498a IPC in Hindi

आईपीसी धारा 498a क्या है? 498a IPC in Hindi

498a IPC in Hindi: आज के लेख के माध्यम से हम जानेंगे आईपीसी धारा 498a क्या है और आईपीसी धारा 498a के विषय में जानकारी पर विस्तार से प्रकाश भी डालेंंगे ।

आईपीसी धारा 498a क्या है (What is 498A IPC)

यह पाया गया है कि जब एक female marriage के बाद एक नए परिवार में चली जाती है, तो उसके साथ Violence और Violence होती है और इसका मुख्य कारण Dowry है। Violence के कारण लोगों की जान जाने की कई घटनाएं हुई हैं। इससे women को बचाने में काफी उत्साह था।

ताकि वे घर में ससुराल वालों की Negligence से दूर रह सकें। resulting, women’s movement के दबाव में Indian Penal Code (IPC) में ‘498- a’ लागू हुआ। धारा 498- a एक ऐसा कानून है जो एक महिला को उसके पति या उसके पति के relatives द्वारा misbehavior किए जाने से बचाता है। law misbehavior को भी परिभाषित करता है।

कोई भी कार्य जो किसी Woman को suicide करने के लिए उकसाता है वह उसे physical appearance से नुकसान पहुंचा सकता है या किसी भी तरह से उसके जीवन को खतरे में डाल सकता है।

Woman पर किसी भी प्रकार की property मांगने या किसी को देने का दबाव होना चाहिए।

Dowry मांगकर सास को परेशान करने वाले सभी को Guilty ठहराया जा सकता है।

धारा 498-A क्या है कानून में प्रावधान (What is section 498-A provision in law)

इस मामले में Guilty पाए जाने पर उसे 3 साल तक की जेल हो सकती है। वहीं अगर किसी married woman की मौत suspicious circumstances में होती है और मौत शादी के 7 साल के भीतर हो जाती है तो Police IPC की धारा 304-b के तहत मामला registered करती है।

Dowry मुक्त 1961 Act एक सुधार law था। Dowry Prevention Act की section 8में कहा गया है कि दहेज देना और प्राप्त करना एक known offense है। Dowry के मामले में यदि धारा 3 के तहत मामला registered किया जाता है और इस धारा के तहत अपराध साबित होता है, तो Imprisonment 5 years से कम नहीं है।

धारा 498-A​ के तहत शिकायत कैसे दर्ज़ की जाती है (How to file a complaint under Section 498-A)

Indian Penal Code, 1973की धारा 468, IPC 1860 Section 498-A में कहा गया है कि यदि complaint filed की जाती है, तो उसे घटना के तीन साल के भीतर पुलिस में दर्ज किया जाना चाहिए।

वहीं, भारतीय दंड संहिता की धारा 473 में कहा गया है कि अदालत को यह अधिकार है कि वह किसी महिला द्वारा उसके पति या उसके पति के किसी Relative द्वारा स्टे अवधि समाप्त होने के बाद भी उत्पीड़न(harassment) के ऐसे अपराध पर विचार कर सकती है। complaint, यदि Court satisfied है कि Justice के हित में ऐसा करना आवश्यक है।

आईपीसी की धारा 498A में  जमानत का प्रावधान(Provision of bail in section 498A of IPC)

Section 498Aके तहत, Supreme court ने dowry harassment और torture के मामले में एक व्यक्ति के पति या पत्नी को pre bail देने की व्यवस्था की है, लेकिन उसकी arrest को नहीं रोकता है। यानी यहां महिला की सुरक्षा को ध्यान में रखा गया है|साथ ही Supreme court ने भारत सरकार को धारा 498ए की कमियों को दूर करने का Instruction दिया है|

धारा 498-A से बचाव के बारे में जानकारी(Information about protection from section 498-A)

आजकल बहुत से Male Section 498-A के झूठे मुकदमों में फंसे हुए हैं और अपना बचाव करने के लिए court का चक्कर लगाते हैं, लेकिन उन्हें कोई राहत नहीं मिलती है। Supreme court के कुछ मामलों में 498- A के abuse को ” legal terrorism ” के रूप में संदर्भित किया जाता है। Supreme court ने ” Sushil Kumar Sharma Vs Union of India et al .

