UP Board Grasp for Class 12 English Poetry Brief Poems Chapter 1 Character of a happy Life

BoardUP Board
TextbookNCERT
ClassClass 12
TopicEnglish Poetry Brief Poems
ChapterChapter 1
Chapter IdentifyCharacter of a happy Life
ClassClass 12 English
site nameupboardmaster.com

UP Board Grasp for Class 12 English Poetry Brief Poems Chapter 1 Character of a happy Life

In regards to the Poet : Sir Henry Wotton was born in 1568. He was educated at Winchester, Oxford, Center Temple, and many others. He grew to become agent and secretary to the Earl of Essex. He was the ambassador on the court docket of Venice. He served varied different diplomatic missions.

In regards to the Poem : On this poem the poet describes the qualities needed for a very blissful man, e.g. independence, honesty, truthfulness, straight forwardness, clear heartedness, and many others. He must also pray to God every day.

Central Concepts                                                                                                               
On this didactic poem Sir Henry Wotton describes the character of a cheerful man. He must be unbiased, trustworthy and truthful. He must be free from jealousy, unwell will and worldly anxieties. He must be very cautious of flatterers and rumours. He ought to pray to God every day for Godly deserves. He shouldn’t be overjoyed in his achievements and disconsolate in failures. He must be grasp of himself. Contentment and self-respect are the best qualities of a cheerful man.

(इस शिक्षाप्रद कविता में सर हेनरी वाटन एक प्रसन्न व्यक्ति के लक्षणों का वर्णन करता है। उसे स्वतन्त्र, ईमानदार और सत्यवादी होना चाहिए। उसे ईर्ष्या, दुर्भावना तथा सांसारिक चिन्ताओं से मुक्त होना चाहिए। उसे चापलूसों तथा अफवाहों से बहुत सावधान रहना चाहिए। दैवी गुणों के लिए उसे प्रतिदिन ईश्वर की प्रार्थना करनी चाहिए। उसे उपलब्धियों में अत्यधिक प्रसन्न और असफलताओं में निराश या दु:खी नहीं होना चाहिए। उसे स्वयं का स्वामी होना चाहिए। आत्म-सन्तुष्टि एवं आत्म-सम्मान एक प्रसन्न व्यक्ति के सबसे बड़े गुण हैं।)

EXPLANATIONS (With Meanings & Hindi Translation)
(1)
How blissful is he born or taught,
That serveth not one other’s will;
Whose armour is his trustworthy thought,
And easy reality his utmost ability !

[Word-meanings : taught = सिखाया advised; serveth (serves) = कार्य करना act; will = इच्छा wish; armour = कवच weapon for protection; honest thought = शुद्ध विचार noble ideas या honesty; utmost = सबसे बड़ी greatest; skill = गुण quality.]

(वह मनुष्य कितना प्रसन्न होगा जो दूसरे व्यक्ति के अधीन नहीं है अर्थात् आत्म-निर्भर व्यक्ति बहुत प्रसन्न होता है। यह गुण उसमें जन्मजात भी हो सकता है और सिखाया भी जा सकता है। उस व्यक्ति की सुरक्षा का हथियार उसके शुद्ध विचार तथा ईमानदारी है और केवल सत्य ही उसका सबसे बड़ा गुण होता है।)

Reference : This stanza refers back to the well-known poem ‘Character of a Completely happy Life’ composed by Sir Henry Wotton.

[ N.B. : The above reference will be used for all the explanations of this poem.]

Context : In these strains the poet describes the character of a cheerful man. He factors out among the important qualities for a cheerful life. He advises us to be unbiased and true if we need to be blissful..

Clarification : On this stanza the poet factors out the qualities of a cheerful man. He says that blissful man is unbiased in his considering and motion. He’s self-dependent. Both he has this high quality by start or he has been taught to have it. He’s all the time trustworthy and has no unwell will for anyone. So he doesn’t want some other weapon for his safety. The best high quality of his character is simply reality. For this high quality he’s honoured. Thus the person who has these quaļities can be blissful past expectation.

(इस पद्यांश में कवि एक प्रसन्न व्यक्ति के लक्षण बताता है। वह बताता है कि एक प्रसन्न व्यक्ति अपने विचारों तथा कार्यों में स्वतन्त्र होता है। वह आत्म-निर्भर होता है। या तो उसमें यह गुण जन्मजात होता है या इसे प्राप्त करने के लिए उसे सिखाया जाता है। वह सदा ईमानदार होता है और किसी के प्रति दुर्भावना नहीं रखता। इसलिए उसे अपनी सुरक्षा के लिए किसी अन्य हथियार की आवश्यकता नहीं होती। उसके चरित्र का सबसे महान् लक्षण केवल सत्य होता है। इसी गुण के कारण उसका सम्मान किया जाता है। इस प्रकार वह मनुष्य जिसमें यह सभी गुण होंगे वह आशा से अधिक प्रसन्न होगा।)

feedback : The poet has personified thought’ and reality’ that are summary notions (अदृश्य विचार).

