संधि और संयोग में क्या अंतर है?

संधि और संयोग में अंतर:

संधिसंयोग
(a) संधि में उच्चारण के नियमानुसार एक या दोनों वर्णो में परिवर्तन हो जाता है और कभी-कभी उनकी जगह उनसे भिन्न कोई अन्य वर्ण आ जाता है।(a) संयोग में हलन्त क् से ह् तक के वर्ण अगले स्वर या व्यंजन में बिना बदले केवल मिल जाते हैं।
(b) संधि स्वर व्यंजन दोनों में होती है।
उदाहरण-
सु + आगत= स्वागत
उ + आ = वा
(b) संयोग केवल स्वर-रहित व्यंजन वर्णों के परे वर्ण से होता है।
उदाहरण-
स् + उ + व् + आ + ग् + अ + त् + अ= स्वागत
(c) संधि में केवल दो ही वर्ण मिलते हैं।(c) संयोग में सभी वर्णों का संयोजन होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.