2 tier & 3 Tier Architecture in Hindi

हेलो स्टूडेंट्स, इस पोस्ट में हम आज 2 tier & 3 Tier Architecture in Hindi के बारे में पढ़ेंगे | इंटरनेट में नेटवर्क सुरक्षा और क्रिप्टोग्राफी के नोट्स हिंदी में बहुत कम उपलब्ध है, लेकिन हम आपके लिए यह हिंदी में डिटेल्स नोट्स लाये है, जिससे आपको यह टॉपिक बहुत अच्छे से समझ आ जायेगा |

हम निम्न तरीके से यह समझ सकते है:-

2 tier architecture जो होता है वह client-server architecture पर आधारित होता है। इसमें क्लाइंट तथा सर्वर के मध्य direct कम्युनिकेशन होता है तथा क्लाइंट तथा सर्वर के मध्य कोई तीसरा मध्यवर्ती नही होता है।

image
Fig:-2-tier architecture

जैसा की चित्र में दिखाया गया है, 2 tier architecture में दो tier होती है:-
1:-data tier
2:-client tier.

इस architecture में क्लाइंट, सर्वर को कोई task परफॉर्म करने के लिए request करता है तथा सर्वर उस task को पूरा करके क्लाइंट की request को पूरा करता है।

जिस तरह 2-tier architecture क्लाइंट सर्वर आर्किटेक्चर होता है उसी तरह 3 tier architecture जो होता है वो client, server तथा database architecture होता है।

image

Fig:-3-tier architecture

जैसा कि चित्र में दिखाया गया है 3 tier architecture में 3 tier होते है:-
1:-Client tier
2:-Businesses logic tier
3:-database tier

Also Check: Virus dropper in Hindi

इस architecture में क्लाइंट, सर्वर को request भेजता है और सर्वर इस request को डेटाबेस को भेज देता है। फिर डेटाबेस request को पूरा करके सर्वर को भेजता है तथा सर्वर इसको क्लाइंट को वापस भेज देता है।

हम आशा करते है कि यह Network Security & Cryptography के हिंदी में नोट्स आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है | आप इन्हे अपने Classmates & Friends के साथ शेयर करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published.