Government भी fake cases की बाढ़ को देखते हुए Section 498-A में amendment की जरूरत समझती है, लेकिन अगर देखा जाए तो हम देखते हैं कि इस दिशा में और ठोस कदम उठाने की जरूरत है।

Read also:: आईपीसी धारा 308 क्या है? 308 IPC in Hindi (पूरी जानकारी)

हाल ही में Judge AJ Close. Goyal और Judge U. You. Lalit ने Uttar Pradesh के एक मामले में एक फैसले में कहा कि Act में धारा 498-ए (1983 Amendment) लाने का एकमात्र उद्देश्य पत्नी को पति या उसके परिवार के हाथों Mental और physical torture से बचाना था।  सदस्य.. वो भी तब जब इस तरह की torture ना से पत्नी के suicide करने का डर सता रहा हो।

आईपीसी धारा 498-A में वकील की जरुरत क्यों है?( Why is a lawyer required under IPC Section 498-A?)

IPC की Section 498A एक crime है जिसमें तीन साल तक की कैद की सजा हो सकती है। यह crime imprisonment के साथ-साथ धन से भी punishable है। किसी भी Criminal के लिए इस तरह के crime से बचना बहुत मुश्किल होता है।

charged को innocent साबित करना बेहद मुश्किल है। ऐसी dilemmas से निपटने के लिए, एक criminal lawyer ही एकमात्र व्यक्ति हो सकता है जो किसी भी accused lawyer के पक्ष में उचित रूप से साबित हो सकता है, और यदि वह lawyer अपने क्षेत्र में एक विशेषज्ञ lawyer है,

इसलिए वह criminal को उसके Blame से बरी कर सकता है। साथ ही हत्या जैसे बड़े मामलों में ऐसे मामलों में पहले से ही competent lawyer को नियुक्त किया जाना चाहिए ताकि धारा 498, ‘a’जैसे मामलों को ठीक से निपटाया जा सके। यह आपके मामले में सफलता की संभावना को और बढ़ा सकता है।

FAQ’s

Q. आईपीसी की धारा 498के तहत क्या अपराध है?

आईपीसी धारा 498ए अपराध : विवाहित महिला को प्रताड़ित करने पर दंड

Q. आईपीसी की धारा 498मामले में क्या सजा है?

IPC की धारा 498A के मामले में 3 साल + जुर्माना लगाया जाएगा।

निष्कर्ष

Section 498Aका abuse rumor नहीं है, अब यह साबित हो गया है कि women पर IPC की Section 498Aके प्रावधानों के तहत False accusation लगाया जाता है और प्रावधान के तहत अपने पतियों को बांधती हैं। महिलाओं के Exploitation से खुद को बचाने के लिए पुरुषों के पास कोई Law नहीं है। इसके अलावा, प्रत्येक District Court के मामले में, Section 498A IPC का abuse किया गया था।समस्याएं अभी भी unsolved थीं, और यह तथ्य कि पति अपने पति की पत्नी थी, इसका मतलब यह नहीं था कि वह सभी लागतों और लाभों के लिए जिम्मेदार था। समाज में men के opposite women cheater हैं।  

सच तो यह है कि IPC की Section 498Aका abuse women द्वारा पति और सास के लिए किया जा रहा है। परीक्षण समाप्त हो चुके हैं और पहले ही प्रकाशित हो चुके हैं। इस सेगमेंट में लोगों का उन्माद ज्यादा है। धारा 498ए महिलाओं की सुरक्षा के लिए सही है, लेकिन वास्तव में यह पत्नी द्वारा पति और सास का उत्पीड़न है। समाज पर इस उदाहरण का प्रभाव बहुत अस्वस्थ है। Indian Penal Code की धारा 498ए पर विधि आयोग ने अपने 243 बयानों में इस प्रावधान के abuse के issues का हवाला दिया है। आयोग ने recommendation की है कि crime को केवल Court की अनुमति से ही बढ़ाया जाए और इसे देने से पहले सावधानी बरती जाए।

498a IPC in Hindi Video

CRedit: Vidhik Shiksha 498a IPC in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.