(2)
Whose passions not his masters are,
Whose soul continues to be ready for loss of life;
Untied unto the world with care,
Of princely love or vulgar breath.

[ Word-meanings : passions = मन की प्रबल भावनाएँ, क्रोध, घृणा, प्रेम आदि strong feelings of love, anger, hate, etc.; masters = पथ-प्रदर्शक, स्वामी guide; still = सदा always; untied = स्वतन्त्र free from; princely love = राजकुमारों का प्यार love of a prince; vulgar breath = सामान्य लोगों का मत या आलोचना opinion या criticism of the common people.]

(वह व्यक्ति कितना प्रसन्न होगा जो अपनी तीव्र मानसिक भावनाओं (क्रोध, घृणा, प्रेम) से विचलित न हो अर्थात् जो अपनी तीव्र भावनाओं के वशीभूत न हो। जो मनुष्य सदा मृत्यु के लिए भी तैयार रहता है अर्थात् जिसे मृत्यु का भय नहीं है, जो इस संसार में सभी प्रकार की चिन्ताओं से मुक्त होकर जीवन व्यतीत करता है। और जिसे राजकुमारों का प्यार अथवा जनता की आलोचना भी विचलित नहीं कर पाती हो वह व्यक्ति अत्यन्त प्रसन्न होगा।)

Context : In these strains the poet describes the character of a cheerful man. He’s free and self-dependent. He’s trustworthy and truthful. He has no unwell will for anyone.

Clarification : On this stanza the poet says {that a} man who’s calm and balanced is all the time blissful. He’s not guided or managed by the robust emotions of coronary heart, e.g. anger, hate, love, and many others. He leads a easy and trustworthy life. He’s all the time free from worldly anxieties and worries. So he’s by no means afraid even of loss of life. He neither likes flattery nor does he thoughts the general public criticism. So he’s all the time blissful.

(इस पद्यांश में कवि कहता है कि वह मनुष्य जो शान्त और सन्तुलित होता है, सदा प्रसन्न होता है। वह हृदय की तीव्र भावनाओं, जैसे-क्रोध, घृणा, प्रेम आदि से नियन्त्रित नहीं होता। वह सादा और ईमानदारी का जीवन व्यतीत करता है। वह सांसारिक चिन्ताओं तथा परेशानियों से मुक्त होता है। इसलिए वह कभी मृत्यु से भी भयभीत नहीं होता। वह न तो चापलूसी को पसन्द करता है और न सार्वजनिक आलोचना की ओर ध्यान देता है। इसलिए वह सदा प्रसन्न होता है।)

Feedback : Within the final line ‘of princely love….’ the poet describes the political situation of England.

(3)
Who hath his life from rumours freed,
Whose conscience is his robust retreat;
Whose state can neither flatterers feed.
Nor destroy make oppressors nice;

[Word-meanings : hath = रखना has; rumours = अफवाहें false news; conscience = अन्तःकरण innerself; retreat = शरण देने का स्थान place of shelter; state = स्थिति position, status; flatterers = चापलूस व्यक्ति one who praises too much; ruin = नष्ट करना destroy; feed = सन्तुष्ट करना satisfy; oppressors = दमनकर्ता those who treat others cruelly.]

(वह मनुष्य प्रसन्न होता है जो अफवाहों से प्रभावित न हो, जिसकी अन्तरात्मा ही सबसे शक्तिशाली शरणस्थल हो अर्थात् जो अपनी अन्तरात्मा की आवाज का दृढ़ता से पालन करता हो, जो चापलूस व्यक्तियों की झूठी प्रशंसा से सन्तुष्ट न हो, बड़े-बड़े दमनकर्ता भी ऐसे व्यक्ति को कोई हानि नहीं पहुँचा सकते। ऐसा व्यक्ति सदा प्रसन्न रहता है।)

Context : The poet says {that a} calm and balanced man is all the time blissful. He’s free from worldly anxieties and worries. He doesn’t worry from loss of life and could be very cautious of flatterers.

Clarification : On this stanza the poet says {that a} blissful man doesn’t consider in rumours. He’s all the time guided by his conscience and follows its voice strictly. He doesn’t prefer to go along with flatterers. He’s not influenced by his false reward. So he’s by no means happy with himself. Even a merciless and unjust man can not give him any hurt., Such a person leads a cheerful and ultimate life.

(इस पद्यांश में कवि कहता है कि एक प्रसन्न व्यक्ति अफवाहों में विश्वास नहीं करता। वह सदा अपनी अन्तरात्मा से ही निर्देशित होता है और उसकी आवाज का पूर्ण रूप से अनुसरण करता है। वह चापलूस व्यक्तियों की संगति में रहना पसन्द नहीं करता। वह अपनी झूठी प्रशंसा से भी प्रभावित नहीं होता। इसलिए वह कभी भी अपने ऊपर गर्व नहीं करता। एक अत्याचारी तथा अन्यायी व्यक्ति भी उसे हानि नहीं पहुँचा । सकता। ऐसा व्यक्ति एक आदर्श और प्रसन्न जीवन व्यतीत करता है।)

(4)
Who envies none whom probability doth elevate
Nor vice; who by no means understood
How deepest wounds are given with reward;
Nor guidelines of state, however guidelines of fine;

[ Word-meanings : envies = ईर्ष्या करना to haveill will against anybody; chance = अवसर, भाग्य luck; raise = उन्नति करना, ऊपर उठाना lift up; vice = बुराई evil; deepest = अत्यधिक very much; wounds = कष्ट pains; state = राज्य, सरकार government; good=सदाचार good conduct.]

(वह व्यक्ति कितना प्रसन्न होगा जो किसी ऐसे व्यक्ति से ईष्र्या नहीं करता जिसकी संयोग से या सौभाग्य से उन्नति हुई हो और जो किसी के विरुद्ध कोई बुरी भावना न रखता हो। इस व्यक्ति को यह समझ लेना चाहिए। कि झूठी प्रशंसा के घाव बहुत गहरे होते हैं अर्थात् झूठी प्रशंसा से ऐसा कष्ट होता है जो काफी समय तक भी दूर नहीं होता। एक प्रसन्न व्यक्ति सरकार के नियमों के प्रति इतना वफादार नहीं होता जितना सदाचार के नियमों के प्रति।)

Context : The poet describes the character of a cheerful man. A contented man is all the time free, trustworthy and truthful. He’s cautious of flatterers. He’s by no means happy with himself.

Clarification : On this stanza the poet says that some individuals might progress of their life by probability or by luck. However man isn’t envious of them. So he’s a cheerful man. He understands that false reward causes deep wounds which can’t be healed up. So a person who’s cautious of his reward is all the time blissful. All people obeys the principles of presidency by power. However man follows the principles of fine conduct additionally. He provides extra significance to the principles of fine conduct and has no worry of any authorized motion to be taken in opposition to him. He is aware of effectively that good conduct is above all issues.

(इस पद्यांश में कवि कहता है कि कुछ व्यक्ति अपने जीवन में अवसर का लाभ उठाकर या भाग्य के कारण उन्नति कर सकते हैं। किन्तु एक भला मनुष्य ऐसे व्यक्तियों से कभी ईर्ष्या नहीं करता। इसलिए वह एक प्रसन्न व्यक्ति होता है। वह समझता है कि झूठी प्रशंसा से जख्म गहरे हो जाते हैं जिन्हें भरा नहीं जा सकता। इसलिए ऐसा व्यक्ति जो अपनी प्रशंसा के प्रति सावधान है, सदा प्रसन्न होता है। प्रत्येक व्यक्ति विवशता से सरकार के नियमों का पालन करता है, किन्तु एक भला व्यक्ति अच्छे आचरण के नियमों का भी पालन करता है। वह सदाचार के नियमों को अधिक महत्त्व देता है और उसे अपने विरुद्ध किसी कानूनी कार्यवाही का भय नहीं होता। वह भली प्रकार जानता है कि सदाचार सभी वस्तुओं से ऊपर होता है।)

(5)
Who God doth late and early pray
Extra of His grace than presents to lend;
Who entertains the innocent day
With a well-chosen e-book or good friend;

[ Word-meanings : doth = करता है does; late and early = देर-सवेर, कभी भी whenever one gets time; grace = ईश्वरीय गुण godly goodness; gifts = भगवान् के दिए हुए सुख एवं
आनन्द blessings and happiness given by God; entertains = आनन्द लेता है enjoys; harmless day= पूरे दिन बिना किसी को हानि पहुँचाए without giving any harm to anybody.]

