बात सत्य है। असल में, विदेशी शासन के अधीन होने के कारण हम सभी गुलाम हैं और पश्चिमी देशों के वासियों की नजरों में हम शूद्रों से भी ज्यादा नीच अछूत हैं।

Why does …………………………… in delirium. (Page 23)

Word-meanings: atrocity (अट्रॉसटि) = नृशंसता/ अत्याचार। terrible (टेरबल्) = भयानक, डरावना। religion (रिलिजेंन्) = धर्म। gravity (ग्रेविटि) = गम्भीरता, विकटता। further (फॅ:दों) = और अधिक। increase (इंक्रीज़) = बढना। slavery (स्लेवरि) = दासता, गुलामी। stink (स्टिंक्) = बदबू करना। nostrils (नॉस्ट्रिल्ज़) = नथुने। through (श्रू) = के माध्यम से। christianity (क्रिस्टिएनिटि) = ईसाई-धर्म। put up (पुट अप) = प्रदर्शित करना, पेश करना। lone (लोन्) = अकेला, एकांकी। hypocrisy (हिपॉक्रिसि) = पाखण्ड, ढोंग। undergo (ॲण्ड:गो) = भुगतना, सहन करना। penance (पेनॅन्स्) = प्रायश्चित, तपस्या। mistaken (मिस्टेकॅन्) = भ्रम में, गलत। views (व्यूज़) = दृष्टिकोण, विचार, मतलब। guilty (गिल्टि) = दोषी। cowardice (काउॲडिस्) = कायरता। take (टेक्) = मानना। in that event = if something happens, उस स्थिति में। delirium (डिलिरिअॅम्) = उन्माद, सन्निपात।

हिन्दी अनुवाद-ईश्वर इस अत्याचार को क्यों होने देता है? रावण राक्षस था, किन्तु छुआछूत की यह राक्षसी रावण से भी अधिक भयानक है। और जब हम धर्म के नाम पर इस राक्षसी की पूजा करते हैं, तो हमारे पापों की गम्भीरता और अधिक बढ़ जाती है। इससे तो हबशियों (नीग्रो लोगों) की गुलामी भी बेहतर है। यदि इसे (धर्म) कहा जा सके, तो यह धर्म, मेरे नथुनों में बदबू करता है। यह निश्चित रूप से हिन्दू धर्म नहीं हो सकता। हिन्दू धर्म के माध्यम से तो मैंने ईसाई धर्म व इस्लाम का सम्मान करना सीखा था। तो यह पाप हिन्दू धर्म का हिस्सा कैसे हो सकता है ? किन्तु फिर क्या करना चाहिए? यदि जरूरत पड़ी तो मैं इस पाखण्ड के विरुद्ध अकेला ही लड़कर दिखाऊँगा। मैं अकेला ही प्रायश्चित भोगूंगा और अपने होठों पर ईश्वर का नाम लेते हुए मर जाऊँगा। सम्भव है कि मैं पागल हो जाऊँ और कहूँ कि छुआछूत के प्रश्न पर मेरा दृष्टिकोण गलत है, या मैं छुआछूत को हिन्दू धर्म का पाप कहने का दोषी था। तब आपको यह मान लेना चाहिए कि मैं भयभीत हूँ, मैं चुनौती का सामना नहीं कर सकता और मैं कायरतावश अपने विचार बदल लेता हूँ। ऐसी स्थिति में आपको मान लेना चाहिए कि मैं उन्माद में हूँ।

In my humble …………………………… things right. (Page 23)
Word-meanings : humble (हॅम्बॅल) = साधारण, विनीत। dirt (ड:ट) = गन्दगी, मैल। soils (सॉइल्ज्) = मैला या गन्दा करती है। scavenger (स्कैविजें) = सफाई-कर्मी। become soiled = मैले हो गये हैं। subtle (सॅटॅल) = सूक्ष्म, जटिल, दुर्बोध filled with = भरे हुए, सराबोर। comment (कॉमेण्ट) = टीका-टिप्पणी, आलोचना। convention (कॅन्वेन्शन्) = सम्मेलन, सभा। compound (कॅम्पाउण्ड्) = घेर, घेरा, परिसर। distorted (डिस्टॉटिड्) = विकृत, विरूपित versions (वॅ:शन्ज़) = वृत्तान्त, विवरण। events (इवेन्ट्स्) = घटनाएँ, कार्यक्रम। misled (मिस्लेड्) = भ्रमित किया, बहकाया। following (फॉलोइंग) = निम्नलिखित। to put things right = ठीक करने के लिए।

हिन्दी अनुवाद-मेरा साधारण-सा विचार है कि जो गन्दगी सफाई कर्मी को मैला करती है वह शारीरिक रूप से ही मैला करती है और उसे आसानी से हटाया जा सकता है। किन्तु ऐसे भी लोग हैं जो झूठ और पाखण्ड से मैले हो गये हैं,और यह गन्दगी इतनी सूक्ष्म है कि इसे हटाना बहुत कठिन है। यदि कोई अछूत है तो वे लोग ही हैं जो झूठ और पाखण्ड से मरे हुए हैं। गोधरा के महर परिसर में आयोजित अछूतों के सम्मेलन के बारे में ‘गुजराती’ में बहुत अधिक टीका-टिप्पणी की गई है। इन टीका-टिप्पणियों के लेखकों ने सम्मेलन की घटनाओं के बारे में पूर्णतः तोड़- मरोड़ कर विवरण दिया है और पाठकों को गुमराह किया है। इसलिए मैं (झूठे विवरण को) ठीक करने के लिए निम्न पंक्तियाँ लिख रहा हूँ।

In matters …………………………… to follow. (Pages 24-25)

Word-meanings : concerning (कॅन्सें:निग्) = सम्बन्धित। reflected (रिफ्लेक्टिड्) = चिन्तन किया है। especially (इस्पेशलि) = विशेष रूप से। translated (ट्रान्स्लेटिड्) = अनुवाद किया, अनूदित किया। action (एक्शन्) = कर्म। conviction (कॅन्विक्शन्) = विश्वास, दृढ-धारणा। mere (मिों) = मात्र, केवल। perusal (पॅरूञ्जेल) = पठन, परिशीलन। lead (लीड्) = ले जाना, मार्ग दिखाना। awareness (अॅवेॲनिस्) = ज्ञान, बोध spirit (स्पिरिट) = आत्मा। without following (विदाऊट फालोईग) = बिना पालन किए। code (कोड्) = संहिता, पद्धति। tends (टेण्ड्ज़ ) = अग्रसर होता है, की ओर ले जाता है। wayward (वेड्) = अड़ियल, हठधर्मी। doctrine (डॉक्ट्रिन्) = सिद्धान्त या धर्म सिद्धान्त। studied (स्टॅडिड्) = अध्ययन किया। for formulating = सूत्रबद्ध करने के लिए, प्रतिपादित करने के लिए। ethics (एथिक्स्) = नीतिशास्त्र। seek (सीक्) = खोजना, तलाशना। assistance (अॅसिस्टन्स्) = सहयोग। laborious (लॅबॉरिअॅस्) = श्रमसाध्य, परिश्रमपूर्ण। scholars (स्कॉलॅ:ज्) = विद्वान। now-a-days (नाउॲडेज़) = आजकल। profess (पॅफेस्) = स्वीकार करना। ignorant (इग्नॉरॅण्ट) – अनजान, अज्ञात conceited (कॅन्सीटिड्) = दम्भपूर्ण, अहंकारपूर्ण। come upon = मिलना, पाना। worthy (वॅ:दि) = सुयोग्य, उपयुक्त। arduous (आड्यॲस्) = दुर्गम, कठिन। sinful (सिन्फ़ल) = पापमय, बुरा। age (एज्) = युग। wide (वाइड्) = विस्तृत। sweep (स्वीप्) = range, प्रसार, प्रसारण। in defining = परिभाषित करने में। born (बॉन्) = जन्मा। sects (सैक्ट्स् ) = सम्प्रदाय, पन्थ। dearly (डिअॅलि) = अत्यधिक। nowhere (नोवेों) = कहीं नहीं। laid down (लेड डाऊन) = निर्धारित है, रखे गये हैं। hemmed (हेम्ड्) = घिरा हुआ, अवरुद्ध customs (कॅस्टम्ज़) = परम्पराएँ, रीति-रिवाज। praise worthy (प्रेज़र्वे:दि) = प्रशंसा के योग्य। rest (रेस्ट) = शेष। condemn (कॅन्डेम्) = निन्दा करना। altogether (ऑ:ल्टगे) = पूर्णतया, बिल्कुल। has been burdened (हेज़ बीन् बर्डन्ड्) = बोझिल हो चुका है। load (लोड्) = भार orthodoxy (ऑ:/डॉक्सि) = प्रामाणिकता, परम्परानिष्ठा। penance (पेनॅन्स्) = प्रायश्चित undergoing (अण्ड:गोइंग्) = भोग रहे। quoting (क्वोटिंग्) = उद्धरित करते हुए। verses (व:सिज़्) = श्लोक, छन्द। scriptures (स्क्रिप्चें:ज़) = धर्म-ग्रन्थ। defence (डिफेन्स्) = रक्षा, बचाव। apocryphal (अॅपॉक्रिफॅल्) = अप्रामाणिक। quite (क्वाइट) = पूर्णतः, बिल्कुल। come across = मिलना। injunction (इन्जंक्शन्) = आदेश। contained (कण्टेइण्ड्) = समाविष्ट, समाए हुए। defend (डिफेण्ड्) = रक्षा करना, बचाव करना। principles (प्रिंसिपॅल्ज़) = सिद्धान्त, मूलतत्व। enunciated (इनॅन्सिएटिड्) = प्रतिपादित, प्रस्तुत। eternal (इट:नॅल्) = शाश्वत, अनन्त religious (रिलिॲस्) = धार्मिक। preachers (प्रीचॅ:) = उपदेशक। learned (लॅन्ड्) = विद्वान्, पण्डित। revere (रिविों) = आदर करना, पूज्य मानना। treatment (ट्रीटमॅण्ट) = बर्ताव, व्यवहार sanction (सैंक्शन) = अनुमोदन, स्वीकृति। custom (कॅस्टॅम्) = प्रथा, रिवाज। conform (कॅन्फम्) = सदृश या अनुकूल कर देना, के अनुसार चलना। follows (फॉलोज) = अनुसरण करता है। are employed (आर् इम्प्लाइड) = नियुक्त हैं। least (लीस्ट) = न्यूनतम compunction (कॅम्पंक्शन्) = खेद, अनुताप। hindrance (हिण्ड्रन्स्) = बाधा, रुकावट hesitation (हेजिटेइरॉन्) = हिचकिचाहट। convert (कॅन्वॅट) = बदलना, धर्म परिवर्तन करना। dare (डेअर) = साहस करना। thoughtful (थॉटफुल) = गम्भीर, सहृदय। uphold (अपहोल्ड्) = कायम रखना, बनाए रखना। tradition (ट्रॅडिशन) = परम्परा।

हिन्दी अनुवाद-धर्म सम्बन्धी मामलों में, मैं स्वयं को एक बच्चा नहीं मानता, बल्कि पैंतीस वर्ष के अनुभव वाला वयस्क मानता हूँ। क्योंकि मैंने इतने वर्षों तक धर्म सम्बन्धी प्रश्नों पर विचार व चिन्तन किया है। विशेष रूप से, जहाँ कहीं भी मैंने सत्य देखा, मैंने उसे कर्म में परिवर्तित कर दिया। यह मेरा दृढ़ विश्वास है कि मात्र शास्त्रों का पठन धर्म की सच्ची आत्मा का बोध नहीं कराता। हम देखते हैं कि किसी नियम संहिता का पालन किए बिना, शास्त्रों का अध्ययन किए बिना किसी भी मनुष्य का व्यवहार हठधर्मिता की ओर अग्रसर हो जाता है। किसी धर्म सिद्धान्त के अर्थ को जानने के लिए मैं किसी भी ऐसे मनुष्य के पास नहीं जाऊँगा जिसने शास्त्रों का अध्ययन किया हो और पण्डित कहलाने का अभिलाषी हो। इस कार्य के लिए, अपने नीतिशास्त्र को सूत्रबद्ध करने के लिए मैं मैक्समूलर जैसे विद्वानों द्वारा श्रमसाध्य अध्ययन के पश्चात् लिखी गई पुस्तकों का सहयोग भी नहीं चाहूँगा। आजकल बहुत से लोग जो स्वयं को शास्त्रों का ज्ञाता मानते हैं वे अज्ञानी व दम्भी निकलते हैं। मैं एक गरु की तलाश में हैं। मैं यह स्वीकार करता हूँ कि गुरु आवश्यक है। किन्तु जब तक मुझे कोई सुयोग्य गुरु नहीं मिलता, तब तक मैं अपना गुरु स्वयं को ही बनाए रखूगा। मार्ग, निश्चित रूप से दुर्गम है, किन्तु इस पापमय युग में, यही मार्ग सही प्रतीत होता है। हिन्दू धर्म इतना महान है एवं प्रसार में इतना विस्तृत है कि इसे परिभाषित करने में अभी तक कोई सफल नहीं हुआ है। मेरा जन्म वैष्णव सम्प्रदाय में हुआ और मैं सिद्धों और सिद्धान्तों को अत्यधिक प्रेम करता हूँ। वैष्णव पंथ में या हिन्दू धर्म में कहीं भी यह नहीं लिखा है कि हरिजन, डोम आदि अछूत हैं। हिन्दू धर्म बहुत से प्राचीन रीति-रिवाजों से घिरा हुआ है। इनमें से कुछ (रिवाज) प्रशंसनीय हैं किन्तु शेष निन्दनीय हैं। छुआछूत का रिवाज भी, वास्तव में, पूर्णतया निन्दनीय है। इसी के कारण, दो हजार वर्षों से, हिन्दूत्व धर्म के नाम पर पाप के बोझ से दबा हुआ है। मैं इस रूढ़िवादिता को पाखण्ड कहता हूँ। आपको अपने आप को इस पाखण्ड से मुक्त करना होगा, इसका प्रायश्चित आप पहले से ही भोग रहे हैं। इस रूढ़िवादिता के बचाव में मनुस्मृति या अन्य धर्मग्रन्थों के श्लोक उद्धरित करना ठीक नहीं है। इन धर्मग्रंथों में बड़ी संख्या में श्लोक अप्रामाणिक हैं, इनमें से कुछ तो बिल्कुल निरर्थक हैं। इसके अतिरिक्त मैं अभी एक भी ऐसे किसी हिन्दू से नहीं मिला हूँ जो मनुस्मृति में समाविष्ट प्रत्येक आदेश का पालन करता हो या पालन करना चाहता हो। और यह प्रमाणित करना भी आसान है कि यदि कोई ऐसा करता भी है तो, अन्त में, वह स्वयं ही प्रदूषित होगा। धर्मग्रन्थों में मुद्रित प्रत्येक श्लोक की रक्षा करने से सनातन धर्म की रक्षा नहीं होगी। इसकी रक्षा केवल तभी हो सकती है जब धर्मग्रन्थों में प्रतिपादित सिद्धान्तों-शाश्वत सिद्धान्तों को कर्म में अपनाया जाये। सारे धार्मिक नेता जिनसे इस विषय पर विचार विमर्श करने का मुझे अक्सर मिला है वे सभी इस बात से सहमत हुए हैं। सारे उपदेशक जिनकी गिनती विद्वानों में होती है और जिन्हें समाज में पूजा जाता है वे भी स्पष्ट रूप से यह कह चुके हैं कि अछूत, डोमों आदि के प्रति हमारा बर्ताव कहीं से भी अनुमोदित नहीं है, सिवाय उस रिवाज के जिसके अनुसार यह बर्ताव किया जा रहा है। सत्य तो यह है कि इस रिवाज का वास्तव में कोई पालन नहीं करता है। हम रेलगाड़ियों में उन्हें छूते हैं। वे कारखानों में काम करते हैं जहाँ हम उन्हें जरा भी खेद किए बिना ही छूते हैं। अछूतों ने फर्ग्युसन व बड़ौदा कॉलेजों में प्रवेश ले लिए हैं। जहाँ तक इन बातों का सम्बन्ध है समाज कोई अवरोध उत्पन्न नहीं करता। अंग्रेजों और मुसलमानों के घरों में उनका शिष्टतापूर्वक स्वागत किया जाता है। और हमें अंग्रेजों और मुसलमानों को छूने में जरा भी हिचकिचाहट नहीं होती; वास्तव में, हम इनमें से बहुत से लोगों से हाथ मिलाने में गर्व का अनुभव करते हैं। जब वही अछूत धर्म परिवर्तन कर ईसाई बन जाते हैं, तब हम उनसे अछूतों का सा व्यवहार करने का साहस भी नहीं कर सकते। इस प्रकार, यह किसी भी सहृदय हिन्दू के लिए असम्भव है, चाहे वह उस परम्परा के बारे में जिसका पालन करना असम्भव हो अलग तरह से सोचता हो।

I can think …………………………… to be clean. (Page 25)

Word-meanings : epithet (ऐपिथेट) = विशेषण, उपाधि। deny (डिनाइ) = अस्वीकार करना। hatred (हेट्रिड) = घृणा। beating (बीटिंग्) = पिटाई। abuse (अॅब्यूज्) = गाली। shower (शाउों) = बौछार, बरसात। goods (गुड्ज़) = सामग्री, सामान। leavings (लीविंग्ज़) = जूठन torn (टॉ:न्) = फटे हुए। soiled (सॉइल्ड्) = मैले। garments (गामॅण्ट्स ) = वस्त्र। dwell (ड्वेल्) = निवास करना। proper (प्रॉप) = उपयुक्त। out of fear (आउट ऑव फिअ) = डर से। wrath (रॉथ) = क्रोध, कोप। proclaim (प्रॉक्लेम्) = घोषित करना। accountability (अन्टॅचेबिलिटि) = अस्पृश्यता। repeatedly (रिपीटिड्लि) = बार-बार treatment (ट्रीटमेण्ट) = बर्ताव, व्यवहार indicative (इण्डिकॅटिव्) = निर्देशात्मक। slavery (स्लेवरि) = गुलामी, दासता। upheld (अपहैल्ड्) = कायम रखा, अनुमोदित किया। foster (फॉस्टर्) = पोषण करना, संजोये रखना। quoted (क्वोटिड्) = उद्धरित करते थे। defence (डिफेन्स्) = रक्षा, बचाव। include (इन्क्लू ड) = शामिल करना। present (प्रेजॅण्ट) = विद्यमान। orthodoxy (ऑ:/डॉक्सि) = परम्परानिष्ठा, रूढ़िवादिता। imputed (इम्प्यूटिड्) = गले पड़ी हुई, थोपी हुई। diseases (डिसीज़िज़) = बीमारियाँ cholera (कॉलरा) = हैजा। plague (प्लेग्) = प्लेग, ताऊन। root out (रूट आउट) = जड़ से उखाडना, उन्मूलन करना। lowly (लोलि) = निम्न, नीचा। occupations (ऑक्यूपेइशन्ज़) = व्यवसाय, पेशा। perform(पॅफॉ:म्) = सम्पन्न करना। argue (आग्यु) = तर्क देना। afterwards (आफ्टवेड्ज़) = के बाद। fault (फॉल्ट) = दोष। wholly (होलि) = पूर्ण रूप से। hug (हॅग्) = गले लगाना।

हिन्दी अनुवाद-मैं उन लोगों का वर्णन करने के लिए कोई विशेषण नहीं सोच सकता जो उस घृणा की अनुभूति को अस्वीकार कर देते हैं जो छुआछूत पर बल देते हैं। यदि गलती से कोई अछूत हमारे डिब्बे में घुस आता है तो वह पिटाई से मुश्किल ही बच पायेगा, जहाँ तक गालियों की बात है, इनकी तो बौछार उस पर हो जायेगी। चाय-विक्रेता उसे चाय नहीं थमाएगा, न ही दुकानदार उसे वस्तुएँ बेचेगा। चाहे वह मर भी रहा हो हम उसे छूने की परवाह नहीं करेंगे। हम अपनी जूठन उसको खाने के लिए देंगे और अपने फटे हुए व मैले वस्त्र उसको पहनने के लिए देंगे। कोई भी हिन्दू उसे पढ़ाने को इच्छुक नहीं है। वह एक उपयुक्त मकान में निवास नहीं कर सकता। हमारे कोप के डर से उसे सड़क पर बार-बार अपने अछूतपन की घोषणा करनी पड़ती है। इससे ज्यादा घृणा का व्यवहार क्या हो सकता है? उसकी यह हालत क्या दर्शाती है? जिस प्रकार किसी समय यूरोप में धर्म की आड़ में दास प्रथा को कायम रखा जाता था उसी प्रकार से अब हमारे समाज में धर्म के नाम पर अछूतों के प्रति घृणा को पोषित किया जा रहा है। यूरोप में अंत तक कुछ लोग थे जो कि गुलामी के बचाव में (गुलामी प्रथा को जारी रखने के पक्ष में) बाइबिल की लाईनें बोलते थे। इस श्रेणी में मैं रूढ़िवादिता के हमारे विद्यमान समर्थकों को शामिल करता हूँ। हमें धर्म को छुआछूत के पाप से मुक्त करना होगा जो इसके गले में पड़ा हुआ है। यदि हम ऐसा नहीं करेंगे तो प्लेग, हैजा इत्यादि जैसी बीमारियाँ जड़ से खत्म नहीं होंगी। अछूतों के व्यवसायों में कुछ भी निम्न नहीं है। डॉक्टर एवं हमारी माताएँ भी इसी प्रकार के कार्य करती हैं। यह तर्क दिया जा सकता है कि वे बाद में स्वयं को स्वच्छ कर लेते हैं। हाँ, किन्तु अछूत इत्यादि ऐसा नहीं करते हैं तो दोष पूर्णतया हमारा ही है न कि उनका। यह स्पष्ट है कि जिस क्षण हम उन्हें स्नेहपूर्वक गले लगाना शुरु कर देंगे, वे स्वच्छ रहना सीखने लगेंगे।

Unlike the …………………………… as equals.(Pages 25-26)

Word-meanings : unlike (अन्लाइक्) = भिन्न, असमान। inter-dining (इण्ट डाइनिंग्) = अन्तर्जातीय भोज। push (पुश्) = धकेलना, आगे बढ़ाना। system (सिस्टॅम्) = तन्त्र, व्यवस्था। aims (एम्ज़) = लक्ष्य करना, उद्देश्य होना। excesses (इक्सेसिज़्) = ज्यादतियाँ, __ अतियाँ। desire (डिज़ाइों) = इच्छा, अभिलाषा। ini tiators (इनिशिएटॅ:ज़) = प्रवर्तक। vocations (वॅकेशन्ज) = व्यवसाय, धन्धा। demonstrate (डिमॉन्स्ट्रेट) = प्रदर्शित करना, दिखाना। function (फंक्शन्) = कार्य। filth (फिल्थ्) = गन्दगी। impart (इम्पाःट्) = प्रदान करना। grace (ग्रेस्) = कृपा, अनुग्रह, शोभा। pursue (पॅस्यू) = लगे रहना, करते रहना। degraded (डिग्रेडिड) = भ्रष्ट, निम्न। entitled (इन्टाइटल्ड्) = अधिकारी, हकदार। equal (इक्वल्) = समान, बराबर। measure (मेश) = मात्रा, मानदण्ड। privileges (प्रिविलिज़िज्) = विशेषाधिकार। callings (कॉलिंग्ज़) = व्यवसाय, पेशे। protects (प्रंटेक्ट्स् ) = रक्षा करता है। deserve (डिजें:व्) = के योग्य होना, का पात्र होना। venerate (वेनॅरेट) = पूजा करना, आदर करना। compassion (कॅम्पैरॉन्) = करुणा, सहानुभूति। virtues (वॅ:ट्यूज) = सद्गुण, गुण। licence (लाइसॅन्स्) = स्वच्छन्दता, स्वेच्छाचार। barbarity (बाबैरिटि) = बर्बरता, असभ्यता। vices (वाइसिज़) = अवगुण, बुराइयाँ। juncture (जंकचें) = समय, संकटकाल। becoming (बिकमिंग) = उचित, शोभनीय। fraternity (फ्रंटॅनिटि) = भ्रातृसंघ। gird up (गॅ:ड् अप्) = कस लेना, बांधना। lains (लॉइन्स्) = कमर, कटि। share (शेों) = भागीदार बनना। taken up = आरम्भ करना, अपनाना। greeting (ग्रीटिंग्) = अभिवादन या स्वागत करते हुए। as such = उसी रूप में। undertake (अण्डटेक्) = बीड़ा उठाना, प्रारम्भ करना। million (मिल्ॲन्) = दस लाख। thoroughly (थरॅलि) = पूर्ण रूप से। reflected (रिफ्लेक्टिड्) = चिन्तन किया। critic (क्रिटिक्) = आलोचक। prophecy (प्रॉफिसि) = भविष्यवाणी। forsake (फॅसेक्) = छोड़ देना। firm (फॅ:म्) = दृढ। conviction (कन्विक्शन्) = विश्वास। attempt (ॲटेम्ट) = कोशिश। lay down (ले डाउन) = अर्पित कर देना। survive (सॅ:वाइव्) = बना रहना।

हिन्दी अनुवाद-अन्तर्जातीय-भोज के लिए आन्दोलन से भिन्न इस आन्दोलन को आगे बढ़ाने की आवश्यकता नहीं है। यह आन्दोलन वर्णाश्रम व्यवस्था के समाप्त होने का कारण नहीं बनेगा। इस आन्दोलन का उद्देश्य है कि (समाज में) ज्यादतियां दूर हों। इस आन्दोलन के प्रवर्तक भी यह नहीं चाहते कि अछूत लोग अपने व्यवसायों को त्याग दें। वे तो केवल यह प्रदर्शित करना चाहते हैं कि कूड़ा-कचरा व गन्दगी को हटाने का कार्य एक आवश्यक एवं पवित्र कार्य है एवं इस कार्य को सम्पन्न करना किसी वैष्णव को भी शोभा प्रदान कर सकता है। इस प्रकार जो लोग इस व्यवसाय में लगे हुए हैं वे निम्न नहीं हैं, बल्कि वे सामाजिक विशेषाधिकारों को अन्य व्यवसाय करने वाले लोगों के साथ समान मात्रा में ही पाने के हकदार हैं, उनका कार्य देश को अनेक बीमारियों से बचाता है। इसलिए वे डॉक्टरों जैसा समान सम्मान पाने के योग्य हैं। हालांकि यह देश अपनी तपस्या, विशुद्धता (पवित्रता), करुणा और अन्य सद्गुणों के लिए पूजा जाता है, तो यह स्वच्छन्दता, पाप, बर्बरता और अन्य बुराइयों की क्रीड़ास्थली भी रहा है। ऐसे संकटकाल में हमारे लेखकों के संघ के लिए उचित रहेगा कि वे पाखण्ड को जड़ से उखाड़ने के लिए उसका विरोध करने की खातिर कमर कस लें। मेरा आपसे निवेदन है कि गोधरा में प्रारम्भ किए गए पवित्र कार्य में भागीदार बनें, और उसी रूप में उस कार्य का स्वागत करते हुए, इस आन्दोलन में प्रारम्भ किए जाने वाले प्रयास में भाग लें, जिससे कि छह करोड़ लोग निराशा में हमसे अलग न हो जायें। इस अभियान में शामिल होने से पहले, मैंने अपने धार्मिक उत्तरदायित्व के बारे में पूर्ण रूप से चिन्तन कर लिया है। एक आलोचक ने यह भविष्यवाणी की है कि समय गुजरने के साथ मेरे विचार बदल जायेंगे। इस बात पर मैं केवल इतना कहूँगा कि ऐसा समय आने के पूर्व मैं न केवल हिन्दू धर्म ही बल्कि सारे धर्म छोड़ चुका होऊँगा। किन्तु यह मेरा दृढ़ विश्वास है कि हिन्दू धर्म को इस कलंक से मुक्त करने के प्रयास में यदि मुझे अपना जीवन भी न्योछावर करना पड़े तो कोई बड़ी बात नहीं होगी। यह पूर्ण रूप से असम्भव बात है कि जिस धर्म ने नरसी मेहता जैसे भक्त उत्पन्न किये जो सभी मनुष्यों को समान रूप में देखते थे, उस धर्म में छुआछूत की भावना बनी रहे।

All Chapter RBSE Solutions For Class 9 English Hindi Medium

All Subject RBSE Solutions For Class 9 Hindi Medium

Remark:

हम उम्मीद रखते है कि यह RBSE Class 9 English Solutions in Hindi आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

यदि इन solutions से आपको हेल्प मिली हो तो आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर कर सकते है और HindiLearning.in को सोशल मीडिया में शेयर कर सकते है, जिससे हमारा मोटिवेशन बढ़ेगा और हम आप लोगो के लिए ऐसे ही और मैटेरियल अपलोड कर पाएंगे |

आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *