नई बकरियाँ – Hindi Learning

नई बकरियाँ – Short Story in Hindi :

 

एक गड़रिये केपास बहुत सारी भेड़ें थीं। वह रोज भेड़ों को चराने के लिए घास के मैदान में ले जाता था। एक दिन शाम को जब वह वापिस लौट रहा था, तब कुछ जंगली बकरियाँ भेड़ों के साथ मिल गईं।

गड़रिये ने खुश होकर सोचा कि उसकी भेड़ों का झुंड अपने-आप बड़ा हो गया है, इसीलिए उसने बकरियों को भी साथ ले लिया और वापिस आ गया।

यह भी पढ़े: भूल गए शैतानी

उसने भेड़ों और बकरियों को एक साथ बाड़े में बंद कर दिया।

अगले दिन वह सुबह उठा तो बाहर बारिश हो रही थी। उसने तय किया कि वह भेड़ों और बकरियों को घर पर ही चारा दे देगा। उसके पास घास कम थी।

यह भी पढ़े: श्रृगाल और ऊदबिलाव

उसने अपनी भेड़ों को थोड़-सी घास खाने की दी और बकरियों को ज्यादा। उसने सोचा कि बकरियाँ खुश होकर वहीं रूक जाएँगी।

जब बारिश रूकी तो उसने बाड़ा खोला। जैसे ही बाड़े का दरवाजा खुला, सारी बकरियाँ निकलकर भागने लगीं।

यह भी पढ़े: शब्द और पंख

‘कैसी दुष्ट बकरियाँ हैं।’ गड़रिये ने सोचा, ‘मैंने इन्हें अपनी भेड़ों से ज्यादा खाने को दिया फिर भी ये जा रही हैं।’

तब बकरियों में से एक पलटकर रूकी और बोली, ‘तुमने हमारे लिए अपनी पुरानी भेड़ों को कम खाने को दिया। कल को यदि कुछ और नई भेड़-बकरियाँ तुम्हारे पास आ गई तो तुम हमारा भी ध्यान नहीं रखोगे ।’

यह भी पढ़े: पैसों का पेड़

यह कहकर बकरी चली गई। गड़रिए ने सोचा कि बकरी ने ठीक ही कहा था। उस दिन के बाद उसने किसी नए जानवर के लिए अपनी भेड़ों को अनदेखा नहीं किया।

Leave a Comment

Your email address will not be published.