(वह व्यक्ति कितना प्रसन्न होगा जो शाम-सवेरे कभी भी भगवान् की प्रार्थना करता है। ऐसे व्यक्ति को भगवान् की प्रार्थना ईश्वरीय गुण प्राप्त करने के लिए करनी चाहिए, न कि जीवन के आनन्द या अन्य के लिए। ऐसे व्यक्ति को पूरे दिन अर्थात् किसी भी समय किसी भी व्यक्ति को कष्ट नहीं पहुँचाना चाहिए, बल्कि उसे अपना समय अच्छी पुस्तक पढ़ने में या अच्छे मित्र की संगति में व्यतीत करना चाहिए।)

Context : The poet says {that a} blissful man isn’t envious of the progress of others. He all the time follows the principles of fine conduct with none worry of any motion by the federal government. Clarification : On this stanza the poet advises to wish to God every day at any time when we get time. It is rather needed to guide a cheerful life. We should always not pray to God for worldly positive aspects however for his blessings and mercy. A person shouldn’t give hurt of any type to anyone at any time in the entire day. However he ought to cross his time both in studying good books or within the firm of spiritual and pious individuals. Such a person will lead a really blissful life.

(इस पद्यांश में कवि हमें शिक्षा देता है कि जब भी समय मिले, हमें भगवान् की प्रार्थना करनी चाहिए। एक प्रसन्न जीवन बिताने के लिए यह अत्यन्त आवश्यक है। हमें भगवान् से सांसारिक लाभ के लिए प्रार्थना नहीं करनी चाहिए, बल्कि उसके आशीर्वाद तथा दया के लिए प्रार्थना करनी चाहिए। किसी भी व्यक्ति को पूरे दिन में किसी भी समय किसी अन्य व्यक्ति को किसी भी प्रकार की हानि नहीं पहुँचानी चाहिए। बल्कि उसे अपना समय या तो अच्छी पुस्तकों को पढ़ने में बिताना चाहिए या धार्मिक तथा पवित्र व्यक्तियों की संगति में। ऐसा व्यक्ति आनन्दमय जीवन व्यतीत करेगा।)

Feedback : A contented man is the devotee of God.

(6)
This man is free from servile bands
Of hope to rise, or worry to fail;
Lord of himself, although not of lands;
And having nothing, he hath all.

[Word-meanings : servile = दासतापूर्ण like slaves; bands = बन्धन; rise = उन्नति progress; fall = अवनति या असफलता failure.]

(एक सुखी मनुष्य सभी प्रकार के विचारों एवं भावनाओं से स्वतन्त्र होता है। वह उनका दास नहीं होता अर्थात् उसे न तो उन्नति या सफलता की इच्छा होती है और न अवनति या असफलता का भय। वह भले ही धन या धरती का स्वामी न हो फिर भी वह अपना स्वामी स्वयं होता है। उसके पास कुछ भी न होते हुए सब कुछ होता है अर्थात् स्वतन्त्र विचार, आत्म-सम्मान एवं आत्म-सन्तोष ऐसे गुण हैं जो उसके जीवन को पूर्ण सुखी बनाते हैं।)

Context : In these strains the poet describes the character of a cheerful life. He says that honesty, truthfulness, and sincerity are the principle qualities of a cheerful man. The person who passes his time in studying good books or within the firm of fine individuals is all the time blissful.

Clarification : On this concluding stanza the poet advises us to guide an unbiased life. A person shouldn’t rely on others. He must be free from all hopes and fears. He shouldn’t be overjoyed in his achievements and shouldn’t be disconsolate in failures. Though he might not have worldly riches but he’s the grasp of himself. Thus independence, self-respect and contentment are the deserves that make a person blissful.

(इस अन्तिम पद्यांश में कवि हमें स्वतन्त्र जीवन व्यतीत करने की शिक्षा देता है। किसी भी व्यक्ति को दूसरों पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। उसे सभी प्रकार की आशाओं तथा भय से मुक्त होना चाहिए। उसे अपनी उपलब्धियों पर आवश्यकता से अधिक प्रसन्न नहीं होना चाहिए और असफलताओं पर निराश नहीं होना चाहिए। हो सकता है कि उसके पास सांसारिक धन-दौलत न हो फिर भी वह स्वयं अपना स्वामी होता है। इस प्रकार स्वतन्त्रता, आत्म-सम्मान और सन्तुष्टि ऐसे गुण हैं जो किसी मनुष्य को प्रसन्न बनाते हैं।)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *